Ad

नन्ना पकड़ा हुआ हैं कुछ भी कहते रहो इन्होने कह देना है की नन्ना में तो मानू ना

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

नन्ना पकड़ा हुआ हैं कुछ भी कहते रहो इन्होने कह देना है की नन्ना में तो मानू ना

एक भाजपाई

ओये झल्लेया ये कया लुट पे गई ओये एक से बढ एक घोटाले सामने आ रहे हैं |अब सरकार की आडिट संस्था कैग ने थल नभ जल सभी में तीन लाख करोड़ के घोटालों का पर्दा फाश कर दिया लेकिन ये बेशर्मो
की सरकार के कानों तक जू भी नहीं रेंग रही| ऐसे कैसे चलेगा|अगर इनके बस का नहीं तो गद्दी हमें सौंप दें हम जैसे तैसे हुकूमत को चला ही लेंगे

झल्ला

ओये भोले बादशाहों ये सारा झगड़ा ही गद्दी वाली कुर्सी का है इसीलिए कुर्सी के पाए जमीन के ऊपर नहीं बल्कि जमीन के अन्दर हैं| उनपर बैठने वालों के नीचे पेच कसके खुंटल कर दिए गए हैं||
इसीलिए इन्होने नन्ना पकड़ा हुआ हैं आप कुछ भी कहते रहो इन्होने कह देना है की नन्ना में तो मानू ना

देश में और सीमा पर माहौल बिगाड़ने की साजिश

सीमा पर पाकिस्तानी सेना और देश में उनके द्वारा भेजे जा रहे एस एम् एस के जरिये देश में और सीमा दोनों पर ही माहौल को बिगड़ने की कौशिशे जारी है|
पाकिस्तान की ओर से संघर्ष-विराम के बार-बार उल्लंघन किया जा रह है|। शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन पाकिस्तानी रेंजरों ने आरएसपुरा सेक्टर की अब्दुल्लियां पोस्ट पर साढ़े चार घंटे तक भारी गोलीबारी की और मोर्टार शेल दागे। पाकिस्तान ने सुरक्षा चौकियों के साथ इस बार गांवों को भी निशाना बनाया है। बीएसएफकी सलाह पर अब्दुल्लिया गावं वाले गावं खाली करके सुरक्षित स्थानों को जाने लगे हैं|
सीमा पार से स्वतंत्रता दिवस पर शुरू हुई गोलीबारी का सिलसिला बीती रात जुमा अलविदा [शुक्रवार] को भी जारी रहा।
गोलीबारी से बेगा, बेरा, सुचेतगढ़, गुलाबगढ़ गांव खासे प्रभावित हुए हैं। इस अकारण प्रोवोकेटिव गोलीबारी का सीमा सुरक्षाबल ने भी मुंहतोड़ जबाब दिया।
पिछले ग्यारह दिनों में पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम के उल्लंघन का यह नौंवा मामला है। 15 अगस्त को हीरानगर सेक्टर और पुंछ में गोलीबारी करने के बाद पाकिस्तान ने 16 अगस्त को भी अब्दुल्लियां पोस्ट पर फायरिंग की थी, जिसमें बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया था। बीएसएफ जम्मू फ्रंटियर के आइजी राजीव कृष्णा ने कहा कि पाकिस्तान की साजिशों का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। पाकिस्तान सीमा पर शांति को भंग कर रहा है।
विश्व के सबसे ऊंचे रणक्षेत्र सियाचिन में मोर्चा संभाले जवानों का हौंसला बढ़ाने थलसेना अध्यक्ष जनरल बिक्रम सिंह शुक्रवार को तीन दिवसीय दौरे पर लेह पहुंचे। लद्दाख के न्योमा व जम्मू के सांबा में जवानों व अधिकारियों में तनातनी को गंभीरता से ले रहे थलसेना अध्यक्ष इस दौरे से जवानों व अधिकारियों में दूरियां कम करने का अभियान भी शुरू करेंगे। जनरल ने चौदह कोर मुख्यालय में बैठक कर सुरक्षा हालात पर विचार-विमर्श किया|
इसके अलावा देश में भी उत्तेजित करने वाली अफवाहें फैलाई जा रही हैं|बताया जा रहा है की ये अफवाहें सीमा पार से आ रही हैं|जिसके फलस्वरूप यहाँ दंगे भड़क रहे हैं|असाम +मुम्बई+औएन+रांची+बेंगलूर+हेदराबाद+के बाद अब कानपुर+अलाहाबाद और प्रदेश की राजधानी में भी नमाजी भड़काए जा चुके हैं|

