Ad

पाकिस्तान के कराची में सौ वर्ष पुराना मंदिर गिरा कर अल्पसंख्यकों के अधिकारों को चुनौती दी गई

पाकिस्तान के कराची में सौ वर्ष पुराना राम पीर मंदिर गिरा दिया गया है जिसे लेकर वहां के हिंदू समुदाय ने कड़ा विरोध तथा क्षोभ जताया है तथा सरकार से कहा है कि अगर वह उनकी तथा उनके धार्मिक स्थलों की हिफाजत नहीं कर सकती है, तो वह उन्हें भारत भिजवाने के लिए टिकट दिलवाने की व्यवस्था करे।एक अदालत के स्थगनादेश के बावजूद यह मंदिर ढाया गया है| इस कृत्य से वहां अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा के प्रति सरकार की प्रतिबद्दता पर एक बार फिर प्रश्न चिन्ह लगा है|

पाकिस्तान के कराची में सौ वर्ष पुराना मंदिर गिरा कर अल्पसंख्यकों के अधिकारों को चुनौती दी गई


पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने इस मामले पर चिंता जताते हुए निर्देश दिए हैं कि किसी भी संप्रदाय के साथ किसी प्रकार का भेदभाव नहीं हो।पाकिस्तान मीडिया के अनुसार मंदिर परिसर में रहने वाले लगभग 40 लोग बेघर हो गए हैं, जिनमें से अधिकतर हिन्दू हैं। ठंड की रात उन्होंने अपने बच्चों के साथ खुले में आसमान के नीचे बिताई।
पाकिस्तान हिंदू परिषद के संरक्षक डॉ. रमेश कुमार वंकवानी ने आरोप लगाया कि पुलिस मंदिर में रखी अनेक मूर्तियां तथा उन पर चढ़ाए गए सोने के जेवर उठाकर ले गई, लेकिन पुलिस ने इन आरोपों से इनकार किया।
अखबार के अनुसार प्रांत के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मोहनलाल तथा कराधान मंत्री मुकेश चावला में से किसी ने इस मामले पर कोई टिप्पणी, प्रतिक्रिया नहीं दी है। लाल के घटनास्थल पर जाने की खबरें थी, लेकिन वे भी वहां नहीं गए लेकिन इसके विपरीत भारत में प्रमुख विपक्षी दल भाजपा ने इस मुद्दे को संसद में उठाने की चेतावनी दी है|

Comments

  1. Alma says:

    Hi there, You

  2. Hi, just wanted to tell you, I loved this blog post. It was funny. Keep on posting!

  3. Hi, just wanted to mention, I enjoyed this post. It was helpful. Keep on posting!