Ad

Category: World

पंजाब के बड़े बादल अमेरिका में मुकद्दमे में फंसे

पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल अमेरिका में गए तो थे शादी की दावत खाने मगर एक मुकदमे के घेरे में आ गए |
मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ एक सिख संगठन ने मुकदमा दायर किया है। आरोप है कि बादल ने राज्य में सिखों के उत्पीड़न की अनदेखी की।
अपने अमेरिकी प्रवास के दौरान विस्कांसिन गुरूद्वारे में हत्याकांड हो गया श्री बादल वहाँ पीड़ितों के प्रति सम्वेदना व्यक्त करने जा पहुंचे\ सिख फॉर जस्टिस संगठन के कोआर्टिनेटर न्यूयॉर्क के अवतार सिंह द्वारा दायर 30 पन्नों की शिकायत में कहा गया है कि पंजाब में बादल ने ऐसे पुलिस अधिकारियों को संरक्षण दिया था, जिन्होंने हिरासत के दौरान सिख समुदाय के लोगों पर जुल्म ढहाए थे। साथ ही न्यायिक हिरासत के दौरान मारे गए सिखों की मौत के लिए जिम्मेदार हैं। ये अधिकारी सिख समुदाय के खिलाफ लगातार मानवाधिकारों का उल्लंघन कर रहे हैं। अवतार सिंह ने दावा किया है कि यह मामला टार्चर विक्टम प्रोटेक्शन एंड एलियन टॉर्ट ला के तहत संघीय अदालत के क्षेत्राधिकार में आता है क्योंकि बादल फिलहाल विस्कांसिन में हैं।
बादल 1997 से 2002 और 2007 से वर्तमान में भी पंजाब के मुख्यमंत्री हैं। अदालत ने उन्हें 21 दिनों के भीतर जवाब देने के लिए कहा है। एसएफजे के अधिवक्ता गुरपतवंत पन्नू ने कहा, इस शिकायत से राजनेताओं को कड़ा संदेश जाएगा कि अब जो भी अमेरिका आएगा उसे मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर अंतरराष्ट्रीय कानून के मुताबिक जवाब देना होगा। साथ ही इस मुकदमे से अंतरराष्ट्रीय समुदाय को पंजाब में सुरक्षा बलों द्वारा सिखों को दी जा रही यातना और उनकी न्यायिक हिरासत में मौतों के बारे में पता चलेगा।
उल्लेखनीय है कि रविवार को ओक क्रीक गुरुद्वारे में हमले के बाद बादल मंगलवार को मिलवोकी में पहले से तय कार्यक्रम के अनुसार बिजनेसमैन दर्शन धालीवाल की पुत्री की शादी में भाग लेने यहां पहुंचे हैं। श्री बादल के साथ उनकी केबिनेट के कई भारी भरकम लोग भी शामिल हैं| बुधवार को बादल ने हमले के पीड़ित परिवारों से भी मुलाकात की और अपनी संवेदनाएं व्यक्त की।

पाकिस्तान में 11 हिंदू कारोबारियों के बाद अब किशोरी का अपहरण

पाकिस्तान में 11 हिंदू कारोबारियों के अपहरण के बाद अब एक किशोरी को अगवा कर लिया गया है| वहा के अल्पसंख्यक समुदायों की चिंता बढ गई है| पाकिस्तान के कुछ क्षेत्रों से हिंदुओं के पलायन करने की खबर है। पाकिस्तान के सिंध प्रांत से 14 वर्षीय हिंदू लड़की का अपहरण कर लिया गया। रिपोर्ट के मुताबिक हिंदू परिवार भारत में बसने की योजना बना रहे हैं। अमर उजाला ने इसे प्रमुखता से छापा है|
पाकिस्तान हिंदू परिषद के अध्यक्ष जेथानंद डूंगर माल कोहिस्तानी के अनुसार मंगलवार को सिंध के जकोबाबाद से मनीषा कुमारी को अगवा कर लिया गया। यह हिंदुओं की घनी आबादी वाला इलाका है| कोहिस्तानी ने पीटीआई को फोन पर बताया है कि सिंध के मुख्यमंत्री कैम अली शाह ने मामले को गंभीरता से लेते हुए प्रांत के अल्पसंख्यक मंत्री मोहन लाल को जकोबाबाद भेजा है।
पिछले कु़छ महीनों में बलूचिस्तान और सिंध प्रांत से 11 हिंदू कारोबारियों का अपहरण और अब किशोरी को अगवा किए जाने की घटना ने समुदाय के लोगों की चिंता बढ़ा दी है। उन्होंने कहा, ‘हिंदुओं के लिए यह दुखद है कि पाक में कानून और व्यवस्था लगातार बिगड़ती जा रही है। केवल हिंदू ही नहीं मुसलिम भी इससे प्रभावित हो रहे हैं।
उधर, टीवी चैनलों ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि जकोबाबाद से कई हिंदू परिवारों ने भारत में बसने का निर्णय लिया है। जबकि पाकिस्तान के मानवाधिकार कार्यकर्ता अमरनाथ और कोहिस्तानी ने साफ कहा कि इस रिपोर्ट की पुष्टि के लिए कोई साक्ष्य मौजूद नहीं है। हिंदू पंचायत के प्रमुख बाबू महेश लखानी ने दावा किया है कि कई हिंदू परिवारों ने भारत में बसने का निर्णय लिया है।
उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में हिंदू खुद को असुरक्षित महसूस करने लगे हैं। कुछ हिंदू नेताओं ने दावा किया है कि करीब 60 हिंदू परिवारों ने पाकिस्तान छोड़ दिया है और कुछ परिवार इसी सप्ताह वाघा सीमा के रास्ते भारत पहुंचेंगे। हालांकि इसलामाबाद मेें भारतीय उच्चायोेग के सूत्रों ने वाघा बार्डर के रास्ते हिंदू परिवारों के भारत में दाखिल होने जैसी खबर से इनकार किया है।

