Ad

शिवसेना सुप्रीमो बाल ठाकरे के निधन से शोकाकुल मुम्बई आज भी बंद रहेगी

शिवसेना सुप्रीमो बाल ठाकरे के निधन से मुम्बई अभी भी संभल नहीं पाई है| आज सोमवार को भी सर्राफा बाजार बंद रहेगा. इसके अलावा मुंबई के प्राइवेट स्‍कूल को भी सोमवार को बंद रखा गया है. शिवसेना ने दावा किया है की पार्टी ने इस बंद का ऐलान नहीं किया है.| शिवसैनिकों ने कहा, ‘शिवसेना ने मुंबई में किसी भी तरह का बंद नहीं बुलाया है. सोमवार को बाजार बंद नहीं रहेंगे. थोक व्यापारियों ने पहले बंद का ऐलान किया था, लेकिन अब बंद वापस ले लिया है. ज्वैलर्स दुकान नहीं खुलेंगे यानी जावेरी बाजार बंद रहेगा. जो दुकानदार दुकानें बंद रखेंगे वो अपनी मर्जी से उनके प्रमुख को श्रद्धांजलि देने के लिए ऐसा करेंगे.
बाल ठाकरे के निधन की वजह से मुंबई में सोमवार को प्राइवेट स्कूल बंद रहेंगे. स्कूल मैनेजमेंट ने स्कूलों को बंद रखने का के फैसले के पीछे स्कूल बस एसोसिएशन द्वारा बसें नहीं नहीं चलाने की घोषणा कारण बताई गई है|

शिवसेना सुप्रीमो बाल ठाकरे के निधन से शोकाकुल मुम्बई आज भी बंद रहेगी


इससे पहले रविवार को मुंबई के शिवाजी पार्क में बालासाहेब ठाकरे के पार्थिव शरीर का पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया. अंतिम दर्शन के लिए प्रत्येक छेत्र से दिग्गज लोग शिवाजी पार्क पहुंचे|. बेटे उद्धव ठाकरे ने अपने पिता को मुखाग्नि दी.|
शिवाजी पार्क में अंतिम संस्कार के समय बालासाहेब के भतीजे और उद्धव ठाकरे के राजनितिक प्रतिद्वंदी राज ठाकरे पूरे ठाकरे परिवार के साथ खड़े रहे, | उन्होंने अपने चाचा के पार्थिव शरीर को कंधा भी दिया. अंतिम संस्कार के समय राज ठाकरे अपनी आँखों में आ रहे आंसूओं को कंट्रोल करते दिखे

राहुल गांधी के हलफनामे की सत्यता की जांच के लिए चुनाव आयोग ने निर्वाचन अधिकारी को जांच के लिए लिखा

झल्ले दी झल्लियाँ गलां

एक कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हासाडी कांग्रेस पार्टी का कमाल | राहुल गांधी के हलफनामे की सत्यता की जांच के लिए चुनाव आयोग ने निर्वाचन अधिकारी को जांच करने के लिए लिख दिया है|अब पंगेबाज सुब्रमनियम स्वामी भी हो जायेंगे हलकान| डॉ. स्वामी ने खवाह्मखाह आरोप लगाया है कि पिछले लोकसभा चुनावों से पहले हसाड़े नेता राहुल गांधी के पास एसोसिएटेड जर्नल्स के तीन लाख से ज्यादा शेयर थे। जिसकी जानकारी हलफनामे में नहीं दी गई। ये सब बेकार में बदनाम करने के लिए धोखाधड़ी है पंगेबाज की इस अनैतिकता के लिए उस पर आपराधिक कार्रवाई की जानी चाहिए |

राहुल गांधी के हलफनामे की सत्यता की जांच के लिए चुनाव आयोग ने निर्वाचन अधिकारी को जांच के लिए लिखा

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान जी दरअसल अभी तक जितनी भी जाँच हुई है सभी में आप लोग निष्कलंक +निष्पाप+निर्दोष ही साबित हुए हो अब चूंकी आप जी के राहुल गांधी प्राईम मिनिस्ट्रियल केंदिदेत प्रोजेक्ट किये जा रहे है ऐसे में उनके खिलाफ सारे आरोप समय से पहले खारिज किये जाने जरूरी है |ये सारी कवायद उसी के लिए लगती है

