Ad

कमजोर पी एम् पर १.८६ लाख करोड़ का बोझ

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक भाजपाई
ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है ?अब तो सरकार की सी ऐ जी ने भी जी जी कहते हुए सरकारी खजाने को 1.85 लाख करोड़ रुपये के नुकसान के आरोप पर अपनी भी मोहर लगा दी है|
कोयला ब्लॉक आवंटन में घोटाले पर सीएजी की रपट संसद के पटल पर भी रख दी गई है| आप जी के प्रधान मंत्री उस समय कोयला मंत्री भी थे इसीलिए उन्हें[पी एम्] इस महा घोटाले की जिम्मेदारी ले लेनी चाहिए|
हमारे सोणे नेता अरुण जेटली ने कोयला खंड एलाटमेंट मामले में प्रधानमंत्री कोपूरा जिम्मेदार ठहरा दिया है| कह दिया है कि पी एम् को इस बारे में पूरी जानकारी थी। इसीलिए संसद में जारी गतिरोध को समाप्त
करने के लिए इस केंद्र सरकार के पास एक ही रास्ता है कि प्रधानमंत्री इस पूरे मामले की जिम्मेदारी स्वयं ले लें और उचित कदम लेने का प्रयास करें।
झल्ला
ओ मेरे भोले शाह जी एक तरफ तो आप यह कहते हुए नहीं थकते कि हसाड़े सोणे ते मन मोहने पी एम् बहुत कमजोर प्रधान मंत्री हैं अब १.८५ लाख करोड़ रुपयों के भारी भरकम घोटाले को उन कमजोर कन्धों पर डाल रहे हो
और यह भी कहते जा रहे हो कि ये कंधे जिम्मेदारी नहीं उठा रहे | ये तो सरासर नाइंसाफी है जी | ऐसे कैसे चलेगा ???