Ad

Category: Accidents

कोहरे से सड़क और वायु यातायात प्रभावित हुआ

Air India flight Canceled

पहाड़ों से तैरती आ रही बर्फानी हवाओं ने उत्तर भारत में भी कोहरे की चादर ओड़ा दी है|इस से मेरठ और आसपास के एरिया में सामान्य जन जीवन तो प्रभावित हुआ ही है इसके साथ हीकई ट्रेन लेट चल रहे है तो दिल्ली एयर पोर्ट से कई उडाने लेट हुई और रद्द भी करनी पड़ी है|संगम में अगर सात घंटे तो नौचंदी एक्सप्रेस के लिए तीन घंटे देरी एनाउंस हुई है| एयर इंडिया ने चंडीगढ़ दिल्ली फ्लाईट ऐ आई ८६४/८६३ को आज सोमवार के लिए रद्द कर दिया|

हैदराबाद के पुराने एयर पोर्ट पर आग भड़की:५७% स्टाफ की कमी से जूझ रहे डीजी सी ऐ करेगा जाँच

हैदराबाद के बेगमपेट पुराने एयर पोर्ट पर भड़की आग में १०० करोड़ रुपयों की लागत के एक हेलीकाप्टर और छह ट्रेनी विमान जल कर नष्ट हो गए|इससे विमानन छेत्र में रखरखाव व्यवस्था पर लग रहे प्रश्न चिन्ह और गाढे होते जा रहे है| राज्यके मुख्य मंत्री एन के के रेड्डी द्वारा गुप्तचर एजेंसी [सी आई डी] को जाँच के आदेश दे दिए गए हैं|
आन्ध्र सरकार द्वारा यह हेलीकाप्टरमुख्य मंत्री के उपयोग के लिए २००९ में ६३ करोड़ रुपयों में खरीदा गया था| इसके अलावा एक ट्रेनिंग एकेडमी के छह ट्रेनी विमान भी यहाँ के हैंगर में थे|शार्ट सर्किट से आग लगने की सम्भावना जाती जा रही है|लेकिन मीडिया में तेन धमाकों की भी बात कही जा रही है|

हैदराबाद के पुराने एयर पोर्ट Begumpet पर आग

इस आग की भयावह लपटों को काबू में करने के लिए दस दमकलों के अलावा हाकिमपेट के एयर फ़ोर्स स्टेशन से भी सहायता ली गई तब जाकर तीन घंटों में आग पर काबू पाया जा सका|
बेशक वहां शमशाबाद में अन्तराष्ट्रीय एयर पोर्टबन गया है इसीलिए इस बेगमपेट एयर पोर्ट को आम आवागमन के लिए बंद किया गया है और हेलीकाप्टर को इंश्योर्ड बताया जा रहा है|लेकिन इससे इस एयर पोर्ट और वहां हुए नुक्सान का महत्त्व कम नहीं किया जा सकता|क्योंकि इसे अभी भी वी आई पी यातायात और ट्रेनिंग के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है और बीमा की राशि भी तो टेक्स पेयर्स की जेब से जाती है|अर्थार्त अभी भी यूस में है|ऐसे में डी जी सी ऐ की जिम्मेदारी भी कम नहीं हो जाती|यहाँ यह कहना भी तर्क संगत ही होगा की इसी शहर के राजीव गाँधी इंटरनॅशनल एयर पोर्ट कोइस्ताम्बुल में बेस्ट कार्गो एयर पोर्ट और बेस्ट कार्गो टर्मिनल का एवार्ड मिला है |एक एयर पोर्ट के लिए इतनी व्यवस्था और दुसरे की अनदेखी के लिए डी जी सी ऐ की जवाब देही तो बनती ही है|बताया जा रहा हे की इसकी जांच में डी जी सी ऐ को भी शामिल किया जा रहा है लेकिन यह संस्था पहले ही ५७% स्टाफ की कमी से जूझ रही है|