पूर्व गृह राज्य मंत्री कांडा का ड्रामाई सरेंडर

एयर होस्टेस गीतिका शर्मा खुदकुशी कांड में हरियाणा के पूर्व मंत्री गोपाल कांडा ने आखिरकार अशोक विहार में आत्म समर्पण कर दिया|पोलिस ने इसे गिरफ्तारी में दिखाने की फिराक में थी|
बीती रात भर गोपाल कांडा के भाई गोविन्द कांडा अपने समर्थकों के साथ पोलिस स्टेशन के बाहर बेरोकटोक हंगामा करते रहे |चार बजे के करीब गोपाल अपनी लग्जरी गाड़ी में आये और सरेंडर किया|
गीतिका के सुसाईड के बाद से गोपाल गिरफ्तारी से बचते फिर रहे थे इसी बीच अदालतों में अग्रिम जमानत की अर्जियां भी लगाई थी मगर सभी अदालतों ने इन अर्जियों को खारिज कर दिया
दिल्ली हाईकोर्ट से भी अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद उसके पास कोई रास्ता भी नहीं बचा था। हालांकि दिल्ली पुलिस की कोशिश कांडा के सरेंडर को गिरफ्तारी में बदलने की थी। पुलिस ने इस बाबत एक ट्वीट भी कर दिया था।
इस नए घटनाक्रम के बाद गोपाल कांडा के सरेंडर पर भी सवालिया निशान खड़ा हो गया। जो कांडा दस मिनट में थाने पहुंचने वाला था उसका आना टलता नजर आया। इस बीच दिल्ली पुलिस ने अचानक उन तमाम रास्तों पर चौकसी बढ़ा दी जिनसे गोपाल कांडा के आने की उम्मीद थी। हरियाणा दिल्ली बॉर्डर पर भी नाकाबंदी कर दी गई। अशोक विहार थाने की ओर आ रही हर गाड़ी को चेक किया जाने लगा। लेकिन

कांडा ने एक बार फिर पुलिस को चकमा दिया और थाने पर पहुंच गया।फिलहाल दो हफ़्तों से चल रहा गिरफ्तारी का यह हाई प्रोफाईल ड्रामे का आज अंत होता दिख रहा है|

हवाई चप्पल से हवाई जहाज के यात्री गोपाल कांडा से कोई राज उगलवा पाने में पोलिस सक्षम होगी इस सरेंडर गाथा को देख कर तो स्वाभाविक प्रश्न चिन्ह लग रहे हैं|

बहरहाल कांडा ने तो सरेंडर कर दिया लेकिन सवाल दिल्ली पुलिस की कार्यशैली पर उठने लगे हैं
सवाल ये कि क्या पुलिस कांडा के सरेंडर को ही गिरफ्तारी की तरह पेश करना चाहती थी। सवाल ये भी कि क्या पुलिस कांडा को जमानत याचिका पर फैसले से पहले लगातार बचने का मौका दे रही थी। जाहिर है इन सवालों का जवाब देना दिल्ली पुलिस के लिए आसान नहीं होगा।

दिल्ली पोलिस के साथ एम् डी एल आर एयर लाइंस की कार्यप्रणाली की जाँच अभी तक शुरू नहीं हुई है गौरतलब है की यह विमानन कंपनी इन्ही गोपाल कांडा की है जिसमे गीतिका शर्मा और एक सह अभियुक्त अरुणा चड्डा महत्वपूर्ण पदों पर थी

आखरी जुमे की सामूहिक नमाज़ वेस्टर्न यूपी में शान्ति से पड़ी गई ईस्टर्न शहरों में बवाल

