Ad

Category: Social Cause

Haryana Knocks SC For Early Hearing of SYL Row

[Chd,Haryana]Haryana Knocks SC For Early Hearing of SYL Row
Government today moved the Supreme Court seeking early hearing in the matter related to its row with Punjab over the Satluj-Yamuna Link (SYL) canal.
The matter was mentioned before a bench comprising Chief Justice Dipak Misra and Justices A M Khanwilkar and D Y Chandrachud.
The bench asked Haryana’s counsel to approach the apex court registry for listing of the matter before an appropriate bench.
The apex court had earlier granted the Centre time to explore the possibility of an amicable solution to the SYL canal row between Punjab and Haryana.
On July 11, the apex court said it was obligatory for Punjab and Haryana to respect and execute its orders on the SYL canal issue.
The controversial 1981 water-sharing agreement came into being after Haryana was carved out of Punjab in 1966
In 2004, the Congress government in the state came out with the Punjab Termination of Agreement Act with the intention to terminate the 1981 agreement and all other pacts relating to sharing waters of the Ravi and Beas rivers.
The apex court had first decreed Haryana’s suit in 2002 asking Punjab to honour its commitments with regard to water sharing in the case.
Punjab had challenged the verdict by filing an original suit that was rejected in 2004 by the Supreme Court which asked the Centre to take over the remaining infrastructure work of the SYL canal project.

Soni Directs to Clear Loopholes Of 2 Industrial Units of Dera Bassi

[Chd,Pb]Environment Minister Soni Directs to Clear Al Loopholes Of 2 Industrial Units of Dera Bassi within 10 Days
The Punjab Environment Minister Om Prakash Soni inspected two main industrial units Federal Agro Private Industries Limited and Nectar Life Science Limited in Dera Bassi. and found some loopholes in the functioning of Effluents Treatment Plants (ETPs) of these industrial units. Minister asked the owners of these units to fullfill all the norms within 10-day. After that necessary actions being taken against them.
Mr. Soni directed the officers of the Environment Department and Pollution Control Board (PPCB) to keep a close tab on the industries in a bid to check the contamination of natural water resources. He said that if any industry does not follow governmental norms and continues to spill out contaminated water into river then strict action would be taken against erring unit.
He also Expressed grave concern over contaminated and untreated water being thrown by the industries of Chandigarh and Haryana into Ghaggar River,
On this occasion Chairman of Punjab Pollution Control Board (PPCB) Pro. Satwinder Singh Marwaha and Chief Environmental Engineer Mr. Gulshan Rai were also present.

कैप्टेन साहिब को भी बीएसएफ की मलाई में हिस्से का पूरा हक़ है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

पंजाब कंग्रेसी चेयर लीडर

औए झल्लेया! हसाड़े कैप्टेन साहिब ने बॉर्डर पार से ड्रग्स की सप्लाई को रोकने के लिए सीमा सुरक्षा कर्मियों (BSF) के बॉर्डर पर टेन्योर को कम करने की सलाह दी है |औए यदि कैप्टेन साहिब की सलाह मान ली जाती है तो सीमा सुरक्षा कर्मियों और ड्रग्स तस्करों के बीच सांठ गाँठ को आसानी से तोड़ा जा सकेगा |

झल्ला

चतुर सुजाना !कैप्टेन साहिब को भी बीएसएफ की मलाई में अपने हिस्से का पूरा हक़ है
पाकिस्तान के साथ बॉर्डर पर सुरक्षा कर्मियों की तैनाती को सेंसिटिव [मलाई दार] पोस्टिंग माना जाता है |इसीलिए कैप्टेन साहिब को भी अपने हिस्से के लिए बात रखने का पूरा हक़ है

यूपी और पंजाब में मेरी स्वयं की दो आरटीआई ऍप्लिकेशन्स बरसों से अटकी हुई

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

औए झल्लेया ! हसाड़े पी एम ऑफिस के मंत्री डॉ जीतेन्द्र सिंह जी ने भी फर्मा दिया हे के “सूचना का अधिकार” को खत्म करने या नियंत्रित करने को आ रही सभी आशंकाएं और भय पूर्णतया निराधार हैं| औए ऐसा पहली बार हुआ है| हमने तो केंद्रीय सूचना आयोग के सभी ११ रिक्त पदों को भरने का प्रयास किया है| इसी भावना के अंतर्गत 2000 के लगभग के अधिकांश सार्वजनिक प्राधिकरणों को सूचना का अधिकार अधिनियम के अधिकार क्षेत्र के तहत लाया गया है

झल्ला

ठीक है बाऊ जी! खुश होलो!! लेकिन मेरी दो आरटीआई ऍप्लिकेशन्स यूपी और पंजाब में बरसों से अटकी हुई हैं|अर्थार्त ना अपील न वकील और न ही कोई दलील |

RTI Activists Meets Jitendra Singh For Transparent Machanism

Dr Jitendra With Startups[New Delhi] RTI Activists Meets Jitendra Singh For Transparent Machanism
A group of RTI activists met Minister of State for Personnel Jitendra Singh and discussed issues regarding citizens’ right to information and related concerns.
During the meeting, Singh allayed the apprehensions about there being any move to dilute the Right to Information (RTI) Act, as reported by a section of the media.
On the contrary, he said, the government, in the last four years, had worked on the principle of increasing citizen participation in governance with more accountability and transparency, an official statement said.
The delegation of RTI activists, representing Right to Information Activists Social Welfare Society, shared Singh’s concern about frivolous RTI applications.
It suggested that a mechanism to check such applications be evolved, like imposing a fine or making it mandatory for the applicants to disclose their Aadhaar number, the statement said.
The delegation also favoured a continuous and aggressive awareness campaign to educate the masses about the utility of RTI to ensure transparency and simultaneously cautioning them against its misuse for mala fide motives, it said.
Singh said the government had made efforts to fill all the 11 vacancies of the Central Information Commission (CIC).
The CIC, under the previous governments, has at times even functioned with just three or four members, he said.
He added the government had tremendously brought down the pendency of RTI applications and also cut down the disposal time.
The minister said most of the public bodies, numbering around 2,000, have been brought under the purview of the RTI Act in the last four years.
file photo

