Ad

Tag: एयर इंडिया

एयर लाइन्स के लिए गुड गवर्नेंस का मोदी मंत्र नही चल पा रहा

लगता है कि गुड गवर्नेंस का मोदी मंत्र सिविल एविएशन में नहीं चल प् रहा तभी आये दिन विमान दुर्घटनाओं का ग्राफ बढ़ता जा रहा है |
इंडिगो+जेट+एयर इंडिया+स्पाइस जेट अर्थार्त कोई एयर लाइन्स दुर्घटना से अछूती नहीं रही है
लेटेस्ट एयर इण्डिया के दिल्ली से अहमदाबाद जा रहे एक विमान को आपातकालीन स्थिति में सांगानेर हवाई अड्डे पर उतारा गया।
भाषा ने सांगानेर हवाई अड्डे के अधिकारी के हवाले से यह खबर रिलीज की है |इसमें सवार १०३ यात्री सुरक्षित बताये गए हैं|विमान के गेयर में खराबी के कारण यह इमरजेंसी लैंडिंग कराई गई है | इसीवर्ष के जनवरी माह के पहले सप्ताह में भी इसी एयर पोर्ट पर लैंडिंग के समय एक विमान का एक टायर फटने और और एक ब्लेड भी टूटने कि घटना घट चुकी है |
देश में ही नहीं विदेशों में भी एयर इंडिया दुर्घटनाओं का शिकार हो रहा है मार्च में न्यूयॉर्क के जॉन ऍफ़ केनेडी एयर पोर्ट पर AI के बोइंग विमान एक दूसरे विमान से टकरा गया |बीते दिनों सबसे महंगे ड्रीम लाइनर की दिल्ली कोलकता फ्लाइट के विंडशील्ड में क्रेक हो गया और उसे दिल्ली लौटाया गया जबकि दो अन्य जहाज़ों को यूं एस ऍफ़ ऐ ऐ द्वारा दुर्घटन की आशंका में रुकवा लिया गया यूं के +आस्ट्रेलिया में भी समान घटनाएँ रिपोर्ट की जा चुकी हैं|
इसके अलावा एक अन्य विमान में यात्री द्वारा उत्पात मचा कर विमान को खतरे में डालने कि घटना हुई है |
ऑस्ट्रेलिया से दिल्ली आ रहे एयरइंडिया के विमान में एक यात्रीको चालक दल के सदस्यों ने रस्सियों से बांधकर उसे काबू किया।नेबताया जा रहा है कि यात्री नशे में था|यह घटनाक्रम बीते बुधवार का बताया गया है।
एयरइंडिया का यह विमान मेलबॉर्न से नई दिल्ली आ रहा था।

चौधरी अजित सिंह अरबों रुपयों की लेनदारी तो वसूल नहीं पा रहे अब एयर इंडिया के निजी करण के लिए बयानों के लट्ठ घुमा रहे हैं

झल्ले दी झाल्लियाँ गल्लां

वाम पंथी चिंतित नेता

ओये झल्लेया ये चौधरी अजित सिंह को कौन सा कीड़ा काट गया ओये अच्छे खासे चलते चलते अब सरकारी करियर एयर इंडियाका निजीकरण करने पर तुल गए हैं|ओये[१] निजी एयर लाइन्स से दो हज़ार करोड़ की लेन दारी इनसे वसूली नही जा रही[२] ड्रीम लाइनर की एवज में बोइंग कंपनी से हर्जाना माँगा नहीं जा रहा[३] इनसे विदेशी निवेश लाया नहीं जा रहा[४] अपने गृह प्रदेश के साथ मंडल में भी छोटे एयर पोर्ट के निर्माण के लिएइनकी दाल नहीं गल रही ऐसे में अब ये महाशय एयर इंडिया के ही निजी करण के लिए लट्ठ घुमाने लग गए हैं|सिविल एविएशन मंत्री की हेसियत से चौधरी अजित सिंह ने चुनावों से मात्र छह महीने पहले मीडिया के समक्ष फरमाया है कि यदि राजनितिक इच्छा शक्ति जागृत हो जाये तो एयर इंडिया को ज़िंदा रखने के लिए इसका निजी करण किया जाना चाहिए|ओये ये लोग अपने खर्चे तो कम नहीं कर रहे उलटे बड़े जहाज भर कर लोगों को फ्री में लन्दन तक की सैर करा रहे हैं और अपनी पार्टी के लिए निशुल्क पब्लिसिटी लेने में लगे हैं और दूसरी तरफ ऐसे कर्मचारी विरोधी ब्यान देने में लगे हैं|