सियाचिन में बर्फीले तूफ़ान में असम रेजिमेंट के छह जवान शहीद और एक लापता

सियाचिन में बर्फीले तूफ़ान

सियाचिन ग्लेशियर में आए भयंकर बर्फीले तूफान में 6 भारतीय सैनिकों के मारे जाने की खबर है जबकि एक सैनिक लापता बताया जा रहा है। सेना के सूत्रों के मुताबिक सियाचिन ग्लेशियर के हनीफ सब सेक्टर में सुबह सात बजे हिमस्खलन आया, जिसमें असम रेजिमेंट के छह जवान मारे गए व एक लापता हो गया। चौकियों के बीच सैनिकों की आवाजाही के दौरान यह घटना घटी।यह चौकी 15-16 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित है।
कई सालों में पहली बार इस ग्लेशियर क्षेत्र में भारतीय चौकी हिमस्खलन की चपेट में आई है ।
ऐसा नहीं की केवल भारतीय ही बर्फीले तूफ़ान की चपेट में आते हैं बल्कि पिछले साल इसी क्षेत्र में हिमस्खलन में पाकिस्तानी शिविर चपेट में आया था और 100 से अधिक पाकिस्तानी सैनिक मारे गए थे।
भारत ने पिछले करीब 30 साल से सियाचिन में अपने सैनिक तैनात कर रखे हैं। यहाँ भारत ने दुश्मन की गोलियों से कहीं अधिक जवान मौसम और प्रतिकूल भौगोलिक स्थितियों की वजह से गंवाए हैं।सम्भवत इसीलिए यहाँ से जवान हटाने के लिए पकिस्तान और भारत में बात हो रही है| कई दौर की बातचीत के बाद भारत और पाकिस्तान कुछ साल पहले इस क्षेत्र के सैनिक हटाने के करीब पहुंच गए थे, लेकिन समझौता नहीं हो सका
भारतीय जनरल बिक्रम सिंह ने साफ कर दिया है कि भारतीय सेना रणनीतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण इस बर्फीली चोटी से हटना नहीं चाहती है जिसके लिए उनसे अपना काफी खून बहाया है। उन्होंने कहा कि सेना ने अपने विचार से सरकार को अवगत करा दिया है और अंतिम फैसला उसे करना है।

चांदनी चौक के भागीरथ पैलेस में लगी आग को काबू करने में २२ दमकलें लगी

पुरानी दिल्ली के चांदनी चौक के भागीरथ पैलेस में गुरुवार की शाम भयंकर आग लग गई। टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक कम से कम 60-70 दुकानें आग की चपेट में हैं। अभी तक जानमाल के नुकसान का एसेसमेंट नहीं किया जा सका है| गौरतलब है कि चांदनी चौक के इस इलाके में इलेक्ट्रॉनिक का बड़ा देश व्यापी बाज़ार है| आग को बुझाने के लिए २२ दमकल भेजी गई |बेशक संकरी गलियों के कारण दमकल आग लगाने के लगभग बीस मिनट्स के बाद पहुँची मगर शाम पांच बजे लगी आग पर काबू पा लिया गया है|
। घटना की सूचना मिलने पर दमकल की 22 गाड़ियां आग बुझाने के लिए मौके पर पहुंच गईं। बिल्डिंग के आसपास काफी दुकानें होने से फायर ब्रिगेड को आग पर काबू पाने में काफी मुश्किल का सामना कराना पडा |।दुकानें आपस में सटी हुईं हैं जिसके कारण दमकल की गाडियां को आग में घिरी बिल्डिंग तक पहुंचाने में स्वाभाविक दिक्कत हुई दमकल को संकरे बाज़ार से बाहर खडा करके पाईपों को जोडकर पानी वहां तक पहुंचाया गया| किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। एक व्यक्ति को सुरक्षित निकाल लिया गया है। इस बिल्डिंग में 50 से अधिक दुकानें बताई जा रही हैं।
प्राप्त जानकारी के अनुसार इस बिल्डिंग में बिजली का सामान और इलेक्ट्रॉनिक सामान मिलता है।
पांच मंजिला इस इमारत की तीसरी मंजिल में पहले आग लगी जो बाद में चौथी और पांचवीं मंजिल तक पहुंच गई। नुक्सान का विवरण अभी नहीं मिल पाया है|

