Ad

Archive for: November 2012

उत्तर प्रदेश विधान सभा को भी आज हंगामे की भेंट चड़ाया गया :प्रश्न काल स्थगित

विधानसभा के शीतकालीन सत्र में आज सोमवार को विपक्ष के हंगामे के बीच अखिलेश सरकार ने अपना पहला अनुपूरक बजट पेश कर दिया | भारी हंगामे को देखते हुए पहले सदन की कार्रवाई दो बार 10-10 मिनट के लिए स्‍थगित की गई इसके बाद कार्रवाई 12 बजकर 20 मिनट तक के लिए फिर सवा एक बजे तक के लिए सदन की कार्रवाई स्‍थगित की गई। इस दौरान एक विधायकों में धक्का मुक्की भी हुई|

उत्तर प्रदेश विधान सभा

स्पीकर माता प्रसाद पांडे ने सदन को दोपहर तक के लिए स्थगित कर दिया।

बी एस पी ने उठाया क़ानून व्यवस्था का मुद्दा

उत्तर प्रदेश विधानसभा में आज सोमवार को विपक्षी पार्टियों बसपा+भाजपा + राष्‍ट्रीय लोकदल के विधायकों ने जमकर जबरदस्त हंगामा किया | बहुजन समाज पार्टी के विधायकों ने सदन में सरकार विरोधी नारे लगाए और प्रदेश में राज्यपाल शासन लगाए जाने की मांग की। बसपा नेताओं का आरोप था कि प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। उन्होंने बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर की मूर्ति तोड़े जाने के विरोध में जमकर नारेबाजी की, जिसके बाद प्रश्नकाल को स्थगित कर दिया गया।. सदन में सरकार के खिलाफ नीले पोस्टर भी लहराए गए| बसपा के सदस्यों ने हाथों में पोस्टर लेकर सभापति के आसन के करीब आकर नारेबाजी की|

रालोद+बी जे पी ने गन्ना भाव को मुद्दा बनाया

इस बीच राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने गन्ने का समर्थन मूल्य 400 रुपये प्रति क्विंटल किए जाने की मांग को लेकर सदन में हंगामा किया.
रालोद के प्रदेश अध्यक्ष मुन्ना सिंह चौहान ने कहा कि जब तक सरकार सदन में किसानों के लिए गन्ने के समर्थन मूल्य का ऐलान नहीं करेगी, तब तक सदन नहीं चलने दिया जाएगा

सत्र अवधि बढाने की मांग

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने विधानसभा के बाहर संवाददाताओं से कहा, ‘हमने विधानसभा अध्यक्ष और मुख्यमंत्री से मिलकर सदन की कार्यवाही 10 दिन और बढ़ाने की मांग की है। सदन का शीत सत्र इतना छोटा है कि इसमें राज्य की जनता से जुड़े मुद्दों पर सही तरीके से चर्चा नहीं हो सकती.’
भारी हंगामे के बीच मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने विधानसभा में प्रदेश का अनुपूरक बजट पेश किया. बजट पर चर्चा होने की उम्मीद है.
उत्तर प्रदेश विधानसभा का शीतकालीन सत्र 23 नवंबर से 30 नवंबर तक प्रस्तावित है. सत्र के पहले दिन शुक्रवार को विधानसभा में सूबे के खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री कामेश्वर उपाध्याय के निधन पर शोक व्यक्त कर उन्हें श्रद्घांजलि दी गई थी. सत्र बेहद छोटा होने की वजह से विपक्ष लगातार सरकार की मंशा पर सवाल उठा रहा है.

