Ad

प्रदर्शनकारियों को पीटने का वीडियो सामने आने पर दिल्ली पुलिस आलोचनाओं के घेरे में

[नई दिल्ली]प्रदर्शनकारियों को पीटने का वीडियो सामने आने पर दिल्ली पुलिस आलोचनाओं के घेरे में
दलित छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या को लेकर प्रदर्शन कर रहे लोगों को पीटने का एक वीडियो सामने आने के बाद दिल्ली पुलिस आज आलोचनाओं के घेरे में आ गयी है| प्रदर्शनकारियों में महिलाएं भी शामिल थीं। वीडियो में पुलिसकर्मी आरएसएस मुख्य कार्यालय के बाहर प्रदर्शनकारियों को पीटते और महिला प्रदर्शनकारियों को उनके बाल पकड़कर घसीटते दिखाई दे रहे हैं।
शनिवार की घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया जिसपर तीखी प्रतिक्रियाएं आ रही है |
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने आरोप लगाया कि इस राजनीतिक शासन के तहत पुलिस बल का आरएसएस और भाजपा की ‘निजी सेना’ के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है जो देश भर के छात्रों के साथ ‘युद्धरत’ है।
दो पत्रकारों ने 30 जनवरी को विरोध प्रदर्शन को कवर करने के दौरान खुद को पीटे जाने का आरोप लगाया
30 सेकेंड के इस क्लिप में पुलिस के अलावा कुछ दूसरे बिना वर्दी के लोग भी एक युवक को पीटते दिखायी दे रहे हैं
पिछले महीने हैदराबाद विश्वविद्यालय के रोहित ने आत्महत्या कर ली थी जिसे लेकर देश भर में आक्रोश पैदा हुआ।
वीडियो को लेकर प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली पुलिस आयुक्त बी एस बस्सी ने कहा कि उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को मामले की जांच का निर्देश दिया है और देखने के लिए कहा है कि क्या किसी तरह की ‘विवेकहीनता’ हुई है।
उधर छात्राओं पर पुलिस की बेरहमी को लेकर सी वाई एस एस [CYSS ]ने बीजेपी मुख्यालय पर किया प्रदर्शन
आम आदमी पार्टी की छात्र इकाई ‘छात्र युवा संघर्ष समिति’ (CYSS) ने सोमवार को हाल ही में पुलिस द्वारा छात्राओं की बर्बर पिटाई के मुद्दे को लेकर बीजेपी और दिल्ली पुलिस के खिलाफ़ प्रदर्शन किया।
सीवाईएसएस के छात्र कार्यकर्ताओं ने बीजेपी मुख्यालय पर प्रदर्शन करते हुए बीजेपी पर दिल्ली पुलिस का कठपुतली के तौर पर इस्तेमाल करने का आरोप लगाया।