Ad

Tag: इंडिगो एयर लाइन्स

चौधरी अजित सिंह अरबों रुपयों की लेनदारी तो वसूल नहीं पा रहे अब एयर इंडिया के निजी करण के लिए बयानों के लट्ठ घुमा रहे हैं

झल्ले दी झाल्लियाँ गल्लां

वाम पंथी चिंतित नेता

ओये झल्लेया ये चौधरी अजित सिंह को कौन सा कीड़ा काट गया ओये अच्छे खासे चलते चलते अब सरकारी करियर एयर इंडियाका निजीकरण करने पर तुल गए हैं|ओये[१] निजी एयर लाइन्स से दो हज़ार करोड़ की लेन दारी इनसे वसूली नही जा रही[२] ड्रीम लाइनर की एवज में बोइंग कंपनी से हर्जाना माँगा नहीं जा रहा[३] इनसे विदेशी निवेश लाया नहीं जा रहा[४] अपने गृह प्रदेश के साथ मंडल में भी छोटे एयर पोर्ट के निर्माण के लिएइनकी दाल नहीं गल रही ऐसे में अब ये महाशय एयर इंडिया के ही निजी करण के लिए लट्ठ घुमाने लग गए हैं|सिविल एविएशन मंत्री की हेसियत से चौधरी अजित सिंह ने चुनावों से मात्र छह महीने पहले मीडिया के समक्ष फरमाया है कि यदि राजनितिक इच्छा शक्ति जागृत हो जाये तो एयर इंडिया को ज़िंदा रखने के लिए इसका निजी करण किया जाना चाहिए|ओये ये लोग अपने खर्चे तो कम नहीं कर रहे उलटे बड़े जहाज भर कर लोगों को फ्री में लन्दन तक की सैर करा रहे हैं और अपनी पार्टी के लिए निशुल्क पब्लिसिटी लेने में लगे हैं और दूसरी तरफ ऐसे कर्मचारी विरोधी ब्यान देने में लगे हैं|

झल्ला

ओ मेरे भोले कामरेड ये तो आप जी ने भी मान लिया कि चुनाव आ रहे हैं ऐसे में चौधरी अजित सिंह की सारी उड़ानों पर पाबन्दी लगनी शुरू हो गई है| बेशक इनकी एयर इंडिया बेल आउट की मोहताज है लेकिन इसके बावजूद कंपनी ने बीते दिनों साडे छह हज़ार करोड़ रुपयों के बेल आउट की मांग कर दी इसमें से जितनी राशि इस वर्ष दी जानी थी उस पर भी वित्त मंत्रालय ने वीटो लगा दिया | चुनावों में इनकी पार्टी तीन सांसदों को तेरह करने में जुटी है मगर उत्तर प्रदेश में सपा की साइकिल से बार बार धकेला जा रहा हैअब ये तो आप भी मानोगे कि २००९ में दस सीटों पर चुनाव लड़ा पांच पर जीते इनमे से भी दो भाग गए अब बचे तीन इन्हें तेरह करके ही अगली संसद में दाएँ तरफ अच्छी सीट मिल सकेगी इसीलिए लगता है कि चौधरी अजित सिंह जिस तरह बयानों के लट्ठ घुमा रहे हैं उन्हें यूं पी ऐ से पर्याप्त सीटें नहीं मिल रही |कांग्रेस का बाहर से समर्थन कर रही सपा के चलते जाट और मुस्लिम समीकरण भी बिगड़ गया है ऐसे में कामरेड नए विकल्प तलाशना तो जायज है और उसके लिए इस प्रकार से भूमिका बाँधना तो बनता ही हैक्यों ठीक है न ठीक ?

इंडिगो एयर लाइन्स की १७७ यात्री लेकर उड़ान पर निकली एयर बस क्रेश होते बची :सभी सवार सुरक्षित

इंडिगो एयर लाइन्स की १७७ यात्री लेकर उड़ान पर निकली एयर बस क्रेश होते बची|:सभी सवार सुरक्षित बताये गए हैं| इंडिगो एयर लाइन्स की एक फ्लाईट का अगरतला में एक बड़े हादसे से बचाव हो गया|इस फ्लाईट में १८३ [यात्री+क्रू] सवार थे सभी सेफ बताये गए हैं| प्राप्त जानकारी के अनुसार अगरतला से दिल्ली के लिए बुधवार की सुबह उडान भरने के कुछ समय पश्चात ही कंपनी की एयर बस को एयर पोर्ट पर वापिस लैंड कराया गया|
एयर पोर्ट अथॉरिटीज ने इसके लिए किसी बड़े पक्षी से टक्कर होना बताया है|

ड्रग्स तस्करी में सेना के कर्नल अजय चौधरी के अलावा इंडिगो एयर लाइन्स के कर्मी भी हिरासत में लिए गए

