Ad

केजरीवाल आजकल :दया: का पात्र बनकर सियासी लुभाव लूटने में लगे

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

कांग्रेसी चिंतक

औए झल्लेया ये केजरीवाल को कौन सा कीड़ा काट गया है ?हमारे बार बार मन करने के बावजूद चुनावी समझौते के लिए हसाडी चौखट चूमने आ जाते हैं

झल्ला

माननीय केजरीवाल आजकल :दया: का पात्र बनकर सियासी लुभाव लूटने में लगे हैं
केजरीवाल आजकल दुत्कारे जाने का भी रिकॉर्ड बनाने पर यूंही नही तुले हुए हैं चुनांवों में हारने का ठीकरा फोड़ने को किसी दूसरे का सर् भी तो चाहिए और चुनांवों के पश्चात दया के पात्र बनने! का सौभाग्य मिलेगा लुभाव में