चांदनी चौक में आग [file]

विश्व प्रसिद्द वैष्णो देवी श्राईन मार्ग पर आग से दर्ज़नों दुकाने राख: अस्थाई रूप से प्रभावित यात्रा पुनः शुरू

VAISHNO DEVI SHRINE Charan paduka

.कटड़ा वैष्णो देवी मार्ग पर रात आग लग गई जिस की वजह से करीब एक दर्जन दुकानें जल गईं| गनीमत रही कि कोई घायल नहीं हुआ|
आग को देखते हुए रात में यात्रा भी रोक दी गई थी| आज सुबह पांच बजे के करीब आग पर पूरी तरह काबू पा लिया गया और यात्रा पहले की तरह शुरू हो गई|
विश्व प्रसिद्ध शक्ति पीठ मां वैष्णो देवी मार्ग पर चरणपादुका में स्थित इस मार्केट में लगी आग से कई दुकानें राख हो गई। यात्रा अस्थाई रूप से रोके जाने पर कटड़ा में श्रद्धालुओं की काफी भीड़ जमा हो गई। लोग देर रात तक ठण्ड के मौसम में ठहरने के लिए होटलों के कमरे तलाशते रहे। आग बुझाने के लिए प्रशासन, श्राइन बोर्ड, अग्निशमन विभाग तथा स्थानीय लोग जुटे रहे| यह बाज़ार ड्राइफ्रूट, माला चूड़ी स्टूडियो वगैरह के लिए विख्यात है और यहा करोड़ों रुपये का व्यापार होता है। आग लगने के कारणों का अभी पता नहीं चल पाया है। गौरतलब है कि दो साल पहले भी इसी मार्केट में सिलेंडर फटने के कारण भयंकर आग लगी थी।
बताते चलें कि त्रिकुटा पहाड़ियों में स्थित विश्व प्रसिद्ध शक्ति पीठ मां वैष्णो देवी केदर्शन करने के लिए रोजाना दस से पंद्रह हजार यात्री आते हैं और वर्ष में एक करोड़ तक श्र्धालू आते हैं|बीते साल १.०५ करोड़ लोग आये थे और इस सप्ताहंत तक एक करोड़ का आंकड़ा दर्ज़ किया जा चूका है| अनुमान के अनुसार क्रिसमस और नए साल को देखते हुए दिसंबर 20 के बाद कटड़ा पहुंचने वाले यात्रियों की संख्या में बेतहाशा बढ़ोतरी हो सकती है और यह नया रिकॉर्ड कायम हो सकता है| कहने का अभिप्राय है कि यह शक्ति पीठ ना केवल श्रधालूँ जनों की आस्था से जुडा है वरन आतंकवाद से जूझ रहे जे & के राज्य के लिए यह आय का भी मुख्य स्रौत है ऐसे में यहाँ सुविधाओं और सुरक्षा का अभाव दिखाई दे रहा है यह चिंता का विषय है |इस छेत्र में विशेष व्यवस्था की आवश्यकता से इंकार नहीं किया जा सकता|

पांच खोखों में अचानक आग लगी, देखते देखते लाखों का नुक्सान : मुआवजे की मांग

मेरठ :गढ़ रोड चौराहे पर आज सुबह आग लगाने से पांच खोखे सवाह हो गए|इनमे लाखों रुपये का नुक्सान होना बताया जा रहा हैजिसके लिए प्रशासन से मुआवजे की मांग की गई है|थाना मेडिकल के अंतर्गत गढ़ रोड चोराहे पर चाय+चारपाई बुनाई+सायकिल मरम्मत+जूते आदि के खोखों पर व्यापार होता था तड़के इनमे अचानक आग लग गई|और देखते ही देखते सारे पांचों खोखे राख होगये|
दमकल के वाहन मौके पर पहुंचे मगर तब तक बहुत देर हो चुकी थी खोखो के