भारतीय सेना के एक वरिष्ठ कर्नल रैंक के अधिकारी अजय चौधरी को मणिपुर में 20 करोड़ की ड्रग्स के साथ पकड़ा गया है| कर्नल ने ड्रग तस्करी में अपना हाथ होने से इंकार करते हुए अपने साथ साथ धोखा धडी का आरोप लगाया है|। कर्नल का कहना है कि उन्हें पता नहीं था कि गाड़ी में क्या सामान रखा हुआ है। अजय का कहना था कि उनसे सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह सामान ले जाने को कहा था कर्नल चौधरी के अनुसार उनके द्वारा पूछे जाने पर बंद बौरे में व्यापार का सामान बताया गया था |
बताया जा रहा है कि कर्नल चौधरी इंफाल में पिछले चार सालों से सेना के पीआरओ के तौर पर तैनात थे। इंटरनेशनल मार्केट में ड्रग्स की कीमत 15 से 20 करोड़ रुपये आंकी जा रही है।पुलिस ने मोरे की ओर जा रहे इन लोगों को पकड़ने का दावा किया है|। मोरे भारत और म्यांमार की सीमा के पास का गांव है। यह ड्रग्स तीनों वाहनों की छत पर लदी हुई थी हिरासत में लिए जाने के बाद कर्नल अजय चौधरी ने एक वरिष्ठ सेना के अधिकारी का नाम लिया है जिसे अभी सार्वजनिक नहीं किया गया है। दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार कर्नल अजय चौधरी के अलावा पांच स्थानीय नागरिकों और एक टेरिटोरियल आर्मी के एक सैनिक को भी हिरासत में लिया गया था। गिरफ्तार लोगों में इंडिगो एयरलाइंस का एक कर्मचारी भी था।बताया जा रहा है कि सेना द्वारा इसकी जाँच प्रारम्भ कर दी गई है मगर अभी तक नागरिक उड्डयन महानिदेशक और इंडिगो एयर लाइन्स की तरफ से कोई टिपण्णी या खंडन नहीं आई है|

इंडिगो एयर लाइन्स के सल्तनत से बगावती तेवरों को देख ब्रिटिश ऐरवेज बिदकी

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

निजी एयर लाइन्स इंडिगो का एक दुखी कर्मी

ओये झल्लेया ये कया हो रहा है?ओये एक तरफ तो हसाड़े सोने राहुल भाटिया इंडिगो को प्रोमोट करने के लिए दिन रात एक कर रहे है ऐ ३२० भरी भरकम बसों से लेकर छोटे ऐ टी आर प्लेन्स खरीदने की यौजना बना रहे हैं तो दूसरी तरफ सिविल एविएशन के साथ साथ ब्रिटिश एयर वेज भी नखरे दिखाने लगी है|सिविल एविएशन ने ११ऐ ३२० यात्री जहाज को इम्पोर्ट करे पर रोक लगा दी तो दूसरी तरफ ब्रिटिश एयर वेज ने हमारे साथ सहयोग करने के बजाय खुद ही हेदराबाद और चेन्नई के लाभ कारी रूट पर कब्ज़ा जमाने की घोषणा के साथ मुम्बई में [लाउन्ज] लॉंज खोलने के तैय्यारी कर रहे है|बेशक ब्रिटिश ऐरवेज का कोड शेयर पैक्ट किंग फिशर एयर लाइन्स के साथ है मगर वोह तो डूब ही गई समझो मगर ये लोग अभी भे उसी पर भरोसा रख रहे हैं|

झल्ला

वोह कहते हैं न कि अकलमंद को इशारा ही काफी होता है और बेवकूफ को लात का भी असर नहीं होता और आपलोगों के भाटिया और घोष तो सुपर अक्ल मंद हैं |इसीलिए आपने जरुरत से कम स्टाफ के साथ लाभ के तो रूट्स अपना लिए मगर थोड़े कम लाभ वाले टियर शहरों से परहेज किया| आना कानी की अजी अगर मनो तो आपन इंकार ही कर दिया| इसके अलावा प्लेन इंपोर्ट करने के नियम कायदे तक ताक पर रख दिए अर्थार्त मौजूदा सल्तनत से बगावत| वैसे किंग फिशर की बगावत काअंजाम तो आप देख ही रहे हो |जहाँ तक बात ब्रिटिश ऐरवेज की है तो भापा जी वोह तो खुद ही चडदी कलां में हैं|ऐसे में बगावती कम्पनी के भार को क्यूं ढोयेंगे|अन्ज्रेजों की इस कम्पनी में एक एस सूरी खुक्रायन अफसर है उन्हें भारतीय मरे हुए हाथी की भी कीमत का पता है | बोले तो वन इन हैंड्स इज बेटर देन २ इन बुश |

