Ad

Archive for: December 2012

भाजपा ने कैंट प्रोपर्टी म्यूटेशन का मुद्दा हथियाया :प्रदर्शन किया और परिषद् को ज्ञापन सौंपा

भाजपा ने प्रदर्शन किया और परिषद् को ज्ञापन सौंपा

मेरठ छावनी छेत्र में अपनी संपत्ति के म्यूटेशन के अधिकारों के लिए भाजपा ने आज छावनी परिषद् कार्यालय पर प्रदर्शन किया |पार्टी के छावनी मंडल ने आज सुरेश जैन [ऋतुराज ] की अध्यक्षता में एक मांग पत्र भी परिषद् को सौंपा |मंडल अध्यक्ष गोविन्द सिंह सोनकर ,अमन गुप्ता,उपेन्द्र सिंह,डाक्टर सतीश शर्मा,अनुराग कन्नोजिया,अजय गुप्ता,श्याम सुन्दर अग्रवाल,सौरभ,विजय,रामानंद,मोहन लाल,आशीष,गुलशन,मोहित,संदीप,रामजीलाल,सीमा,बबिता,बीना,संगीता, रमनदीप सिंह, स्वीटी,मन्नू लाल ,पवन,आदि प्रदर्शन में शामिल थे|
गौरतलब है कि बोर्ड के पार्षदों को लगातार दो बैठकों का बहिष्कार करने के बाद अपनी सदस्यता बचाने के लिए तीसरी बैठक के बहिष्कार से बचाना जरुरी हो गया सम्भवत इसीलिए बीती बैठक में सदस्यों ने इस प्रस्ताव का बहिष्कार करने का जोखिम नहीं उठाया और अध्यक्ष मेजर जनरल [जी ओ सी ] ने एक प्रस्ताव पारित करवा लिया जिसके अनुसार एक भी सदस्य द्वारा एतराज किये जाने पर म्यूटेशन का केस कमांड में भेजा जाएगा|इस पर बोर्ड का कोई सदस्य विरोध नहीं कर सका | बताया जा रहा है कि इस म्यूटेशन के कारण छावनी में अपनी संपत्ति को बेचना असंभव हो गया है|परिवार बढने पर एक कमरा भी बनाना गैर कानूनी कर दिया गया है | पार्षदों के असफल रहने पर अब भाजपा ने इसे तुगलकी फरमान बताते हुए मुद्दा बना लिया है|परिषद् के साथ साथ अब पार्षदों की भी आलोचना हो रही है

सामूहिक दुष्कर्म की पीडिता की सिंगापूर में मौत :ख़ाक हो जायेंगे हम उनको खबर होने तक

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झाल्लेया बड़ा अफ़सोस हुआ ये सुन कर की बेचारी गैंग पीड़ित फिजियोथेरेपिस्ट की मौत सिंगापूर के सबसे अच्छे अस्पताल में हो गई |यार हमने तो हर संभव इलाज़ करा कर अपना वायदा निभाया मगर होनी को तो कुछ और ही मंज़ूर था |बेचारी की जीने की बहुत इच्छा थी मगर काल बड़ा बलवान निकला |लेकिन इस युवती का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा हसाड़े सोणे मन मोहणे प्रधानमंत्री ने कह दिया है लड़की की मौत को बेकार नहीं जाने देंगे. | इस वीभत्स घटना से उपजे जनाक्रोश को सही दिशा दी जायेगी| गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने भी कहा कि 23 वर्षीय छात्रा को सच्ची श्रद्धांजलि यही होगी कि बलात्कार के दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले। अब देखना इस दिशा में बहुत कुछ जनहित में अच्छा होगा |

सामूहिक दुष्कर्म की पीडिता की सिंगापूर में मौत :ख़ाक हो जायेंगे हम उनको खबर होने तक

झल्ला

इस ह्रदयविदारक हादसे के बाद भी इनकी पुनरावर्ति रुक नहीं रही है और राजनीती शुरू हो गई है मगर झाल्लेविचारानुसार इस दिल हिलादेनेवाली मौत पर राजनीती ठीक नहीं है मगर हालत को देखते हुए यह कहना जरुरी है के ख़ाक हो जायेंगे हम उनको खबर होने तक