मुक़द्दस रमजान महीने के आख़री जुमे[शुक्रवार]को सुरक्षा के कड़े इम्तेजामो में बड़ी संख्या में सामूहिक [अलविदा] नमाज पड़ी गई औरअमन चैन की दुआ माँगी गई | असाम+मुम्बई+पुणे+रांची में असंतोष के मध्य नज़र ट्रेफिक कंट्रोल करने के लिए मस्जिदों को जाने वाले मार्गों पर विशेष नाके बंदी की गई |
मेरठ में भी मस्जिदों के बाहर कड़ी सुरक्षा में बड़े सुकून से नमाज़ पड़ी गई| बेगम पुल का भी ट्रेफिक डायवर्ट करके नमाजियों को राहत दी गई \

ईस्टर्न यूं पी के तीन शहरों में अपवाद के रूप में अलविदा की नमाज के बाद भीड़ हिंसक हो उठी। राजधानी लखनऊ,के अलावा कानपुर और धर्म नगरी इलाहाबाद में भी बेकाबू भीड़ ने भारी नुक्सान पहुंचाया है|इस घटना ने प्रशासनिक व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह भी लगाया है|

इंदौर के रनवे पर सियार बड़ा हादसा टला

इंदौर के रनवे पर सियार के आजाने से जेट एयरवेज की लैंडिंग टाल दी गई इससे एक बड़ा हादसा टल गया | आज सुबह साडे सात बजेअहिल्याबाई रनवे पर अचानक एक सियार को स्पॉट किया गया| तत्काल मुम्बई से आ रहे जेट एयरवेज[९ डब्लू २३८१ को सूचित करके उसे हवा में ही रहने को कहा गया |औए एक बड़ा हादसा टल गया|

सोशल साईट्स को बैन किये जाने की संसद में उठी मांग

सोशल साईट्स के सर पर आज फिर संसद में ठीकरा फोड़ा गया है कुछ सांसदों ने तो फेस बुक +ट्विट्टर+यूं टियूब +एस एम् एस +एम् एम् एस आदि पर तत्काल प्रतिबंध लगाए जाने की मांग की है|
असाम में हो रहे दंगों के आग की आंच अब मुम्बई +पुणे +रांची से होते हुए कर्नाटका+चेन्नई +दिल्ली में भी महसूस की जा रही है|
असाम और महाराष्ट्रा में यूं पी ऐ की सरकार है तो कर्नाटका में बी जी पी जबकि तमिल नाडू में यूं पी ऐ की विपक्षी दल सत्ता में है|अर्थार्त दो दो का स्कोर है|
अब इन राज्यों से पूर्वोत्तर के लोगों को बाहर निकालने के लिए तरह तरह की अफवाहें फैलाई जा रही है इसके लिए बेशक कुछ सोशल साईट्स का भी प्रयोग किया जा रहा है|कहा जाता है की अफवाह के पावँ नहीं होते सो यह बहुत तेज़ी से फैलती है|गुजरात के दंगे हो या गणेश जी के दूध पीने की सरफेस टेंशन+ इंदिरा गाँधी की इमरजेंसी हो सब में अफवाहों ने अपनी अहम भूमिका निभाई है|तब इस प्रकार के सोशल साइट्स ज्यादा प्रेक्टिस में नहीं थे |
अब कर्नाटका और मुम्बई में असाम दंगों को लेकर भय +भ्रम की स्थिति पैदा की जा रही है| इन अफवाहों के कारण ही कर्नाटका+चेन्नई के साथ मुम्बई +पुणे और रांची से भी रेल गाड़ियां भर कर निकल रही हैं|
प्रधान मंत्री द्वारा इस पर चिंता जताए जाने और कर्नाटका सी एम् के प्रयासों के बावजूद पूर्वोत्तर के लोगों का विशवास नहीं जीता जा सका है उनका पलायन जारी है\
आज संसद ने भी इस विषय पर चिंता व्यक्त करके नार्थ ईस्ट के इन भयभीत लोगों को सुरक्षा का भरोसा दिलाया है|मगर टी वी चेनलों पर दिखाई जा रही रेल स्टेशनों पर पलायन के द्रश्य +आगजनी के क्लिपिंग्स से भय रेल गाड़ियों में भीड़ कम नहीं हो रही|
नेताओं ने अपनी विफलाता के लिए सोशल मीडिया को बैन किये जाने की मांग कर दी है|जरुरत के हिसाब से बल्क एस एम् एस पर कुछ समय के लिए रोक भी लगा दी गई है|
दुर्भाग्य से देश के नेताओं का सोशल नेटवर्क बेहद कमजोर साबित हुआ है| सोशल साईट्स के उपयोग दुरूपयोग के विषय में अनभिज्ञता है|इन पर बैन की मांग करने वाले साईट्स के विषय में कुछ जानते भी नहीं
एक टी वी चेनल पर वरिष्ठ टी वी पत्रकार दिवांग ने जब एक डिबेट में बैन की मांग करने वाले नेता से पूछा की ट्विटर क्या है तो नेता जी कुछ जवाब नहीं दे पाए | दरअसल एक अरसे से अपनी विफलताओं को छुपाने के लिए सोशल साइट्स का गला घोंटने की कवायद जारी है |अन्ना हजारे का आन्दोलन हो बाबा राम देव का अनशन हो या फिर अब ये असाम कर्नाटका की समस्या हो केवल सोशल साइट्स को बैन करने की ही मांग उठती रहती है|
सोशल साइट्स के उपयोग के साथ इसका दुरूपयोग भी हो रहा है यह सत्य है मगर दुरूपयोग रोकने के लिए केवल बैन की मांग मांग उचित नहीं लगती |इसके ठीक उलट दुरूपयोग को रोकने के लिए डिवाईस तलाशने की बेहद जरूरत है|इंग्लेंड में भी इस समस्या से जूझने के लिए वहां की पोलिस को ट्रेन किया जा रहा है क्या अच्छा हो भारत में भी सोशल साइट्स को बंद करके अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता का गला घोटने के बजाये सोशल साइट्स के दुरूपयोग के रूट में जाकर इसकी रोक थाम के उपाय किये जाने जरुरी हैं|अगर जरुरत समझी जाये तो टेक्नोक्रेट्स को इसी काम के लिए रोज़गार दिया जा सकता है|