खोखों में आग लगी,

मालिकों ने प्रशासन से मुआवजे की मांग की है|

एयर पोर्ट पर ट्रैफिक कंट्रोल लडखडाया स्पाईस जेट का प्लेन आई जी आई पर टकराया :यात्री सुरक्षित

स्पाईस जेट कम्पनी का एक विमान बिजली के खम्भे से टकरा कर दुघटना ग्रस्त होगया| जिससे विमान का एक हिस्सा[विंग]क्षतिग्रस्त होगया|इस हादसे से कुछ यात्रियों को चोटें भी आई हैं|
इंदिरा गांधी एयर पोर्ट[ आई जी आई]से गुरूवार को यात्रियों से भरे विमान जब रनवे की तरफ टेक आफ के लिए जा रहा था तब अप्रोन के समीप किसी अनहोनी से पायलेट घबरा गया और रास्ते के हाई पास्ट खम्भे से टकरा गया|विमान से यात्रियों को निकालने के लिए लगभग डेड घंटा लगा|कुछ लोगों को मामूली चोटें आई है किसी बड़ी अनहोनी का समाचार नहीं है सभी यात्रिओं की जान बच गई बताई जा रही है| जाँच के आदेश दे दिए गए हैं|
टेक्सी से रनवे पर जाने के लिए मार्ग दिशा निर्देश डी जी सी ऐ को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है| इससे पूर्व २९ जुलाई को भी स्पाइस जेट और इंडिगो के प्लेन्स में एक्सीडेंट हो चुका है|

एयर ट्रेफिक कण्ट्रोल व्यवस्था का भी ओवर हालिंग किया जाना जरूरी हो गया है

रोड ट्रैफिक की तरह लगता है कि एयर ट्रैफिक में भी अब समस्याएं आने लग गई हैं| अब एयर ट्रेवलर्स की जान भी दावं पर लगाई जा रही है| यह तो गनीमत है कि हादसे अभी तक अपने आप टल रहे हैं|दिल्ली के इंदिरा गाँधी इंटर नेशनल एयर पोर्ट पर चार प्लेन टकराने से बचे तो लखनऊ के चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे पर लैंडिंग करते समय एक प्लेन के सामने एक हेलीकाप्टर आ गया |दिल्ली के हादसे को छोटा मोटा बता कर इसकी जांच कि भी जरुरत नहीं समझी गई अब देखना है कि लखनऊ के हादसे की जांच होगी के नहीं अगर होगी तो कब तक पूर्ण होगी

