Ad

Category: Sports

क्रिकेट मैचों का पाकिस्तान में भी स्वागत

पकिस्तान और भारत में क्रिकेट मैचों के समझौते का पकिस्तान में भी स्वागत किया गया है|
प्रेसिडेंट आसिफ अली जरदारी ने कहा है की क्रिकेट से दोनों देशों में विशवास कायम होगा और मेन टू
मेन कान्टेक्ट से संबधों में सुधार भी होगा |गौरतलब है की मुम्बई में २६/११ की आतंकवादी घटना के बाद से
दोषियों को पकड़ने में पाकिस्तान के असहयोग पूर्ण व्यवहार से दोनों देशों में क्रिकेट नहीं खेली
गई है अब यह निर्णय दोनों देशों के संबंधों में आई खटास को कम करने में सहायक होगा |
भारत में यद्यपि शिव सेना +भाजपा+और महारष्ट्र कांग्रेस इसकी खिलाफत में है मगर दोनों देशों की सरकारे और क्रिकेट बोर्ड
इसकी फेवोर में है |

क्रिकेट टीम में युवराज और हरभजन सिंह को शामिल किया

भारतीय क्रिकेट टीम में जिन ३० खिलाडिओं को शामिल किया गया है उनमे कैंसर की लड़ाई जीतने वाले ३१ वर्षीय बाएं हाथ के बल्लेबाज़ और स्लो लेफ्ट हेंड ओर्थोडोक्स बोलर युवराज सिंह और टीम से बाहर चल रहे ३२ वर्षीय राईट हेंड बल्लेबाज़ और ऑफ़ स्पिनर बोलर हरभजन सिंह का नाम शामिल है|
आईसीसी के सितम्बर में प्रस्तावित टी-20 वर्ल्ड टूर्नामेंट में संभावित 30 भारतीय खिलाड़ियों का ऐलान हो गया है।
यह टूर्नामेंट श्रीलंका में आयोजित होगा। पाकिस्तान ने भी मंगलवार को अपनी टीम की घोषणा कर दी है
भारतीय टीम श्रीलंका दौरे पर जा रही है। पूरी टीम आज चेन्नई से कोलंबो पहुंच रही है। पहला मुकाबला 21 तारीख को खेला जाएगा।
भारतीय टीम ने साल 2007 में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में पहला टी-20 वर्ल्ड कप खिताब जीता था। इसके बाद से टीम का प्रदर्शन इस टूर्नामेंट में कुछ खास नहीं रहा। टीम की गेम में रेटिंग लगातार गिरती जा रही है यहाँ तक की कोच डंकन फ्लेचर की भी खिंचाई की जा चुकी है इस टूर्नामेंट की सफलता फ्लेचर के टीम में भविष्य को भी तय करेगा |

लन्दन ओलम्पिक के लिए सिक्योरिटी गार्ड्स नहीं मिल रहे है

लन्दन ओलम्पिक के लिए सिक्योरिटी गार्ड्स नहीं मिल रहे है|इसके लिए यूनाईटेड किंगडम [इंग्लैण्ड]की सरकार कटघरे में आ गई है|
ओलम्पिक गेम्स की सुरक्षा के लिए जी-४५ नामक कंपनी को दिया गया है अब इस कंपनी द्वारा पर्याप्त सुरक्षा गार्ड्स मुहैय्या नहीं
करवाए जा रहे |जहां खेल मैदान की सुरक्षा को प्रश्न चिन्ह लग रहे हैं वहीं सुरक्षा व्यवस्था का ठेका ज-४५ को दिए जाने की भी आलोचना हो रही है

पाकिस्तान से क्रिकेट के नाम पर देश के क्रिकेटर्स बंटते नज़र आ रहे हैं

पाकिस्तान से क्रिकेट के नाम पर देश के क्रिकेटर्स बंटते नज़र आ रहे हैं |सुनील गवास्कार ने जहां २६/११ के आतंकी हमले के आरोपियों को शाह देने वाले पकिस्तान के साथ क्रिकेट डिप्लोमेसी की मुखालफत करते हुए कहा है की अभी तो क्रिकेट का पूरा केलेंडर व्यस्त है ऐसे में पाकिस्तान के लिए बीच में टाईम निकालने की बी सी सी आई को क्या जल्दी है|अभी तक पकिस्तान के साथ २६/११ का मामला भी लंबित ही है मुम्बईकर होने के कारण उन्हें इस निर्णय से पीड़ा हुई है|
दूसरी तरफ एक अन्य वरिष्ठ क्रिकेटर बिशन सिंह बेदी ने पकिस्तान के साथ क्रिकेट खेले जाने की वकालत करते हुए इसे सही दिशा में लिया गया सही कदम बताया है|जहीर अब्बास ने भी क्रिकेट को जरुरी बताया है|
भाजपा+कांग्रेस+शिव सेना और अनेक क्रिकेटर्स इस खेल के विरुद्ध हो रहे है तब बी सी सी आई पर खेल को लेकर ऐसा कौन सा दबाब आ पडा है की सबके विरोध के बावजूद पाकिस्तान और भारत में क्रिकेट खिलाने को उतावला है|

