Ad

Category: Unrest Strikes

अन्ना अनशन समाप्त अब राजनितिक विकल्प की तलाश

अन्ना टीम के आन्दोलन का मौजूदा १६ माह पुराना चरण आज १०वे दिनकी शाम साडे छह बजे समाप्त घोषित कर दिया गया |सेवानिवर्त जनरल वी के सिंह ने नारियल पानी पिलवा कर अन्ना टीम का अनशन भी तुडवाया |इस अवसर पर अनशन करने के बजाये राजनितिक विकल्प देने के संकल्प के साथ सरकार को चुनौती भी दी गई \सरकार ने भी चुनौती स्वीकार करके मानसून स्तर में लोक पाल बिल लाने से मना कर दिया|
आज पांच बजे अनशन को समाप्त करने की घोषणा की गई थी मगर सदस्यों के भाषण के चलते साड़े छह बजे अनशन तुड़वाने की ओपचारिकता पूरी कराई गई \इस अवसर पर जनरल वी के सिंह +मनीष शिशोदिया +अरविन्द केजरीवाल +गोपाल राय+योगेन्द्र यादव आदि ने अपने भाषण में नए विकल्प को जरुरी बताया |अरविन्द केजरीवाल ने कहा की अगर सरकार २०१४ तक जन लोक पाल बिल+राईट टू रिकाल+राईट टू रिजेक्ट+सत्ता के विकेन्द्रीयकरण जैसे सुधार ले आती है तब अन्ना टीम चुनावों में नहीं उतरेगी|अरविन्द ने कहा कि उनकी पार्टी बिना पैसे के चुनाव लडेगी जनता द्वारा मेनिफेस्टो तय किया जाएगा और पंचायतों को सत्ता में भागे दारी दी जायेगी
जनरल सिंह ने देश में १९७५ के हालत पैदा होजाने पर चिंता व्यक्त की और लोक नायक जयप्रकाश नारायण का नारा बुलंद करके सत्ता को आईना दिखाने का प्रयास किया “सिंघासन खली करो जनता आती है”
अन्ना ने आअज फिर दोहराया की वोह स्वयम पार्टी में नहीं आयेंगे और नाही चुनाव लड़ेंगे वरन बाहर रह कर इन पर नज़र रखेंगे|
गोगेन्द्र यादव ने राजनितिक पार्टी बनाए जाने पर आने वाली चुनौतियों के प्रति आगाह किया |
प्रशांत भूषण ने सरकार के सर ठीकरा फोड़ते हुए कहा कि बार बार सत्ता के गलियारों से चुनाव लड़ने कि चुनौती दी जाती रही है अब उस चुनौती को स्वीकार कर लिया गया है|
जिस समय अन्ना का अनशन समाप्त कराया जा रहा था ठीक उसी समय टी वी चेनलों पर संसदीय मंत्री पवन बंसल के हवाले से बताया गया कि मानसून सत्र में लोक पाल बिल को चर्चा के लिए शामिल नहीं किया गया है\
इसी बीच कांग्रेस के कई नेताओं ने अन्ना टीम पर कटाक्ष भी किये |कपिल सिबल+अम्बिका सोनी+दिग्विजय सिंह और रेणुका चौधरी आदि ने कहा कि अन्ना टीम के इस छुपे अजेंडे के बारे में हमें मालूम ही था अब चुनावों में उतरने से उन्हें सभी किन्तु परंतुओं का पता चल जाएगा

