Ad

सैंट थामस में अनुशासन समिति

सैंट थामस इंग्लिश मीडियम स्कूल में आज अनुशासन समिति को एक समारोह में शपथ दिलाई गई
जिसका उद्घाटन मुख्य अथिति अल्पना बैजल ने किया | प्रधानाचार्य एस मोहन और उप प्रधाना चार्य ऐ दीन ने अथितियों का स्वागत किया \हैड बॉय चेतन्य रस्तोगी और हेड गर्ल श्रुति सिंघल को शपथ दिलाई गई |उसके बाद इन्होने समिति के सदस्यों को शपथ दिलाई|

सोनिया की अनुपस्थिति में प्रियंका रायबरेली के लोगों से मिलेंगी

प्रियंका गांधी वढेरा अब श्रीमति सोनिया गांधी के चुनावी छेत्र राय बरेली के लोगों की समस्याएं सुनेगीं और उनका समाधान कराएंगी | वैसे तो प्रियंका हमेशा अपने माँ श्रीमति सोनोया और अपने भाई राहुल गांधी के चुनावी छेत्रों में जाती रहती हैं मगर अब आफिशियली घोषणा की गई है

केशुभाई पटेल और कांशीराम राणा ने भाजपा छोड़ी अब नई पार्टी बनायेंगे

गुजरात में भाजपा के स्ताल्वर्ट्स केशुभाई पटेल और कांशी राम राणा ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया है और निकट भविष्य में नई पार्टी बनाने का एलान भी कर दिया है|
गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की लगातार मुखालफत करने वाले केशु भाई पटेल और कांशी राम राणा को काफी समय से सत्ता के हाशिये पर बैठाया गया है इनका आरोप है की इनसे कोई सलाह मशविरा तक नहीं किया जाता |पार्टी व्यक्तिवादी हो गई है|इससे नाराज़ होकर इन दोनों नेताओं ने पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी को अपना इस्तीफ़ा भेज दिया है |इस्तीफा देने के बाद अब समजौते की गुंजाइश बेहद काम दिखाई दे रही है| आने वाले एक दो दिन में नई पार्टी का एलान भी किया जाएगा |इससे जाहिर है मोदी की मुश्किलें बढेंगी

बादल आखिर फटते क्यूं हैं

बादलों के फटने से उत्तरकाशी और कुल्लू मनाली में तबाही मची है राहत कार्य जारी हैं लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है |कई लोगों ने बादलों के फटने के विषय में जानना चाहा है कि ये बादल आखिर फटते क्यूं हैं| विशेषज्ञों के अनुसार संघनित बादलों का नमी बढ़ने पर बूदों की शक्ल में बरसना बारिश कहलाता है। पर अगर किसी क्षेत्र विशेष में स्थित बादल में इक्कठा हुई बूंदों का भार बढ जाता है तब भारी बारिश की संभावनाओं वाला बादल एकाएक बरस जाता है, तो उसे बादल का फटना कहते हैं। इसमें थोड़े समय में ही असामान्य बारिश होती है।
भारत में बादल फटने की घटनाएं तब होती हैं, जब बंगाल की खाड़ी या अरब सागर से मानसूनी बादल हिमालय की ऊंचाइयों तक पहुंचते हैं और तेज तूफान से बने दबाव के कारण एक स्थान पर ही पानी गिरा देते हैं।बरसने से पहले बादल पानी से भरी एक ठोस वस्तु का आकार लिए होता है, जो आंधी की चपेट में आकर फट जाता है। किसी एक स्थान पर एकाएक तेज दबाव में पानी गिरता है। मानो नदी का मुहाना खुल गया है। ये बहाव इतना तेज होता है कि इसके साथ रास्ते के पत्थर और मलबा भी बह जाता है और रास्ते में आने वाली हर चीज बह जाती है। जमीन तक कट जाती है|
बादल फटने की घटनाएं अक्सर पहाड़ी क्षेत्रों में ही होती है।नवंबर, 1970 में हिमाचल के बरोत में (भारत में रिकॉर्ड 38 मिमी तक) दर्ज कि गई थी
पर इसके अपवाद के रूप में जुलाई, 2005 में मुंबई में बादल फटने के कारण आठ-दस घंटे में करीब 950 मिमी तक बारिश हुई थी।
विदेशों में भी बादल फटने कि घटनाएँ इतिहास में दर्ज़ हैं |अगस्त, 1906 में अमेरिका के गिनी वर्जीनिया में बादल फटने से 40 मिनट में 9.2 इंच बारिश हुई थी।इसी तरह नवंबर, 1911 में पनामा के पोर्ट बेल्स में (पांच मिनट में 2.43 इंच), जुलाई, 1947 के रोमानिया के कर्टी-डी-आर्जेस में (20 मिनट में 8.1 इंच), और कराची में पिछले साल जुलाई में तीन घंटे के अंदर 250 मिमी बारिश हुई थी।
बादल फटने से बचाव के उपाय
बादल को फटने से रोकने के कोई ठोस उपाय नहीं हैं मगर , वन क्षेत्र की मौजूदगी और प्रकृति से सामंजस्य बनाकर चलने पर इससे होने वाला नुकसान कम हो सकता है।
जम्मू एवं कश्मीर में बेटे दिनों बादल फटने से कम से कम तीन लोगों की मौत हो गई और कई लापता हो गए। इस हादसे में राजमार्ग का एक बड़ा हिस्सा भी बह गया, जिससे वहां पहुंचना काफी कठिन हो गया है। यह हादसा जम्मू से करीब 140 किलोमीटर उत्तर-पूर्व में बगार इलाके में बातोते-किश्तवाड़ राजमार्ग पर हुआ। बादल फटने से सड़क का एक बड़ा हिस्सा और कई वाहन बह गए। अधिकारी अभी तक जानमाल के नुकसान का आकलन नहीं कर पाए हैं।
पुलिस उपायुक्त (डोडा) फारुक खान ने कहा, ने कहा कि बचाव अभियान चलाने के लिए सेना से सहायता मांगी गई है। पुलिस के मुताबिक घटना के बाद से ही तीन लोग लापता हैं जबकि स्थानीय लोगों का कहना है कि कई लागों से सम्पर्क नहीं हो पा रहा है। बादल फटने के बाद सड़क का एक बड़ा हिस्सा बह जाने से वहां पहुंचना भी कठिन हो गया है क्योंकि उस इलाके में जाने के लिए कोई दूसरी सड़क भी नहीं है।