बलात्कारियों के समूह की दरिंदगी का शिकार हुई २३ साल की पीडिता ने जीने की इच्छा लिए सिंगापुर में आज अंतिम सांस ली

दरिंदगी का शिकार हुई गंभीर रूप से घायल २३ साल की पीडिता ने जीने की इच्छा लिए आज अंतिम सांस ली | सिंगापूर स्थित माउंट एलिजाबेथ अस्पताल के सीईओ डॉ केविन लोह ने यह दुखद घोषणा करते हुए कहा कि अत्यंत दुख हो रहा है कि मरीज का 29 दिसंबर, 2012 की सुबह चार बजकर 45 मिनट पर (भारतीय समयानुसार 2:15) निधन हो गया |27 दिसंबर को सुबह जब गैंगरेप पीड़ित को इलाज के लिए सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में शिफ्ट कराया गया था, तो पीड़ित के घरवालों के साथ-साथ लोगों में उम्मीद जगी थी. सभी को यही उम्मीद थी कि सिंगापुर से नई जिंदगी के साथ लौटेगी भारत की बेटी लेकिन बीती रात भारतीय समय के मुताबिक करीब सवा 2 बजे सिंगापुर से जो यह दुखद खबर आई, उसने सभी को हिला कर रख दिया.| लड़की के शव को शनिवार दोपहर विशेष विमान से बाद भारत लाया जाएगा.|दिल्ली में विशेष सतर्कता बरतने के आदेश दे दिए गए हैं| राजधानी दिल्‍ली में सुरक्षा-व्‍यवस्‍था और कड़ी कर दी गई है. पुलिस जनाक्रोश थामने की कोशिशों में जुट गई है. दिल्ली पुलिस ने ट्वीट किया है कि आम जनता के लिए इंडिया गेट की ओर जाने वाली सभी सड़कों को बंद कर दिया गया है. इसके अलावा राजपथ और विजय चौक की ओर जाने वाले रास्तों को भी लोगों के लिए बंद कर दिया गया है दस मेट्रो बंद कर दी गई हैं|
.इस पर प्रतिक्रियाएं आनी प्रारम्भ हो गई है|

: प्रधानमंत्री डाक्टर मन मोहन सिंह

इस गंभीर घटना से देश के आम व खास, सभी लोग बेहद आहत हैं. प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस दुखद घटना के बारे में कहा कि वे इससे बेहद आहत हैं. उन्‍होंने कहा, ‘इस दुख की घड़ी में मैं लड़की के परिवारवालों और दोस्‍तों के साथ खड़ा हूं.’ प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि घटना से उपजे आक्रोश को सही दिशा दिया जाएगा. उन्‍होंने कहा कि लड़की की मौत को बेकार नहीं जाने देंगे.

शीला दी‍क्षित

दिल्‍ली की मुख्‍यमंत्री शीला दी‍क्षित ने कहा, ‘पीडि़ता के परिवार के साथ हमारी संवेदनाएं हैं. वह लड़की बहुत बहादुरी के साथ लड़ी.’ शीला दीक्षित ने लोगों से अपील की कि दुख की इस घड़ी में लोग शांति बनाए रखें. उन्‍होंने कहा कि इस तरह की घटना हमारे लिए शर्म की बात है.

मेट्रो स्‍टेशन

दिल्‍ली में होने वाले विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर 10 मेट्रो स्‍टेशनों को बंद कर दिया गया है. जिन स्‍टेशनों को बंद किया गया है, उनमें राजीव चौक, मंडी हाउस, प्रगति मैदान, केंद्रीय सचिवालय, बाराखंभा रोड शामिल हैं.
लड़की के साहस की हर ओर सराहना
पीडिता ने भारत में इलाज़ के दौरान अपनी मजबूत इच्छा शक्ति का प्रदर्शन किया और लागातार जीने की इच्छा व्यक्त की |
इसके बाद माउंट एलिजाबेथ अस्पताल के सीईओ के मुताबिक, लड़की के शरीर को इस कदर चोट पहुंचाई गई कि उसके सभी अंगों ने काम करना बंद कर दिया इसके बावजूद भी लड़की ने इलाज के दौरान असीम साहस का परिचय दिया.

