Ad

Category: Defence

देश में और सीमा पर माहौल बिगाड़ने की साजिश

सीमा पर पाकिस्तानी सेना और देश में उनके द्वारा भेजे जा रहे एस एम् एस के जरिये देश में और सीमा दोनों पर ही माहौल को बिगड़ने की कौशिशे जारी है|
पाकिस्तान की ओर से संघर्ष-विराम के बार-बार उल्लंघन किया जा रह है|। शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन पाकिस्तानी रेंजरों ने आरएसपुरा सेक्टर की अब्दुल्लियां पोस्ट पर साढ़े चार घंटे तक भारी गोलीबारी की और मोर्टार शेल दागे। पाकिस्तान ने सुरक्षा चौकियों के साथ इस बार गांवों को भी निशाना बनाया है। बीएसएफकी सलाह पर अब्दुल्लिया गावं वाले गावं खाली करके सुरक्षित स्थानों को जाने लगे हैं|
सीमा पार से स्वतंत्रता दिवस पर शुरू हुई गोलीबारी का सिलसिला बीती रात जुमा अलविदा [शुक्रवार] को भी जारी रहा।
गोलीबारी से बेगा, बेरा, सुचेतगढ़, गुलाबगढ़ गांव खासे प्रभावित हुए हैं। इस अकारण प्रोवोकेटिव गोलीबारी का सीमा सुरक्षाबल ने भी मुंहतोड़ जबाब दिया।
पिछले ग्यारह दिनों में पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम के उल्लंघन का यह नौंवा मामला है। 15 अगस्त को हीरानगर सेक्टर और पुंछ में गोलीबारी करने के बाद पाकिस्तान ने 16 अगस्त को भी अब्दुल्लियां पोस्ट पर फायरिंग की थी, जिसमें बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया था। बीएसएफ जम्मू फ्रंटियर के आइजी राजीव कृष्णा ने कहा कि पाकिस्तान की साजिशों का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। पाकिस्तान सीमा पर शांति को भंग कर रहा है।
विश्व के सबसे ऊंचे रणक्षेत्र सियाचिन में मोर्चा संभाले जवानों का हौंसला बढ़ाने थलसेना अध्यक्ष जनरल बिक्रम सिंह शुक्रवार को तीन दिवसीय दौरे पर लेह पहुंचे। लद्दाख के न्योमा व जम्मू के सांबा में जवानों व अधिकारियों में तनातनी को गंभीरता से ले रहे थलसेना अध्यक्ष इस दौरे से जवानों व अधिकारियों में दूरियां कम करने का अभियान भी शुरू करेंगे। जनरल ने चौदह कोर मुख्यालय में बैठक कर सुरक्षा हालात पर विचार-विमर्श किया|
इसके अलावा देश में भी उत्तेजित करने वाली अफवाहें फैलाई जा रही हैं|बताया जा रहा है की ये अफवाहें सीमा पार से आ रही हैं|जिसके फलस्वरूप यहाँ दंगे भड़क रहे हैं|असाम +मुम्बई+औएन+रांची+बेंगलूर+हेदराबाद+के बाद अब कानपुर+अलाहाबाद और प्रदेश की राजधानी में भी नमाजी भड़काए जा चुके हैं|

पकिस्तान एयर फ़ोर्स के बेस पर फिदाईन हमला

पाकिस्तान की स्वतंत्रा दिवस के अगले दिन ही फिदाईन आतंकवादियों के एक दल ने पाकिस्तान की राजधानी से महज़ ७० किलोमीटर पर पकिस्तान एयर फ़ोर्स के कामरा स्थित एयर बेस पर बीती रात हमला कर दिया|सुरक्षा कर्मियों के साथ हुई पांच घंटे की भारी गोली बारी में सात फिदाईन आतंवादियों और एक सुरक्षा कर्मी के मारे जाने की खबर है,
पाकिस्तान के बड़े अखबार डान के मुताबिक ये फिदाईन अति आधुनिक हत्यारों के अलावा आत्मघाती. विस्फोटकों से भी लैस थे|सुरक्षा कर्मियों के सात इनकी भारी गोली बारी हुई है जिसमे सात हमलावर और एक सुरक्षा कर्मी के मारे जाने के समाचार है| इस बेस पर ३० प्लेन्स हेन्गर्स में थे | इस हमले में एक एयर क्राफ्ट भी डेमेज हुआ है| बताया गया है की हामालावर १९-३३ वर्ष की आयु के थे और इनमे से ३-४ ने सेना की वर्दी पहन रखी थी| जबकि कुछ सुसाईड जेकेट पहने हुए थे| पिंड[गावं]सलमान मक्खन की तरफ से रात २.३० आये हमलावरों को जब चेक पोस्ट से चेतावनी दी गई तो उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी
स्वतन्त्रता दिवस के मद्दे नज़र भारत और पाकिस्तान के हवाई अड्डों पर हाई अलर्ट है|संभवत इसी चौकसी के चलते इस आत्मघाती हमले को विफल किया जा सका है| अब एयरबेस पर हालात काबू में बताये जा रहे हैं अभी तक इस हमले की जिम्मेदारी लेने के लिए कोई आतंकवादी संगठन आगे नहीं आया है|

