Ad

Category: Pakistan

पाकिस्तानी ईसाईयों ने अलग राज्य माँगा

: पाकिस्तान में ईसाईयों ने अलग राज्य की मांग की है|
पाक किताब को अपवित्र करने के आरोप में एक नाबालिग ईसाई लड़की की गिरफ्तारी के बाद ईसाई समुदाय में असुरक्षा की भावना बढ़ रही है
जिस्क्को लेकर एक ईसाई संगठन ने सरकार से अल्पसंख्यक समुदाय के लिए अलग प्रांत बनाने की मांग की है।
पाकिस्तान युनाइटेड क्रिश्चियन वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष यूनुस मसीह भट्टी ने कहा कि नए राज्य बनाने की दिशा में काम करने के लिए पाकिस्तान पीपल्स पार्टी की अगुवाई वाली सरकार ने आयोग बनाया है, जो कि देश में नए राज्यों के गठन की जरूरत को दर्शाता है।
ऐसे में पाकिस्तान के 20 लाख ईसाइयों और उनमें असुरक्षा की भावना को ध्यान में रखते हुए उनके लिए अलग राज्य की जरूरत है, ताकि वे बहुसंख्यकों की तरह अपने अधिकारों का इस्तेमाल कर सकें।

पाकिस्तानी कोर्ट ने वर्चस्व का पहला मोर्चा जीता

पाकिस्तानी की मरकजी सरकार और सुप्रीम कोर्ट में चल रही वर्चस्व की लड़ाई में कोर्ट ने आज एक और मोर्चा फतह कर लिया है|प्रधान मंत्री राजा परवेज अशरफ ने अदालत के समक्ष पेश हुए|
उन्हें 18 सितंबर तक की मोहलत दी गई है।
गौरतलब है कि तत्कालीन राष्ट्रपति ने वर्ष 2007 में एक अध्यादेश के जरिए करीब आठ हजार लोगों के खिलाफ चल रहे भ्रष्टाचार के मामले खत्म किए थे। इसी का लाभ आसिफ अली जरदारी को भी मिला था। सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 2009 में उस अध्यादेश को रद करते हुए राष्ट्रपति समेत सभी लोगों के खिलाफ मामले फिर से खोलने के निर्देश दे दिए थे।पूर्व पी एम् युसूफ रजा गिलानी द्वारा स्विस अधिकारियों को पत्र लिखने के आदेश को नजरअंदाज कर दिया गया था इसीलिए उन्हें बर्खास्त किया गया अब उनके स्थान पर बनाए गए पी एम् श्री अशरफ को अदालत की अवमानना का नोटिस जारी किया गया था।
राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामलों को फिर से खोलने के संबंध में स्विस अधिकारियों को पत्र लिखने के लिए १८ सितम्बर तक का समय दिया गया है। प्रधानमंत्री ने इस मुद्दे पर परामर्श के लिए अदालत से चार से छह सप्ताह का समय मांगा था।
इस मामले में जस्टिस आसिफ सईद खोसा की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय पीठ के समक्ष पेश होने वाले अशरफ दूसरे प्रधानमंत्री बन गए हैं।

चरमपंथी कमांडर बदरुद्दीन हक्कानी ड्रोन हमलों में मारे गए हैं|

चरमपंथी कमांडर बदरुद्दीन हक्कानी ड्रोन हमलों में मारे गए हैं|
पाकिस्तान के कबायली इलाके, उत्तरी वज़ीरिस्तान में एक अमरीकी ड्रोन हमले में चरमपंथी हक्कानी नेटवर्क के एक प्रमुख कमांडर बदरुद्दीन हक्कानी मारे गए हैं. वहीं तालिबानी संघठन ने अफगानिस्तान में छिपे उनके नेता मुल्लाह दादुल्लाह के मारे जाने की पुष्ठी की है|गौरतलब है कि अमेरिका के ड्रोन हमलों में १८ चरमपंथी मारे गए थे जिस पर पाकिस्तान में कड़ी प्रतिक्रिया की गई थी

