Ad

Category: Glamour

पी चिदम्बरम ने अमेरिका में भारतीय टेक्नोक्रेट्स के भविष्य सम्बन्धी लाये जा रहे आव्रजन नीति को भी उठाया

भारत सरकार के वित्‍त मंत्री पी.चिदंबरम ने अमेरीका कांग्रेस की प्रतिनिधि सभा के सदस्‍यों से मुलाकात में भारत-अमेरीका संबंधों के विभिन्‍न आयामों पर चर्चा करते हुए अमेरिका में भारतीय टेक्नोक्रेट्स के भविष्य पर लगाई जा रही अटकलों को भी उठाया|
केंद्रीय वित्‍त मंत्री श्री पी.चिदंबरम ने वाशिंगटन डीसी की यात्रा के दौरान कल अमेरिकी कांग्रेस की प्रतिनिधि सभा के सदस्‍यों से मुलाकात की। इस बैठक में अमेरिका में भारत की राजदूत सुश्री निरूपमा राव, वित्‍त मंत्रालय के आर्थिक कार्य विभाग के सचिव डॉ. अरविंद मायाराम भी उपस्थित थे।
बैठक में भारत और अमेरिका के संबंधों के विभिन्‍न आयामों पर चर्चा हुई। अनिवार्य लाइसेंसिंग+ पेटेंट सुरक्षा+ अमेरिकी कांग्रेस में आव्रजन विधेयक तथा रक्षा + वित्‍तीय सेवाओं जैसे क्षेत्रों में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश बढ़ाने जैसे मुद्दों पर विशेष रूप से चर्चा हुई।

The Union Finance Minister, Shri P. Chidambaram with the Members of US Congress, the Co-Chair of House India Caucus Congressman, Mr. Joe Crowley from New York, the Congressman, Mr. Ami Bera from California and the Congressman, Mr. Erik Paulsen from Minnesota, during a meeting, in Washington DC on July 11, 2013.

The Union Finance Minister, Shri P. Chidambaram with the Members of US Congress, the Co-Chair of House India Caucus Congressman, Mr. Joe Crowley from New York, the Congressman, Mr. Ami Bera from California and the Congressman, Mr. Erik Paulsen from Minnesota, during a meeting, in Washington DC on July 11, 2013.


वित्‍त मंत्री ने फिर कहा कि सुरक्षा और रक्षा आदि जैसे क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच काफी अच्‍छा सहयोग है तथा दोनों देशों के बीच असैन्‍य परमाणु समझौता एक ऐतिहासिक समझौता था। उन्‍होंने यह भी बताया कि भारतीय कानून बौद्धिक संपदा अधिकार (आईपीआर) का समर्थन करता है और अनिवार्य लाइसेंस तथा पेटेंट रजिस्‍ट्रेशन प्रदान करने की प्रक्रिया डब्‍ल्‍यूटीओ के अनुसार होती है तथा यह न्‍यायिक समीक्षा के अधीन है। वित्‍त मंत्र श्री पी.चिदंबरम ने अपनी घरेलू ज़रूरतों को पूरा करने तथा वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था को फिर से संतुलित करने के लिए भारत के विनिर्माण केंद्र बनने के महत्‍व पर भी ज़ोर दिया। आव्रजन के मुद्दे पर वित्‍त मंत्री ने भारत की चिंता भी जाहिर की क्‍योंकि बौद्धिक कामगारों के अस्‍थायी स्‍थानांतरण के मुद्दा को (जो कि किसी भी परिभाषा में ‘आव्रजन नहीं हैं’) आव्रजन के एक बड़े मुद्दे से जोड़ा गया है।
कांग्रेस के सदस्‍यों ने भारत और अमेरिका के संबंधों को बढ़ाने और दोनों देशों के बीच आपसी लाभप्रद सहयोग को आगे बढ़ाने में अपनी दिलचस्‍पी जाहिर की। वालमार्ट के प्रतिनिधियों ने भी वित्‍त मंत्री से मुलाकात की।
फोटो कर्टसी पी आई बी

मलय मिश्र, को हंगरी गणराज्य के लिए भारत के अगले राजदूत के पद के लिए सलेक्ट किया गया

