Ad

Category: Economy

अमेरिका में फ़िलहाल आउट सोर्सिंग बंद नहीं होगी

बराक ओबामा द्वारा अमेरिका में आउट सोर्सिंग पर अंकुश लगाने के प्रयासों को सीनेट में रिपब्लिकन्स ने तगड़ा झटका दे दिया |
श्री बराक शुरू से ही अमेरिका में बेरोजगारी हटाने के लिए आउट सोर्सिंग के खिलाफ बोलते रहे हैं इसीलिए उन्होंने सीनेट में बहस के लिए यह मुद्दा रखवाया मगर उनके विरोधी रिपब्लिकन्स ने केवल चार वोटों से इसे गिरा दिया |अब इस पर बहस नहीं हो पायेगी|

आतंक वादियों की मनी लांड्रिंग को भारत सरकार वार अगेंस्ट स्टेट के रूप में ले

भारत सरकार ने एच एस बी सी बैंक द्वारा आतंकवादियों की रकम की लांड्रिंग में मिदियेटर की भूमिका को गंभीरता से लिया है और इस विषय में अमेरिकी सरकार से जानकारी मांग ली है|
पिछले दिनों इस बैंक पर गैरकानूनी धन की लांड्रिंग के आरोप लगे थे इसमें भारत से सम्बंधित ट्रांजेक्शन को अंजाम दिया गया था जिसकी अमेरिकी सीनेट ने भर्त्सना की थी |मीडिया ने इसे प्रमुखता से उठाया भी था
यूनियन होम सेक्रेटरी आर के सिंह द्वारा चेताये जाने के बाद राजदूत निरुपमा राव ने अमेरिकी सरकार से संपर्क किया है|फायनेंशियल एक्शन टास्क फ़ोर्स एक एंटी मणी लांड्रिंग क्लब है और भारत भी इस क्लब का सदस्य है ऐसे में यह अपराध केवल अमेरिका के विरुद्ध ही नहीं वरन भारत के विरुद्ध भी है|इसे वार अगेंस्ट स्टेट की संज्ञा दी जा सकती है|
बैंक ने अमेरिकी सीनेट से माफी माँगते हुए स्वीकार किया है कि आतंकवादियों ने मनी ट्रांजेक्शन के लिए इस बैंक को मिदीयेटर बनाया था जिसके विषय में बैंक को जानकारी नहीं थी |
पूर्व में अमेरिकी सीनेट ने एच एस बी सी बैंक की नियंत्रण सम्बन्धी खराब क्षमता को निशाना बनाते हुए अनेक संदिघ्ध संस्थाओं से लेन देन के आरोप लगाए थे सीनेट के एक पेनल ने बैंक पर आरोप लगाये थे कि बैंक ने आतंकिओं+मनी लांड्रिंग+और नशीले पदार्थों के व्यापारिओं से अरबों डालर कि बैंकिंग की है|यह केवल अमेरिका ही नहीं भारत में भी हो सकता है|इसकी जांच के लिए इस पेज पर भी मांग की जा चुकी है
भारत में आतंक वादियों के मिदियेटर बनने के आरोप भी इस बैंक पर लगे हैं ऐसे में इंडिया में भी इसे वार अगेंस्ट स्टेट करार देकर सीरियसली+निष्पक्ष जांच करवाई जानी चाहिए एच एस बी सी बैंक पर अरबों डालर का अवैध व्यापारियों से बैंकिंग का आरोप लगाया गया है इसमें टेरोरिस्ट+ड्रग स्मगलर्स आदि शामिल हैं|/

मारुती सुजुकी का शेयर गिरा

मारुती सुजुकी देश की सबसे बड़ी और अब तक की सफल मोटर कंपनी है|इसके शेयर आज १०९.३० पैसे गिर कर बंद हुए |ऐसा मानेसर स्थित कंपनी में हड़ताल और आगजनी के कारण हुआ |बीते दिन एक वर्कर और सुपरवाईज़र के बीच किसी काम को लेकर गर्म बहस के बाद एक वर्कर को बर्खास्त किये जाने से वर्कर भड़क गए और कंपनी के मानेसर स्थित प्लांट में चार जगह आग लगा दी गई इससे एक वरिष्ठ अधिकारी अवनीश कुमार देव की जलने से मौत हो गई और ८०के लगभग घायल हो गए\
पोलिस ने अब तक ९९ दोषिओं को अरेस्ट कर लिया है और शेष के लिए दबिश जारी है|
हरियाणा सरकार के मंत्री आर सुरजेवाला और चीफ सेक्रेटरी ने कड़ी कार्यवाही का आश्वासन दिया है|फिलहाल ५.५ लाख यूनिट प्रोडक्शन में सक्षम यह प्लांट फ़िलहाल बंद कर दिया गया है\

