Ad

Category: Unrest Strikes

७ महीने के बकाया वेतन के लिए किंग फिशर एयर लाईन्स के अभियंता हड़ताल पर गए

सात महीने के बकाया वेतन के तुरंत भुगतान के लिए किंगफिशर एयरलाइंस के दिल्ली और मुम्बई के अभियंताओं का एक समूह रविवार शाम हड़ताल पर चला गया. है| इस हड़ताल से उड़ानें प्रभावित हो रही हैं.
बताया जा रहा है कि फिलहाल प्रबंधक रैंक के अभियंताओं की सेवाएं ली जा रही हैं.
डीजीसीए के नियमों के मुताबिक अभियंता से प्रमाणित नहीं होने पर विमान उड़ान नहीं भर सकता है|
डीजीसीए के नियमों के मुताबिक अभियंता द्वारा प्रमाणित नहीं होने पर विमान उड़ान नहीं भर सकता है।

पकिस्तान में एक चौराहे का नाम शहीदे आज़म भगत सिंह को समर्पित

पाकिस्तान के अधिकारियों ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी शहीदे आज़म भगत सिंह की क्रांतिकारी भावना+ आजादी के लिए दिए गए सर्वोच्च बलिदान और इस उपमहाद्वीप में ब्रितानी शासकों के खिलाफ उनकी भूमिका को स्वीकार करते हुये पूर्वी शहर लाहौर में एक चौराहे का नाम भगत सिंह के नाम पर रखा है । यह उस अविभाज्य भारत के सपूत को सच्ची श्रधान्जली है|
बताया गया है कि शदमान चौक को अब भगत सिंह चौक के नाम से जाना जायेगा ।
उल्लेखनीय है कि मार्च 1931 में लाहौर जेल में भगत सिंह को फांसी दे दी गई थी । यह वही स्थान है जहां बाद में शादमान चौराहा बनाया गया । नाम पर रखा है।
हालांकि लाहौर के कई हिंदू नामों को बदल दिया गया है फिर भी इस बेहद व्यस्त चौराहे का नाम भगत सिंह रखे जाने का स्वागत किया गया है ।
बीते शुक्रवार को लाहौर में भगत सिंह का 105वां जन्मदिन मनाया गया। इस मौके पर ‘भगत सिंह मेमोरियल सोसायटी’ ने दो अलग अलग आयोजन किये। यह सोसायटी 24 राजनीतिक और गैर राजनीतिक संगठनों का समूह हैइस मौके पर अजोका थिएटर में ‘भगत सिंह’ नामक फिल्म भी दिखाई गई।
लाहौर से 80 किमी जारांवाला तहसील का पिंगा गांव भगत सिंह का पैत्रक गांव है।भगत सिंह के दादा ने गांव में उनकी याद में एक प्राथमिक स्कूल बनवाया था। इस स्कूल की हालत अब खराब हो चुकी है।
जिला प्रशासन प्रमुख नूरूल अमीन मेंगल ने हाल ही में सिटी डिस्ट्रिक्ट गवर्नमेंट ऑफ लाहौर (सीडीजीएल) को एक सप्ताह के भीतर चौक का नाम बदलने का निर्देश दिया था।मेंगल ने सीडीजीएल के मुख्य प्रचार अधिकारी नदीम गिलानी को याद दिलाया, आप जानते हैं कि भगत सिंह कौन थे। अंग्रेजों के खिलाफ लड़ते हुए वे इसी जगह (शादमन चौक) पर शहीद हो गए थे।

अपने एल पी जी कनेक्शन अपने घर में अपने ही बच्चे के नाम करवाने के लिए डेड़ से दो हज़ार अतिरिक्त देने पड़ रहे हैं|

एल पी जी वितरण को लेकर लाभार्थिओं के लिए परेशानियां बड़ती ही जा रही हैं|अब कनेक्शन को ट्रांसफर कराने की सुविधा तो दे दी गई है मगर उसके लिए गारंटी या सिक्योरिटी की राशि करंट रेट्स से वसूली जा रही है इससे उपभोक्ताओं को

अपने एल पी जी कनेक्शन अपने घर में अपने ही बच्चे के नाम करवाने के लिए डेड़ से दो हज़ार अतिरिक्त देने पड़ रहे हैं|