प्रभु जी मेरे औगुण चित न धरो

प्रभु जी मेरे औगुण चित न धरो ।
सम दरसी है नाम तिहारो, अब मोहिं पार करो ।

प्रभु जी मेरे औगुण चित न धरो


भाव : संत सूरदास जी कहते हैं , हे प्रभु ! मैं बड़ा गुनाहगार हूँ , गुनाहों से बचना मेरे बस की बात नहीं है , मुझे सिर्फ आपकी बख्शिश का ही सहारा है । आप मुझ पर दया करके मेरे गुनाहों को नज़र अंदाज कर दीजिए । आप सबको एक नजर से अथवा एक आत्मा के स्तर से देखते हैं । जो भी आपको पुकारता है आप उसकी मदद करते हैं मैं भी आपको दिल से पुकार रहा हूँ , आप मुझे हमेशा के लिए मुक्त कर दीजिए। मुझे मोह -माया से बचाइये और अपने चरणों में जगह दीजिए।
संत सूरदास जी की वाणी
प्रस्तुती राकेश खुराना

बाल ठाकरे की दहाड़ सुनने को थम जाने वाली मुम्बई आज उनके अंतिम दर्शन को उमड़ी

बाल ठाकरे की दहाड़ सुनने को थम जाने वाली मुम्बई आज उनके अंतिम दर्शन को उमड़ी

बाल ठाकरे को सुनने के लिए कभी पूरी मुम्बई थम जाया करती थी आज वोही आमची मुम्बई अपने प्रिय नेता के अंतिम दर्शन के लिए मातोश्री की तरफ उमड़ पडी है|आज बेशक बाला साहेब की दहाड़ से उनके समर्थक वंचित हो गए मगर उनके मराठा मानुष के आदर्श+ विचारधारा का समर्थन करने और उसे आगे लेजाने के संकल्प के साथ हज़ारों लोग इकट्टा हुए| महाराष्ट्र में हिंदुत्व के झंडाबरदार ठाकरे की अंतिम यात्रा आज रविवार को सुबह करीब 9:25 मिनट पर बांद्रा स्थित मातोश्री[निवास] से शुरू हो गई | मातोश्री से उनका शव बाहर आते ही वहां मौजूद हजारों लोंगों की आंखों से आंसू छलक आए। वहीं उद्धव भी अपने पिता के पार्थिव शरीर को कंधा देते वक्त फफक-फफक कर रो दिए। मातोश्री के बाहर उनके बेटे आदित्य[पौता] अपने पिता को सांत्वना देते दिखाई दिए। इससे पूर्व राज ठाकरे ने अंतिम यात्रा की तैयारियों का जायजा भी लिया। ठाकरे की पार्थिव देह को राजकीय सम्मान देने के बाद फूलों से सजे एक ट्रक पर रखा गया।धीरे-धीरे ठाकरे की शव यात्रा हज़ारों लोगों के साथ दादर स्थित शिवसेना भवन की ओर बढ़ रही है। शिवसेना भवन में उनकी पार्थिव देह को कुछ समय के लिए रखा जाएगा। इसके बाद यहां से उनकी पार्थिव देह को शिवाजी पार्क ले जाया जाएगा जहां उनका शाम करीब छह बजे अंतिम संस्कार किया जाएगा।

राहुल गांधी के २००९ में दाखिल नामांकन पत्र की सत्यता की जांच के लिए अमेठी चुनाव अधिकारी को शिकायत रैफर्ड

