Ad

Category: Jhalli Gallan

राम नाम की पूँजी मुक्ति का आधार

पूँजी राम नाम की पाइए. पाथेय साथ नाम ले जाइये
नशे जन्म मरण का खटका, रहे राम भक्त नहीं अटका.

भाव : संतजन हमें समझाते हुए कहते हैं कि मनुष्य को इस जीवन में राम नाम का धन एकत्र करना चाहिए
क्योंकि केवल यही धन ऐसा है जो परलोक में भी मनुष्य के साथ जाता है इसके सिवाय कोई और सांसारिक
वस्तु साथ नहीं जाती . जिस मनुष्य के पास राम नाम की पूँजी है उसे जीवन मृत्यु के आवागमन का संशय नहीं रहता .
तथा मुक्ति मार्ग में आने वाली विघ्न- बाधाएँ परमात्मा की कृपा से समाप्त हो जाती हैं .

स्वामी सत्यानन्द जी महाराज द्वारा रचित अमृतवाणी का एक अंश
प्रेषक: श्री राम शरणम् आश्रम, गुरुकुल डोरली, मेरठ

दूसरों को जूता मार कर रोटी कमाने वाले जूता पालिश कि इजाज़त कैसे दे सकते हैं

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां
एक पाकिस्तानी बुद्धिजीवी
ओये झल्लेया ये कया हमारे लोग कुफ्र कमाने में लग गए ओये खर्शीद खान हिन्दुस्तान गए थे दोनों देशों में सौहार्द कायम करने |इसके लिए उन्होंने धार्मिक स्थलों पर कार सेवा भी यहाँ तक कि जूते पालिश किये और झूठे बर्तन तक साफ़ किये मगर हमारे यहाँ के कट्टरपंथियों ने खुदा के नेक बन्दे खुर्शीद खान को पेशावर के डिप्टी अटार्नी जनरल के ओहदे से ही बर्खास्त करवा दिया है|ओये अल्लाह तो एक ही है वोही सब जगह है फिर ये बंदिशें क्यूं??
झल्ला
भाई मियाँ कुछ लोगों कि रोज़ी रोटी दूसरों को जूता मारने से चलती है ऐसे लोग जूता पालिश कि इजाज़त कैसे दे सकते हैं|अल्लाह बड़ा कारसाज है वोह सब देख रहा है |नियत और करनी का फल देर या सवेर जरुर मिलेगा| Permalink: http://jamosnews.com/

परमात्मा से प्रेम करने पर संसार और हमारी जिन्दगी ख़ूबसूरत हो जाती हैं.

प्रेम का उन्माद

मेरा कोई दोस्त नहीं है, मेरे प्रियतम के सिवाय,
मुझे कोई काम नहीं है, उसके प्रेम के सिवाय
खिजां नसीब रास्ते भी सज गए संवर गए,
उन्हें बहार ही मिली, जहाँ गये, जिधर गए..
भाव-
रूहानी संत, संत दर्शन सिंह जी महाराज आत्मा और परमात्मा के प्रेम के सम्बन्ध में कहते हैं
जिस प्रकार कोई प्रेमी दिन-रात अपनी प्रेमिका के बारे में सोचता रहता है , वैसे ही जब हमारी आत्मा एक बार
प्रभु से मिलकर उसके प्रेम से ओत-प्रोत हो जाती हैं, तो वह भी उसी हालत में रहती है.
परमात्मा से प्रेम करने पर हमारा संसार और हमारी जिन्दगी ख़ूबसूरत हो जाती हैं. हमारे जीवन में अनगिनत फूलों
की सुगंध आ जाती है. ऐसा लगता हैं मानो सर से पैर तक हमारे अन्दर ईश्वर का प्रेम बह रहा हो.

पवार की पावर कम करने के लिए असफल मंत्री को अधिक पावर

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां
पवार की पावर कम करने के लिए असफल मंत्री को अधिक पावर

शरद पवार का महाराष्ट्री समर्थक
ओये झल्लेया ये कया हो रहा है ओये देश में बिजली संकट छाया हुआ है इसे दूर करने में विफल रहे सुशील कुमार शिंदे को प्रोमोट करके गृह मंत्री बना दिया गया है \फ़ैल होने वाले को भी प्रोमोशन ???
झल्ला
भई मराठी मानुष दरअसल बात ये है की अंग्रेजों की पालिसी के मुताबिक़ अपने आदमी के लिए कोई कानून या निति नहीं होती और फिर आपके पवार की पावर कम करने के लिए असफल मंत्री को भी अधिक पावर फुल बनाना फिलवक्त की जबरदस्त मांग है| आई बात कुछ समझ में

संत हमारे जीवन के प्राणाधार हैं

मीराबाई की वाणी
साधू हमारे हम साधुन के, साधू हमारे जीव,
साधुन मीरा मिल रही, जिमी माखन मैं घीव

.
भावार्थ – सत्संग के रंग में रंगी मीरा कहती है – संत ही मुझे सबसे प्रिय हैं.,वे ही मेरे अपने हैं. संत ही मेरे जीवन और प्राण हैं . मैं संतों की हूँ. मैं उनकी संगती में
यूं समा गई हूँ जिस प्रकार मक्खन मैं घी समाया रहता है .