अमेरिकी ड्रोन हमलों में१७ संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकवादी मारे गए

अमेरिका द्वारा पाकिस्तान में लगातार किये जा रहे ड्रोन हमलों पर पकिस्तान सरकार के विरोध के बावजूद सामरिक सहयोगी के ड्रोन हमले जारी हैं| शुक्रवार को उत्तरी-पश्चिमी कबायली इलाके में कई ड्रोन हमले किए गए जिसमें लगभग 17 संदिग्ध आतंकवादी मारे गए।
समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने उर्दू समाचार चैनल ‘आज’ के हवाले से इसका खुलासा कारते हुए कहा है कि लगभग दोपहर के समय उत्तरी वजीरिस्तान में तीन विभिन्न ठिकानों पर पांच अमेरिकी ड्रोन विमानों से छह मिसाइल दागे गए।
इन हमलों में डांदरा, दर्रे नश्तर और शावल इलाके में मकी घर समेत कई घरों को निशाना बनाया गया।
समाचार चैनल जियो न्यूज ने १६ लोगो के मारे जान एकी पुष्ठी की है|
गौरतलब है कि पाकिस्तान ने ईद उल फितर से पहले या उस त्योहार के दौरान किए गए ड्रोन हमलों का विरोध दर्ज कराने के लिए गुरुवार को एक अमेरिकी राजनयिक को सम्मन भेजकर इस्लामाबाद बुलाया था। इसके अगले ही दिन ये ड्रोन हमले हो गए जिनमे १७ लोग मारे गए हैं|

पाकिस्तान में अमेरिकी ड्रोन हमले में पांच लोग मारे गए।

पाकिस्तान में आज १९ अगस्त को सुबह अमेरिकी ड्रोन हमले में पांच लोग मारे गए।
समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने उर्दू टीवी चैनल ‘डॉन’ के हवाले से खुलासा किया है कि रविवार सुबह उत्तरी वजीरिस्तान के मिरानशाह शहर के शाहवल इलाके में दो वाहनों पर ड्रोन विमानों ने चार मिसाइले दागीं। इस हमले में कम से कम पांच लोग मौके पर ही मारे गए।
इससे पूर्व, शनिवार दोपहर इसी इलाके के एक मकान और एक वाहन पर चार मिसाइलें दागी गई थीं। इस हमले में कम से कम छह संदिग्ध आतंकवादी मारे गए थे जबकि दो अन्य घायल हो गए थे

पाकिस्तान के राष्ट्रपति के नजराने से अजमेर में बनेगा अस्पताल

पकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी द्वारा भेजे गए १० लाख डालर के नजराने के एक हिस्से से ख्वाजा गरीब नवाज़ अस्पताल बनेगा |
राष्ट्रपति श्री जरदारी इस साल आठ अप्रैल को अजमेर शरीफ की जियारत पर आए थे तब उन्होंने दरगाह को 10 लाख डॉलर के नजराने का ऐलान किया था.
इस ऐलान के चार महीने बाद जुमा अलविदा को[शुक्रवार ]को पाकिस्तान की ओर से पूर्व विदेश सचिव सलमान बशीर पैसे लेकर अजमेर आए \
इस नज़राने पर ख्वाजा के खादिमों ने अपना हक जताया.
मजबूरन नजराने की रकम तीन हिस्से में बांटी गई, जिसमें दो खादिमों की अंजुमन कमेटियों को करीब दो-दो करोड़ रुपये मिले और दरगाह कमेटी को करीब एक करोड़ पैंतालीस लाख ही मिले|
अजमेर के ख्वाजा गरीब नवाज के खादिमों ने नजराने के 5.5 करोड़ रुपये में से अपनी हिस्सेदारी ले ही ली
नजराने का इस्तेमाल दरगाह के विकास में किया जाना था, लेकिन पैसे का बंटवारा हो जाने के बाद अब दरगाह कमेटी अपने हिस्से के एक करोड़ पैंतालीस लाखसे अस्पताल बनवाना चाहती है.

