Ad

Category: Crime

फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन प्रतिबंधों को झुटला कर हवा में परवाज:ड्रीम लाइनर आपको कंपेंसेशन देंगें ?

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक सिविल एविएशन मंत्रालय का चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हसाड़े चौधरी अजित सिंह जी का कमाल|ओये ड्रीम लाईनर ७८७ को उड़वा कर कर दिया सबको हैरान | ओये हमारे यहाँ तो पहले भी कोई परेशानी नहीं थी मगर ये अमेरिकी विमान निर्माता कंपनी बोइंग ने ही अपने ड्रीम लाईनर विमानों की उड़ानें रोक दी थी| ओये जापान में लीथियम बैट्रीज में धुआं क्या उठा हमारे मुल्क में भी फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन और अन्य उड्डयन प्राधिकरणों ने जनवरी के मध्य में इन विमानों की उड़ानें रोक दी |ओये इस प्रकार से ग्राउंडेड ड्रीम लाइनर से हमारी घाटे में जारही एयर इंडिया को और गड्डे में धकेला जा रहा है|इससे इंडिगो +स्पाईस जेट और जेट ऐरवेज जैसी कंपनियों की चांदी कट रही है और हम नुक्सान उठा रहे हैं|अपनी इसी पीड़ा को दिखाने के लिए हमारे जाबांजों ने बिना यात्रियों के दो ड्रीम लाइनर उड़ा कर सबको चौंका दिया है |

झल्ला

ओय भोले चतुर सुजाण जी |तमाम बंदिशों के बावजूद आपने अपने एक तिहाई यात्री जहाज़ मुम्बई में उड़वा कर बेशक सबको चोंका दिया है मगर अपनी बेवकूफी भी दिखा दी है|आपने ये भी नहीं देखा कि जापानियों ने ड्रीम लाइनर से मुआवजेकी मांग कर रखी है और आपके खुद के मंत्री ने भी अंग्रेज़ी में कंपेंसेशन को जरूरी बताया है अब जब आप खुद ही प्रतिबंधों को झुटला कर हवा में परवाज का लोभ नहीं छोड़ पाए तो ड्रीम लाइनर उत्पादक आपको क्यूं कम्पेंशेशन देंगे |में ठीक हूँ या क्या में ठीक हूँ ?

आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल और साथियों की हलफनामे पर जेल टली

आम आदमी पार्टी के सर्वोच्च नेता अरविंद केजरीवाल और प्रशांत भूषण सहित 5 नेताओं को बिना इजाजत प्रदर्शन करने के मामले में कोर्ट से आज राहत मिली है.| दिल्ली की एक अदालत ने इस मामले में इनकी गिरफ्तारी टाल दी है. कोर्ट ने इन सभी को अगली सुनवाई में प्रस्तुत होने का लिखित आश्वासन देने का आदेश दिया|आप के नेताओं ने जमानत करवाने के बजाय जेल जाना पसंद किया था उसके उपरान्त तारीख पर पेश होने के लिए केवल हलफनामा पर्याप्त मान कर गिरफ्तारी को टाल दिया गया |
यह मामला कोयला घोटाले को लेकर पीएम आवास, 10 जनपथ और शीला दीक्षित के घर के सामने हुए प्रदर्शन को लेकर दर्ज किया गया है| इन सभी लोगों धारा 144 लागू होने पर शांति भंग करने का आरोप लगाया गया है जबकि कुमार विश्वास पर सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का भी आरोप लगा है.आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने आज मंगलवार ५ फरवरी को पटियाला हाउस कोर्ट के बाहर संवाददाता को कहा कि अगर मुझे बेल और जेल में चुनने को कहा गया तो मैं जेल को चुनूंगा| केजरीवाल के साथ प्रशांत भूषण+ मनीष सिसौदिया+ कुमार विश्‍वास भी मौजूद थे.इन नेताओं ने 8/2012 में कोयला घोटाला मामले में कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमति सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री डाक्टर मनमोहन सिंह के आवास के बाहर प्रदर्शन किया था। इनके खिलाफ पार्लियामेंट पुलिस थाने में तीन एफआईआर दर्ज कराई गई थी।आप ने कहा है कि ने कहा कि धारा-144 सुप्रीम कोर्ट के गाइडलाइन के खिलाफ लगाया गया था इसलिए यह गैर कानूनी था लेकिन फिर भी यदि कोर्ट हमें सजा देती है तो हम इसका सम्‍मान करेंगे.इस पर कोर्ट ने कहा है कि यदि आप लोग व्यवस्था में विशवास रखते हैं और सहयोग करते हैं तो यह मुकद्दमा मात्र छह महीने में खत्म किया जा सकता है|