श्री मलय मिश्र, को हंगरी गणराज्य के लिए भारत के अगले राजदूत के पद के लिए सलेक्ट किया गया है|
आई ऍफ़ एस श्री मलय मिश्र (भाविसे: 1979), हंगरी गणराज्य के लिए भारत के अगले राजदूत नियुक्त किए गए हैं।
श्री मिश्र ने फ़्रांस+सेनेगल+मॉरिशस +यूं एस ऐ+ईरान+जर्मनी+सेय्चेल्लेस [Seychelles ]+त्रिनिदाद,टोबागो आदि में विभिन्न पदों पर कार्य कर चुके हैं
उम्मीद है कि श्री मिश्र शीघ्र ही अपना पदभार ग्रहण कर लेंगे

जनसंख्‍या स्थिरीकरण के लिए राजधानी दिल्ली में पदयात्रा का आयोजन किया गया :WorldPopulationDay

विश्‍व जनसंख्‍या दिवस पर जनसंख्‍या स्थिरीकरण के लिए भारत सरकार ने [११ जुलाई] आज भारत की राजधानी दिल्ली में पदयात्रा का आयोजन किया |
विश्‍व जनसंख्‍या दिवस के अवसर पर स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय के अंतर्गत स्वायत्त निकाय जनसंख्‍या स्थिरता कोष (जेएसके) ने आज नई दिल्‍ली में ‘जनसंख्‍या स्थिरीकरण की ओर पद यात्रा’ आयोजित की । पद यात्रा इंडिया गेट से विजय चौक तक थी, जो कि सुबह सात बजे से शुरू हुई। इसे केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री श्री गुलाम नबी आज़ाद ने स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण राज्‍य मंत्री श्रीमती संतोष चौधरी की उपस्थिति में हरी झंडी दिखाकर रवाना किया ।

The Minister of State for Health & Family Welfare, Smt. Santosh Chowdhary

The Minister of State for Health & Family Welfare, Smt. Santosh Chowdhary


इस अवसर पर दिल्‍ली के विभिन्‍न स्‍कूलों से 200 से अधिक विद्यार्थियों ने जनसंख्‍या स्थिरीकरण में अपना समर्थन दर्शाने के लिए भाग लिया। पद यात्रा का उद्देश्‍य नारी शिक्षा में कमी,+कम उम्र में शादी+ बच्‍चे पैदा करना जैसे अन्‍य चुनौतियों से निपटने के लिए जनसंख्‍या स्थिरीकरण के मुद्दे पर गति बढ़ाना तथा जागरूकता फैलाना है।
विद्यार्थियों ने जनसंख्‍या स्थिरीकरण के मकसद को समर्थन देने के लिए नारे वाली तखतियां लेकर भाग लिया।
केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री श्री गुलाम नबी आज़ाद ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि पद यात्रा स्‍थाई स्‍तर पर समग्र सामाजिक आर्थिक विकास में जनसंख्‍या स्थिरीकरण के महत्‍व को रेखांकित करने के लिए आयोजित की गई। उन्‍होंने उम्‍मीद जताई कि पद यात्रा लोगों को मां, बच्‍चे और पूरे परिवार के स्‍वास्‍थ्‍य की बेहतरी के लिए छोटा परिवार रखने के लिए जागरूक तथा प्रेरित करेगी।
The Union Minister for Health and Family Welfare, Shri Ghulam Nabi Azad addressing the Flag off Ceremony of The Walk Towards Population

The Union Minister for Health and Family Welfare, Shri Ghulam Nabi Azad addressing the Flag off Ceremony of The Walk Towards Population


जारी आंकड़ों के अनुसार 2011 की जनगणना में भारत की जनसंख्‍या 1.21 अरब पहुंच गई है। 2001-2011 के दौरान दशकीय वृद्धि दर 17.64 प्रतिशत हुई, जबकि 1991 -2001 के दौरान वृद्धि दर 21.15 प्रतिशत थी। 1911-1921 के अपवाद को छोड़कर 2001-2011 की अवधि पहला दशक है, जिसमें अन्‍य दशकों की तुलना में आबादी में कम बढ़ोतरी हुई। परन्‍तु उत्‍तर प्रदेश+ बिहार,+मध्‍य प्रदेश+ राजस्‍थान+ झारखंड+छत्‍तीसगढ़ में जनसंख्‍या की उच्‍च वृद्धि देखी गई।

