Ad

Category: Crime

गुरुद्वारे में फायरिंग की अमेरिकी कांग्रेस में सुनवाई की मांग

विस्कोंसिन ओक क्रीक

की गई है|
संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में १५० से अधिक संगठनों के समूह द्वारा विस्कॉन्सिन के ओक क्रीक गुरुद्वारे में ५ अगस्त को हुई गोलीबारी पर अमरीकी कांग्रेस में सुनवाई की अपील की गई |
है ५ अगस्त के रविवार को अमरीकी सेना में काम कर वेड माईकल पेज ने गोलीबारी की थी। इसमें 6 सिख श्रद्धालु[५ पुरुष+१ महिला] मारे गए थे और पुलिस की कार्रवाई में पेज भी मारा गया और एक सुरक्षा अधिकारी घायल हुआ था
वाशिंगटन स्थित ‘सिख कोयालिशन के नेतृत्व में विभिन्न धर्मों और क्षेत्रों से जुड़े १५० से अधिक संगठनों ने बीते दिन सीनेट की न्यायिक समिति को पत्र लिखा है|
इस पत्र में घृणा अपराधिओं वाले समूहों को लेकर सुनवाई आयोजित करने की मांग कीगई है|

कैग ने अब रक्षा लेखा विभाग पर भी टिपण्णी कर दी है

आडिट अथारिटी कैग को लगता है कि लेखा जोखा चेक करते करते अब टिप्पणियां करने की भी आदत हो गई है| कोयला घोटाले को उजागर करके देश में सरकार के उत्तेजना फैला कर अति उत्साहित कैग ने अब रक्षा मंत्रालय के आंतरिक आडिट विभाग पर भी अकर्मण्यता का आरोप लगा दिया है|
नियंत्रक एवं महा लेखा परीक्षक [कैग]ने रक्षा मंत्रालय की लैब डिफैंस मेटेरियल्स एवं स्टोर रिसर्च डेवेलपमेंट इस्टेब्लिशमेंट का आडिट किया |इसमें दो करोड़ रुपयों का गोल माल को उजागर किया|
रिपोर्ट में बताया गया है कि प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद भी १.५२ करोड़ रुपयों की खरीददारी को बुक किया गया है|इसके अलावा एलाटमेंट से ४६ लाख ज्यादा खर्च किया गया है|
गौरतलब है कि २००५ में सैनिकों की वर्दी के लिए शोध कराया गया था जिसके लिए साड़े आठ करोड़ का बजट रखा गया था|दिसंबर २००९ में यह प्रोजेक्ट पूरा कर लिया गया इसका अडिट करते समय यह दो करोड़ रुपतों का घोटाला सामने आया है|अपनी रिपोर्ट में कैग ने आंतरिक आडिट द्वारा इस घोटाले को नहीएँ पकडे जाने पर प्रश्न चिन्ह लगाया है|
सूत्रों के अनुसार आन्तरिक आडिट रक्षा लेखा विभाग द्वारा किया जाता है यह केवल आंतरिक आडिट तक ही सिमित है |जबकि हायर आडिट के लिए टेस्ट आडिट टीम आती हैं यह टेस्ट अडिट कैग का ही सब आफिस होता है|
आंतरिक आडिट पर टिपण्णी करते समय कैग यह नहीं देख पाया कि उनकी टिपण्णी उनके अपने सब आफिस के विरुद्ध ही है|

बैंक कर्मचारियों ने आज बैंकिंग ठप कर दी


देश के लगभग १०लाख बैंक कर्मिओं की आज से शुरू दो दिवसीय हड़ताल से बैंको का कम काज ठप्प हो गया |इसमें राष्ट्रीयकृत के अलावा अन्य गैर सरकारी बैंको के कर्मियों ने भी भाग लिया|इस हड़ताल से लगभग ७५००० शाखाओं का कम काज प्रभावित हुआ है|
बैंको में विदेशी और देसी निवेश को मंजूरी दिए जाने के साथ आउट सोर्सिंग से काम करने को लेकर भी यूनियनों में विरोध है| यह हड़ताल कल भी चलेगी|

