Ad

Category: Murder

मधु गैस एजेंसी के मालिक को गोली मारने वाले दो अभियुक्त गिरफ्तार

गैस एजेंसी के मालिक को गोली मारने के आरोप में दो आभियुक्तों को गिरफ्तार करके मीडिया के समक्ष प्रस्तुत किया गया|
पोलिस की प्रेस कांफ्रेंस में बताया गया कि सोहन वीर सिंह पुत्र श्री चेत राम निवासी पोहल्ली थाना सरधना को खिर्वा चौराहा से और कुलदीप पंडित पुत्र बाल किशन निवासी नटेश पुरम थाना कंकर खेडा को राना अस्पताल से गिरफ्तार किया गया है| इन दोनों ने अपने जुर्म को कबूल कर लिया है जबकि कालू प्रधान पुत्र जगपाल सिंह निवासी श्रधापुरी अभी भी फरार है| इन अभियुक्तों से एक देशी रिवाल्वर और .३२ के चार कारतूस की बरामदगी दर्शाई गई है|
गौरतलब है कि कंकर खेडा स्थित मधु गैस एजेंसी के मालिक अमित मोहन भारद्वाज को गोली मारी गई थी इस अपराध के दोषियों की गिरफ्तारी को लेकर मेरठ में गैस की एजेंसियां ३ दिनों तक बंद रखी गई थी
जिसके पश्चात डी आई जी/एस एस पी के. सत्यानारायण ने थाना कंकरखेडा और एस ओ जी की संयुक्त टीम का गठन किया था|जिसके फलस्वरूप परवेज खान और संजीव यादव द्वारा इन दोनों अभियुक्तों को गिरफ्तार किया|

इंजीनियर पिता पर अपनी 23 वर्षीय बेटी की ह्त्या करने का आरोप लगा

मेरठ में शुक्रवार को एक इंजीनियर पिता पर अपनी 23 वर्षीय बेटी की जान लेने का आरोप लगा है|आरोप है कि गुजरात में ओएनजीसी में इंजीनियर पद पर तैनात भीम सिंह ने पत्‍‌नी की अनुपस्थिति में गला दबा कर अपनी युवा बेटी को मार डाला। घटना के समय उसकी विवाहिता बेटी घर में ही थी।
बताया जा रहा है कि घटना के बाद आरोपी बेटी को अस्पताल भी ले गया पर तब तक काफी देर हो चुकी थी और वहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने मौके पर ही पिता को गिरफ्तार कर लिया।पुलिस के अनुसार ओएनजीसी अहमदाबाद में तैनात अधीक्षण अभियंता भीम सिंह शास्त्रीनगर में पत्नी [अध्यापिका] , बेटी नेहा और प्रीति (23) के साथ रहता है। मृतका की माँ सुभाष बाजार स्थित एक इंटर कॉलेज में शिक्षिका है। प्रीति [मृतका] प्रतियोगी परीक्षा की कोचिंग ले रही थी। शुक्रवार सुबह साढ़े नौ बजे माँ स्कूल चली गई। मकान की दूसरी मंजिल पर प्रीति और भीम सिंह ही थे। करीब 11 बजे नेहा[बड़ी बहन] ऊपर गई तो प्रीति का शव बाथरूम में पानी के टब में पड़ा मिला। नेहा ने बुढ़ाना गेट निवासी अपने दोस्त साकिब को तुरंत फोन कर घर बुलाया। इसके बाद साकिब और भीम प्रीति को लेकर लोकप्रिय अस्पताल पहुंचे, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।
एसपी सिटी, सीओ सिविल लाइन और थानाध्यक्ष नौचंदी मौके पर पहुंच गए। पोलिस की पूछताछ में सामने आया है कि भीम के अपनी पत्नी के बीच संबंध ठीक नहीं चल रहे थे। जिसका मुख्य कारण साकिब का घर पर आना था। भीम, साकिब के घर आने पर आपत्ति जताता था। जिसको लेकर घर में झगड़ा रहता था। देर शाम पत्नी ने ही भीम सिंह के खिलाफ नामजद तहरीर देते हुए आरोप लगाया कि उसका पति बेटी प्रीति को मारता-पीटता था। दो दिन पूर्व भी पिटाई करने के बाद प्रीति को जान से मारने की धमकी दी थी। पुलिस ने भीम के खिलाफ हत्या का केस दर्ज करते हुए हिरासत में ले लिया है। साथ ही शक के दायरे में चल रहे साकिब को भी हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