कश्मीरी पंडितों को कश्मीर छोड़ने का फरमान

कश्मीरी विस्थापितों की वापिसी के लिए अभी ब्यान बाज़ी चल ही रही है कि आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद ने कश्मीरी पंडितों को सात दिन के अंदर वादी छोड़ने का फरमान सुनाया है।
लेकिन आल पार्टी हुर्रियत कांफ्रेंस के दोनों गुटों ने कश्मीरी विस्थापितों को सुरक्षा का यकीन दिलाया है कि इस धमकी को गंभीरता से न लिया जाए । यह किसी सुरक्षा एजेंसी की कश्मीरी पंडितों और कश्मीरी मुस्लिमों के बीच मतभेद पैदा करने की साजिश है। विभिन्न आतंकी संगठनों के साझा मंच यूनाइटेड जेहाद काउंसिल और हिजबुल मुजाहिदीन के सुप्रीमो सल्लाहुदीन ने भी कश्मीरी पंडितों को मिली इस धमकी की निंदा करते हुए इसे भारतीय सुरक्षा एजेंसियों की साजिश करार दिया है।
आतंकी संगठन ने यह धमकी पोस्टर लगाकर नहीं बल्कि डाक के जरिये एक खत भेजकर दी है। यह खत बडगाम जिले के शेखपोरा इलाके में कश्मीरी पंडितों के लिए बनाई गई आवासीय कॉलोनी के अध्यक्ष के नाम भेजा गया है। जैश कमांडर जुबैर ने इस खत में कश्मीरी पंडितों को सात दिन के अंदर कश्मीर छोड़ने का फरमान सुनाया है। खत में कश्मीर में गैर इस्लामिक गतिविधियों को बढ़ावा देने और भारतीय सुरक्षा एजेंसियों के साथ मिलकर जेहाद को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया गया है। इस धमकी के बाद न सिर्फ शेखपोरा में बल्कि वादी के अन्य हिस्सों में रह रहे कश्मीरी पंडितों में भी भय पैदा हो गया है।
इस धमकी के बाद पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर संदिग्ध तत्वों के खिलाफ अभियान छेड़ दिया है।

१० जनपथ पर प्रदर्शन करने जा रहे अन्ना समर्थकों को रोका

बेशक अन्ना टीम ने अपने १६ महीने के आन्दोलन को नई दिशा देने के लिए १० दिनों के अनशन को आज समाप्त करने की घोषणा कर दी है मगर उनके समर्थकों का उत्साह अभी कम नहीं हुआ है अनशन के नौवें दिन शाम छ बजे यूं पी ऐ की अध्यक्षा श्रीमति सोनिया गाँधी के निवास १० जनपथ की तरफ चल पड़े थे सतर्क सुरक्षा बल ने उन्हें काफी पहले रोक लिया। गुरुवार को हजारों की संख्या में अन्ना समर्थक शाम छह बजे इंडिया गेट पहुंचे। वहा साथ लाई मशाल जलाई। इसके बाद सभी ने देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के लिए कसम ली फिर मशाल व कैंडिल के साथ समर्थक इंडिया गेट से जंतर-मंतर की ओर रवाना हुए। कैंडिल मार्च में सिने जगत से अभिनेता अनुपम खेर,अर्चना पूरन सिंह और परमीत सेठी भी शामिल हुए।

अमेरिकी जूते पर महात्मा बुद्ध की मूर्ति

अमेरिकी कंपनी आइकोन शूज द्वारा जूतों पर भगवान बुद्ध के चित्र लगा दिए गए हैं इससे तिब्बत और भूटान के बोद्धों ने कंपनी को पत्र और फेसबुक पर अपनी नाराज़गी दर्ज करा रहे हैं|
अमेरिका में इस तरह के विवाद पहले भी होते रहे हैं। ‘काली मां’ नाम से बीयर ब्रांड लांच की थी इसे भारतीय संसद में भी उठाया गया था जिसके बाद इस मामले में माफी मांगी गई थी।
अमेरिकी कंपनी हि-रेज स्टूडियो द्वारा हाल में जारी एक ऑनलाइन गेम ‘स्मिट’ में हिंदू देवी मा काली को आपत्ति रूप में दिखाया गया था। इससे हिंदुओं की भावनाएं आहत हुई हैं
अब इंटरनेशनल कैंपेन फॉर तिब्बत के भूचुंग सेरिंग ने’बुद्ध की मूर्ति का जूते पर प्रयोग को बौद्धों का अपमान बताया है ।’
तिब्बती संसद के उत्तर अमेरिकी सदस्य ताशी ने कंपनी को लिखे विरोध पत्र में कहा है, मैं इस बात पर चकित रह गया कि कंपनी कितनी असंवेदनशील है। विश्व में लाखों लोग भगवान बुद्ध की पूजा करते हैं। उन्होंने बुद्ध के चित्र लगे जूतों की ब्रिकी बंद किये जाने की मांग की ।’