एयर ट्रेफिक कण्ट्रोल व्यवस्था का भी ओवर हालिंग किया जाना जरूरी हो गया है


वरना तो वोह दिन दूर नहीं जब एयर प्लेन हवा में भी आपस में टकराने लगेंगे | ये दोनों एयर पोर्ट्स देश के दो प्रधान मंत्रियों को समर्पित हैं|इनमे से एक प्रधान मंत्री वर्तमान विमानन मंत्रालय के मंत्री हैं|
प्राप्त जानकारी के अनुसार चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे पर सोमवार शाम को एक हेलीकाप्टर लैडिंग के दौरान इंडिगो एयरलाइंस के जहाज के सामने आ गया।
पता चला है कि पड़ताल की जा रही है कि हेलीकाप्टर के होने के बावजूद विमान लैडिंग के लिए रनवे के करीब कैसे पहुंचा| मुंबई से लखनऊ आने वाली इंडिगो एयरलाइंस की उड़ान संख्या 342 में क्रू सदस्यों के अलावा 180 यात्री सवार थे।
इससे पूर्व इंदिरा गाधी एयरपोर्ट पर करीब सात बजे एक बड़ा हादसा होते-होते उस समय टल गया, जब चार विमान आपस में टकराते-टकराते बचे।
एक निजी विमान रन-वे 28 पर खड़ा था। एटीसी ने उसे निर्देश दिया कि वह रन-वे-28 को खाली करे। क्योंकि उस रन-वे से कुछ ही समय में जेट एयरवेज की दिल्ली-दोहा (दुबई) फ्लाईट उड़ान भरने वाली थी। इसके अलावा इसी रन-वे पर जेट एयरवेज की दूसरी फ्लाईट चेन्नई से आ रही थी। इसी दौरान चेन्नई से एक निजी विमान लैंड कर गया। वह टर्मिनल तीन से टर्मिनल एक क्रास करते हुए इस रन-वे पर आ गया। एटीसी ने जब यह दृश्य देखा तो उनके होश उड़ गए। एटीसी ने तत्काल सूझबूझ का परिचय देते हुए पहले दोहा के लिए उड़ान भरने के लिए तैयार जेट एयरवेज के विमान को उड़ान रोकने का निर्देश दिया। इस विमान में करीब दो सौ यात्री थे। इसके बाद चेन्नई से आ रहे विमान को रनवे पर उतरने से मना किया गया। तब जाकर एक बड़ा हादसा होने से टला और अधिकारियों ने राहत की सास ली
एयर ट्रेफिक कण्ट्रोल (ATC) की सर्विस ग्राउंड -बेस्ड कंट्रोलर्स द्वारा प्रोवाइड कराई जाती है|इनके दिशा निर्देश पर ही एयर क्राफ्ट्स का मूवमेंट होता है|अर्थार्त हवाई जहाज़ों का आपस में टकराव रोकने के लिए यह व्यवस्था की गई है| लेकिन हादसों की संख्या में बढोत्तरी को देख कर लगता है की इस व्यवस्था का भी ओवर हालिंग किया जाना जरूरी है|

रोड एक्सीडेंट में डी सी एम् चालक की मृत्यु

मेरठ के कंकर खेडा में शोभा पुर चेक पोस्टके समीप तड़के सड़क किनारे खड़े ट्रक और एक डी सी एम् की टक्कर में डी सी एम् चालक बिहार निवासी फत्ते की मृत्यु हो
गई|शोभा पुर चेक पोस्ट के समीप शिव शक्ति पम्प के सामने सड़क के किनारे एक ट्रक खडा था

TRAFIC POLICE Meerut


जिसमे दिल्ली रोड की तरफ आते हुए डी सी एम् ने टक्कर मार दी| पीछे से तेज गती से आरहे दूसरे ट्रक ने डी सी एम् में पीछे से भी टक्कर मार दी

इंदिरा गांधी इंटरनॅशनल एयर पोर्ट पर चार प्लेन आपस में टकराने से बचे

विश्व में सबसे महंगे इंदिरा गाँधी इंटर्नेशनल एयर पोर्ट पर सोमवार को चार प्लेन आपस में टकराने से बचे| अंतिम समय पर एयर ट्राफिक कंट्रोल द्वारा अलर्ट जारी करने से यह बचाव सम्भव हुआ| डी जी सी ऐ ने इसे मामूली घटना बताते हुए इन्क्वायरी सेट अप करने से अपना पल्ला झाड लिया है|

इंदिरा गांधी इंटरनॅशनल एयर पोर्ट


बताया जा रहा है की एक छोटे प्लेन[ऐ आर एयर वेज ] के पायलेट द्वारा सांय सात बजे ऐ टी सी की सूचना नहीं पड़ पाने के कारण यह हुआ| इस समय जेट एयर वेज के दो प्लेन भी उसी दिशा में आने लगे| इस पर एक प्लेन को उड़ने से रोका गया जबकि दुसरे को वहां से हटाया गया|