Ad

Archive for: January 2013

ह्रदय प्रार्थना करने का उच्च स्थान है इसीलिए नम्रता और आदर भाव से इसे साफ और शुद्ध रखा जाना चाहिए

आपे जाणै करे आपि आपे आणै रासि ।
तिसै अगे नानका खलिइ कीचै अरदासि ।

Rakesh khurana

ह्रदय प्रार्थना करने का उच्च स्थान है और इसीलिए इसे प्रार्थना में लगाने से पहले शुद्ध और साफ करना जरूरी है । ह्रदय की शुद्धता में नम्रता और आदरपूर्वक प्रभु का भाव होता है जो दुनिया की तमाम चिंताओं और झंझटों से मुक्त होता है ।
अर्थात वह मालिक सब कुछ जानता है , सब करण – कारणहार है और स्वयं ही कार्य पूर्ण कर देने में समर्थ है । उसके आगे खड़े होकर विनयपूर्वक प्रार्थना करो ।
वाणी : श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी
प्रस्तुति राकेश खुराना

कैबिनेट ने लोक पाल के संशोधनों को ओ के किया मगर विपक्ष और जन लोक पाल के पुरोधाओं ने कहा “नो “

कैबिनेट ने लोक पाल को ओ के किया

कैबिनेट की बैठक में आज संशोधित लोकपाल बिल को मंजूरी दे दी गई है |अब इसे राज्य सभा में पेश किया जाएगा|विपक्ष और स्वयम सेवी संस्थाओं के साथ ‘आप ‘ने भी इसे नकार दिया है|
इस संशोधित लोकपाल बिल में कई तब्दीलियां हुई हैं| बिल के लिए बनी सेलेक्ट कमिटी ने 16 सुझाव दिए थे इनमें से 14 सुझावों को कैबिनेट ने स्वीकृति दे दी.
सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री मनीष तिवारी और प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री वी नारायणसामी

ने दिल्ली में प्रेस कांफ्रेंस में जानकारी दी कि कैबिनेट ने लोकपाल बिल में 16 में से 14 संशोधनों को मंजूरी दे दी है| लोकपाल में किसी पार्टी के सदस्य नहीं होंगे|सरकारी अनुदान से चलने वाले एनजीओ लोकपाल के दायरे में आएंगे| अब केन्द्र सरकार लोकपाल बनाएगी जबकि राज्य सरकार को लोकायुक्त संशोधित लोकपाल बिल में लोकपाल को खुद संज्ञान लेने का अधिकार होगा.कुछ शर्तों के साथ

प्रधानमंत्री को लोकपाल के दायरे में रखा गया है.

सीबीआई को लोकपाल के दायरे में रखने को लेकर सहमति नहीं बन पाई.

लोकपाल की नियुक्ति प्रधानमंत्री, स्पीकर, नेता प्रतिपक्ष और देश के मुख्य न्यायाधीश मिलकर करेंगे. लोकपाल की नियुक्ति पर

राष्ट्रपति अंतिम मंजूरी देंगे.

राजनीतिक पार्टियां लोकपाल के दायरे में नहीं होंगी. धार्मिक संस्थान भी लोकपाल के दायरे से बाहर रखे गए हैं. सरकारी मदद लेने वाले एनजीओ भी लोकपाल के दायरे में नहीं रहेंगे.बिल पास होने के 1 साल बाद सभी राज्यों में लोकायुक्तों की नियुक्ति की जाएंगी। इन संसोधनों के बाद से सभी धार्मिक संस्थाएं और राजनीतिक दल भी लोकपाल से बाहर होगे मगर श्री सामी ने जोर देकर कहा है कि

बाबा राम देव का ट्रस्ट धार्मिक नहीं है इसलिए वह लोक पल के दायरे में जरूर होगा |इस लोक पाल के स्वरुप का विरोध भी शुरू हो गया है|
रिटायर्ड जनरल वी के सिंह

पहले ही कह चुके हैं कि अगर अन्ना हजारे वाला जन लोक पाल नहीं आया तो देश में एतिहासिक क्रान्ति होगी|

बीजेपी

एक ऐसा लोकपाल चाहती है जो सरकार के प्रभाव से पूरी तरह मुक्त हो। सीबीआई को लोकपाल के दायरे से अलग रखने के फैसले पर बीजेपी ने ऐतराज जताते हुए कहा है कि सीबीआई को एक निष्पक्ष संस्था के तौर पर काम करना चाहिए, उसे लोकपाल के दायरे में लाना चाहिए। जबकि मजबूत लोकपाल बिल के लिए आंदोलन कर रहे