प्रभु को पाने के लिए विरह – विह्वलता की आंच में तपकर आंसू बहाना भी उसकी ही कृपा द्रष्टि है

प्रभु को पाने के लिए संत कविओं ने मार्ग बताये हैं संत कबीर और आमिर खुसरो ने विरह व्हिलता को प्रभु की कृपा बताया है |प्रस्तुतु है इन दोनों महान संत कविओं की वाणी
[१]अज़ सरे बालीने – मन बरखेज़ ऐ नादाँ तबीब ।
दर्द मंदे इश्क रा , दारू बजुज़ दीदार नेस्त \

Rakesh Khurana On Amir Khusaro & Sant Kabir Das

भाव ; ऐ मूर्ख चिकित्सक ! तू मेरे सिरहाने से उठ जा , मैं तो विरह का रोगी हूँ । मेरे रोग का उपचार केवल प्रियतम(गुरु) का दर्शन है , उसकी कृपा दृष्टि है।
परम संत कबीर दास जी ने भी इसी भाव को व्यक्त किया है :-
[२]सुखिया सब संसार है , खावे और सोवे ।
दुखिया दास कबीर है , जागे और रोवे ।
अर्थात प्रभु को पाने का रास्ता आंसुओं का रास्ता है । प्रभु को जिसने भी पाया , विरह – विह्वलता की आंच में तपकर , आंसू बहा कर पाया है ।
[१] अमीर खुसरो
[२] परम संत कबीर दास जी
प्रस्तुति राकेश खुराना

भारत ने पाकिस्तान को ग्यारह रनों से हरा कर टी २० क्रिकेट सीरीज को १-१ से बराबर कर लिया :युवराज मैन आफ दी मैच

भारत ने पाकिस्तान को आज शुक्रवार को[अहमदाबाद] ग्यारह रनों से हरा कर टी -२० सीरीज को एक एक से [१-१]बराबर कर लिया है|पाकिस्तान ने भारत के 193 रनों के लक्ष्य के जवाब में 182 ही बटौर पाए| पाकिस्तान को 6 गेंदों में जीत के लिए 20 रनों की दरकार थी .लेकिन अंतिम बाल पर बारह रनों की जरुरत थी लास्ट बाल परकेवल एक रन ही बन पाया| कप्तान मोहम्मद हफीज ने कप्तानी परी खेल कर 55 रन बनाए |युवराज को मैन आफ दी मैच घोषित किया गया |

One Day Cricket India V/S PAKISTAN


पाकिस्तान ने आज टॉस जीतकर मेजबान टीम को पहले बल्लेबाजी का न्योता दिया. भारत के लिए ऐ रहाणे और गौतम गंभीर ने पारी की शुरुआत की. दोनों ने मिलकर पहले विकेट के लिए 4.5 ओवरों में 44 रन जोड़े|
युवराज सिंह ने 36 गेंदों पर 7 छक्के और चार चौके जड़ कर 72 रनों की आतिशी पारी खेली इसी के बल पर टीम इंडिया ने दूसरे टी-20 मैच में पाकिस्तान के सामने जीत के लिए 193 रनों का लक्ष्य रखा. भारत ने निर्धारित 20 ओवरों में पांच विकेट पर 192 रन बनाए.
गंभीर के रूप में भारत को पहला झटका लगा. उमर गुल ने गंभीर को एलबीडब्ल्यू आउट किया| गंभीर ने 11 गेंदों पर 4 चौकों की मदद से 21 रनों की पारी खेली. गुल ने अपने अगले ही ओवर में रहाणे को चलता कर भारत को दूसरा झटका दिया.
रहाणे ने 26 गेंदों पर 4 चौकों की मदद से 28 रन बनाए. रहाणे गुल की गेंद समझने में नाकाम रहे और उन्हीं को कैच थमाकर पवेलियन चलते बने. विराट कोहली और युवराज सिंह ने मिलकर भारत का स्कोर 53 रनों से 88 रनों तक पहुंचाया. कोहली रनआउट होकर पवेलियन लौटे. इसके बाद युवराज ने कप्तान धोनी के साथ मिलकर 44 गेंदों पर 97 रनों की साझेदारी की. युवराज ने अपनी 72 रनों की आतिशी पारी के दौरान युवराज ने लगातार दो और एकबार लगातार 3 छक्के जड़े|.
युवराज आखिरी ओवर में छक्का जड़ने के प्रयास में ही गुल का तीसरा शिकार बने. वहीं कप्तान धोनी ने गुल की गेंद पर बोल्ड होने से पहले 23 गेंदों पर 33 रनों का योगदान दिया. सुरेश रैना 1 और रोहित शर्मा 4 रन बनाकर नाबाद लौटे.
पाकिस्तान की ओर से उमर गुल ने चार विकेट झटके. मोहम्मद इरफान के अलावा सभी गेंदबाजों ने जमकर रन लुटाए. इरफान ने 4 ओवरों में 20 ही रन दिए.इसे पूर्व पाकिस्तान ने पहला वन डे जीता था|