विजय माल्या की ग्राउंडेड किंग फ़िशर एयर लाइन्स का घाटा ७०% बढ कर ७५५ करोड़ तक पहुंचा

वित्त वर्ष 2013 की तीसरी तिमाही में ग्राउंड पर रखी गई किंगफिशर एयरलाइंस का घाटा ७०% बढ कर 755 करोड़ रुपये तक जा पहुंचा है| तीसरी तिमाही में किंगफिशर एयरलाइंस का कारोबार पूरी तरह ठप्प रहा है|
बीते साल की तीसरी तिमाही में यह घाटा 444 करोड़ रुपये रहा था।
मालूम हो कि कारोबारी साल 2012-13 की तीसरी तिमाही में कंपनी का कारोबार पूरी तरीके से ठप्प रहा है। इससे कंपनी के शेयर के दामो का ग्राफ भी लाल निशान दिखा रहा है। कंपनी का शेयर भाव 11.70 रुपये तक नीचे चला गया। सुबह साड़े ग्यारह बजे यह 12.07 रुपये पर था|
पूर्व सिविल एविएशन मंत्री प्रफुल्ल पटेल औए एन सी पी के नजदीकी रहे शराब किंग विजय माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस का कहना है कि उड़ानें दोबारा शुरू करने के लिए डीजीसीए को रिवाइवल प्लान सौंपा है। तीसरी तिमाही में ब्याज लागत का बोझ 401 करोड़ रुपये रहा। कंपनी के लिए मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही डी जी सी ऐ के अलावा उसके अपने कर्मचारियों का असंतोष उन्हें कोर्ट के दरवाजे खटखटाने को मजबूर कर रहा है और अभी तक कंपनी किसी विदेशी निवेशक को आकर्षित नहीं कर पाई है|

अक्खड़ काबिना मंत्री आज़म खान से सचिवालय की कार का ड्राइवर बीडी पी कर अकडा

काबिना मंत्री आज़म खान ४ फरवरी को मेरठ आये और उन्होंने अपने दो विभिन्न रूप दिखाए [१]सरकारी गाड़ी में ड्राइवर को बीड़ी पीते देख .आज़म खान भड़क गए तमतमा गए चेरा लाल करके बेअदबी+.बदतमीज जैसे अलफ़ाज़ निकाले और परतापुर रेलवे ओवरब्रिज से पहले सरकारी गाड़ी से उतर गए |उनका यह रंग देख देख अपने +पराये सभी आला अधिकारियों के भी हाथ-पांव फूल गए। सभी के चेहरे के रंग उतर गए| जैसे तैसे खासुलखास एमएलसी डॉ. सरोजनी अग्रवाल की एसयूवी में बैठकर मंत्री जी आगे निकले|
सर्किट हाउस से निकलकर आजम कंकरखेड़ा बाईपास होते हुए दिल्ली रोड स्थित संगम गेस्ट हाउस पहुंचे।[२] यहां उन्होंने वर वधू को आशीर्वाद दिया। इसके बाद वह सचिवालय की सरकारी अंबेसडर कार में बैठकर नगर आयुक्त कैंप कार्यालय के लिए चले। मगर कार को आजम खां ने परतापुर ओवरब्रिज से पहले रुकवा दिया। पूरी गाड़ी में बीड़ी की दुर्गंध उठ रही थी। भड़के आजम खां ने ड्राईवर को जमकर खरीखोटी सुनाई। इस पर सरकारी अधिकारियों ने दूसरा ड्राईवर उपलब्ध कराने की बात कही। लेकिन ड्राईवर भी गाड़ी नहीं छोड़ने पर अड़ गया| उसने गाड़ी सचिवालय की होने की बात करते हुए इसे छोड़ने से इंकार कर दिया। तमतमाए आजम खां एमएलसी डॉ. सरोजनी अग्रवाल की एसयूवी में बैठकर नगर आयुक्त कैंप कार्यालय पहुंचे।