तालिबान के खिलाफ संयुक्त कार्रवाई से पाकिस्तान की अस्वीकृति

पाकिस्तान की अमेरिका के साथ मिलकर तालिबान के खिलाफ अपने देश में संयुक्त सैन्य कार्रवाई करने की कोई उसकी योजना नहीं है। यह घोषणा पाकिस्तानी सेना ने शुक्रवार को की।

तालिबान के खिलाफ अमेरिका के साथ संयुक्त कार्यवाही से पाक पीछे हटा |
पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल अशफाक परवेज कयानी ने बीते दिन संयुक्त सैन्य कार्रवाई को लेकर अमेरिकी मीडिया में लगाई जा रही अटकलों को खारिज किया है।
अमेरिकी मीडिया में ऐसी खबर आई थी कि पाकिस्तान और अमेरिका, अफगानिस्तान से सटे उत्तरी वजीरिस्तान के इलाके में संयुक्त सैन्य कार्रवाई करने पर राजी हो गए हैं।
समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार ऐसी खबरें थी कि यह समझौता पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल जहीर-उल-इस्लाम और अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए के शीर्ष अधिकारियों के बीच वाशिंगटन में हुई मुलाकात के दौरान हुआ।
जनरल कयानी ने रावलपिंडी शहर में गुरुवार रात अमेरिकी जनरल जेन जेम्स एन. मैटिस से मुलाकात के बाद पाकिस्तान का पक्ष स्पष्ट कर दिया।
कयानी का कहना है कि समन्वित कार्रवाई और संयुक्त कार्रवाई में अंतर करना महत्वपूर्ण है।
सेना के एक बयान में उनके हवाले से कहा गया कि समन्वित कारवाई का तात्पर्य यह है कि पाकिस्तानी सेना और अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा सहायता बल ( आईएसएएफ) दोनों अफगानिस्तान-पाकिस्तान सीमा के दोनों तरफ कार्रवाई करेंगे।
कयानी ने कहा कि संयुक्त कार्रवाई पाकिस्तान की जनता और सैन्यबलों के लिए अस्वीकार्य है। किसी भी फैसले पर विचार करने से पूर्व राष्ट्रहित का ख्याल रखना ज्यादा अहम होगा।

पाकिस्तान में आत्मघाती हमले में ५ मरे

पाकिस्तान की आज़ादी की सालगिरह के बाद से आतंकवादी हमले बढ़ते जा रहे हैं|कामरा के एयरबेसपर फिदाईन हमले के बाद आज[शनिवार] अल सुबह क्वेटा शहर में एक आत्मघाती हमला हुआ इस हमले में कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई जिनमें चार अर्धसैनिक बल के जवान शामिल हैं।
क्वेटा दक्षिण पश्चिमी प्रांत बलूचिस्तान की राजधानी है।
समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, विस्फोट देर रात लगभग एक बजे हुआ।
हमलावर ने कम्बरानी रोड पर अपनी कार अर्धसैनिक बल की गाड़ी की ओर ले जाकर खुद को उड़ा लिया।

