Ad

कानून व्यवस्था को लेकर कांग्रेस ने प्रशासन को आगाह किया

मेरठ में दिनों दिन बिगड़ती जा रही क़ानून व्यवस्था को लेकर कांग्रेसियों ने आज जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंप कर विपक्षी भूमिका की औपचारिकता पूरी की
|

कानून व्यवस्था को लेकर कांग्रेस ने प्रशासन को आगाह किया


जिलाध्यक्ष जगदीश शर्मा के हस्ताक्षर से प्रस्तुत ज्ञापन में बताया गया है कि नगर में कोई सुरक्षित नहीं है|लूट+किडनैपिंग+हत्याएं+डकैती से सारा समाज भयभीत है|सरकार अपने दाईत्व का निर्वाह करने में विफल रही है|यदि स्थिति जल्द नहीं सुधरी तो कांग्रेस अल्दोलन को बाध्य होगी|

राहुल गांधी ने राजनीति की सफाई के लिए पंजाब के युवाओं को राजनीती का पाठ पढाया

कांग्रेस के युवा महासचिव राहुल गांधी ने आज चण्डीगढ़ में पंजाब यूनिवर्सिटी के छात्रों को युवाओं को राजनीती की सफाई के लिए राजनीती में आने के लिए प्रेरित किया|

युवा शक्ति

युवाओं को एम् पी =एम् एल ऐ आदि बनने का मन्त्र देते हुए उन्होंने कहा कि पहले एन एस यू आई के सदस्य बन कर यूथ कांग्रेस में जाइये वहां चुनाव लड़ कर कांग्रेस में आईये और चुनाव लड़ कर एम् पी एम् एल ऐ बनिए|राहुल गांधी ने युवाओं की नब्ज़ पर हाथ रख कर उन्हें प्रोत्साहित करती हुए कहा कि बीसवीं सदी में कच्चे तेल के मालिक साउदी अरब विश्व का लीडर था मगर इस २१वी सदी की उम्मीद भारत है और भारत की शक्ति युवाओं में हैं|राजनीती को साफ कीजिये और खुद राजनीती में आईये
|

राहुल गांधी ने राजनीति की सफाई के लिए पंजाब के युवाओं को राजनीती का पाठ पढाया

महिला सशक्तिकरण

उन्होंने महिलाओं कि प्रग्रती को विकास जोड़ते हुए कहा कि जहां विकास हुआ है वहां महिलायें अपने पैरों पर खडी हुई हैं| इसीलिए पंजाब में भी विकास होना चाहिए |उन्होंने कहा कि मेरी इच्छा है कि आने वाले १०-१५ सालों में पंजाब की मुख्यमंत्री एक महिला ही बने|

ऍफ़ डी आई

राहुल गांधी ने खुदरा में विदेशी निवेश का विरोध करने वालों को भी आड़े हाथों लिया|उन्होंने ऍफ़ डी आई की सीधी सीधी परिभाषा बताई उन्होंने कह कि ऍफ़ डी आई का मतलब है किसान को सीधा पैसा देना मगर इस पर भी हामारा विरोध किया जा रहा है|विपक्ष खुद तो कुछ करता नहीएँ और जब सरकार कुछ अच्छा करने लगती है तो उसका रास्ता रोका जाता है|

पंजाब सरकार

कांग्रेस महासचिव ने पंजाब सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा कि आज यहाँ युवाओं की अनदेखी हो रही है ७०% युवा ड्रग के शिकार हैं| सभी बेरोजगारों को भत्ता नहीं दिया जा रहा |केंद्र से पैसा भेजा जाता है मगर उन यौजनाओं को लागू नहीं किया जाता|| इसीलिए युवाओं को राजनीती में आना होगा|

क़ानून मंत्री सलमान खुर्शीद ट्रस्ट मामले में अरविन्द केजरीवाल को अदालत में ले जायेंगें

