Ad

Category: Accidents

एयर पोर्ट पर ट्रैफिक कंट्रोल लडखडाया स्पाईस जेट का प्लेन आई जी आई पर टकराया :यात्री सुरक्षित

स्पाईस जेट कम्पनी का एक विमान बिजली के खम्भे से टकरा कर दुघटना ग्रस्त होगया| जिससे विमान का एक हिस्सा[विंग]क्षतिग्रस्त होगया|इस हादसे से कुछ यात्रियों को चोटें भी आई हैं|
इंदिरा गांधी एयर पोर्ट[ आई जी आई]से गुरूवार को यात्रियों से भरे विमान जब रनवे की तरफ टेक आफ के लिए जा रहा था तब अप्रोन के समीप किसी अनहोनी से पायलेट घबरा गया और रास्ते के हाई पास्ट खम्भे से टकरा गया|विमान से यात्रियों को निकालने के लिए लगभग डेड घंटा लगा|कुछ लोगों को मामूली चोटें आई है किसी बड़ी अनहोनी का समाचार नहीं है सभी यात्रिओं की जान बच गई बताई जा रही है| जाँच के आदेश दे दिए गए हैं|
टेक्सी से रनवे पर जाने के लिए मार्ग दिशा निर्देश डी जी सी ऐ को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है| इससे पूर्व २९ जुलाई को भी स्पाइस जेट और इंडिगो के प्लेन्स में एक्सीडेंट हो चुका है|

एयर ट्रेफिक कण्ट्रोल व्यवस्था का भी ओवर हालिंग किया जाना जरूरी हो गया है

रोड ट्रैफिक की तरह लगता है कि एयर ट्रैफिक में भी अब समस्याएं आने लग गई हैं| अब एयर ट्रेवलर्स की जान भी दावं पर लगाई जा रही है| यह तो गनीमत है कि हादसे अभी तक अपने आप टल रहे हैं|दिल्ली के इंदिरा गाँधी इंटर नेशनल एयर पोर्ट पर चार प्लेन टकराने से बचे तो लखनऊ के चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे पर लैंडिंग करते समय एक प्लेन के सामने एक हेलीकाप्टर आ गया |दिल्ली के हादसे को छोटा मोटा बता कर इसकी जांच कि भी जरुरत नहीं समझी गई अब देखना है कि लखनऊ के हादसे की जांच होगी के नहीं अगर होगी तो कब तक पूर्ण होगी

एयर ट्रेफिक कण्ट्रोल व्यवस्था का भी ओवर हालिंग किया जाना जरूरी हो गया है


वरना तो वोह दिन दूर नहीं जब एयर प्लेन हवा में भी आपस में टकराने लगेंगे | ये दोनों एयर पोर्ट्स देश के दो प्रधान मंत्रियों को समर्पित हैं|इनमे से एक प्रधान मंत्री वर्तमान विमानन मंत्रालय के मंत्री हैं|
प्राप्त जानकारी के अनुसार चौधरी चरण सिंह हवाई अड्डे पर सोमवार शाम को एक हेलीकाप्टर लैडिंग के दौरान इंडिगो एयरलाइंस के जहाज के सामने आ गया।
पता चला है कि पड़ताल की जा रही है कि हेलीकाप्टर के होने के बावजूद विमान लैडिंग के लिए रनवे के करीब कैसे पहुंचा| मुंबई से लखनऊ आने वाली इंडिगो एयरलाइंस की उड़ान संख्या 342 में क्रू सदस्यों के अलावा 180 यात्री सवार थे।
इससे पूर्व इंदिरा गाधी एयरपोर्ट पर करीब सात बजे एक बड़ा हादसा होते-होते उस समय टल गया, जब चार विमान आपस में टकराते-टकराते बचे।
एक निजी विमान रन-वे 28 पर खड़ा था। एटीसी ने उसे निर्देश दिया कि वह रन-वे-28 को खाली करे। क्योंकि उस रन-वे से कुछ ही समय में जेट एयरवेज की दिल्ली-दोहा (दुबई) फ्लाईट उड़ान भरने वाली थी। इसके अलावा इसी रन-वे पर जेट एयरवेज की दूसरी फ्लाईट चेन्नई से आ रही थी। इसी दौरान चेन्नई से एक निजी विमान लैंड कर गया। वह टर्मिनल तीन से टर्मिनल एक क्रास करते हुए इस रन-वे पर आ गया। एटीसी ने जब यह दृश्य देखा तो उनके होश उड़ गए। एटीसी ने तत्काल सूझबूझ का परिचय देते हुए पहले दोहा के लिए उड़ान भरने के लिए तैयार जेट एयरवेज के विमान को उड़ान रोकने का निर्देश दिया। इस विमान में करीब दो सौ यात्री थे। इसके बाद चेन्नई से आ रहे विमान को रनवे पर उतरने से मना किया गया। तब जाकर एक बड़ा हादसा होने से टला और अधिकारियों ने राहत की सास ली
एयर ट्रेफिक कण्ट्रोल (ATC) की सर्विस ग्राउंड -बेस्ड कंट्रोलर्स द्वारा प्रोवाइड कराई जाती है|इनके दिशा निर्देश पर ही एयर क्राफ्ट्स का मूवमेंट होता है|अर्थार्त हवाई जहाज़ों का आपस में टकराव रोकने के लिए यह व्यवस्था की गई है| लेकिन हादसों की संख्या में बढोत्तरी को देख कर लगता है की इस व्यवस्था का भी ओवर हालिंग किया जाना जरूरी है|