भारत के ६६वे स्वतन्त्रता दिवस पर पाकिस्तान ने ५५ मछुआरे छोड़े

भारत के ६६वे स्वतंत्रता दिवस पर आज तोहफे के रूप में पाकिस्तान ने ५५ बंदी मछुआरों को लांडी जेल से आज़ाद किया |इनमे से अधिकाँश गुजरात से हैं |अभी भी वहां लगभग १०० कैदी हैं जबकि पाकिस्तान के इतने ही कैदी भारत की जेल में है|
गुजरात सरकार ने अभी हाल ही में मछुआरों को पाकिस्तान में कैद के दौरान १५०/=प्रति दिन भत्ता देने की घोषणा भी की गई है|

छुट्टी से किया इनकार तो सैनिक हुआ बगावत को तैयार

रक्षा सेवाओं में आये दिन असंतोष की खबरें मिल रही है |सेना के लिए खरीद हो या फिर छुट्टी का ही मामला हो खबरें बाहर आने लगी हैं| यहाँ तक की संसद में भी मामला उठने लगा है
राज्यसभा में भी मामला उठा जहां प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इसे एक छोटी घटना बताया और कहा कि इसे तूल दिया गया है।
|सेना के जवानों और अधिकारियों के बीच झड़प का एक और मामला सामने आया है।
रक्षा मंत्री एके एंटनी ने सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह से इसका ब्योरा मांगा है।
आत्महत्या के बाद भड़के जवान :जम्मू कश्मीर के साम्बा में सेना की 16 कैवेलरी यूनिट के एक जवान तिरुवनंतपुरम के अरुण वी ने बुधवार को सर्विस रिवाल्वर से गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। सूत्रों ने कहा कि जवान ने घर जाने के लिए छुट्टी की अर्जी दी थी जिसे नामंजूर कर दिया कर दिया गया था।
उसके आत्महत्या करने से नाराज जवानों ने अफसरों के बंगले घेर लिए। तनाव को देखते हुए अतिरिक्त बल वहां भेजा गया है। 16 कैवेलरी के अफसरों को यूनिट और उनके घरों से वहां से फिलहाल हटा दिया गया है। मामले की कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के आदेश दिए गए हैं। 14 माह में इस तरह की यह तीसरी घटना है।
समान घटनाएँ :
ल्द्धाक के न्योमा में जवानों से दुव्र्यवहार के बाद हुई झड़प में तीन अधिकारी और दो जवान घायल हो गए थे। ञ्च पिछले साल पंजाब में 45 कैवेलरी रेजीमेंट में प्रशिक्षण सत्र के दौरान जवानों-अफसरों की झड़प, 23 अफसरों और जवानों के खिलाफ जांच चल रही है।

अग्नि-दो मिसाइल का सफल प्रक्षेपण

ओडिशा तट के पास बंगाल की खाड़ी में व्हीलर द्वीप से गुरुवार को अग्नि-दो मिसाइल का सफल प्रक्षेपण किया गया।
मिसाइल सुबह पौने नौ बजे छोड़ी गई। यह परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम है। जमीन से जमीन पर मार करने वाली है। इसे पहले से ही सेना में शामिल किया जा चुका है इसकी 1 टन परमाणु हथियार ले जाने की क्षमता है