८ नकाब पोशों ने ३ आर्म्ड गार्ड्स की मौजूदगी में कार शो रूम लूटा

[मेरठ]अपराधियों के हौंसले अब इतने बुलंद हो गए हैं कि सुरक्षा गार्ड्स की मौजूदगी के बावजूद दुस्साहिक तरीके से लाखों रुपयों की लूट को अंजाम दिया गया है| यह दुस्साहिक अपराध परतापुर बाईपास स्थित फोर्ड कंपनी के कार शोरूम में हुआ है| गार्डों को गन प्वाइंट पर लेकर ८ नकाब पाशों ने फोर्ड फिगो कार+ करीब १३ लाख रुपये+ एक किलो चांदी+ गार्ड की बंदूक सहित लाखों के सामन को लूट लिया |
गौरव अग्रवाल का परतापुर स्थित हरिद्वार बाईपास पर फोर्ड कार कंपनी का शोरूम है। शोरूम पर एसआईएस सिक्योरिटी कंपनीके तीन आर्म्ड गार्ड तैनात हैं।प्राप्त जानकारी के अनुसार ३ फरवरी की रात करीब एक बजे आठ बदमाश बाउंड्री फांदकर शोरूम में घुस आए और बिजली काट दी। इससे सीसीटीवी कैमरे बंद हो गए। फिर तीनों गार्डों को गन प्वाइंट पर ले लिया। एकाउंट सेक्शन में पहुंचने के बाद अलमारी खोली गई और उसमें रखी तिजोरी से 13 लाख रुपये+ एक किलो चांदी+ लाइसेंसी बंदूक+ वीडियो कैमरा+ चार डीवीडी + दो एलसीडी निकाल लिए। यह सामान बदमाशों ने शोरूम में ही खड़ी फोर्ड फिगो कार संख्या यूपी14 बीके ०७०५ में लादा और आसानी से फरार हो गए।सूचना पा कर परतापुर पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन कोई हाथ नहीं लगा।
४ फरवरी की सुबह नौ बजे सीओ ब्रह्मपुरी और फिंगर एक्सपर्ट, डॉग स्कवायड की टीम मौके पर पहुंची। बताया गया है कि खोजबीन में फोर्ड फिगो कार महमदपुर के जंगल में मिल गई। शोरूम मालिक गौरव अग्रवाल ने परतापुर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। तीनों गार्डस से पूछताछ जारी है।