रोड एक्सीडेंट में डी सी एम् चालक की मृत्यु

मेरठ के कंकर खेडा में शोभा पुर चेक पोस्टके समीप तड़के सड़क किनारे खड़े ट्रक और एक डी सी एम् की टक्कर में डी सी एम् चालक बिहार निवासी फत्ते की मृत्यु हो
गई|शोभा पुर चेक पोस्ट के समीप शिव शक्ति पम्प के सामने सड़क के किनारे एक ट्रक खडा था

TRAFIC POLICE Meerut


जिसमे दिल्ली रोड की तरफ आते हुए डी सी एम् ने टक्कर मार दी| पीछे से तेज गती से आरहे दूसरे ट्रक ने डी सी एम् में पीछे से भी टक्कर मार दी

इंदिरा गांधी इंटरनॅशनल एयर पोर्ट पर चार प्लेन आपस में टकराने से बचे

विश्व में सबसे महंगे इंदिरा गाँधी इंटर्नेशनल एयर पोर्ट पर सोमवार को चार प्लेन आपस में टकराने से बचे| अंतिम समय पर एयर ट्राफिक कंट्रोल द्वारा अलर्ट जारी करने से यह बचाव सम्भव हुआ| डी जी सी ऐ ने इसे मामूली घटना बताते हुए इन्क्वायरी सेट अप करने से अपना पल्ला झाड लिया है|

इंदिरा गांधी इंटरनॅशनल एयर पोर्ट


बताया जा रहा है की एक छोटे प्लेन[ऐ आर एयर वेज ] के पायलेट द्वारा सांय सात बजे ऐ टी सी की सूचना नहीं पड़ पाने के कारण यह हुआ| इस समय जेट एयर वेज के दो प्लेन भी उसी दिशा में आने लगे| इस पर एक प्लेन को उड़ने से रोका गया जबकि दुसरे को वहां से हटाया गया|

यातायात पखवाड़े में पोलिस का खेल , सपा का झंडा लगा है ,रिपोर्ट नहीं लिखेंगे

एक होंडा सिटी सवार ने बाईक सवार दो लोगों को रौंद दिया|होंडा सिटी सत्ता रूड सपा के एक नेता की बताई जा रही है
सदर मेरठ के सोतीगंज छेत्र में देर रात एक होंडा सिटी, [जिसमे चार पुरुष और एक महिला थे,]ते रफ़्तार में जा रही थी| गाड़ी पर सपा पार्टी का झंडा भी लगा है|[फोटो में भी दिखाया गया है] जुनैद पुत्र आफताब और साकिबपुत्र मोहम्मद शहजाद बाईक पर आ रहे थे| होंडा सिटी ने बाईक में टक्कर मार कर दोनों को घायल कर दिया| होंडा सिटी स्वर सभी भाग गए मगर छेत्र वासियों ने गाड़ी पर अपना गुस्सा उतारा| सुबह तहरीर देने पर भी ऍफ़ आई आर दर्ज़ नहीं हुई है|

