Ad

रिपब्लिकन्स सम्मलेन में शबद गायन

रिपब्लिकन्स के राष्ट्रीय सम्मलेन में सिख धर्म के सबद [भजन]गायन का कार्यक्रम होगा|लगता है कि रिपब्लिकन्स ने अपने प्रतिद्वंदी डेमोक्रेट्स की राजनीतिक काट ढूंढ ली है|
फ्लोरिडा में राष्ट्रीय सम्मलेन का आयोजन किया जाना है|सिख सोसायटी आफ सेन्ट्रल फ्लोरिडा से सिख ईश्वर सिंह को सबद गायन के लिए बुलाया गया है|नॅशनल एंथम के तत्काल पश्चात
शबद गायन होगा|
गौरतलब है कि आउट सोर्सिंग का विरोध करके भारतीयों के हितों पर कुठाराघात करने से अप्रिय हुए डेमोक्रेट बराक ओबामा ने भारतीय वोटरों में अपनी पैंठ जमाने के लिए सिखों के प्रति सहानुभूति दर्शानी शुरू कर दी है \
ओक क्रीक विस्कोंसिन गुरुद्वारे में एक श्वेत नसलवादी वेड माईकल पेज द्वारा की गई फायरिंग में छह सीखो की मृत्यु हो गई थी |इसके विरोध में राष्ट्रीय ध्वज आधे झुकाए गए और प्रथम महिला मिशेल ओबामा ने गुरुद्वारे के पीड़ित परिवारों के पास जाकर सहानुभूति व्यक्त की थी |
नवम्बर में चुनाव होने हैं और इस कदम से सिख वोटरों का रुझान डेमोक्रेट्स की तरफ हो सकता है संभवत इसी संभावना की काट के लिए रिपब्लिकन्स के राष्ट्रीय सम्मलेन में गुरु ग्रन्थ साहब की अमर वाणी की वर्षा कराने का निर्णय लिया गया है|

बाल विज्ञानं कोंग्रेस ३ सितम्बर से शुरू होगी

बाल विज्ञानं कोंग्रेस अब बीस साल की जवान हो गई है| १३ ब्लाक्स में ३ सितम्बर से कार्यक्रम शुरू हो जायेगा
मेरठ की ब्लाक स्तर पर आयोजित कार्यक्रमों की तिथि घोषित कर दी है मेरठ के माध्यमिक स्कुलो और सी.बी.एस.सी .का समन्वयन राजकीय इंटर कोलेज के रवि प्रकाश और एस.एस.दी बोयज इंटर कोलेज के कमलेश चन्द शर्मा जबकि बेसिक स्कूल्स का समन्वयन पूर्व माध्यमिक विद्यालय नरहेदा के मोहमद मतीन अंसारी करेंगे \१३नगर ब्लाक्स में ३ सितम्बर से लेकर ११ अक्टूबर तक यह कार्यक्रम चलेगा|.
जिले की सबसे पहली ब्लाक स्तर कार्यशाला मवाना,हस्तिनापुर,और परीक्षित गढ़ की एकसाथ हस्तिनापुर के श्री आत्मानंद जैन इंटर कोलेज में ३० अगस्त को प्रात: १० बजे आयोजित होगी.
जिला विद्यालय निरीक्षिक मेरठ श्री शिवकुमार ओझा + बेसिक शिक्षा अधिकारी श्री जीवेन्द्र सिंह एरी द्वारा कार्यक्रम घोषित कर दिया गया है
बाल विज्ञानं कोंग्रेस के जिला संयोजक,मेरठ दीपक शर्मा के अनुसार उर्जा संभावनाएं और सरंक्षण पर यह कार्यक्रम आधारित होगा