राहुल गांधी द्वारा २००९ में दाखिल किये गए नामांकन पत्र में दर्शाई गई संपत्ति की सत्यता की जांच के लिए अमेठी लोकसभा के चुनाव अधिकारी को शिकायत रेफर कर दी गई है|मुख्य चुनाव अधिकारी को 15 नवंबर को भेजे पत्र में सुब्रामनियम स्वामी ने आरोप लगाया है कि राहुल गांधी ने अपनी संपत्ति के संबंध में गलत सूचना दी थी । चुनाव आयोग ने जून 2004 के एक पत्र का हवाला देकर कहा है कि चुनाव अधिकारी ऐसी शिकायतों की जांच करने के लिए सक्षम अधिकारी है।आयोग ने अपने पत्र में कहा है कि चूंकि हलफनामा चुनाव अधिकारी के समक्ष दाखिल किया जाता है । सीआरपीसी की धारा 195 के प्रावधानों के तहत संबंधित चुनाव अधिकारी हलफनामा में किसी भी गलत बयानी की शिकायत पर विचार कर सकता है। प्रधान सचिव आर के श्रीवास्तव द्वारा लिखे गए पत्र में भी कहा गया है कि यदि चुनाव अधिकारी इस बात से संतुष्ट है कि हलफनामे में गलत बयान है तो वह उपयुक्त कार्रवाई कर सकता है।चुनाव आयोग ने कहा है कि इस मामले में उठाये जाने वाले कदमों की जानकारी भी आयोग को दी जाए।

राहुल गांधी के २००९ में दाखिल नामांकन पत्र की सत्यता की जांच के लिए अमेठी चुनाव अधिकारी को शिकायत रैफर्ड


गौरतलब है कि जनता पार्टी अध्यक्ष सुब्रमण्यम स्वामी ने हाल ही में श्रीमती सोनिया गाँधी और राहुल गांधी पर आरोप लगाए थे कि उन्होंने चुनावों के नामांकन में अपनी संपत्ति की गलत सूचना दी थी. स्वामी ने अपने आरोप लगाते हुए कहा था कि राहुल गांधी ने एसोसिएटेड जर्नल में अपने शेयरों की जानकारी नहीं दी थी जो अब बंद हो चुके नेशनल हेराल्ड का संचालन करता था, जिससे उनके खिलाफ गलत बयानी का मामला बनता है|गौरतलब है कि स्वामी ने आरोप लगाये थे कि एसोसिएटेड जर्नल में श्रीमती सोनिया और राहुल गाँधी के शेयर हैन्जिसे कांग्रेस ने तत्काल नकार दिया था|

शिव सेना सुप्रिमो बालासाहेब ठाकरे रक्षा प्रणालियों को तोड़ कर अपने समर्थकों को बिलखता छोड़ गए

शिव सेना सुप्रिमो बालासाहेब ठाकरे आज शनिवार को डाक्टरों की तमाम रक्षा प्रणालियों के चंगुल को तोड़ ताड़ कर अपने समर्थकों को रोता बिलखता छोड़ गए|ठाकरे का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। 86 वर्षीय बालासाहेब ने शनिवार दोपहर लगभग 3:30 बजे आखिरी सांस ली। बीते कुछ दिनों से उनकी सेहत खराब चल रही थी। शोक समाचार मिलते ही मातोश्री के बाहर आंखें नम किए हुए बालासाहेब के समर्थकों की भारी भीड़ एकत्रित हो गई। बाल ठाकरे के शोक में मुंबई के कई इलाकों में बाजार बंद कर दिए गए हैं । उनके पार्थिव शरीर को शिवाजी पार्क में अंतिम दर्शन के लिए रविवार सुबह 7 रखा जाएगा। रविवार दोपहर बाद बाला साहब का अंतिम संस्कार किया जाएगा।

शिव सेना सुप्रिमो बालासाहेब ठाकरे रक्षा प्रणालियों को तोड़ कर अपने समर्थकों को बिलखता छोड़ गए


