Ad

प्रेजिडेंट बराक ओबामा ने भारत और अमेरिका के डीएनऐ में “विविधता में एकता” का अहसास कराया

नई दिल्ली।अमेरिकी प्रेजिडेंट बराक ओबामा बाइक पर “ताजमहल” देखने की हसरत और वापिसी की ख्वाहिश लिए सऊदी अरबिया के लिए रवाना हो गए |
एयर फ़ोर्स वन पर सवार होने से पहले ओबामा ने सीरी फोर्ट में हजारों लोगों के दिल में सीधे कामयाब दस्तक दी |अथिति प्रेजिडेंट ने भारत के पी एम श्री नरेंद्र मोदी और स्वयं के जीवन कि समानताओं का जिक्र करते हुए दोनों देशों के डीएनऐ में “विविधता में एकता का” अहसास कराया |
नमस्ते से शुरू करके भारतीय प्रतिभाओं का उल्लेख करके महान विभूतियों के आदर्शों को मान्यता दे कर अपने संवाद को जय हिन्द के साथ पूर्ण करके खूब तालियां बटोरी|
राष्ट्रपति ओबामा अपनी दूसरी भारत यात्रा में भारतीयों का दिल जीत कर भारत से रवाना हो गए।सम्भवत यह पीएम श्री नरेंद्र मोदी के अमेरिकन मेडिसन स्क्वायर शो का उत्तर था
दोपहर दो बजे उनके विशेष विमान एयरफोर्स वन ने पालम हवाई अड्डे से उड़ान भरी। प्लेन में सवार होने से पहले ओबामा दंपति ने हाथ जोड़कर नमस्ते किया और फिर विदाई ली। पीएम मोदी ने ट्वीट कर विदाई संदेश भी दिया।
इससे पहले तीन दिवसीय दौरे के अंतिम दिन ओबामा, पत्नी मिशेल के साथ सुबह करीब 10 बजकर 55 मिनट पर सिरी फाेर्ट ऑडिटोरियम पहुंचे। उन्होंने ‘नमस्ते’ कह कर अपना संबोधन शुरू किया और गणतंत्र दिवस समाराेह में शामिल होने का मौका देने के लिए धन्यवाद दिया।ओबामा ने भारतीय विविधता को दुनिया के लिए मिसाल बताया । यहां ज्यादातर लोग 35 साल से नीचे हैं। युवा ही हैं जो देश की तस्वीर बदल सकते हैं। मैं अमेरिकी लोगों की दोस्ती लेकर आया हूं।
‘इंडिया एंड अमेरिका: द फ्यूचर वी कैन …टूगेदर’ विषय पर एक सभा को संबोधित करते हुए ओबामा ने कहा कि दुनिया को बेहतर बनाने के लिए हम साथ मिलकर काम कर सकते हैं।पिछली बार मैंने रोशनी के पर्व दीवाली को मुंबई में सेलिब्रेट किया था, बच्चों के साथ भांगड़ा डांस किया था। अफसोस, इस बार डांस नहीं कर सका। ओबामा ने बताया कि उन्होंने व्हाइट हाउस में पहली बार दिवाली मनाई।
ओबामा ने अपने संबोधन में महात्मा गांधी के अहिंसा का जिक्र किया। उन्होंने विवेकानंद के करीब 100 साल पहले हुई शिकागो यात्रा का भी जिक्र करते हुए कहा कि विवेकानंद ही अमेरिका में हिंदुत्व और योग लेकर आए |
भारत को शाहरूख खान+मिल्खा सिंह+मैरी कॉम पर गर्व है। भारत में टैलंट की कमी नहीं है। ओबामा ने कैलाश सत्यार्थी की भी जमकर तारीफ की।
संबोधन के आखिर में ओबामा ने कहा कि हम सब एक ही बगिया के खूबसूरत फूल हैं। हम भारत पर भरोसा करते हैं। हम आपके सपने साकार करने में आपके साथ हैं। आपका पार्टनर होने का गर्व है।ओबामा ने महिला शक्ति की भी जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना में महिला को नेतृत्व करते हुए देखकर खुशी हुई। विंग कमांडर पूजा ठाकुर का जिक्र करते हुए कहा कि गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व करने वाली महिला ऑफिसर गर्व और ताकत का उदाहरण है।
ओबामा ने कहा कि मेरी भी दो बेटियां हैं। हम अपनी बेटियों को मजबूत और सशक्त बनाएंगे। आगे बढ़ने के लिए बेटियों और बहनों को समान अधिकार के साथ-साथ मौके भी देने होंगे, क्योंकि वे इसकी हकदार हैं। अगर महिलाएं सफल हैं तभी देश कामयाब है। अमेरिका में महिलाओं को समान अवसर देने की कोशिशें की जा रही हैं।मेरे दादा केन्या में ब्रिटिश आर्मी में कुक थे। जब मेरा जन्म हुआ तो मेरे जैसे कई लोग दुनिया के कई हिस्सों में वोट नहीं कर सकते थे।
हम ऐसे देशों से हैं जहां एक कुक का बेटा राष्ट्रपति और चाय वाले का बेटा पीएम बन सकता है। भारत और अमेरिका के लोग मेहनती हैं। हम जैसे देश संपूर्ण नहीं, कई चुनौतियां हैं।
ओबामा ने बताया कि मैं और मिशेल बड़े परिवार से नहीं थे। अमेरिका ने हमें बहुत कुछ दिया। भारतीय भाई-बहनों! हम परफेक्ट देश नहीं हैं। हमारे सामने कई चुनौतियां हैं। हममें कई समानताएं हैं
माहौल को हल्का करते हुए उन्होंने हिंदी फीचर फिल्म डीडीएलजे का डॉयलाग “बढे बढे देशों में” बोलने की भी कोशिश की।
बराक ओबामा दुनिया के सात अजूबों में शामिल ताजमहल का दीदार करने के इच्छुक थे, लेकिन सऊदी अरब जाने की वजह से उनका आगरा दौरा रद्द हो गया है। ताजमहल प्रोग्राम कैंसिल होने की वजह जाहिर तौर पर सऊदी अरब जाने को लेकर होना बताया जा रहा है।