Ad

Category: Murder

बैंक केशियर को गोली मार कर घायल किया

मेरठ में बैंक केशियर को गोली मारी

police iS investigating THE CRIME as usual

मेरठ में क्राईम कम होने का नाम नहीं ले रहा आज भी सुबह गढ़ रोड स्थित तख्क्षीला कालोनी में बैक सवार दो बदमाशों ने एक बैंक के केशियर को गोली मार कर फरार हो गए|अजन्ता कालोनी निवासी ४५ वर्षीय प्रदीप चौधरी अपने बच्च्चो को स्कूल छोड़ कर लगभग साड़े आठ से पौने नौ स्कूटर से लौट रहे थे स्कूल के समीप बाईक सवारों ने प्रदीप के गले पर फायर झोंक दिए| गोली गले को छूती हुई निकल गई|घायल को आनंद हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है|
छेत्र में अपराधों की बाड सी आई हुई है|पिछले २४ घंटों में ही केवल १२ मर्डर हो चुके हैं|

नुपुर तलवार को सुप्रीम कोर्ट ने दी सशर्त जमानत

अपनी पुत्री आरुषि और नौकर हेमराज की हत्या का आरोप का सामना कर रही डेंटिस्ट नुपुर तलवार को आज सुप्रीम कोर्ट ने एक सप्ताह बाद की जमानत दे दी है|दो गवाहों के ब्यान होने के बाद जमानत पर अम्ल लाया जाएगा
गौरतलब है की २००८ में आरुषि और हेमराज की हत्या हो गई थी इसके आरोप में आरुषि के पिता राजेश तलवार को पहले ही जमानत पर रिहा कर दिया गया है अब नुपुर ३० अप्रैल से डासना जेल में बंद है सी बी आई द्वारा लगातार इनकी जमानत का विरोध किया जा रहा हैआज भी जब सी बी आई के वकील ने कहा की दो गवाहों की गवाही कराई जानी शेष है तब कोर्ट ने एक सप्ताह बाद जमानत पर रिहा करने के आदेश दे दिए|

मिल्क प्लांट मालिक का खून बहाया

रूडकी रोड पर आज मिल्क प्लांट के मालिक का अज्ञात कातिलों ने खून बहा दिया गया |इस हत्या के पीछे करोड़ों रुपयों के मिल्क प्लांट की संपत्ति को कारण बताया जा रहा है|
दिल्ली निवासी रूडकी रोड पर मिल्क प्लांट चलाते थे |संपत्ति को लेकर पिछले कुछ समय से कंकर खेडा की पार्टी से विवाद चल रहा था|
आज सुबह करीब सादे छ बजे श्रीकालरा प्लांट से बाहर निकले तब कुछ अज्ञात हमलावरों ने उन पर गोलियां बरसा कर उन्हें मौत के घाट उतार दियाऔर फरार हो गए|कंकर खेडा पोलिस ने मौके पर पहुँच कर शव को पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया|
गौर तलब है कि इस संपत्ति के असली मालिक श्री कालरा के ससुर बताये जा रहे हैं मगर कंकर खेडा के एक व्यक्ति ने फर्जी कागजात बनवा कर इस संपत्ति पर कब्जे का प्रयास किया |मुकद्दमा अदालत में चल रहा है|उस व्यक्ति के कुछ आदमी फेक्ट्री के बाहर कब्जा भी जमाये हुए हैं |घटना के बाद से वोह सभी फरार हैं|

दहेज़ हत्यारे को ताउम्र सजा हो=तीरथ

दहेज हत्या के दोषियों के लिए कम से कम उम्रकैद की सजा का प्रावधान होना चाहिए |
महिला एवं बाल विकास मंत्री कृष्णा तीरथ आज कल दहेज उत्पीड़न के कारण महिलाओं की मौत के मामलों में कमी नहीं आने से नाराज हैं और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय कानून में संशोधन के लिए जल्द कानून मंत्रालय को एक प्रस्ताव भेजने की तैयारी में है।
गौरतलब है कि बीते साल देश में दहेज हत्या के आठ हज़ार से अधिक मामले सामने आए थे।
इस प्रस्ताव में आरोप साबित होने पर दोषियों के लिए आईपीसी की धारा 304(बी) के तहत सिर्फ उम्रकैद का प्रावधान हो जबकि फिलहाल इस जुर्म के लिए न्यूनतम 7 साल और अधिकतम उम्रकैद का प्रावधान है।
तीरथ ने कहा कि दहेज के लिए होने वाली हत्याओं को हतोत्साहित करने के लिए कड़े कदम उठाने जरूरी हैं। इसके लिए उम्रकैद की सजा सबसे उचित विकल्प है।