झल्ला

ओ मेरे भोले कामरेड ये तो आप जी ने भी मान लिया कि चुनाव आ रहे हैं ऐसे में चौधरी अजित सिंह की सारी उड़ानों पर पाबन्दी लगनी शुरू हो गई है| बेशक इनकी एयर इंडिया बेल आउट की मोहताज है लेकिन इसके बावजूद कंपनी ने बीते दिनों साडे छह हज़ार करोड़ रुपयों के बेल आउट की मांग कर दी इसमें से जितनी राशि इस वर्ष दी जानी थी उस पर भी वित्त मंत्रालय ने वीटो लगा दिया | चुनावों में इनकी पार्टी तीन सांसदों को तेरह करने में जुटी है मगर उत्तर प्रदेश में सपा की साइकिल से बार बार धकेला जा रहा हैअब ये तो आप भी मानोगे कि २००९ में दस सीटों पर चुनाव लड़ा पांच पर जीते इनमे से भी दो भाग गए अब बचे तीन इन्हें तेरह करके ही अगली संसद में दाएँ तरफ अच्छी सीट मिल सकेगी इसीलिए लगता है कि चौधरी अजित सिंह जिस तरह बयानों के लट्ठ घुमा रहे हैं उन्हें यूं पी ऐ से पर्याप्त सीटें नहीं मिल रही |कांग्रेस का बाहर से समर्थन कर रही सपा के चलते जाट और मुस्लिम समीकरण भी बिगड़ गया है ऐसे में कामरेड नए विकल्प तलाशना तो जायज है और उसके लिए इस प्रकार से भूमिका बाँधना तो बनता ही हैक्यों ठीक है न ठीक ?

इंडिगो में बैग को लेकर हंगामा तो एयर इंडिया पर बैग गुम होने पर ७५ हजार का जुर्माना

एक तरफ विमानन कम्पनियाँ यात्रियों पर रोजाना किसी न किसी बात को लेकर किराया बढाने पर लगी हैं मगर दूसरी तरफ सेवाओं के नाम पर सामान को लेकर यात्रियों का उत्पीडन शुरू हो गया है |आय की द्रष्टि से पहले नंबर पर इंडिगो एयर लाइन्स हो या राष्ट्रीय केरियर एयर इंडिया | एयर इंडिया जहां यात्रियों के बैग संभाल नही प् रही है तो इंडिगो बैग को लेकर यात्रियों को जेल भिजवाने पर लगी है|इंडिगो एयर लाइन्स की एक फ्लाईट में सूत न कपास और सभी में लट्ठम लट्ठ वाली स्थिति आते आते बची|हर तरफ लिखा रहता है कि लापता बैग से बचो उसकी सोचना दो इसी से संबवत प्रेरित होकर एक यात्री ने लापता बैग के विषय में जानकारी दी तो उसे ही पोलिस के हवाले कर दिया गया एक यात्री पीएस चौहान ने सुरक्षा के लिहाज से प्लेन के स्टाफ को लापता बैग के विषय में बताया मगर इस व्हिसल ब्लोअर को ही निशाना बनाकर कार्रवाईकर दी गई,
प्राप्त जानकारी के अनुसार जिम्मेदार नागरिक का फर्ज़ निभाने वाले को शाबासी देने की बजाय उनसे संदिग्ध आतंकवादी जैसा व्यवहार किया गया।बैग के स्वामी ने आकर एयरपोर्ट के भीतर मौजूद स्टाफ को बताया कि वह बैग उसका है। प्लेन के अपरिपक्व / स्टाफ ने उसकी कोई बात नहीं सुनी बस बम.. का हल्ला उड़ा दिया। विमान का अप्रिशिक्षित स्टाफ ने बदहवासी के आलम में सब तरफ हंगामा बरपा दिया|यात्रियों को बेवाजः घंटों परेशानी झेलनी पड़ी |
एयर इंडिया को उपभोक्ता फोरम ने सात साल पहले सेवा में खामी के लिए अब कंपनी पर ७५,००० रुपये का जुर्माना लगाया है|
दिल्ली से एक शादी समारोह में शामिल होने के लिए बैंकॉक जाने वाले एक यात्री का सामान इंडियन एयरलाइंस में गुम हो गया था। दक्षिण पश्चिम जिला उपभोक्ता विवाद निपटान फोरम ने एयरलाइंस को खोया बैग ढूंढने में बुरी तरह असफल रहने का दोषी पाया। फोरम के मुताबिक यह सेवा में अक्षमता का मामला है।
नरेंद्र कुमार की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने एयरलाइंस को शादी समारोह वाले सामानों के एवज में ४०,००० रुपये तथा हर्जाने व अदालती खर्च के मद में ३५,००० रुपये भुगतान का आदेश दिया है ।

