Ad

पंजाब में १९४७ की जमीनों का रिकॉर्ड नहीं चले हैं ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाने

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

पंजाब कांग्रेस का चेयर लीडर

औए झल्लेया !मुबारकां !!हसाड़े सोणे मुख्य मंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह जी ने नया इतिहास रच दिया | हसाड़े हंसदे खेडदे पंजाब में गुरु के घर अमृतसर से ऑनलाइन सम्पत्ति रजिस्ट्रेशन प्रणाली शुरू होने जा रही है| इस क्लाउड बेस्ड नेशनल जेनेरिक डॉक्यूमेंट रजिस्ट्रेशन सिस्टम से आम लोगों की परेशानियों से छुट्टी मिल जाएगी

झल्ला

भा जी गल तो आपकी वाकई इतिहास रचने वाली है ,लेकिन आपने अभी तक जमीनों की मर्दमशुमारी [Census] तो करवाई ही नहीं |१९४७ में छोड़ी गई जमीन और फिर उनके अलॉटमेंट का रिकॉर्ड बनवाने से दूध का दूध और पानी का पानी हो जाना है|