राष्ट्रपति के चुनावों में यूं पी ऐ के साथ खड़े होने का लाभ सपा को मिल ही गया

राष्ट्रपति के चुनावों में यूं पी ऐ के साथ खड़े होने का लाभ अब उत्तर प्रदेश की सपा को मिल ही गया बल्कि उम्मीद से कुछ ज्यादा ही मिल गया है| ८०० करोड़ रुपये कुम्भ मेले के लिए और ९२०० करोड़ रुपयों की अतिरिक्त केन्द्रीय मदद भी शामिल है| अब प्रदेश की वार्षिक यौजना पिछले वित्तीय वर्ष से २३% अधिक ५७५ अरब रुपयों की होगी|
यौजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलुवालिया और यूं पी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की नई दिल्ली में हुई मीटिंग में यह डील फायनल हुई |
इस राशि के बदले में प्रदेश सरकार से विकास दर बढाने+बिजली वितरण व्यवस्था सुधारने +राजस्व बढाने +और यौजना आयोग की राशि के सदुपयोग की आशा भी की गई है|
अखिलेश यादव ने मोंटेक सिंह को भरोसा दिलाया कि १०% विकास दर के साथ ८०.३०ळाख़ः अतिरिक्त रोजगार का स्रजन किया जाएगा\

अमेरिकी डालर के मुकाबिले भारतीय रुपय्या फिर लुड़का

आज सुबह की ट्रांजेक्शन में डॉलर के मुकाबिले भारतीय रुपय्या १० पैसे डाउन दर्ज़ किया गया |डॉलर की कीमत ५५.२१ तक पहुँच गई ऐसा यूरो में ए परिवर्तन से हुआ बताया जा रहा है
डॉलर ५५.२२ पैसे का हुआ

एच एस बी सी बैंक पर अवैध व्यापारियों से बैंकिंग का आरोप

एच एस बी सी बैंक पर अरबों डालर का अवैध व्यापारियों से बैंकिंग का आरोप लगाया गया है \अमेरिकी सीनेट ने बैंक की नियंत्रण सम्बन्धी खराब क्षमता को निशाना बनाते हुए अनेक संदिघ्ध संस्थाओं से लेन देन के आरोप लगाए हैं|
सीनेट के एक पेनल ने बैंक पर आरोप लगाये हैं कि बैंक ने आतंकिओं+मनी लांड्रिंग+और नशीले पदार्थों के व्यापारिओं से अरबों डालर कि बैंकिंग की है|यह केवल अमेरिका ही नहीं भारत में भी हो सकता है|
भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा इसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए

