Ad

Category: Unrest Strikes

बाबा को बवाना के बजाये आंबेडकर स्टेडियम ले जाया गया

बाबा राम देव को आज शाम लगभग सवा छह बजे बवाना के बजाये आंबेडकर स्टेडियम ले जाया गया है|
भारी हुजूम जे साथ साथ चलने से बवाना जाना मुश्किल हो गया | चार घंटे में केवल चार सौ मीटर का ही रास्ता तय हो पाया
रास्ते भर में अनेक मार्गों पर ट्रेफिक जाम हो गया |
बाबा को पोलिस द्वारा बस के नीचे उतरने को कहा गया तब उन्होंने बस से नीचे उतरने से मना कर दिया |बाबा ने अपने समर्थकों के लिए भी बस की मांग शुरू कर दी |इस पर स्थिति बिगड़ती देख कर दिल्ली पोलिस द्वारा बाबा को समीप के आंबेडकर स्टेडियम में जाने की घोषणा हुई जिसे बाबा ने स्वीकार कर लिया |
स्टेडियम के बाहर बाबा ने पहले अपने समर्थको कप स्टेडियम के अन्दर जाने के लिए कहा बाबा का कहना था की अगर पहले वोह स्वयम स्टेडियम के अन्दर चले गए तब उन सबके लिए अन्दर जाना मुश्किल हो जाएगा|
अब इतनी बड़ी संख्या में समर्थकों द्वारा गिरफ्तारी देने से आंबेडकर स्टेडियम में बनाई गई अस्थाई जेल में व्यस्थाओं की अव्यवस्थाएं भी हावी रहेंगी जिससे सरकार की किरकिरी होने की संभावनाएं बढ जायेंगी|बाबा और उनके समर्थक पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार जेल में अपना पांच दिन का अनशन तोड़ेंगे |ऐसे में इतने जल्दी जेल प्रशासन द्वारा व्यवस्था पर भी प्रश्न चिन्ह लगाने शुरू हो गए हैं|
संभवत इसी सब कारणों से बाबा राम देव के चहेरे पर विजयी भाव साफ़ टूर पर देखे जा सकते थे|
बाबा राम देव को आज दिल्ली पोलिस द्वारा दोपहर लगभग पौने दो बजे रंजीत सिंह फ्लाई ओवर के समीप से धारा १४४ के अंतर्गत हिरासत में लिया गया था |और डी टी सी की बस में बवाना राजीव गांधी स्टेडियम अस्थाई जेल में ले जाना शुरू किया गया मगर उनके हज़ारों [बाबा के अनुसार ५००००]समर्थकों के कारण चार घंटे में बमुश्किल ४०० मीटर दूरी तक ही लेजाया जा सका है|बस के अन्दर नहीं वरन बस की छत पर है और बार बार इलेक्ट्रिक मीडियाको संबोधित करने के साथ ही जुलुस में शामिल समर्थकों को शान्ति बनाए रखने की अपील करते जा रहे हैं|समर्थकों की भीड़ को देखते हुए शांति व्यवस्था और डिसिप्लिन को देखते हुए पोलिस भी जबरदस्ती से बचती दिख रही है |ऐसा लगता है की अपनी गिरफ्तारी का यह अभियान स्वयम बाबा द्वारा ही संचालित किया जा रहा है|
इसी बीच जनार्दन दिवेदी के बाद संसदीय कार्यों के राज्यमंत्री राजीव शुक्ला ने भी बाबा के अभियान की आलोचना की है और कहा है की बी जे पी के छह साल के राज्य में ४८ रुपये भी ब्लेक मणि नहीं लई जा सकी जबकि यूं पी ऐ की सर्कार अब तक ४८ लाख करोड़ रुपये ला चुकी है इसके बावजूद भी कांग्रेस को ही दोषी ठहराया जा रहा है|
उधर बाबा हिरासत से ही बस के ऊपर बैठे बैठे दिल्ली के २५० किलो मीटर के एरिया के निवासियों को इस जुलुस में शामिल होने का आह्वाहन भी करते जा रहे हैं|