कांग्रेस के १२७वे स्थापना दिवस पर बलात्कारियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने और पीडिता को इलाज़ के लिए प्रतिबद्दता दर्शाई

कांग्रेस के १२७वे स्थापना दिवस

कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी ने जोर देकर कहा कि बर्बर सामूहिक बलात्कार मामले के अपराधियों को न्याय के कटघरे में लाने में समय व्यर्थ नहीं किया जाए, जबकि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।
कांग्रेस मुख्यालय में आज पार्टी के 127वें स्थापना दिवस के अवसर पर पार्टी का झंडा फहराया |इस अवसर पर मीडिया से बात करते हुए पार्टी अध्यक्षा श्री मति सोनिया गाँधी और पी एम् डाक्टर मनमोहन सिंह ने कहा कि वे भी 16 दिसंबर की बर्बर घटना को लेकर देश में पैदा गुस्से और रोष में उनके साथ हैं।
इस मौके पर अक्सर नव वर्ष की शुभकामनाएं देने वाली श्रीमति सोनिया ने इस बार ऐसा नहीं किया और कहा कि हमारा ध्यान उस युवा महिला पर है, जो बर्बर हमले के बाद अपनी जिंदगी के लिए संघर्ष कर रही है।
सोनिया ने 24, अकबर रोड पर पार्टी के झंडे को फहराने के बाद भावुक आवाज में कहा कि आज हमारी एकमात्र इच्छा यह है कि वह (पीड़ित) उबरे और हमारे पास वापस आए और इस तरह के बर्बर कृत्य को करने वाले अपराधियों को न्याय के कठघरे में लाने के लिए समय व्यर्थ नहीं किया जाए।
सोनिया के साथ खड़े प्रधानमंत्री ने आश्वासन दिया कि हमारी सरकार दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। बलात्कार के आरोपियों की शीघ्र सुनवाई को लेकर सरकार की पहल के बारे में प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ने भारत ने पूर्व प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जेएस वर्मा के नेतृत्व में एक समिति बनाई है, जो महिलाओं के खिलाफ अपराध से संबंधित कानूनों को आधुनिक बनाने के लिए तरीके सुझाएगी।
मनमोहन सिंह ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष का कहना है कि हम जघन्य अपराध पर देश के गुस्से और रोष में उनके साथ हैं। हमारी प्रार्थनाएं बहादुर युवती के साथ हैं और उसका सर्वश्रेष्ठ संभव इलाज किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि दिल्ली उच्च न्यायालय की पूर्व न्यायाधीश उषा मेहरा को यह पता करने के लिए नियुक्त किया गया है कि क्या घटना के बाद की घटनाक्रम में किसी की खामी या लापरवाही रही।

सर्वदलीय बैठक में प्रथक तेलंगाना के लिए केंद्र सरकार ने एक माह का समय लिया:भाजपा ने दोहरी नीति बताया

