Ad

पुणे में हुए धमाको के पीछे कहीं इन्डियन मुजाहिदीन तो नहीं ?

पुणे के जंगली महाराज [जे एम्]रोड पर कल रात को हुए सीरियल पांच बम धमाकों की जांच कर रही एजेंसियों ने इसके पीछे इंडियन मुजाहिद्दीन[आई एम्] पर शक जताया है। धमाके वाली जगहों पर अमोनियम नाइट्रेट मिलने से शक की सुई आई एम् की तरफ घूम रही है|
इन बम धमाकों में नई साइकिलों का इस्तेमाल किया गया है। लिहाजा जांच एजेंसियां अब यह जानने में जुटी हैं कि आखिर यह साइकिल कब, कहां से और किसने खरीदी थीं। पुणे धमाके की जांच में एनआईए, एनएसजी और फॉरेंसिक की टीमों के अलावा एटीएस भी जुटी हुई है। माना जा रहा है कि सरकार एनआईए की एक और टीम पुणे भेजी सकती है। जांच एजेंसियां मैक्डोनाल्ड्स और देना बैंक के सामने लगे सीसीटीवी के वीडियो फुटेज खंगाल रही हैं।
गौरतलब है कि सुशील कुमार शिंदे ने बुधवार को ही गृह मंत्रालय की कमान अपने हाथों में ली थी। उन्हें कल ही पुणे में एक आयोजन में भाग लेने के लिए भी जाना था। लेकिन देर शाम हुए पुणे में हुए एक के बाद एक पांच बम धमाकों ने यह सोचने पर मजबूर जरूर कर दिया है कि क्या यह धमाके शिंदे को निशाना बनाकर किए गए थे मौके पर पहुंचे बम डिस्पोजल स्क्वायड ने दो बमों को निष्क्रिय भी कर दिया था। जिनमे से एक बम निष्क्रिय करते समय फट गया था कम तीव्रता वाले इन धमाकों में घायलों की संख्या २ बताई जा रही है । इन धमाकों के बाद पुलिस ने एक संदिग्ध को गिरफ्तार भी किया गया है। इसके अलावा दिल्ली + यूं पी समेत पूरे देश में त्यौहारों के मद्देनजर हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।
पुणे के डेक्कन क्षेत्र स्थित अतिव्यस्त जीएम रोड पर सिर्फ आधे किलोमीटर के दायरे में ये विस्फोट बुधवार शाम 7.27 से 8.15 बजे के बीच हुए। पहला विस्फोट बाल गंधर्व थियेटर के बाहर रेस्टोरेंट के नजदीक, दूसरा फास्ट फ़ूड मैकडोनॉल्ड रेस्टोरेंट के पास, तीसरा इससे कुछ ही दूरी पर देना बैंक के एटीएम के बाहर और चौथा गरवारे चौक के पास शू व‌र्ल्ड के बाहर हुआ। इनमें गंधर्व रेस्टोरेंट व मैकडोनॉल्ड के विस्फोट बाहर रखे कचरे के डिब्बों में और देना बैंक व गरवारे पुल के विस्फोट पास खड़ी साइकिलों की टोकरियों में हुए हैं।
गौरतलब है कि जून में मुंबई के मराठी चैनल साम मराठी को एक पत्र मिला था। इसमें बताया गया था कि 13 जून से 15 अगस्त के बीच पुणे में विस्फोट किए जाएंगे। पुणे के पुलिस आयुक्त गुलाबराव पोल के मुताबिक विस्फोट की जगह से पेंसिल सेल व छोटे डेटोनेटर मिले हैं।
इन विस्फोटों में घायल व्यक्ति को पुणे के ससून अस्पताल में भर्ती कराया गया है। फिलहाल उसकी हालत स्थिर और होश में बताया गया है |
दयानंद पाटिल नामक इस व्यक्ति से पुलिस ने पूछताछ शुरू कर दी है। पुलिस के मुताबिक, पाटिल अन्ना हजारे का भाषण सुनने के लिए प्रदर्शन स्थल कमला आर्केड पर रुका था। वह एक पॉलिथिन बैग में टिफिन रखकर ले जा रहा था। प्रदर्शन स्थल से चलते समय उसे अपना बैग कुछ भारी लगा। जैसे ही उसने पॉलिथिन बैग खोला बम फट गया।