अन्ना बाबू राव हजारे

ने लोकपाल बिल में बदलावों को खारिज करते हुए पटना में कहा कि जनलोकपाल को लेकर सरकार नाटक कर रही है। उन्होंने केन्द्रीय जांच ब्यूरो को स्वयत्ता देने की मांग करते हुए कहा कि वे अपनी जनलोकपाल की लड़ाई तब तक जारी रखेंगे जब तक कि सरकार एक सशक्त जनलोकपाल विधेयक नहीं लाती।

आम आदमी पार्टी (आप) के नेता अरविंद केजरीवाल

ने मजबूत लोकपाल विधेयक नहीं लाने के लिए केंद्र सरकार की आलोचना की और जोर देते हुए कहा कि इस प्रस्तावित कानून से भ्रष्टाचार नहीं रुकेगा। उन्होंने दिल्ली में संवाददाताओं से कहा कि आपको ऐसा लोकपाल क्यों चाहिए? जो एजेंसी भ्रष्टाचार को रोकेगी नहीं, बल्कि बढ़ाएगी और मंत्रियों को बचाएगी, उस पर क्या बात की जाए। सिर्फ लोकपाल शब्द का इस्तेमाल कर देने में हमारी कोई रुचि नहीं है। इस विधेयक के माध्यम से सरकार ने देश के लोगों की राय का समर्थन नहीं किया है। भ्रष्टाचार मुक्त शासन देना सरकार का संवैधानिक दायित्व है।यह कहते हुए कि देश के लोग भ्रष्टाचार और मूल्य वृद्धि से परेशान हैं, उन्होंने कहा कि कुछ लोग कहते हैं कि इस मुद्दे पर जो पहल की गई है उससे वे खुश हैं, लेकिन सरकार ने क्या हमारे विचारों का समर्थन किया है?

मौसम नेआज फिर यू टर्न लिया और कोहरे ने ठण्ड की चादर औडा दी :वाहन सुबह भी हेड लाईट जला कर रेंगते दिखे

मौसम ने यू टर्न लिया

मौसम ने आज यू टर्न लिया और कोहरे ने ठण्ड की चादर औडा कर तापमान को सवा सात डिग्री सेल्सियस तक गिरा दिया|खुले इलाकों में द्र्श्य्ता [विजिबिलिटी] चौड़ी सड़को पर भी आठ मीटर पर ही सिमट गई|वाहन सुबह भी हेड लाईट जला कर रेंगते दिखे|ट्रेन्स के आगमन टाईम पर भे असर हुआ है| वैज्ञानिकों के अनुसार यह लौटी ठण्ड एक सप्ताह तक रह सकती है|

2 फरवरी को राधा गोबिंद कालेज में राष्ट्रीय विज्ञानं दिवस मनाया जाएगा

राधा गोबिंद इंजीनीयरिंग कालेज में २ फरवरी को वैज्ञानिक सोच को बढावा देने के लिए राष्ट्रीय विज्ञानं दिवस मनाया जाएगा जिसमे ४०० स्कूली बच्चे और ६० विज्ञानं शिक्षक भाग लेंगे| इस आयोजन में विज्ञानं प्रदर्शनी लगी जायेगी|इस प्रदर्शनी में राकेट लांचिंग+अर्थ एक्सपेरिमेंट+सन स्पॉट+टेलीस्कोपिक व्यू का प्रदर्शन होगा|

2 फरवरी को राधा गोबिंद कालेज में राष्ट्रीय विज्ञानं दिवस मनाया जाएगा


राधा गोबिंद इंजीनीयरिंग कालेज में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस में कार्यक्रम की संयोजक प्रो.सिम्मी गुरवारा और कालेज के चेयर मैन योगेश त्यागी ने बताया कि डी.एस.टी.की यौजनाऔर महामाया तकनीकी विश्व विद्यालय के तत्वधान में यह आयोजन नोबल विजेता सी वी रमण की रमण इफेक्ट खोज की स्मृति में होगा|पूर्वांचल और पश्चमी उत्तर प्रदेश से छात्र और शिक्षक आयेंगे|
कार्यक्रम कि मुख्य अथिति नेहरू प्लेनिटोरियम की निदेशिका डाक्टर एन .रत्नाश्री होंगी|चौधरी चरण सिंह विश्व विद्यालय से डाक्टर बी रमेश+सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि विश्व विद्यालय से डाक्टर आर एस सेंगर+भी विचार व्यक्त करेंगे| श्री त्यागी ने विज्ञानं को बढावा देने के लिए पूर्ण समर्पण का आश्वासन दोहराया
प्रेस वार्ता में निदेशक एच आर सिंह ग्रामीणों के लाभ के लिए शोध के प्रति अधिक ध्यान दिए जाने पर बल दिया + डाक्टर अमित शर्मा+संजीव गोयल+डाक्टर आर के तिवारी+डाक्टर माधव सारस्वत आदि भी उपस्थित थे |

