Ad

Category: Social Cause

आखरी जुमे की सामूहिक नमाज़ वेस्टर्न यूपी में शान्ति से पड़ी गई ईस्टर्न शहरों में बवाल

मुक़द्दस रमजान महीने के आख़री जुमे[शुक्रवार]को सुरक्षा के कड़े इम्तेजामो में बड़ी संख्या में सामूहिक [अलविदा] नमाज पड़ी गई औरअमन चैन की दुआ माँगी गई | असाम+मुम्बई+पुणे+रांची में असंतोष के मध्य नज़र ट्रेफिक कंट्रोल करने के लिए मस्जिदों को जाने वाले मार्गों पर विशेष नाके बंदी की गई |
मेरठ में भी मस्जिदों के बाहर कड़ी सुरक्षा में बड़े सुकून से नमाज़ पड़ी गई| बेगम पुल का भी ट्रेफिक डायवर्ट करके नमाजियों को राहत दी गई \

ईस्टर्न यूं पी के तीन शहरों में अपवाद के रूप में अलविदा की नमाज के बाद भीड़ हिंसक हो उठी। राजधानी लखनऊ,के अलावा कानपुर और धर्म नगरी इलाहाबाद में भी बेकाबू भीड़ ने भारी नुक्सान पहुंचाया है|इस घटना ने प्रशासनिक व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह भी लगाया है|

सिखों पर हमलों के कारण अमेरिका में भी सदभावना दिवस मनाना जरुरी हो गया है

अमेरिका में एक और सिख की गोली मार कर ह्त्या कर दी गई है|इससे सिख समुदाय के जख्म फिर से हरे हो गए हैं|
५६ वर्षीय दलबीर सिंह किराने के व्यापार से जुड़े थे|
नार्थ अमेरिका के विस्कोंसिन ओक क्रीक गुरुद्वारे में ५ अगस्त को हुई गोलीबारी की आग अभी ठंडी भी नहीं हुई की अब उसी राज्य के मिल्वाउकी में भारत की आज़ादी दिवस १५ अगस्त को एक और ओक क्रीक गुरूद्वारे के सदस्य सिख की ह्त्या से समुदाय में रोष और भय का माहौल है|एन डी टी वी ने भी इसे प्रमुखता दी है|
सिखों के धर्मप्रतीक चिन्हों [केश+कंघा+कृपान+कडा+कच्छा] के प्रति अज्ञानता के कारण उन्हें भी आतंकवादी समझ लिया जाता है और नफरत अपराध का निशाना बना दिया जाता है ९/११ के बाद यह कुछ ज्यादा बढ गया है|
अमेरिका के राष्ट्रपति द्वारा सिखों के जख्मों पर हर संभव मलहम लगाने के प्रयास किये जा रहे है मगर बुधवार की इस एक और घटना से ऐसे सभी प्रयासों पर पलीता लग सकता है|
इसीलिए अमेरिका में समारोह पूर्वक सदभावना दिवस मनाया जाना चाहिए इससे सिखों के प्रति उनके धर्म प्रतीक चिन्हों के प्रति जागृति आ सकेगी और वहां नस्लवादी हिंसा में कमी आ सकेगी |