शिवसेना प्रमुख के निधन की सूचना मिलते ही प्रधानमंत्री ने शनिवार की शाम को आयोजित रात्रिभोज को रद्द कर दिया है। पी एम् ने अपने शोक सन्देश में कहा कि बाला साहब ठाकरे के लिए महाराष्ट्र का हित सर्वोपरि रहा |लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष सुषमा स्वराज ने भी ट्वीट कर बाल ठाकरे के निधन पर दुख जताया है। गुजरात के मुख्य मंत्री नरेंद्र मोदी ने बाला साहब के जाने को एक युग की विदाई बताया है | वहीं, ठाकरे के निधन पर शोक जताते हुए भाजपा प्रवक्ता शहनवाज हुसैन ने कहा कि इनके निधन के साथ ही भारतीय राजनीति का एकयुग समाप्त हो गया है| – पी एम् डॉ. मनमोहन सिंह +गृह मंत्री शिंदेपूर्व मंत्री + शाहनवाज़ हुसैन + सुषमा स्वराज+ नितिन गडकरी +मिलिंद देवड़ा+ अरविंद केजरीवाल+ दीया मिर्जा+ स्मृति ईरानी + मधुर भंडारकर शोभा डे+ विवेक ओबराय + लता मंगेशकर+ अजय देवगन+ रजनीकांत आदि ने भी श्रधान्जली अर्पित की है| शेर+बेबाक + लौहपुरुष+ शानदार शख्सियत वाला नेता करार दिया।.महाराष्ट्र में हिंदूवादी व मराठी राजनीति की हनक के लिए चर्चित ठाकरे ने 1966 में शिव सेना की स्थापना की थी|.ठाकरे को सांस की बीमारी के अलावा पेंक्रियास की बीमारी थी 86 वर्षीय शिवसेना प्रमुख की हालत बुधवार की रात को बहुत बिगड़ गयी थी और उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया था. उनकी स्थिति में कुछ सुधार होने के बाद उन्हें जीवन रक्षक प्रणाली से हटा दिया गया था.\इससे पूर्व भी ठाकरे की डैथ की खबर उड़ा दी गई थी तब भी मुम्बई मानो थम गई थी मगर ठाकरे ने रक्षा प्रणाली पर रहने से इनकार कर दिया था|

यूं पी की टीम सर्द मौसम से संकट में आई

कर्नाटका ने टास जीत कर होस्ट टीम यूं पी को पहले बल्ले बाज़ी का अवसर दिया |सर्द मौसम के मध्य नज़र यह फैसला रंग लाया और यूं पी के चार बल्ले बाज़ भोजनावकाश तक पेवेलियन लौट गए|२९ ओवरों में मात्र ९० रन के योगदान पर मोहम्मद कैफ और आरिफ आलम संभल कर खेल रहे थे| अली मुर्तजा +|मुकुल डागर +सुरेश रैना[कप्तान] +परविन्द्र सिंह[घरेलू पिच ] सभी सस्ते में आउट हो गए|
रणजी क्रिकेट मैच मेरठ में रणजी क्रिकेट मैच का आज भामाशाह स्टेडियम में विधिवत उद्घाटन किया गया |मुख्य अथिति सब एरिया कमांडर जी ओ सी मेजर जनरल वी के यादव ने कर्नाटका और यूं पी की टीमो के खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त किया|इस अवसर पर डी सी ऐ सचिव युद्धवीर सिंह+कोच अतहर अलीसेठ दया नन्द गुप्ता+अरविन्द नाथ सेठ आदि उपस्थित थे|समारोह का संचालन रेडियो आई आई एम् टी के उपनिदेशक विवेक कुमार ने किया|

यूं पी की टीम सर्द मौसम से संकट में आई

जायदाद के बटवारे के लिए भाईयों में बंदूकें चली:पोंटी चड्डा और हरदीप चड्डा की मृत्यु

जायदाद के बटवारे पर जब बातचीत से कोई हल नहीं निकला तो भाईयों ने बन्दूक का सहारा लिया जिसके फल स्वरुप दोनों भाईयों की मौत हो गई| ये दोनों मशहूर शराब कारोबारी पॉन्टी चड्ढा और उसके भाई हरदीप हैं| दोनों भाईयों की मौत आपसी फायरिंग में हुई.| ये घटना पॉन्टी के छतरपुर स्थित फॉर्म हाउस में दोपहर करीब 1.30 बजे हुई. फायरिंग में पॉन्टी का एक गार्ड भी घायल हुआ.बताया जा रहा है कि सारा मामला जायदाद के बंटवारे से जुड़ा है.| इस फायरिंग में दो निजी गार्ड भी जख्‍मी हो गए हैं.
सूत्रों के अनुसार पहले पॉन्‍टी ने अपने भाई को गोली मारी, उसके बाद भाई हरदीप के गार्ड ने पॉन्‍टी को गोली मार दी. इस गोलीबारी में पहले तो पॉन्‍टी के भाई हरदीप की मौत हुई और बाद में पॉन्‍टी की भी मौत हो गई|

