Ad

Category: Religion

Capt Consoles Punjabis Effected in Shillong,Ignores Victims Of 1947

#capt_amarinder assures compensation 2 Punjabi settlers affected in Shillong violence 4 which he has formed a committee of 4 ,Unfortunately other Punjabi Refugeees R Still Struggling 4 their valid #Rehabilitation Claims since 1947 in His own state
Punjab Chief Minister Capt. Amarinder Singh has said that his government will provide compensation to the Punjabi settlers, whose shops were gutted during the recent violence in Shillong.
The Chief Minister, who met the four member committee headed by State Cooperation Minister, Sukhjinder Singh Randhawa, on their return from the strife-torn areas of Shillong, said that the Punjab government will also assist the settlers in the construction of an under construction community-run school.
The chief minister said that his government will also provide legal guidance to the affected families, if required.
Effected Punjabi families had been staying there for the last 150 years and their proposed relocation from the main market area of Shillong to any other place would adversely impact their livelihood. According to the report submitted by Capt’s Committee ,two shops and two vehicles belonging to the Punjabi settlers had been burnt.

Capt Warns Damdami Taksal Over Threats to Dhadrianwale

[Chd,Pb] Capt Warns Damdami Taksal Over Threats to Sikh Guru
Punjab Chief Minister Captain Amarinder Singh today issued a stern warning to the Damdami Taksal — a Sikh seminary — over their alleged threats to Sikh preacher Ranjit Singh Dhadrianwale and cautioned them against any attempt to take law into their own hands.
The chief minister also ordered the police to enhance the security of the Sikh pracharak, and to thoroughly examine the video in which the purported death threat has been issued to him
The video, which went viral on May 20, allegedly showed Damdami Taksal’s spokesperson Charanjit Singh Jassowal issuing a death threat to Dhadiranwale.
In 2016, the cavalcade of Sikh preacher Ranjit Singh Dhadrianwale was attacked by a group of heavily-armed persons near Ludhiana. Though Dhadrianwale had a miraculous escape, his follower Sant Bhupinder Singh Khalsa had died in the attack

Mehbooba Banned Begging at Religious Places Of Firdous “Srinagar”

[Srinagar,J&K]Mehbooba Bann Begging at Religious Places Of Firdous “Srinagar”
The Jammu and Kashmir government has banned begging at public and religious places and directed the police to arrest the offenders.
The order, issued by Deputy Commissioner of Srinagar, Syed Abid Rasheed Shah yesterday, said Srinagar being the summer capital of Jammu and Kashmir holds a great importance in the socio-economic landscape of the state and so it is contingent upon the administration to take all measures necessary to make the district more citizen friendly and to prevent public nuisance at all costs.
“Begging being an offence under the Act (Jammu and Kashmir Prevention of Beggary Act I960), it is imperative that strict necessary action under law be initiated against the offenders,” it stated.
The deputy commissioner directed senior superintendents of police, Srinagar and Budgam, to implement the order in letter and spirit and report the number of such arrests on daily basis.
File Photo

सिद्धू ने कांग्रेस अध्यक्षों के पश्चात् स्वर्ण मंदिर में भी शुक्राना अदा किया

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

नवजोत सिंह सिद्धू प्रशंसक

औए झल्लेया मुबारकां ! औए हसाड़े लोकल बॉडी मिनिस्टर नवजोत सिंह सिद्धू ने मंगलवार को श्री हरमिंदर साहब में माथा टेका+ स्वर्ण मंदिर की परिक्रमा की और गुरुओं की अमृत वाणी का श्रवण भी किया औए सिद्धू साहब ने मिनिस्टर बन कर भी गुरु घर की लड़ नहीं छड्डी

झल्ला

भोले बादशाहो! ३० साल पुराने कत्ल के केस में सुप्रीम कोर्ट से बरी होने में कांग्रेस और गुरु महाराज दोनों का आशीर्वाद था
जब सिद्धू साहिब ने कांग्रेस के अध्यक्षों का उनके निवास पर जाकर शुक्राना अदा कर दिया तो अब गुरुमहाराज के दरबार में भी हाजरी लाजमी होजाती है

अकाल तख्त ने धार्मिक फिल्मों पर लगाम के लिए बनाया “सिख सेंसर बोर्ड”

