Ad

Category: Unrest Strikes

पहले चेयरमेन के जन्म दिन पर भी नहीं चल रही राज्यसभा

राज्यसभा ने आज प्रात ११ बजे अपने पहले चेयरमेन डाक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन को उनके जन्म दिन पर याद किया लेकिन इस क्षणिक ओपचारिकता के तत्काल पश्चात रोज़ाना की तरह हंगामा शुरू हो गया और प्रश्न काल को भी स्थगित करते हुए सदन को १२ बजे तक के लिए एडजर्न कर दिया गया||
गौरतलब है की ५-०९-१८८८ को जन्मे सर्वपल्ली डाक्टर राधा कृष्णन एक चिन्तक+एजुकेश्निस्टऔर महान दार्शनिक भी थे|इनके जन्म दिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है| अनेकों सरकारी गैर सरकारी संस्थान शिक्षकों का सम्मान करते हैं |बड़े बड़े विज्ञापन मीडिया में छपवाए जाते है|लेकिन शिक्षा के प्रति उनके चिन्तन+ दर्शन को केवल उनके जन्मोत्सव तक ही सिमित कर दिया गया है| सबसे बड़े लोक तंत्र के मंदिर में आज राज्यसभा और लोक सभा के स्थगन से तो यही दिखाई देता है |शायद शिक्षा के छेत्र में नीति निर्माण+ कुशल प्रबंधन और गवर्नेंस की शिक्षा देने में अनदेखी किये जाने से यह नकारात्मक परिणाम आ रहे हैं|
देश के शिक्षण संस्थाओं और शिक्षकों की स्थिति आज भी दयनीय ही है |निरक्षरता के अभिशाप को पूरे तरह से मिटाया नहीं जा सका है| आज भी एक बड़े तबके के लिए आरक्षण की बैसाखियों की जरुरत है|जाहिर है ऐसे में शिक्षा के छेत्र में बहुत कुछ किया जाना है|घरेलू सकल उत्पाद का लगभग १३% शिक्षा पर खर्चा बुक किया जा रहा है लेकिन वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए सबसे पहले संसद को चलाने की शिक्षा दी जानी जरुरी है|इसके बाद रोज़गार परक शिक्षा को प्राथमिकता दी जानी चाहिए|

प्रोमोशन में रिजर्वेशन के खिलाफ यूं पी में बुधवार को हड़ताल

संसद को ठप्प करके सरकारी सेवाओं में प्रोमोशन पर रिजर्वेशन को केबिनेट ने मंजूरी देकर आरक्षण के जिन्न को एक बार फिर बाहर निकाल दिया है| बेशक इस मंजूरी से बी जे पी पर दबाब बना है |लोगों का ध्यान भी कोयले से हटा है| मगर इसके विरोध में बुधवार को उत्तर प्रदेश में आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर अन्य विभागों के लगभग 18 लाख कर्मचारी हड़ताल पर भी रहेंगे।
प्रमोशन में रिजर्वेशन के विरोध में गठित सर्वजन हिताय संघर्ष समिति के अध्यक्ष शैलेन्द्र दुबे ने के अनुसार समिति की अपील पर केन्द्र सरकार के निर्णय के विरोध में राज्य सरकार के लगभग 18 लाख कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। इससे पूर्व प्रदेश की सपा सरकार पहले ही इसका विरोध कर चुकी है|
प्राप्त जानकारी के अनुसार आरक्षण में प्रमोशन के विरोध में प्रदेश की राजधानी लखनऊ सहित सभी जिला मुख्यालयों पर राज्य सरकार के कई विभागों से जुडे़ कर्मचारी और अधिकारी धरना प्रदर्शन करेंगे। इस कार्यक्रम से आपातकालीन सेवाओं को मुक्त रखा गया है। | प्रमोशन में भी रिजर्वेशन का प्रस्ताव संविधान के बुनियादी ढांचे पर प्रहार है। यह नेचुरल जस्टिस के खिलाफ बताया जा रहा है| कहा जा रहा है कि इससे पहले इस उद्देश्य से संविधान संशोधन के चार प्रयास विफल हो चुके हैं।
आरक्षण विरोधियों द्वारा यह दावा किया जा रहा है कि देश के लगभग तीन करोड़ सरकारी कर्मचारी केन्द्र सरकार के पांचवे प्रयास को भी बर्दाश्त नहीं करेंगे|
गौरतलब है कि यूं पी सहित 3 राज्यों में अनुसूचितजाति जनजाति के लिए प्रोमोशन पर आरक्षण लागू नहीं है सुप्रीम कोर्ट द्वारा इसे नामंजूर किये जाने के बावजूद आज केबिनेट ने अपनी मंजूरी दे दी है|
बेशक निजीकरण से सरकारी नौकरियों का दायरा सुकड़ता जा रहा है मगर अभी भी यह सरकारों के लिए वोट बटौरने का सस्ता और आसान डिवाईस है|

