Ad

Category: Social Cause

रिटायर्ड प्रिंसिपल के मकान से भी चोरी

शास्त्री नगर के डी ब्लाक में सेवानिवृत प्रधानाचार्य डी पी एस सिरोही के बंद पड़े मकान से लाखों रुपयों के जेवर+कैश+समान चोरी कर लिया गया|परिवार कुछ समय के लिए अपनी रिश्तेदारी में मेरठ से बाहर गया था |लौटने पर मकान की स्थिति का पता चला |श्री सिरोही लखनऊ पालीटेक्निक से रिटायर हुए हैं|

मेरठ के वकीलों ने कचहरी परिसर बंद कराया|

मेरठ के वकीलों ने कचहरी परिसर बंद कराया|

जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राजीव त्यागी,के अनुसार बागपत और नोयडा में कोर्ट का समय संशोधित कर दिया गया है \ मेरठ में भी दस बजे से सात बजे तक का समय में संशोधन किया जाना चाहिए | गौरतलब है की कोर्ट के समय को बड़ा कर सुबह दस बजे से शाम सात बजे कर दिया गया है|

केंसर लाईलाज नहीं है

श्री राम चेरिटेबल अस्पताल के सौजन्य से आज गुरूवार को मेरठ में केंसर जागरूकता रेली निकाली गई|बी ऐ बी स्कूल से प्रारंभ इस रेली में बड़ी संख्या में छात्रों ने भाग लिया |छात्रों ने हाथों में तख्तियां ले रखी थी जिन पर केंसर के प्रति फ़ैली भ्रांतियां और सावधानियों के बारे में नारे लिखे थे|रेली का मुख्य उद्देश्य यह बताना

गुटका+तम्बाखू+सिगरेट्स का परित्याग करके केंसर से बचा जा सकता है|

था की अब केंसर लाईलाज नहीं है| गुटका+तम्बाखू+सिगरेट्स का परित्याग करके केंसर से बचा जा सकता है|

नरेन्द्र मोदी के पुराने मन्त्र में फिर फंस गए गुजरात में बेचारे कांग्रेसी

गुजरात में चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया दिल्ली की कुर्सी पर नज़रें गडाए नरेन्द्र मोदी ने हमेशा की तरह गांधी परिवार [अब सोनिया] पर हमला बोल कर चुनावी गतिविधिओं को खुद के इर्द गिर्द कर लिया है या कहा जा सकता है कि मोदी ने कांग्रेस को फिर अपने पुराने जाल में फांस ही लिया है|
श्री मोदी हमेशा से ही कांग्रेस की नीतियों की आलोचना करने की बजाय गांधी परिवार पर हमले करने में ज्यादा दिलचस्पी दिखाते आये हैं|। और इसी खेल में कांग्रेसी फंसते आये हैं और लगातार अपनी ज़ुबानी गलतिओं के कारण गुजरात की सत्ता से दूर होते जा रहे हैं|
ऎसा पहली बार नहीं है कि जब उन्होंने ने सोनिया गांधी पर हमला किया हो। कांग्रेस अध्यक्ष और राहुल गांधी पर लगातार हमले करते ही आ रहे हैं।

लाल मिर्ची या हरी मिर्ची

2002 के गुजरात विधानसभा चुनाव के वक्त मोदी ने कहा था कि सोनिया गांधी जगन्नाथ यात्रा का क्यों विरोध कर रही है? सोनिया गांधी को ये भी पता नहीं है कि लाल मिर्ची बोई जाती है या हरी मिर्ची बोई जाती है। सोनिया तब अनजाने में गुजरात की भावनाओं के विरुद्ध बोल गई | इसका खमियाजा कांग्रेस पार्टी को भुगतना पडा था|

जर्सी गाय

2004 में भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी की भारत उदय यात्रा में सोनिया गांधी को जर्सी गाय कहा था। हालांकि बाद में मोदी को माफी मांगनी पड़ी थी।

सोनिया गांधी के विदेशी मूल का मुद्दा

2004 और 2009 के लोकसभा चुनाव में मोदी ने सोनिया गांधी के विदेशी मूल का मुद्दा उठाते हुए कहा था कि अगर कोई भारतीय इटली का प्रधानमंत्री नहीं बन सकता तो इटली का नागरिक भारत का प्रधानमंत्री कैसे बन सकता है?