भाजपा ने २ जी घोटाले का फ्रंट भी खोला

भाजपा ने आज 2 जी घोटाले का फ्रंट भी खोल दिया है| इस घोटाले की जांच कर रही जेपीसी को मज़ाक करार देते हुए बीजेपी के 5 नेताओं ने मीटिंग को छोड़ कर बाहर आ गए|
वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा के अनुसार कांग्रेस पक्ष के सदस्यों ने बेहद अभद्र शब्दों का इस्तेमाल किया जिस पर रोक लगाने की कोशिश समिति के अध्यक्ष की ओर से नहीं हुई। इसीलिए उन्होंने समिति की बैठक से वॉक आउट करने का फैसला किया।
श्री सिन्हा का कहना है कि जितनी सभ्य भाषा में संभव था उतनी सभ्य भाषा में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और वित्त मंत्री पी. चिंदबरम की संयुक्त संसदीय समिति के सामने पेशी की मांग कि गई| इस पर कई कांग्रेस के सदस्य उखड़ गए। उन्होंने भद्दे शब्दों का इस्तेमाल शुरू कर दिया। जब चेयरमैन ने भी उन सदस्यों को रोकने की कोशिश नहीं की तब हमारे [ बी जे पी] सामने बैठक से बाहर आने के अलावा और कोई उपाय नहीं रह गया।
कांग्रेस सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की कि वे पीएम और चिदंबरम को जेपीसी के सामने बुलाए जाने का विरोध कर रहे थे। कांग्रेस का रुख था कि इस वक्त अहम पदों पर बैठे लोगों को बुलाया जाता है, तो उन लोगों को भी बुलाया जाए जो एनडीए सरकार के दौरान जिम्मेदार पदों पर थे।

कमजोर पी एम् पर १.८६ लाख करोड़ का बोझ

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक भाजपाई
ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है ?अब तो सरकार की सी ऐ जी ने भी जी जी कहते हुए सरकारी खजाने को 1.85 लाख करोड़ रुपये के नुकसान के आरोप पर अपनी भी मोहर लगा दी है|
कोयला ब्लॉक आवंटन में घोटाले पर सीएजी की रपट संसद के पटल पर भी रख दी गई है| आप जी के प्रधान मंत्री उस समय कोयला मंत्री भी थे इसीलिए उन्हें[पी एम्] इस महा घोटाले की जिम्मेदारी ले लेनी चाहिए|
हमारे सोणे नेता अरुण जेटली ने कोयला खंड एलाटमेंट मामले में प्रधानमंत्री कोपूरा जिम्मेदार ठहरा दिया है| कह दिया है कि पी एम् को इस बारे में पूरी जानकारी थी। इसीलिए संसद में जारी गतिरोध को समाप्त
करने के लिए इस केंद्र सरकार के पास एक ही रास्ता है कि प्रधानमंत्री इस पूरे मामले की जिम्मेदारी स्वयं ले लें और उचित कदम लेने का प्रयास करें।
झल्ला
ओ मेरे भोले शाह जी एक तरफ तो आप यह कहते हुए नहीं थकते कि हसाड़े सोणे ते मन मोहने पी एम् बहुत कमजोर प्रधान मंत्री हैं अब १.८५ लाख करोड़ रुपयों के भारी भरकम घोटाले को उन कमजोर कन्धों पर डाल रहे हो
और यह भी कहते जा रहे हो कि ये कंधे जिम्मेदारी नहीं उठा रहे | ये तो सरासर नाइंसाफी है जी | ऐसे कैसे चलेगा ???