महिला सुरक्षा बिल पर सरकार की सफाई:जल्द बाजी में नही गंभीरता से लाया गया यह बिल

देश के वित्त मंत्री और पी एम् के लिए कमल हासन के उम्मीदवार पी चिदंबरम ने अपने सहयोगी मनीष तिवारी के साथ आज महिला सुरक्षा बिल पर सरकार की सफाई दी और कहा है कि केंद्र सरकार महिलाओं की सुरक्षा को लेकर बेहद गंभीर है सरकार इसीलिए जल्द अध्यादेश लेकर आई है|यह जल्द बाज़ी में लाया गया नहीं है वरन गंभीरता से लाया गया है| चिदंबरम ने कहा कि सरकार ने वर्मा कमेटी की सिफारिशों को नकारा नहीं है। विवादित अफ्स्पा पर बहुत चर्चा की जरूरत है। इसके बाद ही इसे अध्यादेश में शामिल किया जा सकता है।उन्होंने बजट सत्र में इस बिल को पास करा लेने का आश्वासन भी दिया | उन्होंने उम्मीद जताई कि मजबूत कानून से अपराध कम होंगे।चिदंबरम ने कहा कि जस्टिस वर्मा की सिफारिशों को नकारा नहीं गया है। आम राय नहीं बनने के चलते कुछ सिफारिशों को अध्यादेश में नहीं रखा गया है। उन सिफारिशों पर फिलहाल बहस की जरूरत है। वैवाहिक बलात्कार और कार्यस्थल पर उत्पीडन, किशोर न्याय कानून ,एएफएसपीए,आदि पर अलग अलग राय होने के कारण इन पर विस्तृत बहस को आवश्यक बताया गया |
महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा संबंधी अध्यादेश को राष्ट्रपति द्वारा मंजूरी मिलने के बाद आज ४ फरवरी सोमवार को वित्त मंत्री ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि मुख्य न्यायमूर्ति जे एस वर्मा समिति की सभी सिफारिशों को हालांकि इस अध्यादेश में शामिल नहीं किया गया है लेकिन समिति के किसी भी सुझाव को नामंजूर नहीं किया गया है।उन्होंने इस बात को मानने से इंकार किया कि सरकार ने अध्यादेश लाकर जल्दबाजी की है। चूंकि किसी आपराधिक कानून को बीती घटना[ Ex Post Facto]पर लागू नहीं किया जा सकता इसलिए तुरंत अध्यादेश लाने की आवश्यकता पडी।
किशोर न्याय कानून में संशोधन कर आयु सीमा कम करने की मांग के बारे में चिदंबरम ने कहा कि इसके लिए आम सहमति बनानी होगी उन्होंने कहा कि एएफएसपीए (बल विशेषाधिकार कानून) में संशोधन की मांग के प्रति भी अभी कोई आम सहमति नहीं है। उन्होंने कहा कि वैवाहिक बलात्कार और कार्यस्थल पर उत्पीडन जैसे मुद्दों पर आम सहमति के अभाव में, ही इन्हें अध्यादेश में शामिल नहीं किया गया है।चिदंबरम ने कहा कि अध्यादेश इसलिए लाया गया क्योंकि महिलाओं के खिलाफ अपराध ऐसा मामला है, जिसमें विलंब नहीं किया जा सकता। केवल अध्यादेश के जरिए ही कानून तत्काल बनाया जा सकता है जबकि विधेयक पारित कराने में समय लगेगा।अध्यादेश को केवल ‘ शुरूआती बिन्दु ’ बताते हुए चिदंबरम ने कहा कि राजनीतिक पार्टियों सहित सभी वर्ग के लोगों को इस मुद्दे पर समर्थन देना चाहिए। वित्त मंत्री ने और अधिक त्वरित अदालतों के गठन की आवश्यकता जताते हुए कहा कि इसके लिये और अधिक न्यायाधीशों की भी जरूरत है। उन्होंने कहा कि पुलिस बल विशेषकर सिपाही स्तर के कार्मिकों को अधिक संवेदनशील बनाने की भी आवश्यकता है।

देश विभाजन के पश्चात भारत आये आडवाणी, गुजराल और डाक्टर मन मोहन सिंह की देश भक्ति का अपमान