संसद में विश्वास प्रस्ताव ला सकती है सरकार

बी जे पी को अविश्वास प्रस्ताव के झांसे में लाने के प्रयास विफल होने पर अब सत्ता पक्ष द्वारा संसद में विश्वास प्रस्ताव लाने की खबरें गर्म हो रही हैं|
बी जे पी के तमाम आरोपों के बावजूद सरकार कोल ब्लॉक आवंटन के मसले पर झुकती हुई नहीं दिख रही|
सरकार की ओर से यह साफ कर दिया गया है कि कोई कोल ब्लॉक आबंटन रद्द नहीं किया जाएगा+ यह भी संकेत दे दिया गया है कि सरकार लोकसभा में विश्वास प्रस्ताव पेश कर सकती है।
इससे पूर्व लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने आरोप लगाया था कि कोयला घोटाले में काग्रेस को मोटा माल मिला है। काग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने इसे तत्काल नकार दिया|
गौरतलब है कि काग्रेस की ओर से कहा जा रहा है कि कोल ब्लॉक आवंटन का फैसला बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की सहमति से हुआ है। ऐसे में अगर घोटाले का आरोप है तो वह अकेली काग्रेस या यूपीए सरकार पर नहीं लगाया जा सकता। बीजेपी को भी उसकी जिम्मेदारी लेनी पड़ेगी।
बेशक सरकारी छेत्रों से कहा जा रहा है कि मौजूदा सत्र पूरा चलाया जाएगा मगर वर्तमान डेडलाक को देखते हुए इसकी संभावना कम ही दिख रही है|
उधर राजग में कैग रिपोर्ट को लेकर दरार पड़नी शुरू हो गई है। राजग से जुड़े बिहार और पंजाब के घटक दल इस मामले पर बहस होने देना चाहते हैं। इस मामले में अकाली दल ने साफ कहा है कि वह इस गतिरोध को खत्म कर बहस कराना चाहते हैं| अकाली दल भाजपा का सबसे पुराना और विश्वसनीय सहयोगी है|
भाजपा प्रवक्ता महाराष्ट्र कोटे के प्रकाश जावडेकर का कहना है कि जैसे नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट के बाद ए. राजा का इस्तीफा लिया गया था, वैसे ही प्रधानमंत्री पहले इस्तीफा दें फिर इस मुद्दे पर बहस करें। भाजपा मान रही है कि संसद ठप होने से कांग्रेस की साख गिर रही है यही उनका मकसद भी है|। संख्या बल के जरिए भाजपा अकेले ही संसद ठप कराने में सक्षम है। इसे संसदीय कार्य मंत्री पवन बंसल ने भी माना है। भाजपा का यह मानना है कि 2जी मामला गांवों तक पहुँचना मुश्किल था लेकिन अब कोयला घोटाला ऐसा है कि इसे कोयला पैदा करने वाले राज्यों और दूसरे हिंदी राज्यों में लोगों को समझाना बहुत आसान है।

करण पब्लिक स्कूल के बच्चों ने पौधे रौंपें

करण पब्लिक स्कूल के बच्चों ने आज [सोमवार ]पांडव नगर मेरठ में पौधे रौंपें| प्रबंधिका श्रीमती निर्मल सिंहऔर प्रधानाचार्या प्रीती जोशी के संचालन एवं आयोजन में यह पौधारौपण समारोह पूर्वक सम्पूर्ण हुआ

पाकिस्तानी कोर्ट ने वर्चस्व का पहला मोर्चा जीता

पाकिस्तानी की मरकजी सरकार और सुप्रीम कोर्ट में चल रही वर्चस्व की लड़ाई में कोर्ट ने आज एक और मोर्चा फतह कर लिया है|प्रधान मंत्री राजा परवेज अशरफ ने अदालत के समक्ष पेश हुए|
उन्हें 18 सितंबर तक की मोहलत दी गई है।
गौरतलब है कि तत्कालीन राष्ट्रपति ने वर्ष 2007 में एक अध्यादेश के जरिए करीब आठ हजार लोगों के खिलाफ चल रहे भ्रष्टाचार के मामले खत्म किए थे। इसी का लाभ आसिफ अली जरदारी को भी मिला था। सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 2009 में उस अध्यादेश को रद करते हुए राष्ट्रपति समेत सभी लोगों के खिलाफ मामले फिर से खोलने के निर्देश दे दिए थे।पूर्व पी एम् युसूफ रजा गिलानी द्वारा स्विस अधिकारियों को पत्र लिखने के आदेश को नजरअंदाज कर दिया गया था इसीलिए उन्हें बर्खास्त किया गया अब उनके स्थान पर बनाए गए पी एम् श्री अशरफ को अदालत की अवमानना का नोटिस जारी किया गया था।
राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामलों को फिर से खोलने के संबंध में स्विस अधिकारियों को पत्र लिखने के लिए १८ सितम्बर तक का समय दिया गया है। प्रधानमंत्री ने इस मुद्दे पर परामर्श के लिए अदालत से चार से छह सप्ताह का समय मांगा था।
इस मामले में जस्टिस आसिफ सईद खोसा की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय पीठ के समक्ष पेश होने वाले अशरफ दूसरे प्रधानमंत्री बन गए हैं।