0
0 0 0

स्वीट एंजिल्स में आकर्षक झांकियां

बागपत गेट स्थित स्वीट एंजिल्स स्कूल में नन्हे मुन्नों ने जन्माष्टमी के उपलक्ष में अनेकों आकर्षक झांकिया प्रस्तुत की और भजनों पर न्रत्य भी किये |प्रधानाचार्य मोनिका गौर और टी एन स्वामी के अलावा प्रीटी,रेनू,विजय और गार्गी आदि ने कार्यक्रम में सहयोग दिया और नन्हे कलाकारों का उत्साह बढाया

सत्तर हज़ार पाकिस्तानी कर्मियों को वेतन नहीं मिला

भारत और पकिस्तान के लेखा परीक्षकों का भविष्य लगता है की समान ही है भारत में समान वेतन के लिए लड़ाई जारी है तो पडोसी मुल्क में वेतन के लिए ही मारामारी है |भारत में अभी हाल ही में पी एम् ओ एक ज्ञापन दिया गया था जिसमे वेतन विसंगतियों को दूर किये जाने की मांग की गई थी अब पाकिस्तान में लेखा परीक्षकों की हड़ताल के कारण करीब 70,000 सरकारी कर्मचारियों को सैलरी नहीं मिला। समाचार पत्र डॉन के अनुसार, ऑडिटर जनरल ऑफ पाकिस्तन रेवेन्यू (एजीपीआर) कर्मचारियों के हड़ताल पर चले जाने के कारण ऐसा हुआ है|
इस महीने एजीपीआर ने सैलरी की शीट नहीं बनाई है।
कि रमजान का महीना शुरू हो गया है, जिसके कारण लोगों को अतिरिक्त खाद्य पदार्थ और फल खरीदना पड़ रहा है। इससे लोगों पर अतिरिक्त वित्तीय बोझ बढ़ रहा है, लेकिन इस महीने का सैलरी नहीं मिलने के कारण हम अधिक समस्याओं का सामना कर रहे हैं

भारतीय बाक्सर के साथ लन्दन ओलम्पिक में धोखा

भारतीय बाक्सर के साथ लंदन ओलिंपिक, 2012 में धोखा किये जाने का आरोप लगाया गया है 69 किलोग्राम वर्ग में भारत के बॉक्सर विकास कृष्ण की अमेरिकी मुक्केबाज एरोल स्पेंस पर जीत के फैसले को बदलते हुए बाद में उन्हें हारा हुआ बता दिया।अपना पूर्व के निर्णय को बदलते हुए भी विकास को अंको के आधार पर पराजित घोषित कर दिया गया है|
शुक्रवार देर रात खेले गए इस मैच में पहले विकास को 13-11 से जीता हुआ बताया गया था। लेकिन मैच खत्म होने के कुछ घंटों बाद मैच का नतीजा पलटते हुए विकास को 15-13 से हारा हुआ बता दिया गया।
भारतीय ओलिंपिक संघ ने इस मुद्दे पर औपचारिक शिकायत दर्ज कराने का फैसला किया है। भारतीय दल को लगता है कि विकास कृष्ण के साथ नाइंसाफी हुई है। भारतीय ओलिंपिक संघ के सदस्य तरलोचन सिंह ने कहा है कि टीवी पर साफ लग रहा था कि विकास कृष्ण अमेरिकी मुक्केबाज पर भारी पड़ रहा था।

