Ad

Archive for: February 2015

सुजाता सिंह का कंडीशनल रेजिग्नेशन केवल सियासी हंगामा बरपा करना ही रहा होगा

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया ये भाजपाइयों की तो डिक्टेटरशिप ने नाक में दम कर दिया |ओये प्रभावी+इंटेलिजेंट+कर्मठ सुजाता सिंह को इन भाजपाइयों ने विदेश सचिव के पद से ऐसे हटा दिया मानों दूध में से मक्खी निकाल रहे हों| लेकिन सुजाता सिंह ने भी चैनल पर क्लीयर कर दिया है कि उनकी वॉलंटियर रिटायरमेंट की चिट्ठी में लिखे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का नाम हटाने की रखी गई पी एम ओ की शर्त को मानने से इंकार करने पर उन्हें इंसल्टिंग वे में हटाया गया है|

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण जी ये तो आप को और आपकी सुजाता सिंह को मालूम ही होगा कि कंडीशनल रेजिग्नेशन [और वोह भी एक्सटेंशन की बैसाखी पर चलने वाले]को स्वीकार नहीं किया जाता|इसीलिए प्रधान मंत्री के नाम का उल्लेख तो केवल हंगामा बरपा करना ही रहा होगा |