पाकिस्तान की तरफ से की गई घुसपैंठ नाकाम

पाकिस्तान की सेना ने जम्मू-कश्मीर के गुरेज सेक्टर में अपने कब्जे वाले कश्मीर से आतंकियों की घुसपैठ कराने की फिर बड़ी कोशिश की जिसे भारतीय सेना ने नाकाम कर दिया। इस मुठभेड़ में भारतीय सेना का एक जवान शहीद हो गया।
दैनिक भास्कर ने सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल जेएस बरार के हवाले से लिखा है की, ‘गुरेज सेक्टर के बकतूर इलाके में मौजूद घाटी में आतंकी घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे। सेना ने इस कोशिश को नाकाम कर दिया। जिसकी वजह से आतंकियों को वापस लौटना पड़ा।’
पाकिस्तान का भारत के विरुद्ध परमाणु कार्यक्रम
वहीं, दूसरी ओर अमेरिका की एक संसदीय समिति (कांग्रेशनल रिसर्च सर्विस) की रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान अपने परमाणु हथियारों की संख्या और गुणवत्ता लगातार बढ़ा रहा है। सीआरएस की रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान भारत को मद्देनजर रखते हुए अपनी परमाणु तैयारी को अंजाम दे रहा है। रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत की परमाणु क्षमताओं में संभावित इजाफे को देखते हुए पाकिस्‍तान अपनी परमाणु हथियार की क्षमता लगातार बढ़ा रहा है। जल्द ही इसमें और तेजी भी आ सकती है। सीआरएस की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अपने परमाणु हथियारों की संख्या और गुणवत्ता को बढ़ाने के अलावा पाकिस्तान उन हालातों की संख्या भी बढ़ा सकता है, जिसके तहत भारत पर परमाणु हमला किया जा सकता है।
सीआरएस की अन्य रिपोर्ट के अनुसार, ‘पाकिस्‍तान के पास करीब 90-110 परमाणु हथियार है।’ रिपोर्ट में आशंका व्‍यक्‍त की गई है कि यह तादाद इससे अधिक भी हो सकती है।
पाकिस्तान के इस परमाणु कार्यक्रम के लिए भी भारत को दोषी बताते हुए सीआरएस की ताज़ा रिपोर्ट कहती है के भारत ने शुरू में कहा था कि उसे केवल मिनिमम प्रतिरोध के लिए इसकी आवश्‍यकता है लेकिन उसने कभी इसकी परिभाषा नहीं बताई। भारत ने परमाणु अप्रसार संधि (सीटीबीटी) पर भी हस्‍ताक्षर नहीं किए हैं। इसके जवाब में पाकिस्‍तान ने भी अपनी परमाणु क्षमताओं को बढ़ाया।
परमाणु युद्ध की आशंका
दूसरी ओर, पाकिस्तान स्थित अमेरिकी दूतावास में राजनीतिक सलाहकार रहे जॉन आर स्कमिड्ट की किताब ‘द अनरैवलिंग-पाकिस्तान इन द एज ऑफ जिहाद’ में कहा गया है कि देश पर जिहादियों के नियंत्रण से यदि पाकिस्तान की सेना में फूट पड़ती है तो परमाणु हथियारों की सुरक्षा मुश्किल हो जाएगी। किताब में कहा गया है कि आज यह चिंता जाहिर की जा रही है कि आंतकी परमाणु हथियार का नियंत्रण अपने हाथ में ले सकते हैं और अमेरिका के खिलाफ इसका प्रयोग करने की धमकी देकर उसे ब्लैकमेल कर सकते हैं। यदि वास्तव में जिहादी इस्लामाबाद पर पकड़ बनाने में कामयाब रहते हैं तो अमेरिका की चिंता के बारे में कल्पना की जा सकती है। इस स्थिति में अमेरिका पहले हमला करने का निर्णय करेगा। अमेरिका अपने विशेष प्रशिक्षण प्राप्त कमांडो को तैनात करेगा या पाकिस्तान के हथियार भंडारों पर बमबारी करेगा।