यातायात पखवाड़े में पोलिस का खेल , सपा का झंडा लगा है ,रिपोर्ट नहीं लिखेंगे

मेरठ में यातायात सुचारू करने के लिए यातायात पखवाड़ा मनाया जा रहा है मगर सड़क दुर्घटनाएं है की कम होने का नाम नहीं ले रही इसके अलावा पोलिस भी खेल करने में कोई कमी नहीं छोड़ रही इसीलिए गैरकानूनी ढंग से ड्राईविंग करने वाले हतोत्साहित होने के बजाये और उत्साह ग्रहण कर रहे हैं|

सड़क दुर्घटनाओ के प्रति न्यायपालिका गंभीर:शासन और प्रशासन को भी आगे आना होगा

सड़क दुर्घटनाओं में हो रही मौतों के प्रति न्यायपालिका ने लगता है कडा रुख अपना लिया है| दो ताज़ा मुकद्दमो में न्यायाधीशों द्वारा बड़ी पेनाल्टी लगा कर पीड़ितों के प्रति न्याय किया गया है|
[ १] अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश-2/ मोटर दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण ने न्यू इंडिया इंश्योरेंस कंपनी को आदेश दिया है कि वह पत्रकार शैलेंद्र सिंह के परिजनों को एक करोड़ 98 लाख रुपये का मुआवजा दे। शैलेंद्र सिंह की 2009 में सड़क दुघर्टना में मौत हो गई थी। वैशाली में रहने वाले शैलेंद्र सिंह एक निजी टीवी चैनल में एडीटर थे। 18 जून 2008 को वह अपनी पत्नी मेहंदी वरदान और दो बच्चों के साथ कार से नोएडा एक्सप्रेसवे पर जा रहे थे। रास्ते में ट्रक चालक ने ओवरटेक कर ट्रक को कार के आगे ले जाकर रोक दिया। इससे कार अनियंत्रित होकर ट्रक में घुस गई थी। इस दुर्घटना में शैलेंद्र की मौत हो गई थी। उनकी पत्नी और बच्चे घायल हो गए थे। इस मामले में पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ट्रक को कब्जे में ले लिया था। शैलेंद्र की मौत के बाद परिवार की स्थिति खराब हो गई। शैलेंद्र की पत्नी ने ट्रक मालिक , ट्रक चालक और इंश्योरेंश कंपनी को पार्टी बनाते हुए कोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिका में कहा गया कि उनके पति को एक लाख 65 हजार रुपये प्रतिमाह वेतन मिलता था। वह किताबें भी लिखते थे , जिनकी रॉयल्टी मिलती थी। उन्होंने इंश्योरेंश कंपनी से उन्हें चार करोड़ रुपये का मुआवजा दिलाने की मांग की थी। शुक्रवार को एडीजे -2 कोर्ट की न्यायाधीश सरोज यादव ने मामले की अंतिम सुनवाई करते हुए साक्ष्य के आधार पर इंश्योरेंश कंपनी को क्षतिपूर्ति के रूप पीडि़ता को एक करोड़ 98 में लाख 45 हजार रुपये का भुगतान छह प्रतिशत ब्याज के साथ करने का आदेश दिया।
|

पत्रकार शैलेंद्र सिंह के परिजनों को एक करोड़ 98 लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश


[२] एक दूसरी सड़क दुर्घटना में 80 फीसदी विकलांग हुए 26 वर्षीय युवक को मोटर दुर्घटना दावा न्यायाधिकरण ने मुआवजे के तौर पर 17 लाख एपये से अधिक की राशि देने का आदेश दिया है। इस युवक को चार साल पहले लापरवाही से चलाए जा रहे एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी।न्यायाधिकरण ने ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड को निर्देश दिया कि वह दिल्ली निवासी राज कुमार को 17.42 लाख एपये मुआवजा के तौर पर दे। राजकुमार दुर्घटना में घायल हो गया था। दुर्घटना में शामिल वाहन का बीमा इसी कंपनी ने किया था।
न्यायाधीशों की टिपण्णी है कि शिकायतकर्ता कुमार की तरफ से कोई लापरवाही नहीं हुई थी। ऐसे में स्पष्ट हो जाता है की प्रशासन+चालक+और मालिक भी दोषी हैं|अभी हाल ही में व्यंगकार जसपाल भट्टी का जालंधर से समीप+पूर्व मंत्री येरन का आंध्र प्रदेश +एडिटर शैलेन्द्र का नोएडा एक्सप्रेसवे पर एक्सीडेंट में निधन हुआ |ऐसे अनेकों उदहारण है जिनमे आम आदमी के साथ वी आई पी भी शिकार हो रहे हैं| सडकों की ख़राब हालत +ड्राईवरों का ड्राईविंग परीक्षण+ हाई वे निर्माण के त्रुटियाँ इसके लिए जिम्मेदार हैं| विकास का ढोल पीटते समय व्यवस्था की खामियों को अनदेखा किया जाना किसी भी समाज के लिए लाभकारी साबित नही होता|
गौरतलब है की सड़क दुर्घटनाओं में मरने वालों की संख्या में लगातार वृधि हो रही है न्यायालयों के इन आदेशों से बेशक पीड़ित परिवारों को आर्थिक राहत मिलेगी मगर दोषी चालाक और वाहन कंपनियों पर लगाम कसने के अतिरिक्त प्रशासन को चुस्त दुरुस्त करने के लिए किसी भी व्यवस्था का अभाव है|चूंकि सारा दाईत्व नयापलिका पर नहीं डाला जा सकता इसीलिए कार्यपालिका को भी आगे आना होगा