राजीव गाँधी का जन्म दिन २० के बजाये १७ अगस्त को मनेगा

देश के सबसे युवा प्रधान मंत्री बने स्वर्गीय राजीव गाँधी का जन्म दिन प्रति वर्ष २० जुलाई को राष्ट्रीय सदभावना के रूप में मनाया जाता है लेकिन सरकारी विभागों में १८ से २० तक अवकाश रहेगा इसीलिए इस वर्ष यह १७ अगस्त को मनाया जाएगा|
राष्ट्रीय एकता और साम्प्रदाईक सदभाव के लिए समूचे भारत वर्ष में यह दिवस मना कर स्वर्गीय राजीव गाँधी को श्रधांजलि अर्पित की जाती है|इस दिन राष्ट्रीय एकता और साम्प्रदाईक सौहार्द के लिए समर्पण भाव से योगदान देने के लिए सरकारी विभागों में संकल्प भी लिया जाता हैऔर सांस्कृतिक आयोजन भी होते हैं|सदभावना एवार्ड भी दिए जाते है|
श्री गांधी को उनके सादा +स्पष्ट खुले जीवन के साथ ही रास्ट्रीय एकता और साम्प्रदाईक सौहार्द के लिए सर्वोच्च बलिदान देने के लिए याद किया जाता है|
श्री गांधी को बोफोर्स घोटाले के आरोप लगा कर बदनाम किया गया और सत्ता से हटाया गया मगर बोफोर्स आज भी सेना में कामयाब हथियार माना जा रहा है और घोटाले को कभी प्रूव नहीं किया जा सका\
सदभावना दिवस पर जो शपथ ली जाती है वह इस प्रकार है
I take this solemn pledge that I will work for the emotional oneness and harmony of all the people of India regardless of caste, region, religion or language. I further pledge that I shall resolve all differences among us through dialogue and constitutional means without resorting to violence.”
आज देश के अनेकों शहरों में साम्प्रदाईक सौहार्द बिगाड़ने के कुचक्र रचे जा रहे है \असाम+मुम्बई+पुणे+रांची+बेंगलूर+ हैदराबाद+चेन्नई के बाद अब दिल्ली में भी कुछ नकारात्मक बातें उठने लगी हैं|
ऐसे में साम्प्र्दाईक सौहार्द को उत्सव की भांति मनाया जाना बेहद जरुरी हो गया है \
बुधिजीविओं का मानना है कि सदभावना एवार्ड्स जाने माने पेरसनेल्ती को ही दिया जाता है इसके साथ अगर ये एवार्ड आम आदमी को भी उसके इस छेत्र में योगदान के लिए समारोह पूर्वक दिया जाये तो शायद इसके सकारत्मक नतीजे मिलने की उम्मीद बढ सकती है|

परमात्मा को छल कपट से नहीं सच्चे प्रेम से पाया जा सकता है

जिस मन में छल कपट हो, उस में न भक्ति मेल,
जिस तरु जड़ में आग हो, उस पर चढ़े न बेल.

संतजन मनुष्यों को समझाते हुए कहते हैं कि प्रभु की आराधना निष्काम,निष्कपट एवं सच्चे मन से करो क्योंकि अगर हमारे मन में छल कपट हो तो भक्ति भवानी जाग्रत नहीं हो सकती.
परमात्मा को छल कपट से नहीं वरन प्रेम से पाया जा सकता है. जैसे किसी वृक्ष की जड़ में अगर आग लगी हुई हो तो कोई भी बेल उस पेड़ पर नहीं चढ़ती.
स्वामी सत्यानन्द जी द्वारा रचित भक्ति प्रकाश ग्रन्थ का एक अंश
श्री रामशरणम् आश्रम, गुरुकुल डोरली, मेरठ

विलास राव को संसद ने आज भावपूर्ण श्रधांजलि अर्पित की

मराठा नेताऔर केन्द्रीय मंत्री विलास राव देश मुख को आज संसद के दोनों सदनों में भावपूर्ण श्रधांजलि अर्पित की गई जिसके बाद संसद के बिजनेस को कल तक के लिए स्थगित कर दिया गया|
किडनी और लीवर के फेल्यौर का इलाज करवा रहे विलासराव देश मुख का चेन्नई के अस्पताल में निधन हो गया था |बीते दिन उन्हें पैत्रक गावं में अंतिम विदाई दी गई|