[चंडीगढ़,पंजाब] अकाल तख्त ने धार्मिक फिल्मों पर लगाम के लिए बनाया ‘सिख सेंसर बोर्ड’
अकाल तख्त ने यह कहते हुए ‘ सिख सेंसर बोर्ड ’ का गठन किया है कि अब सिखों से संबंधित और उनके धर्म से संबंधित फिल्म बनाने से पहले फिल्मनिर्माताओं को यहां से मंजूरी लेनी होगी।
पिछले महीने ‘ नानक शाह फकीर ’ फिल्म के रिलीज को लेकर उपजे विवाद के बाद यह कदम उठाया गया है। यह फिल्म सिखों के पहले गुरु पर बनी है।
शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (एसजीपीसी) ने इस फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने के लिए उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था लेकिन न्यायालय ने इस पर रोक लगाने से इंकार कर दिया था।
बोर्ड की सिफारिश के बाद अकाल तख्त वृत्तचित्र (डॉक्यूमेंट्री) या एनिमेशन फिल्म के बारे में अंतिम फैसला लेगा।

मोदी के नेपाल में मंदिरों के कार्ड कर्नाटक चुनावों में गुल खिलाएंगे

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

कांग्रेसी चीयर लीडर

औए झल्लेया ये क्या हो रहा है? कर्नाटक में चुनाव हो रहे हैं और नरेंद्र मोदी नेपाल में जाकर वहां के जानकी मंदिर+मुक्तिधाम+पशुपति आदि मंदिरों में झांझ+ढोल आदि बजा कर अपनी सरकार का प्रचार करने और हिन्दू वोटों के ध्रुवीकरण में लिप्त हैं |ये तो चुनावी अचार संहिता का सरासर उल्लंघन है

झल्ला

मेरे चतुर सुजान जी!मोदी के नेपाल में मंदिरों के कार्ड कर्नाटक चुनावों में गुल खिलाएंगे
ये तो आपजी ने ही शुरू किया है |आपलोग अपने अध्यक्ष राहुल गाँधी को रोजाना किसी न किसी मंदिर में ले जाकर ध्रुवीकरण कर रहे हैं लेकिन ये भूल गए के दूर के ढोल हमेशा सुहावने होते हैं सो नरेंद्र मोदी ने विदेश में जाकर अपना कार्ड खेल दिया|इसका असर कर्नाटक और फिर २०१९ में भी दिखेगा

मोदी भापा अमृतसर के दुर्ग्याणा मंदिर को भी रामायण सर्किट में जोड़ पायेगा ?

मोदी भापा अमृतसर के दुर्ग्याणा को भी रामायण सर्किट में जोड़ पायेगा ?

मोदी भापा अमृतसर के दुर्ग्याणा को भी रामायण सर्किट में जोड़ पायेगा ?


झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

औए झल्लेया ! हसाड़े मोदी जी ने तो कमाल कर दिया
चीन के कब्जे में जा रहे पड़ौसी नेपाल में जा कर विकास के साथ ही हिंदुत्व के झंडे गाड़ दिए|

Narendra Modi offering prayers at Janaki Mandir, in Janakpur, Nepal

Narendra Modi offering prayers at Janaki Mandir, in Janakpur, Nepal


झल्ला

ओ मेरे चतुर सेठ जी !मोदी भापा ,दुर्ग्याणा मंदिर को भी रामायण सर्किट में जोड़ पाएंगे?
ठीक है मोदी भांपे की इस कूटनीति के देवनीतिकरण से कईयों के सीने पर सांप लौटने लगे हैं,लेकिन अयोध्या से जनकपुर तक के पौराणिक इतिहास के पश्चात् राम और सीता के पुत्र लव और कुश की गाथाओं का स्मरण भी आवश्यक है |सेठ जी! पंजाब की धर्म नगरी अमृतसर के प्राचीन दुर्ग्याणा मंदिर में बढे हनुमान जी

 Narendra Modi & K.P. Sharma Oli flags off bus from Nepal’s Janakpur to Uttar Pradesh’s Ayodhya,

Narendra Modi & K.P. Sharma Oli flags off bus from Nepal’s Janakpur to Uttar Pradesh’s Ayodhya,


