Ad

भाजपा को पंजाब में कम्बल[एसऐडी]नहीं छोड़ेगा [व्यंग]

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

औए झल्लेया! पंजाब में हुई हार से हम हताश नहीं हैं |हसाड़े नेतागण नै रणनीति पर जुट गए हैं ||हसाड़े संगठन मंत्री दिनेश कुमार जी ने “खन्ना” में फ़रमाया है के अकालियों की तकड़ी के भूलेकेमें कमल को कम वोट मिले |लोगी हसाड़े “कमल” को ढूँढ़ते ही रह गए|औए इसीलिए हमने घर घर कमल खिलाने की ठान ली है|

झल्ला

चतुर सेठ जी! बेशक आप कम्बल को छोड़ दो लेकिन ये कम्बल आप लोगों को नहीं छोड़ने वाला | अगली बार फिर आपने इन्हें १३ में से दस सीटें दे देनी उनमे से अगर ये दो पर जीते तो और आप लोग तीन पर लड़ कर २ सीटें हासिल करे तो हो जाने हैं बराबर बराबर |