इंडिगो एयर लाइन्स ने शार्क्लेट वाली एयर बस ऐ – ३२० खरीदी

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

इंडिगो एयर लाइन्स का एक चीयर लीडर

ओये झल्लेया मुबारकान ओये देखा ह्साडी कंपनी ने एक और एयर बस ऐ ३२० [A320 aircraft equipped with Sharklet ]lखरीद ली है| इससे ऐ टी ऍफ़ की खपत में ४% की बचत होगी ओये तुम लोग बड़ी आलोचना करते फिरते हो ,देश में ६२ जहाज़ों के साथ कमाई में नंबर वन हसाडी इंडिगो अब शार्क्लेट [ Sharklet ]वालेयात्री विमान में भी नंबर वन हो गई है ओये हुन तो पैसा बरसे ही बरसे

इंडिगो एयर लाइन्स


झल्ला

सेठ जी बात तो वाकई वधाई वालीहै सो खैर मुबारक जी|लेकिन एक बात समझ में नहीं आ रही कि आपको फायनेंस करने वाली जर्मन डी वी बी ने आपको फेवोर करने का आरोप डी जी सी ऐ पर लगा कर आप को लोन देने से मना कर दिया था फिर ये शार्क्लेट वाली एयर बस को खरीदने के लिए पैसे कहाँ से आये ?

एयर लाइन्स के उद्धार के लिए विदेशी निवेशक क्यूं नहीं आ रहे:निवेश और फ्लाईट्सकी सुरक्षा की गारंटी चाहिए

आज कल भारतीय निज़ी एयर लाइन्स में व्यापार के छेत्र में अग्रणी रहने का गुणगान करने की हौड सी लगी हुई है| आये दिन विशेष कर इंडिगो,स्पाईस जेट एयर इंडिया, जेट आदि के आंकडें आते रहते हैं|अपने मुह मियां मिट्ठू बनने की रेस के पीछे सरकार की ऍफ़ डी आई की नीति हो सकती है| कम्पनियाँ विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने में लगी है |लेकिन दुर्भाग्य से अभी तक कंपनियों की इस चुमब्कीय शक्ति का प्रभाव दिखाई नहीं दिया है| इस नीति के अंतर्गत अब विदेशी निवेशक कम्पनी की इक्वेटी में ४९%तक निवेश कर सकते हैं|
कर्ज़ में डूबी किंग फिशर एयर लाईन्स के लिए अभी तक कोई विदेशी निवेशक सामने नहीं आया है| किंग फिशर,जेट और स्पाईस जेट भी साउदी अरेबियंस को लुभाने में लगे हैं यहाँ तक की ६१ फ्लीट से २५% मार्किट कब्ज़ा कर नंबर वन का ख़िताब अपने सर पर सजाये इंडिगो की वार्ता भी ब्रिटिश[सुरक्षित] एयरवेज से जारी है| यहइस कम्पनी के सबसे कमजोर विङ्ग [१]टिकेट्स और[२] लगेज के छेत्र में इम्प्रूवमेंट के लिए हो सकता है|
भारतीय उड्डयन का छेत्र अभी तक ऍफ़ डी आई को आकर्षित नहीं कर पाया है इसके पीछे बेशक कई कारण हो सकते हैं |निवेश और फ्लाईट्सकी सुरक्षा की गारंटी सबको चाहिएलेकिन दुर्भाग्य से इसका अभाव दिखाई दे रहा है|
[१]केंद्र सरकार की कुछ नीतियाँ
[२]टैक्स की भरमार
[३]कंपनियों में कर्मचारी असंतोष
[४]सेवा सुविधा का अभाव
[५]यात्रियों के प्रति व्यावसाईक द्रष्टिकोण का अभाव
[६]महंगे टिकेट्स आदि आदि
इन सबके अलावा एक मुख्य कारण है सुरक्षा का| फ्लाइट्स में देरी+दुर्घटना+दुर्व्यवहार +कर्मचारियों में असंतोष इनमे मुख्यत हैं|
जेट एयर लाइन्स क्रैश डाटा एवेलुएशन सेंटर [जे.ऐ.सी.डी.ई.सी]ने एक उड्डयन पर स्टडी रिपोर्ट प्रकाशित की है इसके द्वारा प्रकाशित सेफ्टी रैंकिंग में १० सुरक्षित और १० असुरक्षित एयर लाईन्स का उल्लेख किया गया है|सुरक्षित दस एयर लाइन्स में एक भी भारतीय सरकारी या निज़ी एयर लाईन्स को स्थान नहीं मिला है असुरक्षित एयर लाईन्स में एयर इंडिया को जरूर बीते ३० सालों में तीन क्रैश के साथ ३२९ मौतों के साथ टाप थर्ड स्थान दिया गया है|
अब सवाल यह उठता है कि सिविल एविएशन की नियामक डी जी सी ऐ के दावे थे कि कोहरे का असर फ्लाईट्स पर नहीं पड़ेगा [१]मगर कोहरे के कारण प्रतिष्टित आई जी आई एयर पोर्ट भी फ्लईट्स कैंसिल की गई| [२]यात्रियों के सामान के साथ खिलवाड़ की शिकायतें आ रही है|[३]यात्रियों के साथ दुर्व्यवहार के किस्से बन रहे हैं[४]|यात्रियों को कनेक्टिंग फ्लाईट्स नही दी जा रही|एयर पोर्ट को यात्रियों के साथ कंपनियों के लिए भी दिनों दिन महंगा किया जा रहा है|[५]प्लेन्स में बेचे जा रहे उत्पादों की गुणवत्ता की कोई जांच परख नहीं होरही [६] डोमेस्टिक उड़ान के लिए उड्डयन मंत्री चौधरी अजित सिंह अपने गृह प्रदेश, गृह जिला में भी कोई उपलब्धि हासिल नहें कर पाए हैं[७] अत्याधुनिक ड्रीम लाईनर कि दुर्दशा भी देखी जा रही है [८ ]यहाँ तक कि माननीय न्यायालय के आदेशों की अनदेखी करके टिकेट्स के रेट्स पर कोई नियंत्रण नही बनाया जा सका है|ऐसे में विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने के लिए पहले अपने गिरेबान में झांक कर अपने घर को सुरक्षित करना जरूरी है