सड़क हादसे में पूर्व केंद्रीय मंत्री येरन नायडू का दुखद निधन:

सड़क हादसे में तेलूगु देशम पार्टी (टीडीपी) के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री किंजारपू येरन नायडू [ वी आई पी की मृत्यु ] कीमौत हो गई | प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इस दुखद निधन पर शोक जताया है। आध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले में शुक्रवार को एक सड़क हादसे में जन गवाने वाले श्री नायडू मात्र 55 साल के थे।2004 में भाकपा (माओवादी) ने श्रीकाकुलम जिले में उनके वाहन को निशाना बनाकर बारूदी सुरंग विस्फोट किया था. उस समय श्री नायडू बाल-बाल बचे थे
प्राप्त जानकारी के अनुसार जिस कार से नायडू [येरान्ना ] जा रहे थे, वह बीते तड़के दो बजे श्रीकाकुलम के रन्स्थालम के करीब एक लॉरी से टकरा गई। दुर्घटना के बाद नायडू के तुरंत पास के निजी अस्पताल में ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।1982 में तेलुगू देशम पार्टी के गठन के तुरंत बाद इससे जुड़ने वाले येरन नायडू 1983 से लेकर चार बार आंध्र प्रदेश विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए और 1996 से कई बार लोकसभा सदस्य के रूप में भी निर्वाचित हुए. हालांकि, 2009 में वह श्रीकाकुलम से लोकसभा चुनाव हार गए. अपने 30 साल के राजनीतिक करियर में उन्हें एक और बार उस समय हार का सामना करना पड़ा जब उन्होंने 1991 में पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ा. विधायक और सासद के अलावा 90 के दशक में केंद्रीय मंत्री भी रहे। उनके परिवार में उ


सड़क हादसे में पूर्व केंद्रीय मंत्री येरन नायडू का दुखद निधन:

नकी पत्नी, एक पुत्र और एक पुत्री हैं।बीते माह एक और सेलेब्रेटी जस पाल भट्टी का भी सड़क दुर्घटना में निधन हुआ था|