परिवार बड़े हो गए एक घर में दो दो रसोईयान हो गई |राशन कार्ड चूंकी परिवार के मुखिया के नाम ही बनाता था सो गैस कनेक्शन भी केवल परिवार के मुखिया के नाम ही है और आज से नहीं दशकों पुराने हैं||अब कहा जा रहा है कि एक व्यक्ति के नाम केवल एक ही कनेक्शन होगा अर्थार्त दूसरा कनेक्शन अवैध हो गया|जो अभी तक वैध था वोह अचानक अवैध हो गया|अपने वैध हुए गैस कनेक्शन को पुनः वैध करवाने के लिए डेड़ से दो हज़ार का भुगतान किया जाना मजबूरी बन गया है|इससे गैस कंपनियों को बैठे बैठाए आतिरिक्त फंड मुहैय्या हो जाएगा| इसके अलावा नए कनेक्शन के लिए आवेदन तो लिए जा रहे हैं मगर कनक्शन के नाम पर केवल टाल मटौल ही दिखाई दे रहा है| गौर तलब है कि वर्तमान में इन गैस कंपनियों के पास लगभग ३०० बिलियन डॉलर्स का रिजर्व बताया जा रहा है|जिसे कहीं भी इन्वेस्ट नहीं किया जा सका है| विशेषग्य और कम्पनिओं के कर्ता धर्ताओं द्वारा इस रिजर्व को इन्वेस्ट करने के लिए रिक्वेस्ट की जा रहा है मगर सरकार ने अभी तक इस दिशा में कोई सुधारात्मक निर्णय नहीं लिया है|अगर विशेषज्ञों की सलाह मान कर इस हियुज रिजर्व को इन्वेस्ट कर लिया जाता तो उसकी आय मात्र से ही सब्सिडी का बोझ काफी हद तक कम हो सकता था| लेकिन ऐसा नहीं किया गया|अब आर्थिक सुधारों के नाम पर रसोई गैस पर सब्सिडी को खत्म करने की सरकारी कावायद शुरू हो गई है| इससे मध्यम [निम्न]वर्ग के साथ निम्न [मध्यम]वर्ग में भी हाहाकार मची है|टी एम् सी जैसी सहयोगी घटक ने तो केंद्र सरकार से समर्थन वापिस भी ले लिया है|उत्तर प्रदेश पूरी तरह विरोध में आ गया है| कांग्रेसी प्रदेशों को सब्सिडी वाले सिलेंडरों की तादाद ६ से ९ करने के निर्देश दे दिए गए हैं|इस सारी उठक बैठक के बाद भी गैस की समस्या विकराल होती जा रही है| कंप्यूटर पर डाटा फीड करने के नाम पर उपभोक्ताओं का उत्पीडन जारी है|सरकार और विपक्ष अपने स्कोर बनानेके लिए गोटियाँ ही फिट करने में लगे हैं|
इसी कड़ी में पहले कहा गया कि नए कनेक्शन अभी नहीं दिए जायेंगेंलेकिन दबाब पड़ने पर अब कहा जा रहा है कि जिन्हें आवंटन पत्र मिल चुका है उन्हें कनेक्शन दिया जा रहा है|यानि नए का विवरण कंप्यूटर में हाथों हाथ दर्ज़ किया जा रहा है|
तेल एवं प्राकृतिक गैस राज्यमंत्री आरपीएन सिंह के अनुसार डुप्लीकेट कनेक्शन खत्म करने और सॉफ्टवेयर अपडेशन का काम जारी है। इससे नया आवंटन पत्र जारी करने में सिर्फ तीन हफ्ते की देरी हो रही है।मंत्री ने साफ किया कि जिन लोगों को आवंटन पत्र मिल गया है उन्हें कनेक्शन दिया जा रहा है। मंत्री ने कहा कि कंपनी और गैस एजेंसी का सॉफ्टवेयर अपडेट किया जा रहा है। जिससे कि साल में रियायती दर पर सिर्फ छह सिलेंडर देने के फैसले को अमल में लाया जा सके। साथ ही ‘एक पता पर एक कनेक्शन’ के लिए भी देशभर में सर्वे किया जा रहा है। ताकि रसोई गैस की कालाबाजारी रोकी जा सके। इन सब कामों में कम से कम तीन हफ्ते का वक्त लगेगा इंडियन ऑयल, भारत और हिंदुस्तान पेट्रोलियम के देश में करीब 14 करोड़ उपभोक्ता हैं। इन कंपनियों की ओर से हर साल 100 करोड़ से अधिक गैस सिलेंडर जारी किए जाते हैं। तेल विपणन कंपनियां करीब 14 करोड़ उपभोक्तापओं को सेवाएं दे रही हैं और देशभर में हर वर्ष 100 करोड़ +सिलेंडर वितरित किये जाते हैं। । इसके साथ-साथ तीनों तेल कंपनियों के पास आवेदनकर्ता की जानकारी भेजी जाएगी ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि एक से ज्या दा कनेक्शनन नहीं जारी किया गया है। केंद्र सरकार की ओर से एक उपभोक्ता को साल में सिर्फ 6 सब्सिडी वाले सिलिंडर दिए जाने के फैसले के बाद से तेल और गैस कंपनियों ने कनेक्शनों पर सख्ती करनी शुरू कर दी है।इसके बावजूद भी गैस की काला बाज़ारी को रोकने की कवायद मात्र रेगिस्तान में मृग तृष्णा ही लग रही है|