एयर इंडिया ने अपने स्टाफ की आंटियों के साथ अंकलों को भी मुंडे ते कुडियां बनाने की ठान ली है तो कौन सा जुलुम कर दिया

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एयर इंडिया का एक [४०+] दुखी कर्मी

ओये झल्लेया ये सरकार को कौन सी कीड़ी काट गई है| देखो अब इस उम्रे हमें फिटनेस टेस्ट देने को कहा जा रहा है|ओये तनख्वाह तो समय पर देते नही+वर्किंग हावर्स फिक्स करते नही+जिम भत्ता देते नही इसके बावजूद हमें अपनी फिगर को मेनटेन रखने को कहा जा रहा है|प्लेन की दुर्घटनाओं को छुपाया जा रहा है |संसद में जीरो एक्सीडेंट का झूठा दावा किया जा रहा है और इधर हमें धमकी दी जा रही है कि अगर हमने अपनी बॉडी शेप इनके आदेशों के अनुरूप नहीं बनाई तो छह महीने बाद हमारे फ्लाईंग भत्ते भी बंद कर दिए जायेंगे|ओ यार हमने तो इस सरकार कि तली[हथेली]पर हिंग [हींग]तो कभी रखी नहीं फिर ये क्यूं हमें देख देख कर किल्स रहे है|

 एयर इंडिया ने अपने स्टाफ की आंटियों के साथ अंकलों को भी मुंडे ते कुडियां बनाने की ठान ली है तो कौन सा जुलुम कर दिया|

एयर इंडिया ने अपने स्टाफ की आंटियों के साथ अंकलों को भी मुंडे ते कुडियां बनाने की ठान ली है तो कौन सा जुलुम कर दिया|


झल्ला

ओ बाऊ जी दरअसल आपके स्टाफ के सेवा अवधि [रिटायरमेंट की उम्र] बाकि एयर लाइन्स से दोगुनी है| आपजी की एयर लाइन्स में लगभग २५०० केबिन क्रू आयु के हिसाब से ४०+हैं |इनमे से अधिकाँश एयर होयटेस [परिचालिकाएं] हैं | आप जी के ही एक रैप सिंगर पायलेट को ये आंटियाँ दिखती हैं| अब सरकार ने इन आंटियों के साथ अंकलों को भी मुंडे ते आंटियों को कुडियां बनाने की ठान ली है तो कौन सा जुलुम कर दिया|

भापा जी प्रॉफिट की हवा में उड़ने वाली एयर लाइन्स के पावँ जमीन की समस्यायों पर नही रह पाते

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक दुखी हवाई यात्री

ओये झल्लेया ये एयर लाइन्स वालों ने हसाडा क्या मखौल बना रखा है|ओये एक तरफ तो ये लोग किफायती +तसल्लीबक्श और तुरंत सेवा देने के दावे करने के लिए विज्ञापनी ड्रम पीटते जा रहे हैं लेकिन ग्राउंड पर प्लेन टकरा रहे है जान सुखा रहे हैं + बैग गायब हो रहे हैं और अब तो हद ही हो गई ओये हाईली पेड +टेक्निकली सेफ कम्यूटर सिस्टम भी समस्या देने लग गया है| बीते सप्ताह अन्तराष्ट्रीय स्तर के आई जी आई एयर पोर्ट पर प्लेन्स के डोकिंग सिस्टम की हवा निकल गई और उसने टर्मिनल ३ से शद्युल्ड लगभग २१ फ्लाईट्स के घरेलू और अन्तराष्ट्रीय सैंकड़ों हवाई यात्रियों की डेड़घंटे तक हवा खराब कर के रखे रखी | अधिकाँश सस्ती सेवाओं का दावा करने वाली एयर लाइन्स की क्या यही वास्तविकता है?