पाकिस्तान के साथ क्रिकेट स्वीकार नहीं

भारत और पकिस्तान में जब से क्रिकेट खेले जाने की बात आउट हुई है तभी से भारतीय खेल जगत और राजनीति में भुन्चाल सा आ गया है |शिव सेना के बाद अब भाजपा और क्रिकेट के वरिष्ठ खिलाडिओं ने भी इसकी मुखालफत शुरू कर दी है|सुनील गवास्कार ने खुले आम भारत और पकिस्तान में क्रिकेट मैच खेले जाने का विरोध किया है
२००८ में मुम्बई पर आतंकी हमले के बाद से पाकिस्तान से कोई भी क्रिकेट मैच नहीं खिला जा सका है |अब बी सी सी आई ने पी सी बी से पेक्ट करके दिसंबर में तीन एक दिवसीय खेलने का करार किया है|२०-२० भी खेले जाने हैं| भाजपा के अनुसार मुम्बई हमले के दोषिओं को अभी तक पाकिस्तान भारत को सौपने को तैयार नहीं है ऐसे में उसके साथ क्रिकेट के सम्बन्ध स्वाकार्य नहीं हो सकते

भारत और पकिस्तान में अब फिर से क्रिकेट मैच खेले जायेंगे

भारत और पकिस्तान में अब फिर से क्रिकेट मैच खेले जायेंगे \इस विषय में भारतीय बी सी सी आई और पकिस्तान की पी सी बी में करार हो गया है |२००८ में मुम्बई पर आतंवादी हमले के बाद से दोनों देशों ने आपस में क्रिकेट नहीं खेली है | अब दिसंबर में ३ एक दिवसीय मेच खेले जायेंगे | महाराष्ट्रा में इसका विरोध होना शुरू हो गया है |इस दोनों टीमो के मैच की प्रतीक्षा अन्तराष्ट्रीय स्तर पर भी रहती है |इससे दोनों देशों के आपसी संबधों में सुधार आ सकता हैलेकिन शिव सेना और महाराष्ट्रा कांग्रेस ने विरोध शुरू कर दिया है||

क्रिकेट लिजेंड कपिल देव निखंज ने आई सी एल छोडी

क्रिकेट लिजेंड कपिल देव निखंज ने आज कागजों तक ही सिमट कर रह गई क्रिकेट लीग[आई सी एल] के निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया है|अब गेम पर एक छत्र राज कर रही बी सी सी आई में उनकी वापिसी की उम्मीद बन गई हे |
भारत को पहला वर्ल्ड कप दिलाने वाले कपिल देव ने भारतीय टीम में कोच और नॅशनल क्रिकेट अकेडमी के निदेशक की भूमिका भी निभाई है मगर २००७ में आई सी एल बनने से कपिल को इसका निदेशक बना दिया गया \इस लीग का गठन क्रिकेट में नए खिलाडिओं को लाना और गेम को नई उचाइयां देना था मगर बी सी सी आई गेम पर अपनी वर्चस्वता को शेयर करने को राजी नहीं हुई इसके फलस्वरूप आई सी एल में जाने वाले सभी खिलाडिओं को बी सी सी आई से बाहर कर दिया गया |पिछले कुछ अर्से में कुछ खिलाडिओं ने बी सी सी आई को माफी नामा देकर वापिसी कर ली मगर कपिल आई सी एल को छोड़ने को राजी नहीं हुए |
इसके फलस्वरूप बी सी सी आई ने कपिल की ना केवल पेंशन बंद कर दी बल्कि मिलने वाले सभी लाभों से भी वंचित कर दिया गया| मैचों में भी उन्हें आमंत्रित नहीं किया गया |
अब आई सी एल चल नहीं रही कोई गेम नहीं हो रहे खिलाड़ी तक नहीं रहे ऐसे में इससे चिपके रहने से गेम का कोई भला नहीं होने वाला सम्भवत यही सोच कर कपिल देव ने आई सी एल से त्याग पत्र दे दिया है अब देखना है की बी सी सी आई किस तरह रिएक्ट करती है कया कपिल देव का पूर्ण सम्मान लौटाया जाएगा या फिर खिलाड़ी से खिलाने वाले ही बड़े बने रहेंगे

