Ad

Category: Crime

स्वाईन फ़्लू , सेना और सिविलियन दोनों के लिए ,जानलेवा साबित हो रहा है:मरने वालों की संख्या ५ पहुंची

[मेरठ]सिविल और सैनिक अस्पताल दोनों में स्वाइन फ्लू के मरीज आने लगे हैं| इस जान लेवा फ़्लू से बीते दिन एक सिविलियन महिला कीमृत्यु हो गई और एक सैनिक में इसकी पुष्ठी हुई है| इससे स्वाईन फ़्लू से मरने वालों की संख्या ५ तक पहुँच चुकी है|
प्राप्त जानकारी के अनुसार लांस लायक धीरेश सिंह बीते दिनों छुट्टी पर घर गए थे। फरवरी की शुरुआत में जब वो लौटे तो अचानक उनकी तबीयत खराब हो गई। 6 फरवरी को सैन्य अस्पताल में की गई शुरुआती जांच में सेना के डॉक्टरों ने स्वाइन फ्लू के लक्षण होने की आशंका जताई। इस पर धीरेश का सैंपल नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेबल डिसीजेस (एनआईसीडी) भेजा गया। चार दिन बाद आई रिपोर्ट में स्वाइन फ्लू होने की पुष्टि हुई। वहीं एक अन्य जवान की रिपोर्ट निगेटिव आने का समाचार मिला है| अमर उजाला ने सैन्य अस्पताल के वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से छापा है कि अस्पताल में प्रतिदिन दो से चार मरीज स्वाइन फ्लू की आशंका के चलते आ रहे हैं।
उधर गोला बढ में स्वाईन फ़्लू से मरे नीरज के परिवार के अन्य सदस्य भी पी एल शर्मा अस्पताल में लाये गए हैं| इस परिवार के अब चार सदस्य भर्ती हैं| [राजबिरी+अनुज+रूप चंद+रेखा]मेडिकल में भर्ती कराई गई आरती खुशनसीब नहीं रही और स्वाईं फ़्लू से ज़िंदगी हार गई|इससे पूर्व [१]राकेश पाण्डेय[२]मुख्तार[३] पार्वती की मौत की भी पुष्ठी की जा चुकी है| मेरठ छावनी में केवल एक सरकारी कैंट जनरल अस्पताल है मगर यहाँ स्वाइन फ्लू के इलाज़ की कोई व्यवस्था नहीं है जबकि यहाँ की व्यवस्था भी आर्मी आफिसरों के हाथों में है|
सात दिन की लापरवाही के बाद बीते दिन स्वास्‍थ्‍य विभाग ने आनन फानन में 13 रैपिड रिस्पांस (आरआर) टीमों का गठन कर दिया है और यह घोषणा की है की , स्वाइन फ्लू की पुष्टि बगैर एनआईसीडी की मुहर के स्वीकृत नहीं होगी।

टीमअन्ना से निकाले गए स्वामीअग्निवेश ने “आप”‘ के अरविन्द केजरीवाल पर अन्ना की मौत की साजिश रचने का अग्नि बाण छोड़ा