अन्ना राजनितिक संस्कृति बदलने के लिए विकल्प देंगे अनशन कल समाप्त होगा

टीम अन्ना के सभी अनशनकारी शुक्रवार३-०८-२०१२ की शाम पाच बजे अपना अनशन समाप्त कर देंगे। अन्ना हजारे और अरविंद केजरीवाल ने इस बात का ऐलान करते हुए अब राजनितिक संस्कृति बदलने के लिए राष्ट्रव्यापि आन्दोलन चलाने का इशारा किया है
अन्ना ने साफ कर दिया है कि वे खुद चुनाव नहीं लड़ेंगे। बल्कि जनता के बीच से साफ-सुथरे धर्म निरपेक्ष उम्मीदवारों को खोजना उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी|उन्होंने एक विकेंद्रित, लोकतात्रिक और धर्मनिरपेक्ष विकल्प देने का वादा भी किया है।
टीम अन्ना की मांग को बिल्कुल अनसुना करके सरकार ने मानवीय और राजनितिक संवेदनाएं त्याग कर अनशन कारियों को मौत के मुह में धकेल दिया है | इस अप्रिय स्थिति से बाहर निकालने के लिए और सरकार के लिए एक नया सर दर्द पैदा करने के लिए अब आन्दोलन को एक नया रूप देने का एलान किया गया है|
इससे पहले पिछले आठ दिन से अनशन पर बैठी टीम अन्ना को गुरुवार की सुबह पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वीके सिंह और धर्मगुरू श्री श्री रवि शकर सहित बड़ी संख्या में समाज के विभिन्न क्षेत्र के शीर्षस्थ लोगों ने अनशन तोड़ कर चुनावी क्रान्ति शुरू करने की अपील की। इनमें पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त जे.एम. लिंगदोह, वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर, फिल्म अभिनेता अनुपम खेर और जस्टिस संतोष हेगड़े सहित सुप्रीम कोर्ट के कई रिटायर्ड जज भी शामिल हैं। इसी तरह मैगसायसे पुरस्कार से सम्मानित संदीप पाडे और एकता परिषद के पीवी राजगोपाल जैसे कई सामाजिक कार्यकर्ता, योगेंद्र यादव जैसे समाजशास्त्री, ईएएस सरमा जैसे वरिष्ठ प्रशासनिक पदों से रिटायर्ड हुए अधिकारियों ने भी टीम अन्ना से राजनीति को नई दिशा देने की अपील की है।
इन लोगों ने अपील की है कि वह इस सत्ता से उम्मीद छोड़ अपनी ऊर्जा एक वैकल्पिक राजनीतिक ताकत तैयार करने में लगाएं। इन शीर्षस्थ लोगों ने देश के आम लोगों से भी अपील की है कि अगर टीम अन्ना इस चुनौती को स्वीकार करती है तो वे इनका साथ देने के लिए सामने आएं।