पाकिस्तानी वरिष्ठ पत्रकार हामिद मीर आतंकवादी हमले में बाल बाल बचे

आतंकवाद से पीड़ित पाकिस्तान में अब राजनीतिकों के साथ पत्रकारों को भी निशाना बनाया जाने लगा है|ऐसे ही एक हमले में वरिष्ठ पत्रकार हामिद मीर आज बाल-बाल बचे।पाकिस्तान न्यूज चैनल के संपादक हामिद मीर की कार के नीचे आतंकियों ने आधा किलो बम प्लांट किया|आतंकियों ने बम को उस वक्त प्लांट किया जब हामिद मीर बाजार गए थे गनीमत यह रही कि समय रहते ही हामिद मीर के ड्राइवर ने इस बम को देख लिया। । हामिद जियो न्यूज के संपादक हैं और उन्हें पाकिस्तान की पत्रकारिता का सबसे बड़ा चेहरा माने जाता है। पाकिस्तान सुरक्षा एजेंसियों ने बम को डीफ्यूज कर दिया।
हामिद पाकिस्तानी पत्रकारिता का सबसे जाना पहचाना चेहरा रहे हैं इसलिए आतंकियों की मंशा को साफ समझा जा सकता है हामिद मीर पिछले कई सालों से आतंकवादियों के निशाने पर रहे हैं. सरकार की जनविरोधी नीतियों का खुल कर विरोध करने वाले हामिद मीर दुनिया के अकेले पत्रकार हैं, जिन्होंने 9/11 के बाद कई बार
ओसामा बिन लादेन का इंटरवियु लिया था 46 वर्षीय हामिद मीर पिछले कई सालों से मीडिया में सक्रिय हैं और उन्होंने कई महत्वपूर्ण रिपोर्टिंग की है
इस घटना के बाद हामिद मीर ने कहा है कि दहशत के सहारे उन्हें डराने की कोशिश पहले भी हुई है लेकिन वे अपने कर्तव्य से पीछे नहीं हटेंगे. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में लोकतंत्र को बचाने की उनकी कोशिश जारी रहेगी. हामिद मीर पर इससे पहले भी कई बार हमले की कोशिश हुई हैं. यहां तक कि उनके परिवारजनों को भी निशाना बनाया गया है.

श्री राम को छोड़ दिया तो जेठमलानीज क्या चीज है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक भाजपाई चीयर लीडर

ओये झाल्लेया देखा हसाडी पार्टी का अनुशासन|हमने एक ही झटके में विद्रोही तेवर दिखाने वाले वरिष्ठ वकील और हमारी पार्टी के राज्यसभा में सदस्य राम जेठमलानी को पार्टी से निलंबित बोले तो सस्पेंड कर दिया है|अब ये यशवंत सिन्हा और शत्रुघन सिन्हा जैसे नेता अपने आप लाईन पर आ जायेंगे नहीं तो इन्हें ढोने से निजात मिल जायेगी|

श्री राम को छोड़ दिया तो जेठमलानीज क्या चीज है


झल्ला

|आपके अध्यक्ष ने महेश जेठमलानी को हरवा कर अपनी पार्टी लाईन को उजागर कर ही दिया है| अब जब आपजी की पार्टी ने श्री राम को ही छोड़ दिया तो जेठमलानी +शत्रुघन+यशवंत सिन्हा क्या चीज हैं

नानक नाम लेवा संगत ने आज नगर कीर्तन निकाला

नगर कीर्तन

नानक नाम लेवा संगत ने आज मेरठ में नगर कीर्तन निकाला|इसमें सिख धर्म के मुख्य सिद्धांत सेवा+कर्म+पूजा और वीरता का सराहनीय प्रदर्शन किया गया| गुरु नानक देव जी के प्रकाश उत्सव के में उपलक्ष्य थापर नगर स्थित गुरुद्वारा सिंह सभा से निकाले गए इस नगर कीर्तन में शामिल वाहनों पर सिख बलिदान के इतिहास के अनेकों पन्नो को उकेरा गया था|जगह जगह श्रधालुओं द्वारा नाश्ते पानी के प्रसाद से सेवा भी की गई| उत्साही युवक सड़क साफ़ करते चल रहे थे तो एक जत्था कीर्तन करता चल रहा था| कुछ बच्चे युद्ध गतका आर्ट का प्रदर्शन करके सभी का मन मोह रहे थे|

राम जेठमलानी की चुनौती के उत्तर में भाजपा ने उन्हें पार्टी से सस्पेंड करके दो और बागियों पर दबाब बनाया

भारतीय जनता पार्टी ने अपने सांसद और वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी को पार्टी से सस्पेंड कर दिया है।जेठमलानी पर कांग्रेस को फायदा पहुंचाने वाले ब्यान जारी करने के आरोप हैं| राम जेठमलानी ने पहले पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी पर लगे करप्शन के आरोपों के चलते उनसे इस्तीफा मांगा तो बाद में सीबीआई चीफ रंजीत सिन्हा की नियुक्ति को लेकर सुषमा स्वराज और अरुण जेटली के पीएम को लिखे पत्र को गलत ठहराया।