टीम अन्ना से निकाले गए के स्वामी अग्निवेश ने एक न्यूज चैनल के माध्यम से “आप”‘ के अरविन्द केजरीवाल पर अग्नि बाण छोड़ा है| स्वामी अग्निवेश का कहना है कि अरविंद केजरीवाल चाहते थे कि अनशन के दौरान अन्ना हजारे की मौत हो जाए| क्योंकि अरविन्द केजरीवाल अन्ना की मौत से जन लोक पाल आन्दोलन का फायदा देख रहे थे| स्वामी अग्निवेश ने कहा कि अरविंद ने उनसे [स्वामी]कहा था कि अन्ना का बलिदान आंदोलन के लिए अच्छा रहेगा।
यह खुलासा स्वामी अग्निवेश ने इंडिया न्यूज को दिए एक इंटर व्यू में किया । अग्निवेश ने कहा, जब मुझे पता चला कि अन्ना अनशन करने वाले हैं, तो मैंने अरविंद से सवाल किया था कि वे अन्ना जैसे बुजुर्ग को आमरण अनशन पर क्यों बिठा रहे हैं? इस पर अरविंद ने कहा कि उनका बलिदान हो जाता है तो इससे क्रांति होगी। यदि वे मर जाएंगे तो कोई बात नहीं, यह आंदोलन के लिए अच्छा रहेगा।
अग्निवेश के आरोप के अनुसार जंतर-मंतर पर अनशन के दौरान सरकार द्वारा सभी मांगे मान लिए जाने के बावजूद केजरीवाल अन्ना को पांच-सात दिन और अनशन करने के लिए उकसाते रहे। किरण बेदी को भी यह बात बुरी लगी थी।
स्वामी अग्निवेश ने कहा कि उन्होंने इसके बाद टीम अन्ना के सदस्य शांति भूषण और प्रशांत भूषण से बात की। वह भी इस बात पर राजी थे कि अब अन्ना को अनशन तोड़ देना चाहिए। उन्होंने अन्ना को जब इस बारे में समझाया तो वह नहीं माने। इस पर शांति भूषण बरस पड़े। प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पोल-पट्टी खोलने की धमकी के बाद ही अन्ना अनशन तोड़ने पर राजी हुए थे।

प्रभु नाम की दौलत तो सब के पास है परन्तु उसमे जड़ -चेतन की गाँठ हैं

भीखा भूखा को नहीं , सब गठरी लाल ।
गिरह खोल नहीं जानते , ताते भये कंगाल ।
भाव : भीखा साहब कहते हैं इस जगत में नाम रुपी लाल सब के पास है , कोई भी
ऐसा नहीं है जिसके पास यह दौलत नहीं है । परन्तु उसमे जड़ -चेतन की
गाँठ बँधी पड़ी है । जब तक यह गाँठ न खुले अर्थात इस पिंड से ऊपर उठकर
नाम का अनुभव न मिले , हम भूखे के भूखे रह जाते हैं ।
वाणी : भीखा जी
प्रस्तुति राकेश खुराना

बीबीसी के पत्रकार स्टाफ छटनी के विरोध में 24 घंटे के लिए हड़ताल पर चले गए

बीबीसी के पत्रकार स्टाफ छटनी के विरोध में आज सोमवार को 24 घंटे के लिए हड़ताल पर चले गए
इस हड़ताल से प्रसारणकर्ता की टीवी और रेडियो सेवा प्रभावित हुई।नैशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट के सदस्य रात 12 बजे दफ्तरों से बाहर निकल आए,
यूनियन के महासचिव मिशेल स्टेनिस्ट्रीट के अनुसार पूरे बीबीसी में यूनियन के सदस्य नौकरी बचाने और गुणवत्तापरक पत्रकारिता के लिए कार्रवाई कर रहे हैं।
बीबीसी के शीर्ष नेतृत्व द्वारा लिए गए गलत फैसलों से नाराजगी है। वह फैसले जिनसे पत्रकारों को नौकरी से निकाला जा रहा है और अच्छी पत्रकारिता और प्रोग्रामिंग से समझौता किया जा रहा है।