बिजली मेनेजर्स देखो दिन में भी स्ट्रीट लाईट्स जल रही हैं

सयानो के लिए कहा गया है कि जल बाड़े नाव में या घर में दाम बाड़े तो दोनों हाथों से उसे बाहर उलीचना चाहिए शायद इसी उपदेश का पालन करने के लिए प्रदेश का बिजली विभाग दिन में भी स्ट्रीट लैम्प्स जला कर रखता है | यूं पी पर अक्सर कोटे से अधिक बिजली लेने का आरोप लगाया जाता है और सोमवार की रात तीनो ट्रिप ग्रिडों के ट्रिप हो जाने के लिए भी यही दलील दी जा रही है यूं पी में उद्योगों की बिजली तीन दिन के बाद बुधवार को दोपहर दो बजे ही नसीब हुई लगातार तीन दिन बिजली कटौती से मात्र औद्योगिक इकाइयों को ही करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ है।
ग्रिड फेल होने के बाद यूपी पावर कारपोरेशन ने पूरे प्रदेश में औद्योगिक इकाइयों को बिजली देना बंद कर दिया। बुधवार को दोपहर बाद उन्हें थोड़ी सी राहत दी गई। मेरठ की औद्योगिक इकाइयों में केवल मोहकमपुर फीडर की बिजली सही हो पाई। उद्योगपुरम, परतापुर फीडर की बिजली आई, लेकिन पांच- पांच मिनट के अतंराल पर जाती रही।
इस सब के बावजूद दिन में लेम्प्स को जला कर रखना किसी भी द्रष्टि से दानिशमंदी नहीं कहा जा सकता |
फोटो में दिखाया गया लेम्प एक उदहारण मात्र है यह २६-०८-२०१२ मेरठ के पाश इलाके में बुद्धिजीवियों के बिजली विभाग से सटे इलाके में सारे दिन जलता पाया गया है

अन्ना अनशन तोड़ो राजनितिक विकल्प दो

टीम अन्ना के अनशन का आज नौवां दिन है इनके साथ ही सरकार भी अभी तक पलके झपकाने को तैयार नहीं दिखती संभवत इसीलिए अब राजनितिक विकल्प देने की संभावनाए तलाशी जाने लगी हैं|इस दिशा में जनता से दो दिनों में राय माँगी गई है|दो दिनों के बाद राजनीतिक विकल्प देने का फैसला किया जाएगा जंतर-मंतर पर अन्ना हजारे के अलावा अरविंद केजरीवाल, गोपाल राय और मनीष सिसोदिया भी अनशन कर रहे हैं।
अरविंद केजरीवाल और गोपाल राय की तबीयत बिगड़ती ही जा रही है। गोपाल राय को आठवें और नौवें दिन उल्टी हुई है
टीम अन्ना के समर्थन में मुम्बई से जंतर-मंतर पहुंचे अनुपम खेर ने 23 जाने-माने लोगों द्वारा आंदोलन के समर्थन में लिखा गया एक लेटर पढ़ा जिसमे टीम अन्ना से अनशन तोड़कर देश को नया राजनीतिक विकल्प देने की अपील की गई है ।
लेटर लिखने वालों में पूर्व जनरल वीके सिंह, पूर्व चीफ जस्टिस वीआर कृष्ण अय्यर, पूर्व नौसेना प्रमुख राम तहलियानी, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त जेएम लिंगदोह, प्रख्यात पत्रकार कुलदीप नैयर और अनुपम खेर आदि शामिल हैं।
अनुपम खेर द्वारा मंच पर इस चिट्ठी को पढने के बाद प्रशांत भूषण ने कहा कि अब देश की जनता ही हमें बताए कि हमें राजनीतिक विकल्प देने के बारे में सोचना चाहिए या नहीं। उन्होंने कहा कि जनता दो दिनों के भीतर सोशल साइट्स या जैसे भी संभव हो, अपनी राय हमें बता दे। इसके बाद राजनीतिक विकल्प देने पर फैसला किया जाएग।
मुम्बई में अनाना के समर्थन में प्रदर्शन कर चुके अनुपम खेर ने जंतर मंतर पर कहा, कि करप्शन के खिलाफ आवाज उठाना सबका अधिकार है। इस आंदोलन को लोगों तक पहुंचाना बहुत जरूरी है लेकिन पूरी कोशिश की जा रही है कि आंदोलन को अपनी ही मौत मरने दिया जाए। अनुपम खेर ने सरकार को धिक्कारते हुए कहा कि हम भूखे-प्यासे पड़ोसी का भी हाल-चाल पूछ लेते हैं लेकिन यहां तो अनशन के इतने दिन बीत जाने के बाद भी सरकार की तरफ से कोई नहीं आया। उन्होंने कहा, ‘मैं जंतर-मंतर पर अपना चेहरा दिखाने नहीं आया हूं। मैं यहां एक आम आदमी की तरह आया हूं। यह आंदोलन तब तक चलेगा जब तक कि करप्शन हमारे समाज से खत्म नहीं हो जाता।’