यातायात पखवाड़े में छावनी और आउटर इलाके उपेक्षित

मेरठ के एसएसपी के. सत्यनारायण ने गुरुवार को यातायात पखवाड़ा के आयोजन को शुभारंभ किया। स्कूली बच्चों ने रैली निकाल कर यातायात जागरुकता रैली निकाली। पहले दिन अभियान के दौरान 38 वाहनों के चालान किए गए और मौके पर ही शमन शुल्क वसूला गया।देर शाम ट्रैफिक पुलिस ने कारों से हूटर, काली फिल्म व प्रेशर हार्न उतारने का अभियान चलाया लेकिन आउटर इलाकों के अलावा देर शाम छावनी के छेत्र इस आयोजन से अलग थलग या उपेक्षित दिखाई दिए|जाम लगे और रोड एक्सिडेन्ट्स भी हुए|
एक नवंबर से शुरू होने वाले यातायात पखवाड़ा का पुलिस लाइन से शुभारंभ किया गया। [पोलिस कप्तान एसएसपी] ने यातायात जागरुकता रैली को हरी झंडी दिखाकर पुलिस लाइन से रवाना किया। रैली में एनसीसी व स्कूली बच्चे शामिल रहे, जिनके हाथों में यातायात नियमों के स्लोगन लिखे पोस्टर थे। रैली का समापन बेगमपुल चौराहे पर हुआ। इससे पूर्व बहुउद्देशीय हाल में एक गोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें मेरठ कालेज के प्राचार्य एनपी सिंह, मेरठ बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक शर्मा व राजीव त्यागी, डा, तनुराज सिरोही के अलावा एसपी ट्रैफिक वजीह अहमद, एसपी सिटी ओपी सिंह, एसपी क्राइम सुधीर कुमार, सीओ कोतवाली राहुल मिठास, सीओ ट्रैफिक हफीजुर्ररहमान, पीआरओ सुधीर कुमार के अलावा अन्य अधिकारी मौजूद थे। । मौके पर चालान कर शमन शुल्क वसूलने के बाद वाहनों को छोड़ दिया गया।
इस आयोजन में संभवत कैंट के इलाकों को शामिल नहीं किया गया इसीलिए त्योहारों के इस सीजन में निरंतर संकरे होते जा रहे सदर बाज़ार जैसे भीड़ भाड़ वाले बाज़ार में जहाँ पैदल चलना मुश्किल था वहां दुपहियों के अलावा तीन [रिक्शा]और चार पहिया[कार] वाहन भी घुसे हुए थे |इनके कारण पूरे बाज़ार में जाम की स्थिति रही|करवा चौथ के लिए शोपिंग करने आये अधिकांश लोग व्यवस्था को कोसते दिखाई दिए|
कमिश्नर चौराहे पर तो ट्रेफिक कांस्टेबिल इतने तनाव में थे कि नीली बत्तियों वाली गाड़ियों को निकालने के लिए सभ्रांत लोगों से गाली गलौच तक करते देखे गए|
मेरठ हापुड़ मार्ग पर फफूंदा गावं के समीप मेरठ से हापुड़ जा रही रोडवेज की अनुबंधित बस[सोहराब गेट डिपो] ने बाईक सवार परिवार को रौंद दिया|बाईक सवार अलाउद्दीन और जुबैर[३ साल]फैज़ल[५]कीमृत्यु हो गई|बुरी तरह से घायल सायरा की हालत नाज़ुक बताई जा रही है| ड्राईवर को गिरफ्तार कर लिया गया है|

कामेडियन जसपाल भट्टी की अकाल पुरुख ने पावर कर दी कट : सड़क दुर्घटना में निधन

मशहूर कामेडियन जसपाल भट्टी की अकाल पुरुख ने पावर कट कर दी है|एक सड़क दुर्घटना में इनका निधन हो गया है|: हास्य व्यंग के माध्यम से समाज में फ़ैली विसंगतियों को हाई लाईट करने में निपुर्ण मशहूर कॉमेडियन जसपाल भट्टी की एक सड़क हादसे में मौत हो गई है.| हादसा जालंधर के पास शाहकोट में हुआ जहां उनकी कार दुर्घटनाग्रस्त हो गई. भट्टी 57 वर्ष के थे. हादसा गुरुवार तड़के करीब तीन बजे हुआ। भट्टी अपनी पंजाबी फिल्म ‘पावर कट’ के प्रमोशन से लौट रहे थे, तभी उनकी कार दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इस पोकर+व्हिसल ब्लोअर की अकाल मृत्यु से देश और समाज को भारी हानि हुई है|जमोस न्यूज परिवार उन्हें श्रधान्जली अर्पित करता है| इस हादसे में जसपाल भट्टी के बेटे जसराज, फिल्म की हिरोइन और पीआरओ नवीन जोशी घायल हो गए। भट्टी का पार्थिव शरीर पास के ही एक अस्पताल में रखा गया है, जबकि उनके बेटे और ऐक्ट्रेस का इलाज चल रहा है।