ठाकरे परिवार के विरुद्ध सिवान में गदर्भ प्रदर्शन

लगता है कि अब राजनीति राष्ट्रनीति नहीं रह गई क्योंकि अब

File Photo

सिवान [बिहार] में सोमवार को युवा कांग्रेस अध्यक्ष रिजवान अहमद के नेतृत्व में सैकड़ों युवा काग्रेसी कार्यकर्ताओं ने मनसे प्रमुख राज ठाकरे समेत बाल ठाकरे, उद्धव ठाकरे के विरुद्ध गदर्भ [ गधा] लेकर शहर के जेपी चौक पर विरोध प्रदर्शन किया।
युवा कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने शहर के मुख्य मार्ग होते हुए जेपी चौक पर गदर्भों के साथ प्रदर्शन किया तथा राज ठाकरे के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाने की मांग की।
इसके बाद अध्यक्ष रिजवान अहमद ने राज ठाकरे के मनसे पर प्रतिबंध लगाते हुए मनसे को अलगाववादी घोषित करने की मांग की।
राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के ये प्रदर्शनकारी मुंबई का चूहा राज ठाकरे, उद्धव ठाकरे बाहर आओ के नारे लगा रहे थे।
गौरतलब है कि महाराष्ट्रा में हुए अपराध पर अपराधिक ब्यान महाराष्ट्रा में जारी किये गए हैं|कांग्रेस वहां सत्ता में है राष्ट्रीय पार्टी है मगर महाराष्ट्रा में कोई प्रतिक्रिया व्यक्त करने के बजाये बिहार में छोटा मौटा नौटंकी करके इतिश्री कर ली गई है| असली आतंकवाद और आतंकवादियों कि शरण स्थली का मुद्दा पार्श्व में डाल दिया गया है|यह देश के लिए दुर्भाग्य पूर्ण साबित हो सकता है|

बिहार में कुख्यातों की संपत्ति जब्त होगी

बिहार प्रदेश को अपराधियों की शरणस्थलि प्रूव करने में बेशक मुम्बईकर ठाकरे परिवार दिन रात एक कर रहा है मगर बिहार सरकार ने यह लेबल हटाने को एक कदम आगे बड़ा दिया है|
बिहार प्रदेश में अपराधियों की संपत्ति जब्त करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान में जेल में बंद कुख्यात अपराधियों की संपत्ति जल्द ही जब्त कर ली जाएगी।
बीते हफ्ते बिहार पोलिस प्रमुख श्री अभयानंद ने कहा था कि अपराधियों से सख्ती से निपटने और अपराधों को रोकने के लिए कुख्यात अपराधियों की संपत्ति जब्त की जाएगी। संपत्ति जब्त करने के लिए प्रदेश के कुख्यात अपराधियों की लिस्ट बना ली गई है|
अभी तक राज्य सरकार केवल अधिकारियों और मध्यस्थों द्वारा बेईमानी से बनाई गई संपत्ति को जब्त करती थी।यह पहली बार है, जब बिहार में अपराधियों की संपत्ति जब्त की जा रही है। बेशक महाराष्ट्र सरकार द्वारा विदेशी या स्वदेशी आतंकवाद से निबटने के बजाय बिहार सरकार के खिलाफ राज ठाकरे जैसे नेताओं को शह दे जा रही है मगर बिहार में अपराधियों पर लगाम कसने को कवायद जारी है|