भाजपा सांसद ने पंजाब में नशे के कारोबार के प्रति राज्यसभा में चिंता व्यक्त की

[नई दिल्ली] भाजपा सांसद ने राज्यसभा में पंजाब में नशे के कारोबार के प्रति चिंता व्यक्त की |
अमृतसर से भाजपा के सांसद श्वेत मलिक ने शून्य काल में यह चिंता व्यक्त करते हुए कहा के पंजाब में अघोषित एमरजेंसी लगी हुई है | पंजाब में किसी भी आयुवर्ग के पीड़ित को आसानी से किसी भी समय कहीं से भी ड्रग्स उपलब्ध हो जाती है जिसके फलस्वरूप कृषि प्रधान प्रदेश आज प्रदेश की नाकामी के कारण नशे का गुलाम बन चूका है |इसकी रोकथाम के उपायों की उन्होंने मांग की

मोदी की गुड़हाई के बाद अकालियों की पंजाब की सियासत में”एम्स” की खुरपी

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

अकाली चीयर लीडर

औए झल्लेया! ये हसाड़े पंजाब में क्या हो रहा है? कांग्रेसी कैप्टेन तंदरुस्त पंजाब के नाम पर क्या नौटंकी कर रहे हैं ? अरे केंद्र की सरकार पंजाबियों की सेहत के लिए बठिंडा में आल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस [एम्स] अस्पताल बनाना चाह रही है लेकिन ये कैप्टेन की सरकार जमीन ही नहीं दे रही| औए ९२५ करोड़ रु के इस लोकहित प्रोजेक्ट को भी अटकाया+लटकाया+टरकाया जा रहा है

झल्ला

बनता है ! भाजी बनता है!!मोदी की गुड़हाई के बाद आपलोगों का खुरपी चलाना बनता है

केंद्रीय मंत्री नकवी ने हजयात्रियों का पहला जत्था रवाना किया

[नई दिल्ली] केंद्रीय मंत्री नकवी ने हजयात्रियों का पहला जत्था रवाना किया
केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज दिल्ली से हजयात्रियों के पहले जत्थे को रवाना किया।
जत्थे में दिल्ली से कुल
3 फ्लाइट में 1230 हज यात्री रवाना हुए हैं।
दिल्ली से जाने वालों में जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश के हज यात्री भी शामिल हैं।
दिल्ली के अलावा आज
गया से 450,
गुवाहाटी से 269,
लखनऊ से 900 और
श्रीनगर से 1020 हज यात्री रवाना हुए हैं।
इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पहुंचे नकवी ने बताया ‘‘इस बार अल्पसंख्यक मंत्रालय ने सऊदी अरब के महावाणिज्य दूत, भारतीय हज कमेटी एवं अन्य सम्बंधित एजेंसियों के साथ मिल कर हज-2018 की तैयारियां समय से बहुत पहले ही पूरी कर ली थी

मेरठ के करप्ट आरटीओ अधिकारीयों के नाम मंत्री की डायरी से कब बाहर आएंगे

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

औए झल्लेया देखा हसाड़े धाकड़ मंत्री स्वतंत्र देव सिंह साहिब ने मेरठ के आरटीओ में अचानक छापा मार कर सब भ्र्ष्टाचारी अधिकारीयों की पेंटें गीली कर दी |बिना सरकारी तामझाम के पहुंचे मंत्री जी ने जनता से भी संवाद किया और उनकी शिकायतों को संज्ञान में लेते हुए अधिकारियों की ऐसी की तैसी कर दी |अब तो यहां भी भ्र्ष्टाचार के प्रति जीरो टोलेरेंस की निति ही काम करेगी |

झल्ला

मेरे चतुर सेठ जी! मेरठ के करप्ट आरटीओ अधिकारीयों के नाम मंत्री की डायरी से कब बाहर आएंगे ???
ये आपके मंत्री जी ने ऐआरटीओ श्वेता वर्मा +आर आई चम्पा लाल निगम जैसे अनेकों अधिकारियों के नाम अपनी डायरी में नॉट किये हैं उन पर क्या कार्यवाही हुई कृपया एक सप्ताह में अवगत कराएं

अकाल तख़्त के जत्थेदार ने भी पंजाब में नशा मुक्ति के लिए सहयोग माँगा

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

पंजाब के कांग्रेसी चेयर लीडर

औए झल्लेया !हसाड़े सीएम साहिब का “नशा मुक्ति” अभियान रंग लाने लगा |औए आज तो अकाल तख्त साहब के जत्थेदार ग्यानी गुरबचन सिंह जी ने भी एलानिया कह दिया है के कुछ लोग निजी स्वार्थ के चलते युवाओं को नशे की भट्टी में झोंक रहे हैं |उन्होंने नशा के खात्मे के लिए सबको अपना सहयोग देने की अपील की है

झल्ला

मेरे चतुर सुजान! हसाड़े गुरुओं और विशेष कर दशम पादशाही ने तो तम्बाकू सेवन की भी मनाही कर रखी है ऐसे उन्हें मानने वालों को तो सबसे पहले नशे से तौबा कर लेनी चाहिए