प्रथक तेलंगाना Separate Telangana State

केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने आज शुक्रवार को आश्वासन दिया कि आंध्र प्रदेश से पृथक तेलंगाना राज्य के गठन के मुद्दे पर एक महीने के भीतर निर्णय ले लिया जाएगा|भाजपा ने इसे कांग्रेस की दोहरी नीति बताकर इसकी आलोचना की है जबकि तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने शनिवार को क्षेत्र में बंद का आह्वान किया है ।
श्री शिन्दे ने कहा कि उन्होंने आंध्र प्रदेश की आठ राजनीतिक पार्टियों के साथ आज बैठक की और सभी का नजरिया जाना । पार्टियों के प्रतिनिधियों ने सुझाव दिया कि तेलंगाना मुद्दे पर फैसला जल्द से जल्द किया जाएगा ।
६० साल पुराने इस मुद्दे पर बुलाई गई सर्वदलीय अंतिम बैठक के बाद श्री शिंदे ने संवाददाताओं से कहा कि एक महीने के भीतर कोई निर्णय लिया जाएगा। हमने विभिन्न दलों के प्रतिनिधियों के पक्ष सुने हैं। हमने उनके विचारों पर गौर किया है और उसके बारे में सरकार को जानकारी देंगे।
आंध्र प्रदेश के लोगों की समस्याओं को देखते हुए शिंदे ने युवाओं से शांति बनाए रखने की अपील की और कहा कि सरकार इस मुद्दे पर निर्णय ले रही है। उधर इस मसले पर सर्वदलीय बैठक के नतीजे से नाखुश तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने शनिवार को इस क्षेत्र में बंद का आह्वान किया है। टीआरएस प्रमुख के चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने आज शुक्रवार को दिल्ली में सर्वदलीय बैठक से बाहर निकल केंद्र सरकार द्वारा इस मामले में की जा रही देरी के विरोध में बंद का आह्वान किया।
केसीआर ने आरोप लगाया कि कांग्रेस तेलंगाना के मुद्दे पर ड्रामा कर रही है। उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे द्वारा एक महीने में इस पर निर्णय लिए जाने की बात कहने वाले वक्तव्य का जिक्र करते हुए कहा कि बीते तीन साल में हजारों बार ऐसा कहा जा चुका है|
उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे पर गंभीर होगी तो वह आज शाम तक इस पर निर्णय ले सकती है। केसीआर ने सर्वदलीय बैठक को व्यर्थ बताया। उन्होंने कहा कि सभी पार्टियां अपने पुराने रुख पर ही अड़ी हैं।
आंध्र प्रदेश के बंटवारे और अलग तेलंगाना राज्य की 60 साल पुरानी मांग है| इसके लिए पिछले संसद सत्र में तेलंगाना के सांसदों नेनारे लगाए और प्ले कार्ड्स दिखाए और मतदान में भी भाग नहीं लिया था| आज सर्वदलीय बैठक के बाद भाजपा ने भी प्रेस कांफ्रेंस करके केंद्र सरकार की नीतिओं की आलोचना की |प्रवक्ता प्रकाश जावडेकर ने पत्रकारों को बताया कि तीन वर्ष पूर्व तत्कालीन गृह मंत्री पी चिदम्बरम ने यह कहा था कि प्रथक तेलंगाना के लिए प्रतिक्रिया प्रारम्भ हो चुकी है इस के बाद भी अनेको बैठकें हुई और हर बार कांग्रेस शेष पार्टियों की राय लेने के बाद मुद्दे को टालती रही है और आज भी वोही दोहरी नीति अपना कर मुद्दे को टाल दिया गया है |उन्होंने कहा कि प्रथक तेलगाना क लिए भाजपा पूरी तरह से सपोर्ट करेगी

भटके छात्रों को नैतिक मूल्यों के महत्त्व का आभास कराने के लिए सभ्रांत युवाओं को आगे आना होगा|