अरविंद केजरीवाल को एरेस्ट करके ओब्लाईज़ नहीं किया

अरविंद केजरीवाल इंडिया अगेंस्ट करप्शन[आई ऐ सी] के अन्य प्रमुख नेताओं के साथ आज सोमवार को दिल्ली के संसद मार्ग पोलिस थाने पर गिरफ्तारी देने पहुंचे लेकिन पोलिस ने उन्हें एरेस्ट करके ओब्लाईज़ नहीं किया | ठाणे के बाहर सेकड़ों समर्थक काफी देर तक नारे लगाते रहे भजन गाते रहे और अपना विरोध दर्ज़ कराते रहे| केजरीवाल ने आरोप लगाया कि 26 अगस्त को हुए प्रदर्शन के बाद पुलिस बड़ी संख्या में उनके कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर बेवजह परेशान कर रही है।
इस आरोप पर पुलिस ने आश्वासन दिया है कि आगे से इंडिया अगेंस्ट करप्शन के कार्यकर्ताओं को तंग नहीं किया जाएगा। इस आश्वासन के बाद आई ऐ सी के सभी लोग थाने के बाहर आ गए।
थाने के बाहर उन्होंने प्रधानमंत्री, सरकार और पुलिस पर कई आरोप भी लगाए।
आई ऐ सी के सुप्रीमो ने कहा कि घोटेलेबाजों के खिलाफ निहत्थे प्रदर्शन करने वालों पर पुलिस लाठियां चलाती है। एक घंटे के भीतर 5 एफआईआर दर्ज कर लेती है लेकिन देश का लाखों करोड़ रुपया लूटने वालों के खिलाफ एक जांच तक नहीं की जाती। थाने में उन्होंने कार्यकर्ताओं पर लगे सारे आरोपों को अपने ऊपर लेने की बात भी कही और अपनी गिरफ्तारी की पेशकश की |पुलिस ने श्री केजरीवाल को गिरफ्तार नहीं किया। इसके पहले केजरीवाल ने ऐलान किया था कि अगर पुलिस उन्हें गिरफ्तार करती है तो वह जमानत नहीं लेंगे।
गौरतलब है कि 26 अगस्त को हुए आदोलन के बाद दिल्ली पुलिस ने अरविंद केजरीवाल और उनके साथियों के खिलाफ दंगा फैलाने,सरकारी कामकाज में बाधा डालने समेत 5 मामले दर्ज किए थे। उनके सैकड़ों कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी लिया गया। अरविंद और उनके साथी इसी का विरोध कर रहे हैं। संसद मार्ग थाना पहुंचने वालों में अरविंद के अलावा मनीष सिसोदिया+कुमार विश्वास+संजय सिंह+गोपाल राय के अलावा सैकड़ों अन्य कार्यकर्ता भी थे।
इसीबीच आई ऐ सी की महत्वपूर्ण सदस्या किरण बेदी ने आज भी इस गिरफ्तारी आन्दोलन से दूरी बनाए रखी|उन्होंने अपनी बात दोहराते हुए कहा है की वः किसी भी राजनीतिक आन्दोलन का हिसा नहीं बनेंगी|जबकि केजरीवाल ने किरण बेदी को इस आन्दोलन में शामिल हो जाने का आग्रह किया है|इसके अलावा अन्ना हजारे ने किरण और केजरीवाल में दिनोदिन बड़ती जा रही दूरी पर चिंता व्यक्त की है और शीघ्र इन्हें नज़दी लाने का प्रयास करने की बात भी कही है|[फाइल फोटो]

राज ठाकरे भस्मासुर हैं या कांग्रेस के संकट मौचक

मनसे प्रमुख ने राज ठाकरे द्वारा मुम्बई में ११ अगस्त को हुए दंगों को महाराष्ट्र बनाम बिहार बनाने का प्रयास किया जा रहा है इससे इन्हें कुछ लोग अपनी सुविधानुसार भस्मासुर तो कोई जरनैल सिंह भिंडरवाले की संज्ञा दे रहे हैं तो एक बड़ा तबका ठाकरे को कांग्रेस के लिए संकट मौचक के रूप में देख रहा है|
बिहार के लोगों को मुंबई से खदेड़ने के बयान पर अपनी राजनितिक छिचालेदर करवा चुके महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे अब अपना गुस्सा हिंदी मीडिया पर निकाल रहे हैं।
मीडिया पर हमला

मुम्बई में उन्होंने हिंदी मीडिया पर आरोप लगते हुए कहा कि हिंदी मीडिया उन्हें गलत तरीके से पेश कर रही है और उनके बयानों को तोड़ मरोड़कर पेश कर रही है। उन्होंने हिंदी मीडिया को धमकी दी है कि यदि उन्होंने अपना खेल नहीं सुधारा तो वह मुंबई में उनका खेल बंद कर देंगे। इस बीच, राज की धमकी के मद्देनजर मीडिया चैनलों ने मुंबई में अपने पत्रकारों की सुरक्षा के लिए राज्य सरकार से गुहार लगाई है। वहीं, बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार ने राज के बयान पर उन्हें सिरफिरा कहा है।