राम जेठमलानी की चुनौती के उत्तर में भाजपा ने उन्हें पार्टी से सस्पेंड करके दो और बागियों पर दबाब बनाया


आज सुबह ही राम जेठमलानी ने कहा था कि मैं पार्टी के लिए नहीं बोल सकता। मैं बहुत छोटा आदमी हूं। लेकिन मुझे लगता है कि मेरे साथ कई और लोग हैं पर वो बोल नहीं पा रहे हैं। अगर मेरे ऊपर कोई कार्रवाई करता है तो मैं उसके लिए तैयार हूं। लेकिन ऐसा कोई नहीं है जो मुझपर कार्रवाई कर सके। पार्टी ने जेठमलानी की इसी चुनौती को स्वीकार करते हुए शाम को उनपर कार्रवाई का ऐलान कर दिया।पार्टी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन के अनुसार जेठमलानी ने पार्टी के दोनों नेताओं ( श्रीमती सुषमा स्वराज और अरुण जेटली) का विरोध किया था और कांग्रेस को मदद पहुंचाई थी। पार्टी इसे अनुशासनहीनता की तरह देखती है। ये दोनों संसद के दोनों सदनों में एन डी ऐ का न्रेतत्व करते हैं||
श्री हुसैन ने कहा कि आज फिर प्रेस के माध्यम से जेठमलानी ने चुनौती दी कि उनपर कोई कार्रवाई नहीं हो सकती। पार्टी संविधान से चलती है। जेठमलानी ने अपने बयानों से पार्टी का अहित किया है। पार्टी अध्यक्ष ने बयान और चुनौती को सख्ती से संज्ञान लिया है और राम जेठमलानी को पार्टी से निलंबित कर दिया गया है।
हुसैन ने कहा कि जेठमलानी का मामला आगे संसदीय बोर्ड को रेफर किया गया है। सोमवार की शाम 4.30 बजे बोर्ड की बैठक होगी और आगे की प्रक्रिया की जाएगी। बीजेपी के इस रुख से साफ है कि पार्टी राम जेठमलानी को और बर्दाश्त करने के मूड में नहीं है और कल शाम को उन्हें पूरी तरह से पार्टी से बाहर किया जा सकता है।
राम जेठमलानी के सस्पेंशन से उनके सहयोगी शत्रुघन सिन्हा और यशवंत सिन्हा पर इनडायरेक्ट दबाब डालने का यह प्रयास माना जा रहा है|
उधर अरुण जेटली ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि सी बी आई में संस्थागत सुधार के लिए प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखी गई थी. पार्टी चाह रही थी कि सिलेक्‍ट कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर डायरेक्‍टर की नियुक्ति हो. उन्‍होंने राम जेठमलानी की ओर इशारा करते हुए कहा कि कुछ लोगों ने उनकी भावनाओं को गलत समझ लिया.
दरअसल, सरकार ने सीबीआई निदेशक के तौर पर रंजीत सिन्हा की नियुक्ति की है. जेठमलानी ने अब सीबीआई डायरेक्टर की नियुक्ति का विरोध करने के पार्टी के फैसले पर सवाल उठाए हैं.
गौरतलब है कि राम जेठमलानी के मुताबिक, ‘सीबीआई डायरेक्‍टर के रूप में रंजीत सिन्‍हा की नियुक्ति कर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एक अच्‍छा काम किया है.’ पहले तो जेठमलानी ने सीबीआई डायरेक्टर की नियुक्ति के मामले में प्रधानमंत्री की तारीफ की और फिर पार्टी का ही विरोध कर दिया.’

