Ad

Category: Social Cause

बाबा गए एकांतवास अन्ना ने भंग की कोर कमेटी

भ्रष्टाचार मिटाने और काला धन वापस लाने को लेकर अन्ना टीम और बाबा रामदेव आन्दोलन कर रहे है |लेकिन अब बाबा राम देव एकांतवास में चले गए हैं और अन्ना ने अपनी कोर कमेटी भंग कर दी है|
नौ अगस्त से दिल्ली के रामलीला मैदान में आदोलन करने वाले योग गुरु बाबा रामदेव एकांतवास में चले गए हैं। बाबा ने खुद को एक कमरे में कैद कर लिया है। अगले तीन दिन तक बाबा इसी कमरे में रहेंगे। वह न तो किसी से मिलेंगे और न ही बातचीत करेंगे। बाबा फिलहाल गुजरात के करमसाड में हैं। करमसाड लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जन्मस्थली है।
इन दोनों आन्दोलन कारियों का यह नया कदम आगे की लड़ाई के लिए स्वयम को तैयार करने के लिए उठाया गया कदम बताया जा रहा है|अन्ना हजारे राजनितिक विकल्प देने के लिए अपनी कोर कमेटी को अनावश्यक बता रहे है जबकि बाबा राम देव ९ अगस्त को उनके घोषित अनशन के लिए आत्म शक्ति जुटा जुटाना चाह रहे हैं|\कुछ लोगों का यह भी कहना है की कांग्रेसी दिग्विजय सिंह द्वारा बाबा पर अपने शिष्य बाल कृष्ण की ह्त्या की साजिश रचने का आरोप लगाया गया है इसी लिए तत्काल किसी विवादित प्रतिक्रया देने से बच रहें हैं|

अन्ना ने कर दी अपनी कोर कमेटी भंग

अन्ना बाबुराव हजारे ने आज अपने ब्लॉग के माध्यम से अपनी २२ सदस्यों वाली कोर कमेटी को भंग कर दिया है|२०१०-११ में जन लोक पाल के लिए संघर्ष या आन्दोलन का एलान किया गया था जिसको चलाने के लिए २२ सदयों की एक कोर कमिटी बनाई गई थी अब सरकार ने अड़ियल रुख अपना कर जनलोक पाल के लिए कमेटी से बात करने को मना कर दिया है इसीलिए अब अन्ना टीम द्वारा चलाया रहा जन लोक पाल आन्दोलन स्थगित कर दिया है \
अब राजनितिक विकल्प खोजने का निर्णय ले लिया गया है ऐसे में इस कोर कमिटी का कोई ओचित्य नहीं रह जाता |इसीलिए कोर कमिटी को भंग कर दिया गया है |

जब दिल में ख्याले सनम हो बसा , तो गैर की पूजा कौन करे.

हमारे संत सूफियों ने परमात्मा को अपने अन्दर ही तलाश कर उसकी पूजा को ही असली धर्म बताया है
अपने ही घर में खुदाई है,तो काबे में सजदा कौन करे,
जब दिल में ख्याले सनम हो बसा , तो गैर की पूजा कौन करे.

भावार्थ: सूफी संत बुल्लेशाह कहते हैं कि
मंदिर, मस्जिद और गुरूद्वारे में भगवान कहाँ मिलता है, परमात्मा तो तेरे अन्दर समाया हुआ है पहले उसे तो जान ले पहचान ले, जब सच्चे संत की शरण में जाओगे तभी वास्तविक तथ्य का पता चल पाएगा और सद्गुरु की मूर्ति को घट मंदिर में विराजमान करके उसकी आराधना करो फिर कहीं और जाने की जरूरत नहीं है.

इसी सन्दर्भ में संत कबीर दास जी फरमाते हैं,
मन मक्का दिल दवारिका, काया काशी जान,
दश द्वारे का देहरा, तामें ज्योति पिछान.