भापा जी प्रॉफिट की हवा में उड़ने वाली एयर लाइन्स के पावँ जमीन की समस्यायों पर नही रह पाते

भापा जी प्रॉफिट की हवा में उड़ने वाली एयर लाइन्स के पावँ जमीन की समस्यायों पर नही रह पाते

झल्ला

ओ बाऊ जी साहब पुराने सयाने कह गए हैं कि हर चीज जो चमकती है उसको सोना नहीं कहते |नहीं समझे |अरे भापा जी प्रॉफिट की हवा में उड़ने वाली एयर लाइन्स के पावँ जमीन की समस्यायों पर नही रह पाते |

एयर इंडिया का खज़ाना खाली और मंत्री परेशां हो तो हाकी टीम की सदस्यता शुल्क भरने में देरी तो काबिले माफी है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक खेल का दुखी प्रेमी

ओये झल्लेया ये हसाड़े देश में क्रिकेट के अलावा दूसरे खेल के प्रेम को क्यों हतोत्साहित किया जा रहा है|पहले अन्तराष्ट्रीय ओलम्पिक कमेटी ने हसाडी फेवोरेट कुश्ती को ओलम्पिक खेलों से बाहर कर दिया |फिर स्पोर्ट्स अथोरिटी आफ इंडिया[एस ऐ आई] ने अन्तराष्ट्रीय प्रतियोगिता में जाने वाली एक टीम की हवाई यात्रा का खर्चा देने से मना कर दिया और अब अपने मुल्क की हाकी इंडिया ने हवा में उड़ने वाली एयर इंडिया की हाकी टीम की मान्यता समाप्त कर दी है|हॉकी इंडिया के सेक्रेटरी जनरल नरेंद्र बत्रा ने यह फरमान सुनते हुए अपनी मजबूरी जाहिर की है कि लगातार सूचना दिए जाने के बावजूद एयर इंडिया 2010-2011 से ही सदस्यता शुल्क जमा नहीं करवा पा रहा है, जिसके बाद राष्ट्रीय संस्था को मजबूरन यह फैसला करना पड़ा।ओये खेल जगत को बजट में कोई राहत नहीं दी गई उलटे रेल बजट में भाडा बड़ा कर खेल उद्योग की रीड तोड्ने का दुष्प्रयास किया जा रहा है|

एयर इंडिया का खज़ाना खाली और मंत्री परेशां हो तो हाकी टीम की सदस्यता शुल्क भरने में देरी तो काबिले माफी है

एयर इंडिया का खज़ाना खाली और मंत्री परेशां हो तो हाकी टीम की सदस्यता शुल्क भरने में देरी तो काबिले माफी है


झल्ला

ओ मेरे सोणे वीर जी दसल एयर इंडिया के महाराजा की कर्ज़ से दब कर रीड लगातार झुकती जा रहे है | एविएशन सेक्टर में किराये में कटौती को लेकर गला काट प्रतिस्पर्धा का दौर है|इसमें सर्वाईव करने के लिए एयर इंडिया को ४०% किराये भी कम करने पड़ गए हैं|इसके अलावा एयर इंडिया के मंत्री चौधरी अजित सिंह के प्रभावी पश्चिमी उत्तर प्रेदेश में चौधरी अजित सिंह के राजनीतिक पावं उखाड़े जाने के प्रयास हो रहे हैं| अब जब खज़ाना खाली हो और दिमाग परेशां तो सदस्यता शुल्क जमा करवाने में कोताही हो ही जाती है वैसे अब एयर इंडिया को इस बजट में ५००० करोड़ रुपये एलोट कर दिए गए हैं इससे सदस्यता शुल्क तो क्या नई हाकी भी आ जायेगी |जहाँ तक क्रिकेट की बात है तो ये खेल सरकार के अपनी जेब में ही है बोले तो राजीव शुक्ला+सचिन तेंदुलकर+ अजहरुद्दीन +++

एयर इंडिया के महाराजा की रीड सीधी करने के लिए बजट में बेल आउट पैकेज: डिफेन्स बढोत्तरी का आधा

एयर इंडिया के महाराजा की रीड सीधी करने के लिए बजट में बेल आउट पैकेज: डिफेन्स बढोत्तरी का आधा

एयर इंडिया के महाराजा की रीड सीधी करने के लिए बजट में बेल आउट पैकेज: डिफेन्स बढोत्तरी का आधा