आरक्षण का अलाव जलाने का मौसम आ गया

अखंड भारत में आरक्षण का अलाव जला कर अलग से राजनीतिक रोटियाँ सेंकने का मौसम फिर आ गया है| नौकरियों में आरक्षण के अलावा प्रोमोशन में आरक्षण की मांग जोर पकड़ रही है|सुप्रीम कोर्ट द्वारा प्रोमोशन में आरक्षण की अपील को ठुकराए जाने के बावजूद माननीय सांसद इस दिशा में संविधान में संशोधन की तैय्यारी में लग गए हैं|बसपा की आड लेकर केंद्र सरकार अब प्रोमोशन में आरक्षण देने को मन बना चुकी है|इस दिशा में सर्वदलीय बैठक भी बुलाई गई|लेकिन पहले दौर की यह बैठक बीते दिन शाम को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के आवास, 7 रेसकोर्स में मंगलवार को बुलाई गई थी |
पहले दौर की यह बैठक शाम तीन घंटे तक चली| सर्वदलीय बैठक बेनतीजा खत्म हो गई। सरकारी नौकरियों में अनुसूचित जाति और जनजाति की पदोन्नित में आरक्षण पर सहमति बनाने के लिए ये बैठक बुलाई गई थी। सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में पदोन्नति में आरक्षण को खारिज कर दिया था। सरकार ने संकेत दिया है कि वो इसके लिए तैयार है।
पीएमओ में राज्यमंत्री नारायण सामी का कहना है कि सरकार कानूनी तौर पर वैध बिल लेकर आएगी वहीं बीएसपी सुप्रीमो मायावती इसी सेशन में लाये जाने पर अड़ी हैं|
आरक्षण को अपनी राजनीति का अहम हिस्सा मानने वाले कई नेता इस बिल पर हीला-हवाली करते दिख रहे हैं|। जेडीयू नेता शरद यादव और आरजेडी नेता लालू यादव ने कहा है कि अगर पिछड़ों और अल्पसंख्यकों को भी ये सुविधा दी जाए, तो वे समर्थन पर विचार कर सकते हैं। सपा पहले भी प्रोमोशन में आरक्षण का विरोध कर चुकी है और अभी भी समाजवादी पार्टी पदोन्नति में आरक्षण का खुला विरोध कर रही है। एसपी सांसद प्रोफ़ेसर रामगोपाल यादव ने कहा कि पार्टी इसके खिलाफ है।
मुख्य विपक्षी दल बीजेपी हमेशा की तरह कोई निर्णय नहीं ले पाई है इसीलिए पार्टी द्वारा फिलहाल कोई राय नहीं जताई गई है। बी जे पी ने मांग की है कि सरकार पहले प्रस्तावित बिल का मसौदा सामने लाए तभी उस पर प्रतिक्रिया व्यक्त की जायेगी|। प्रधानमंत्री की अध्यक्षता मे हुई इस बैठक में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, लालकृष्ण आडवाणी,सुषमा स्वराज समेत सभी पार्टियों के नेता मौजूद थे।
कोयले के मुद्दे पर संसद को पूरे दिन के लिए स्थगित कराने वाले ये पक्ष +विपक्ष और सहयोगी सभी इस सर्वदलीय बैठक को सुचारू रूप से चलाते रहे |
कुछ बुद्धिजीविओं का कहना है कि अपनी विफलताओं को ढकने के लिए आरक्षण का लिबादा ओडने का प्रयास है|
जबकि कुछ का मानना है कि मंडल और कमंडल का खेल फिर से शुरू करके वोट बैंक की बन्दर बाँट की तैय्यारी चल रही है|

असाम के दंगों को लेकर हिन्दू जागरण मंच का धरना

ने आज असाम के दंगों को लेकर कमिश्नरी पर धरना दिया \इसमें संघ परिवार के कई सहयोगी घटक शामिल हुए|इस अवसर पर वक्ताओं ने असाम की समस्या के लिए कांग्रेस की वोट बैंक की राजनीति को दोषी बताया|
एस डी शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित इस धरने में बजरंग दल+वी एच पी+के साथ भजपा के कार्यकर्ता भी मौजूद थे|
वक्ताओं ने केंद्र सरकार की विदेश और गृह नीति पर निशाना साधते हुए कहा कि बंगलादेश से आ रहे अवैध घुसपैठियों के कारण असाम में समस्या बढ रही है|कांग्रेस अपने वोटों कि खातिर इस दिशा में जानबूझ कर कोई रेमेडियल कदम नहीं उठा रही है|
महापौर हरिकांत अहलुवालिया+पूर्व विधायक अमित अग्रवाल+ मजदूर संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुनील भराला+सतनाम नामी+अजित सिंह+सुरेश जैन ऋतुराज+आदि उपस्थित थे|इस अवसर पर राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन भी प्रेषित किया गया जिसमे हिन्दुओं कि रक्षा और बांग्लादेशियों को वापिस भेजने कि मांग की गई है|