अमेरिकी गुरूद्वारे में काले रविवार में फायरिंग से सात मरे बीस घायल

अमेरिका के विस्कोंसिन ओक क्रीक में रविवार को अज्ञात श्वेत हमलावरों ने [११बजे स्थानीय टाईम]एक गुरुद्वारे में घुसकर गोलीबारी की। इससे सात निर्दोष श्रधालुओं की मौत हो गई। बाद में पुलिस की कार्रवाई में एक हमलावर भी मारा गया। 20 से अधिक लोग घायल भी हुए हैं। पोलिस इसे आंतरिक आतंक वाद के रूप में देख रही है| विदेश मंत्री कृष्णा ने राजदूत निरुपमा से संपर्क साधा है|अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा ने सुरक्षा अधिकारियों के साथ बैठक की है।
बताया गया है कि मारे गए लोगों में चार की मौत गुरुद्वारे के अंदर हुई, वहीं तीन लोग बाहर मारे गए। मारे गए लोगों की पहचान नहीं हो पाई है। अमेरिका के गुरुद्वारों में रविवार को विशेष धार्मिक आयोजन होते हैं सामूहिक लंगर[लंच] भी छकाया जाता है ऐसे में रविवार को श्रधालुओं की संख्या अन्य दिनों के मुकाबिले अधिक होती है| इस काले रविवार की सुबह भी एक विशेष कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए गुरुद्वारे में जमा हुए लोगों की संख्या अधिक थी|। इस काले रविवार में साथ लोग मारे गए और २० जख्मी हुए जबकि अनेकों बच्चे गुरुद्वारे में ही बंधक हैं| पुलिस ने सूचना मिलते ही गुरुद्वारे को घेर लिया। पुलिस ने देर रात तक इस बात की पुष्टि नहीं की थी कि हमले में एक ही हमलावर शामिल था या उनकी संख्या ज्यादा थी। देश के सभी गुरुद्वारों की सुरक्षा बड़ा दी गई है|
विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने घटना के बारे में अमेरिका में भारतीय राजदूत निरुपमा राव से बात की। राव ने कृष्णा को बताया कि वह व्हाइट हाउस से संपर्क में बनी हुई हैं। पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने इस घटना की निंदा की है।
गौर तलब है कि निकट भविष्य में वहां चुनाव होने हैं \ डेमोक्रेट्स और रिपलिकंस दोनों ही भारतीयों को लुभाने में लगे हैं यहाँ तक कि भारतियों द्वारा इनके लिए चुनावी फंड भी इकट्टा कराया जा रहा है \लेकिन एक धड़े ने बराक ओबामा पर भारतीयों के साथ आउट सोर्सिंग पर आपत्ति दर्ज करने के लिए बराक कि आलोचना भी कि थी और भारतीय वोटों को ओबामा के खिलाफ होने का अंदेशा हो रहा है ऐसे में गुरुद्वारे में फायरिंग से राजनितिक सवालों का भी जवाब ढूंडा जाना जरुरी है\

भागीरथी के बहाव में राहत दल के चार लोग बह गए

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में शनिवार को बाड़ पीड़ितों को राहत पहुंचाने के लिए गए राज्य जल विद्युत निगम के चार कर्मचारी भागीरथी के पानी की चपेट में आ गए।
राज्य आपदा केंद्र से रविवार को मिली जानकारी के अनुसार जल विद्युत निगम के ये सभी कर्मचारी राहत और बचाव के काम में जुटे थे, लेकिन इसी बीच चारों पानी के तेज बहाव की चपेट में आ गए। उन्होंने बताया कि इस क्षेत्र में अब भी भारी बारिश हो रही है तथा भूस्खलन की घटनाएं जारी हैं।
पिछले दो दिनों से राज्य में बारिश ने तबाही मचा रखी है। उत्तरकाशी जिले में गंगोत्री राजमार्ग पर कल बादल फटने के बाद वहां एक पुल ढह गया और कई गांवों के हज़ारों लोग तबाह हो गए। इस घटना में 30 लोगों की जान गई है तथा सौ से अधिक लापता हैं।
बाढ़ के पानी के कारण कई होटल, रेस्टोरेंट, भवन तथा वाहनों को क्षति पहुंची है और सैकड़ों पशु बह गए हैं। क्षेत्र में सड़क यातायात अवरुद्ध हो गया है तथा बिजली और संचार सेवाएं ठप हो गई हैं। भारी बारिश तथा जगह-जगह मलबा आने के कारण चार धाम यात्रा को रोक दिया गया है। राज्य में सभी नदियां उफान पर हैं और कई जगह खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।
मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने पहाड़ी क्षेत्रों के साथ ही नदी तट पर बसे मैदानी इलाकों में भी लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि प्रभावित लोगों को राहत पहुंचाई जा रही है इसलिए उन्हें परेशान होने की जरूरत नहीं हैं।
इस बीच भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विशन सिंह चुफाल तथा वरिष्ठ नेता खजान दास प्रभावित क्षेत्र के दौरे पर चले गए हैं।

गलती पर शिक्षा से वंचित नहीं किया जा सकता = दिल्ली हाई कोर्ट

शिक्षा के अधिकार को दो साल पूरे होने पर इसे और ज्यादा कारगर बनाने के लिए अब दिल्ली हाई कोर्ट ने व्यवस्था दी है कि वास्तविक गलती के लिए छात्रों को उसके शिक्षा के अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता है। ऐसे मामलों में छात्रों को दाखिला रद्द किए जाने जैसा दंड भी नहीं दिया जा सकता है।
कोर्ट ने कहा है कि संस्थान में प्रवेश के लिए ऑनलाइन फॉर्म भरने में होने वाली वास्तविक गलती को नजरअंदाज किया जा सकता है। ऐसी गलती को खासकर तब नजरअंदाज किया जा सकता है, जब[१] छात्र वैसी जगह से संबंध रखता हो जहां कंप्यूटर और इंटरनेट की उपयुक्त व्यवस्था नहीं है। [२]प्रवेश परीक्षा में सीट सुनिश्चित कर लेने पर तो इसे और अधिक नजरअंदाज किया जाना चाहिए। जस्टिस जीएस सिस्तानी ने रोहित यादव नाम के छात्र की याचिका पर यह व्यवस्था दी है। उसने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की ऑल इंडिया इंजीनियरिंग इंट्रेंस एग्जाम (एआइईईई) के लिए ऑनलाइन आवेदन करते समय अपनी जन्मतिथि गलत अंकित कर दी थी। देश में शिक्षा का अधिकार [आरटीई] कानून को लागू हुए रविवार को दो वर्ष पूरे हो गए।इस कानून के तहत छह से 14 वर्ष उम्र वर्ग के बच्चों को अनिवार्य व मुफ्त शिक्षा हासिल करने का अधिकार है।
शिक्षा का अधिकार कानून के प्रावधानों के तहत सभी बच्चों को मुफ्त पाठ्य-पुस्तकें, स्कूल की वर्दी और बस्ते भी मुहैया कराए जाते हैं।