केंद्रीय कानून मंत्री सलमान खुर्शीद बेशक श्रीमती सोनिया गांधी के लिए जान न्योछावर करने को तत्पर हैं मगर उनकी ढाल बनने को अभी तक कोई बड़ा कांग्रेसी नाम सामने नहीं आया है|शायद इसीलिए अब खुर्शीद ने स्वयम आई ऐ सी के नेता अरविन्द केजरीवाल को अदालत में घसीटने का मन बना लिया है| श्रीमति लुईस खुर्शीद ने ट्रस्ट पर लगे आरोपों को पहले ही खारिज कर दिया है| न्‍यूज चैनल आज तक के [ दुर्योधन ] स्टिंग ऑपरेशन में डाक्टर जाकिर हुसैन मेमोरियल ट्रस्ट पर विकलांगों के लिए प्राप्त सरकारी इमदाद को हड़पने का आरोप लगाया गया है|इस स्टिंग के बाद केजरीवाल ने खुर्शीद पर निशाना साधा था। केजरीवाल ने कहा था कि अगर देश के कानून मंत्री ऐसा काम करेंगे तो लोगों को किस तरह का इंसाफ मिलेगा यह सभी जान सकते हैं। उन्‍होंने इस मामले में कानून मंत्री को बर्खास्त करने और उनके खिलाफ केस दर्ज करने की मांग भी की थी। केजरीवाल ने इस मांग को लेकर यूपीए अध्यक्षा सोनिया गांधी के घर के घेराव करने का भी ऐलान कर डाला है।

क़ानून मंत्री सलमान खुर्शीद ट्रस्ट मामले में अरविन्द केजरीवाल को अदालत में ले जायेंगें


आरोप है कि पुर्व राष्ट्रपति डॉ. जाकिर हुसैन के नाम पर बने इस मेमोरियल ट्रस्ट, फर्रूखाबाद ने विकलांग कल्याण के नाम पर अफसरों के जाली दस्तखत और मोहर लगाकर घोटाला किया है। एनजीओ को केंद्र सरकार की ओर से करोड़ों रुपयों के [१.३९]फंड 2010 में दिए गए थे। पूर्व राष्ट्रपति के नवासे सलमान खुर्शीद इस ट्रस्ट के अध्यक्ष और उनकी पत्नी लुइस खुर्शीद इसकी प्रोजेक्ट डायरेक्टर हैं। चैनल ने दावा किया है कि डॉ. जाकिर हुसैन ट्रस्ट, फर्रूखाबाद का कामकाज उत्तर प्रदेश के 17 जिलों में फैला हुआ है। इस एनजीओ का पता सलमान खुर्शीद दिल्ली में मौजूद स्थायी घर 4, गुलमोहर एवेन्यू, जामिया नगर, नई दिल्ली है। डॉ. जाकिर हुसैन सलमान खुर्शीद के नाना और देश के पूर्व राष्ट्रपति हैं। इस ट्रस्ट की स्थापना 1986 में हुई थी। । वहीं, कांग्रेस की एक मात्र नेत्री रेणुका चौधरी का कहना है लुईस खुर्शीद (सलमान की पत्‍नी और एनजीओ को चलाने वाली) ने इस मामले की जांच करने के लिए यूपी सरकार को कह दिया है। रेणुका चौधरी आजकल गांधी परिवार के तरफ से केजरीवाल और बाबा राम देव के आरोपों का जवाब देने में चर्चा में आ रही हैं|