परिचय

अमृतसर में 3 मार्च 1955 को हुआ था। आठवें दशक में दूरदर्शन पर आने वाले टीवी धारावाहिक ‘उल्टा पुल्टा’ से इनकी पहचान बनी थी। इसके अलावा ‘फ्लॉप शो’ में शानदार अभिनय के बाद बॉलीवुड में उनकी अच्छी खासी पहचान बनी थी। उन्होंने कुल 24 फिल्मों में अभिनय के जादू बिखेरा | इसमें एक फिल्म ‘पावर कट’ 26 अक्टूबर को ही रिलीज होनी है। वे इसी फिल्म के प्रमोशन के लिए जालंधर जा रहे थे।’कुछ ना कहो’,+ ‘तुझे मेरी कसम’+, ‘जानी दुश्मन’,+ ‘कोई मेरे दिल से पूछे’,+ ‘शक्ति : द पावर’,+ ‘ये है जलवा’, +’ इकबाल+हमारा दिल आपके पास है’,+ ‘कारतूस’,+ ‘आ अब लौट चलें’+, ‘जानम समझा करो’+ ‘फ़ना’,+ ‘कुछ मीठा हो जाए+खौफ +काला साम्राज्य ‘में भी उनके अभिनय की काफी तारीफ हुई थी\नोंसेंस क्लब और उसके तत्वधान में नुक्कड़ नाटकों से बेहद प्रसिद्धि मिली|मर्यादित व्यंगों के वोह लोग भी कायल थे जिन पर व्यंग किया गया|

मशहूर कामेडियन जसपाल भट्टी की पावर कट : सड़क दुर्घटना में निधन


नई फिल्म पावर कट

बिजली संकट जैसे अहम मुद्दे को लेकर बनाई फिल्म ‘पावर कट’ 26 अक्टूबर को देश-विदेश में रिलीज होनीथी अमग्र अब इस दुर्घटना के कारण इसमें कुछ विलम्भ हो सकता है|
, इस रोमांटिक कॉमेडी फिल्म में हीरो का नाम करंट है, जबकि हीरोइन का नाम बिजली रखा गया है। फिल्म में बिजली विभाग की उपभोक्ताओं के प्रति रवैया दिखाया गया है, जैसे कि गांव का सरपंच बिजली के कनेक्शन के लिए मारामारा फिरता दिखाया गया है। फिल्म से पावरकॉम को उल्टे झटके लगेंगे, ताकि वह लोगों के मर्म को समझें। श्री भट्टी के पिता चीफ इंजीनियर रहे, वहीं खुद भी उन्होंने बिजली बोर्ड में काम किया, इसलिए वह विभाग की कार्यप्रणाली से पूरी तरह वाकिफ थे । श्री भट्टी ने एक बार कहा कि चार-पांच सालों से हर साल बिजली सरप्लस होने का भरोसा ही मिला है। ऐसे बदतर हालात पंजाब ही नहीं, हरियाणा, यूपी व बिहार में भी हैं। इससे ज्यादा बिजली विभाग की किरकिरी और क्या होगी कि विगत दिवस पूरे भारत में दुनिया का पहला पावर कट लगा। इससे ही फिल्म के तेवर समझे जा सकते हैं|
फिल्म की कहानी लिखने के अलावा इसका निर्देशन भी जसपाल भट्टी ने किया है। संगीत निर्देशक गुरमीत सिंह ने तैयार किया है, जबकि मीका, सुनिधि चौहान, मास्टर सलीम व हुसैनपुरी ने गीतों को आवाज दी है। फिल्म के सिनमैटोग्राफर राजू हैं, जोकि दिल वाले दुलहनिया ले जाएंगे, डर, लम्हे, मां तुझे सलाम जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं।
हास्य कलाकार जसविंदर भट्टी फिल्म में भंडों के रूप में दिखाई देंगे, जबकि उनका बेटा जसराज भट्टी फिल्म के मुख्य कलाकार हैं, उनके साथ सुरीली गौतम बिजली के रूप में दिखेंगी। .

1300 करोड़ की घोषणाएं परवान चढ़ीं तो बदहाल मेरठ और सहारनपुर मंडल में विकास को रफ्तार मिलेगी

उत्तर प्रदेश के   केबिनेट मंत्री और युवा मुख्यमंत्री के कद्दावर अंकल शिवपाल यादव ने शुक्रवार को मेरठ दौरा किया| यहाँ उन्होंने मेरठ और सहारनपुर में कई प्रोजेक्टों के लिए खजाने का मुंह खोल दिया। लोक निर्माण मंत्री का सबसे ज्यादा जोर सड़कों पर रहा। अगर 1300 करोड़ की ये घोषणाएं परवान चढ़ीं तो बदहाल सड़कों से जूझ रहे मेरठ और सहारनपुर मंडल में विकास के पहिए को थोड़ी रफ्तार मिलेगी।