रैली निकालने की इजाज़त नहीं मिली तो केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी की सभा ही कर डाली

नई दिल्ली :दिल्ली पुलिस ने रैली निकालने की इजाजत नहीं दी तो अरविंद केजरीवाल ने अपनी नई आम आदमी पार्टी की पहली जनता सभा दिल्ली के राजघाट के समीप कर डाली |सभा में जिसमे केजरीवाल के समर्थकों ने गाना बजाना भी किया|

Arvind Kejriwal And Prasaaant Bhushan Of AAP


अरविंद केजरीवाल ने अपनी आम आदमी पार्टी के ऐलान के बाद आज रविवार को पहली बार सभा की| केजरीवाल ने ये सभा दिल्ली में राजघाट पर अपने साथियों के साथ की.
सभा में आम आदमी पार्टी के मनीष सिसोदिया, गोपाल राय, संजय सिंह और कुमार विश्वास पहुंचे.|अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों और 2014 के लोकसभा चुनावों पर नजर लगाए केजरीवाल ने युवाओं से अनुरोध किया है कि देश की राजनीतिक व्यवस्था में क्रांतिकारी बदलाव के लिए पूरी तरह उनके साथ जुड़ें|
गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल रविवार को दिल्ली में रैली निकालना चाहते थे, लेकिन मुहर्रम की वजह से उन्हें इसकी इजाजत नहीं मिली, जिसके बाद उन्होंने सभा करने का फैसला किया. केजरीवाल ने कहा कि वह अगले एक साल तक कांग्रेस और भाजपा के बारे में सच बताते हुए देशभर का दौरा कर लोगों को समझाएंगे कि उन्हें उनकी पार्टी का समर्थन क्यों करना चाहिए|राजघाट के पास अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कांग्रेस और भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि वे केवल वोट पाने के लिए जनता का इस्तेमाल करते हैं और उनके बारे में कभी नहीं सोचते।उन्होंने कहा,‘कुछ लोगों ने भारत को खूब लूटा है। अब लोगों ने आगे आने का और उन्हें संसद से बाहर करने का फैसला किया है। इसलिए मैं सभी युवाओं से कल जंतर मंतर आने का आह्वान करता हूं और उन्हें पार्टी के संस्थापक सदस्य का दर्जा दिया जाएगा।’ आम आदमी पार्टी के अन्य संगठनों से अलग होने का दावा करते हुए केजरीवाल ने कहा कि कल जारी हो रही संगठन की वेबसाइट पर सभी चंदों और खर्च का ब्योरा डाला जाएगा। उन्होंने कहा,‘हमने पार्टी सदस्यों के लिए दिशानिर्देश तय किए हैं। मैं केवल उन लोगों को जोड़ना चाहता हूं जो पूर्णकालिक काम कर सकें और कोई भी चुनावों के दौरान वोटों के लिहाज से धन लेने की गतिविधि में शामिल नहीं हों।
उधर कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह ने अरविन्द केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा है कि कांग्रेस के पुराने नारे को एडोप्ट करके केजरीवाल ने अपने सामर्थ्य और विवेक के दिवालिये पण का प्रदर्शन किया है|

माया के दलदल की दुनिया में अपना ध्यान प्रभु की ओर करना है

वाट हमारी खरी उडीणी।
खंनिअहु तीखी बहुतु पिईणी।
उसु ऊपरि है मारगु मेरा ।
शेख़ फ़रीदा पंथु सम्हारि सवेरा ।

Rakesh Khurana


भाव : बाबा फ़रीद जी हमें समझा रहे हैं कि इस दुनिया में हमारा सच्चा मित्र , सच्चा मददगार केवल परमात्मा है और उसको पाने का रास्ता बहुत लम्बा है क्योंकि ये रास्ता प्रतीक्षा का रास्ता है , भक्ति का रास्ता है ।यह रास्ता छुरे की धार पर चलने जैसा है । यह दुनिया माया की दुनिया है , दलदल की दुनिया है इसी दुनिया में हमें अपना ध्यान प्रभु की ओर करना है इसलिए हम समय गँवाए नहीं , जल्दी से जाग जाएँ क्योंकि समय बहुत कम है । जल्दी से इस रास्ते पर चलना शुरू कर दें , वह रास्ता जो हमारी आत्मा का मिलाप परमात्मा से करा देता है ।
शेख़ फ़रीद जी की वाणी
प्रस्तुति राकेश खुराना