गुरूद्वारे में हत्याकांड के आरोपी ने खुद को मारी थी गोली

विस्कोंसिन गुरुद्वारे में ह्त्या करने वाले डब्लू.माईकल पेज की मौत पोलिस की गोली से नहीं वरन उसने स्वयम ही पकडे जाने से बचने के लिए अपने सर में गोली मार ली थी |ऍफ़ बी आई ने इसका खुलासा करते हुए इस हत्याकांड को घरेलू आतंक वाद ही माना है|
पोलिस के साथ मुठभेड़ में वेड माइकल के शरीर में जब पोलिस की गोली लगी तब अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए वेड ने अपने सर में गोली मार कर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली|
गौरतलब है की वेड माईकल ने रविवार को ओके क्रीक विस्कांसिन गुरुद्वारे में पांच पुरुषों और एक महिला की ह्त्या कर दी थी तब मुठभेड़ में वेड भी मारा गया था

पाकिस्तान भारत के खिलाफ परमाणु हथियारों को बढ़ावा देने का काम कर रहा है

पाकिस्तान अपने परमाणु हथियारों के जखीरे और उनकी गुणवत्ता में लगातार सुधार कर रहा है। यह सभी वह भारत को लक्ष्य बनाकर कर रहा है। अमेरिका से प्राप्त इस रिपोर्ट से भारत के उस बयान को बल मिला है जिसमें कहा गया था कि पाकिस्तान पूरे क्षेत्र में परमाणु हथियारों को बढ़ावा देने का काम कर रहा है। लेकिन पाकिस्तान ने भारत के इस बयान को नकार दिया था।
इन परमाणु हथियारों का इस्तेमाल के लिए विशेष परिस्थितियों को आमंत्रित किया जा सकता है|। यह रिपोर्ट अमेरिकी कानून निर्माताओं के लिए काग्रेशनल रिसर्च सर्विस ने बनाई है। सीआरएस के अनुसार, पाकिस्तान का परमाणु कार्यक्रम मुख्य रूप से भारत से खतरे की धारणा पर आधारित है। वह ऐसा दिखाने का प्रयास करता है कि वह भारत से डरा हुआ है।
इस रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान भारत के परमाणु हथियारों के जखीरे में संभावित वृद्धि से अपने बचाव के लिए परमाणु सामग्री के उत्पादन को बढ़ा रहा है। साथ ही वह परमाणु हथियारों को ले जाने वाले वाहनों की संख्या भी बढ़ा रहा है। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस्लामाबाद परमाणु हथियारों के लिए अपने वर्तमान प्रयासों में तेजी ला सकता है।