पाकिस्तान की सेना के अमानवीय कृत्य के विरुद्ध मेरठ में आक्रोश का ज्वार

पाकिस्तान की सेना के अमानवीय कृत्य के विरुद्ध मेरठ में आक्रोश का ज्वार

जम्मू काश्मीर के मंधेर सीमा पर पाकिस्तान सेना की बलूच टुकड़ी द्वारा दो भारतीय लांस नायक को अमानवीय यातनाएं देकर उनकी नृशंस हत्या कर दी थी उससे पूरे देश में उबाल है|मेरठ में भी अज अनेको संस्थाओं ,संगठनों द्वारा पाकिस्तान के विरुद्ध आपने आक्रोश को व्यक्त किया और शहीदों को श्रधान्जली दी |
आई एम् ऐ की मेरठ शाखा के सदस्यों ने चौधरी चरण सिंह पार्क में २ मिनट्स का मौन रख कर पाकिस्तान द्वारा मारे गए सैनिकों को श्रधान्जली दी | डाक्टर तनुराज सिरोही, एस एस शर्मा जे वी चिकारा,बी पी सिंघल,वी पी कटारिया,शांति स्वरुप,आर पी सिंह,विरोत्तम तोमर ऐ पंवार आदि शहर के सुप्रसिद्ध चिकित्सक उपस्थित थे|
भाजपा की मेरठ इकाई ने भी पाकिस्तान को मुह तोड़ जवाब देने की मांग के साथ प्रदर्शन किया और पाकिस्तान का पुतला फूँका|एच पाल,अशोक त्यागी,अजित सिंह,समीर चौहान,सचिन भाट्टी,पवन जैन,अमित,संजीव,योगेश,विकास,अंकित,संदीप,राजेन्द्र शिव कुमा,जीतेन्द्र,मोनू,कपिल अदि ने भाग लिया|
अखिल भारतीय पूर्व सैनिक सेवा परिषद् के देवेन्द्र तोमर ने भी पाकिस्तान के अमानवीय कृत्य की भर्त्सना की है एन ऐ एस के छात्रों ने भी ईवज चोराहे पर पाकिस्तान का पुतला फूंक कर अपने आक्रोश को व्यक्त किया|गौरतलब है की पाकिस्तान की सेना ने मंधेर में दो भारतीय सैनिकों को यातनाएं देकर उनके शरीर को म्युतीलेट [क्षक्त विक्षत ] कर दिया था यह अन्तराष्ट्रीय युद्ध नियमों के विरुद्ध है और अमानवीय है

युवती की हत्या के आरोपी हिमाचल के विधायक राम कुमार चौधरी ने चंडीगढ़ में सरेंडर किया

हिमाचल |मेरठ|दिल्ली |२३ साल की युवती की हत्या के आरोपी हिमाचल प्रदेश के विधायक राम कुमार चौधरी ने आज चंडीगढ़ में सरेंडर कर दिया| हिमाचल प्रदेश में भाजपा की धूमल सरकार को हटा कर कांग्रेस का परचम फहराने वाले वीरभद्र के विधायक राम कुमार चौधरी सहित चार लोगों पर 23 साल की ज्योति नाम की लड़की की हत्या का आरोप है| इस मामले में काफी समय से फरार चौधरी ने पंचकूला कोर्ट में आज ८ जनवरी को सुबह लगभग साढ़े दस बजे पञ्च कुला की अदालत में सरेंडर किया। इसके बाद सीआइए स्‍टाफ उसे अपने साथ ले गया। ज्योति की हत्या 22 नवंबर को हरियाणा के पंचकुला में हुई थी।