राहुल गांधी अन्तराष्ट्रीय नेता

इस साल 17 सितम्बर को मोदी ने कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी पर हमला करते हुए उन्हें अंतरराष्ट्रीय नेता करार दिया था।
मोदी ने कहा था कि राहुल गांधी तो इटली से भी चुनाव लड़ सकते हैं।

महिलाओं के प्रति संवेदना

गैस सिलेण्डर पर सब्सिडी में कटौती को लेकर मोदी ने 14 सितंबर को कहा था कि सोनिया गांधी महिलाओं के प्रति संवेदनशील नहीं हैं।

खुदरा में ऍफ़ डी आई

और इटली
15 सितंबर को मोदी ने कहा था कि रिटले में एफडीआई की अनुमति इटली के व्यापारियों को फायदा पहुंचाने के लिए दी गई है।
इसीलिए इस पुराने आजमाए हुए मन्त्र को मोदी ने हाल ही में फिर जपा और सोनिया पर आरोप मड़ा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की विदेश यात्राओं पर सरकार ने 1880 करोड़ रूपए खर्च किए हैं
अब इस की प्रतिक्रिया का होना स्वाभाविक ही था पुराणी गलतिओं से सबक नहीं लेने वाले कांग्रेसी इस मोदी जाल में फंस गए|
[१] सबसे पहले हमेशा की तरह तैयार बैठे दिग विजय सिंह ने अपनी जुबान चलाई मोदी को निशाना बनाया और मोदी के साथ आर आर एस को भी झूठा और मक्कार बताया|
[२] मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने मोदी को झूठा और विरोधी बताते हुए उन्हें अपना नाम तक बदलने के सलाह दे डाली
[३] मंत्री पद की लाईन में लगे बेचारे हरीश रावत संभलते संभलते भी कह गए कि इतनी बड़ी बात की प्रतिक्रिया तो होती ही है| बताते चलें की दिल्ली के दंगों पर राजीव गांधी[अब स्वर्गीय] के मुह से भी निकल गया था कि जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती ही है|
[४]काग्रेस चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री शकर सिंह वाघेला ने मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि गाधीनगर में गोडसे समर्थकों की सरकार बैठी है। हिंसा के ये पुजारी गुजरात को बर्बाद करने पर तुले हैं। आरएसएस की शाखा में कभी अपने साथी मित्र रहे मोदी पर झूठे प्रचार का आरोप लगाते हुए श्री वाघेला ने कहा कि मुख्यमंत्री प्रदेश के लोगों को नए जिलों व तहसीलों का सपना दिखाकर गुमराह कर रहे हैं।
[५] मोदी को कभी मौत का सौदागर कहने से कांग्रेस को हुई हानि का आंकलन करने में विफल सांसद बीके हरिप्रसाद ने नरेंद्र मोदी पर बयान दिया कि उन्हें पूरी दुनिया में हत्यारा के नाम से जाना जाता है। अब मोदी झूठे भी हैं| इससे मोदी मानसिकता दिख रही है|
हो सकता है कि यह कांग्रेस की पार्टी लाईन नहीं हो |हो सकता है कि अपनी अध्यक्षा के नज़रों में चड़ने के लिए नेताओं ने अपनी जुबान की खुजली मिटाई हो|क्योंकि कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने गुजरात के राजकोट के रैली में मोदी पर कोई व्यतिगत टिपण्णी नहीं की|यहाँ तक कि अपने ऊपर लगे १८८० करोड़ की यात्राओं के आरोप को भी टच नहीं किया|
वोह शायद यह समझ चुकी हैं कि हत्यारा, दंगा, हिंदू-मुस्लिम जैसे शब्दों से भरे ब्यान नरेन्द्र मोदी की राजनीति को चमकाने वाले औज़ार हैं| इन्ही औजारों का इस्तेमाल करते हुए मोदी ने 2002 में अटल बिहारी वाजपेयी के राजधर्म की सीख को रद्दी की टोकरी में डाल दिया और भावनाओं में उबाल लाकर पोलिटिकल एनकैश किया|। 2007 में सोनिया के मौत के सौदागर वाले बयान को गुजरात की अस्मिता का सवाल बनाकर वोटों की फसल काटी। अब चूंकि कांग्रेसी पुराने मोदी मन्त्र से फिर से सम्मोहित होते जा रहे हैं इसीलिए सबसे ज्यादा खुश मोदी ही होंगे|उनका पुराना मन्त्र काम आया | गुजरात में लोकायुक्त न होने, वैट की दरें ज्यादा होने, किसानों की खुदकुशी या फिर सौराष्ट्र में पानी के अभाव से मची त्राहि-त्राहि जैसे सवाल अब बैमानी हो चले हैं अब चुनाव मोदी बनाम केंद्र होता जा रहा है|