ममता के खिलाफ चलेगा हाई कोर्ट में मुकद्दमा

|ममता बेनर्जी के खिलाफ याचिका को कलकत्ता की कोर्ट में स्वीकार कर लिया गया है|
बंगाल की मुख्यमंत्री और टी एम् सी की फायर ब्रांड नेत्री ममता बेनर्जी को अब अपनी भाषा का संयम खोने का खमियाजा भुगतना पड़ सकता है\
पिछले दिनों ममता ने अदालतों के बिजनेस पर प्रश्न चिन्ह लगाते हुए कहा था कि अदालतों में फैसले पैसे दे कर खरीदे जाते हैं| अपने इस आरोप पर डटे रहते हुए ममता ने यहाँ तक कह दिया था कि इसे लेकर उनके खिलाफ मुकद्दमा कायम हो सकता है उन्हें सजा भी सुनाई जा सकती है|यह आरोप किसी एक केस को लेकर किये गए होंगे मगर यह वकीलों और राजनेताओं को भड़काने के लिए पर्याप्त था | केन्द्रीय क़ानून मंत्री ने भी इस पर टिपण्णी करने से कन्नी काटना ज्यादा मुफीद समझा |
इसी गुस्से का इज़हार करने के लिए एक वकील ने ममता के खिलाफ याचिका दायर कर दी जिसे कलकत्ता हाई कोर्ट ने स्वीकार कर लिया है|

बेंगलूर छोड़ रहे हैं पूर्वोत्तर राज्यों के छात्र

प्रधान मंत्री डाक्टर मन मोहन सिंह की चिंता+ गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के निर्देश और चीफ मिनिस्टरजगदीश शेत्तार के प्रयासों के बावजूद कर्नाटका से छात्रों का पलायन जारी है|रेलवे स्टेशनों पर पूर्वोत्तर राज्यों के लोगों की लगातार बड़ती जा रही भीड़ यह बताने के लिए पर्याप्त है की उनका भरोसा जीतने के लिए किये जा रहे प्रयास अभी तक अपर्याप्त ही हैं|
बेंगलूर में यह अफवाह फैलाई जा रही है कि वहां पूर्वोत्तर राज्यों के लोगों[विशेषकर छात्रों] पर हमले किये जा रहे हैं| इससे त्रस्त लोगों का रुख रेलवे स्टेशनों की तरफ ही है|इस अफवाह कि जाँच के आदेश दे दिए गए हैं|

मेरठ के प्रशासन ने भी दोहराई प्रतिबद्धताएं

६६वे स्वतंत्रता दिवस पर समूचे राष्ट्र ने राष्ट्रीय तिरंगे को सलामी दी इस अवसर पर मेरठ के आयुक्त+जिलाधिकारी और पोलिस वरिष्ठ अधीक्षक द्वारा भी अपने अपने कार्यालय में झंडा फहराया गया और लोकतांत्रिक मान्यताओं को लागू कराने के प्रति अपनी अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया |जिलाधिकारी ने शहीद स्मारक पर जाकर शहीदों को श्रधांजलि भी दी

कान्हा की छटी में छकी चावल और कड़ी

कान्हा की छटी में आज चावल कड़ी छकाई गई|आज मंदिरों में कृषण के जन्म की छटी धूम धाम से मनाई गई |इस अवसर पर कान्हा के जन्म संबधी भजन गायन में भक्त जन देर रात तक झूमते रहे |
मिश्री+माखन /कड़ी+ चावल/हलवे और खीर का प्रसाद बांटा गया
गौरतलब है की आज कृष्ण को जन्म लिए छह दिन हो गए हैं और इस त्यौहार को धोम धाम से मनाने की पौराणिक परम्परा है|

सिखों के खिलाफ घृणा अपराधों की गूँज अमेरिकी संसद में भी

सिखों के प्रति अज्ञानता के कारण उनके विरुद्ध फैलाई जा रही नफरत और घर्णा अपराधों की रोक थाम के लिए संघीय जांच ब्यूरो [ऍफ़ बी ई] को आगे आना चाहिए |सिखों की इस मांग का हाउस आफ रिप्रेसेंटेटिव के सात सदस्यों ने समर्थन दे दिया है|सीनेट फीस्टीन ने भी इस विषय में अपील की है|
सिख समुदाय में इसे सकारात्मक कदम के रूप में देखा जा रहा है|
गौरतलब है की ५ अगस्त के रविवार को ओक क्रीक विस्कोंसिन गुरूद्वारे में एक नस्ल आतंकवादी ने छह लोगों की गोली मार कर हत्या कर दी थी तभी से इस प्रकार के अपराधों की रोकथाम के लिए ऍफ़ बी आई से मांग की जा रही है|