Ad

Category: Poetry

राम नाम की पूँजी मुक्ति का आधार

पूँजी राम नाम की पाइए. पाथेय साथ नाम ले जाइये
नशे जन्म मरण का खटका, रहे राम भक्त नहीं अटका.

भाव : संतजन हमें समझाते हुए कहते हैं कि मनुष्य को इस जीवन में राम नाम का धन एकत्र करना चाहिए
क्योंकि केवल यही धन ऐसा है जो परलोक में भी मनुष्य के साथ जाता है इसके सिवाय कोई और सांसारिक
वस्तु साथ नहीं जाती . जिस मनुष्य के पास राम नाम की पूँजी है उसे जीवन मृत्यु के आवागमन का संशय नहीं रहता .
तथा मुक्ति मार्ग में आने वाली विघ्न- बाधाएँ परमात्मा की कृपा से समाप्त हो जाती हैं .

स्वामी सत्यानन्द जी महाराज द्वारा रचित अमृतवाणी का एक अंश
प्रेषक: श्री राम शरणम् आश्रम, गुरुकुल डोरली, मेरठ

परमात्मा से प्रेम करने पर संसार और हमारी जिन्दगी ख़ूबसूरत हो जाती हैं.

प्रेम का उन्माद

मेरा कोई दोस्त नहीं है, मेरे प्रियतम के सिवाय,
मुझे कोई काम नहीं है, उसके प्रेम के सिवाय
खिजां नसीब रास्ते भी सज गए संवर गए,
उन्हें बहार ही मिली, जहाँ गये, जिधर गए..
भाव-
रूहानी संत, संत दर्शन सिंह जी महाराज आत्मा और परमात्मा के प्रेम के सम्बन्ध में कहते हैं
जिस प्रकार कोई प्रेमी दिन-रात अपनी प्रेमिका के बारे में सोचता रहता है , वैसे ही जब हमारी आत्मा एक बार
प्रभु से मिलकर उसके प्रेम से ओत-प्रोत हो जाती हैं, तो वह भी उसी हालत में रहती है.
परमात्मा से प्रेम करने पर हमारा संसार और हमारी जिन्दगी ख़ूबसूरत हो जाती हैं. हमारे जीवन में अनगिनत फूलों
की सुगंध आ जाती है. ऐसा लगता हैं मानो सर से पैर तक हमारे अन्दर ईश्वर का प्रेम बह रहा हो.

संत हमारे जीवन के प्राणाधार हैं

मीराबाई की वाणी
साधू हमारे हम साधुन के, साधू हमारे जीव,
साधुन मीरा मिल रही, जिमी माखन मैं घीव

.
भावार्थ – सत्संग के रंग में रंगी मीरा कहती है – संत ही मुझे सबसे प्रिय हैं.,वे ही मेरे अपने हैं. संत ही मेरे जीवन और प्राण हैं . मैं संतों की हूँ. मैं उनकी संगती में
यूं समा गई हूँ जिस प्रकार मक्खन मैं घी समाया रहता है .

शिव तुम सत्य हो इसीलिए सुन्दर भी हो|

हे शिव तुम सत्य हो इसीलिए सुन्दर भी हो
मेरे मन मंदिर की तुम पवित्र मूरत भी हो ||
आपकी गंगा या चन्द्रमा की इच्छा नहीं |
गाड पार्टिकल में अभी जागा विशवास नहीं||
हे शिव …..
गंगा तुम्हारी मैली हो रही नहीं कोई हवाल |
गंगा की शक्ति निकालने को बन रहे हैं बाँध||
चाँद तुम्हारा कब्जा कर अमेरिका हुआ निहाल|
मेरे मुल्क का मगर देखो हो रहा है बुरा हाल||
हे शिव……….
क्यूंकि तुम सत्य और सुन्दर भी हो इसीलिए शिव|
तुम्हारे चरणों में मात्र एक तुच्छ निवेदन है||
मुल्क में शान्ति और सुख का साम्राज्य हो |
इसीलिए साल में जलाभिषेक करते दो दो बार||
बुढापे में अब इससे ज्यादा की नहीं रही आस ||
हे शिव………..

बंज़र पड़ी ग्रामीण भूमि पर भी मनरेगा का हल चलवाओ

खून पसीना एक कर दो मनरेगा को सफल बनाओ
मजदूर का पसीना और सरकारी पैसा खूब बहाओ
भ्रष्टाचार के लिए नहीं बची कोई अब जगह यहाँ
पसीना सूखने से पहले मजदूर को हक़ दिलवाओ
यह बोले हैं अपने मंत्रिओं से प्रधान मंत्री कल
कार्य और भुगतान का अडिट भी तत्काल कराओ
लेकिन झल्ले की हुकुमरानों को निशुल्क है एक सलाह
बंज़र पड़ी ग्रामीण भूमि पर भी मनरेगा का हल चलवाओ

राहुल गांधी जी अब तो पी एम् बन जाओ

राहुल गांधी जी आप कब प्रधान मंत्री बनोगे
पी एम् बन कर कब मेरी नैय्या पर करोगे
तुमने पार किया ४० वां मेरा हो गया दह्योडा
अब हाँ कह कर दोनों का बेडा बन्ने ला दे
बैठे हैं कही घाघ यहाँ कुर्सी के पाए जकडे
मंमोहने बेचारे के दिल और दिमाग उलझाये
मन मोहनी जान है आफत में इसकी जान बचाओ
अब मान जाओ जल्दी से प्रधान मंत्री बन जाओ

क्यूं कर हो गया दुश्मन सारा जहां हमारा

कहते हैं की ग़ालिब का था अंदाजे ब्यान और
मगर हम हैं की किसी दूसरे को नहीं सुनते
कभी दूसरे की आलोचना नहीं कर पायें तो
अपनी तारीफ़ के पुल बांद दे दिया करते हैं
अपनी ढपली अपना राग ये चलन है पुराना
हमने भी इसी सुर में अपना सुर मिलाया
तो क्यूं कर हो गया दुश्मन सारा जहां हमारा