सडकों के लिए ९५० करोड़

केबिनेट मंत्री ने ने होली से पहले मेरठ- सहारनपुर मंडल की सड़के दुरुस्त करने के निर्देश दिए। मुजफ्फरनगर, सहारनपुर व बागपत की खस्ताहाल सड़कों पर नाराजगी भी जाहिर की। 15 दिन के अंदर सड़कों पर गढ्डे न नजर आने की हिदायत देते हुए कहा कि इसके बाद लोनिवि या सिंचाई विभाग की किसी सड़क में गड्ढे रहते हैं तो डीएम संबंधित अधिकारी के निलंबन की संस्तुति करें। हर सड़क के सत्यापन के लिए भी निर्देश दिए गए।
लोक निर्माण मंत्री ने भोजपुर, पिलखुवा व धौलाना, पिलखुवा-धौलाना, डासना,धौलाना व गुलावटी, मोदीनगर-हापुड़, बुलंदशहर-अनूपशहर, सिंकदराबाद-खुर्जा, हामिदपुर सिंकदराबाद व कुचेसर, हामिदपुर-सिकंदराबाद, मोहिउ्ददीनपुर-खरखौदा मार्ग के सुदृढ़ीकरण व चौड़ीकरण और । सहारनपुर-मेरठ मंडल की सड़कों की मरम्मत के लिए कुल ९५० करोड़ का बजट तय किया गया।
1300 करोड़ की घोषणाएं परवान चढ़ीं तो बदहाल मेरठ और सहारनपुर मंडल में विकास को रफ्तार मिलेगी|

मुरादनगर से पुरकाजी तक कांवड़ नहर पटरी

लोक निर्माण, सिंचाई और सहकारिता विभाग की समीक्षा बैठक में मंत्री शिवपाल यादव ने कई योजनाओं पर मुहर लगाई। मेरठ व सहारनपुर मंडल में 1300 करोड़ के प्रोजेक्टों में मुरादनगर से मेरठ होते हुए पुरकाजी तक कांवड़ नहर पटरी के चौड़ीकरण की योजना भी शामिल है। इसके लिए 350 करोड़ का बजट तय किया गया है। अगली कांवड़ यात्रा से पहले इसे पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं। हरेक ग्राम पंचायत में इस पटरी पर दो किमी बाद एक हैंडपंप लगाया जाएगा। हर पांच किमी पर सोलर लाइट लगेंगी।

भोला झाल को धार्मिक पर्यटन स्थल के दर्जे के लिए १००० करोड़

शिवपाल सिंह यादव ने बताया कि मेरठ की भोला झाल को हरिद्वार की तर्ज पर धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा।[१]किठौर व सहारनपुर में खारा स्थित सिंचाई विभाग के निरीक्षण भवन का सुंदरीकरण होगा।[२] 21 अक्टूबर से तीन सप्ताह तक नहरों की बंदी के दौरान नहरों व माइनर की सफाई होगी। [३]जानी अस्थाई पुल के लिए भी[२.९७ करोड़] फाउंडेशन बनाने का कार्य होगा।[४] दिल्ली-यमुनोत्री व मेरठ-करनाल मार्ग पर शीघ्र काम शुरू होगा। [५]जमीन अधिग्रहण संबंधी समस्या का समाधान जिलाधिकारी अपने स्तर पर करेंगे।

अपराध

कमिश्नर कार्यालय सभागार में पत्रकारों से वार्ता करते हुए मंत्री शिवपाल यादव ने कहा कि उप्र में कानून व्यवस्था सुदृढ़ की जाएगी। पुलिस को मानवाधिकारों का पालन करना होगा। कहीं पर भी एनकांउटर नही होगा। यदि जानमाल की सुरक्षा को पुलिस को एनकांउटर करना पड़ता हैं तो अफसरों को ऐसे मामलों में घटना के बाद स्वयं जांच करनी होगी।
प्रदेश में अपराधों की स्थिति पर संतोष व्यक्त किया जबकि सर्किट हाउस में उनकी अपनी ही पार्टी के कार्यकर्ताओं ने खूब उधम उतारा\यहाँ तक एस एस पी भी बेचारे गिर गए + तख्ती टूट गई +मेटल डिटेक्टर गेट बेकार साबित हुआ

बिजली

मंत्री ने बिजली की समस्या पर कोई आश्वासन नहीं दिया|उलटे रालोद वालों ने देहात में बिजली की मांग को लेकर प्रशासन को पूरे दिन नचाये रखा