जायदाद के बटवारे के लिए भाईयों में बंदूकें चली:पोंटी चड्डा और हरदीप चड्डा की मृत्यु

. .
पॉन्टी चड्ढा के यूपी की राजनीति में खासी धमक रखते हैं. वो ना सिर्फ शराब के बड़े कारोबारी हैं, बल्कि रियल इस्टेट में भी उनका दबदबा है और कई मॉल्स और मल्टीप्लेक्स[वेव्स] के वे मालिक हैं| फिल्मों में भी पॉन्टी ने पैसा लगाया है|
उनके मायावती और अखिलेश यादव सरकार से बेहद निकटता रही|
इससे पहले 5 अक्टूबर को भी पॉन्टी चड्ढा के मुरादाबाद स्थित पुश्तैनी बंगले पर फायरिंग हुई थी लेकिन उस समय इस मामले को दबा दिया गया था. उस दिन पांच फायर हुए थे और पुलिस ने ये कहकर मामला रफा-दफा कर दिया था कि पॉन्टी के भतीजे ने नई रिवाल्वर खरीदी थी जिससे टेस्टिंग करते समय फायर हो गए|पोंटी चड्डा के परिवार ने इस जायदाद से अपने सम्बन्ध भी नकार दिए थे|
चत्तर पुर फार्म हॉउस करीब 13 एकड़ में फैला हुआ है। फायरिंग की सूचना मिलने पर दिल्‍ली पुलिस की मौके पर पहुंची एक टीम द्वारा जांच जारी है|
, वकील गौरांग के हवाले से बताया जा रहा है कि पॉन्टी चड्ढा, उनके भाई हरदीप और एक बड़े भाई तीनों साथ-साथ छतरपुर के फॉर्महाउस में रहते थे। करीब एक साल पहले पिता की मौत के बाद हरदीप ने अपना हिस्सा मांगना शुरू किया जिसे लेकर काफी समय से विवाद चल रहा था। सैटलमेंट की बात हो रही थी लेकिन कुछ मुद्दों को लेकर सहमति नहीं बन पा रही ही। गौरांग ने बताया कि तीनों भाई के बीच पहले काफी मेलमिलाप था लेकिन अब हरदीप और पॉन्टी के बीच बातचीत नहीं होती थी, हालांकि पूरा कुटुंब पहले साथ-साथ ही रहता था।

भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई तो लड़ी जा सकती है मगर इस बुराई का जडमूल विनाश नहीं किया जा सकता

भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई तो लड़ी जा सकते है मगर इस बुराई का जडमूल विनाश नहीं किया जा सकता|ये विचार आज एच टी सम्मिट में तीन राज्यों के युवा न्रेतत्व ने व्यक्त किये नई दिल्ली स्थित ताज पैलेस में आयोजित एच टी सम्मिट में जे एंड के के मुख्य मंत्री ओमर अब्दुल्लाह यूं पी के सी एम् अखिलेश यादव और पंजाब के उपमुख्य मंत्री सुखबीर सिंह बादल ने लगभग एक सी स्वर में भ्रष्टाचार को पूर्णतय समाप्त किये जाने में असमर्थता जताई|
मंचासीन एंकर द्वारा भ्रष्टाचार के खात्मे के विषय में पूछे गए एक सवाल के जवाब में ओमर अब्दुल्लाह ने कहा कि भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई लड़ी जा सकती है और लड़ी जा रही है मगर इसे पूरीतरह से समाप्त नहीं किया जा सकता|बादल ने इसी विचार को आगे बढ़ाते हुए कहा पंजाब में भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए किये जा रहे प्रयासों के विषय में जानकारी देते हुए कहा कि भ्रष्टाचार को तब तक समाप्त नहीं किया जा सकता जब तक आम आदमी की सरकार पर निर्भरता को समाप्त नहीं किया जाता|उन्होंने बताया कि इस दिशा में पंजाब में एफिडेविट की अनिवार्यता समाप्त कर दी गई है+लैंड रिकार्ड को ऑन लाईन कर दिया गया है+आर टी ओ के स्थान पर अब दुकान दार स्वयम वाहन के पंजीकरण संख्या और नंबर मुहैय्या करवाता है|उन्होंने सरकार पर निर्भरता को कम करने के लिए आउट सोर्सिंग की वकालत भी की | मंच के नीचे से पूछे गए एक पत्रकार द्वारा पूछे गएराज्य सम्बन्धित एक प्रश्न के उत्तर में इस युवा नेता ने मीडिया को निशाने पर ले लिया उन्होंने कहा कि मीडिया को पेड न्यूज चाहिए +पॅकेज चाहिये इसीलिए भ्रष्टाचार को बढावा देने के लिए मीडिया भी जिम्मेदार है|