श्रीदेवी के कमबेक के लिए अपरम्परागत इंग्लिश विन्ग्लिश रुम्बा टेस्टी

नायिका प्रधान फिल्म ‘इंग्लिश विंग्लिश’ देख कर जब हाल से बाहर निकलने लगा तो देख कर बेहद सुखद आश्चर्य हुआ कि एक विशेष आयु और वर्ग के दर्शक फिल्म के टाईटल धुन पर थिरकते हुए + सर हिलाते हुए बाहर निकल रहे थे लेकिन इसके साथ ही महिलायें विशेष तौर पर नायिका की उम्र की महिलाये अंग्रेज़ी में नायिका के डायलाग्स को दोहरा रही थी और अपने बच्चों को अपनी अंग्रेज़ी प्रतिभा दिखा रही थी|
मेरी खुद की श्रीमती जी ,जिसने अभी अभी अमेरिका के वीजा के लिए इंटरवियु क्वालीफाई किया है, कहने लगी कि मुझे भी इंग्लिश क्लासेस ज्वाईन कर लेनी चाहियें|शायद ये सब किसी फिल्म की सफलता की गारंटी हो सकती हैं| दक्षिण एशियाई प्रवासियों से जुड़े पारिवारिक मसलों से पैक करके प्रस्तुत की गई मध्यम वर्गीय गृहिणी शशी की इस कहानी में श्री देवी के अतिरिक्त सभी कलाकारों ने पात्रों के साथ न्याय किया है| यहाँ तक कि फिल्म में लम्बे लम्बे अंग्रेज़ी और फ्रेंच भाषा के डायलाग बोलते समय कलाकारों ने शब्दों से ज्यादा अपने हाव भाव से भावनाओं का सजीव प्रदर्शन किया है| शायद इसीलिए डायलाग समझने के झंझट में फंसने के बजाये दर्शक अभिनय से ही मन्त्र मुग्ध रहता है लगातार स्पीड बना कर हलकी फुलकी भाषा में कसी हुई [टाईट ] स्क्रीन प्ले के माध्यम से दक्षिण एशियाई प्रवासियों से जुड़े, गंभीर मुद्दों को सराहनीय ढंग में उठाया गया है| जिसके परिवार वाले उसका ढंग से अंग्रेज़ी नहीं बोलने के कारण मज़ाक उड़ाते हैं। शशी गड़बड़ करती है, शब्दों का गलत उच्चारण करती है और अपने नज़दीकी लोगों (पति और बच्चों) द्वारा उपहास का विषय बनती है। जब भांजी की शादी तय करने के लिए न्यूयॉर्क जाने पर वो खुद को वहां के हलचल भरे माहौल में पाती है, तो आत्मविश्वास और अपने परिवार का सम्मान हासिल करने के लिए अंग्रेज़ी भाषा में पारंगत होती है और सबको चकित करती है | शशी को अक्षम महसूस कराने वाले किरदारों को विलेन कहना अतिश्योक्ति होगा क्योंकि उन्होंने बेशक अंग्रेज़ी बोलने में गलतियां करने वाली नायिका को लगातार ताने मार मार कर रुलाया है मगर इन्ही तानो से नायिका का चरित्र और सशक्त हुआ है| और शायद यही फिल्म की जान भी है|
|

श्रीदेवी के कमबेक के लिए अपरम्परागत इंग्लिश विन्ग्लिश रुम्बा टेस्टी


इसलिए इंग्लिश विंग्लिश मात्र अंग्रेज़ी के सबक या विदेशी लोकेशन के मोह से कहीं बढ़कर है| |४९ वर्षीय श्रीदेवी को पुनः सिल्वर स्क्रीन से जोड़ने के लिए पुराने जमाने की आफ बीट टाईप अपरंपरागत विषय चुन कर जो जोखिम उठाया गया था वह कारगर साबित हुआ है| मार्केट रिपोर्ट के अनुसार ओपनिंग वीक पर ही इस फिल्म की कमाई करीब 13 करोड़ रुपये बताई जा रही है|बेशक यह अभी १०० करोड़ के क्लब से दूर है मगर मार धाड़ और हाट फिल्मो के दौर में श्रीदेवी की इस जिंदादिल परफॉर्मेंस और गौरी शिंदे के डायरेक्शन ने दर्शकों पर जादू कर दिया है । बेशक श्री देवी के पति बौनी कपूर इस फिल्म को रोजाना देखना चाहते हैं मगर वास्तव में वेलपैकेड +अपरम्परागत इंग्लिश विन्ग्लिश दिल को छु गई है