देश में और सीमा पर माहौल बिगाड़ने की साजिश

सीमा पर पाकिस्तानी सेना और देश में उनके द्वारा भेजे जा रहे एस एम् एस के जरिये देश में और सीमा दोनों पर ही माहौल को बिगड़ने की कौशिशे जारी है|
पाकिस्तान की ओर से संघर्ष-विराम के बार-बार उल्लंघन किया जा रह है|। शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन पाकिस्तानी रेंजरों ने आरएसपुरा सेक्टर की अब्दुल्लियां पोस्ट पर साढ़े चार घंटे तक भारी गोलीबारी की और मोर्टार शेल दागे। पाकिस्तान ने सुरक्षा चौकियों के साथ इस बार गांवों को भी निशाना बनाया है। बीएसएफकी सलाह पर अब्दुल्लिया गावं वाले गावं खाली करके सुरक्षित स्थानों को जाने लगे हैं|
सीमा पार से स्वतंत्रता दिवस पर शुरू हुई गोलीबारी का सिलसिला बीती रात जुमा अलविदा [शुक्रवार] को भी जारी रहा।
गोलीबारी से बेगा, बेरा, सुचेतगढ़, गुलाबगढ़ गांव खासे प्रभावित हुए हैं। इस अकारण प्रोवोकेटिव गोलीबारी का सीमा सुरक्षाबल ने भी मुंहतोड़ जबाब दिया।
पिछले ग्यारह दिनों में पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम के उल्लंघन का यह नौंवा मामला है। 15 अगस्त को हीरानगर सेक्टर और पुंछ में गोलीबारी करने के बाद पाकिस्तान ने 16 अगस्त को भी अब्दुल्लियां पोस्ट पर फायरिंग की थी, जिसमें बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया था। बीएसएफ जम्मू फ्रंटियर के आइजी राजीव कृष्णा ने कहा कि पाकिस्तान की साजिशों का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। पाकिस्तान सीमा पर शांति को भंग कर रहा है।
विश्व के सबसे ऊंचे रणक्षेत्र सियाचिन में मोर्चा संभाले जवानों का हौंसला बढ़ाने थलसेना अध्यक्ष जनरल बिक्रम सिंह शुक्रवार को तीन दिवसीय दौरे पर लेह पहुंचे। लद्दाख के न्योमा व जम्मू के सांबा में जवानों व अधिकारियों में तनातनी को गंभीरता से ले रहे थलसेना अध्यक्ष इस दौरे से जवानों व अधिकारियों में दूरियां कम करने का अभियान भी शुरू करेंगे। जनरल ने चौदह कोर मुख्यालय में बैठक कर सुरक्षा हालात पर विचार-विमर्श किया|
इसके अलावा देश में भी उत्तेजित करने वाली अफवाहें फैलाई जा रही हैं|बताया जा रहा है की ये अफवाहें सीमा पार से आ रही हैं|जिसके फलस्वरूप यहाँ दंगे भड़क रहे हैं|असाम +मुम्बई+औएन+रांची+बेंगलूर+हेदराबाद+के बाद अब कानपुर+अलाहाबाद और प्रदेश की राजधानी में भी नमाजी भड़काए जा चुके हैं|

पाकिस्तान में अपने कार्य छेत्र के लिए पी एम् सुप्रीम कोर्ट के प्रति जवाब देह नहीं

पडोसी मुल्क पाकिस्तान में भी भारत की तरह ही न्यायपालिका और विधायकी में वर्चस्व की जंग जारी है|भारत में जहां न्यायाधीशों पर खुली अदालत में अशोभनीय टिपण्णी पर पाबन्दी लगाने को विधेयक लाया जा रहा है तो वहीं इसके ठीक उलट पाकिस्तान में पी एम् ने अपने कार्य छेत्र के लिए अदालत के समक्ष पेशी के अदालती आदेशों को असंवैधानिक करार दे दिया है|
पाकिस्तान के अटार्नी जनरल इरफ़ान कादिर ने कल जस्टिस आसिफ खान खोसा+जस्टिस एस जे ओस्मानीऔर जस्टिस ई ऐ.खान की बेंच के समक्ष जिरह करते समय यह दलील देकर सनसनी फैला दी की आर्टिकल २४८[१]के अंतर्गत पाकिस्तानी प्रधान मंत्री कोर्ट के प्रति जवाब देह नहीं है|इसीलिए कोर्ट द्वारा पी एम् को आदेश जारी नहीं किये जाने चाहिए|जिसे सुप्रीम कोर्ट की इस अपेक्स कोर्ट ने टर्न डाउन कर दिया |और अदालत अगले दिन के लिए स्थगित कर दी गई|
गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा पाकिस्तान के पी एम् को यह आदेश दिया था कि स्विस बैंकों में राष्ट्रपति की जमा पूँजी की जांच कराये जिस पर तत्कालीन प्रधान मंत्री जिलानी को बर्खास्त भी कर दिया गया था अब फिर नए पी एम् अशरफ को भी वोही निर्देश दिए गए हैं जिनका पालन नहीं करने पर उन पर भी बर्खास्तगी की तलवार लटक रही है|

.