खुदरा व्यापार में अमेरिकी निवेश की फिराक में बराक

खुदरा व्यापार में निवेश की फिराक में अमेरिकी बराक
[जमोस सबलोक ]अमेरिका में चुनावों का महीना नवम्बर आने को ही है इसीलिए वहां की सल्तनत अभी से जुगाड़ भिडाने की जुगत में लग गई है|राष्ट्रपति बराक ओबामा जहां भारत के रिटेल मार्केट में अपने बेरोजगारों को खपाना चाह रहे है वहीं विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन सीरिया जैसे मुल्कों में वास्तविक डेमोक्रेसी के पाठ पढाने लग गई है|
बराक ओबामा ने हमेशा की तरह भारतीय प्रधान मंत्री डाक्टर मन मोहन सिंह को अपना अच्छा मित्र बता कर अपने मित्र को आर्थिक सुधारों के लिए नया दौर शुरू करने की सलाह दे दी है|विश्व में आई आर्थिक मंदी से अमेरिका भी बचा नहीं है इसीलिए उसे अब भारत में ही सुरक्षित व्यापार की उम्मीद है|भारत में विदेशी निवेश विशेष कर खुदरा व्यापार में विदेशी निवेश के लिए फूंक फूंक कर कदम रखे जा रहे हैं|विपक्ष के साथ यूं पी ऐ में भी विदेशी निवेश के लिए एक राय नहीं बन पाई है जबकि अमेरिका को इसकी वर्तमान में बहुत ज्यादा जरुरत है| कभी टाईम मैगजीन और कभी भारत पाक के रिश्तों को लेकर दबाब बनाया जा रहा है|अब स्वयम बराक ओबामा ने प्रत्यक्ष रूप से कमान संभाल ली है |
भारत में आई आर्थिक सुधारों में कमी से ओबामा भी चिंतित हैं|विदेशी निवेश पर रोक से निराश भी हैं|ओबामा सीधे मोर्चा खोलने के बजाये तारीफों के पुल बांधने से भी गुरेज़ नहीं कर रहे लेकिन इसके साथ ही अपने देश के व्यापारिओं की इच्छा के माध्यम से विदेशी निवेश के प्रति भारत की उदासीनता पर निराशा प्रकट करने से भी नहीं चूक रहे उनका कहना है की भारत में आर्थिक सुधारों में कमी जरूर आई है मगर यह वैश्विक मंदी का ही असर है|इस पर भी भारत की आर्थिक व्यवस्था प्रभावी तरीके से काम कर रही है|और विकास की गति बनाये रखने के लिए ऐसा किया जाना बहुत जरुरी है|
अब विदेश से कोई आलोचना या तारीफ आ जाए तो भारत में हंगामा होना स्वाभाविक ही है |विपक्ष ने इसे भारत की आंतरिक नीतियों में विदेशी दखल बताने में देरी नहीं लगाई|भाजपा ने मल्टी ब्रेंड निवेश पर अपना विरोध प्रकट किया तो वाम पंथियों ने इसे आर्थिक ओप्निवेश्वाद बताया |
मुझे याद आता है की स्वर्गीय राजीव गांधी ने एक बार अमेरिका की संसद को संबोधित किया था उसमे उन्होंने ऐसी ही एक समस्या का सामना बेहद सादगी और बिना किसी आडम्बर के किया और तालियाँ भी बटौरी थी राजीव गाँधी ने कहा था की हमारा देश में सुधारों के लिए एक दम स्विच ओवर करने के बजाये स्टेप बाई स्टेप चलना ही उचित और सही कदम होगा

भाजपा करेगी मल्टी ब्रेंड विदेशी निवेश की मुखालफत

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ऍफ़ डी आई पर भारत को सलाह क्या दी की भारतीय विपक्ष को सरकार घेरने का सुअवसर मिल गया |भाजपा और वाम पंथी जहाँ इसे भारतीय आंतरिक निति में विदेशी हस्तक्षेप बता रहे है वहीं उद्धमी आनंद महेन्द्रा ने बराक को अपना ग्राहक बता कर उसकी नाराजगी दूर करने को जरुरी बताया है|
भाजपा ने मल्टी ब्रेंड विदेशी निवेश की मुखालफत की है और बराक ओबामा को विदेशी व्यापारी बता कर देश हित में निति बनाने की बात कही है

बराक ओबामा ने भारतीय अर्थव्यवस्था के प्रति फील गुड कराया

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने आज भारतीय इकोनोमी के विषय में फील गुड कराते हुए कहा की अन्तराष्ट्रीय अर्थव्यवस्था में लगातार गिरावट के चलते ही भारत में भे थोड़ा प्रभाव पड़ा है यह स्वाभाविक ही है|
ओबामा ने बारतीय अर्थव्यवस्था के दरवाज़े विदेशी निवेशकों के लिए बंद रखे जाने पर कोई ठोस या कड़ी निंदा नहीं की मगर अपने देश वासिओं के बिजिनेस द्रष्टिकोण की वकालत कराते हुए विदेशी निवेश को खुदरा व्यापार के लिए खोले जाने पर जोर अवश्य दिया|
ओबामा ने किसी भी देश[ भारत सहित] की आंतरिक अर्थ नीतिओं में दखल दिए जाने से इंकार कर दिया|फिर भी भारत में आर्थिक सुधारों के एक नए दौर के शुरू होने की तरफ उन्होंने इशारा अवश्य किया

पी एम् की गार पर से मिटेगी रार

टेक्स चोरी को रोकने के मकसद से पी एम् डाक्टर मन मोहन सिंह ने विशेषज्ञों की समिति गठित कर दी है|यह ना केवल नए मसौदे तैयार करेगी वरण ३० सितम्बर तक रोड मैप भी तैयार कर लिया जाएगा|
पूर्व वित् मंत्री प्रणव मुख़र्जी द्वारा प्रस्तावित विवादास्पद जनरल एंटी एवायाड़ेंस रूल[गार] का विदेशी निवेशक विरोध कर रहे थे |अब इस विषय में दौबारा मसौदा तैयार किया जाएगा और इसके लागू करने की अवधि एक वर्ष के लिए बड़ा दी गई है\
गार के नए प्रारूप से विदेशी निवेशकों को देश में निवेश के लिए आकर्षित किया जा सकेगा|