राजनितिक पाला बदलना होता है तब यही जुबान काम आती है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्ला
राजनितिक पाला बदलना होता है तब यही जुबान काम आती है

एक सपाई छुट भैया
ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है??ओये पार्टी से निष्कासित शाहिद सिद्दीकी ने अब नरेन्द्र मोदी के रंग हसाड़े मुलायम सिंह और अखिलेश पर उड़ेलने शुरू कर दिए हैं|अब सिद्दीकी ने पार्टी में परिवार वाद के हावी होने और सत्ता के कई केंद्र होने जैसे आरोपों की झड़ी ही लगा दी है|
झल्ला
बौऊ जी ये जुबान की खातिर निकाले गए सिद्दीकी जी को पता है कि जब राजनितिक पाला बदलना होता है तब यही जुबान काम आती है |हो सकता है कि कुछ दिनों में कांग्रेस या ,,,,,में अवतरित होने कि खबर मिल जाये

पडोसी मुल्क शोर्टकट रास्ता बना रहा है

झल्ले दी झल्लियाँ गलां
पडोसी मुल्क द्वारा शोर्टकट रास्ता बनाया जा रहा है

एक देश वासी
ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है ?एक तरफ तो पाकिस्तान धरती के ऊपर भारत से सम्बन्ध सुधारने के लिए क्रिकेट मैच करवाना चाहता है और हसाड़े सोने ते मन मोहने पी एम् को पाकिस्तान में अपने पूर्वजों के शहर और घर की सैर करने का न्यौता भी दे रहा मगर इसके साथ ही सीमा पर आतंकवादी गतिविधियों को रफ़्तार देने के किये जमीन के २२ फिट नीचे ५०० मीटर तक सुरंग बना ली है ओये ऐसे कैसे और कब तक चलेगा???
झल्ला
ओ भोले शाहजी असल में यह तो हमारे पडोसी मुल्क द्वारा शोर्टकट रास्ता बनाया जा रहा है इस मार्ग से होकर हसाड़े पी एम् और क्रिकेटर्स आराम से और जल्दी पाकिस्तान पहुँच सकेंगे और आप लोगों ने इसमें भी घरैड डाल दी है
हैं इंज वी कोई करदा ये भला

औरतों की मूर्तियों को भी नहीं छोड़ा जा रहा

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां
औरतों की मूर्तियों को भी नहीं छोड़ा जा रहा

एक बसपाई
ओये झल्लेया ये कया हो रहा है?ओये प्रदेश में बड़ते जा रहे क्राईम की रोक थाम के प्रति उदासीन इस सपा सरकार में अपने चुनावी अजेंडे को पूरा करने के लिए अब मूर्तियाँ को तोड़ने को प्राथमिकता दी जा रही है|चैन स्नेचिंग +चोरी+लूट+डकैती+अपहरण +मर्डर +बलात्कार का ग्राफ ऊपर जा रहा है और इन तालिबानिओं को मूर्ति तोड़ने से ही फुर्सत नहीं है |ओये अब क्राईम की रोक थाम कैसे होगी??
झल्ला
हाँ जी वाकई यूं पी का निकल रहा है दम क्राईम यहाँ नहीं हो रहा कम |यहाँ तो अब महिलाओं की छोड़ो महिलाओं की मूर्तियों को भी नहीं छोड़ा जा रहा| राजधानी में आप जी की बहन जी की सुरक्षा के घेरे में लगी सफ़ेद +सुन्दर+ बोलती हुई +हाथ में पर्स लिए+संगमरमर की मूर्ति को भी तोड़ डाला गया |ये तो भाई वाकई हद नालों वि वद ही है

नाचीज़ तो आज्ञा लेने ही अन्दर आया है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां
रक्षा लेखा विभाग में आई डी ऐ एस अधिकारी
ये मिस्टर कहाँ मुह उठाये अन्दर चले आ रहे हो बाहर गेट पर लिखा पड़ा नहीं कि बिना आज्ञा अन्दर आना मना है
झल्ला
आदरणीय+ माननीय+सम्माननीय +श्रीमान जी ठण्ड रखो जी ठण्ड ये नाचीज़ आज्ञा लेने ही तो अन्दर आया है क्या में अब अन्दर आ जाऊं ??

यूं पी में एनेर्जी और अनुभव आमने सामने

null

  1. Read more