Michelle Obama hosted healthy+tasty +unforgetable dinner for Fifty-four young chefs

[July 9, 2013.]First Lady Michelle Obama hosted healthy+tasty dinner for Fifty-four young chefs, whose recipes were selected as winners of Epicurious’ Healthy Lunchtime Challenge.These young chefs visited the White House for the second annual Kids’ State Dinner, hosted by First Lady Michelle Obama in the State Dining Room. When they arrived, White House chefs were busy in the kitchen whipping up some of the winning recipes.

Obama greets young guest in white house

Obama greets young guest in white house


After hearing the First Lady speak, President Obama surprised everyone by stopping by to say hello.
Singer Rachel Crow also made an appearance – some of the kids even got on stage to dance with her.
Social sites [twitter]are filled with this historic event .few examples are shown below
[1]Joshua from Montana is a proud member of the clean plate club!! Zucchini corn bread and veggie spring rolls,
[2]President Barack Obama greeted young guests at the Kids’ State Dinner in the East Room of the White House,
[3]Balloon animals covered tables in the Grand Foyer of the White House during the Kids’
[4]First Lady Michelle Obama also could not stop herself and danced with Rachel Crow
[5]Amber Kelley @CookWithAmber has said “Mrs. Obama @flotus gave me a big hug. What a lucky girl I am! #epicurioust”

सांस्‍कृति‍क सौहार्द के लि‍ए भारतीय पारसी जुबीन मेहता को टैगोर पुरस्‍कार दिया जाएगा

सांस्‍कृति‍क सौहार्द के लि‍ए जुबीन मेहता को टैगोर पुरस्‍कार दिया जाएगा जिसके साथ एक करोड़ रूपये की धनराशि‍, प्रशस्‍ति‍पत्र और स्‍मृति‍चि‍न्‍ह के साथ-साथ पारम्‍परि‍क हस्‍तकला/हस्‍तशि‍ल्‍प की एक उत्‍कृष्‍ट कृति भेंट की जाती है।प्रधानमंत्री डॉं. मनमोहन सिंह की अध्‍यक्षता में गठि‍त एक उच्‍च स्‍तरीय ज्‍यूरी ने 4 जुलाई 2013 को कि‍ए गये एक वि‍स्‍तृत वि‍चार-वि‍मर्श के बाद सर्वसम्‍मति‍से यह फैसला लि‍या कि‍वर्ष 2013 के लि‍ए सांस्‍कृति‍क सौहार्द का टैगोर पुरस्‍कार जाने-माने संगीतज्ञ श्री जुबीन मेहता को प्रदान कि‍या जाएगा। श्री जुबीन मेहता यह पुरस्‍कार पाने वाले दूसरे गणमान्‍य व्‍यक्‍ति‍हैं।
इस पुरस्‍कार को चयन करने वाली उच्‍च स्‍तरीय समि‍ति में प्रधानमंत्री के अलावा भारत के मुख्‍य न्‍यायाधीश न्‍यायमूर्ति श्री अल्‍तमस कबीर, लोक सभा में वि‍पक्ष की नेता श्रीमती सुषमा स्‍वराज और श्री गोपालकृष्‍ण गांधी शामि‍ल हैं।
सरकार ने गुरूदेव रबीन्‍द्रनाथ टैगोर के 150वें जन्‍मोत्‍सव समारोहों के दौरान इस वार्षिक पुरस्‍कार की शुरूआत की थी। वर्ष 2012 में प्रथम टैगोर पुरस्‍कार जाने माने भारतीय सि‍तार वादक पंडि‍त रवि‍शंकर को प्रदान कि‍या गया था।
यह पुरस्‍कार राष्‍ट्रीयता, जाति‍, भाषा, नस्‍ल, धर्म अथवा लिंग से परे है और इसे प्राप्‍त करने की पात्रता सभी व्‍यक्‍ति‍यों में हो सकती है।