दूसरों में प्रभु के दर्शन होंगे तो उन्हें भी हम गले लगा लेंगे:संत दर्शन सिंह जी महाराज

गले लगा लो हर इन्सान को किह अपना है |
चलो तो राहगुजारों में बाँटते हुए प्यार ||
सावन कृपाल रूहानी मिशन के संत दर्शन सिंह जी महाराज
भाव : किसी को हम गले तभी लगा सकते हैं जब हम उसे अपना समझें |
अपना तभी लगेगा जब हम उसमें प्रभु का रूप देखें जो हम अपने
आप में देख रहे हैं | इसलिए जब हम भजन ध्यान के लिए बैठते
हैं और अपने अन्दर शब्द को सुनते हैं , प्रभु की ज्योति के दर्शन

दूसरों में प्रभु के दर्शन होंगे तो उन्हें भी हम गले लगा लेंगे:संत दर्शन सिंह जी महाराज


करते हैं तो हमें यकीन हो जाता है कि प्रभु हमारे अन्दर बसा हुआ
है और जब हम औरों से मिलते हैं तो उनके अंतर में भी हमें प्रभु के
दर्शन होते हैं | जब हमें दूसरों में प्रभु के दर्शन होंगे तो उन्हें भी हम
गले लगा लेंगे |
प्रस्तुति राकेश खुराना

गुजरात और हिमाचल प्रदेशों में चुनावी आचार संहिता लागू

देश के १८ वें मुख्य चुनाव आयुक्त वीरावल्ली सुन्दरम .संपत ने आज बुधवार को गुजरात [१८२]और हिमाचल प्रदेश[६८] विधानसभा चुनावों की रणभेरी बजा दी है|

गुजरात में 13 और 17 दिसंबर को मतदान होगा| गुजरात में कुल १८२ सीटों के लिए मतदाताओं की संख्या 3.78 करोड़ है। हिमाचल प्रदेश में एक महीने पहले ही 4 नवंबर को वोटिंग होगी।यहां मतदाताओं की संख्या 45 लाख है | दोनों राज्यों में मतगणना एक साथ 20 दिसंबर को होगी।गुजरात में भाजपा और कांग्रेस में गरमाई जुबानी जंग के बीच बुधवार को चुनाव आयोग ने तारीखों की औपचारिक घोषणा कर दी। इसके साथ ही दोनों राज्यों में चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है। मुख्य चुनाव आयुक्त वीएस संपत ने बताया कि ।जल्द ही दोनों राज्यों में बड़ी संख्या में निरीक्षकों की नियुक्ति होगी, जो उम्मीदवारों के आचरण के साथ-साथ खर्च पर नजर रखेंगे।दोनों विधानसभा चुनावों की तैयारियों में इस बार एक नई बात यह है कि उम्मीदवारों को सिर्फ एक शपथपत्र दर्ज करना होगा, जिसमें पूरी जानकारी देनी होगी। पहले आपराधिक और संपत्ति का ब्योरा देने के लिए अलग-अलग शपथपत्र देना होता था। इन राज्यों में टोल फ्री नंबर 1950 पर शिकायत दर्ज कराई जा सकेगी। पहले की तरह ही उम्मीदवारों को चुनाव के लिए अलग बैंक खाता रखना अनिवार्य होगा और सारा खर्च उसी के जरिये करना होगा। भाजपा और कांग्रेस ने चुनाव घोषणा का स्वागत किया है। भाजपा ने फिर से दोनों राज्यों में जीत का झंडा गाड़ने का दावा किया है। जबकि कांग्रेस गुजरात को लेकर सशंकित है।
चुनाव की तारीख घोषित होते ही अब वहां चुनावी आचार संहिता लागू हो गई है|चुनाव आयोग इस बार चुनावों के दौरान आचारसंहिता का कड़ाई से पालन करवायेगी। विधानसभा चुनावों के दौरान चुनाव आयोग पेड़ न्यूज’ पर खास नजर रखी जायेगी| जिन अधिकारियों के खिलाफ आरोप पत्र दायर हो चुके हैं, वे चुनावी कार्य का हिस्सा नहीं हो सकेंगे।
गौरतलब है कि गुजरात विधानसभा की वर्तमान टर्म 17 जनवरी 2013 और हिमाचल प्रदेश में 10 जनवरी 2013 को खत्म हो रही है।