सी डब्लू जी के दागी सुरेश कलमाड़ी लन्दन ओलम्पिक में जायेंगे

खेल जगत में भ्रष्ट नेता की छवि बना चुके सुरेश कलमाड़ी को लन्दन ओलम्पिक में जाने की इजाज़त दे दी गई है|
कलमाड़ी पर कामन वेल्थ गेम्स के दौरान भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे और जेल भी भेजा गया था मुचलके पर बाहर आये हैं|
अभी मुकद्दमा चल ही रहा है की सी बी आई ने इन्हें १०+१०ळाख़ः की जमानत पर लन्दन जाने की इज्ज़त बक्श दी है| मंत्री अजय माकन ने भी
कलमाड़ी के लन्दन जाने पर आश्चर्य और एतराज़ जताया है |अजय माकन के अनुसार ओलम्पिक की किसी भी संस्था
ने कलमाड़ी को न्यौता नहीं दिया है और ना ही इस दागी नेता को सरकार की तरफ से ही भेजा जा रहा है| दूसरे खेल
नेता भाजपा के वी के मल्होत्रा इस सवाल पर साफ़ कन्नी काटते फिर रहे हैं
कलमाड़ी अन्तराष्ट्रीय एथलेट संघ से जुड़े हैं और उन्होंने कोर्ट के सामने असोसिएशन के महा सचिव एस्सार गेब्रियल का न्यौता और भेजा गया टिकट प्रस्तुत किया है| अब सवाल यह उठता है की कलमाड़ी किस हेसियत से देश छोड़ कर ओलम्पिक में हिस्सा लेने जा सकते हैं|
लन्दन के मेयर ब्रिस जोहन्सन के अनुसार लन्दन का यह ओलम्पिक ऐतिहासिक +ईमानदार और सफलतम
ओलम्पिक होगा अब अगर कलमाड़ी सरीखे दागी इस आयोजन का हिस्सा होंगे तो मेयर और भारत सरकार की
प्रतिष्ठा पर प्रश्न चिन्ह लगना स्वभाविक हीहै|

८४ वर्षीय दारा सिंह अपने इष्ट देव के चरणों में विश्राम करने कूच कर गया

अपने दाव से ५०० कुश्तिओं में अपने विरोधिओं को चित करके रुस्तमे हिंद बने दारा सिंह को प्रक्रति ने ऐसे दावं में फांसा कि ढेरों सुषेन[डाक्टर] भी कोई संजीवनी नहीं खोज पाए |नतीजतन ८४ वर्षीय यह पहलवान अपने इष्ट देव के चरणों में विश्राम करने कूच कर गया |
पंजाब के एक गावं से उभरा यह पहलवान कुश्ती के अलावा राज्य सभा का सदस्य होने का सम्मान पा चुका है |
शैख़ मुख्त्यार जैसे तत्कालीन सुपर स्टार को सबक सिखाने को फिल्म किंग कोंग में लाये जाने के बावजूद दारा ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा |यहाँ तक कि मुमताज़ के साथ इनके रिकार्ड में लगभग १६ फिल्मे हैं|पृथ्वीराज और उनकी तीन पिडिओं[राज कपूर+रंधीर कपूर+करना कपूर] के साथ काम किया राजकपूर+ फिरोजखान जैसे मंझे कलाकारों को निर्देशित किया|कई फिल्मे प्रोडूस और डायरेक्ट भी की| अमिताभ बच्चन सरीखे सुपर स्टार के साथ भी फिल्म की फिल्मो में टीशर्ट का उपयोग भी इन्होने ही प्रारम्भ किया|
रामानंद सागर के धारावाहिक सीरियल रामायण ने इन्हें नई दिशा दी इसमें राम भक्त हनुमान का रोल विशेष सराहा गया |इसी छवि को एन्केश करने के किये भाजपा ने इन्हें राज्यसभा का सदस्य बनाया| मेरठ में भी इनके एक पुत्र प्रधुमन्न सिंह का फार्म हाउस है सो मेरठ से भी इनका सम्बन्ध बना रहा|
पिछले कुछ अरसे से बीमारी ने घर कर लिया था इसीके इलाज़ के लिए इन्होने बाबा राम देव की शरण भी ली थी मगर बीते सप्ताह तबियत खराब होने पर इन्हें कोकिला बेन अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उनकी हालत लगातार बिगड़ती चली गई कल इन्हें हस्पताल से घर ले जाया गया जहां उन्होंने अंतिम सांस ली |
इनकी मृत्यू से कुश्ती =राजनीति और एक विशेष अभिनय शैली का अंत हो गया है