श्री ठाकरे ने रविवार को हिंदी चैनलों पर खुद को बदनाम करने का आरोप जड़ दिया। उन्होंने ऐसे

चैनलों को सीधी-सीधी धमकी दी की यदि उन्होंने अपना यह खेल बंद नहीं किया तो उन्हें उन चैनलों का खेल बंद करना पड़ेगा

मनसे कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे प्रमुख ने अंग्रेजी चैनलों पर भी निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें देश से कोई मतलब नहीं है।
ठाकरे पहले भी न्यूज चैनलों पर उनकी बात को तोड़-मरोड़कर पेश करने का आरोप लगाते रहे हैं।
उनका यह नया बयान उन पर इन दिनों हो रहे चौतरफा हमलों से उपजी खीझ माना जा रहा है। देश के सभी प्रमुख नेताओं ने राज के उस हालिया बयान की निंदा की थी
, जिसमें उन्होंने बिहारियों को घुसपैठिया बताकर महाराष्ट्र से खदेड़ने की धमकी दी थी। रियलिटी म्यूजिक शो ‘सुरक्षेत्र’ को लेकर दिग्गज गायिका आशा भोसले पर अपने बयान को भी राज ने सही ठहराया है। शो में पाकिस्तानी गायकों की मौजूदगी का विरोध कर रहे राज ने कहा, आशा भोसले को पता ही नहीं कि देश में क्या हो रहा है? राज के अनुसार पाकिस्तानियों का विरोध दो देशों के बीच का मुद्दा है। विरोध करने पर ही पाकिस्तान के रवैये में सुधार आएगा। राज ने
आशा भोंसले पर
इससे पहले कहा था कि

सिर्फ पैसों के लिए आशा भोसले ऐसे कार्यक्रमों में हिस्सा ले रही हैं।

बिहार की प्रतिक्रिया
राज के बयान पर भड़के बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रविवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे को लेकर महाराष्ट्र और केंद्र सरकार पर खूब बरसे।

राज ठाकरे को सिरफिरा करार देते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र और महाराष्ट्र अगर ऐसे तत्वों से नहीं निपट सकते, तो आतंकवाद से क्या मुकाबला करेंगे? लोकतांत्रिक समाज में क्या कोई इस तरह की बातें करता है? कांग्रेस पर हमें अचरज है। कांग्रेस सरकार ने महाराष्ट्र में शासन को आउटसोर्स कर

दिया है। नीतीश संवाददाताओं से बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि बंदरघुड़की से कोई डरने वाला नहीं है। चार टैक्सी या टेंपो वालों को पीटकर खुद उसका वीडियो बनाते हैं और टीवी चैनलों को प्रसारण के लिए देते हैं, ताकि लोगों में उनका डर बने। मैं ऐसे लोगों को मुंह नहीं लगाना चाहता। बिहार और उत्तर प्रदेश का ही नहीं, बल्कि कोई भी भारतवासी देश में कहीं जाना चाहे, उसे कोई नहीं रोक सकता। प्रधानमंत्री अभी खुद कई समस्याओं से घिरे हैं। जरूरत पड़ी तो इस मामले में उनसे भी मिलेंगे। बिहार में इस मामले पर सभी पार्टियां एकजुट हैं।
केंद्र सरकार दिल्ली के मुख्य सचिव
इस मुद्दे पर बिहार के लोगों का हौंसला बढाने के लिए स्वयम आर के सिंह को कैमरा के सामने आकर बिहारियों की सुरक्षा का आश्वासन देने पडा है|
पोलिस कार्यवाही
मुख्यमंत्री के मुताबिक पुलिस को गिरफ्तारी का अधिकार है। लेकिन दूसरे राज्य में गिरफ्तारी करने से पहले स्थानीय पुलिस को सूचना देनी चाहिए। बिहार में बाहर की पुलिस द्वारा बिना सूचना दिए की गई कुछ गिरफ्तारियों की हमने गृह मंत्रालय से शिकायत की थी। गृह मंत्रालय ने स्थानीय पुलिस को सूचना देने संबंधी सर्कुलर जारी किया। इसके बावजूद महाराष्ट्र पुलिस ने बिहार से गलत तरीके से गिरफ्तारी की। यह कौन सा तरीका है, लोगों को ‘लिफ्ट’ कर लिया जाता है? इससे कानून व्यवस्था की समस्या उत्पन्न हो सकती है। ऐसा लगता है, उन्हें किडनैप किया जा रहा है। राज्य के डीजीपी ने मुंबई पुलिस कमिश्नर को पत्र लिखकर कड़ी आपत्ति जतायी है। साफ कहा गया है कि आगे से बिना सूचना के गिरफ्तारी न हो। कांग्रेस सरकार इसका ख्याल रखे। विदित हो कि मुंबई के आजाद मैदान में शहीद स्मारक पर तोड़फोड़ करने वाले शख्स को पिछले दिनों महाराष्ट्र पुलिस ने बिहार से स्थानीय पुलिस को सूचना दिए बगैर गिरफ्तार किया था।
शरद यादव ने भी राज ठाकरे के बयान पर आपत्ति जाहिर की है। उन्होंने कहा कि