कैग का कोयला संसद में जले बिना ही रह गया|

>
राज्य सभा में आज एक बार फिर सत्ता का मद मुद्दों पर हावी रहा| संसदीय कार्य राज्य मंत्री अपने बास संसदीय कार्यों के मंत्री पवन बंसल से भी दो कदम आगे निकल गए|
आज कोयले पर सी ऐ जी के आरोपों को लेकर विपक्ष द्वारा प्रधान मंत्री का इस्तीफा मांगा जा रहा था उस समय केंद्रीय मंत्री और दागी क्रिकेट गेम के एक कर्णधार राजीव शुक्‍ला उपसभापति के नजदीक गए और पूरे दिन के लिए संसद की कार्यवाही स्‍थगित करने को कहा और संसद वाकई स्थगित हो गई|एक बार फिर कैग का कोयला जले बिना ही रह गया|
.. जैसे ही राज्यसभा में कोयला आवंटन घोटाले को लेकर चर्चा शुरू हुई वैसे ही सत्ता मद में चूर +पूर्व पत्रकार + कांग्रेस के सांसद + केंद्रीय मंत्री राजीव शुक्ला ने सभापति के दायें कान में जाकर ये कहकर सदन की कार्यवाही रुकवा दी कि शोरगुल होगा इसलिये सदन को एडजर्न कर दें
राज्यसभा में 12:45 बजे जैसे ही नए उपसभापति पी जे कुरियन कुर्सी पर पहली बार बैठने आए, राजीव शुक्ला इस अंदाज में उठे मानों उन्हें बधाई देने जा रहे हों, लेकिन उन्होने वहां जाकर कुरियन से कहा की शोरगुल होगा, पूरे दिन के लिए सदन को स्थगित कर देना|श्री शुक्ला आज कल लाईम लाईट में आने का कोई मौका नहीं छोड़ते.आज भी वोह चुके नहीं |हो सकता है की पार्टी प्रधान की नज़रों में उनका भाव चढ़ गया हो मगर बेचारे कुरियन तो आज ही उपाध्यक्ष बने और पहले दिन ही aa
शुक्ला का यह कहना पूरे सदन को सुनायी दे गया क्योंकि उस समय उपसभापति का माइक ऑन था. इस बात को लेकर सदन में शोर मच गया और पूरे विपक्ष ने शुक्ला से माफी की मांग कर डाली
लेकिन सदन तो भंग हो ही गया कैग का कोयला जले बिना ही रह गया संसदीय कार्यवाही पर खर्च करोड़ों रुपया स्याह होगया |पक्ष और विपक्ष दोनों संसद में कार्यवाही को स्थगित करवा कर कर दाताओं के करोड़ों रूपये स्याह करने के बाद टी वी चेनलों पर बहस करके उनकी टी आर पी बढ़ाते दिखे|यहाँ तक की पी एम् द्वारा भी एक चेनल को यह बताय गया की वोह[पी एम्]बहस के लिए तैयार हैं|

कैग का कोयला संसद में आज जले बिना ही रह गया|

कैग का कोयला संसद में आज जले बिना ही रह गया|
राज्य सभा में आज एक बार फिर सत्ता का मद मुद्दों पर हावी रहा| संसदीय कार्य राज्य मंत्री अपने बास संसदीय कार्यों के मंत्री पवन बंसल से भी दो कदम आगे निकल गए|
आज कोयले पर सी ऐ जी के आरोपों को लेकर विपक्ष द्वारा प्रधान मंत्री का इस्तीफा मांगा जा रहा था उस समय केंद्रीय मंत्री और दागी क्रिकेट गेम के एक कर्णधार राजीव शुक्‍ला उपसभापति के नजदीक गए और पूरे दिन के लिए संसद की कार्यवाही स्‍थगित करने को कहा और संसद वाकई स्थगित हो गई|एक बार फिर कैग का कोयला जले बिना ही रह गया|
.. जैसे ही राज्यसभा में कोयला आवंटन घोटाले को लेकर चर्चा शुरू हुई वैसे ही सत्ता मद में चूर +पूर्व पत्रकार + कांग्रेस के सांसद + केंद्रीय मंत्री राजीव शुक्ला ने सभापति के दायें कान में जाकर ये कहकर सदन की कार्यवाही रुकवा दी कि शोरगुल होगा इसलिये सदन को एडजर्न कर दें
राज्यसभा में 12:45 बजे जैसे ही नए उपसभापति पी जे कुरियन कुर्सी पर पहली बार बैठने आए, राजीव शुक्ला इस अंदाज में उठे मानों उन्हें बधाई देने जा रहे हों, लेकिन उन्होने वहां जाकर कुरियन से कहा की शोरगुल होगा, पूरे दिन के लिए सदन को स्थगित कर देना|श्री शुक्ला आज कल लाईम लाईट में आने का कोई मौका नहीं छोड़ते.आज भी वोह चुके नहीं |हो सकता है की पार्टी प्रधान की नज़रों में उनका भाव चढ़ गया हो मगर बेचारे कुरियन तो आज ही उपाध्यक्ष बने और पहले दिन ही उन्हें आलोचना के औले झेलने पड़े
शुक्ला का यह कहना पूरे सदन को सुनायी दे गया क्योंकि उस समय उपसभापति का माइक ऑन था. इस बात को लेकर सदन में शोर मच गया और पूरे विपक्ष ने शुक्ला से माफी की मांग कर डाली
लेकिन सदन तो भंग हो ही गया कैग का कोयला जले बिना ही रह गया संसदीय कार्यवाही पर खर्च करोड़ों रुपया स्याह होगया