वरिष्ठ सिन्धी नेता लालकृष्ण आडवाणी [सिन्धी] ([laˑl kiɕəntɕən̪d̪ aˑᶑʋaˑɳiˑ] لعل ڪرشنا آڏواڻي);,को लेकर एक बार फिर से देश विभाजन के जख्मों पर सियासी बयानों से नमक छिड़का जाने लगा है| कांग्रेस प्रवक्ता शकील अहमद ने बीजेपी के पी एम् इन वेटिंग लालकृष्ण आडवाणी के सम्बन्ध में विवादित बयान दिया है.बीजेपी ने कांग्रेस से यह स्पष्ट करने को कहा है कि वह शकील के इस विवादित बयान का समर्थन करती है या नहीं। इस ब्यान बाज़ी से स्वर्गीय पी एम् इन्द्र कुमार गुजराल,वर्तमान पी एम् डाक्टर मन मोहन सिंह और बीजेपी के पी एम् इन वेटिंग लालकृष्ण आडवाणी की देश भक्ति पर प्रश्न चिन्ह लगाने लग गए हैं|
राजस्थान के सीकर में एक किसान सम्मेलन में शकील अहमद ने कहा कि लालकृष्ण आडवाणी सेवा के बदले मेवा खाने की खातिर विभाजन के बाद पाकिस्तान से भारत आ गए| आडवाणी पीएम बनने के लिए पाकिस्तान से भारत आ गए|शकील अहमद के मुताबिक, ‘सिर्फ पैदा ही नहीं हुए वरन उनकी बीए तक की शिक्षा भी पाकिस्‍तान की है| अगर सचमुच आडवाणीजी को हिंदू समाज की सेवा करनी थी तो अपने घर में करते मगर वहां सेवा के बदले मेवा नहीं मिलता. एमपी, एमएलए, मंत्री और प्रधानमंत्री के उम्‍मीदवार नहीं होते.’
बीजेपी के वरिष्ठ प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने शकील अहमद के इस बयान को स्तरहीनबताते हुए इस पर कड़ी नाराजगी जाहिर की है|. उन्होंने सीधे सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से सफाई मांगते हुए सवाल किया है कि क्या ये कांग्रेस पार्टी का बयान है?गौरतलब है कि देश विभाजन के पश्चात लाखों हिन्दुओं को जब भारत सरकारसुरक्षा मुहैय्या नहीं करवा पाई तब उन्होंने वहां से पलायन किया और विस्थापित या शरणार्थी कहलाये मगर अपने परिश्रम से पुरुषार्थी बन कर देश के विकास में योगदान दिया|संतरी से मंत्री और फिर प्रधान मंत्री तक बने हैं|
देश विभाजन के पश्चात भारत आये आडवाणी, गुजराल और डाक्टर मन मोहन सिंह की देश भक्ति पर सवाल उठा कर लाखों विस्थापितों के भारत प्रेम को निशान बनाया जा रहा है|यह दुर्भाग्य पूर्ण है|और संभवत मुख्य ज्वलंत मुद्दों से ध्यान हटाने वाला है|राजनितिक हलकों में यह भी चर्चा है कि बीते दिन भाजपा के प्रवक्ता मुख्तार अब्बास नकवी ने कांग्रेस और जे डी यु को जवाब देते हुए कहा था कि देश के संत अगर पी एम् का चनाव नहीं करेंगे तो कया पकिस्तान में बैठा हाफ़िज़ सईद करेगा|इसके उत्तर में आज कांग्रेस प्रवक्ता शकील अहमद ने जे डी यु का हौंसला बढाने के लिए यह बयाँ दिया है

प्रगाश रॉकबैंड की कन्या कलाकारों ने संगीत की दुनिया को धार्मिक दबाब में अलविदा कह ही दिया