कोयले की काली कमाई कांग्रेस और सरकार ने खाई= सुषमा

संसद को पांचवे दिन भी ठप्प रखने वाली भाजपा की लोक सभा में नेत्री श्रीमति सुषमा स्वराज़ ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि प्रधानमंत्री ने बस अपने बयान में एक अच्छी बात कही है कि वो मंत्रालय की ज़िम्मेदारी लेते हैं और उन्हें नैतिक ज़िम्मेदारी लेते हुए पद से इस्तीफा दे देना चाहिए |उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री अपनी नैतिक ज़िम्मेदारी लें. जबानी जमा खर्च न करें नैतिक ज़िम्मेदारी लेकर इस्तीफा दें और सारे कोल ब्लॉक के आवंटन रद्द किए जाएं|
सुषमा स्वराज ने कड़े तेवर अपनाते हुए कहा “मैं आरोप लगाती हूं कि कोयला ब्लॉक के आवंटन में जो भ्रष्टाचार हुआ है.इससे जो पैसा आया है वो कांग्रेस पार्टी को गया है सरकार को गया है. जांच हो इसकी निष्पक्ष तो

पार्टी और सरकार दोनों एक ही कटघरे में मिलेंगे”

पार्टी ने आरोप लगाया कि जितनी जल्दी नीति लाने में हुई उससे अधिक जल्दी कोयला के ब्लॉक आवंटित करने में जल्दी हुई. सरकार ने चार वर्षों में 142 कोयला ब्लॉक आवंटित किए जबकि इन्हीं चार वर्षों में राज्य सरकारों ने करीब 70 कोयला ब्लॉक आवंटित किए.
प्रधानमंत्री के बयान में शेर के जवाब में सुषमा का कहना था कि सवालों के जवाब से खुद बेआबरु होने से बचने के लिए आदमी चुप रहता है

संसदीय कार्यवाही पांचवे दिन भी हंगामे को भेंट

संसद की कार्यवाही आज पांचवे दिन भी हंगामे की भेंट चढ़ गई|
कोयला घोटाले में कथित अनियमितता पर नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) की रिपोर्ट को लेकर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के इस्तीफे की मांग कर रहे विपक्षी दलों ने सोमवार को भी संसद के दोनों सदनों में जमकर हंगामा किया, जिसके कारण लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई|.
कई बार के स्थगन के बाद संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही जब एक बार फिर दोपहर दो बजे शुरू हुई तो विपक्षी दलों के सदस्य फिर इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के इस्तीफे की मांग करने लगे. उनके हंगामे को देखते हुए दोनों सदनों की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई|
पी एम् का जवाब संसद में शोर के कारण सदन के पटल पर रखा गया|

पी एम् बेचारा चुप रहे या बोले एक यक्ष प्रश्न

अपनी वाणी पर नियंत्रण रखने में बदनाम प्रधानमंत्री डाक्टर मनमोहन सिंह ने कोयला आवंटन मुद्दे पर आज जब संसद में जवाब देना शुरू किया तब विपक्ष ने शोर किया तब उन्होंने अपनी श्रवण शक्ति पर भी कंट्रोल किया और संसद में शोर शराबे के बीच जवाब पेश कर ही दिया |पी एम् ने |कड़ा रुख अपनाते हुए कहा है कि इस मामले में गड़बड़ी के सारे आरोप गलत हैं और कैग की रिपोर्ट विवादास्पद जिसे पी ऐ सी में चुनौती दी जाएगी.
संसद से बाहर प्रधानमंत्री ने प्रेस को एड्रेस करते हुए कहा, ‘‘ मैं देश को ये आश्वासन देना चाहता हूं कि हमारा पक्ष बिल्कुल सही है. कैग की रिपोर्ट विवादास्पद है और जब ये रिपोर्ट संसदीय लेखा समिति के सामने आएगी तो हम उसे चुनौती देंगे. हम विपक्ष से आग्रह करते हैं कि संसद चलने दें ताकि जनता ये फैसला करे कि कौन सही है और कौन ग़लत.’’प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘ मेरा रवैय्या यही रहा है कि मैं आधारहीन बार बार लगाए जा रहे आरोपों पर नहीं बोलता हूं. मेरा रुख रहा है कि हज़ारों जवाबों से अच्छी है मेरी खामोशी, न जाने कितने सवालों की आबरु रखी.’’
गौर तलब है कि पिछले चार दिनों से प्रधानमंत्री के इस्तीफ़े की मांग को लेकर विपक्ष संसद नहीं चलने दे रही है.कल मंगलवार को पी एम् का देश से बाहर जाने का कार्यक्रम है सो इस मुद्दे पर आज सोमवार को प्रधानमंत्री ने संसद में बयान रखा| इस पर भी भारी शोर शराबा हुआ\