कृष्णा अरोड़ा को ऑस्ट्रेलिया के प्रतिष्ठित सम्मान ऑर्डर ऑफ ऑस्ट्रेलिया मेडल (O A M ) के लिए चुना गया

भारतीय मूल की 85 वर्षीय कृष्णा अरोड़ा को प्रतिष्ठित सम्मान ऑर्डर ऑफ ऑस्ट्रेलिया मेडल (O A M ) के लिए चुना गया है। एक सामुदायिक सेवा का संचालन करने वाली कृष्णा को भारतीय समुदाय को दिए गए योगदान के लिए इस साल का प्रतिष्ठित पुरुस्कार देने के लिए चुना गया है।
भारत की राजधानी दिल्ली के एक कैटरिंग कॉलेज की पूर्व प्राचार्य कृष्णा अरोड़ा ने प्रवासियों के अकेलापन को दूर करने के लिए समर्पित भाव से काम किया है|

कृष्णा अरोड़ा को ऑस्ट्रेलिया के प्रतिष्ठित सम्मान ऑर्डर ऑफ ऑस्ट्रेलिया मेडल (O A M ) के लिए चुना गया

कृष्णा आस्ट्रेलिया में एक हॉटलाइन टेलीसर्विस चलाती हैं, जो कुकिंग [ पाक कला \के बारे में रोचक जानकारी और सुझाव देती है।
वह विक्टोरिया में एक सामुदायिक केंद्र में दो साल से ऑस्ट्रेलियाई लोगों को एशियाई पाक कला भी सिखा रही हैं।
पूर्व में भारतीय मूल की जायसी वेस्ट्रिप (2000), माला मेहता (2006) और वेत्तात राजकुमार (2009) को भी सम्मानित किया जा चुका है। बीते साल नवंबर में भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर को इस प्रतिष्ठित सम्मान से सम्मानित किया जा चुका है |

इंडिगो एयर लाइन्स ने शार्क्लेट वाली एयर बस ऐ – ३२० खरीदी

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

इंडिगो एयर लाइन्स का एक चीयर लीडर

ओये झल्लेया मुबारकान ओये देखा ह्साडी कंपनी ने एक और एयर बस ऐ ३२० [A320 aircraft equipped with Sharklet ]lखरीद ली है| इससे ऐ टी ऍफ़ की खपत में ४% की बचत होगी ओये तुम लोग बड़ी आलोचना करते फिरते हो ,देश में ६२ जहाज़ों के साथ कमाई में नंबर वन हसाडी इंडिगो अब शार्क्लेट [ Sharklet ]वालेयात्री विमान में भी नंबर वन हो गई है ओये हुन तो पैसा बरसे ही बरसे

इंडिगो एयर लाइन्स


झल्ला

सेठ जी बात तो वाकई वधाई वालीहै सो खैर मुबारक जी|लेकिन एक बात समझ में नहीं आ रही कि आपको फायनेंस करने वाली जर्मन डी वी बी ने आपको फेवोर करने का आरोप डी जी सी ऐ पर लगा कर आप को लोन देने से मना कर दिया था फिर ये शार्क्लेट वाली एयर बस को खरीदने के लिए पैसे कहाँ से आये ?

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी पर बादल गुट का कब्जा

एन डी ऐ के लिए दिल्ली के तख्त की दूरी कुछ कम होनी शुरू हो गई है इसके एक भरोसे मंद घटक शिरोमणि अकाली दल (बादल) ने दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी चुनाव में एतिहासिक जीत करके यूं पी ऐ के गढ़ ने चुनौती दे दी है| पिछले 6 साल से दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी पर काबिज सरना गुट का सफाया हो गया है । बादल गुट इस जीत को ऐतिहासिक मान रहे हैं, वहीं परमजीत सिंह सरना चुनाव में धन, बल और बोगस वोटों का आरोप लगा रहे हैं। उनका आरोप है कि ये चुनाव किसी उम्मीदवार के खिलाफ नहीं बल्कि पंजाब सरकार वर्सेज दिल्ली हो गया था। शिरोमणि अकाली दल (बादल) के दिल्ली अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके का कहना है कि यह चुनाव भ्रष्टाचार के खिलाफ था, जिसमें लोगों ने उनका साथ दिया।
गौरतलब है कि कमिटी के चुनाव में कुल 46 वॉर्ड हैं। इनमें से[ ४५] वॉर्ड के लिए चुनाव हुआ था। गांधी नगर की एक सीट पर निर्विरोध उम्मीदवार चुना गया। कुल [४६ ]सीटों में से[ ३७] सीटें शिरोमणि अकाली दल बादल को मिलीं, सरना गुट को केवल[ ८] ही सीटें मिल पाईं। [१] सीट केंद्रीय श्री गुरु सिंह सभा के उम्मीदवार तरविंदर सिंह मारवाह ने जीती। सबसे कड़ा मुकाबला पंजाबी बाग सीट पर था। यहां शिरोमणि अकाली दल (दिल्ली) के अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना और शिरोमणि अकाली दल (बादल) की ओर से मनजिंदर सिंह सिरसा मैदान में थे। इस सीट पर सिरसा ने सरना को रिकॉर्ड [४४५४] वोटों से हराया। सिरसा को [९००६] वोट मिले।