युवती की हत्या के आरोपी हिमाचल के विधायक राम कुमार चौधरी

बताया जा रहा है की काफी समय से विधायक ज्योति के संपर्क में था मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने मामले में हरियाणा पुलिस को पूरी मदद देने का आश्वासन दिया है।
हरियाणा पुलिस ने हिमाचल प्रदेश कांग्रेस के फरार विधायक राम कुमार चौधरी के सिर पर इनाम की घोषणा की थी। चौधरी की अग्रिम जमानत याचिका यहां की एक अदालत में 27 दिसंबर को खारिज हो गई थी। पुलिस ने हिमाचल के संधौली में राम कुमार के घर छापा भी मारा लेकिन आरोपी विधायक वहां से बच निकला।चौधरी की गिरफ्तारी कराने वाले या उसकी सूचना देने वाले व्यक्ति को दो लाख रुपए का पुरस्कार देने की घोषणा की जा चुकी है ।राम कुमार चौधरी पूर्व कांग्रेस एमएलए लज्जा राम का पुत्र है। कांग्रेस विधायक राम कुमार को आज धर्मशाला में हिमाचल विधानसभा में विधायक पद की शपथ लेनी थी। लेकिन पुलिस के पहरे के कारण उन्‍होंने सरेंडर कर दिया।

दिल्ली में चलती बस में किये गए सामूहिक बलात्कार के विरुद्ध संसद से सड़क तक आक्रोश की सुनामी: Time For Police&judicial reforms

दिल्ली में एक चार्टर्ड बस में फिजियोथेरेपिस्ट से किये गए सामूहिक बलात्कार के विरुद्ध सड़क से लेकर संसद में आक्रोश की सुनामी दौड़ी|अपराधियों को कड़ी सज़ा की मांग के साथ ही इस प्रकार के अपराधों की पुनरावर्ती की रोक थाम के लिए यथाशीघ्र पोलिस और न्यायिक सुधारों की जरूरत पर बल दिया गया | लोक सभा स्पीकर मीरा कुमार स्वयम पीड़ित महिला को देखने अस्पताल गई|
लोकसभा में बीजेपी की सुषमा स्वराज ने तो ऐसे बलात्कारियों के लिए फांसी की सजा की मांग तक कर दी। राज्यसभा में चर्चा के दौरान एसपी सांसद जया बच्चन की आंखें नम हो गईं। खुद लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार भावुक हो उठीं। वहीं, दिल्ली की सड़कों पर कई जगह छात्रों का प्रदर्शन देखने को मिला। देश का सियासी माहौल भी गरम हो गया है। लोकसभा में शून्यकाल के दौरान विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि देश की राजधानी में हुई इस घटना की किन शब्दों में निंदा की जाए इसके लिए कोई शब्द बचता नहीं है। सुषमा स्वराज ने कहा कि इस घटना से पूरा देश शर्मसार है। ऐसा लग रहा है कि दिल्ली में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि ऐसे लोगों को फांसी की सजा मिलनी चाहिए। कांग्रेस की गिरिजा व्यास ने देश में बलात्कार की घटनाओं पर चिंता जताते हुए इस विषय को गंभीरता से लिए जाने की जरूरत बताई। उन्होंने कानून को सख्त बनाने और फास्ट ट्रैक अदालतों की स्थापना करने के साथ साथ पुलिस ट्रेनिंग और जागरूकता बढाने पर जोर दिया। लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार भी इस मुद्दे पर भावुक हो गईं। उन्होंने कहा कि जो घटना हुई है वह रोंगटे खड़ी कर देने वाली है। समाज के लिए शर्म से सिर झुका लेने वाली घटना है। सदन की भावना है कि सख्त से सख्त कदम उठाए जाएं और इस मामले में कोई और विलंब न हो। संसदीय कार्य मंत्री कमलनाथ ने सदन की भावना से अपने को जोड़ते हुए कहा कि सख्त कदम उठाए जाएंगे, इसमें कोई कमी नहीं रहेगी।