हमने सी बी आई के अफसरों के खिलाफ इन्क्वायरी सेटअप करा देनी है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक भाजपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हसाडे अध्यक्ष जी का कमाल उन्होंने सहारनपुर में एलान कर दिया है कि सी बी आई आये दिन नेताओं को ब्लैक मेल करके केंद्र की भ्रष्ट सरकार को बचा रही है | ऐसी सी बी आई का पर्दाफाश किया जाएगा| ओये हसाडी सरकार बनाते ही हमने इस सी बी आई के अफसरों के खिलाफ इन्क्वायरी सेटअप करा देनी है|सब कुछ सेट कर देना है|

हमने सी बी आई के अफसरों के खिलाफ इन्क्वायरी सेटअप करा देनी है


झल्ला

मेरे भोले शाह जी बुजुर्ग फरमा गए हैं कि थुक्कान[थूक] से पकोड़े नहीं तला करते|आप कि सरकार तो जब आयेगी तब आयेगी मगर अभी तो केंद्र का घुस्सन्न [घूँसा]सामने ही है|इसीलिए महाशय जी माया+मुलायम+एम्. करुनानिद्धि+लालू प्रसाद यादव+ बी एस येदुयारप्पा+जगन मोहन रेड्डी आदि आदि में से कोई भी आपके झांसे में नहीं आने वाला |आपने जुबानी धमकी दी और इन सी बी आई पीड़ितों ने भी ज़ुबानी धमकी दे डाली है|इन धमकियों को एक्शन में तब्दील कोई नहीं करने जा रहा

राम नाम की पूँजी एकत्र करने को सत्संग में जाओ अपना वर्तमान+भविष्य उज्जवल करो

, सफदरजंग एन्क्लेव, नई दिल्ली में सत्संग के सुअवसर पर पुज्यश्री भगत नीरज मणि जी ने राम नाम के धन को सबसे बड़ा धन बताते हुए सत्संगों में राम नाम के धन को एकत्र करने का उपदेश दिया|
” जाके राम धनि वाको काहेकी कमी ”

राम नाम की पूँजी एकत्र करने को सत्संग में जाओ अपना वर्तमान+भविष्य उज्जवल करो

भगत नीरज मणि ऋषि जी ने बताया कि सभी संतजन एक ही बात कहते हैं कि जिस जिज्ञासु के पास राम नाम की पूँजी है वही सबसे बड़ा धनी है। जगत की
जितनी भी संपदाएं हैं वो इही लोक की हैं केवल भक्ति और नाम की पूँजी ही परलोक गामी है। हम जो भी कर्म रुपी बीज बोते हैं ,
परमात्मा वैसा ही फल हमारी झोली में दाल देता है। सत्य कर्मों का फल हमारे जीवन में सुख एवं वैभव के रूप में आता है तथा
पाप कर्मों का फल हमारे जीवन में कष्टों के रूप में आता है।
सत्य कर्मों से हमारी प्रारब्ध बनती है। हमारा वर्तमान उज्जवल होता है तथा जिसका वर्तमान उज्जवल होता उसका भविष्य
भी उज्जवल होता है। संतजन समझाते हैं की परमात्मा का नाम जपो, सत्संग में जाओ और राम नाम की पूँजी एकत्र करो और
अपना वर्तमान तथा भविष्य दोनों उज्जवल करो।
श्री रामशरणम् आश्रम , गुरुकुल डोरली, मेरठ

बसपा सुप्रीमो ने अपने कल के कड़े शब्दों को आज केंद्र सरकार के खिलाफ एक्शन में तब्दील नहीं किया :समर्थन जारी रहेगा

