Ad

जसवंत सिंह दोबारा लड़ेंगे मोहम्मद हामिद अंसारी के खिलाफ =उपराष्ट्रपति चुनाव

उपराष्ट्रपति पद के लिए एन डी ऐ ने जसवंत सिंह के नाम का एलान कर दिया है|अब ७ अगस्त को होने वाले चुनाव में यूं पी ऐ के मोहम्मद हामिद अंसारी
और जसवंत सिंह में चुनावी मुकाबला होगा | आज एन डी ऐ की मीटिंग के बाद जसवंत सिंह के नाम का एलान कर दिया गया इससे
शरद यादव +नजमा हेपतुल्लाह आदि के नामों पर लगाये जा रहे कयासों पर रोक लग गई है|
जसवंत सिंह सिलिगुरी से भाजपा के संसद है और अटल बिहारी वाजपई की सरकार में
रक्षा मंत्री भी रह चुके हैं सेना से भी जुड़े रहे हैं|२००७ में भी जसवंत सिंह अंसारी के विरुद्ध चुनाव लड़ चुके हैं|
पिछले दिनों पार्टी में अपनी उपेक्षा से व्यथित हो कर जसवंत बगावत का झंडा भी उठा चुके हैं|एक किताब के माध्यम से विवादों में भी आ चुके हैं|
वोटों का गणित देखते हुए हामिद अंसारी की जीत निश्चित लग रही है |चूँकि भाजपा हामिस अंसारी को वाक् ओवर देने के मूड में नहीं है इसीलिए एन डी ऐ ने विपक्ष का धर्म निभाने के लिए हारी हुई लड़ाई लड़ कर विरोध दर्ज करने का निर्णय पहले ही घोषित किया हुआ है|
वोटों का गणित विपक्ष के पक्ष में अभी तक इस प्रकार है ;
कुल वोट ५४५+२४५=७९०
यूं पी ऐ=सहयोगी ४२३
एन डी ऐ +सहयोगी १८५
बीजे डी +अन्ना द्रुमुक ८७
कुल वोट २९२ २९२
टी एम् सी +लेफ्ट+जे डी यूं ९५
इस गणित के हिसाब से यूं पे ऐ की जीत निश्चित है

खुदरा व्यापार में अमेरिकी निवेश की फिराक में बराक

खुदरा व्यापार में निवेश की फिराक में अमेरिकी बराक
[जमोस सबलोक ]अमेरिका में चुनावों का महीना नवम्बर आने को ही है इसीलिए वहां की सल्तनत अभी से जुगाड़ भिडाने की जुगत में लग गई है|राष्ट्रपति बराक ओबामा जहां भारत के रिटेल मार्केट में अपने बेरोजगारों को खपाना चाह रहे है वहीं विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन सीरिया जैसे मुल्कों में वास्तविक डेमोक्रेसी के पाठ पढाने लग गई है|
बराक ओबामा ने हमेशा की तरह भारतीय प्रधान मंत्री डाक्टर मन मोहन सिंह को अपना अच्छा मित्र बता कर अपने मित्र को आर्थिक सुधारों के लिए नया दौर शुरू करने की सलाह दे दी है|विश्व में आई आर्थिक मंदी से अमेरिका भी बचा नहीं है इसीलिए उसे अब भारत में ही सुरक्षित व्यापार की उम्मीद है|भारत में विदेशी निवेश विशेष कर खुदरा व्यापार में विदेशी निवेश के लिए फूंक फूंक कर कदम रखे जा रहे हैं|विपक्ष के साथ यूं पी ऐ में भी विदेशी निवेश के लिए एक राय नहीं बन पाई है जबकि अमेरिका को इसकी वर्तमान में बहुत ज्यादा जरुरत है| कभी टाईम मैगजीन और कभी भारत पाक के रिश्तों को लेकर दबाब बनाया जा रहा है|अब स्वयम बराक ओबामा ने प्रत्यक्ष रूप से कमान संभाल ली है |
भारत में आई आर्थिक सुधारों में कमी से ओबामा भी चिंतित हैं|विदेशी निवेश पर रोक से निराश भी हैं|ओबामा सीधे मोर्चा खोलने के बजाये तारीफों के पुल बांधने से भी गुरेज़ नहीं कर रहे लेकिन इसके साथ ही अपने देश के व्यापारिओं की इच्छा के माध्यम से विदेशी निवेश के प्रति भारत की उदासीनता पर निराशा प्रकट करने से भी नहीं चूक रहे उनका कहना है की भारत में आर्थिक सुधारों में कमी जरूर आई है मगर यह वैश्विक मंदी का ही असर है|इस पर भी भारत की आर्थिक व्यवस्था प्रभावी तरीके से काम कर रही है|और विकास की गति बनाये रखने के लिए ऐसा किया जाना बहुत जरुरी है|
अब विदेश से कोई आलोचना या तारीफ आ जाए तो भारत में हंगामा होना स्वाभाविक ही है |विपक्ष ने इसे भारत की आंतरिक नीतियों में विदेशी दखल बताने में देरी नहीं लगाई|भाजपा ने मल्टी ब्रेंड निवेश पर अपना विरोध प्रकट किया तो वाम पंथियों ने इसे आर्थिक ओप्निवेश्वाद बताया |
मुझे याद आता है की स्वर्गीय राजीव गांधी ने एक बार अमेरिका की संसद को संबोधित किया था उसमे उन्होंने ऐसी ही एक समस्या का सामना बेहद सादगी और बिना किसी आडम्बर के किया और तालियाँ भी बटौरी थी राजीव गाँधी ने कहा था की हमारा देश में सुधारों के लिए एक दम स्विच ओवर करने के बजाये स्टेप बाई स्टेप चलना ही उचित और सही कदम होगा