लगातार लडखडा रही एयर इंडिया के महाराजा की रीड को सीधा करने के लिए आज बजट में ५००० करोड़ रुपयों के बेल आउट पैकेज की घोषणा कर दी गई है| यह रक्षा के लिए बढाए गए १० हज़ार +करोड़ रुपयों के पैकेज से आधा है|सिविल एविएशन मंत्रालय ने ८.५०० करोड़ की मांग की हुई है|यदपि सिविल एविएशन के छेत्र में फ़िलहाल आर्थिक ग्राफ ऊंचा हो रहा है लेकिन अभी भी पूर्ण लाभ की स्थिति में नहीं आई है|[२७]ड्रीम लाइनर यात्री जहाज़ की खरीदमें आई असफलता से भी निर्धारित लक्ष्य अभी दूर है|जस्टिस धर्माधिकारी की रिकमेन्डेशन को लागू किये जाने से कुछ सकारात्मक परिणाम की अपेक्षा की जा रहे है|इसके अलावा सिविल एविएशन अपनी प्रॉपर्टी बेच कर कर्ज़ चुकाने का प्रयास कर रही है|

एयर इंडिया विश्व में टॉप टेन में से एक एयर लाइन है जिसे सुरक्षा आडिट प्रमाणपत्र प्राप्त है

एयर इंडिया विश्व में टॉप टेन में से एक एयर लाइन है जिसे सुरक्षा आडिट प्रमाणपत्र प्राप्त है

एयर इंडिया विश्व में टॉप टेन में से एक एयर लाइन है जिसे सुरक्षा आडिट प्रमाणपत्र प्राप्त है

एयर इंडिया देश में पहला ऐसा एयरलाइन तथा विश्व में टॉप टेन में से है जिसे आईएटीए [I A T A]प्रचालन सुरक्षा आडिट प्रमाणपत्र प्राप्त है जो कि विमानन सुरक्षा मानकों के लिए एक पैमाना है।।नागर विमानन राज्य मंत्री वेणुगोपाल ने बताया कि जर्मनी के जेट एयरलाइनर क्रैश डाटा इवेल्युएशन सेंटर ने अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा मापदंडों के कारकों के अध्ययन के पश्चात पिछले 30 वर्ष की विमान दुर्घटनाओं तथा हताहतों के आंकड़े दिए हैं। इस अवधि के दौरान एयर इंडिया की सात तथा एयर इंडिया चार्टर्ड लिमिटेड की एक विनाशकारी दुर्घटनाएं हुईं।उन्होंने कहा कि चूंकि एआईसीएल [AICL]एयर इंडिया की पूर्ण स्वामित्व वाली कंपनी है इसलिए इसकी दुर्घटना को सैद्धांतिक रूप से एयर इंडिया की रैकिंग के खाते में नहीं डाला जा सकता। अत: जेएसीडीईसी[JACDEC] द्वारा उपयोग किया गया डाटा वास्तविक रूप से गलत है।जर्मनी के जेट [JET]एयरलाइनर क्रैश डेटा इवैल्युएशन सेंटर ने एयर इंडिया[AIR INDIA] को विश्व की सर्वाधिक असुरक्षित एयरलाइन बताया गया है।नागर विमानन राज्य मंत्री के सी वेणुगोपाल ने लेाकसभा में यह जानकारी दी।उन्होंने कि यह सही है कि जर्मनी के जेट एयरलाइनर क्रैश डेटा इवेल्युएशन सेंटर ने एयर इंडिया को विश्व की सर्वाधिक असुरक्षित एयरलाइन बताया गया है।गौरतलब है कि बीते दिनों जर्मनी कि इस कम्पनी ने भारतीय एयर इंडिया को विश्व में असुरक्षित कंपनियों में तीसरे पायदान पर रखा था |

एयर इंडिया के रैपर सिंगर पायलट की आह का असर: सुप्रीम कोर्ट ने डी जी सी ऐ को दिया अवमानना का नोटिस

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक दुखी भारतीय पायलट

ओये झल्लेया ये तो कमाल हो गया ओये हसाड़े मुल्क की सबसे बड़ी अदालत ने अवमानना का नोटिस जारी करके नागरिक उड्डयन की सभी हदें पर करने वाली नागरिक उड्डयन नियामक की धज्जियाँ उधेड़ दी हैं| ओये अब तो उड़ान भरने वाले पायलट्स के लिए कार्य सीमा निश्चित हो जायेगी पायलट्स श्रम दंड से बचेंगे और अंधाधुंध उडाई जाने वाली फ्लाईट्स की सेफ्टी भी बढेगी|