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी पर बादल गुट का कब्जा


राजौरी गार्डन पर सरना गुट के हरपाल सिंह कोचर ने अपने प्रतिद्वंद्वी शिरोमणि अकाली दल बादल के हरमनजीत सिंह पर [२९] वोटों से जीत दर्ज की। कोचर को [१७७४] वोट मिले। इस सीट पर वोटों की जीत का मार्जिन सबसे कम था। खास बात यह रही कि इस सीट पर सबसे देर में चुनाव नतीजे आए। यहां मतगणना दुबारा हुई। बादल गुट के लिए यह सीट बेहद अहम मानी जा रही थी जो सरना गुट के उम्मीदवार कोचर ने छीनी।|
माना जा रहा है कि शराब किंग पोंटी चड्डा की ह्त्या के बाद से ही उनके नजदीकी सरना गुट के साम्राज्य के पतन की कहानी शुरू हो गई थी |जिसका अब पटाक्षेप हो गया है|

लक्ष्य हीन मानव जीवन व्यर्थ है: निंदनीय वचन फलदायी नहीं होते

अधम वचन काको फल्यो , बैठि ताड़ की छांह ।
रहिमन काम न आय है , ये नीरस जग मांह ।

Rakesh Khurana On Sant Rahim Das

अर्थ : जैसे ताड़ की छाया में बैठकर कोई फल नहीं मिलता , इसी प्रकार निंदनीय वचन फलदायी नहीं होते । संत रहीम दास जी कहते हैं – जो मनुष्य संसार में आकर किसी काम के नहीं होते , वे मनुष्य संसार में रसहीन होते हैं ।
भाव : इस संसार में निष्प्रयोजन जीवन जीना व्यर्थ है । यदि जीवन का कोई लक्ष्य नहीं है , जीवन किसी के काम नहीं आता है तो ऐसे जीवन का लाभ क्या ? संत रहीम के कहने का आशय यही है कि जीवन सार्थक होना चाहिए । कभी किसी की निंदा नहीं करनी चाहिए ।जीवन को ऐसा बनाना चाहिए , जो दूसरों के काम आ सके । दूसरों के साथ सहयोग करके ही आदमी यश पाता है और लोकप्रिय होता है ।
संत रहीम दास जी
प्रस्तुति राकेश खुराना

अन्ना हजारे ने पटना में रैली की और सत्ता परिवर्तन को मोर्चे का ऐलान करके महात्मा गांधी को श्रधांजलि दी

जनलोकपाल पर केंद्र सरकार की टालमटोल की नीति से आजिज समाजसेवी अन्ना हजारे ने आज बुधवार ३० जनवरी को पटना में संगठित रूप से व्यवस्था परिवर्तन का अभियान चलाने के लिए एक मोर्चे का गठन करने का ऐलान किया.महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर आयोजित जनतंत्र रैली में अन्ना हजारे ने कहा, ‘हम बीते दो साल से लड़ रहे हैं. लेकिन केंद्र की सरकार की नीयत साफ नहीं है. देश की जनता सरकार से कह रही है कि ‘जनलोकपाल लाओ, नहीं तो जाओ’. हम युवाओं और देश के लोगों को संगठित कर रहे हैं.इसके लिए एक नया मोर्चा गठित करेंगे.’
उन्होंने कहा कि देश में आजादी की दूसरी लड़ाई की शुरुआत हो गयी है. फरवरी माह में देश के चार राज्यों में सभाओं के आयोजन के बाद मार्च में देश भर में अभियान चलाया जायेगा. मुख्य तौर पर युवाओं को संबोधित करते हुए गांधीवादी नेता अन्ना ने कहा, ‘देश भर में डेढ़ साल तक वह घूमेंगे. 120 करोड़ की जनता में से कम से कम छह करोड़ लोग तो जग जायेंगे. ये छह करोड़ लोग जग गये तो सरकार की नाक में दमकर देंगे.’
अन्ना ने लोक पाल की जरुरत बताते हुए कहा कि लोकपाल इसलिए जरूरी है, क्योंकि इसके आने से देश में व्याप्त 50 से 60 फीसदी भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा. इसके बाद चुनाव में योग्य उम्मीदवार नहीं मिलने पर खारिज करने के अधिकार[ राईट टू रिकाल] , जनप्रतिनिधियों को वापस बुलाने के अधिकार, ग्रामसभाओं को मजबूत करने के अधिकार और सरकारी अधिकारियों द्वारा एक सप्ताह के भीतर फाइल निपटाने की जवाबेदही तय करने जैसे उपायों से भ्रष्टाचार मिटाना संभव होगा.