नैतिक मूल्यों से भटके छात्रों को नैतिक मूल्यों के महत्त्व का आभास कराने के लिए सभ्रांत युवाओं को आगे आना होगा|यह विचार आज शुक्रवार को पंडित दीन दयाल उपाध्याय मेनेजमेंट कालेज में आयोजित टाक शो में व्यक्त किये गए|
छात्रों में नैतिक मूल्यों के पतन के लिए जिम्मेदार कौन ?नामक विषय पर प्रतिभागिता दर्ज़ कराने वाले छात्रों+शिक्षकों और अविभावकों ने सामान रूप से यह स्वीकार किया कि समाज को स्वस्थ रूप प्रदान करने के लिए छात्रों को नैतिक मूल्यों के महत्त्व का आभास कराना जरुरी है इसके लिए सभ्रांत युवाओं को आगे आना ही होगाडाक्टर एस एन गुप्ता,डाक्टर आलोक सिंह,राहुल केसरवानी,सुनील सल्होत्रा,ने टाक शो में विचार व्यक्त किये|डीन डाक्टर मनोज शर्मा,एस एस ब्रोका,आर रस्तौगी,निदेशक डाक्टर निर्देश वशिष्ठ के अलावा शैलेश गुप्ता,आशुतोष भटनागर,पवन त्यागी,ऋषिराज भारद्वाज,वरुण गुप्ता,अमोल मल्होत्रा,सोनिया सपरा,अमित जैन,देवेश गुप्ता,अनुराग माथुर,अंकुर गोयल,रुद्रानी शर्मा,शिवानी सिंह आदि ने सहयोग दिया

बाहरी लोगों की लगातार बढ़ती संख्या से विकराल हो रही समस्या से निबटने के लिए केंद्र सहायता दे:शीला दीक्षित

C M Of Delhi Shrimati Sheila Dikshit


नेशनल डेवलपमेंट काउंसिल की बैठक में दिल्‍ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कहा कि दिल्ली में  बाहर से आने वाले लोगों की वजह से दिल्ली पर सुविधाओं का बोझ बढ़ रहा है.| इसके साथ ही उन्होंने ये भी माना कि बाहरी लोगों की वजह से दिल्ली एक खूबसूरत शहर के तौर पर सामने है|
राष्ट्रीय विकास परिषद [एन डी सी ] की बैठक में श्रीमती शीला ने कहा कि दिल्ली में अप्रत्याशित चुनौतियां हैं. उन्होंने देश भर से लोगों के अनियंत्रित आगमन को चिन्ता की बड़ी वजह बताया. उन्होंने कहा कि ऊंचा वेतन, बेहतर शैक्षिक एवं स्वास्थ्य सुविधाएं, रोजगार के अधिक अवसर ऐसे कुछ कारण हैं जो इतनी बड़ी संख्या में लोगों के आगमन के लिए जिम्मेदार हैं|
उन्होंने कहा कि विभिन्न राज्यों के लोगों के आने से यहां एक उदारवादी संस्कृति अवश्य कायम हुई लेकिन बढ़ती आबादी ने आवास, स्वच्छता, बिजली, पानी, सीवेज, जन स्वास्थ्य और परिवहन प्रणाली पर जबर्दस्त दबाव डाला है. | निजी वाहनों की बढ़ती संख्या भी एक अन्य समस्या है जो फिलहाल थमती नहीं नजर आ रही है. विभिन्न चुनौतियों से निपटने में उनकी सरकार को पेश आ रही समस्याओं का जिक्र करते हुए मुख्य मंत्री ने कहा कि दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं है और पुलिस एवं भूमि यहां केन्द्र के नियंत्रणाधीन है. उल्लेखनीय है कि शीला पहले मांग कर चुकी हैं कि दिल्ली पुलिस राज्य सरकार के नियंत्रण में की जाए लेकिन इस मांग कोकई बार खारिज किया जा चुका है|
महानगर में एक नए प्रकार की मल्टीमॉडल यातायात प्रणाली शीघ्रातिशीघ्र लाने की आवश्यकता पर भी सी एम् ने बल दिया |
उन्होंने एन डी सी की ५७ वे बैठक में 12वीं योजना के लिए दिल्ली को एक विश्व विरासत शहर के अनुरूप विकसित करने के लिए अधिक संसाधनों को उपलब्धता और बड़े पैमाने पर प्रयास करने की आवश्यकता जताई।
इससे पूर्व आर्थिक राजधानी मुम्बई में प्रवासियों के आगमन पर एतराज़ जताया जा चुका है वहां यूं पी ,बिहार,के लोगों पर एटैक भी कराये जा रहे हैं अब देश की राजधानी दिल्ली में भी प्रवासियों के नाम पर यह राजनीती शुरू हो गई है यह दुखद है|पहले अंधाधुंध झोपड़ पट्टी को कुकुरमुत्तों की तरह फ़ैलाने दिया जता है फिर उसे वोट बैंक की तरह इस्तेमाल करने के लिए तमाम तरह की सुविधाएं भी दी जाती है|वोट बैंक के नज़रिए से झोपड़ पट्टी के नियमतिकरण और ध्वस्तीकरण की कार्यवाही शुरू हो जाती है जिसे लेकर” आप ” जैसी नवगठित पार्टी भी अपना राजनीतिक आधार तलाशने लगती हैं| इसी उद्देश्य की पूर्ती के लिए माननीय कोर्ट के आदेशों को अनदेखा करके अनआथोराईज्द[इल्लीगल]कालोनियों को नियमित करके सुविधाओं का रौना शुरू हो जाता है | अब समय आ गया है कि इस १२ पञ्च वर्षीय यौजना में इस प्रकार के नियमतिकरण के लिए अलग से फंड्स उपलब्ध करने की जरुरत को स्वीकार कर लिया जाना चाहिए है|