राज ठाकरे कांग्रेस के हाथ की कठपुतली हैं

कांग्रेस महाराष्ट्र में शिवसेना-भाजपा गठबंधन के खिलाफ मनसे प्रमुख राज ठाकरे का इस्तेमाल कर रही है।
इसके अलावा वर्तमान में घोटालों में घिरी केंद्र सरकार के तरफ से ध्यान बटाने के लिए राज ठाकरे का इस्तेमाल किये जाने के भी आरोप लग रहे हैं|
टीवी चैनलों ने की सुरक्षा के लिए गुहार
मनसे प्रमुख राज ठाकरे की धमकी को लोकतंत्र की जड़ों पर प्रहार करार देते हुए समाचार चैनलों ने महाराष्ट्र सरकार से सुरक्षा की गुहार लगाई है। ब्राडकास्ट एडीटर्स एसोसिएशन ने रविवार को एक बयान में कहा कि मुंबई में असामाजिकतत्वों से मीडियाकर्मियों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए।
बयान में कहा गया है, हमने राज ठाकरे की हिंदी समाचार चैनलों को दी गई धमकी को गंभीरता से लिया है। लोकतांत्रिक समाज में ऐसे बयान स्वीकार्य नहीं हैं। ऐसी टिप्पणियां संविधान, कानून के शासन और समाज के प्रति उनके असम्मान को दर्शाती हैं।
व्यापक जनहित को देखते हुए केंद्र व महाराष्ट्र सरकार को इस संबंध में तत्काल कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए|
अब राज भस्मासुर हैं+कठपुतली हैं+सरफिरा हैं या फिर कांग्रेस के संकट मौचक यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा मगर फ़िलहाल ठाकरे के जो मुद्दे हैं लगभग बरसों पहले इन्ही के डी एन ऐ वाली शिव सेना भी उठाती रही है उनका आज तक कोई समाधान नहीं हुआ है|जिस व्यापक तरीके से वहां लोगों का आना जारी है उससे स्थानीय नागरिक सुविधाओं का अभाव लाजमी है कमोबेश यही स्थिति दिल्ली में भी है|अब इन मूल भूत समस्यायों से आँखें मूँद कर कब तक इस बारूद के ढेर पर बैठा रहा जा सकता है|नेपाल के रास्ते बिहार या यूं पी और फिर महाराष्ट्र+ दिल्ली में प्रवेश बेहद आसान होगया है|असाम में तो हालात हाथ से निकलते दिखाई दे रहे हैं| म्यांमार में हिंसा को लेकर भारत के कई हिस्सों में हिंसा का होना और इस हिंसा के प्रति राजनीतिक संकीर्णता का भौंडा प्रदर्शन किसी भी द्रष्टि से देश हित में नहीं कहा जा सकता |
अगर देश से बाहर विदेशों पर नज़र डाली जाये तो अमेरिका+आस्ट्रेलिया+ब्रिटेन आदि में बाहर के नागरिकों के कारण असंतोष बढ़ता ही जा रहा है| यह असंतोष नस्ली हिंसा को बढावा दे रही है| मेरा मानना है की अगर कहीं कोई महामारी दिखाई दे रही है तब उससे बचाव के लिए उपाय किये जाने में कोई बुराई नहीं है |एक राज्य से दूसरे राज्य में रोज़गार की तलाश में जाने का हमारा पौराणिक चलन है और विका में असमानता के मध्य्नज़र आज इसकी बेहद जरुरत भी है|और जहां तक बात है जरनैल सिंह भिंडर वाले की तो ये भी कभी कांग्रेस के संकट मौचक हुआ करते थे मगर बहुत जल्द कांग्रेस के लिए ही भस्मासुर बन गए |इसीलिए अगर राज ठाकरे मौजूदा केंद्र सरकार की नज़र में संकट मौचक हैं तो एक संकट मौचक के भस्मासुर तक के सफ़र में पाजिटिव पालिटिक्स+समान विकास+ आंतरिक सुरक्षा के उचित और पर्याप्त उपाय के ब्रेकर्स लगाए जाने बेहद जरुरी हैं|