है| मान्यतानुसार यहां लव -कुश ने श्रीराम का अश्वमेघ यज्ञ का घोडा रोक कर हनुमान जी को बंदी बनाया था||यह झल्लयत आपके रामायण सर्किट के लिए प्रस्तुत है

लुधियाना के सूद ने भगवान विष्णु को नया रत्नजड़ित स्वर्णछत्र अर्पित किया

[गोपेशवर,बद्रीनाथ] लुधियाना के सूद परिवार ने भगवान विष्णु को नया स्वर्णछत्र [ Parasole ]अर्पित किया
बद्रीनाथ धाम में भगवान विष्णु[बद्री विशाल] के विग्रह के ऊपर लगे लगभग ६०० साल पुराने २ किलो के स्वर्णछत्र के स्थान पर नया ४ किलो का स्वर्णछत्र स्थापित किया गया है।
माना जाता है कि पुराना स्वर्णछत्र करीब ६शताब्दी पूर्व ग्वालियर राजघराने की महारानी अहिल्याबाई ने लगवाया था।
चार किलोग्राम वजनी नया स्वर्णछत्र लुधियाना के ज्ञानेश्वर सूद परिवार ने लगवाया है।
विशेष पूजा के दौरान इस रत्न जड़ित स्वर्ण छत्र को स्थापित किया गया।

सिलेबस में सिख इतिहास हटाने को लेकर पूर्व ने वर्तमान सीएम को ललकारा

[चंडीगढ़,पंजाब]सिलेबस में सिख इतिहास हटाने को लेकर पूर्व ने वर्तमान सीएम को ललकारा
पूर्व मुख्य मंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कहा के सिख इतिहास को समाप्त करने के लिए बनाई गई कैप्टेन अमरिंदर सिंह की कमिटी लोगों को गुमराह करने और अपना अपराध दूसरों पर थोपने के लिए ही बनाई गई है|
उन्होंने कहा के कांग्रेस सिख इतिहास को समाप्त करने पर तुली हुई है|वयोवृद्ध बादल ने कहा के अपनी गलती मानने से कोई छोटा नहीं हो जाता इसीलिए कैप्टेन को अपनी गलती किसी दूसरे पर थोपने के बजाय स्वयं अपनी गलती मान लेनी चाहिए |गौरतलब हे के पंजाब में बारहवीं कक्षा के सिलेबस से महत्वपूर्ण सिख इतिहास को हटाने के आरोप लगाए जा रहे हैं जिसे लेकर अकाली दल लगातार कांग्रेस की सरकार पर हमलावर है | शाहकोट में उपचुनाव होने हैं जहाँ इस मुद्दे को भुनाने की भरसक कोशिश जारी रहेगी

Capt’s Committee to Counter Akali’s On Sikh History Syllabus

[Chd,Pb] Capt Announces Committee to Review Sikh History Syllabus
Punjab Chief Minister Capt Amarinder Singh today announced the constitution of a six-member oversight committee to examine the recommendations of the 2014 panel that reviewed the history syllabus and oversee all history books in the future.
The move comes in the wake of the Shiromani Akali Dal alleging that a major portion of Sikh and Punjab history had been removed from the Class 12 curriculum.
The Punjab School Education Board (PSEB) and the Congress government maintain that the curriculum was only “re-aligned” to match the NCERT syllabus.
He said the decision to review the syllabus and print books in alignment with the NCERT syllabus was taken during the SAD-BJP rule in 2014, and that the controversy on the issue was “politically motivated”.
In fact, there were no history books earlier and what SAD president Sukhbir Singh Badal was citing was merely a guide, he said at a press conference.
The chief minister asserted that the syllabus relating to the Sikh Gurus had not been deleted, and the entire history of the Gurus, starting from Baba Banda Bahadur, had been incorporated in a chronological order in the syllabi for classes XI and XII.
The committee will be headed by eminent historian
Prof Kirpal Singh and will include former vice chancellor of Guru Nanak Dev University
Prof J S Grewal, former pro-vice vhancellor of GNDU
Prof. Prithipal Singh Kapur, emeritus Prof. of History at Panjab University
Indu Banga, and two eminent historians to be nominated by the Shiromani Gurdwara Prabandhak Committee,