हेमा कोहली अंडर १९ क्रिकेट टूर्नामेंट २३ दिसंबर से प्रारम्भ होगा

Meerut हेमा कोहली अंडर १९ क्रिकेट ३ड टूर्नामेंट २३ दिसंबर से प्रारम्भ होगा|टूर्नामेंट के चेयरमेन विवेक कोहली के अनुसार इस टूर्नामेंट में गुजरात+ आन्ध्र प्रदेश+यूं पी+दिल्ली और उत्तरांचल से १६ टीमे भाग लेंगी||यह टूर्नामेंट लीग के आधार पर खेला जाएगा|
सचिव अतहरअली ने बताया कि आई पी एल की तर्ज़ पर ही टीमो की पोशाकें निर्धारित की जायेंगी|

मुझको यारो माफ़ करना में नशे में हूँ

मुझको यारो माफ़ करना में नशे में हूँ |शायद सड़क पर पडा हुआ बावर्दी

मुझको यारो माफ़ करना में नशे में हूँ


सिपाही यही गाना गुनगुना रहा है|मेरठ के थाना लाल कुर्ती छेत्र के पोश इलाके तिलक रोड पर यह सिपाही लोगों को नशे की हालत में सड़क पर लेटा हुआ दिखाई दिया|इससे पहले उसे रिक्शे पर घुमते हुए देखा गया था|किसी काम से वह रिक्शे से उतरा तो रिक्शे वाला उसे छोड़ अपनी जान बचा कर भाग गया|उसके पश्चात यह सिपाही नशे की वजह से सड़क से उठ ही नहीं पाया |फेंटम पोलिस ने उसे अपरान्ह जिला अस्पताल में भर्ती कराया|स्थानीय लोग व्यवस्था पर मजाक बनांते भी देखे गए|

म्रदुभाषी+चिन्तक+लेखक एवं पूर्व प्रधान मंत्री इंद्र कुमार गुजराल की स्वास्थ्य स्थिति चिंतनीय

देश के बारहवें प्रधानमंत्री रहे म्रदुभाषी+चिन्तक+लेखक श्री इंद्र कुमार गुजराल की स्वास्थ्य स्थिति चिंतनीय बताई जा रही है श्री गुजराल को मेडिसिटी मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया है| छाती में संक्रमण के कारण उनकी स्थिति ‘गंभीर’ बतायी जा रही है|जमोस न्यूज डाट काम परिवार उनके शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता है|
92 वर्षीय श्री गुजराल कुछ समय से अस्वस्थ चल रहे हैं और तबीयत बिगड़ने पर शनिवार को उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया. वह करीब एक वर्ष से डायलीसिस पर हैं और पिछले चार दिनों से अस्पताल में भर्ती हैं जहां शनिवार से उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया है|

पूर्व प्रधान मंत्री इंद्र कुमार गुजराल


अस्पताल सूत्रों के अनुसार 92 साल के इंद्रकुमार गुजराल की हालत गंभीर है.|
4 दिसंबर 1919 को पाकिस्तान के झेलम में पैदा हुये और आजादी के बाद विस्थापित हुए और पुरुषार्थी के रूप में पी एम् बनने वाले इंद्रकुमार गुजराल को लेकर चिकित्सकों का कहना है कि उनकी हालत अभी भी स्थिर है और सुधार नजर नहीं आ रहा है.12 वें प्रधानमंत्री रहे श्री गुजराल के बेटे एवं सांसद नरेश गुजराल ने बताया कि उनकी हालत ठीक नहीं है और वह गंभीर हैं।
शनिवार को पूर्व प्रधानमंत्री को देखने के लिए प्रधानमंत्री डाक्टर मनमोहन सिंह भी आने वाले थे, लेकिन बाद में प्रधानमंत्री का दौरा रद्द हो गया
21 अप्रैल 1997 से 18 मार्च 1998 तक भारत के प्रधानमंत्री का पद संभालने वाले इंद्रकुमार गुजराल की पहचान एक ऐसे प्रधानमंत्री के तौर पर रही है, जिसने लेखन और रचनात्मकता को भी पर्याप्त स्थान दिया.|
कई वर्षों से सक्रिय राजनीति से दूर रहने वाले इंद्र कुमार गुजराल की उपस्थिति अरसे बाद अन्ना हजारे के आंदोलन में पिछले साल दर्ज की गई थी.