केलकर समिति ने गरीबों का भी ईंधन और राशन महंगा करने की सलाह दी

भाग्य से यूं पी ऐ को सब्सिडी का एक चिराग हाथ लग गया उसे बार बार घिसने से सम्मान दिलाने वाले जिन के बजाये अब तो अपमान करने वाला जिन हाज़िर होने लग गया है|इसे चिराग को घिसने के लिए केलकर समिति ने भी सिफारिश कर दी है| केलकर समिति ने सरकार को सलाह दी है कि रसोई गैस, केरोसीन, डीजल तथा राशन की दुकान से मिलने वाले अनाज के दाम बढाकर विभिन्न तरह की सब्सिडी को समाप्त कर दिया जाना चाहिए| समिति ने डीजल के दाम में चार रुपए प्रति लीटर और गैस में 50 रुपए प्रति सिलेंडर इजाफा करने की सिफारिश की है। साथ ही अनाज और खाद की सब्सिडी खत्म करने का सुझाव दिया है। हालांकि सरकार ने फिलहाल इस रिपोर्ट को नामंजूर करने के संकेत दिए हैं।
पूर्व वित्त सचिव विजय केलकर की अध्यक्षता वाली इस समिति ने सब्सिडी बिल में कटौती के लिए कई साहसिक कदम उठाने का सुझाव भी दिया है जिनको सरकार से समर्थन नहीं मिला है। लगता है की सरकार अब छाज से भी घबराने लग गई है|
गौरतलब है कि सरकार ने हाल ही में डीजल के दाम बढाकर सस्ते रसोई गैस सिलेंडर की संख्या सीमित कर दी थी और अपने इन सुधारों को लेकर अच्छे खासे विरोध से दो चार हो रही है। यहाँ तक कि एक घटक सरकार से बाहर भी हो गया है| इसीलिए राजकोषीय मजबू ती का खाका बनाने के लिए गठित इस समिति की सिफारिशों पर अंतिम फैसला भागीदारों के सुझाव: टिप्पणियां मिलने के बाद किये जाने का निर्णय लिया गया है| समिति के अनुसार विभिन्न घरेलू तथा वैश्विक समस्याओं को देखते हुए भारतीय अर्थव्यवस्था को तूफान का सामना करना पड़ सकता है। समिति ने राजकोषीय घाटे को 2014-15 में घटाकर जीडीपी का 3.9 प्रतिशत करने का सुझाव दिया है। इसके मौजूदा वित्त वर्ष में 5.1 प्रतिशत रहने का अनुमान है। समिति के सुझावों में सार्वजनिक कंपनियों (पीएसयू) की अधिशेष जमीन की ब्रिकी, विनिवेश प्रक्रिया में तेजी तथा राजस्व बढाने के लिए सेवा कर दायरा बढाना शामिल है। समिति ने बहुप्रचारित खाद्य सुरक्षा विधेयक को चरणबद्ध तरीके से कार्यान्वित करने तथा यूरिया की कीमतों में बढोतरी का समर्थन किया है।
समिति की सिफारिशों पर सरकार का पक्ष रखते हुए आर्थिक मामलात विभाग में सचिव अरविंद मायाराम ने कहा, सरकार का मानना है कि ऐसे देश में जहां जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा गरीब हो, सब्सिडी का एक स्तर आवश्यक है उन्होंने कहा कि कुछ सब्सिडी को वापस लेने की समिति की सिफारिश सरकारी उल्लेखित नीति के ठीक उलटा है|
वित्त आयोग के पूर्व चेयरमैन विजय केलकर की अध्यक्षता वाली इस समिति ने डीजल तथा एलपीजी पर सब्सिडी को अगले चार साल में चरणबद्ध ढंग से समाप्त करने का सुझाव दिया है। इसी तरह समिति ने केरोसीन सब्सिडी में 2014-15 तक एक तिहाई कमी करने की सलाह दी है।
[1]आधी डीजल सब्सिडी चालू वित्तवर्ष में खत्म करने और बाकी को अगले वित्तवर्ष में खत्म कर देना चाहिए
[2] कूकिंग गैस पर सब्सिडी 2015 तक समाप्त की जाए
[3]केरोसिन सब्सिडी में दो तिहाई कमी लाकर दाम दो रुपये प्रति लीटर तक बढ़ाया जाए
[4] खाद्य सब्सिडी को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने की योजना बने
[5]बाल्को की बची हिस्सेदारी भी बेची जाए