डॉ. लक्ष्मण सिंह राठौर जलवायु सेवा के अंतर-सरकारी बोर्ड (आईबीसीएस) के सह-उपाध्‍यक्ष निर्वाचित

भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक और डब्ल्यूएमओ में भारत के स्‍थाई प्रतिनिधि डॉ. लक्ष्मण सिंह राठौर जलवायु सेवा के अंतर-सरकारी बोर्ड (आईबीसीएस) के सह-उपाध्‍यक्ष निर्वाचित हुए हैं। ग्‍लोबल फ्रेमवर्क ऑफ क्‍लाइमेट सर्विसेज़ (जीएफसीएस) के क्रियान्‍वयन में भारत की अब महत्‍वपूर्ण भूमिका रहेगी |
सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार 01 से 05 जुलाई, 2013 को जेनेवा में हुई जलवायु सेवा के अंतर-सरकारी बोर्ड की पहली बैठक में उनका चयन किया गया। श्री राठौर हाल ही में डब्‍ल्‍यूएमओ की कार्यकारी परिषद के सदस्‍य निर्वाचित किये गए और इसके पहले उन्‍होंने कृषि मौसम विज्ञान आयोग में उपाध्‍यक्ष के पद पर भी कार्य किया। नॉर्वे मौसम विभाग संस्‍थान के महानिदेशक एंटन एलियासेन को चेयर तथा दक्षिण अफ्रीका के लिंडा मकूलेनी को अन्‍य को-वाइस चेयर के रूप में चयनित किया गया है।
श्री राठौर के नियुक्ति के साथ ही भारत, जो कि विकासशील देशों की समस्‍याओं को लेकर काफी चिंतित रहा है, वह ग्‍लोबल फ्रेमवर्क ऑफ क्‍लाइमेट सर्विसेज़ (जीएफसीएस) के क्रियान्‍वयन में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाएगा। डब्‍ल्‍यूएमओ ने जीएफसीएस की शुरूआत विश्‍व जलवायु सम्‍मेलन (डब्‍ल्‍यूसीसी) -3 के बाद किया था, जिसका उद्देश्‍य योजना में विज्ञान आधारित जलवायु सूचना एवं भविष्‍यवाणी को शामिल करने तथा वैश्विक क्षेत्रीय एवं राष्‍ट्रीय स्‍तर पर नीति बनाकर जलवायु परिवर्तनशीलता तथा जलवायु परिवर्तन में बदलाव तथा अनुकूलता से संबंधित खतरों का बेहतर प्रबंधन करना है। जीएफसीएस के चार प्रमुख प्रथामिकता क्षेत्र हैं – कृषि एवं खाद्य सुरक्षा, आपदा जोखिम में कमी, स्‍वास्‍थ्‍य एवं जल।

first ‘digital generation will discuss the problems of cybercriminals:ITU

[Geneva,] Hundreds Of talented young people from around the world will gather this September in San José, Costa Rica Around the world, and will discuss crucial issues facing the first truly ‘digital generation.
Present generation is no doubt equipped with latest technology but it is also universal fact that they are facing challenges from cybercriminals+unprincipled data mining organizations etc.To find out a way, this debate has been organised by International Telecommunication Union .
young people are the most ardent adopters of information and communication technologies (ICTs). Under 25s now use ICT devices as their main means of exchanging personal information, their primary channel to news and happenings, and their central repository of sensitive data like banking details, online passwords and health information. Is new technology empowering them – or is it enslaving them by setting them up as prey to cybercriminals, unprincipled data mining organizations, and worse?
Around 500 talented young people from around the world will gather this September in San José, Costa Rica to debate these and other crucial issues facing the first truly ‘digital generation’.

