Ad

Tag: केंद्र सरकार

भाजपा ने १६वी लोक सभा में जीत सुनिश्चित करने के लिए अपने कार्यकर्ताओं को इकट्टा किया

[मेरठ] १६वी लोक सभा के २०१४ में होने वाले चुनावों में जीत सुनिश्चित करने के लिए आज भाजपा ने मेरठ में अपने कर्मठ कार्यकर्ताओं को इकट्टा किया और अपने राजनीतिक कार्ड्स खोलते हुए प्रदेश में मुस्लिम तुष्टिकरण और देश में व्याप्त भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाने का आह्वाहन किया गया| |अवसर था

मेरठ हापुड़ से भाजपा के सांसद राजेंद्र अग्रवाल की पुस्तिका अपेक्षाओं की कसौटी पर हमारे सांसद

नामक पुस्तिका का विमोचन |पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डाक्टर लक्ष्मी कान्त वाजपई ने इस पुस्तिका का विमोचन किया |विमोचन करने के पश्चात वक्ताओं ने २०१४ में भाजपा कि सरकार बनने का आश्वासन दिया |
लगभग ९०० कार्यकर्ताओं की उपस्थिति में सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने लगभग ४ सालों में अपनी उपलब्धियां गिनाई |उन्होंने बताया कि बीते तीन साल के कार्यकाल में

२६६ दिन के सदन में उन्होंने २६२ दिन कि उपस्थिति दर्ज़ कराई है|२२ विभागों से जुड़े १३२ सवाल उठाये जिनमे से ७० सवाल मेरठ के बुनियादी ढांचे के विकास के सम्बन्ध में थे|

इसका नतीजा है कि एन सी आर में आने के बावजूद उपेक्षित चल रहा , मेरठ, केंद्र सरकार के फोकस में आ गया है|सांसद अग्रवाल ने केंद्र सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि ६५ सालों में कांग्रेस की सरकारों ने भ्रष्टाचार के नए रिकार्ड्स बनाये हैं| |आज केंद्र के पास विकास के लिए पैसा नहीं है|जो भी पैसा है वोह भ्रष्टाचार के लिए ही है|
जागरूक नागरिक मंच द्वारा आयोजित इस विमोचन समारोह में मुख्य अथिति के रूप में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और मेरठ शहर से विधायक डाक्टर लक्ष्मी कान्त वाजपई ने कहा कि जनता ने २०१४ में यूं पी ऐ को हटा कर एन डी ऐ को सत्ता सौंपने का मन बना लिया है |इसी तरह २०१७ में प्रदेश में भी भाजपा का कमल ही खिलेगा|डाक्टर वाजपई ने पार्टी लाईन पर लौटते हुए कहा कि प्रदेश सरकार मुस्लिम तुष्टिकरण की नीति पर चल रही है और बहुसंख्यकों के साथ अन्याय हो रहा है इसके विरुद्ध सभी को आवाज़ उठाना होगा |आन्दोलन छेड़ना होगा|
कुशल मंच संचालक का ख़िताब पाए करुणेश नंदन गर्ग के संचालन में सुरेश जैन ऋतुराज + छावनी विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल+दक्षिण के विधायक रविन्द्र भडाना +मेयर हरिकांत अहलुवालिया+पूर्व विधायक अमित अग्रवाल+मोहन लाल कपूर+ मेमोरी गुरु और कार्यक्रम के आयोजक सुधांशू सिंघल आदि ने भी विचार रखे|कार्यक्रम का आयोजन शास्त्रीनगर स्थित शिशु मंदिर शिक्षण संस्थान में हुआ

भाजपा ने कैग की रिपोर्ट को आधार बना कर केंद्र की कृषि ऋण माफी योजना की जाँच की मांग उठाई

किसानों की कर्ज माफी में भी अब घोटाले के आरोप लगने लगे हैं|यह आरोप किसी स्वयम सेवी संस्था ने नहीं वरन नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) द्वारा लगाये गए है और इन आरोपों को भाजपा ने मुद्दा बनाया है|भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राज नाथ सिंह ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से इस घोटाले की जांच कराने की मांग की है|
राजधानी भोपाल के जम्बूरी मैदान में ३ फरवरी रविवार को आयोजित किसान महापंचायत में कैग की रिपोर्ट के हवाले से प्रमुख विपक्षी दल के अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार ने किसानों के 60 हजार करोड़ के कर्ज माफ किए थे| इस माफी में हुए घोटाले को सीएजी ने अपनी रिपोर्ट में खुलासा किया है|यह आरोप लगाते हुए भाजपा अध्यक्ष ने केन्द्र सरकार की कृषि ऋण माफी एवं राहत योजना में भारी घोटाले का आरोप लगाया और मांग की है कि इस रिपोर्ट को संसद के पटल पर रखा जाए तथा इसकी सीबीआई से जांच कराई जाय | उन्होंने अपने आरोप को आगे बढ़ाते हुए कहा कि सीएजी की रपट से पता चलता है कि वास्तविक किसानों को कर्ज मिला ही नहीं है|:श्री सिंह ने केंद्र के दावे को चैलेन्ज करते हुए कहा कि इस योजना का साढ़े तीन करोड़ किसानों को लाभ मिला है। लेकिन कैग ने जब लगभग 90 लाख किसानों के खातों की जांच की, तो अधिकांश ऐसे थे, जिन्हें इसका लाभ नहीं मिला। जाहिर है कि इस योजना में भारी घोटाला किया गया है।

विकास और बहुमत के ऊंट पर सवार सोणी मन मोहनी सरकार को कोई न कोई काट ही लेता है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक सोश्लाईट