बसपा सुप्रीमो सुश्री मायावती ने कल अपनी विशाल रैली में जो तीखे या कड़े शब्दों का प्रयोग करके केंद्र सरकार पर प्रहार किये थे उन शब्दों को आज बसपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में पूर्व की तरह अमली जामा नहीं पहना सकी |उन्होंने केंद्र सरकार को सपोर्ट जरी राकहने के संकेत दे दिए हैं|इस फैसले से अगर उत्तर प्रदेश की सपा सरकार को निराशा हुई तो केंद्र की यूं पी ऐ को राहत भी मिली है|
मायावती ने मंगलवार को अपनी महारैली में यूपीए सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि बुधवार की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में बसपा संप्रग सरकार अपना समर्थन देने पर दोबारा विचार करेगी|पार्टी की कार्यकारिणी की बैठक के बाद मायावती ने प्रेस को संबोधित करते हुए कहा,”पार्टी कार्यकारिणी और पार्टी संसदीय बोर्ड ने समर्थन पर अंतिम फैसला लेने के लिए मुझे अधिकृत किया है. सभी पहलुओं पर विचार करने के बाद ही अंतिम फैसला लिया जाएगा.” मायावती ने आगे कहा, “पार्टी ने फैसले लेने की जिम्मेदारी मुझे दी है और अब मेरा फर्ज है कि देश और पार्टी के हित को मद्देनजर रखते हुए कोई फैसला लूं. जल्द ही इस संबंध में कोई निर्णय लिया जाएगा और इसकी जानकारी आप लोगों को दी जाएगी.”टीकाकारों की राय में मायावती का यह फैसला सोचा समझा और रणनीति का हिस्सा है. उनके इस फैसले पर कांग्रेस पर दबाव भी बनेगा और पार्टी कार्यकर्ताओं को वह बताने में कामयाब हो गई हैं कि चुनाव कभी हो सकते हैं और इसके लिए वह तैयार रहें
|

Mayavati Will Continue her support ko central govt.

बसपा सुप्रीमो ने अपने कल के कड़े शब्दों को आज केंद्र सरकार के खिलाफ एक्शन में तब्दील नहीं किया :समर्थन जारी रहेगा

इस निर्णय के कारण

[१]अगर मायावती अलग होती हैं तो ये संसद में यूं पी ऐ के समर्थकों का आंकड़ा हो जाता 283 यानि सरकार रहेगी तो बहुमत में ही, लेकिन माया के विरोधी मुलायम सिंह यादव और ताकतवर हो जाते.ऐसे में मुलायम का कद सरकार में काफी बढ़ जाता यह मायावती की राजनीतिक सेहत के लिए ठीक नहीं होता| जाहिर है इसे ही ध्यान में रखते हुए मायावती ने कोई फैसला नहीं लिया
[२].मायावती के सामने एक और बड़ी चुनौती भी थी और वो है आय से अधिक संपत्ति का केस. कल सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया कि उसने सीबीआई को बीएसपी अध्यक्ष मायावती के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के केस में आगे जांच करने से नहीं रोका है.सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उसने कभी ऐसा नहीं कहा था कि सीबीआई को इस केस में जांच करने का अधिकार नहीं है. सीबीआई आय से ज्यादा संपत्ति के केस में आगे जांच करने के लिए स्वतंत्र है, लेकिन इसके लिए उसे राज्य सरकार से इजाजत लेनी होगी. संभवत इसी छाया से डरते हुए मायावती ने एक बार फिर यूपीए सरकार को समर्थन बनाए रखने या वापस लेने के फैसले को कुछ दिनों के लिए टाल दिया है। उन्होंने कल ही अपनी रैली में कहा था कि यूपीए सरकार को समर्थन देने के मुद्दे पर वे आज फैसला लेगी। लेकिन उन्होंने उधर रैली में यूपीए सरकार को समर्थन देने पर पुनर्विचार का ऐलान किया और इधर सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई और मायावती को नोटिस जारी कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने अपने नोटिस में सीबीआई से कहा है कि अगर राज्य सरकार चाहे और अपनी अनुमति दे तो सीबीआई दोबारा मायावती के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले में जांच शुरू कर सकती है। शायद इसी नोटिस का कमाल है कि मुलायम सिंह की तरह सांप्रदायिक ताकतों को रोकने के लिए केन्द्र की यूपीए सरकार के समर्थन पर पुनर्विचार का विचार कुछ दिनों के लिए टाल दिया है। हां, उन्होंने इतना जरूर कहा कि उनका भी दल समाजवादी पार्टी की तर्ज पर आमचुनाव के लिए तैयार है।अर्थार्त हाथी की सूंड फिर सी बी आई के हाथों में आ गई है|दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के नेता शाहनवाज हुसैन ने मायावती पर यही आरोप लगाकर उनसे सफाई भी मांग ली है। हुसैन ने कहा है कि मायावती जैसे नेता एक ओर तो एफडीआई के मुद्दे पर केंद्र की आलोचना कर रहे हैं, दूसरी ओर उसी का समर्थन कर रहे हैं। क्या ये नेता सीबीआई से डरे हुए हैं? राजनीतिक पर्यवेक्षकों का भी कहना है कि मायावती के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति मामले में उच्चतम न्यायालय ने ‘सीबीआई को जांच के लिए स्वतंत्र है’ कह कर उन्हें पिछले पायदान पर ला दिया। अब वह समर्थन वापस नहीं ले सकती हैं।भाजपा के अध्यक्ष नितिन गडकरी ने मायावती को ललचाने के लिए यह लालीपाप दिखाया है कि भाजपा कि सरकार बनने पर नेताओं को ब्लैक मेल करने वाले सी बी आई के अफसरों के विरुद्ध जाँच करवाई जायेगी|
दरअसल मायावती खुद आय से अधिक संप‌त्ति के मामले में फंसी हैं।उत्तर प्रदेश में बसपा के पूर्व मंत्रिओं पर रोजाना भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे हैं |अब भाजपा जब पावर में आयेगी तब आयेगी फिलहाल तो सीबीआई और अदालती कार्रवाही का खौफ भी मुह फाड़े खड़ा है| इस सब के बावजूद अगर मायावती समर्थन वापिस लेती भी हैं तो भी केंद्र सरकार गिराने वाली नहीं उलटे सपा की बैसाखी की कीमत बढ जायेगी| ऐसे में केंद्र सरकार की नाराज़गी क्यूँ कर मौल ली जाए|शायद यही सोच कर मायावती आज केंद्र सरकार को समर्थन जारी रखने का एलान कर दिया है