नगालैंड के गृह मंत्री हथियार +शराब और अघोषित नकदी के साथ रोके गए

: नगालैंड के गृह मंत्री इमकोंग एल इमचेन को 1.10 करोड़ रूपये नगद+ हथियार और शराब लेकर जाते हुए [वोखा]पकड़ा गया है| नगालैंड में होने वाले विधानसभा चुनावों में इनका दुरूपयोग किये जाने की संभावना जताई जा रही है|
असम रायफल्स के अधिकारियों ने उनकी गाड़ी की तलाशी ली और 1.10 करोड़ रूपये नगद+ दो .303 रायफलें,+100 कारतूस+ 7.65 मिमी की पांच पिस्तौलें तथा + 80 कारतूस और शराब की एक पेटी जब्त की गई । मामला निर्वाचन आयोग तक जा पहुंचा है|
गौरतलब है कि इससे पहले भी 30 जून 2010 को इमचेन को काठमांडो हवाईअड्डे पर 1000 रूपये और 500 रूपये के प्रतिबंधित भारतीय नोटों के साथ पकड़ा गया था।निर्वाचन आयोग की निगरानी टीम ने 16 फरवरी को एक हेलीकॉप्टर से एक करोड़ रूपये जब्त किया था। इस हेलीकॉप्टर का कथित तौर पर उपयोग एनपीएफ के एक प्रत्याशी द्वारा किया जा रहा था।

सपा का झंडा लगाकर शराब की तस्करी: ३०० बोटल्स विदेशी शराब और तीन तस्कर पकडे

[मेरठ] : सपा का झंडा लगाकर बोलेरो से शराब की तस्करी करने वाले तीन लोगों को गिरफ्तार कर ऐसे ही एक शातिर गिरोह का पर्दाफाश किया गया है। बोलेरो से ३०० बोटल्स [१/२] अंग्रेजी शराब बरामद हुई है। तस्करों ने बोलेरो की घेराबंदी के दौरान पुलिस पार्टी को कुचलने का प्रयास किया, लेकिन बोलेरो डिवाइडर पर चढ़ गई। गिरोह का सरगना हमेशा की तरह अभी फरार है।मॉल रोड स्थित लालकुर्ती पुलिस थाना ने यह गुड वर्क दर्ज कराया है|
प्राप्त जानकारी के अनुसार एसओ महावीर सिंह ने पुलिस टीम के साथ माल रोड पंडित दीन दयाल उपाध्याय मैनेजमेंट कालेज चौराहे के पास जाल बिछा दिया। संदिग्ध बोलेरो को पुलिसकर्मियों ने रुकने का इशारा किया, लेकिन पोलिस का कहना है कि बोलेरो चालक ने पुलिसकर्मियों को कुचलने का प्रयास किया। इसके बाद बोलेरे डिवाइडर पर चढ़ गई। घेराबंदी कर तीन युवकों को गिरफ्तार कर लिया गया। कार के अंदर से ३०० सौ बोतल [१/२]व्हिस्की बरामद हुई। पकड़े गए शराब तस्कर बोलेरो मालिक नरेन्द्र निवासी माछरा, जानी निवासी मनीष व मोहित बताये गए हैं।पोलिस का कहना कि है शराब चंडीगढ़ से लाई जाती है। इसके बाद मवाना, जानी, माछरा, किठौर समेत आसपास के जिलों में सप्लाई की जाती थी। गिरोह का सरगना विपिन बताया गया है है, जो अभी फरार है।
बेशक सत्ता रूड समाज वादी पार्टी शीर्ष ने वाहनों और घरों से पार्टी झंडे उतारने के आदेश दे दिए हैं इस पर भी अभी तक नेताओं के अनुसार हर तीसरी गाडी पर पार्टी का झंडा लगा है|सत्ता की इस हनक को दिखा कर अपराध भी होने स्वाभाविक ही हैं|पार्टी यदि वाकई झंडे का दुरूपयोग रोकने को प्रतिबद्ध है तो चुनाव आयोग की तरह अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं के लिए सख्त गाइड लाइन्स जारी करके उस पर अम्ल कराना भी होगा|गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में खर्च का विवरण नहीं देने पर ही १५८ माननीयों के चुनाव लड़ने पर चुनाव आयोग द्वारा प्रतिबन्ध लगाया गया है|ऐसा सेल्फ इम्पोसड कदम पार्टी को २०१४ का लक्ष्य भेदने में सहायक हो सकता है|