अमेरिका में ३० हज़ार अवैध भारतीय प्रवासियों को भी और दो साल की अवधि

अमेरिका में १७.६ लाख अवैध प्रवासियों को निर्वासन में दो साल की छूट दे दी गई है|इससे ३० हज़ार भारतियों को भी फायदा होगा|
अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की अवैध प्रवासियों के निर्वासन को दो साल के लिए स्थगित करने से संबंधित नई नीति से कम से कम 30,000 भारतीयों को फायदा होगा, जो उन 17.6 लाख अप्रवासियों में शामिल हैं जो अवैध रूप से अमेरिका में रह रहे हैं। एक नये अध्ययन में ऐसा कहा गया है।
यूएस सेंसस ब्यूरो, माइग्रेशन पॉलिसी इंस्टीट्यूट (एमपीआई) के नये जनसंख्या सर्वेक्षण आंकड़ों के अनुसार 31 साल से कम उम्र के लगभग 17.6 लोग भविष्य में निर्वासित किए जा सकते हैं, लेकिन 15 जून को ओबामा प्रशासन द्वारा उनपर कार्रवाई स्थगित करने से संबधित नीति की घोषणा की गई, जिससे उन्हें फायदा होगा।इन 17.6 लाख अवैध प्रवासियों में भारत और कोरिया दोनों देशों के लगभग 30,000-30,000 नागरिक शामिल हैं। लैटिन अमेरिकी देशों से इतर ये देश प्रवासी लोगों की संख्या के मामले में शीर्ष पर हैं।डीएसीए (डिफर्ड एक्शन फोर चाइल्डहुड अराइवल्स) नीति के तहत मामलों की समीक्षा की जाएगी और दो साल तक अवैध प्रवासियों को निर्वासन से छूट मिलेगा। साथ ही 15 जून से पहले 31 साल की उम्र के होने वाले प्रवासियों को कानूनी रूप से काम करने में भी छूट मिलेगी।
अमेरिका के पांच राज्यों (कैलिफार्निया, टेक्सास, फ्लोरिडा, न्यूयार्क और इलिनोइस) में इस तरह के अवैध अप्रवासियों की 57 प्रतिशत आबादी है।
एमपीआई के नेशनल सेंटर ऑन इमिग्रेंट इंटीग्रेशन पॉलिसी की सह निदेशक मार्गी मैकहयूग ने कहा, नई नीति से उन युवाओं को फायदा मिलेगा जो हाई स्कूल में हैं, वे अपने हाईस्कूल डिप्लोमा पूरा कर सकते हैं।

आस्ट्रलिया में भारतीय पर ५७ लाख का इनाम

ऑस्ट्रेलियाई में एक १९ वर्षीय एक भारतीय पर एक लाख डॉलर (करीब 57 लाख रुपए) का इनाम घोषित किया है। उस पर लापरवाही से गाड़ी चलाते हुए एक व्यक्ति की जान लेने का आरोप है।
आस्ट्रेलिया में ट्रैफिक नियम तोड़ने पर पहली बार ऐसा इनाम घोषित किया गया है।
२००८ में पुनीत नामक यह 19 साल का लड़का गाड़ी चलाना सीख रहा था और लर्नर्स लाइसेंस पर गाड़ी चला रहा था। स्टेयरिंग पर नियंत्रण खो देने से इसने फुटपाथ पर चल रहे दो छात्रों डीन हॉफ्सटी और क्लेसी क्लोकर पर गाड़ी चढ़ा दी। इसमें हॉफ्सटी की मौत हो गई। क्लेंसी को गंभीर चोटें आईं। तभी से पुनीत का कोई म्सुराग नहीं मिला है|
अब चार साल बाद पुनीत की गिरफ्तारी के लिए अहम सुराग देने वाले को इनाम घोषित किया गया है|। पुनीत को भगोड़ा घोषित किया जा चुका है।उम्मीद