पर्यटन मंत्रालय ने एतिहासिक महाबोधि मंदिर पर हुए हमले में नुक्सान की रिपोर्ट बिहार सरकार से मांगी

केन्द्रीय पर्यटन मंत्री के. चिरंजीवी ने एतिहासिक महाबोधि मंदिर पर हुए हमले में नुक्सान की रिपोर्ट बिहार सरकार से मांगी है|
श्री . चिरंजीवी ने बिहार के बोधगया स्थित महाबोधि मंदिर परिसर पर हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है।उन्होंने कहा है कि यह मंदिर शांति, एकता और मानव उत्थान का अंतर्राष्ट्रीय प्रतीक है। मंत्रालय द्वारा जारी एक वक्तव्य में उऩ्होंने इस हमले में तीर्थयात्रियों के घायल होने और संपत्ति के नुकसान पर गहरा खेद व्यक्त किया है। बताय गया है कि इस मंदिर का निर्माण पांचवीं और छठी शताब्दी ईसा पूर्व में किया गया था। यह विश्व के बौद्ध धर्मानुयायियों का सबसे पवित्र तीर्थस्थल है। मंत्री ने समाज के सभी वर्गों से आग्रह किया है कि वे धार्मिक विश्वास के मामले में एक-दूसरे के प्रति सहिष्णु रहे और भगवान बुद्ध द्वारा बताए गए मार्ग पर मानवतावादी समाज के निर्माण के लिए कार्य करें।

बराक ओबामा ने सरकार को सुव्यवस्थित और पारदर्शी बना कर २१वी सदी में ले जाने के निर्देश दिए

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपनी सरकार को सुव्यवस्थित और पारदर्शी बनाने के लिए अपने संकल्प को दोहराते हुए बेहतर आपदा प्रबंधन +अपव्यय में कटौती के छेत्रों में और अधिक कार्य करने की आवश्यकता पर बल दिया| राष्ट्रपति ओबामा ने कहा की इन छेत्रों में कार्य किया जा रहा है लेकिन बेहतर, मित्रवत शासन प्राणाली के लिए अभी और बहुत कुछ करने की आवश्यकता है| इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिए ओबामा ने नई प्रबंध कार्यसूचक[ management agenda ] को हाई लाईट किया और इसके आधार पर उन्होंने सरकार को २१वी सदी में ले जाने के लिए केबिनेट को दिशा निर्देश भी दिए|

निर्वाचन आयोग ने दलों के घोषणा पत्रों पर दिशानिर्देश बनाने के लिए मान्‍यता प्राप्‍त दलों की एक बैठक बुलाने का निर्णय लिया

भारत के निर्वाचन आयोग [ ECI ]ने उच्‍चतम न्‍यायालय के निर्णय को संज्ञान में लेते हुए सभी राष्‍ट्रीय और राज्‍य स्‍तर के मान्‍यता प्राप्‍त दलों की एक बैठक बुलाने का निर्णय लिया है| इस बैठक में उच्‍चतम न्‍यायालय के 2008 और टीसी संख्‍या 2011 की 112- सुब्रामण्‍यम बालाजी बनाम तमिलनाडु सरकार और अन्‍य की एसएलपी (सी) संख्‍या 21455 पर 5.7.3013 को राजनीतिक दलों के घोषणा पत्रों पर दिशानिर्देश बनाने के लिए दिये गए एक निर्णय को लागू करने के संदर्भ में चर्चा की जानी है| ऐसी बैठक के लिए शीघ्र ही कोई तिथि निर्धारित की जायेगी। इस बीच, चुनाव आयोग निर्णय की एक प्रति मान्‍यता प्राप्‍त दलों को उनकी सूचना और दृष्टिकोण तैयार करने के लिए भेज चुका है।
[2]. आयोग उच्‍चतम न्‍यायालय के निर्णय का संज्ञान ले चुका है कि इसे राजनीतिक दलों के घोषणा-पत्रों को तैयार करने के लिए दिशा-निर्देश बनाने चाहिए। यह निर्णय हो चुका है कि इस मामले में आगे कोई भी कार्रवाई करने से पहले राजनीतिक दलों का दृष्टिकोण लिया जायेगा।
[3]. आयोग शीघ्र ही सभी राजनीतिक दलों के बीच इस मामले में एक संदर्भ-पत्र वितरित करेगा। इसकी तैयारी के संदर्भ में आयोग राष्‍ट्रीय और अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर इस विषय पर उपलब्‍ध विचारों और व्‍यवहारों को संग्रहित करने का प्रयास शुरू कर चुका है।
निर्वाचन आयोग द्वारा यह जानकारी आज 8 जुलाई, 2013 को दी गई।