भ्रष्टाचार का जडमूल विनाश नहीं किया जा सकता


उत्तर प्रदेश के युवा सी एम् ने इसी प्रश्न के उत्तर में बादल और केन्र सरकार पर चुटकी ली |उन्होंने कहा कि पंजाब की जो प्रोग्रेस दी गई है वह बहुत छोटे छोटे भ्रष्टाचार से सम्बंधित हैं ऐसे प्रयास तो यूं पी में भी किये जा रहे हैं मगर बड़े भ्रष्टाचार तो वोह हैं जिनके खिलाफ दिल्ली में आये दिन राष्ट्रीय ध्वज उठाये जा रहे हैं|इसीलिए भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई तो लड़ी जा सकती है मगर इसे पूरी तरह खत्म नहीं किया जा सकता |इसी मुद्दे को लेकर सी एम् के चाचा शिव पाल यादव के ब्यान का उल्लेख किया गया जिसमे कहा गया था कि छोटे मोटी चोरी की जा सकती है इसके जवाब में सी एम् ने अपने चाचा का बचाव करते हुए कहा की मीडिया ने उन्हें मिस कोट किया है| उन्होंने चोरी नहीं बल्कि कामचोरी कहा था|इस पर उनके साथ ही बैठे ओमर अब्दुल्लाह ने चुटकी लेते हुए कहा कि शुक्र है कि अकेले ओमर के चाचा ही मिस्कोट नहीं किये जा रहे|गौरतलब है कि अभी हाल ही में ओमर के चाचा पर भी सरकार विरोधी बयाँ देने से सरकार कि किरकिरी हुई थी|
बताते चले कि वर्तमान में आये दिन भ्रष्टाचार के एक से बढ कर एक आरोप सरकार पर लगाये जा रहे हैं और उनका विरोध भी हो रहा है|बीते दिन अन्तराष्ट्रीय व्यापारी संस्था वाल मार्ट ने भी भारत में व्यापार करने के लिए घूस मांगे जाने का आरोप लगा दिया है |सरकार द्वारा केवल इन्हें नकार कर दूसरों का विरोध ही किया जा रहा है संभवत इसी को लेकर अखिलेश यादव ने टिपण्णी की है|