भारतीय रक्षा लेखा कर्मचारी संघ [कोलकता]की नई कार्यकारिणी गठित : २० और २१ फरवरी को हड़ताल

[नागपुर]१९२५ से कार्यरत अखिल भारतीय रक्षा लेखा कर्मचारी संघ [कोलकता]के केन्द्रीय कार्यकारिणी में मेरठ से सदस्यों को वरिष्ठ सदस्यों को शामिल किया गया है|रक्षा लेखा नियंत्रक पेंशन संवितरण के करण प्रदीप को उपाध्यक्ष [फोर]औररक्षा लेखां नियंत्रक सेना के राकेश मलिक को केन्द्रीय कार्यकारिणी की सदस्यता प्रदान की गई है| सी डी ऐ ऐ ऍफ़ के यतेन्द्र चौधरी को राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया है|कुल ३३ पदाधिकारी हैं|बीते शनिवार को नागपुर में आयोजित राष्ट्रीय चुनावों में निर्वाचित नई कार्यकारिणी ने चार प्रस्ताव पारित किये |१४०००+के स्टाफ में ज्यादा से ज्यादा सदस्य बनाने का संकल्प लियाऔर सदस्यों के हितों की खातिर २० और २१ फरवरी को राष्ट्र व्यापी हड़ताल की घोषणा की गई| महासचिव जी पी दत्ता द्वारा हड़ताल का नोटिस रक्षा लेखा महानियंत्रक उलन बटार दिल्ली केंट को दिया जा चुका है|नोटिस के साथ तीन भागों में ४० डिमांड्स भे राखी गई हैजिन में मुख्यत एम् टी एस को क्लर्क का प्रोमोशन देना+ट्रांसफर पालिसी में पारदर्शिता+भत्ते बढाना+भर्ती + बोनस+आउट सोर्सिंग आदि रहे |

हत्यारोपी दरोगा के वेतन संवितरण पर अदालत ने लगाई रोक

[ मेरठ ] न्यायालय ने एक दरोगा के वेतन संवितरण पर रोक लगा दी है| दरोगा राजेंद्र सिंह यादव एक अधिवक्ता सत्यवीर सिंह मलिक की हत्या का आरोपी है|
हत्या के आरोपी इस दबंग दरोगा के अदालती तारीख पर पेश न होने के कारण न्यायालय ने उसका वेतन रोकने का आदेश दिया है। साथ ही केस सुनवाई के लिए जिला जज के यहां भेज दिया गया। 6 मार्च की तारीख लगी है।
गौरतलब है की मेरठ बार एसोसिएशन के वरिष्ठ अधिवक्ता सत्यवीर सिंह मलिक की घर में घुसकर हत्या करने के आरोप में 11 पुलिस वालों के खिलाफ मेडिकल थाने में मामला दर्ज कराया गया था। इसमें पांच दारोगा[१]प्रदीप यादव[२] राजीव कौशिक[३] रहीस उल हक[४] तूफान सिंह, [५]राजेंद्र सिंह यादव के अलावा कांस्टेबल रकम सिंह, सूरजपाल, विनोद कुमार, अनिल कुमार, प्रमोद कुमार, चरणजीत सिंह के नाम शामिल हैं। आरोपी राजेंद्र सिंह यादव के अलावा अन्य सभी के खिलाफ स्पेशल सीजेएम की कोर्ट में चार्ज बनाकर केस जिला जज के यहां भेज दिया गया था। लेकिन राजेंद्र कई आदेशों और वारंट जारी होने के बाद भी कोर्ट में उपस्थित नहीं हुए। इसके चलते न्यायालय ने उनका वेतन रोकने का आदेश देते हुए 28 फरवरी को कोर्ट में पेश होने को कहा है। ह्त्या आरोपी राजेंद्र वर्तमान में एसओ बड़ौत के पद पर हैं।