पुणे में हुए धमाको के पीछे कहीं इन्डियन मुजाहिदीन तो नहीं ?

पुणे के जंगली महाराज [जे एम्]रोड पर कल रात को हुए सीरियल पांच बम धमाकों की जांच कर रही एजेंसियों ने इसके पीछे इंडियन मुजाहिद्दीन[आई एम्] पर शक जताया है। धमाके वाली जगहों पर अमोनियम नाइट्रेट मिलने से शक की सुई आई एम् की तरफ घूम रही है|
इन बम धमाकों में नई साइकिलों का इस्तेमाल किया गया है। लिहाजा जांच एजेंसियां अब यह जानने में जुटी हैं कि आखिर यह साइकिल कब, कहां से और किसने खरीदी थीं। पुणे धमाके की जांच में एनआईए, एनएसजी और फॉरेंसिक की टीमों के अलावा एटीएस भी जुटी हुई है। माना जा रहा है कि सरकार एनआईए की एक और टीम पुणे भेजी सकती है। जांच एजेंसियां मैक्डोनाल्ड्स और देना बैंक के सामने लगे सीसीटीवी के वीडियो फुटेज खंगाल रही हैं।
गौरतलब है कि सुशील कुमार शिंदे ने बुधवार को ही गृह मंत्रालय की कमान अपने हाथों में ली थी। उन्हें कल ही पुणे में एक आयोजन में भाग लेने के लिए भी जाना था। लेकिन देर शाम हुए पुणे में हुए एक के बाद एक पांच बम धमाकों ने यह सोचने पर मजबूर जरूर कर दिया है कि क्या यह धमाके शिंदे को निशाना बनाकर किए गए थे मौके पर पहुंचे बम डिस्पोजल स्क्वायड ने दो बमों को निष्क्रिय भी कर दिया था। जिनमे से एक बम निष्क्रिय करते समय फट गया था कम तीव्रता वाले इन धमाकों में घायलों की संख्या २ बताई जा रही है । इन धमाकों के बाद पुलिस ने एक संदिग्ध को गिरफ्तार भी किया गया है। इसके अलावा दिल्ली + यूं पी समेत पूरे देश में त्यौहारों के मद्देनजर हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।
पुणे के डेक्कन क्षेत्र स्थित अतिव्यस्त जीएम रोड पर सिर्फ आधे किलोमीटर के दायरे में ये विस्फोट बुधवार शाम 7.27 से 8.15 बजे के बीच हुए। पहला विस्फोट बाल गंधर्व थियेटर के बाहर रेस्टोरेंट के नजदीक, दूसरा फास्ट फ़ूड मैकडोनॉल्ड रेस्टोरेंट के पास, तीसरा इससे कुछ ही दूरी पर देना बैंक के एटीएम के बाहर और चौथा गरवारे चौक के पास शू व‌र्ल्ड के बाहर हुआ। इनमें गंधर्व रेस्टोरेंट व मैकडोनॉल्ड के विस्फोट बाहर रखे कचरे के डिब्बों में और देना बैंक व गरवारे पुल के विस्फोट पास खड़ी साइकिलों की टोकरियों में हुए हैं।
गौरतलब है कि जून में मुंबई के मराठी चैनल साम मराठी को एक पत्र मिला था। इसमें बताया गया था कि 13 जून से 15 अगस्त के बीच पुणे में विस्फोट किए जाएंगे। पुणे के पुलिस आयुक्त गुलाबराव पोल के मुताबिक विस्फोट की जगह से पेंसिल सेल व छोटे डेटोनेटर मिले हैं।
इन विस्फोटों में घायल व्यक्ति को पुणे के ससून अस्पताल में भर्ती कराया गया है। फिलहाल उसकी हालत स्थिर और होश में बताया गया है |
दयानंद पाटिल नामक इस व्यक्ति से पुलिस ने पूछताछ शुरू कर दी है। पुलिस के मुताबिक, पाटिल अन्ना हजारे का भाषण सुनने के लिए प्रदर्शन स्थल कमला आर्केड पर रुका था। वह एक पॉलिथिन बैग में टिफिन रखकर ले जा रहा था। प्रदर्शन स्थल से चलते समय उसे अपना बैग कुछ भारी लगा। जैसे ही उसने पॉलिथिन बैग खोला बम फट गया।