यशवंत के फोन टेपिंग के आरोपों को सरकार ने खारिज किया

केंद्र सरकार ने आज [शनिवार] को बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा के फोन टेपिंग के आरोपों को खारिज कर दिया और इन आरोपों को पूरी तरह गलत बताया है|
केंद्रीय गृह सचिव आर.के. सिंह के अनुसार सिन्हा और उनके परिवार के सदस्यों के टेलीफोनों को टैप करने का सवाल ही पैदा नहीं होता .किसी भी व्यक्ति के फोन टैप करने के लिए केंद्रीय गृह सचिव की अनुमति की जरूरत होती है. वह सुरक्षा एजेंसियों के आग्रह पर टेलीफोन टैप करने का आदेश जारी करते हैं. लेकिन ऐसा कोई प्रस्ताव मेरे पास कभी नहीं आया

इससे पूर्व श्री सिन्हा ने शुक्रवार को रांची में आरोप लगाया था कि तत्कालीन गृह मंत्री पी चिदंबरम के खिलाफ एयरसेल मैक्सिस का मुद्दा उठाने के बाद उनके और उनके परिवार वालों के फोन को टैप किया गया
.कांग्रेस के आक्रामक रुख को देखते हुए अब भाजपा ने भी कोयले के साथ साथ दुसरे मुद्दो पर भी दबाब बनाना शुरू कर दिया है|
भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने आक्रामकता के साथ कहा है कि जब उन्होंने वित्त मंत्री पी चिदंबरम से जुड़े एयरसेल-मैक्सिस मामले को उठाया था तब तत्कालीन सरकार ने उनके तथा उनके परिजनों के फोन टैप कराये थे|
एक संवाददाता सम्मेलन में यह गंभीर आरोप लगाते हुये श्री सिन्हा ने कहा कि फोन टैप जैसी इन हरकतों से वह डरते नहीं हैं और कांग्रेस लाख प्रयास कर ले, लेकिन उनकी पार्टी भ्रष्टाचार के खिलाफ यह लड़ाई जारी रखेगी।
उन्होंने कहा कि यह कांग्रेस की आदत है कि वह अपने खिलाफ बोलने वालों के विरुद्ध किसी भी हद तक जा सकती है।
उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने लाखों करोड़ रुपये के कोयला खदान घोटाले में अपनी सरकार के घिरने के बाद शर्मिंदगी महसूस करने की बजाय अपने सांसदों को भाजपा पर पलटवार करने की नसीहत दी है। यह कैसी राजनीति है।
यशवंत सिन्हा ने सोनिया गांधी पर घमंडी होने का आरोप लगाया है | इसी कारण कांग्रेसी सांसदों और नेताओं को भाजपा पर पलटवार करने को कहा गया है। श्री सिन्हा ने पूछा कि क्या लोकतंत्र में विपक्ष से बात करने का यही तरीका है।
वाजपेयी सरकार की याद दिलाते हुये उन्होंने कहा कि उनके समय में ऐसी स्थिति में वाजपेयी स्वयं विपक्ष को साथ लाने की बात कहते थे, लेकिन यहां तो सब उलट है। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस इस घोटाले के पूरे मामले पर पर्दा डालने का प्रयास कर रही है, लेकिन भाजपा ऐसा होने नहीं देगी।
उन्होंने 2जी मामले में मुरली मनोहर जोशी के साथ कांग्रेस के व्यवहार की याद दिलाते हुये कहा कि वहीं कांग्रेस का असली चरित्र है। वह तो वास्तव में ऐसे मुद्दों पर बहस ही नहीं चाहती है। सिन्हा ने कांग्रेस पर बदले की भावना से काम करने और अपने विरोधियों के खिलाफ सीबीआई का दुरूपयोग करने का आरोप लगाया।
उनहोंने कहा कि किस प्रकार कांग्रेस सरकार ने भाजपा के केन्द्रीय मंत्री अरुण शोरी तथा अन्य के खिलाफ समय-समय पर सीबीआई जांच का प्रयास किया लेकिन उन्हें क्या हासिल हुआ। उन्होंने आरोप लगाया कि देश के इतिहास में पहली बार कोई प्रधानमंत्री सीएजी की संस्था को खत्म करने और उसका महत्व कम करने का प्रयास कर रहा है इसके नतीजे लोक तंत्र के लिए अच्छे नहीं होंगें|