उत्तर प्रदेश में भी अंग्रेजों का समाज वाद यानि चैरिटी बिगिन्स एट होम

झल्ले दी गल्ला

समाज वादी

ओये झल्लेया ये ह्साड़े मुल्क को किधर धकेला जा रहा है?पहले तो ओनली कांग्रेस पर ही वंशवाद + ब्राह्मण वाद+वोटों की राजनीती करने का आरोप लगता था अब ये आरोप लगाने वाले सपाई खुद ही अपनी पार्टी में परिवार वाद वंश वाद को बढावा दे रहे हैं |देखो लोक सभा के लिए २०१४ में होने वाले चुनावों में प्रदेश की ८० सीटों के लिए १०% उम्मीदवार तो अपने परिवार से ही चुन लिए हैं| यकीन नहीं आता तो लिस्ट हाज़िर है [1.] मैनपुरी-मुलायम सिंह यादव2. कैराना-नाहिद हसन3. मुजफ्फरनगर-गौरव स्वरूप4. नगीना-यशवीर सिंह5. मुरादाबाद-एसटी हसन6. अमरोहा-श्रीमती हुमेरा7. बागपत-विजय कुमार सिंह8. गाजियाबाद-सुधन रावत9. गौतमबुद्धनगर-नरेंद्र भाटी10. हाथरस-रामजी लाल सुमन 11. मथुरा-चंदन सिंह12. आगरा-महराज सिंह 13. फतेहपुर सीकरी-डा. राजेंद्र सिंह[१४]. फिरोजाबाद-अक्षय यादव[15.] एटा-देवेंद्र सिंह यादव[१६]. बदायूं-धर्मेद्र यादव17. आवला-कुवंर सर्वराज सिंह18. पीलीभीत-बुद्धसेन वर्मा19. शाहजहापुर-मिथलेश कुमार
20. खीरी-रविप्रकाश वर्मा21. धौरहरा-आनंद भदौरिया22. हरदोई-ऊषा वर्मा23. मिश्रिख-जयप्रकाश रावत24. उन्नाव-अरुण कुमार शुक्ला25. मोहनलाल गंज-सुशीला सरोज26. लखनऊ-अशोक वाजपेई27. सुलतानपुर-शकील अहमद28. प्रतापगढ़-सीएन सिंह[२९] . इटावा-प्रेमदास कठेरिया[३०]. कन्नौज-डिम्पल यादव31. अकबरपुर-लाल सिंह तोमर32. जालौन-घनश्याम अनुरागी[33.] झासी-चंद्रपाल सिंह यादव34. हमीरपुर-विशम्भर प्रसाद निषाद35. बादा-आरके पटेल36. फतेहपुर-आरके सचान37. कौशाम्बी-शैलेंद्र कुमार38. इलाहाबाद-रेवती रमण सिंह39. बाराबंकी-श्रीमती राजरानी रावत40. फैजाबाद-तिलकराम वर्मा41. बहराइच-शब्बीर अहमद बाल्मीकी42. कैसरगंज-बृजभूषण शरण सिंह
43. गोण्डा-कीर्तिवर्धन सिंह44. डुमरियागंज-माता प्रसाद पाण्डेय45. बस्ती-बृजकिशोर सिंह46. गोरखपुर-श्रीमती राजमती निषाद47. लालगंज-दूधनाथ सरोज48. घोसी-बाल किशन चौहान49. बलिया-नीरज शेखर[50.] जौनपुर-केपी यादव51. मछली शहर-तूफानी सरोज52. चंदौली-राम किशुन53. वाराणसी-सुरेंद्र सिंह पटेल54. भदोही-श्रीमती सीमा मिश्रा
55. राबर्टसगंज-पकौड़ी लाल

अंग्रेजों का समाज वाद यानि चैरिटी बिगिन्स एट होम


झल्ला

ओ भोले बाबू आप किस समाज वाद में खोये हुए हो अब तो अंग्रेजों का समाज वाद चल रहा है यानि चेरिटी बिगिन्स एट होम
इन चेरिटी वालों को भी कोई कम नहीं समझो माननीय मुलायम सिंह यादव की साईकिल पर एक सवार के साथ अनेको राजनीतिक दावँ लदे हुए हैं|
[१]कांग्रेस के साथ मोल भाव करने के लिए दरवाज़ा खोल दिया है[२] भाजपा पर अपने प्रत्याशियों को उजागर करने के लिए दबाब बना दिया है| भाजपा यदि अब अपने पत्ते खोल देती है तब कांग्रेस को अपने कार्ड्स खेलने में आसानी हो जायेगी|[३]अपने बाग़ी साथी ठाकुर अमर सिंह से दूरी बनाये रखने के लिए अमर सिंह की प्रिय ज्याप्रदा को भाव नहीं दिया[4] बागपत में चौधरी अजित सिंह के लिए जहां फील्ड समतल रखी हैं वहीं रालोद से निकली अनुराधा चौधरी को अभी तक कोई भाव नहीं दिया गया है ऐसे में अजित सिंह के एविएशन मिनिस्ट्री से प्राथमिकता ली जा सकती है| |