राज्यसभा का स्थगन

गैंग रेप के मुद्दे पर राज्यसभा में भी हंगामा हुआ, जिसके कारण सदन की कार्यवाही बाधित हुई। विपक्षी दल के सदस्य केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे से इस मामले में बयान देने की मांग कर रहे थे। राज्यसभा की कार्यवाही शुरू होते ही मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने यह मामला उठाया। बीजेपी सदस्य माया सिंह, एम. वेंकैया नायडू तथा अन्य घटना की निंदा करते हुए अपनी सीट से खड़े हो गए। माया सिंह ने कहा कि दिल्ली महिलाओं के लिए पूरी तरह असुरक्षित है। हंगामे को देखते हुए सभापति हामिद अंसारी ने हंगामे को देखते हुए सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।सदन की कार्यवाही जब दोबारा शुरू हुई तो एसपी की जया बच्चन भावुक हो उठीं। उनकी आंखें नम हो गईं। इस मुद्दे पर पूरा सदन एक साथ दिखा। सभी ने कड़ी कार्रवाई की मांग की।पिछले 15 दिनों में दिल्ली में गैंग रेप की यह 5वीं घटना है।
,

जेएनयू और डी यू के छात्रों का प्रदर्शन

हर 18 घंटे में दिल्ली को दहला देने वाले रेप केसों के खिलाफ स्टूडेंट्स रोड पर उतर आए हैं। देश की 2 सेंट्रल यूनिवर्सिटीज डीयू और जेएनयू के छात्र बीते दिनों चलती बस में मेडिकल स्टूडेंट के साथ हुए इस घिनौने अपराध को करने वालों के खिलाफ मंगलवार को दिल्ली में प्रदर्शन किया। वे कानून बनाने और लागू कराने वाली दिल्ली सरकार और हमारी सिक्योरिटी करने वाली दिल्ली पुलिस से आरोपियों को जल्द गिरफ्तार कर उन्हें सजा देने की मांग कर रहे हैं। दिल्ली यूनिवर्सिटी में आर्ट्स फैकल्टी में यूनिवर्सिटी के सभी स्टूडेंट एबीवीपी के साथ मिलकर दिल्ली में हुए गैंग रेप के खिलाफ प्रदर्शन किया। अब छात्राएं अपनी सिक्योरिटी की मांग को पीछे छोड़ लोगों से अपना दिमाग साफ करने की अपील कर रही हैं। स्टूडेंट्स की मांग है कि आरोपियों को कड़ी सजा दी जाए। जेएनयू के स्टूडेंट्स ने भी दिल्ली को शर्मसार करने वाली इस घिनौनी हरकत के खिलाफ 11 बजे से वसंत विहार थाने के बाहर प्रदर्शन किया

दिल्ली पुलिस कमिश्नर नीरज गुप्ता

ने कहा कि वे अदालत से गुज़ारिश करेंगे कि इस केस की सुनवाई फास्ट ट्रक अदालत में रोज़ाना की जाए.
नीरज गुप्ता ने जानकारी दी कि इस केस के चार आरोपी पकड़े जा चुके हैं, जबकि दो फिलहाल फरार हैं. पुलिस कमिश्नर के मुताबिक बस का ड्राइवर राम सिंह, उसका भाई मुकेश सिंह, विनय शर्मा और पवन गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि अक्षय ठाकुर और एक अन्य आरोपी फरार है. अक्षय कुमार बिहार के औरंगाबाद का रहने वाला है.
घटना की विस्तृत जानकारी देते हुए नीरज गुप्ता ने कहा कि रविवार की रात 9.30 से 10 बजे के बीच बलात्कार की घटना घटी और स्कूल की चार्टर बस में बलात्कार को अंजाम दिया गया.
दिल्ली पुलिस कमिश्नर के मुताबिक 370 बसों की पड़ताल के बाद ही उस बस का पता चलाया जा सका जिसमें बलात्कार की घटना घटी. उनका कहना था कि फॉरेंसिक जांच के बाद यह सुनिश्चित कर लिया गया है जो बस पकड़ी गई है उसी बस में बलात्कार की घटना घटी.नीरज गुप्ता ने कहा कि ड्राइवर ने जुर्म कबूल कर लिया है.पुलिस कमिश्नर ने पीड़ित का हाल बताते हुए कहा कि उसकी स्थिति नाज़ुक है, लेकिन पहले से बेहतर है
.