पाकिस्तान भारत के खिलाफ परमाणु हथियारों को बढ़ावा देने का काम कर रहा है

पाकिस्तान अपने परमाणु हथियारों के जखीरे और उनकी गुणवत्ता में लगातार सुधार कर रहा है। यह सभी वह भारत को लक्ष्य बनाकर कर रहा है। अमेरिका से प्राप्त इस रिपोर्ट से भारत के उस बयान को बल मिला है जिसमें कहा गया था कि पाकिस्तान पूरे क्षेत्र में परमाणु हथियारों को बढ़ावा देने का काम कर रहा है। लेकिन पाकिस्तान ने भारत के इस बयान को नकार दिया था।
इन परमाणु हथियारों का इस्तेमाल के लिए विशेष परिस्थितियों को आमंत्रित किया जा सकता है|। यह रिपोर्ट अमेरिकी कानून निर्माताओं के लिए काग्रेशनल रिसर्च सर्विस ने बनाई है। सीआरएस के अनुसार, पाकिस्तान का परमाणु कार्यक्रम मुख्य रूप से भारत से खतरे की धारणा पर आधारित है। वह ऐसा दिखाने का प्रयास करता है कि वह भारत से डरा हुआ है।
इस रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान भारत के परमाणु हथियारों के जखीरे में संभावित वृद्धि से अपने बचाव के लिए परमाणु सामग्री के उत्पादन को बढ़ा रहा है। साथ ही वह परमाणु हथियारों को ले जाने वाले वाहनों की संख्या भी बढ़ा रहा है। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस्लामाबाद परमाणु हथियारों के लिए अपने वर्तमान प्रयासों में तेजी ला सकता है।

मुकद्दमा हारने वाले अधिवक्ताओं का शुल्क दोगुना किया

कैंट बोर्ड के अतिक्रमण सम्बन्धी मुकद्दमे हारने वाले अधिवक्ताओं के शुल्क दोगुने कर दिए गए हैं जिस पर आज सदस्यों ने ऐतराज दर्ज कराया \केंट बोर्ड की आज की बैठक में मेजर जनरल वी के यादव की अध्यक्षता में शिप्रा रस्तोगी+बीना वाधवा+ शशी साहू+जगमोहन शाकाल+प्रेम धींगरा+अजमल कमाल ने भाग लिया |सी ई ओ परषोत्तम लाल भी उपस्थित थे ||इनदोनो बंगलो में अनाधिकृत निर्माण के विषय में बोर्ड द्वारा दायर वाद हार जाने पर सदस्यों ने नाराजगी दिखाई |
इस अवसर पर एन सी आर के लिए किये जा रहे विकास कार्यों में केंट को भी शामिल किये जाने की मांग को भी दोहराया गया

विजेता शूटर विजय को सेना में आउट आफ टर्न प्रोमोशन

लन्दन ओलंपिक्स के पिस्टल [२५ मीटर]रेपिड शूटिंग में सिल्वर मेडल लेन वाले सूबेदार विजय कुमार को बेशक हिमाचल प्रदेश की सर्कार ने एक करोड़ रुपये से सम्मानित करने की घोषणा कर दी है मगर सेना के हाथ नियमो से बंधे है इसीलिए अब दबाब पड़ने पर सेना ने सूबेदार विजय कुमार को सूबेदार मेजर बनाने की घोषणा कर दी है \इससे पूर्व विजय कुमार ने स्वयम यह कहा था की अगर प्रोमोशन नहीं मिलता तो सेना छोड़ने के आलावा कोई विकल्प नहीं दिखता |इसके आलावा खेल मंत्री अजय माकन ने भी रक्षा मंत्री ऐ के अंटोनी को निवेदन क्या था की विजय को आउट आफ टर्न प्रोमोशन दिया जाए|

डिफेंस लैंड के रिकार्ड्स में बेहद ज्यादा अंतर

रक्षा भूमि के लिए किये जा रहे सर्वे और रक्षा संपदा विभाग के आंकड़े मेल नहीं खा रहे हैं|
देश की ६२ छावनियों में आये दिन रक्षा भूमि के अतिक्रमण की खबरे तहलका मचा रही है \सुकना घोटाले ने तो सेना के कई मज़बूत विकेट भी गिरा दिए|
इसीलिए रक्षा भूमि के आन लाईन सर्वे का काम आई आई टी रुड़की को सौंपा गया था |अब आई आई टी ,छावनी बोर्ड और रक्षा संपदा विभाग में उपलब्ध आंकड़ों में बड़ा अंतर को नोटिस किया गया है|
गौरतलब है की छावनी की भूमि को कागजों से उठा कर आन लाईन किये जाने की कवायद जारी है आई आई टी रुड़की ने रक्षा संपदा विभाग द्वारा मुहेय्या करवाए गए आंकड़ों के आधार पर रिपोर्ट तैयार की \जब इस रिपोर्ट को रक्षा संपदा विभाग और छावनी बोर्ड के रिकार्ड से मैच करवाया गया तो डिफेंस लैंड के रिकार्ड्स में ज्यादा अंतर दिखाई दिया है|