भाजपा विधायक पर करीब दस राउंड फायरिंग

उत्तर प्रदेश के सरधना क्षेत्र में भाजपा विधायक संगीत सोम पर शुक्रवार की सुबह बाइक सवार दो व्यक्तियों ने दस राउंड गोली चलायी. | इस घटना में सोम बाल-बाल बच गए.
प्राप्त जानकारी के अनुसार यह फायरिंग उस समय की गई जब सोम सरधना स्थित अपने आवास के बाहर पैदल टहल रहे थे|
इस दौरान एक बाइक पर दो व्यक्ति वहां पहुंचे जिन्होंने सोम को निशाना बनाते हुए उन पर करीब 10 राउंड फायरिंग की | विधायक ने किसी तरह फायरिंग से बचते हुए भाग कर अपनी जान बचाई.
इस घटना से भाजपा नेताओं में गहरा आक्रोश है.| विधायक ने इस मामले में बाइक सवार दो अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है |
भाजपा ने कहा कि पुलिस यदि जल्दी ही भाजपा विधायक के हमलावरों को गिरफ्तार नही करती तो भाजपा कडा कदम उठाने को मजबूर होगी.
.

उत्तर प्रदेश के सरधना क्षेत्र में भाजपा विधायक संगीत सोम पर शुक्रवार की सुबह बाइक सवार दो व्यक्तियों ने दस राउंड गोली चलायी. |

‘द इनोसेंस ऑफ मुस्लिम्स’ के निर्माता बैसेले नाकौला गिरफ्तार

इस्लाम विरोधी फिल्म बनाने वाले निर्माता नाकौला बैसेले नाकौला को अमेरिका में गिरफ्तार कर लिया गया है।
अब उसे लॉस एंजिलिस की संघीय अदालत में पेश किया जाना है। सुरक्षा कारणों से यह पता नहीं चल पाया है की उसे किस अदालत में पेश किया जाएगा| स्थानीय मीडिया की खबरों के मुताबिक, फिल्मकार की वीडियो कांफ्रेंस के जरिए अदालत में पेशी की संभावना है। नाकौला को पूछताछ के लिए इस महीने की शुरूआत में हिरासत में भी लिया गया था, लेकिन बाद में उसे छोड़ दिया गया इस फिल्म निर्माता की बनाई फिल्म पर मुस्लिमों ने इस्लाम को गलत तरीके से पेश कर उसका अपमान करने का आरोप लगाया। फिल्म के विरोध में अरब जगत में अमेरिका विरोधी प्रदर्शन शुरू हो गए। इन प्रदर्शनों में कई लोगों की जान गई और अमेरिकी स्कूलों, दूतावासों और कारोबारी प्रतिष्ठानों को निशाना बनाया गया। नाकोउला की फिल्म ‘द इनोसेंस ऑफ मुस्लिम्स’ की वजह से दुनियाभर के मुस्लिम देशों में विरोध प्रदर्शन हुए।वर्ष 2011 में एक दूसरे मामले में उसे जमानत मिली हुई है|अधिकारियों की नजर उस पर थी कि वह जमानत की शर्तो का पालन कर रहा है या नहीं? अभी तक अभिव्यक्ति के अधिकार के नाम पर उसे अभी दान मिला हुआ था मगर इस विषय में हाल ही में आयोजित संयुक्त राष्ट्र के सम्मलेन में पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने भी कार्यवाही की मांग की थी| अब सब तरफ अमेरिका का विरोध होने पर संभवत यह गिरफ्तारी हुई है|