दिल्ली की समाज कल्याण मंत्री किरण वालिया

ने कहा है कि दिल्ली की सभी बसों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे|

Indian Parliament

स्कूली बच्चों पर कहर बरपा:अमेरिका में २० बच्ची मारे गए जबकि चीन में २२ बच्चे घायल किये गए

अमेरिका और चीन में दो अलग अलग ह्रदय विदारक घटनाएँ हुई हैं जिनमे मासूम स्कूली बच्चों पर कहर ढाया गया है| अमेरिका के कनेक्टिकट में एक प्राथमिक विद्यालय में एक व्यक्ति ने गोलियां चलाकर अपनी मां और 26 अन्य लोगों की हत्या कर दी, जिनमें 20 बच्चे भी शामिल हैं। हमलावर की पहचान रेयान लांजा के तौर पर हुई है। इस हत्याकांड के बाद उसने खुद को भी गोली मारकर आत्महत्या कर ली।उधर शिन्हुआके अनुसार

स्कूली बच्चों पर कहर बरपा:

चीन के हेनान प्रांत के झिन्यांग शहर में चेंपैंग गावं के एक प्राईमरी स्कूल के गेट पर एक व्यक्ति द्वारा २२ निर्दोष छात्रों को चाकू मार कर घायल कर दिया गया | इन घटनाओं को मीडिया ने चिंता के साथ प्राथमिकता दी है|
अभी तक गोलीबारी में घायल / मृत लोगों की संख्या अभी स्पष्ट नहीं हो पाई है|अमेरिका की विश्व प्रसिद्ध समाचार प्रेषक ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ के अनुसार लांजा की मां इस स्कूल में शिक्षिका थीं और उसने अपनी मां को मारने के बाद अन्य लोगों की हत्या की। पुलिस के अनुसार हमलावर ने काली पोशाक पहनी हुई थी और उसके पास नौ एमएम की दो बंदूकें थीं। उसने सुबह कनेक्टिकट के इस विद्यालय में गोलीबारी शुरू कर दी, जिससे पूरे शहर में भय का माहौल कायम हो गया| सीएनएन न्यूज के अनुसार, इस घटना में मारे गए लोगों में स्कूल की प्रिंसिपल, मनो चिकित्सक और 20 बच्चे शामिल हैं। हमलावर को इसी स्कूल में पढ़ने वाले एक बच्चे का पिता बताया गया है|
गौरतलब है कि न्यूटाउन न्यूयार्क से 60 किलोमीटर पूर्वोत्तर में स्थित है और इस विद्यालय में लगभग ७०० विद्यार्थी पढ़ते हैं। इस घटना के बाद यहां के बाकी स्कूलों को बंद कर दिया गया है। व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जे कार्ने के अनुसार राष्ट्रपति बराक ओबामा ने संघीय जांच एजेंसी एफबीआइ के निदेशक और कनेक्टिकट के गवर्नर से बात की है और इस घटना पर शोक जताया है।
इस ह्रदय विदारक वारदात को अमेरिका के स्कूलाें में अब तक की सबसे बड़ी घटनाओं में माना जा रहा है।एनबीसी न्यूज ने बगैर किसी का हवाला दिए कहा है कि गोलीबारी करने वाले व्यक्ति के मारे जाने के बाद उसके पास से दो बंदूकें बरामद हुई हैं। वारदात स्थल से 18 किमी दूर डैनबरी अस्पताल में यहां के तीन घायल भर्ती हुए हैं और उनकी हालत बहुत खराब है। न्यूटाउन शहर की आबादी करीब 27 हजार है।