बाबा को बवाना ले जारही बस अब तक चार घंटे में चली ४०० मीटर

बाबा राम देव को आज दिल्ली पोलिस द्वारा दोपहर लगभग पौने दो बजे रंजीत सिंह फ्लाई ओवर के समीप से धारा १४४ के अंतर्गत हिरासत में लिया गया था |और डी टी सी की बस में बवाना राजीव गांधी स्टेडियम अस्थाई जेल में ले जाना शुरू किया गया मगर उनके हज़ारों [बाबा के अनुसार ५००००]समर्थकों के कारण चार घंटे में बमुश्किल ४०० मीटर दूरी तक ही लेजाया जा सका है|बस के अन्दर नहीं वरन बस की छत पर है और बार बार इलेक्ट्रिक मीडियाको संबोधित करने के साथ ही जुलुस में शामिल समर्थकों को शान्ति बनाए रखने की अपील करते जा रहे हैं|समर्थकों की भीड़ को देखते हुए शांति व्यवस्था और डिसिप्लिन को देखते हुए पोलिस भी जबरदस्ती से बचती दिख रही है |ऐसा लगता है की अपनी गिरफ्तारी का यह अभियान स्वयम बाबा द्वारा ही संचालित किया जा रहा है|
इसी बीच जनार्दन दिवेदी के बाद संसदीय कार्यों के राज्यमंत्री राजीव शुक्ला ने भी बाबा के अभियान की आलोचना की है और कहा है की बी जे पी के छह साल के राज्य में ४८ रुपये भी ब्लेक मणि नहीं लई जा सकी जबकि यूं पी ऐ की सर्कार अब तक ४८ लाख करोड़ रुपये ला चुकी है इसके बावजूद भी कांग्रेस को ही दोषी ठहराया जा रहा है|
उधर बाबा हिरासत से ही बस के ऊपर बैठे बैठे दिल्ली के २५० किलो मीटर के एरिया के निवासियों को इस जुलुस में शामिल होने का आह्वाहन भी करते जा रहे हैं|

बाबा को लेजा रही बस चींटी की रफ़्तार से रेंग रही है|

बाबा रामदेव को रंजित सिंह फ्लाई ओवर के समीप से दो घंटे पहले हिरासत में लिया गया था मगर अभी तक दिल्ली पोलिस वहां एकत्रित हज़ारों समर्थकों के बीच से बाबा को बाहर नहीं निकाल पाई है|पहले कहा जा रहा था की बवाना के राजिव गांधी स्टेडियम में बनाई गई अस्थाई जेल में ले जाया जाएगा मगर अब बताया जा रहा है की बवाना जाने के लिए पूर्व घोषित मार्ग[रूट] को बदल दिया गया है इससे समर्थकों में बैचेनी देखी जा रही है
इसके अलावा बाबा को हरिद्वार ले जाकर छोड़ने की भी चर्चा है|
गोरतलब है की राम लीला मैदान में पांच दिन के अनशन के बाद अपनी घोषित महा क्रान्ति के पहले चरण में संसद की तरफ आज लगभग १ बजे मार्च शुरू किया था|रंजित सिंह फ्लाई ओवर पर उन्हें रोक लिया गया और दफा १४४ के उल्लंघन के आरोप में हिरासत में लिया गया जहाँ से डी.टी.सी.बस में बवाना अस्थाई जेल ले जाया जा रहा है| हज़ारों समर्थकों के कारण बस चींटी की रफ्तार से रेंग रही है|