बी डी एम् के सुधीर महाजन आज छुड़वा लिए गए

बी डी एम् के निदेशक सुधीर महाजन को छुड़वा लिया गया है पोलिस की जीप में अभी थोड़ी देर पहले ही महाजन को उनके निवास प़र लाया गया है| पोलिस ने दो अपहरण कर्ताओं को गिरफ्तार करने का दावा किया है|अपहरण के मास्टर माईंड बताये जा रहे ड्राईवर रविंदर अभी भी पोलिस की गिरफ्त से दूर ही हैं|यह महाजन परिवार के लिए अच्छी खबर है इसके साथ ही इस हाई प्रोफाईल केस को खोलने से पोलिस ने भी गुड वर्क दर्ज़ किया है|

बी डी एम् के सुधीर महाजन आज छुड़वा लिए गए


गौरतलब है कि दो करोड़ की फिरौती के लिए स्पोर्ट्स गुड्स निर्माण व्यवसाई सुधीर महाजन को बीती रात ग्यारह बजे एक पोलिस चौकी के सामने से किडनैप कर लिया गया था| मशहूर बैट्स बी डी एम् के निदेशक सुधीर महाजन की फिरौती के लिए २ करोड़ रुपयों की मांग की गई थी मवाना फलावदा रोड पर सुधीर की कार लावारिस रूप में खडी मिल गई थी
शक की सुई ड्रायवर रविंदर की तरफ घूमती रही|बताया जा रहा है कि मात्र एक माह पूर्व रखे गए इस इस ड्रायवर ने पहले भी तीन बड़े बड़े बिजनेस मेन के यहाँ थोड़े समय नौकरी करके छोड़ दी फिर महाजन के यहाँ एक माह पहले ही नौकरी की | रविंदर का कोई वेरिफिकेशन नहीं करवाया गया|यहाँ तक कि उसका कोई फोटो भी उपलब्ध नहीं हुआ|दो लोगों को गिरफ्तार करने की बात कही जा रहे है मगर फिरौती की रकम के विषय में कोई जानकारी सामने नहीं आई है|

