Ad

Category: Defence

रिटायरमेंट के बाद जनरल वी के सिंह किसानो की एक जुटता को गरजे

सेना में कई भ्रष्ट अधिकारिओं को बाहर करके चर्चा में आये थल सेना अध्यक्ष जनरल वी के सिंह ने सेवानिवर्ती के पश्चात कल गजरौला में किसानो को अन्याय के विरुद्ध लड़ने को प्रेरित किया|
शिव इंटर कालेज में आयोजित किसानो की महापंचायत में जनरल सिंह ने कहा की जब तक किसान एक जुट नहें होगा उसका उत्पीडन नहीं रुकेगा|इसीलिए किसानो को संगठित हो कर अपने अधिकारों के लिए लड़ना होगा|इस अवसर पर राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष वी एम् सिंह ने तलवार भेंट करके जनरल सिंह को सम्मानित भी किया|

सेना की भूमि ३१ तक खाली कर दो

सैनिक भूमि के अतिक्रमणकारियों को सेना ने अब ३१ जुलाई तक जमीन खाली करने की मोहलत दे दी है|
बीते दिनों कसेरूखेड़ा में जनता के विरोध के चलते सेना बिना अतिक्रमण हटाये ही बाद में आने का कह
कर बैरकों में लौट गई थी \कल इसी सिलसिले में एक प्रतिनिधिमंडल सेना के अधिकारिओं से मिला
मगर उन्हें ३१ जुलाई तक भूमि खाली करने का अंतिम अल्टीमेटम दे दिया गया अब ये लोग डी एम् के दरबार में जाने की तैय्यारी कर रहे हैं|

सेना नहीं ले पाई अपनी भूमि का कब्जा

[

मेरठ यूपी]पहले कहा जाता था की दावा झूठा कब्जा सच्चा जी हाँ कब्जे दारों को [ बेशक गैरकानूनी] बाहर खदेड़ना हमेशा से ही दावेदार+प्रशाशक के लिए एक टेडी खीर रही है और यह कहावत कल अपनी ऐ -१ भूमि पर से नाजायज़ कब्ज़ा हटाने गए सेना के अधिकारिओं के आड़े आई |कब्जे दारों ने विरोध किया और भूमि खाली कराओ अभियान को बीच में ही अधूरा छोड़ कर सेना बैरकों में लौट गई|
मेरठ के कसेरूखेडा के खटकान मोहल्ले में सेना की ऐ १ भूमि पर काबिज कुछ सिविलियंस के विरुद्ध सेना ने मुकद्दमा जीत लिया अब सेन्य भूमि पर बने मकान और दूकान ढाने के लिए शुक्रवार को ९४ फील्ड रेजिमेंट का जवान और बुलडोज़र चल गया |कब्जे दारो ने इस कार्यवाही का जम कर विरोध किया |दलील दी गई की ये लोग यहाँ १० वर्षों से रह रहे हैं और नगर निगम को टैक्स भी देते हैं|अब ऐसे में कर्नल आर एस राणा बेचारे दुबारा आने का कह कर बिना कार्यवाही के ही लौट गए \गौरतलब है की सीमाओं पर पडोसी मुल्क भारतीय जमीन कब्जा रहे हैं और देश के भीतर सेना और प्रशासन की मिलीभगत से अपने ही देश वासी भूमि पर काबिज हो रहे हैं|पिछले दिनों इसी इशु पर सेना के दो वरिष्ठ अधिकारिओं का कोर्ट मार्शल भी हुआ अदालत ने भी इसे संज्ञान में लिया था |इसके बाद सेना की भूमि का रिकार्ड दुरुस्त किये जाने की कवायद जरी है संभवत इसी कवायद के मध्य नज़र यह कार्यवाही हुई मगर बिना कार्यवाही के बैरकों में लौटना किसी भी द्रष्टि से उचित नहीं कहा जा सकता

देश रक्षा को आया नौजवान भगदड़ में मरा

भारतीय फौज में भर्ती हो कर देश की सेवा में प्राणों को न्यौछावर करने की इच्छा लिए आए एक नौजवान की मृत्यू हो गई और दो घायल हो गए |
आगरा के एकलव्य स्टेडियम में फौज में भर्ती के लिए भर्ती मेला लगा था इसमें लगभग १०००० लोगों ने भाग लिया |अचानक किसी बात को लेकर वहां
भगदड़ मच गई जिसके फलस्वरूप एक व्यक्ति की मौत हो गई और दो घायल हो गए | इस प्रकार की भर्ती में अक्सर भगदड़ मच ही जाती है मगर उसके लिए पुख्ता इंतज़ाम भी जरुरी होते हैं लेकिन यहाँ हुए नुक्सान को देखते हुए लगता है की यहाँ कोई चूक हुई है|सेना में भगदड़ के कारणों की जाँच चल रही है