१.८६ लाख करोड़ के कोल घोटाले की कैग रिपोर्ट को सरकार ने अस्वीकार किया

कैग ने अपनी रिपोर्ट में १.८६ लाख करोड़ रुपयों के घोटाले को उजागर किया है जबकि कोल मंत्री श्री प्रक्स्श जायसवाल ने रिपोर्ट को ही स्वीकार करेने से इनकार कर दिया है|पार्लियामेंट में चर्चा के लिए राखी रिपोर्ट पर संसद के बाहर मंत्री ने मीडिया में सफाई दी
भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) ने कहा है कि कोयला खानों को प्रतिस्पर्धी बोलियों की बजाय आवेदन के आधार पर आवंटित करने से चुनिंदा निजी फर्मों को संभावित 1.86 लाख करोड़ रुपये का फायदा हुआ।
सीएजी की राय में यदि प्रतिस्पर्धात्मक बोली के जरिए आवंटन किए गए होते, तो निजी फर्मो के इस संभावित लाभ का एक हिस्सा सरकारी खजाने को भी मिल सकता था।
प्रतिस्पर्धी बोलियां नहीं मंगाकर निजी क्षेत्र की कंपनियों को सीधे नामांकन के आधार पर कोयला ब्लॉक आवंटित किये जाने से उन्हें फायदा हुआ।
कोयला ब्लॉक आवंटन पर कैग की आज संसद में पेश रिपोर्ट में निजी क्षेत्र की 25 कंपनियों के नाम गिनाये गये हैं जिन्हें सीधे नामांकन के आधार पर कोयला ब्लॉक आवंटित किये गये। इनमें एस्सार पावर, हिन्डाल्को इंडस्ट्रीज, टाटा स्टील, टाटा पावर और जिंदल स्टील एण्ड पावर का नाम शामिल है।
कैग रिपोर्ट में कहा गया है प्रतिस्पर्धी बोलियों के आधार पर आवंटन की प्रक्रिया में देरी की वजह से कोयला ब्लॉक आवंटन की मौजूदा प्रक्रिया निजी क्षेत्र की कंपनियों के लिये फायदेमंद साबित हुई।कैग का अनुमान है कि निजी क्षेत्र की इन कंपनियों को जिस तरह कोयला ब्लॉक आवंटित किये गये उससे उन्हें 1.86 लाख करोड़ रुपये का वित्तीय लाभ हो सकता है।
कैग ने कहा है कि उसने यह अनुमान कोल इंडिया की वर्ष 2010-11 के दौरान कोयला उत्पादन की औसत लागत और खुली खदान से कोयला बिक्री के औसत मूल्य के आधार पर लगाया है।
कोग की रिपोर्ट पर विपक्ष बे जे पी ने नैतिकता के आधार पर प्रधान मंत्री का इस्तीफा मांग लिया है|