ओये झल्लेया ये कौन सी नई भसुडी पड़ गई है| ओये बलात्कारियों के लिए फांसी की मांग करना भी गुनाह हो गया|एक तो ये पोलिस और सरकार मिल कर भी कानून व्यवस्था को पटरी में नहीं ला पा रहे ऊपर से शांतिपूर्वक आन्दोलन क्या हुआ पोलिस और सरकार दोनों ही पटरी से उतर गए| पोलिस और दिल्ली की सरकार आपस में ही टकराने लग गए |इस अप्रिय घटना क्रम से बचने के लिए अब नया ष्ट्राग शुरू हो गया है | प्रदर्शन स्थलपर बेचारे एक पोलिस कांस्टेबिल सुभाष तोमर की दुखद मौत होने का नाजायज़ फायदा उठा कर हसाडीनई नई “आप” को ही कांस्टेबिल तोमर का कातिल ठहराया जाने लगा हैजबकि ऊपर वाले की कृपा से वहाँ एक प्रत्यक्ष दर्शी योगेन्द्र ने एन डी टी वी पर पोलिस की पोल खोल क़र रख दी है | योगेन्द्र का कहना है कि उसने[योगेन्द्र] ने स्वयम कांस्टेबिल को गिरते हुए देखा था और उन्होंने ही उसे अस्पताल पहुँचाया था |इस आई विटनेस के अनुसार सिपाही खुद भागते हुए गिरा और अस्पताल पहुँचाया गया |ऐसे में सुभाष की मौत को कत्ल बता कर कैसा इन्साफ किया जा रहा है| ओये वोह सिपाही तो बेचारा हार्ट पेशेंट था फिर भी उसको ऐसी कड़ी डयूटी पर लगाया गयाजिसके कारण वोह गिरा | उसकी मौत की तो निष्पक्ष जांच होनी जरूरी है|

झल्ला

पुरानी कहावत है +रिवायत है +सियासत है और उस पर गाना भी बना था कि वोह अफसाना जिसे अंजाम तक लाना न हो मुमकिन उसे एक खूबसूरत मौड़ देकर छोड़ना अच्छा| लेकिन दुर्भाग्य से जब भाग्य या किस्मत या लक ख़राब हो तो ऊंट पर बैठने पर भी कुत्ता काट ही लेता है|ये हसाडी सोणी मन मोहनी सरकार का भी भाग्य ख़राब चल रहा है|तभी सब कुछ अच्छा होने पर भी इस प्रकार की तोहमत लगती ही जा रही है| और अफसानों को मौड़ देते समय खुद ही भम्भड़ भूसे में पड़ जाते हैं|

विकास के ऊंट पर बैठी सोणी मन मोहनी सरकार को कोई न कोई काट ही लेता है

किंग फिशर एयर लाईन्स को पूरी तरह डुबोने के लिए कंपनी के विमान जब्त

गले तक कर्ज़ में फंसी किंगफिशर एयरलाइंस को उबारने के बजाय पूरी तरह से डुबोने के लिए आज मंगलवार को सरकार ने सर्विस टैक्‍स न चुकाने के चलते एयरलाइंस के खिलाफ कार्रवाई की और उसका विमान जब्‍त कर लिया। सूत्रों के अनुसार, किंगफिशर एयर लाईन्स सर्विस टैक्‍स चुकाने में नाकाम रही है। कम्पनी पर करोड़ों रुपये के टैक्स बकाया है। सूत्रों के अनुसार इसकी भरपाई के लिए आने वाले दिनों में एयरलाइंस के सात और विमानों को जब्‍त करने की प्रकिया जारी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार एयरलाइंस के अधिकारयों ने उच्‍च अधिकारियों से संपर्क करके विमान के खिलाफ की गई कार्रवाई पर स्‍थगन आदेश के लिए कोशिश की, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। गौरतलब है कि कंपनी को 7000 करोड़ रुपये के ऋण का भुगतान करना है। यह उसकी वित्तीय हेसियत कही अधिक है|
सरकार पहले ही कह चुकी है कि किंगफिशर एय़रलाइंस का उबरना मुश्किल है. और इसीलिए घाटे में चल रही किंगफिशर एयर लाईन्स की उड़ानों पर पहले ही से रोक लगी हुई है. एयरलाइंस का लायसेंस भी निलंबित है और अब फिर से उड़ान भरने के लिए नए सिरे से लाइसेंस के लिए आवेदन करना जरूरी बना दिया गया है|
मुंबई में किंगफिशर एयर लाईन्स का विमान जब्त हुआ है इससे लगता है कि बात चीत के सारे रास्ते बंद हो चुके हैं और अब किंगफिशर एयरलाइंस की संपत्तियां जब्त होना शुरू हो गई है,| किंगफिशर के कर्मचारियों के भविष्य को लेकर अब भी सस्पेंस बना हुआ है|शायद किंग फिशर एयर लाईन्स के इस प्रकार के पतन और इसे उबारने में सरकार की उपेक्षा के चलते ही विदेशी निवेशक इस दुधारू व्यवसाय में रूचि दिखने में हिचक रहे हैं|

Vijay Malya The King Fisher


यहाँ तक कि विश्व में १०० अरब डालर्स के व्यवसाई रतन टाटा भी इस व्यवसाय से जुड़े उद्योग को भारत के बजाय चीन में लगाने की बात कह चुके हैं|
कहना अनुचित नहीं होगा कि सरकर की नीतियों के चलते ही किंग फिशर एयर लाईन्स का पतन हुआ है और इसका फायदा दूसरी कम्पनियाँ उठा रही है |इस एक कम्पनी के मैदान से हटने के फलस्वरूप अब इंडिगो+ स्पाईस जेट या जेट ऐरवेज आदि पर टिकट्स की दरें सीमित रखने में सरकार भी असहाय दिख रही है|