उद्द्योगों को हो गई नसीब बिजली

: तीनो ट्रिप ग्रिडों को ठीक कर लिए जाने के तमाम दावों के बावजूद यूं पी में उद्योगों की बिजली बुधवार को दोपहर दो बजे ही नसीब हुई लगातार तीन दिन बिजली कटौती से मात्र औद्योगिक इकाइयों को ही करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ है।
ग्रिड फेल होने के बाद यूपी पावर कारपोरेशन ने पूरे प्रदेश में औद्योगिक इकाइयों को बिजली देना बंद कर दिया। बुधवार को दोपहर बाद उन्हें थोड़ी सी राहत दी गई। मेरठ की औद्योगिक इकाइयों में केवल मोहकमपुर फीडर की बिजली सही हो पाई। उद्योगपुरम, परतापुर फीडर की बिजली आई, लेकिन पांच- पांच मिनट के अतंराल पर जाती रही।
काफी संख्या में उद्दमी मुख्य अभियंता केएन उपाध्याय से मिले और बिजली कटौती पर शिकायत दर्ज कराई। शहर में शाम छह से रात दस बजे कटौती न करने, उद्योगों की तरह व्यापारियों को भी 24 घंटे बिजली देने, शहरी क्षेत्र में एकमुश्त जमा योजना लागू करने, नए कनेक्शन देते समय उपभोक्ताओं को उत्पीड़न न करने सहित तमाम मांगे रखीं।शहर के कई हिस्सों में ट्रांसफार्मर फुंकने से बिजली की आपूर्ति ठप रही। बिजली कर्मचारियों को फाल्ट सही करने में काफी वक्त लगा

पी एम् हाउस पर अन्ना समर्थकों ने फिर प्रदर्शन किया

७ रेसकोर्स स्थित प्रधान मंत्री के निवास पर अभी अभी अन्ना समर्थकों ने प्रदर्शन किया वहां तैनात पोलिस ने प्रदर्शन कारियों को हिरासत में लेकर वहां से दूर किया
यद्यपि इनकी संख्या ज्यादा नहीं थी मगर सभी जोशो खरोश से नारे जरूर लगा रहे थे |इससे पूर्व भी पी एम् निवास पर प्रदर्शन किया जा चूका है
जंतर मंतर पर आठ दिनों से अनशन पर बैठे अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि पोलिस उन्हें जबरदस्ती अस्पताल में ले जा सकती तो है मगर उन्हें जबरदस्ती खाना नहीं खिला सकतीअगर पाईप के रास्ते कुछ मुह या शरीर में डालने का प्रयास किया गया तो पाईप उखड कर फैंक दिए जायेंगे |
केजरीवाल ने एक दिन का उपवास रखने का सभी देश वासियों से आग्रह किया अपने अपने छेत्रों के जनप्रतिनिधियों के निवास के बाहर भजन कीर्तन करके विरोध जताने को कहा
उधर कांग्रेस के एक प्रवक्ता ने कहा है कि हमने तो इन्हें अनशन करने के लिए नहीं कहा था