एयर इंडिया के राजा को प्रफुल्ल पटेल ने भिखारी बनाया

एयर इंडिया के राजा को भिकारी बनाने में एन सी पी कोटे से बने नागरिक उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल पटेल का बहुत बड़ा हाथ है|यह आरोप एयर इंडिया के पुर्व सी एम् डी सुनील अरोड़ा ने लगाए हैं|श्री अरोड़ा के अनुसार श्री पटेल ने निजी एयर लाईन्स को फायदा पहुंचाने की नियत से गलत फैसले कराये लन्दन आदि के |लाभ वाले रूट बदलवाए गए और घटे में जा रहे कंपनी के लिए जरूरत से ज्यादा विमान खरीदने को मजबूर किया गया। पूर्व सीएमडी ने सीवीसी को चिट्ठी लिखकर इस बात की जानकारी दी है। पूर्व सीएमडी ने शिकायत करते हुए मामले की जांच सीवीसी से करने की मांग की है।
७ वर्ष पूर्व भी अरोड़ा ने व्हिसल ब्लोअर के रूप में तत्कालीन कैबिनेट सचिव बी के चतुर्वेदी को यह चिट्ठी लिखी थी
प्रफुल्ल के कार्यकाल में जरूरत से ज्यादा ही जेट खरीदे गए। और साथ ही कुछ जेट मेकिंग कंपनीज को फायदा पहुंचाया गया। यह सब बोर्ड मीटिंग के बहाने किया गया। एआई की बोर्ड मीटिंग से पहले ही फैसला कर लिया जाता था और फोन पर मौखिक रूप से प्रबंधन को आदेश दे दिया जाता था। कई एयर क्राफ्ट्स अभी तक डिलीवर नहें कियी जा सके हैं और न ही उनके लिए मुआवजे को ही मांगा जा सका है|
2005 की इस चिट्ठी को लेकर दो संसद सदस्यों ने सीवीसी से जांच की मांग की है। साफ तौर पर पूर्व सीएमडी ने तत्कालीन नागरिक उड्डयन मंत्री पर बेहद गंभीर आरोप लगाया है। भ्रष्टाचार, महंगाई जैसे मुद्दों पर पहले से निशाने पर रही यूपीए सरकार को यह चोट भी गहरा जख्म देगी इससे इनकार नहीं किया जा सकता।
सी पी आई के सांसद के अलावा बी जे पी के प्रवक्ता मुख़्तार अब्बास नकवी ने भी इस मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है|
अब तो सी ऐ जी की रिपोर्ट भी संसद के पटल पर आ गई है और उसमे अरबों रुपयों के घोटाले से पर्दा हटाया गया है| विपक्षी पार्टी ने तो प्रधान मंत्री से नैतिकता के आधार पर इस्तीफे की भी मांग कर दी है
एन सी पी के पर कतरने की तैय्यारी की जा रही है|