घटनाओं का इतिहास

अमेरिका में इस तरह की गोलीबारी की अनेकों घटनाएँ हुए हैं [१] ओरेगन की है जहां गत मंगलवार को एक बंदूकधारी ने पहले दो लोगों की हत्या कर दी और बाद में आत्महत्या कर ली।[२] इसी साल जुलाई में कोलोराडो की एक घटना में रात में बैटमैन फिल्म के प्रदर्शन के दौरान 12 लोगों की हत्या कर दी गई थी और 58 लोग घायल हुए थे।ल 27 फरवरी को इस स्कूल के एक छात्र ने अचानक गोली चला दी, जिसमें तीन छात्रों की मौत हो गई जबकि दो घायल हो गए।
[३]2 अक्टूबर 2006, वेस्ट निकेल माइंस स्कूल,
पेनसिलवेनिया के इस स्कूल में 32 साल के एक युवक ने पहले तो 11 लड़कियों को बंधक बना लिया। फिर गोलीबारी कर पांच की जान ले ली और छह को जख्मी कर दिया। बाद में हमलावर ने खुद को भी गोली मार ली।
[४]8 नवंबर 2005, कैंपबेल काउंटी हाई स्कूल, जैक्सबोरो, टेनेसी
यहां 15 साल के एक छात्र ने प्रिंसिपल और दो सहायक प्रिंसिपल पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दीं जिसमें एक की मौत हो गई।
[५]21 मार्च 2005, रेड लेक हाई स्कूल, मिनेसोटा
यहां 16 साल के एक लड़के ने अपने दादा, चार साथी छात्रों और एक टीचर समेत 8 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी और बाद में खुद को गोलीमार कर खुदकुशी कर ली।
[६]5 मार्च 2001, सैंटना हाई स्कूल, कैलिफॉर्निया
इस स्कूल में पढ़ने वाले 15 साल के छात्र ने गोलीबारी कर अपने दो साथियों की जान ले ली और 13 लोगों को जख्मी कर दिया।
इससे पहले नब्बे के दशक में भी अमेरिकी स्कूलों में हुई हिंसक घटनाओं ने लोगों का दिल दहला दिया था।
[७]20 अप्रैल 1999, कोलंबाइन हाई स्कूल, कोलोरैडो
इस स्कूल के दो छात्रों ने खुदकुशी करने से पहले अंधाधुंध फायरिंग कर 12 छात्रों और एक टीचर की जान ले ली
[८] 21 मई 1998, थर्स्टन हाई स्कूल, ओरेगन
15 साल के एक छात्र ने पहले अपने मां-बाप को मारने के बाद स्कूल में फायरिंग की जिसमें दो छात्रों की मौत हो गई।
[९]24 मार्च 1998, वेस्टसाइड मिडल स्कूल, जोंसबोरो, अरकनसास
इस स्कूल में पढ़ने वाले 11 और 13 साल के दो छात्रों ने अपने टीचर और साथियों को घेरकर हमला किया जिसमें पांच लोग मारे गए।
[१०]1 दिसंबर 1997, हीथ हाई स्कूल, केंटकी
यहां 14 साल के छात्र ने प्रार्थना सभा में अचानक फायरिंग कर 3 लड़कियों की जान ले ली।
[११]2 फरवरी 1996, फ्रंटियर जूनियर हाई स्कूल, वॉशिंगटन
यहां पर 14 साल के एक छात्र ने राइफल से फायरिंग कर 2 छात्रों और एक टीचर को मार दिया।
[१२]26 फरवरी 1992, थॉमस जैफर्सन हाई स्कूल, न्यूयॉर्क
15 साल के एक लड़के ने फायरिंग कर 2 छात्रों की जान ले ली।
गोलीबारी की घटनाओं में बढोत्तरी ने आम लोगों के साथ साथ राष्ट्रपति बराक हुसैन ओबामा को भी हिला दिया है। दरअसल, अमेरिका में ऐसी घटनाएं होती रहती हैं, इसके पीछे बड़ी वजह है अमेरिका में खुली बंदूक संस्कृति जिसके चलते अमेरिका के कई राज्यों में हथियार खरीदना तो आसान है ही, उनमें गोली भरकर घूमना भी वैध है। लेकिन अब कनेक्टिकट की दिल दहला देने वाली घटना के बाद लोगों का सब्र जवाब दे रहा है। अमेरिका जनता सरकार से गन कल्चर पर लगाम कसने की मांग कर रही है। अमेरिकी राष्ट्रपति स्वयम कई बार खुली बन्दूक संस्कृति के खिलाफ बयाँ दे चुके हैं लेकिन वहां हथियार लाबी के अलावा एक विशेष वर्ग हथियारों के प्रेम पाश को त्याग नहीं पा रहा है|अब इन घटनाओं में वृद्धि को देखते हुए अब गन कल्चर में बदलाव करने का समय आ गया है|