भाषण के बीच में ही पैकअप की घंटी बजा कर क्या सोचा था जय ललिता बहुत खुशहोगी शाबाशी देंगी क्यों?

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक कांग्रेसी

ओये झल्लेया ये तमिल नाडू की मुख्य मंत्री जय ललिता के तेवर तो देखो | नॅशनल डेवलपमेंट कौंसिल की मीटिंग में पूरे राष्ट्र के विकास के लिए यौजनाएं बनाई जाती है और ऎसी महत्वपूर्ण मीटिंग से जयललिता ने भाषण के लिए कम समय दिए जाने का बहाना बना कर वाक् आउट कर दिया | केंद्र सरकार की कार्यप्रणाली की आलोचना कर दी और नरेन्द्र मोदी के सुर में सुर मिला दिया | ठीक है इनकी पींगें आज कल एन डी ऐ से बढ रही हैं मगर देश के विकास को तो प्राथमिकता देनी ही चाहिए थी|ऐसे थोड़ी बीच में से ही महत्वपूर्ण बैठक को छोड़ा जाताहै |

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण जी आप लोगों को भली भांति मालूम है कि जयललिता नेता बनने से पहले फिल्म जगत की सुपर स्टार अभिनेत्री थी |इन्हें हो सकता है कि रीटेक की आदत हो | अब मीटिंग में आपने रिटेक की कोई व्यवस्था तो की नहीं उलटे दस मिनट में भाषण चलते हुए में ही पैकअप की घंटी बजा दी | आपने क्या सोचा था कि चलते भाषण के बीच में ही पैकअप की घंटी बजाने से सुपर स्टार खुश होंगी |बहुत शाबाशी मिलेगी? अरे सुपर स्टार को तो मूड बनाने में ही दस मिनट लग जाते हैं |अब आप के माननीय संसदीय कार्यों के राज्यमंत्री राजीव शुक्ला जी को ही लेलो इन्होने जब से सुपर स्टार रेखा को राज्य सभा की सदस्यता दिलाई है साए की तरह से रेखा को सम्मान देते हैं भवन के बाहर भी छोड़ने आते हैं और यहाँ आप लोगों ने उसीप्रदेश की मुख्य मंत्री बनी फ़िल्मी हस्ती जयललिता के मान +सम्मान+मर्यादा

C M Jaylalita Walked Out N D C

की घंटी बजा दी| अरे अगर ऐसा ही करना था तो सभी मुख्य मंत्रियो से भाषण मेल से मंगवा लेते मितव्यतता भी नहीं होती |