कर्नाटक के ४००० सरकारी डॉक्टरों ने सामूहिक इस्तीफे दिए

कर्नाटक के चार हजार से अधिक सरकारी डॉक्टरों ने शनिवार को सामूहिक इस्तीफे दे दिए हैं । कर्नाटक राज्य मेडिकल ऑफिसर्स एसोसिएशन के सचिव श्रीनिवास के अनुसार , ‘राज्य के विभिन्न हिस्सों में काम करने वाले करीब 4500 डॉक्टरों ने संबंधित जिला स्वास्थ्य अधिकारी को अपने इस्तीफे सौंप दिए हैं। इनकी मांग है कि [१]जिला अस्पतालों को अपने अधीन लेने वाले चिकित्सा शिक्षा विभाग [एमईडी] द्वारा इन्हें वापस जिलों को सौंप दिया जाए।’ इसके अलावा [२]इंसेंटिव को मूल वेतन में जोड़ने के अलावा उनके[३] वेतन को एमईडी के तहत नियुक्त डॉक्टरों के वेतन के बराबर करने की मांग भी की गई है।
प्रदेश के स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री अरविंद लिंबाबाली ने एसोसिएशन के सदस्यों को आश्वस्त किया है कि नौ अगस्त की बैठक में उनकी मांगों को मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टार के समक्ष रखा जाएगा। लिंबाबाली ने डॉक्टरों से अपने इस्तीफे वापस लेने की अपील भी की है |

मूक बधिर बच्चों के लिए ग्रांट नहीं बच्चों का उत्पीडन

मेरठ कैंट के मूकबधिर विद्यालय के कुछ मूकबधिर बच्चों ने हास्टल में उत्पीड़न का आरोप लगाया है।
गूंगे-बहरे कुछ बच्चे मेरठ के बड़े अख़बार दैनिक जागरण के कार्यालय में लिखित शिकायत लेकर पहुंचे जिसमें कहा गया है कि स्कूल में उनसे साफ-सफाई करवाई जाती है। मना करने पर उनकी पिटाई होती है। खाना भी अच्छा नहीं मिलता है। उन्हें कोई मदद करने वाला नहीं है। कुछ बच्चों ने खुद को हास्टल से निकालने की बात कही। कुछ दिन पूर्व कुछ बच्चों के साथ पोलिस द्वारा मारपीट भी की गई थी
ग्रांट चाहिए
स्कूल मेनेजमेंट के अनुसार स्कूल में में इस समय करीब 200 बच्चे हैं। सेंट्रल गर्वनमेंट के करीब 75 फीसदी ग्रांट काफी दिनों से नहीं मिली है। इसकी वजह से हास्टल चलाना मुश्किल हो गया है। स्टाफ को वेतन देने के भी लाले पड़े हुए हैं

सद्गुरु का वास जैसे आटे में नमक समाया हुआ है

अपने तन की खबर नहीं, सजन की खबर ले आवे कौन
ना मैं माटी ना मैं अग्नि ना पानी ना पवन
बुल्लिया साईं घट-घट वसदा
ज्यों आटे में लौंन.
भावार्थ: सूफी संत बुल्लेशाह समझाते हुए कहते हैं जब तुम खुद को ही नहीं समझ
पाए तो सद्गुरु को क्या जान पाओगे? सद्गुरु के पास जाने से पहले
अपने आप को जान लेने की आवश्यकता है कि हम आत्मा हैं हम
शरीर नहीं हैं. मिटटी , आग, पानी अथवा वायु से तो यह भौतिक
शरीर बना है जो नश्वर है. मेरे तो घट-घट मैं सद्गुरु के नाम का
वास उसी प्रकार हैं जैसे आटे में नमक समाया हुआ है.
सूफी संत बुल्लेशाह की वाणी

बेंगलोर में ६०० डाक्टरों ने इस्तीफा दिया

बेंगलोर में ६०० डाक्टरों ने इस्तीफा दे दिया है \वेतन और सेवा सुविधाओं में सुधार को लेकर यह कदम उठाया गया है \अभी अगले हफ्ते तक डियूटी पर रहेंगे