मेरठ के एक दरोगा पर स्थानीय छात्रों ने गोलियां बरसाई

मेरठ के एक दरोगा पर स्थानीय छात्रों ने गोलियां बरसाई

खाकी वर्दी आज कल सुरक्षा प्रदान करने के स्थान पर अपने वजूद की हिफाजत के लिए संघर्षशील है | पहले बावर्दी किसी कर्मी के ऊपर कोई नेता ही हाथ उठाता था या ज्यादा से ज्यादा बर्दी वाले के यहाँ भी चोरी चकारी हो जाती थी या किसी सिपाही का हथियार लुटे जाने की खबरें आती थी मगर अब ऐसा एक नवीनतम उदहारण सामने आया है जिसमे एक दरोगा पर ही कुछ छात्रों ने आग्नेय अस्त्रों से जान लेवा हमला कर दिया और दरोगा को अपनी ही जान बचाना मुश्किल हो गया|
मेरठ के थाना भावन पुर की हसन पुर चौकी इंचार्ज ऐ. राघव पर कुछ छात्रों ने गोलियां बरसा कर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया|बताया जा रहा है कि दरोगा एक हॉस्टल में रहते हैं जहाँ छात्र भी रहते हैं कुछ छात्रों में आपस में झगड़ा हुआ जिसमे बीच बचाव करने गए दरोगा राघव पर एक छात्रों के एक गुट गोलियां बरसा कर भाग गया|दरोगा को तीन गोलिया लगी है|नजदीक के नर्सिंग होम में इनका इलाज़ कराया जा रहा है|अपराधी अभी पोलिस की पकड़ से दूर बताये जा रहे हैं|इसके अलावा इसी ठाणे में तैनात एक अन्य सिपाही पर भी भी बीते साल हमला हो चुका है|इससे पोलिस कि कार्यप्रणाली+कार्यक्षमता और अपराधियों में पोलिस के खौफ और हॉस्टल में रहने वाले छात्रों के अनुशासन पालन पर प्रश्न चिन्ह लगने शुरू हो गए हैं|

पोलिस और लेनदारों के दबाब से युवक की जान गई

थाना दिल्ली गेट सराय लाल दास[मेरठ] के एक युवक ने अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली|बताया जा रहा है किपोलिस के उत्पीडन और क़र्ज़ के बोझ के कारण रियाजुद्दीन आत्म हत्या करने को मजबूर हुआ|

पोलिस और लेनदारों के दबाब से युवक ने जान दे दी


चांदी का कारोबार करने वाले रियाजुद्दीन को व्यापार में बड़ा घाटा हो गया जिसके फलस्वरूप देन दारी भी बढ गई|तकाजे रोज होने लगे |लेन दारों ने पोलिस से दबाब बनाया और उसके तीन भाईयों को थाणे बुलवा कर उनका उत्पीडन किया गया |जिससे तनाव में आ कर रियाजुदीन ने अपनी जान दे दी|रियाजुद्दीन ने आठ पेज का सुसाईड नोट छोड़ा है यह परिजनों के गले नहीं उतर रहा|इसे संदेह द्रष्टि से देखा जा रहा है| परिवार जन इसे हत्या मान रहे हैं|

जायदाद के बटवारे के लिए भाईयों में बंदूकें चली:पोंटी चड्डा और हरदीप चड्डा की मृत्यु