सूत्रों की अगर माने तो सरकार को बाहर से सहयोग कर रही बी एस पी को पी एम् के जवाब पर चर्चा कराने के लिए नोटिस देने पर राज़ी कर लिया गया है|मंगलवार को संसद में चर्चा कि कार्यवाही प्रारम्भ कराई जा सकती है|लेकिन भाजपा किसी भी कीमत पर पी एम् के इस्तीफे से कम पर राजी नहीं हुई है|

श्री सिंह ने यह भी कहा कि वो इस मुद्दे पर अपनी बात रखना चाहते थे. उनका कहना था, ‘‘ ये एक बड़ा मुद्दा था और मैं पूरे देश के सामने, संसद के सामने अपना पक्ष रखना चाहता था. मुझे दुख है कि विपक्ष ने मुझे अपनी बात नहीं रखने दी.’’प्रधानमंत्री ने भारी शोर शराबे के बीच लोकसभा में अपना बयान पढ़ा जिसे सुना जा सकना असंभव था.\ पी एम् के बयाँ के कुछ अंश ट्विट्टर पर भी डाले गए हैं\
भाजपा अविश्वाश प्रस्ताव ले आये

क़ानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने भाजपा को अविश्वाश प्रस्ताव के घेरे में लाने को ललचाया \उन्होंने कहा है कि भाजपा अगर सरकार के जवाब से संतुष्ट नहीं है तो संसद में अविश्वाश प्रस्ताव ले आयें उस पर दूध का दूध और पानी का पानी हो जायेगा\

संसद का प्रश्न काल शोर गुल में स्वाहा हुआ

संसद के दोनों सदन आज ११.०५ पर १२.०० तक के लिए स्थगित कर दिए गए हैं|
लोक सभा में सबसे पहले व्योवर्द्ध अभिनेता पद्म विभूषण से अलंकृत ऐ के हंगल को श्रधांजलि दी गई इसके पश्चात शुरू हुए प्रशन काल में आंध्र प्रदेश के सांसद के प्रश्न का मंत्री द्वारा उतर देते समय भाजपा ने कोयला घोटाले के सिलसिले में पी एम् के इस्तीफे की मांग शुरू कर दी शोर शराबे के चलते स्पीकर मीरा कुमार ने सदन १२ बजे तक के लिए स्थगित कर दिया\
दूसरे सदन में मोहम्मद हामिद अंसारी ने अन्दर १९ क्रिकेट टीम और टीम इंडिया द्वारा सन्डे में दोहरी सफलता अर्जित करने पर बधाई पत्र पडा जिसका सभी ने मेजें थपथपा कर समर्थन किया इसके पश्चात कार्यवाही शुरू होते ही शोर शुरू हो गया और श्री अंसारी ने १२ बजे तक के लिए सदन स्थगित कर दिया

केजरीवाल ब्रिगेड के विरुद्ध केस दर्ज़

अरविन्द के कल के कोयला घेराव को पानी की बौछारों में धोने का प्रयास करने के उपरान्त अब अरविन्द और ४ सहयोगियों पर केस दर्ज करा दिया है|कोयला घोटाले को लेकर नेताओं का विरोध करने पहुंचे अरविन्द आदि को हिरासत में लेने के तत्काल बाद रिहा कर दिया गया था मगर इसके साथ ही संसद मार्ग थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है|
प्रशांत भूषण+मनीष शिशोदिया+गोपाल राय+नीरज कुमार के भी विरुद्ध दंगा भड़काने +सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने+और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप लगाए गए हैं|