‘द इनोसेंस ऑफ मुस्लिम्स’ के निर्माता बैसेले नाकौला गिरफ्तार

वाहन चोर पकडे :आर टी ओ में फर्जी कागजात भी बनवाते थे

मेरठ पोलिस ने आज चोरी के सोलह वाहनों के साथ चोरों का गिरोह पकड़ने में कामयाबी हासिल की | पोलिस चेकिंग के दौरान हाथ आये सद्दाम[सिंघावली]मुकेश[मुजफ्फर नगर]राहुल[खतौली]गौरव [मोदी नगर] ने दौराला पोलिस को पूछताछ के दौरान १४ बाईक और दो कार बरामद कराई |चोरों के अनुसार ये लोग विभिन्न राज्यों से वाहन चोरी करके लाते थे और आर टी ओ में फर्जी कागज़ बनवा कर उन्हें बीच देते थे|
इस पकड़ से एक बार फिर आर टी ओ की भूमिका संदिग्ध हो गई है

चोरी के सोलह वाहनों के साथ चोरों का गिरोह पकड़ने में कामयाबी

काश्मीरी महिला पोलिस ने भविष्य की नाईटेंगेल्स को जख्मी किया

भारत के स्वर्ग काश्मीर में सब कुछ सामान्य नहीं है | नव निर्वाचित पंचायतों के लगभग पचास सरपंचों के इस्तीफे का मामला अभी सुलझा नहीं था कि अब नर्सिंग छात्रों के असंतोष और उन पर पोलिस के लाठी चार्ज के मामले ने विश्व का ध्यान खींचना शुरू कर दिया है|पाकिस्तानी मीडिया ने भी इसे प्रमुखता से चिन्हित किया है| दूसरों के जख्मों को सिलने वाली भविष्य की फ्लोरेसेंट नाईटएंगेल्स बुधवार को हुए लाठी चार्ज में खुद जख्मी कर दी गई|
गौर तलब है कि जे & के की ग्रीष्म कालीन राजधानी में नर्स छात्राओं ने प्रदर्शन किया |तीसरे साल में ली गई परीक्षाओं में अधिकाँश छात्राओं को फ़ैल कर दिया गया है|इसके विरोध में काश्मीर में शांति पूर्वक धरना प्रदर्शन किया गया |इसे बर्बरतापूर्वक कुचलने के लिए पोलिस ने लाठी चार्ज कर दिया|आधा दर्ज़न के लगभग छात्राओं को हिरासत में भी ले लिया गया है|

काश्मीरी महिला पोलिस ने भविष्य की नाईटेंगेल्स को जख्मी किया

रक्षा छेत्र में निवेश को आने दो :अरुण शौरी

पूर्व केन्द्रीय मंत्री+ वरिष्ठ पत्रकार और भाजपा लीडर अरुण शौरी ने आज आर्थिक स्थिति को सुद्र्ड करने के लिए डिफेंस में प्रोडक्शन को बढावा देने के लिए निजी पूंजी निवेश को इजाज़त देने का सुझाव दिया|एक निजी चेनल पर एक वरिष्ठ एंकर के प्रश्नों का जवाब देते हुए श्री शौरी ने सुझाव दिया किया कि डी आर डी ओ फ़िलहाल भारतीय रक्षा सेवाओं के लिए आवश्यक सामान को मुहैय्या करवाने में सक्षम नहीं है |जी डी १२% से २% रह गई है|इससे डिफेंस पर भी असर पड़ता है|ऐसे में डिफेंस सेक्टर में प्रोडक्शन के लिए निजी पूंजी को आने देना चाहिए|इससे आर्थिक स्थिति सुधरेगी| प्रोडक्शन बढेगा+पूंजी बढेगी और नौकरियां भी बढेंगी|उन्होंने बताया कि उनके मंत्रीमंडल के रक्षा मंत्री जार्ज फर्नांडीज से लेकर वर्तमान ऐ के एंटोनी तक कहते आ रहे हैं कि इस छेत्र में पूँजी निवेश को देखेंगे मगर अभी तक कुछ नहीं हुआ|उन्होंने तत्काल रक्षा छेत्र में प्रोडक्शन के लिए पूंजी निवेश को ऐलाओ किये जाने पर जोर दिया