जायदाद के बटवारे पर जब बातचीत से कोई हल नहीं निकला तो भाईयों ने बन्दूक का सहारा लिया जिसके फल स्वरुप दोनों भाईयों की मौत हो गई| ये दोनों मशहूर शराब कारोबारी पॉन्टी चड्ढा और उसके भाई हरदीप हैं| दोनों भाईयों की मौत आपसी फायरिंग में हुई.| ये घटना पॉन्टी के छतरपुर स्थित फॉर्म हाउस में दोपहर करीब 1.30 बजे हुई. फायरिंग में पॉन्टी का एक गार्ड भी घायल हुआ.बताया जा रहा है कि सारा मामला जायदाद के बंटवारे से जुड़ा है.| इस फायरिंग में दो निजी गार्ड भी जख्‍मी हो गए हैं.
सूत्रों के अनुसार पहले पॉन्‍टी ने अपने भाई को गोली मारी, उसके बाद भाई हरदीप के गार्ड ने पॉन्‍टी को गोली मार दी. इस गोलीबारी में पहले तो पॉन्‍टी के भाई हरदीप की मौत हुई और बाद में पॉन्‍टी की भी मौत हो गई|

जायदाद के बटवारे के लिए भाईयों में बंदूकें चली:पोंटी चड्डा और हरदीप चड्डा की मृत्यु

. .
पॉन्टी चड्ढा के यूपी की राजनीति में खासी धमक रखते हैं. वो ना सिर्फ शराब के बड़े कारोबारी हैं, बल्कि रियल इस्टेट में भी उनका दबदबा है और कई मॉल्स और मल्टीप्लेक्स[वेव्स] के वे मालिक हैं| फिल्मों में भी पॉन्टी ने पैसा लगाया है|
उनके मायावती और अखिलेश यादव सरकार से बेहद निकटता रही|
इससे पहले 5 अक्टूबर को भी पॉन्टी चड्ढा के मुरादाबाद स्थित पुश्तैनी बंगले पर फायरिंग हुई थी लेकिन उस समय इस मामले को दबा दिया गया था. उस दिन पांच फायर हुए थे और पुलिस ने ये कहकर मामला रफा-दफा कर दिया था कि पॉन्टी के भतीजे ने नई रिवाल्वर खरीदी थी जिससे टेस्टिंग करते समय फायर हो गए|पोंटी चड्डा के परिवार ने इस जायदाद से अपने सम्बन्ध भी नकार दिए थे|
चत्तर पुर फार्म हॉउस करीब 13 एकड़ में फैला हुआ है। फायरिंग की सूचना मिलने पर दिल्‍ली पुलिस की मौके पर पहुंची एक टीम द्वारा जांच जारी है|
, वकील गौरांग के हवाले से बताया जा रहा है कि पॉन्टी चड्ढा, उनके भाई हरदीप और एक बड़े भाई तीनों साथ-साथ छतरपुर के फॉर्महाउस में रहते थे। करीब एक साल पहले पिता की मौत के बाद हरदीप ने अपना हिस्सा मांगना शुरू किया जिसे लेकर काफी समय से विवाद चल रहा था। सैटलमेंट की बात हो रही थी लेकिन कुछ मुद्दों को लेकर सहमति नहीं बन पा रही ही। गौरांग ने बताया कि तीनों भाई के बीच पहले काफी मेलमिलाप था लेकिन अब हरदीप और पॉन्टी के बीच बातचीत नहीं होती थी, हालांकि पूरा कुटुंब पहले साथ-साथ ही रहता था।

पोलिस कप्तान के निवास के समीप पब्लिशर को गोली मारी

मेरठ में अपराधियों के हौसले और पोलिस की बेबसी का यह आलम है कि एस एस पी निवास के समीप ही एक कारोबारी को गोली मार कर अपराधी फरार
हो गए पोलिस ने अज्ञात के विरुद्ध केस दर्ज़ कर लिया है| सिविल लाईन्स के हजारी का प्याऊ के समीप रहने वाले पब्लिशर विरेन्द्र चौधरी सुबह लगभग सात
बजे नल से पानी भर रहे थे कि अज्ञात शूटर ने नजदीक

पोलिस कप्तान के निवास के समीप पब्लिशर को गोली मारी

से विरेन्द्र के सर में गोली मारी और फरार हो गया | विरेन्द्र के पुत्र ने घायल पिता को अस्पताल पहुंचाया जहाँ हालत गंभीर बताई जा रही है| पोलिस इसे आपसी रंजिस मान रहे है|