प्रजातंत्र में आज भीड़ तंत्र के राज का मुम्बई में प्रदर्शन हुआ |

प्रजातंत्र में आज भीड़ तंत्र के राज का मुम्बई में प्रदर्शन हुआ | प्रतिबंध के बावजूद मार्च निकला रैली हुई और दक्षिण मुम्बई का ट्रैफिक जाम हो गया |
११ अगस्त को मुम्बई के आज़ाद मैदान में हुई हिंसा के विरोध में मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने उसी मैदान में रैली का आयोजन किया| इस रैली में महाराष्ट्रा में एन सी पी कोटे के गृह मंत्री आर आर पाटिल और पोलिस कमिशनर ऐ .पटनायक का इस्तीफा मांग लियागया| संसद ने जहां कोयले को लेकर पी एम् के इस्तीफे कि मांग पर विपक्ष अड़ा रहा वहीं मुम्बई में गृह मंत्री और पोलिस कमिशनर के इस्तीफे के लिए रैली भी आयोजित की गई| दिल्ली में संसद स्थगित हुई तो मुम्बई में ट्रैफिक जाम हो गया|
गिरगावं चौपाटी से आज़ाद मैदान तक अपने समर्थकों के साथ पैदल पहुंचे राज ठाकरे ने खुल कर सरकार पर भडास निकाली|उन्होंने पोलिस पर आरोप लगाया कि ११ अगस्त कि हिंसा के बारे में पोलिस को पहले से ही जानकारी थी|इसीलिए इनकी शह पर ही दंगे हुए |इसके अलावा अपने पुराने वोट शत्रु यूं पी और बिहार के लोगों के विरुद्ध जहर उगलने से भी नहीं चूके श्री ठाकरे ने कहा कि इन दोनों राज्यों के लोग भारी संख्या में मुम्बई आ रहे हैं|जिनके कारण वहां[मुम्बई] में अनेकों समस्याएं हो रही हैं|
उन्होंने करंट हाट टापिक बंगलादेशियों को भी टच किया और हिंसा के लिए इन्हें ही दोषी ठहराया|
कांग्रेस और एन सी पी ने इसे अवसरवादी राजनीती बताया जबकि अनेकों लोगों ने मुम्बई के मैरीन ड्राईव पर लगे भारी जाम के लिए व्यवस्था और मनसे को भी कोसा
राजनीतिज्ञों का मानना है कि वर्तमान में बाल ठाकरे बूड़े हो गए है और उनके पुत्र उद्धव ठाकरे दिल का इलाज़ करवा रहे हैं भाजपा वहां निष्क्रिय दिख रही है\ऐसे में वहां कि हिंदूवादी राजनीति में रिक्ति दिखाई दे रही है जिसे भरने के लिए राज ठाकरे ने मौके का लाभ उठाया है|कुछ का मानना है कि संसद में कोयले के मुद्दे पर से ध्यान डायवर्ट करने के लिए यह भी शगूफा ही है|
खैर कुछ हो बिना आज्ञा मार्च निकाल कर ट्रैफिक को बंधक बनाने से व्यवस्था और आयोजकों कि जवाब देही तो बनती ही है