प्रगाश रॉक बैंड की दसवीं कक्षा की तीनों कन्या कलाकारों ने संगीत की दुनिया को अलविदा कह दिया है ।काश्मीरी टेलेंट को दफन करने का यह तालिबानी फरमान है। इसकेलिए जारी फतवे पर केंद्र सरकार के वित्त मंत्री पी चिदम्बरम ने भी टिपण्णी करने से इनकार कर दिया है।इन बच्चियों ने प्रगाश से उजाले की जो किरण दिखाई थी वह इनके पीछे हट जाने से फिर से अँधेरे की और चल पड़ी है।जम्मू-कश्मीर के मुफ्ती बशरुद्दीन अहमद ने लड़कियों के इस रॉकबैंड को गैर इस्लामिक करार देते हुए इसके खिलाफ फतवा जारी किया था|.
P T I के मुताबिक ‘प्रगाश’ रॉक बैंड की तीनों लड़कियों ने संगीत को अलविदा कहने का मन बना लिया है.
तीनों कन्या कलाकारों ने संभवत नोमा नजीर, ड्रमर फराह दीबा और गिटारिस्ट अनिका खालिद ने खुद इस विवाद से बचने के लिए संगीत छोड़ने का मन बना लिया है. जबकि मुख्‍यमंत्री उमर अब्दुल्ला उनके समर्थन में ट्वीट कर चुके हैं. यही नहीं, रॉक बैंड की लड़कियों के खिलाफ फतवा जारी करने को बीजेपी, कांग्रेस और पीडीपी जैसी पार्टियों ने ब्यान जारी करके गलत बताया है.हालांकि मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड हो या फिर धर्मगरु ये सभी रॉकबैंड को मजहब के खिलाफ मानते हैं. कश्मीर की लड़कियों का यह पहला रॉक बैंड”प्रगाश कट्टर पंथियों को अरसे से रास नहीं आ रहा हैथा| बेशक इस रॉक बैंड को काफी समर्थन मिल रहा है परन्तु कट्टरपंथी इस रॉक बैंड के सुरों को बंद कराने के लिए सोशल साईट से लेकर फतवे तक जारी कराने लग गए |वरिष्ठ धार्मिक गुरु .मुफ्ती बशरुद्दीन अहमद ने तो इसे गैर-इस्लामी करार देते हुए रॉक बैंड के खिलाफ फतवा तक जारी भी कर दिया है.| मुफ़्ती का कहना है कि इस प्रकार के खुले पन से बलात्कार की घटनाएँ बढ रही है| लड़कियों को खुले में गाने के बजाये घर में ही रहना चाहिए और बुर्के का प्रयोग किया जाना चाहिए| प्रगतिशील कहे जा रहे मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला का समर्थन बैंड को हासिल है.उन्होंने कहा था कि, पुलिस इस मामले की जांच करेगी और धमकी देने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी. कुछ सिरफिरे लोगों की वजह से टैलेंटेड आवाज दबने नहीं दी जाएगी|
लड़कियों का ये रॉक बैंड पहली बार तब चर्चा में आया जब पिछले साल दिसंबर महीने में उन्होंने सालाना ‘बैटल ऑफ द बैंड्स’ प्रतियोगिता में अपना शो किया. इसके बाद इस बैंड के फैन्स की तादाद भी बढ़ने लगी है |नोमा भट्ट, फराह डीबा और अनीका खालिद ने पिछले साल जनवरी में “प्रगाश” नाम से यह रॉक बैंड बनाया था। प्रगाश का मतलब होता है “अंधेरे से उजाले की ओर”। कश्मीर में लडकियों का यह पहला और अकेला रॉकबैंड है। पिछले साल दिसंबर में बैंड ने श्रीनगर में हुए म्यूजिक फेस्टिवल में लाइव दी थी। आज कल उदार वादी कहे जा रहे अनेको सामाजिक और राजनीतिक संगठन विचारों की अभिव्यक्ति के लिए आवाज़ उठाते आ रहे हैं |कमल हासन की विश्वरूपम नवीनतम उदहारण है लेकिन आश्चर्यजनक रूप से इस उजाले के प्रति सभी की केवल ब्यान बाजी कुछ परेशान करने वाली जरूर है|यह दुर्भाग्यपूर्ण है |