योग गुरु बाबा रामदेव को हिरासत में ले लिया गया है|

योग गुरु बाबा रामदेव को हिरासत में ले लिया गया है|
बाबा ने आज पूर्व घोषणा के अनुसार एक बजे रामलीला मैदान से संसद की तरफ कूच किया उनके साथ हज़ारों समर्थक भी थे | इस अनुशासित+ मर्यादित रोड शो से रामलीला मैदान से रंजित सिंह फ्लाई ओवर तक का समूचा मार्ग एनेकों लाईनों वाली मानव श्रंखला में बदल गया | रंजित सिंह फलाई ओवर पर बाबा के काफिले को रोक दिया गयाऔर वहां बाबा को हिरासत में ले लिया गया |
इससे पूर्व मंच पर नितिन गडकरी के मंच पर आने पर कांग्रेस ने मौका उठाया और इस पूरे आन्दोलन को कांग्रेस के विरुद्ध प्रयास बताया |
आज पूर्व घोषित इस आन्दोलन वाले दिन यूं पी ऐ अध्यक्षा श्रीमति सोनिया और गृह मंत्री दिल्ली से बाहर हैं|इसके अलावा कांग्रेस के जनार्दन दिवेदी ने पर्स कांफ्रेंस करके बाबा को मुखौटा बता कर बात को भड़काने का पूरा प्रयास किया|
इसके अलावा संसद में भी काले धन का मुद्दा हावी रहा |राज्यसभा को स्थगित भी किया गया

अन्ना कहें तो राजनीतिक पार्टी बनाने का फैसला तुरंत वापस ले लेंगे

अन्ना टीम के विशेष स्तम्भ अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया है कि अगर अन्ना कहें तो राजनीतिक पार्टी बनाने का फैसला तुरंत वापस ले लेंगे। उन्होंने लिखा है कि राजनीतिक पार्टी बनाने का फैसला सबसे पहले अन्ना ने ही दिया था। केजरीवाल ने ये भी लिखा है कि अन्ना के कहने के बाद ही राजनीतिक पार्टी बनाने का फैसला लिया गया था।
गौरतलब है कि जंतर मंतर के आंदोलन के आखिरी दिन ये तय किया था गया था कि अन्ना के सहयोगी अब राजनीतिक पार्टी बनाएंगे। लेकिन बीते दिनों ऐसी खबर भी आई कि अन्ना राजनीतिक विल्प देने के फैसले पर सहमत नहीं थे। बेहद दबाव के चलते उन्हें इस फैसले पर मुहर लगानी पड़ी।
वहीं अब केजरीवाल की इस मुद्दे पर सफाई असमंजस की स्थिति साफ करने के उद्देश्य से देखी जा रही है। बताया जा रहा है कि टीम अन्ना के अंदर पिछले तीन-
जानकार मानते हैं कि टीम अन्ना के अंदर होने वाला छोटे से छोटा फैसला भी अन्ना की सहमति के बिना नहीं हो सकता। इसलिए सदस्यों में किसी भी तरह की विवाद की अटकलों पर अब विराम लगा देना चाहिए।
गौरतलब है कि राजनीतिक विकल्प की तलाश में जंतर मंतर पर अनशन स्थगित किया गया था इसे केजरीवाल कि महत्वकांक्षा बता कर इन्हें कटघरे में लेन के प्रयास चल रहे हैं सम्भवत इसीलिए अब केजरीवाल ने अपनी स्थिति स्पस्ट करने के लिए गेंद फिर से अन्ना के पाले में डाल दी है|

ब्लैक मनी को शाम तक राष्ट्रीय संपत्ति घोषित नहीं किया तो कल से जनक्रांति

योग गुरु बाबा राम देव ने अपने अनशन के चौथे दिन आज नम्रता त्याग कर सीधे सीधे प्रधान मंत्री पर निशाना साध दिया है| ब्लैक मनी को शाम तक राष्ट्रीय संपत्ति घोषित नहीं किया तो कल से बाबा ने जनक्रांति का बिगुल फूंकने का एलान कर दिया है|
बाबा ने ब्लैक मनी के मुद्दे पर सीधे प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर हमला बोलते हुए कहा है कि अक्सर सरकार और कांग्रेस पार्टी के लोग कहते हैं कि प्रधानमंत्री ईमानदार हैं, इसलिए हम उन्हें शाम तक की मोहलत देते हैं। रामदेव ने कहा कि अगर आज शाम तक प्रधानमंत्री ब्लैक मनी को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित करने की कार्रवाई नहीं करते हैं, तो कल से जनक्रांति होगी।
उन्होंने कहा कि हमने सरकार को पूरा वक्त दिया। अब कोई भी हमारे खिलाफ यह आरोप नहीं लगा सकता है कि हम उसके खिलाफ अभियान चला रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने घोषणा की थी कि सरकार बनने के 100 दिन के भीतर ब्लैक मनी को वापस लाने की कार्रवाई की जाएगी। लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। इस तरह प्रधानमंत्री ने जनता से किया अपना वादा तोड़ा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की नीयत में खोट है, कहीं विदेशी बैंकों में जमा ब्लैक मनी कांग्रेस के नेताओं की तो नहीं है?
रामदेव ने कहा कि हम किसी पार्टी के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन कांग्रेस ने ज्यादातर समय देश पर शासन किया है इसलिए इस भ्रष्टाचार में उसका हाथ सबसे ज्यादा है। उन्होंने कहा कि शाम तक कोई कार्रवाई नहीं हुई तो उसके बाद हमारी बारी और पारी शुरू हो जाएगी।

