Ad

मार्कंडेय काटजू की बात सोलह आने, सौ प्रतिशत सही है मगर शब्दों के चयन में हमेशा की तरह खोट हो गई

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक आम नागरिक

ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है? रिटायर[न्यायाधीश] होने के बाद प्रेस कौंसिल के सुप्रीमो बने माननीय मार्कंडेय काटजू साहब को अब ९०%भारतीय बेवकूफ नज़र आने लग गए हैं|उनके मुताबिक़ तो केवल १०% भारतीय ही सयाने हैं+अक्लमंद हैं+बुद्धिमान हैं |इसका मतलब तो ये हुआ कि केवल १०% सयाने ही देश को चला रहे हैं|राजनीती कर रहे हैं|

Jhalle dii Gallaan


झल्ला

माननीय मार्कंडेय काटजू ने एक समान दो मुकद्दमों में अलग अलग विरोधी निर्णय देकर यह साबित कर दिया था कि देश में बहुसंख्यक वाकई बेवकूफ हैं देश की दो बड़ी अदालतों[अलग अलग]में न्यायाधीश थे तो जालंधर और मेरठ में छावनी परिषदों की रिहायशी कालोनियों के विषय में अलग अलग निर्णय देकर जालंधर को अभय दान और मेरठ की शिवाजी कालोनी के रिटायर्ड+ अल्पाय+असहाय नागरिकों को जीवन भर की परेशानियों से नवाज़ा था| अब तो उन्होंने केवल अपने पुराने विचारों को जुबान भर ही दी है लेकिन अब एक बात कहनी जरूरी है कि इस बार उन्होंने बात तो सही कही है मगर उसके लिए शब्दों के चयन करने में शायद उनसे चूक हो गई है|

Comments

  1. Top Achievers are improvisors, not perfectionists. If you want to create more success in your life you have to move forward not knowing all the Answers.

  2. sat internet says:

    No one can make you feel inferior without your consent.

  3. fitness says:

    I intended to post you this very small word to give thanks over again for those breathtaking things you have shown on this site. This is so surprisingly generous of you in giving unreservedly just what some people might have sold for an ebook in making some money for themselves, mostly seeing that you could have tried it in case you decided. These tactics as well acted like the easy way to fully grasp someone else have a similar passion like my very own to figure out good deal more with reference to this issue. I think there are a lot more fun occasions up front for folks who looked at your blog post.

    1. Jamos says:

      Thanks for valuable and encouraging comments.Please keep visiting the site