अमृत वाणी

जिस में राम नाम शुभ जागे, उस के पाप ताप सब भागें
मन से राम नाम जो उच्चारे, उस के भागें भ्रम भय सारे
व्याख्या: जिस प्राणी में राम नाम की ज्योति जग जाती है उसके सब कष्ट दूर हो जाते हैं तथा मन से राम नाम जपने से उसके सभी भ्रम एवं डर समाप्त हो जाते हैं.
स्वामी सत्यानन्द जी महाराज द्वारा रचित अमृतवाणी का एक अंश
प्रेषक: श्री राम शरणम् आश्रम, गुरुकुल डोरली, मेरठ

ओये झल्लेया दारू वारू शारू का कुछ शौक वौक है ???

झल्ले दी गल्ला
एक मेज़वान
ओये झल्लेया दारू वारू शारू का कुछ शौक वौक है ???
झल्ला
ओ जी अगर ये जाँच है तो बिलकुल नहीं
और अगर नयौता है ते कड वि लो जी
http://jamosnews.com/?

जगदीश शेत्तर =जब तक साबित ना हो जाये कोई कसूरवार नहीं

कर्नाटक के नए मुख्य मंत्री जगदीश शेट्टार ने आज कहा की जब तक अदालत किसी को कसूरवार नहें मानती तब तक उसे कसूरवार कहना या मानना उचित नहीं होगा| मुख्यमंत्री राज्यपाल एच आर भरद्वाज के उस बयाँ का जवाब दे रहे थे जिसमे भारद्वाज ने नए मंत्री मंडल में अनेक मंत्रिओं को दागी बताया था
उन्होंने कहा की जब तक साबित ना हो जाये तब तक कोई भी दोषी नहीं हो सकता
इससे पूर्व एच आर भरद्वाज ने १३ जुलाई को यह सलाह दी थे की जिन विधायकों के विरुद्ध मुकद्दमा चल रहा है उन्हें मंत्री नहीं बनाया जाए मगर उस सलाह को नहीं माना गया है|जगदीश शेत्तार ने मंत्रिमंडल में अल्पसंख्यक और पिछड़ों को प्राथमिकता देने के संकल्प को दोहराया|
“..
.

मरने से पहले ताज नहीं देखा तो क्या देखा

सी एन एन ग्लोबल ने मरने से पहले विश्व के २७ स्थानों को देखने का सपना दिखाया है\इसमें भारत के ताजमहल को भी शामिल किया गया है|भारत का स्थान १५ वे पायदान पर है|इंडोनेशिया के जावा स्थित बौद्ध धार्मिक बोरोबुदूर को पहले स्थान पर रखा गया है| | २७ प्लेस सी बिफोर यूं डाई नामक लिस्ट में इंग्लेंड का स्टारलिंग मुर्मुरेशन दोसरे स्थान पर है|
मुग़ल शहंशाह शाहजहाँ ने अपनी बेगम मुमताज के प्रेम में ताजमहल बनवाया था यह पूरा सफ़ेद संगमरमर के पत्थर से बना है भारत में आने वाले विदेशियों में सबसे ज्यादा पर्यटक इसी ताज को देखने आते हैं\