मुम्बई की हिंसा में दो की मौत

समाचार एजेंसी पी टी आई के हवाले से बताया जा रहा है कि मुम्बई में आज दोपहर भड़की हिंसा में दो लोगों कि मौत हो गई है और लगभग ३०लोग जख्मी हो गए है | हालत काबू में बताये जा रहे हैं|
असाम और म्यांमार में हो रहे दंगो के विरोध में मुम्बई के आज़ाद मैदान में हजारों लोग आज इकट्टा हुए तीन से सवा तीन बजे दोपहर में अचानक भीड़ उग्र हो गई और पथराव शुरू कर दिया|पोलिस+मीडिया के ओ बी वाहन फूकं दिए गए \बी ई एस टी की बसें तोड़ दी गई और निजी वाहनों को भी निशाना बनाया गया |पोलिस ने भीड़ को काबू करने के लिए लाठी चलाई आंसू गैस के गौले छोड़े और हवाई फायर भी किया तब जाकर हिंसा पर उतारू भीड़ को काबू पाया जा सका |
बताया जा रहा है कि असाम और म्यांमार के दंगों और रिफ्यूजी केम्पों के प्रति मीडिया के उपेक्षा पूर्ण रवैये के प्रति अधिक आक्रोश था |
अधिक समाचार के लिए कृपया ” सुरक्षा की द्रष्टि से मुम्बई में अलर्ट घोषित कर दिया गया है” पर भी जाएँ

सुरक्षा की द्रष्टि से मुम्बई में अलर्ट घोषित कर दिया गया है

मुंबई पोलिस कमिशनर अरूप पटनायक ने अभीअभी मीडिया को संबोधित करते हुए यह भरोसा दिलाया है कि वहां हालत काबू में हैं |उन्होंने कहा कि ईश्वर की कृपा या आप लोगों के सहयोग से या ना मालूम किसके आशीर्वाद से आज मुम्बई बच गई |वरना बड़ा नुक्सान हो सकता था |उन्होंने बताया कि दक्षिण दिल्ली के इस आज़ाद मैदान में २०-२५ हज़ार लोगों के बीच सब कुछ शांति से चल रहा था |अचानक ३ या सवा तीन बजे के बाद एक दम भीड़ हिंसक हो गई लेकिन कमिशनर स्वयम मंच पर पहुँच गए और उग्र हो रहे वक्ताओं से बात करके उन्हें सम्भाला |यदपि कमिषर ने यह दावा किया कि उन्होंने सभी सुरक्षात्मक कदम उठा रखे थे और इसी रण निति के तहत वरिष्ठ अधिकारी वहां थे मगर इसी निति के तहत फ़ोर्स ज्यादा नहीं रखी गई थी उनका यह कहना था कि अगर फ़ोर्स ज्यादा तैनात की जाती तो उग्र भीड़ और हिंसक हो सकती थी
सुरक्षा की द्रष्टि से मुम्बई में अलर्ट घोषित कर दिया गया है
समान समाचार
असाम के दंगों के विरोध में मुम्बईकर भड़के हालत काबू में