चार राज्यों में बारिश का कहर

उत्तरकाशी और मनाली में बादल फटने से और जमीन धंसने से जे &के में जीवन अस्तव्यस्त हो गया है| जबकि पंजाब के ब्यास का जलस्तर बढ गया है ६ लोगों की मौत हो गई है, और ५५ लोग लापता बताये जा रहे हैं| बारिश से चार राज्यों में जीवन अस्तव्यस्त हो गया है|
शुक्रवार रात बादल फटने से उत्तरकाशी जिले के असी गंगा घाटी में दयारा बुग्याल के पास पापड़गाड, स्वारी गाड, नहरी गाड, गवाना गाड और असी गंगा क्षेत्र में जल प्रलय जैसे हालत पैदा हो गए हैं।
बारिश और बाढ़ की आशंका के चलते 304 मेगावाट की मनेरी भाली जलविद्युत परियोजना-2 परियोजना के कर्मचारियों में भी अफरा-तफरी है।
70 किलोमीटर के दायरे में तबाही की बात कही जा रही है। बादल फटने के आधी रात के बाद तक इलाके में भारी बारिश हो रही थी। हालांकि देर रात तक यह अनुमान लगाना मुश्किल था कि इस आपदा से कितना नुकसान हुआ है। उत्तराकाशी में बिजली और संचार व्यवस्था ठप्प हो गई है|
मौसम विभाग ने शनिवार को खासकर कुमाऊं में भारी बारिश की चेतावनी दी है। देहरादून में भी कई दौर की बारिश का अनुमान लगाया गया है। पिछले तीन दिनों में जोरदार बारिश से गढ़वाल के चमोली और कुछ अन्य इलाकों में जनजीवन पर असर के साथ चार धाम यात्रा भी प्रभावित हुई है|
मनाली में भी बादल फटा
मनाली के पलचान इलाके में भी बादल फटने से लेह रोहतांग मार्ग बंद हो गया है । इस हादसे में एक व्यक्ति की मौत हो गई है। मिट्टी खिसकने से मनाली रोहतांग लेह हाइवे पर यातायात बंद हो गया है। प्रशासन ने खतरे को देखते हुए पलचान, बांहग, आलू ग्राउंड, सोलंगनाला और पतलीकूहल में हाई अलर्ट जारी करते हुए इन इलाकों को खाली करवा दिया है। वहीं, सोलंग गांव का पुल भी बाढ़ में टूट गया है।| ब्यास [पंजाब] और यमनौत्री+ भागीरथी नदी का जल स्तर बढ गया है और किनारे के गावों को वहां से शिफ्ट कराया जा रहा है|
राम नगर जम्मू एंड काश्मीर में जमीन धंस गई है जिससे वहां के हाई वेज पर ट्रेफिक प्रभावित हुआ है|

मायावती ने फिर खेला ओ बी सी कार्ड मौर्या को बनाया राष्ट्रीय जनरल सेक्रेटरी

सोशल इंजिनीयरिंग के कौशल से एक बार यूं पी की सत्ता में आई बसपा की दलित सुप्रीमो मायावती ने अब फिर से अन्य पिछड़ा वर्ग[औ.बी.सी]कार्ड खेल दिया है| अब स्वामी प्रसाद मौर्या को यूं पी एसेम्बली में बी एस पी नेता + राष्ट्रीय मुख्य सचिव बना दिया है|सत्ता से हटने के बावजूद श्री मौर्य की पार्टी के लिए की जारही लड़ाई के मध्य नज़र यह प्रोमोशन भी है\ बाबू राम कुशवाहा के बाद अब मौर्या कुशवाहा+सैनी+शाक्या+ [औ बी सी] की भी कमान संभालेंगे |

मुफ्त का केला ? ना भाई ना

मुफ्त में एक केला खाना एक शक्श की इतना भारी पडा की उसे आठ साल तक अदालतों के चक्कर काटने के बाद पांच महीने की सजा भी भुगतनी होगी|
२००४ में दिल्ली के एक रिक्शा चालक मोहम्मद अख्तर ने सड़क किनारे खड़े ठेले से उठा का एक केला खा लिया पैस देने के नाम पर ठेले के मालिक और उसके साथी मुनीर खान से उलझ गया उसकी पिटाई करके घायल भी कर दिया |इस बाबत उस पर आठ साल मुकद्दमा चला और ट्रायल के दौरान अख्तर ने सजा भी भुगत ली है|
इस एक मुकद्दमे से हमारी न्यायव्यवस्था पर भी कहीं ना कहीं प्रश्न चिन्ह भी लगता है एक केले के लिए मारपीट का मुकद्दमा आठ साल तक चलता है??