Anna Babu Rao Hazare In Patna


अन्ना ने व्यवस्था परिवर्तन के लिए लोगों को एकजुट करने के लिए सूचना का अधिकार कानून की लड़ाई लड़ने वाले अरविंद केजरीवाल की तरह सूचना प्रौद्योगिकी साधनों को अपनाने का आह्वाहन किया. उन्होंने कहा, ‘लोग वेबसाइट अन्ना हजारे डॉट ओआरजी पर हमसे संपर्क कर सकते हैं. इसके अलावा अपनी एकजुटता व्यक्त करने के लिए दो मोबाइल नंबर पर एसएमएस कर सकते हैं.’
रैली में थल सेना के पूर्व अध्यक्ष वीके सिंह, पूर्व आईपीएस अधिकारी किरण बेदी, एकता परिषद के अध्यक्ष पीवी राजगोपाल, विश्व सूफी परिषद के अध्यक्ष सैयद गिलानी, कर्नाटक के स्वामी वासव विजय महामृत्युंजय महास्वामी भी उपस्थिति थे.
रैली को संबोधित करते हुए जनरल वी.के. सिंह ने देश की हालात की व्यापक चर्चा करते हुए व्यवस्था परिवर्तन की दरकार बताई। उन्होंने जनतंत्र मोर्चा के घोषणा पत्र को भी पढ़ा।
किरण बेदी का कहना था कि यह अन्ना के आंदोलन की कामयाबी है कि अब केंद्र सरकार जन लोकपाल की व्यवस्था वाली बात करने लगी है। सभी मिलकर सरकार पर ऐसा दबाव बनाएं, ताकि बजट सत्र में जन लोकपाल आकार पा जाए। राजेंद्र सिंह के अनुसार अब देश में व्यवस्था परिवर्तन के बूते ही बेहतरी की आस है। इसमें सबको लगना होगा, देश के प्रत्येक नागरिक को इसे अपनी जिम्मेदारी माननी होगी।

कैलिफोर्निया में एक गुरुद्वारे में घुसकर पांच सशस्त्र बदमाशों ने दानपात्र में रखी नकदी लूटी

कैलिफोर्निया में एक गुरुद्वारे में घुसकर पांच सशस्त्र बदमाशों ने दानपात्र में रखी नकदी लूटी

संयुक्त राष्ट्र अमेरिका के शहर कैलिफोर्निया में एक गुरुद्वारे में घुसकर पांच सशस्त्र बदमाशों ने दानपात्र में रखी नकदी लूटी और फरार हो गए।
तीन लुटेरे रविवार सुबह गुरुद्वारे के सामने के दरवाजे से घुसे। इनमें एक के पास बंदूक और दूसरे के पास चाकू था। जबकि तीसरा निहत्था था। तीनों ने हजारों डॉलर दान पात्र से निकाले और बराबर के दरवाजे से बाहर भाग गए, जहां उनके दो अन्य साथी इंतजार कर रहे थे।
गुरुद्वारे में डकैती की यह पहली घटना है। यह भयावह घटना है, क्योंकि वे हथियार लेकर आए थे।यहाँ यदपि कुछ श्र्धालू थे मगर किसी ने भी लुटेरों का विरोध नहीं किया गौरतलब है कि यहाँ की जनसंख्या में 20 प्रतिशत आबादी सिखों की है।
पिछले साल अगस्त में विस्कांसिन स्थित ओकक्रीक गुरुद्वारे में हुई गोलीबारी में छह लोग मारे गए थे।राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सिखों के धार्मिक स्थलोंपर अटैक पर कड़ी चिंता व्यक्त की थी |