नाम वापिसी

मुख्य निर्वाचन आयुक्त श्री . सम्पत ने बताया,की हिमाचल प्रदेश में चुनाव की अधिसूचना 10 अक्टूबर को जारी होगी और नामांकन की आखिरी तारीख 17 अक्टूबर होगी. नामांकन पत्रों की जांच 18 अक्टूबर को होगी एवं नाम वापसी के लिए 20 अक्टूबर आखिरी तारीख है| जबकि गुजरात में पहले चरण के मतदान के लिए अधिसूचना 17 नवम्बर को जारी होगी. नामांकन की आखिरी तिथि 24 नवम्बर एवं नामांकन पत्रों की जांच 26 नवम्बर को होगी. नाम वापसी की आखिरी तारीख 28 नम्बर और मतदान 13 दिसम्बर को होगा| दूसरे चरण की अधिसूचना 23 नवम्बर को जारी होगी जबकि नामांकन की आखिरी तारीख 30 नवम्बर है. नामांकन पत्रों की जांच एक दिसम्बर को और नाम वापसी की आखिरी तारीख तीन दिसम्बर है. मतदान 17 दिसम्बर को होगा. मतगणना 20 दिसम्बर को होगी.

चुनाव केंद्र

हिमाचल में 7252 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे.

माफी मांगे जाने पर भी श्री प्रकाश जायसवाल के खिलाफ याचिका

केंद्रीय कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल द्वारा पुरानी पत्नी कम मज़ा वाले अपने बयान पर माफी मांगे जाने पर भी यह विवाद मंत्री का पीछा नहीं छोड़ रहा|ब्यान से मचा बवंडर शांत होने का नाम ही नहीं ले रहा है। इस मामले में आज बुधवार को कानपुर के चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्‍ट्रेट के कोर्ट याचिका दाखिल की गई है। इसकी सुनवाई के लिए 8 अक्‍टूबर की तारीख लगाई गई है|
स्थानीय सामाजिक संस्था ‘लक्ष्य’ ने बुधवार को कानपुर के चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्‍ट्रेट के कोर्ट में एक याचिका दायर कर केंद्रीय कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जयसवाल के खिलाफ आईपीसी की धारा 294 और 500 के तहत केस दर्ज कर उनको जेल भेजने की अपील की गई है| संस्था के वकील आनंद शंकर जायसवाल के अनुसार चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्‍ट्रेट एनके पाण्‍डेय ने इस मामले में सुनवाई के लिए 8 अक्टूबर की तारीख दी है। अगली सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता अनिता दुआ के बयान दर्ज होंगे। मामले से जुड़े समाचारों की कटिंग टीवी चैनल्स के विजुअल्स को भी कोर्ट के सामने पेश किया जाएगा।
गौरतलब है कि 30 सितंबर को अपने जन्मदिन की पार्टी पर कानपुर में ही आयोजित एक कवि सम्मेलन में श्री जायसवाल ने कहा था- ‘नई-नई जीत और नई-नई शादी का अपना अलग ही महत्व होता है। जैसे-जैसे समय बीतेगा, जीत पुरानी होती जाएगी। उसी तरह से जैसे-जैसे समय बीतता है पत्नी भी पुरानी होती जाती है, फिर वो मजा नहीं रहता है।’ उस वक्‍त उस कवि सम्‍मेलन में कई महिलाएं भी मौजूद थीं। इसके बाद देश भर में बवाल मच गया जिससे घबरा कर श्री जायसवाल ने अपने बयान पर माफ़ी भी मांगी थी।

पुरानी पत्नी कम मज़ा वाले अपने बयान पर माफी मांगे जाने पर भी यह विवाद मंत्री का पीछा नहीं छोड़ रहा|