विस्कोंसिन गुरुद्वारे के पीड़ितों के सम्मान में शोक प्रस्ताव

भारतीय राजदूत निरूपमा राव ने ओक क्रीक में पीड़ितों के परिवारवालों से मुलाकात कर हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है। संवेदना व्यक्त करते हुए राव ने भारत सरकार की ओर से हर प्रकार के मदद का भरोसा जताया। इस दौरान एफबीआई और स्थानीय पुलिस ने राव को घटना की जांच के बारे में जानकारी दी। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी भारत के प्रधान मंत्री डाक्टर मन मोहन सिंह को फोन करके गुरुद्वारे काण्ड पर अफ़सोस जताया और न्याय का आश्वासन दिया
भारतीय राजदूत ने ओक क्रीक के मेयर स्टीव स्काफीदी से भी मुलाकात की। बाद में राव ने पीड़ितों के सम्मान में आयोजित शोक सभा में संक्षिप्त संबोधन भी दिया।
इसके आलावा हत्यारे के परिवार वालों ने जांच में सहयोग का आश्वासन दिया है|गुरुद्वारे में गोलीबारी की घटना के बाद ‘तबाह’ हुए हमलावर के परिवारवालों ने उसके इस कृत्य पर अफसोस जताया है। घरवालों ने कहा कि वे मामले की जांच में पूरा सहयोग करेंगे लेकिन आग्रह भी किया कि उनकी प्राइवेसी का सम्मान किया जाए।
हमलावर वेड माइकल पेज की फैमिली की ओर से कहा गया है, ‘पेज के परिवार के तौर पर रविवार की इस भयानक घटना के बाद हम पूरी तरह से तबाह हो गए हैं। हमारी संवेदना और प्रार्थना सभी पीड़ितों और उनके परिवारवालों के साथ है।’
गुरुद्वारे में गोलीबारी दुखद: एएपीआई
भारतीय अमेरिकी डॉक्टरों के पेशेवर संगठन ने विस्कोंसिन स्थित गुरुद्वारे में गोलीबारी की घटना को दुखद और निंदनीय करार दिया है। संगठन ने कहा है कि सभ्य समाज में इस तरह की घटना के लिए कोई स्थान नहीं है।
अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ फिजीशियन ऑफ इंडियन ओरीजिन (एएपीआई) के अध्यक्ष नरेंद्र कुमार ने एक बयान में कहा, ‘एकजुटता के साथ हम सिख समुदाय के साथ खड़े हैं और अमेरिका में सिखों पर हुए इस घातक हमले की कड़ी निंदा करते हैं।’ नरेंद्र की अगुवाई वाले इस संगठन में 65000 से भी ज्यादा भारतीय अमेरिकी डॉक्टर जुड़े हैं। नरेंद्र ने विस्कोंसिन प्रांत की सरकार और एफबीआई से मामले से जुड़े लोगों को न्याय दिलाने का भी आग्रह किया है।

पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने फिर दिखाया वर्चस्व

पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने आज फिर अपना वर्चस्व दिखाते हुए प्रधान मंत्री को कोर्ट में पेश होकर यह बताने का आदेश दिया है कि अभी तक राष्ट्रपति के विरुद्ध भ्रष्टाचार के सम्बन्ध में दिए गए आदेशों का पालन क्यूं नहीं हुआ है| इससे कोर्ट और संसद में अनावश्यक विवाद उत्पन्न किया जा रहा है|
गौरतलब है कि कोर्ट ने राष्ट्रपति की विदेशों में जमा संपत्ति जानने के लिए विदेशों में पत्र लिखने का आदेश दिया था |
पूर्व प्रधान मंत्री यूसुफ़ रज़ा जिलानी ने राष्ट्रपति को इस प्रकार कि जाँच के दायरे से बाहर बताया था इस पर श्री जिलानी को बाहर कर दिया गया |अब उनके उत्तराधिकारी रज़ा परवेज़ अशरफ भी कोर्ट के आदेश का पालन करने में असमर्थ हैं|इसीकारण इनके विरुद्ध भी अदालती अवमानना का केस बनाया जा सकता है|

अमेरिका में सिखों के प्रति वाकई ग़लतफ़हमी है

अमेरिका में सिखों के प्रति कितनी ग़लतफ़हमी है इसका अंदाजा इस नई हाई प्रोफायल कंट्रोवार्शियल स्पीच से हो जाता है
अमेरिका में चुनाव होने हैं इसके लिए डेमोक्रेट्स और रिपब्लिकन्स दोनों चुनावी फंड्स एकत्र करने में जुटे हैं ऐसे ही एक फंड रेसिंग फंक्शन में राष्ट्रपति के लिए रिपब्लिकन उम्मीदवार मिट रोमनी ने विस्कोंसिन गुरुद्वारे में हुए हत्याकांड पर दुःख प्रकट किया मगर सिख गुरूद्वारे को शैख़ टेम्पल कह गए इसे वहां खामोशी छा गई|
श्री रोमनी के प्रवक्ता ने बाद में इसे उच्चारण की गलती बताया
.

पाकिस्तान में बम विस्फोट में चार सुरक्षा कर्मी मरे

पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान में मंगलवार रात एक बम के फटने से कम से कम चार सुरक्षाकर्मी मारे गए और दर्जनभर अन्य घायल हुए।
जियो न्यूज के मुताबिक चार सुरक्षाकर्मियों के मारे जाने की पुष्टि कर ली गई है|
समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक अर्धसैनिक बलों की एक वैन के विस्फोट की चपेट में आ जाने से केच में

    यह घटना हुई।बलूचिस्तान कांस्टेबुलरी की एक वैन 15 लोगों को लेकर केच इलाके में जा रही थी। तभी वह सड़क किनारे लगाए गए बम की चपेट में आ गई। केच कराची से 420 किलोमीटर दूर स्थित है। अब तक किसी समूह ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।