अरुण जेटली की कॉल डिटेल्स की जानकारी मांगने के आरोप में दिल्ली पोलिस का एक कांस्टेबिल गिरफ्तार

[नई दिल्ली] प्रमुख विपक्षी दल भाजपा के राज्यसभा में नेता[एडवोकेट] अरुण जेटली की मोबाईल कॉल डिटेल्स की जानकारी मांगने के आरोप में दिल्ली पोलिस के एक कांस्टेबिल को गिरफ्तार किया गया है| पुलिस ने कांस्टेबिल अरविन्द डबास को आईटी ऐक्ट के तहत गिरफ्तार किया है,| अनुमान लगाए जा रहे हैं कि इस मामले के तार उत्तराखंड के कुछ नेताओं से जुड़े हो सकते हैं.अब बताया जा रहा है कि दिल्ली-एनसीआर के बड़े बिल्डर पॉन्टी चड्ढा और हरदीप चड्ढा मर्डर केस में दिल्ली पुलिस जेटली के कॉल डिटेल्स की छानबीन कर रही है
पता चला है कि दिल्ली एनसीआर के बड़े बिल्डर पॉन्टी चड्ढा और उनके भाई हरदीप चड्ढा मर्डर केस में पुलिस जेटली के कॉल डिटेल्स की भी छानबीन में जुटी हुई है मालूम चला है कि जेटली की कॉल डिटेल्स दिल्ली पुलिस के चार दफ्तरों से मांगे गए थे. वसंत विहार थाना में बने एसआई दफ्तर, क्राइम ब्रांच दफ्तर, एसीपी ऑपरेशंस और एसीपी साउथ के दफ्तरों से कॉल डिटेल्स मांगी गई थी नई दिल्ली के एसीपी [ऑपरेशंस] की भूमिका शक के घेरे में है.पुलिस को जानकारी मिली है कि मर्डर से पहले पान्टी च़ड्ढ़ा और अरुण जेटली के बीच बातचीत हुई थी|कहा जा रहा है कि कांस्टेबिल ने अपने ऐ सी पी की साईट हैक करके यह जानकारी अपने निजी लाभ के लिए मांगी थी |राजनीतिक गलियारों से यह बात भी छन्न कर आ रही है कि केंद्र सरकार फिलहाल हेलीकाप्टर अगस्ता वेस्टलैंड दलाली कांड में घिरी हुई है सो ध्यान बांटने के लिए भाजपा के वरिष्ठ नेता पर उंगली उठवा कर ध्यान बांटा जा सकता है|फ़िलहाल गृह मंत्रालय ने काल डिटेल्स निकलवाने के लिए किसी को भी आज्ञा देने से इनकार किया है|

एल पी जी सिलेंडरों से भरा एक ट्रक दुर्घटना होते होते बचा

मेरठ में आज एक भयानक दुर्घटना होने से बच गई|एल पी जी सिलेंडरों से भरा एक ट्रक आज एक्सील टूटने से दुर्घटना होते होते बचा|इस्टर्न कचहरी रोड पर स्थित वैश्य अनाथालय प्रान्गंड में इंडें गैस का गोदाम है |यहाँ सिलेंडरों की डिलीवरी देने के लिए आज सुबह एक ट्रक आ रह़ा था |गेट के सामने मुड़ते ही ट्रक का एक्सील टूट गया लेकिन ड्राइवर की सूझ बूझ से ट्रक पलटने से बच गया |इस गोदाम के २५ कदम पर एक तरफ पेट्रोल पम्प है और दूसरी तरफ एक नर्सिंग होम है|सड़क पर भी यातायात बहुत रहताहै|ऐसे में ट्रक के पलटने पर एक बड़ी दुर्घटना हो सकती थी | राहगीरों का कहनाथा कि इस प्रकार के अतिज्व्लंशील पदार्थों को लेकर चलने वाले वाहनों कि गुणवत्ता को सुनिश्चित किया जाना जरूरी है|