अपहत सुधीर महाजन से पोलिस अभी भी दूर

दो करोड़ की फिरौती के लिए अपहत स्पोर्ट्स व्यवसाई सुधीर महाजन का अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है|पोलिस की छान बीन जारी है| सूत्रों के अनुसार मशहूर बैट्स बी डी एम् के निर्माता सुधीर महाजन की फिरौती के लिए २ करोड़ रुपयों की मांग की गई है|मवाना फलावदा रोड पर सुधीर की कार लावारिस रूप में खडी मिल गई हैलेकिन अपराधियों से हमेशा की तरह पोलिस की दूरी कम नहीं हुई है|
शक की सुई ड्रायवर रविंदर की तरफ घूम रही है|बताया जा रहा है के मात्र एक माह पूर्व रखे गए इस इस ड्रायवर ने तीन बड़े बड़े बिजनेस मेन के यहाँ थोड़े समय नौकरी करके छोड़ दी फिर महाजन के यहाँ एक माह पहले ही नौकरी की |महाजन के साथ ही ड्रायवर रविंदर के गायब होने से यह शक और पुख्ता होता जा रहा है|
क्राईम रेट्स के यकायक बढ जाने से शहर के व्यापारिओं में दहशत +असंतोष बढ़ता जा रहा है| संयुक्त व्यापार संघ और स्पोर्ट्स मेनुफेक्च्रिंग एसोशिएशन के मीटिंग्स जारी हैं|
गौर तलब है के अपराध की रोक थाम के लिए पोलिस अनेकों आपरेशन चलाने का दावा कर रही है |लेकिन अपराध बढ ही रहे हैं|शायद इसीलिए विपक्षी मायावती ने कल लखनऊ में उत्तर प्रदेश को अपराध प्रदेश की संज्ञा दे डाली |पिछले हफ्ते ही एक मशहूर न्यूरोलोजिस्ट डाक्टर विनोद अरोड़ा के यहाँ बड़ी लूट हुई थी |जिसका अभी तक माल बरामद नहीं हुआ है|उलटे उस पाश इलाके[साकेत]में पोलिस चौकी पर आज ताला लगा मिला|दूसरी पोलिस चौकी गंगानगर के सामने से ये सुधीर महाजन गायब हुए हैं| महाजन की कार की लोकेशन कल रात ही मिल गई थी मगर उसकी जांच की खाना पूर्ति आज सुबह की गई| सवाल उठाया जा रहा है की क्या फलावदा पोलिस रात को काम नहीं करती ? सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार दो भाईयों में भूमि विवाद को भी पोलिस देख रही है| अब कारण कुछ भी हो अपराध तो हुआ है और दुसास्हिक तरीक से हुआ है अगर बताये घटना क्रम को माने तो पोलिस चौकी के सामने से खड़ी गाड़ी से अपहरण हुआ है

अगर वाकई ऐसा हुआ है तो यह पोलिस और शासन को भी एक जोरदार चुनौती है|

ब्लूमिंग बड में आज पर्पल डे मनाया गया

साकेत स्थित वेंकटेश्वरा ब्लूमिंग बड नर्चिरिंग फ्यूचर प्ले स्कूल में आज बुधवार को पर्पल[जामुनी] डे मनाया गया|स्कूल की निदेशक अंजुल गिरी और प्रधानाचार्य सदफ खान ने पर्पल रंग का महत्व बताया|इसके पश्चात बच्चों और अधियापिकाओं द्वारा इसी रंग से सम्बंधित कविता प्रस्तुत की गई |इस अवसर स्कूल परिसर को जामुनी[पर्पल]रंग के गुब्बारों +झालरों से आकर्षक ढंग से सजाया गया था \यहाँ तक की पौशाकें भी इसी रंग में पहनी गई थी|चारु+ विधि+ज्योति+स्वाति+ऋतू +गुरप्रीत+ध्रुवा+कोकिल+मोना+सिल्की+विश्वास ने सहयोग दिया|

ब्लूमिंग बड में आज पर्पल डे मनाया गया