किरायों पर नज़र रखना या कंट्रोल करना रेगुलेटरी का काम नहीं

सिविल एविअशन के नए महा निदेशक प्रशांत सुकुल ने फ्लाईट्स के किरायों में बढोत्तरी से अपना पल्ला झाड लिया
श्री सुकुल ने भारत भूषण से चार्ज लिया है अपने पहले ही बयाँ से विवादों में घिरते नज़र आ रहे हैं|
विमानन कंपनियों ने अपने किरायों में ३०-४०% तक बढोत्तरी कर ली है इससे सिविल एविअशन से दखल की आशा की जा रही है मगर
नए महा निदेशक ने इससे यह कहते हुए अपना पल्ला झाड लिया कि किरायों पर नज़र रखना या इन्हें कंट्रोल करना रेगुलेटरी [उनका] काम
नहीं है

भाजपा करेगी मल्टी ब्रेंड विदेशी निवेश की मुखालफत

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ऍफ़ डी आई पर भारत को सलाह क्या दी की भारतीय विपक्ष को सरकार घेरने का सुअवसर मिल गया |भाजपा और वाम पंथी जहाँ इसे भारतीय आंतरिक निति में विदेशी हस्तक्षेप बता रहे है वहीं उद्धमी आनंद महेन्द्रा ने बराक को अपना ग्राहक बता कर उसकी नाराजगी दूर करने को जरुरी बताया है|
भाजपा ने मल्टी ब्रेंड विदेशी निवेश की मुखालफत की है और बराक ओबामा को विदेशी व्यापारी बता कर देश हित में निति बनाने की बात कही है

१०१ बर्खास्त पायलटों की वापिसी पर अभी तक कोई निर्णय नहीं

न्यायालय के आदेश से एयर इंडिया के पायलटों की ५८ दिन पुराने रिकार्ड मेकिंग स्ट्राईक तो कब की खत्म हो गई मगर अभी तक १०१ बर्खास्त पायलटों के विषय में कोई निर्णय नहीं लिया जा सका है जिसके फलस्वरूप अन्तराष्ट्रीय फ्लाइट्स पर असर पड़ना स्वाभाविक है|
वर्तमान में यह राष्ट्रीय केरियर ४५ में से केवल ३८ फ्लाईट्स ही ओपरेट कर पा रही है अब अक्टूबर से शरद ऋतू में अच्छा सीजन शुरू होगा ऐसे में पायलटों की कमी से व्यापार पर प्रभाव पड़ना लाजमी है|सिविल एविअशन नियमों के अनुसार शरद ऋतू में कमसे कम एक माह पूर्व पायलट को फ्लाईट्स के विषय में जागरूक किया जाना जरुरी है इसीलिए बर्खास्त पायलटों के विषय में जल्द निर्णय लिया जाना जरुरी हो गया है\घाटे में चल रही और बैल आउट पैकेज पर निर्भर इस एयर इंडिया के मेनेजमेंट से कार्यवाही में तेज़ी की उम्मीद तो की ही जानी चाहिए |

प्रणव ने जे &के और संगमा ने उड़ीसा में चुनाव अभियान चलाया

यूं पी ऐ के राष्ट्रपति के लिए उम्मीदवार पूर्व वित् मंत्री प्रणव मुखर्जी ने आज जे & के में चुनाव अभियान चलाया |
पी डी पी के अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद से भी मुलाक़ात की और सभी वोटरों से सहयोग माँगा| इस अवसर पर संविधान के दायरे में उन्होंने राज्य के विकास में सहयोग की बात भे कही|
प्रणव के अपने प्रदेश वेस्ट बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बेनर्जी ने अभी तक सहयोग का आश्वासन नहीं दिया हैममता के झुकाव को १९ तारिख को खुलेगा|
इससे पूर्व प्रणव कह चुके हैं की यदि ममता उन्हें सपोर्ट नहीं करती तो उन्हें कोई आश्चर्य नहीं होगा|
विपक्ष की भूमिका निभा रहे पी ऐ संगमा ने उड़ीसा के मुख्य मंत्री नवीन पटनायक से मुलाक़ात करके सबसे सहयोग मांगा\