गुजरात के नरोदा पाटिया दंगों में ३२ दोषी २९ बरी

अहमदाबाद की एक विशेष अदालत ने बहुचर्चित नरोदा पाटिया हत्याकांड मामले में 32 लोगों को दोषी करार देने के साथ 29 लोगों को बरी कर दिया गया है.
दोषी पाए गए लोगों में भाजपा विधायक और मोदी मंत्रीमंडल की सदस्य रही माया कोडनानी भी शामिल हैं. इसके अलावा नेता बाबू बजरंगी नाम भी दोषियों में पाया गया है.
गौरतलब है कि गुजरात के मुख्य मंत्री नरेन्द्र मोदी के राजनितिक जीवन पर कलंक बने साम्प्रदाईक दंगों के दौरान 28 फरवरी 2002 को नरोदा पाटिया इलाके में 97 मुसलमान मारे गए थे. आरोप है कि नरेंद्र मोदी सरकार में शामिल एक मंत्री ने उस भीड़ को गाईड किया था जिसने इस वीभत्स हत्याकांड को अंजाम दिया.
61 अभियुक्तों में भाजपा के नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री और नरोदा पाटिया से विधायक माया कोडनानी+ नेता बाबू बजरंगी+ स्थानीय भाजपा नेता शामिल थे.
इस हत्याकांड का मुकदमा सात साल बाद शुरू हुआ और इसमें 62 लोगों के ख़िलाफ़ अभियोग चलाया गया. इनमें से विजय शेट्टी नाम के एक व्यक्ति की मुकदमें को दौरान ही मौत हो जाने के कारण ६१ लोगों के विरुद्ध मुकद्दमा चलाया गया|
नंवबर २०११ में कांग्रेस कार्यकर्ता और नरोदा पटिया में हुए दंगे के चश्मदीद नदीम अहमद सैयद की हत्या कर दी गई थी. वह सूचना अधिकार के कार्यकर्ता भी थे और उन्होने गोधरा दंगों पर सूचना अधिकार के तहत कई सवाल पूछे थे.

२६/११ के कसाब को फांसी की सज़ा बरकरार

२६/११/२००८ में हुए राष्ट्र पर हमले के दोषी आमिर अजमल कसाब को फांसी की सज़ा बरकरार रखी गई है| सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस आफताब आलम और जस्टिस प्रसाद द्वारा सुनाये गए साडे दस बजे सुबह ५ मिनट के फैसले में कसाब की तमाम दलीलों को खारिज कर दिया गया| पैरवी के लिए वकील का न मिलना और कम उर्म का वास्ता भी कसाब के काम नहीं आया |
सर्वोच्च न्यायालय ने मुम्बई पर वर्ष 2008 में हुए आतंकवादी हमले में १० में से एकमात्र जीवित आतंकवादी कसाब की फांसी की सजा आज बुधवार को बरकार रखी है।
गौरतलब है कि मुम्बई की एक विशेष अदालत ने वर्ष 2010 में कसाब के खिलाफ फांसी की सजा सुनाई थी। कसाब ने इस फैसले को बम्बई उच्च न्यायालयम में चुनौती दी थी, जिसे न्यायालय ने फरवरी 2011 में अमान्य कर दिया था।
मुम्बई पर हुए हमले में 166 लोगों की मौत हुई थी। पाकिस्तानी आतंकवादियों ने समुद्र के रास्ते मुम्बई पर हमला किया था, जिसमें कसाब भी शामिल था। बाकी के आतंकवादी मारे गए थे लेकिन कसाब को जिंदा पकड़ लिया गया था।
कसाब के पास अभी भी दो विकल्प बचे हैं \[१]पुनर्विचार याचिका दायर कि जा सकती है इसमें दो महीने तक का समय लिया जा सकता है|[२]राष्ट्रपति से रहम [मर्सी] की अपील |
यदि कसाब क़ानून की इन दोनों कमजोरियों का फायदा उठाता है तो फांसी की तारीख फिर टल सकती है|
अभी दो सह अभियुक्तों भारतीयों पर फैसला आना बाकी है|

प्रेम प्रसंग में युवक की ह्त्या


लाल कुर्ती के घोसी मोहल्ले में आज सुबह एक युवक की गला घोंट कर ह्त्या कर दी गई |सुनील उर्फ़ पिंटू का शव भैया जी कि कोठी से बरामद हुआ है|
बताया जा रहा है कि प्रेम प्रसंग के चलते यह ह्त्या कि गई है|कुछ दिन पुर्व सुनील का दूसरे सम्प्रदाय के लोगों से इस बाबत झगड़ा भी हुआ था |मृतक के भाई ने अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज़ कराई है|
सूचना पा कर मौके पर पहुंची पोलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्ट मार्टम के लिए भिजवा दिया |मगर

पोलिस की खटारा जीप को धक्के लगवा कर चलवाया गया जो कि चर्चा का विषय रहा

कांडा को १४ दिन की न्यायिक हिरासत

हरियाणा के पूर्व गृह राज्य मंत्री गोपाल गोयल कांडा को १४ दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया गीतिका शर्मा खुदकुशी मामले में मुख्य आरोपी काडा को आज मंगलवार को अदालत में पेश किया गया। कोर्ट ने काडा को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार दिल्ली पुलिस ने आज कोर्ट में काडा की रिमाड अवधि बढ़ाने का आग्रह किया। कोर्ट ने इस अपील को ठुकराते हुए काडा को न्यायिक हिरासत में भेजने का फैसला किया।कांडा १८ अगस्त से हिरासत में हैं|
इसीबीच एयर होस्टेस गीतिका शर्मा सुसाइड मामले में अहम कड़ी बनी अंकिता ने सोमवार को सिंगापुर से भारत लौटने का आश्वासन दिया था मगर वह पुलिस के सामने हाजिर नहीं हुई।