किंगफिशर एयरलाइंस का एयरपोर्ट पर प्राइम स्लॉट खतरे में

किंगफिशर एयरलाइंस के कर्मचारियों और मैनेजमेंट के बीच आज बुधवार को हुई वेतन संबंधी बातचीत का कोई सकारात्मक नतीज़ा नहीं निकला|इधर, सरकार ने भी एयरलाइंस में आंशिक तालाबंदी के बाद एविएशन मानकों की निगरानी तेज कर दी है। पूरी स्थिति पर नागरिक विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने इस मामले पर अपनी अंतरिम रिपोर्ट केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री को दे दी है। इसमें इजीनियरों की हड़ताल की वजह से सुरक्षा मानकों को लेकर चिंता जताई गई है।
सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार एयर लाईन्स द्वारा केवल एक महीने का वेतन देकर हड़ताल खुलवाने का प्रयास किया जा रहा है जबकि उन्हें सात महीनों से वेतन नहीं मिला है। सिविल एविएशन के नियामक डीजीसीए ने कर्मचारियों के बकाया भुगतान की ठोस योजना और ऑपरेशनल सेफ्टी प्लान पेश करने तक एअरलाइंस को अपनी उड़ानें स्थगित रखने को कहा है। जाहिर है कि अब किंगफिशर एयरलाइंस को दोबारा उड़ान भरने की अनुमति तभी मिलेगी जब भुगतान की योजना और सुरक्षा इंतजाम संतोषजनक होंगे लिहाजा हड़ताल के अभी जारी रहने की संभावना है|
इससे पहले मंगलवार को डीजीसीए के सामने उपस्थित हुए किंगफिशर के सीईओ संजय अग्रवाल ने उम्मीद जताई थी कि आयकर विभाग कंपनी के फ्रिज अकाउंट खोलने की इजाजत दे सकता है। यूं बी बैंक पैसा देने को तैयार है| उड़ानें फिर से शुरू करने के बारे में कंपनी 4 अक्तूबर को फैसला कर लेगी लेकिन अब इनके सामने हड़ताली कर्मचारियों के अलावा डीजीसीए का सामना करने की भी चुनौती है|
फिलहाल 10 में से केवल सात विमानों के जरिए 50 से ज्यादा उड़ानें संचालित कर रही

किंगफिशर एयरलाइंस के सामने एअरपोर्ट पर प्राइम स्लॉट गंवा देने का खतरा पैदा हो गया है।


किंगफिशर की स्थगित इन उड़ानों का फायदा उठाने के लिए बाकी एअरलाइंस की नज़रें किंग फिशर एयर लाईन्स के टाइम स्लॉट पर टिक गई हैं ।

भाजपा वार्ड अध्यक्ष के लिए हुई मारपीट में दोनों पक्ष डी आई जी से मिले

पंजाबी समाज ने आज डी आई जी से मुलाक़ात की और कंकड़ खेडा में पिछले दिनों समाज के सम्मानित लोगों के साथ की गई मार पीट में दोषिओं के खिलाफ तत्काल कार्यवाही की मांग की गौरतलब है की२९ सितम्बर को कंकड़ खेडा में भाजपा के वार्ड अध्यक्ष के चुनाव हुए इसमें विवाद हुआ और चुनाव से बाहर निकालने के लिए कुछ पंजाबी समाज के लोगों के विरुद्ध जाति गत टिप्पणी की गई और उनके साथ मार पीट भी की गई|मामला थाणे में दर्ज़ कराया गया|इसी सिलसिले में पंजाबी संगठन के प्रदेश अध्यक्ष रमेश धींगडा+पंकज जौली +मंजीत सिंह कोछड़+रविन्द्र सिंह आदि बड़ी संख्या में समाज के लोग डी आई जी से मिले और न्याय की मांग की \जब दूसरे पक्ष को पता चला तो नीरज मित्तल आदि भे अपने समर्थकों के साथ पोलिस अधिकारिओं से मिलने पहुँच गए |शाम को यह सूचना पाकर पंजाबी संगठन के पदाधिकारी भी दोबारा पोलिस अधिकारिओं से मिले

भाजपा वार्ड अध्यक्ष के लिए हुई मारपीट में दोनों पक्ष डी आई जी से मिले

सच्चाई के साथ जुड़ने से हमारे घमंड का सत्यानाश होता जाता है |

किस का दर है किह जबीं आप झुकी जाती है |
दिले खुद्दार ! तेरी आन मिटी जाती है ||
संत दर्शन सिंह जी महाराज हमें समझाते हुए कहते हैं कि वह कौन सी जगह है
कि जबीं (गर्दन , सिर) अपने आप झुकी चली जाती है और हम इन्सान , जो बहुत
घमंडी होते हैं , अहंकार से भरे होते हैं , हमारी वह आन खुद -ब -खुद मिटती चली
जाती है | जैसे – जैसे हम सच्चाई के साथ जुड़ते हैं , नाम के साथ जुड़ते हैं , शब्द
के साथ जुड़ते हैं , वैसे – वैसे हमारी खुदी का सत्यानाश होता जाता है |
संत दर्शन सिंह जी महाराज
प्रस्तुती राकेश खुराना

सच्चाई के साथ जुड़ने से हमारे घमंड का सत्यानाश होता जाता है |