हमारे ४०० बैंक खाते नहीं है =बाबा राम देव

योग गुरु बाबा राम देव ने आज केंद्र सरकार पर आरोप लगाये कि उनके आश्रम और ट्रस्ट के खिलाफ साजिश रची जा रही है| उन्होंने बताया की उनके ट्रस्ट और आश्रम के केवल १०-१५ बैंक खाते हैं और सरकार झूठा प्रचार कर रही है कि
हमारे ४०० कहते हैं| उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में कहा” सरकार मेरे आश्रम और ट्रस्ट के खिलाफ साजिश कर रही है। मेरे ट्रस्ट के लोगों प्रलोभन दिया जा रहा है। मुझ पर झूठे आरोप लगाए जा रहे है”
योग गुरु ने अपने ट्रस्ट और आश्रम का बचाव करते हुए कांग्रेस के महासचिवों पर नकेल कसने का आग्रह भी श्रीमति सोनिया गांधी से किया|
उन्होंने कहा कि[१] उनके ट्रस्ट और आश्रम के कुल १०-१५ बैंक खाते हैं और सरकार बता रही है कि उनके ४०० खाते हैं|
[२]सरकार ने ही योग को इलाज का दर्जा दिया, अब सेवा को व्यापार बताने की कोशिश की जा रही है|
।[३]दान में मिले धन को आय बताया जा रहा है|
दिल्ली में आहत इस प्रेस कांफ्रेंस में कोल ब्लॉक आवंटन पर योग गुरु बाबा रामदेव ने आज फिर कांग्रेस पर हमला बोला|
उन्होंने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा, कांग्रेस पार्टी ने घोटालों का नया रिकॉर्ड बनाया है। कोयले की दलाली में कांग्रेस का मुंह काला हो गया है, इस दलाली में लाखों रुपए लिए गए। उन्होंने साफ शब्दों में कहा, इस घोटाले में कांग्रेस के नेता शामिल हैं, प्रधानमंत्री ईमानदार है तो बेईमान कौन है? गौर तलब हे कि बी जे पे की नेत्री श्रीमति सुषमा स्वराज ने कोयला मामले में मोटा माल खाय जाने के आरोप लगाए है और बाबा ने आज इस मोटे माल को २०लाख करोड़ बताया |
रामदेव ने अपने बचाव में कहा, सरकार मेरे आश्रम और ट्रस्ट के खिलाफ साजिश कर रही है। मेरे ट्रस्ट के लोगों प्रलोभन दिया जा रहा है। मुझ पर झूठे आरोप लगाए जा रहे है। सरकार ने ही योग को इलाज का दर्जा दिया, अब सेवा को व्यापार बताने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि किसी भी झूठे केस में उन्हें फंसा कर आश्रम को बदनाम किये जाने कि साजिश रची जा रही है|इसके लिए पोलिस स्टेशन में रिपोर्ट दर्ज़ करवा दी गई है|

कांग्रेस अपने महा सचिवों पर नकेल कसे=बाबा रामदेव

योग गुरु बाबा राम देव ने आज केंद्र सरकार पर आरोप लगाये कि उनके आश्रम और ट्रस्ट के खिलाफ साजिश रची जा रही है|
उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में कहा” सरकार मेरे आश्रम और ट्रस्ट के खिलाफ साजिश कर रही है। मेरे ट्रस्ट के लोगों प्रलोभन दिया जा रहा है। मुझ पर झूठे आरोप लगाए जा रहे है”
योग गुरु ने अपने ट्रस्ट और आश्रम का बचाव करते हुए कांग्रेस के महासचिवों पर नकेल कसने का आग्रह भी श्रीमति सोनिया गांधी से किया|
उन्होंने कहा कि[१] उनके ट्रस्ट और आश्रम के कुल १०-१५ बैंक खाते हैं और सरकार बता रही है कि उनके ४०० खाते हैं|
[२]सरकार ने ही योग को इलाज का दर्जा दिया, अब सेवा को व्यापार बताने की कोशिश की जा रही है|
।[३]दान में मिले धन को आय बताया जा रहा है|
दिल्ली में आहत इस प्रेस कांफ्रेंस में कोल ब्लॉक आवंटन पर योग गुरु बाबा रामदेव ने आज फिर कांग्रेस पर हमला बोला|
उन्होंने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा, कांग्रेस पार्टी ने घोटालों का नया रिकॉर्ड बनाया है। कोयले की दलाली में कांग्रेस का मुंह काला हो गया है, इस दलाली में लाखों रुपए लिए गए। उन्होंने साफ शब्दों में कहा, इस घोटाले में कांग्रेस के नेता शामिल हैं, प्रधानमंत्री ईमानदार है तो बेईमान कौन है? गौर तलब हे कि बी जे पे की नेत्री श्रीमति सुषमा स्वराज ने कोयला मामले में मोटा माल खाय जाने के आरोप लगाए है और बाबा ने आज इस मोटे माल को २०लाख करोड़ बताया |
रामदेव ने अपने बचाव में कहा, सरकार मेरे आश्रम और ट्रस्ट के खिलाफ साजिश कर रही है। मेरे ट्रस्ट के लोगों प्रलोभन दिया जा रहा है। मुझ पर झूठे आरोप लगाए जा रहे है। सरकार ने ही योग को इलाज का दर्जा दिया, अब सेवा को व्यापार बताने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि किसी भी झूठे केस में उन्हें फंसा कर आश्रम को बदनाम किये जाने कि साजिश रची जा रही है|इसके लिए पोलिस स्टेशन में रिपोर्ट दर्ज़ करवा दी गई है|