एयर इंडिया के रैपर सिंगर पायलट की आह का असर: सुप्रीम कोर्ट ने डी जी सी ऐ को दिया अवमानना का नोटिस

एयर इंडिया के रैपर सिंगर पायलट की आह का असर: सुप्रीम कोर्ट ने डी जी सी ऐ को दिया अवमानना का नोटिस


झल्ला

वाकई बाबू साहब पायलट्स को श्रम दंड[फटीग] से बचा कर फलाईट्स को भी किसी हद तक सेफ किया जा सकता है| मानना पड़ता है के आहों में असर होता है इसीलिए किसी की बुरी आह नहीं लेनी चाहिए अब देखो न रैपर सिंगर पायलट ने चिल्ला चिल्ला कर नाच कर एयर इंडिया को चेताया था मगर उसकी व्यथा को सुनने के बजाये अपनी धज्जियाँ छुपाने लग गए और उस बेचारे के धज्जियां उडानी शुरू कर दी गई|इस रैपर सिंगर पायलट की आह का असर होने लग गया है |

एयर इंडिया की धज्जियाँ छुपाने के लिए रैपर सिंगर पायलट की धज्जियां उडानी जरुरी हैं

झल्ले दी झल्लियाँ गल्ला

एविएशन सेक्टर का दुखी कर्मी

ओये झाल्लेया ये कया हो रहा है ?ओये हसाड़े नाल [साथ] ही ये जुल्म क्यों कर हो रहा है?? ओये हमने किस की खोती[गदधी] को छेड़ा है या किसकी तली[हथेली]पर हींग रख दी है ???ओये जब देखो जिसे देखो हसाड़े ग्राउंड स्टाफ से लेकर पायलटों को निशान बनाया जा रहा है| एन डी एल आर + इंडिगो +किंग फ़िशर एयर लाइन्स के साथ ही एयर इंडिया वाले भी हमारे जुबान और पेट पर लात मारने को उतारू हो रहे हैं |भाई एक बेचारे निराश पायलट ने एयर इंडिया की अव्यवस्थाओं पर गंग्नम स्टाईल में व्यंग करते हुए विडियो यू ट्यूब पर अपलोड क्या कर दिया कि सारे उसके पीछे ही पड़ गए | फ्लईट्स केंसिल हो रही हैं +तनख्वाहें नहीं मिल रही +हड़ताली पायलट्स की ऐसी की तैसी हो रही है+उधारी वसूली नहीं जा रही इन अव्यवस्थाओं को दूर करने के बजाय उस बेचारे २८ साल के युवा होनहार पायलट का कैरियर ही तबाह करने पर तुल गए हैं| उसने दबाब में माफ़ी भी मांग ली है मगर अभी तक कंपनी वालों की भवें सीधी नहीं हुई हैं|

झल्ला

ओ भोले साहब जी बेशक एयर इंडिया में सब कुछ ठीक नहीं है|ड्रीम लाइनर के ड्रीम्स मुंगेरी के सपने साबित हो रहे हैं+बेशक स्टाफ को तनख्वाह समय पर नहीं मिल रही + बेशक ऊपर वाले कम्पनी का बड़ा गर्क कर रहे हैं लेकिन इन सबके बावजूद आप जी के ये पायलट साहब ना तो जसपाल भट्टी या झल्ला हैं जो लोग इनकी बातों पर हँसेगे+ना ही ये साउथ वेस्ट एयर लाइन्स के फ्लाईट सहायक डेविड होल्म्स ही है जिन की ताल पर यात्री तालियाँ बजा कर संगत देंगे+ ये महाशय सबसे ताज़ा ताज़ा जस्टिस मार्कंडेय काटजू के आस पास भी नहीं हैकि अभिव्यक्ति के इनके अधिकारों कि रक्षा में पूरी सरकार इनके समर्थन में आ जायेगी| भाई पायलट साहब ने सीधे सीधे वर्दी पहन कर अपनी वेतन दाई एयर इंडिया की धज्जियां उधेड़ी हैं अब अपनी इन धज्जियों को छोटा साबित करने के लिए पायलट साहब की धज्जियों को उड़ाना भी तो जरुरी है|

I