असाम के दंगों के विरोध में मुम्बईकर भड़के हालत काबू में

मुम्बई में असाम दंगों के विरोध में भड़की हिंसा को काबू पा लिया गया है|दक्षिण मुंबई के आजाद मैदान में हजारों लोग जुटे थे। वे असम और म्‍यांमार में हुई हिंसा का विरोध कर रहे थे। लेकिन उनमें से कुछ लोग अचानक हिंसक हो गए। उन्‍होंने मीडिया और पुलिस की गाडि़यों में आग लगा दी दिल्‍ली में जहां योग गुरु बाबा रामदेव के नेतृत्‍व में रामलीला मैदान में लोग शांतिपूर्वक विरोध कर रहे थे, वहीं मुंबई में सरकार विरोधी भीड़ हिंसक हो गई। बाबा ने मुम्बईकर से शान्ति और सयम की अपील की है|
गृह मंत्रालय ने भी अतिरिक्त सुरक्षा बलों की आवश्यकता के विषय में पूछा है|
दक्षिण मुंबई के आजाद मैदान में करीब 50000 लोग जुटे थे। वे असम और म्‍यांमार में हुई हिंसा का विरोध कर रहे थे। लेकिन उनमें से कुछ लोग अचानक हिंसक हो गए। उन्‍होंने मीडिया और पुलिस की गाडि़यों में आग लगा दी।भीड़ ने मैदान से बाहर निकलकर पहले रास्ता रोकने की कोशिश की और उसके बाद कई गाड़ियों को आग लगा दी। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया। मुंबई पुलिस के साथ-साथ केंद्रीय बलों के जवानों को भी बुलाया गया। पुलिस ने हालात काबू में करने के लिए फायरिंग भी की। फिलहाल स्थिति को पूरी तरह नियंत्रण में कर लिया गया है।
भीड़ ने न्‍यूज चैनलों के दो ओवी वैन जला दिए। तीन फोटो जर्नालिस्ट गंभीर रूप से घायल हुए हैं। कुछ रिपोर्टर भी घायल हैं। फिलहाल मुंबई के आजाद मैदान के आसपास के इलाकों में हालात तनावपू्र्ण बने हुए हैं।टी वी चेनलों पर लगातार शान्ति बनाए रखने की अपील की जा रही है \
मुंबई पुलिस कमिश्‍नर देवेंद्र भाटी ने इसमें कुछ शरारती तत्वोंका हाथ बताते हुए मीडिया के माध्यम से लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है

बाबा रामदेव के पास २२५ सांसदों का समर्थन

योग गुरु बाबा रामदेव ने अज अपने उपवास के तीसरे दिन यह दावा किया है कि उनको 225 सासदों का समर्थन हासिल है।
असम, आध्र, गोवा, गुजरात आदि प्रदेशों के काग्रेस सासदों ने भी उन्हें लिखित में उनके मुद्दों पर समर्थन दिया है। रामदेव ने कहा कि वह सासदों का यह समर्थन पत्र राष्ट्रपति को सौंपेंगे। इस बीच, रामदेव ने दूसरे राजनीतिक दलों से से भी चुप्पी तोड़ने और अपना रुख साफ करने को कहा।
उन्होंने शुक्रवार को ही साफ कर दिया था कि यदि सरकार इन तीन दिनों में कोई बड़ा फैसला नहीं करती है तो वह अपना आदोलन 14 अगस्त तक आगे बढ़ा देंगे। लेकिन अभी तक उन्होंने अपनी रणनीति का खुलासा नहीं किया है। यदि सरकार अपने रुख पर अडिग रही तो 14 अगस्त के बाद उनका विरोध प्रदर्शन तेज हो जाएगा।और महाक्रांति होगी |
रामदेव ने कहा कि सरकार के पास उन लोगों के नामों की सूची है जिन्होंने विदेश में काला धन जमा कर रखा है। लेकिन सरकार अपने अड़ियल रवैये से उन लोगों को बचाने में लगी हुई है।
सरकार ने भी काला धन निकासी के लिए किये जा रहे दो साल के प्रयासों के विषय में जानकारी रिलीज की है
भाजपा भी बाबा के आन्दोलन के साथ खड़ी नज़र आने लगी है|