चिदम्बरम ने यशवंत और परिजनों के फोन टैप कराये

कांग्रेस के आक्रामक रुख को देखते हुए अब भाजपा ने भी कोयले के साथ साथ दुसरे मुद्दो पर भी दबाब बनाना शुरू कर दिया है|
भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने आक्रामकता के साथ कहा है कि जब उन्होंने वित्त मंत्री पी चिदंबरम से जुड़े एयरसेल-मैक्सिस मामले को उठाया था तब तत्कालीन सरकार ने उनके तथा उनके परिजनों के फोन टैप कराये थे|
एक संवाददाता सम्मेलन में यह गंभीर आरोप लगाते हुये श्री सिन्हा ने कहा कि फोन टैप जैसी इन हरकतों से वह डरते नहीं हैं और कांग्रेस लाख प्रयास कर ले, लेकिन उनकी पार्टी भ्रष्टाचार के खिलाफ यह लड़ाई जारी रखेगी।
उन्होंने कहा कि यह कांग्रेस की आदत है कि वह अपने खिलाफ बोलने वालों के विरुद्ध किसी भी हद तक जा सकती है।
उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने लाखों करोड़ रुपये के कोयला खदान घोटाले में अपनी सरकार के घिरने के बाद शर्मिंदगी महसूस करने की बजाय अपने सांसदों को भाजपा पर पलटवार करने की नसीहत दी है। यह कैसी राजनीति है।
यशवंत सिन्हा ने सोनिया गांधी पर घमंडी होने का आरोप लगाया है | इसी कारण कांग्रेसी सांसदों और नेताओं को भाजपा पर पलटवार करने को कहा गया है। श्री सिन्हा ने पूछा कि क्या लोकतंत्र में विपक्ष से बात करने का यही तरीका है।
वाजपेयी सरकार की याद दिलाते हुये उन्होंने कहा कि उनके समय में ऐसी स्थिति में वाजपेयी स्वयं विपक्ष को साथ लाने की बात कहते थे, लेकिन यहां तो सब उलट है। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस इस घोटाले के पूरे मामले पर पर्दा डालने का प्रयास कर रही है, लेकिन भाजपा ऐसा होने नहीं देगी।
उन्होंने 2जी मामले में मुरली मनोहर जोशी के साथ कांग्रेस के व्यवहार की याद दिलाते हुये कहा कि वहीं कांग्रेस का असली चरित्र है। वह तो वास्तव में ऐसे मुद्दों पर बहस ही नहीं चाहती है। सिन्हा ने कांग्रेस पर बदले की भावना से काम करने और अपने विरोधियों के खिलाफ सीबीआई का दुरूपयोग करने का आरोप लगाया।
उनहोंने कहा कि किस प्रकार कांग्रेस सरकार ने भाजपा के केन्द्रीय मंत्री अरुण शोरी तथा अन्य के खिलाफ समय-समय पर सीबीआई जांच का प्रयास किया लेकिन उन्हें क्या हासिल हुआ। उन्होंने आरोप लगाया कि देश के इतिहास में पहली बार कोई प्रधानमंत्री सीएजी की संस्था को खत्म करने और उसका महत्व कम करने का प्रयास कर रहा है इसके नतीजे लोक तंत्र के लिए अच्छे नहीं होंगें|