रालोद के प्रदेश अध्यक्ष बाबा हरदेव सिंह ने ऍफ़ डी आई के विरोध में इस्तीफा दिया

एविएशन में ऍफ़ डी आई से कांग्रेस के अलावा अगर किसी दूसरे राजनीतिक दल को फायदा पहुँच सकता है तो वह है राष्ट्रीय लोक दल [ रा लो द] क्यूँकी इस पार्टी के सर्वोच्च नेता चौधरी अजित सिंह सिविल एविएशन के मंत्री हैं और उनकी रजा मंदी से ही एविएशन में ऍफ़ डी आई को मंजूरी दी गई है लेकिन रालोद के उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष बाबा हर देव सिंह ने इसी मुद्दे पर रा लो द को छोड़ने का ऐलान कर दिया है|
लोकसभा चुनाव के पूर्व राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के अध्यक्ष और केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री अजित सिंह व बाबा हरदेव सिंह के बीच एकाएक बड़े इन मतभेदों से स्वयम अजित सिंह और पार्टी को करार झटका लगा है क्यूंकि पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पूर्व नौकर शाह बाबा हरदेव सिंह ने अपने पद से त्यागपत्र दे दिया है ।
इस्तीफे में कहा गया है कि सैद्धांतिक मतभेदों के कारण यह त्यागपत्र दिया गया है|। यह भी चर्चा में है कि उनके साथ पार्टी से और पदाधिकारी भी रालोद से नाता तोड़ सकते हैं।
बाबा हरदेव का कहना है कि हाल में घटी कुछ घटनायें उनकी खुद की नीतियों से मेल नहीं खाती इसीलिये उन्होंने पार्टी अध्यक्ष अजित सिंह को अवगत करा दिया है। उन्होंने कहा कि डीजल की कीमतों में वृद्धि और खुदरा व्यापार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के वह पहले भी विरोधी रहे हैं और आज भी उसका विरोध करते हैं। ऐसी हालत में वह पार्टी के अध्यक्ष पद पर नहीं रह सकते। बाबा हरदेव सिंह ने कहा कि वह पार्टी की सदस्यता से त्यागपत्र नहीं दे रहे हैं। श्री सिंह ने कहा कि केन्द्र की गलत नीतियों पर उसे समर्थन जारी रखने के सवाल पर वह अपने पद पर बने नहीं रह सकते थे। बाबा हरदेव सिंह ने पार्टी अध्यक्ष अजित सिह को भेजे त्यागपत्र में लिखा है कि वह सैद्धान्तिक कारणों से राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष पद के दायित्वों का निर्वहन करने में असमर्थ हैं।
बाबा ने त्यागपत्र देने वाले पार्टी पदाधिकारियों से कहा कि विरोध उनका[बाबा] है लिहाजा वह[पदाधिकारी] इस्तीफा नहीं दें लेकिन अभी कुछ और नेताओं द्वारा इस सवाल पर पार्टी छोड़ने की चर्चा होने लगी है| श्री सिंह के अलावा इस्तीफा देने वालों में आईटी एवं मीडिया प्रकोष्ठ अध्यक्ष विशाल सिंह + प्रदेश महासचिव मध्य जोन विजय विक्रम सिंह+अध्यक्ष छात्र प्रकोष्ठ शशांक सिंह+ उपाध्यक्ष छात्र प्रकोष्ठ अनिल सिंह तथा अधिवक्ता प्रकोष्ठ के अध्यक्ष अंकुर सिंह के नाम सामने आ रहे हैं|