Ad

Tag: अंतर्राष्‍ट्रीय वृद्ध जन दिवस-२०१३

अंतर्राष्‍ट्रीय वृद्ध जन दिवस-२०१३ के अवसर पर ८ व्‍यक्तियों/संस्‍थानों/राज्‍यों को वयोश्रेष्‍ठ का राष्ट्रीय पुरूस्कार:कांग्रेस शासित प्रदेशों को ७ पुरुस्कार

अंतर्राष्‍ट्रीय वृद्ध जन दिवस-२०१३ के अवसर पर ८ व्‍यक्तियों/संस्‍थानों/राज्‍यों को वयोश्रेष्‍ठ का राष्ट्रीय पुरूस्कार दिया जाएगा||
कांग्रेस शासित प्रदेशों को ७ पुरुस्कार दिए जायेंगे | अंतर्राष्‍ट्रीय वृद्ध जन दिवस-२०१३ के अवसर पर भारत में भी सामाजिक न्‍याय एवं अधिकारिता मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर अनेकों वृद्ध कल्याणकारी कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे |
संयुक्‍त राष्‍ट्र आम सभा ने 1990 में 01 अक्‍टूबर को अंतर्राष्‍ट्रीय वृद्ध जन दिवस घोषित किया था। सामाजिक न्‍याय एवं अधिकारिता मंत्रालय ने तय किया है कि 01 से 07 अक्‍टूबर 2013 तक इस दिवस को मनाया जाएगा। अंतर्राष्‍ट्रीय समुदाय का एक महत्‍वपूर्ण सदस्‍य होने के नाते भारत 2005 से प्रति वर्ष इस दिवस को अंतर्राष्‍ट्रीय वृद्ध जन दिवस के रूप में मनाता आ रहा है। राज्‍य सरकारों से भी आग्रह किया गया है कि वे प्रखंड स्‍तर तक अंतर्राष्‍ट्रीय वृद्ध जन दिवस मनाये।
उल्‍लेखनीय है कि इस वर्ष वयोश्रेष्‍ठ सम्‍मान को राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार का दर्जा दिया गया है। इस तरह के पहले राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार महामहिम राष्‍ट्रपति 01 अक्‍टूबर, 2013 को विज्ञान भवन में आयोजित एक समारोह में 08 व्‍यक्तियों/संस्‍थानों/राज्‍यों को विभिन्‍न वर्गों के लिए प्रदान करेंगे। वयोश्रेष्‍ठ सम्‍मान-2013 निम्‍नलिखित व्‍यक्तियों/संस्‍थानों/राज्‍यों को प्रदान किये जाएंगे:
क्रम संख्‍या=नं.=संस्‍थान/व्‍यक्ति के नाम
[1]वरिष्‍ठ नागरिकों को सेवा प्रदान करने और जनजागरण के लिए सर्वश्रेष्‍ठ संस्‍थान
वृद्ध सेवाश्रम, सांगली, महाराष्‍ट्र
[2]अभिभावकों एवं वरिष्‍ठ नागरिकों की देखभाल और कल्‍याण अधिनियम, 2007 के क्रियान्‍वयन तथा वरिष्‍ठ नागरिकों को सेवा एवं सुविधाएं प्रदान करने के लिए सर्वश्रेष्‍ठ राज्‍य
मध्‍य प्रदेश राज्‍य सरकार
[3]शतवर्षीय पुरस्‍कार
श्रीमती नारासम्‍मा, कर्नाटक
[4]प्रतिष्ठित मा‍तृ पुरस्‍कार
श्रीमती सिंधुताई श्री‍हरि सपकाल पुणे, महाराष्‍ट्र
[5]जीवन उपलब्धि पुरस्‍कार
श्री विनोदभाई व्‍रालाल वालिया, मुम्‍बई, महाराष्‍ट्र
[6]सृजन पुरस्‍कार
सुश्री नलिनी विनय मेहता, मुम्‍बई, महाराष्‍ट्र
[7]खेल एवं रोमांचकारी खेल पुरस्‍कार (पुरुष एवं महिला)
(i) डॉ. जी. एस. रंधावा, नई दिल्‍ली
(ii) श्रीमती दमयंती वी. ताम्‍बे, नई दिल्‍ली