सात साल तक चुप बैठे रहे सुनील अरोरा ने अब प्रोमोशन लेने के बाद अब केन्द्रीय सतर्कता आयोग [सी वी सी ]को पत्र लिखा गया है |
पहले यूं पी ऐ की सरकार काफी हद तक एन सी पी पर निर्भर थी इसीलिए सात साल पहले एन सी पी कोटे से बने नागरिक उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल पटेल के विरुद्ध कोई कार्यवाही की सोच भी नहीं सका अब चूंकि सपा +बसपा के साथ टी एम् सी भी कांग्रेस की झोली में है |क्योंकि आज लोक तांत्रिक संगठन सी ऐ जी की रिपोर्ट में भी बड़े भ्रष्टाचार को उजागर किया गया है सो अब २०१४ के चुनावों में फेस सेविंग के मद्दे नज़र एन सी पी का झटका झेला जा सकता है|

बाज़ार ने कल की सुस्ती शुरूआती दौर में उतारी

देश के शेयर बाज़ार ने कल की सुस्ती उतर फैंक कर आज शुरुआती तेज़ी पकड़ी |
शुरूआती बाज़ार में आज शुक्रवार की सुबह सेंसेक्स ने ९३.७७ पाईन्ट्स लेकर १७७५०.९८
पर दिखाई दिया जबकि निफ्टी भी २४.६५ पाईन्ट्स के साथ ५३८७.६० पर कारोबार करता
दिखाई दिया|
शुरुआती दौर में ही बी एस ई का ३० शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स ४३.९९ की तेज़ी के साथ
१७७०१.२० और एन एस ई के ५० शेयरों वाला सूचकांक निफ्टी भी ५.६५ अंको की बडत के साथ ५३६८.६०
पर खुला|

संसद ने आज पूर्वोत्तर राज्यों को सुरक्षा का भरोसा दिया

संसद ने आज पूर्वोत्तर राज्यों के नागरिकों को सुरक्षा का भरोसा दिलाया|
प्रधान मंत्री डाक्टर मन मोहन सिंह ने अपने संसदीय छेत्र में बढ रही हिंसा और
अन्य राज्यों से पूर्वोत्तर के लोगों का पलायन रोकने के लिए हर उपाय करने का
आश्वासन दिया |राजसभा में विपक्ष के नेता अरुण जैतली ने भी संकट की इस घड़ी में
सरकार को पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया| इस संकट से निबटने के लिए समूची संसद
एक जुट दिखाई दी|
गौर तलब है की पूर्वोत्तर हिंसा के परिपेक्ष्य में मुंबई के बाद अब कर्नाटका+चेन्नईमें भी अफवाहों का
बाज़ार गर्म करके पूर्वोत्तर के छात्रों और मजदूर तबके को डरा कर पूर्वोत्तर लौटने को मजबूर किया जा रहा है|
प्रधान मंत्री डाक्टर मन मोहन सिंह की चिंता+ गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के निर्देश और चीफ मिनिस्टरजगदीश शेत्तार
के प्रयासों के बावजूद कर्नाटका से छात्रों का पलायन जारी है|रेलवे स्टेशनों पर पूर्वोत्तर राज्यों के लोगों की लगातार बड़ती जा रही
भीड़ यह बताने के लिए पर्याप्त है की उनका भरोसा जीतने के लिए किये जा रहे प्रयास अभी तक अपर्याप्त ही हैं|
बेंगलूर में यह अफवाह फैलाई जा रही है कि वहां पूर्वोत्तर राज्यों के लोगों[विशेषकर छात्रों] पर हमले किये जा रहे हैं| इससे त्रस्त लोगों का
रुख रेलवे स्टेशनों की तरफ ही है|इस अफवाह कि जाँच के आदेश दे दिए गए हैं|
बी जे पी की नेत्री सुषमा स्वराज ने तो दिल्ली विश्व विद्यालय में पूर्वोत्तर राज्यों के छात्रों की सुरक्षा के लिए अपने छात्र संगठन ऐ बी वी पी को आदेश दे दिए है\

संसद में सपा नेता प्रोफ़ेसर राम गोपाल यादव ने इस प्रकार की हिंसा केफैलाने में फेस बुक+ट्विट्टर आदि सोशल साईट को दोषी बताया और इन पर तत्काल पाबंदी की मांग
की जबकि भाजपा नेत्री सुषमा स्वराज ने खाली ज़ुबानी आश्वासन को अपर्याप्त बताया