इंडिगो फ्लाइट में आक्रामक शैख़ ने अच्छा खासा हंगामा खड़ा कर दिया:अब पोलिस की हिरासत में

मुंबई से दिल्ली आ रही इंडिगो फ्लाइट में एक यात्री पर फ्लाइट में ही मौजूद महिला यात्रियों से छेड़छाड़ का आरोप लगा है। विरार के बाबू तानसेन चॉल के निवासी इस दंगाई शख्स का नाम मोहम्मद मुरसलिम शेख बताया गया | दिल्ली पुलिस शेख से पूछताछ कर रही है।
सूत्रों के अनुसार दिल्ली की फ्लाइट संख्या 6ई196 में सफर कर रहे इस शेख की असामाजिक गतिविधियाँ से त्रस्त एक एयर होयटेस ने जब इसकी शिकायत की तब शैख़ भड़क गया और झगड़ा करने लगा।बताया जा रहा है कि शैख़ ने प्लेन में ही मजहबी नारे लगाये और प्रतिबंधित काकपिट में जाने का प्रयास किया| उसने प्लेन को नुकसान पहुंचाने की धमकी भी दी| प्लेन के पायलट ने दिल्ली एयरपोर्ट अथॉरिटी को पूरे मामले से अवगत कराया। इसके बाद शाम सवा 6 बजे जैसे ही फ्लाइट दिल्ली एयर पोर्ट पहुंची तो एअरपोर्ट सुरक्षा कर्मियों ने[ सीआईएसएफ] शेख को हिरासत में ले लिया और प्रारम्भिक पूछताछ के बाद दंगाई शेख को दिल्ली पुलिस के हवाले कर दिया गया।
बताया जा रहा है कि शैख़ ने मुंबई से उड़ान भरी थी। करीब एक घंटे बाद जब यह जयपुर के आसमान में थी तब 28 ए नंबर सीट पर बैठे 41 वर्षीय शेख ने अचानक अपने पीछे बैठी महिला पर अनाप-शनाप बकना शुरू कर दिया। इसके बाद उक्त महिला ने इसकी शिकायत क्रू मैंबर्स से की। लेकिन शेख क्रू मैंबर्स के समझाने पर भी नहीं माना और उल्टा उनसे उलझ गया। अचानक वह आक्रामक हो गया और उसने एयरहोस्टेस को थप्पड़ जड़ दिया। उसने प्लेन को नुकसान पहुंचाने की धमकी भी दी। क्रू मेम्बर्स ने कानून को अपने हाथ में नहीं लिया और दिल्ली एअरपोर्ट एथोरिटी को सूचित कर दिया| क्रू के व्यवसाईक व्यवहार से स्थिति बिगड़ने से बची मगर इस यात्री के आक्रामक रुख के कारण उसको अन्य यात्रियों की मदद से पकड़ लिया गया और दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरने के बाद उसको सीआईएसएफ को सौंप दिया गया। सीआईएसएफ ने उसे दिल्ली पुलिस को सौंप दिया है। दिल्ली पोलिस अब मुंबई पुलिस के सहयोग से शेख के बयानों की छानबीन कर रही है। गौरतलब है कि साड़े तीन साल पहले भी कम्पनी के एक विमान को हाई जेक करने का दुस्साह किया गया था जिसके आरोपियों को इसी माह सजा सुनाई गई है|