भाजपा के उपाध्यक्ष कलराज मिश्रा ने भी छेड़ा राम मंदिर मुद्दा

प्रमुख विपक्षी दल भाजपा के उपाध्यक्ष कलराज मिश्रा अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष राज नाथ सिंह की भोपाल में खींची गई लाईन को पकड़ते हुए अरसे से विवादित और दबे हुए अयोध्या मुद्दे को आज उत्तर प्रदेश में भी उछाल दिया है|श्री मिश्रा ने कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर का भव्य निर्माण एलेक्शन मुद्दा नहीं है| यह भाजपा का स्थाई और आवश्यक कमिटमेंट है| उन्होंने केन्द्रीय गृह मंत्री सुशिल कुमार शिंदे के भगवा आतंक वादी वाले ब्यान कि भर्त्सना करते हुए इस बयाँ को भारतीयता पर हमला और देश द्रोह तक करार दे दिया| उन्होंने मालेगांव कांड में आरोपी साध्वी प्रज्ञाका बचाव करते हुए इसे केंद्र सरकार कि साजिश करार दिया|
गौर तलब है कि बीते दिनों भोपाल में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस में पूछे जाने पर राज नाथ सिंह ने कहा था कि पार्टी मंदिर के मुद्दे से पीछे नही हठी है |अपनी घोषणा को पूरा करने के लिए भाजपा को पूर्ण बहुमत जरुरी है|
हाल ही के घटना क्रम को देखते हुए लगने लगा है कि भाजपा अपने पूर्व के हिन्दुतत्व के मुद्दे पर लौटने की तैय्यारी में है | गुजरात के मुख्य मंत्री नरेद्र मोदी को प्रधान मंत्री के लिए प्रोजेक्ट करना और फिर प्रयाग के कुम्भ में संतों से उन्हें आशीर्वाद दिलाने केलिए आये दिन माहौल बनाया जाने लगा है|यहाँ तक कि एन दी ऐ के घटक दल जे डी यू को झटके भी देने शुरू कर दिए गए हैं|

काश्मीरी अंधेरे में उजाले का “प्रगाश” के खिलाफ कट्टर पंथी फतवे जारी

: कश्मीर की लड़कियों का पहला रॉक बैंड”प्रगाश कट्टर पंथियों को रास नहीं आ रहा है| बेशक इस रॉक बैंड को काफी समर्थन मिल रहा है परन्तु कट्टरपंथी इस रॉक बैंड के सुरों को बंद करने के लिए फतवे जारी कराने लग गए हैं|वरिष्ठ धार्मिक गुरु .मुफ्ती बशरुद्दीन अहमद ने तो इसे गैर-इस्लामी करार देते हुए रॉक बैंड के खिलाफ फतवा जारी कर भी दिया है.| मुफ़्ती का कहना है कि इस प्रकार के खुले पण से बलात्कार की घटनाएँ बढ रही है| लड़कियों को खुले में गाने के बजाये घर में ही रहना चाहिए और बुर्के का प्रयोग किया जाना चाहिए| प्रगतिशील कहे जा रहे मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला का समर्थन बैंड को हासिल है.उन्होंने कहा है कि, पुलिस इस मामले की जांच करेगी और धमकी देने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी. कुछ सिरफिरे लोगों की वजह से टैलेंटेड आवाज दबने नहीं दी जाएगी|
लड़कियों का ये रॉक बैंड पहली बार तब चर्चा में आया जब पिछले साल दिसंबर महीने में उन्होंने सालाना ‘बैटल ऑफ द बैंड्स’ प्रतियोगिता में अपना शो किया. इसके बाद इस बैंड के फैन्स की तादाद भी बढ़ने लगी है |नोमा भट्ट, फराह डीबा और अनीका खालिद ने पिछले साल जनवरी में “प्रगाश” नाम से यह रॉक बैंड बनाया था। प्रगाश का मतलब होता है “अंधेरे से उजाले की ओर”। कश्मीर में लडकियों का यह पहला और अकेला रॉकबैंड है। पिछले साल दिसंबर में बैंड ने श्रीनगर में हुए म्यूजिक फेस्टिवल में लाइव दी थी। आज कल उदार वादी कहे जा रहे अनेको सामाजिक और राजनीतिक संगठन विचारों की अभिव्यक्ति के लिए आवाज़ उठाते आ रहे हैं |कमल हासन की विश्वरूपम नवीनतम उदहारण है लेकिन आश्चर्यजनक रूप से इस उजाले के प्रति सभी की चुप्पी कुछ परेशान करने वाली जरूर है|