Ad

Tag: नरेंदर मोदी

अमेरिका ने भी भारतीय राजनीती की हवा का रुख भांप कर कहा ,नरेंदर मोदी वीजा के लिए अप्लाई करने को स्वतंत्र हैं


झल्ले दी झल्लियां गल्लां

कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है?देख तो अमेरिका कैसे गिरगिटी रंग बदल रहा है|ओये हसाड़ी सोणी अध्यक्षा श्रीमती सोनिया जी गांधी ने कर्नाटका मे दिए अपने भाषण में गुजरात के मुख्य मंत्री नरेंदर मोदी को जहर की खेती उगाने वालाबतायाइसके बावजूद अमेरिका कह रहा है कि मौत के सौदागर मोदी अगर चाहें तो अमेरिका के लिए वीजा अप्लाई कर सकते हैंस्टेट डिपार्टमेंट के डिप्टी स्पोक्सपर्सन मैरी हर्फ़[ MarieHarf] ने खुले आम प्रेस कांफ्रेंस में मोदी को यह न्यौता दे दिया है|Jhalla Sablok

झल्ला

अरे मेरे चतुर सुजाण जी २००२ के दंगों के लिए आप लोगों ने २००५ में अमेरिका के लिए मोदी का वीजा कैंसिल करवा दिया था|उस समय आपकी चलती थी अब मोदी के डबल मार्च से आप के विश्राम में जाने के आसार बन रहे हैं ऐसे में अमेरिका जैसा चतुर व्यापारी हवा का रुख देख कर ही कदम बढ़ाता है |

नरेंदर मोदी के खिलाफ गुजरात में महिला जासूसी का जाँच आयोग डूबती कांग्रेस के लिए”तिनके”का काम कर सकेगा ?

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

कोंग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया मुबारकां ओये हसाडे हाई कमान की समझ में आ ही गया ओये भाजपाई नरेंद्र मोदी और उसके सिपहसालार अमित शाह ने जिस महिला की जासूसी करवा कर मानव अधिकारों के हनन का दुष्प्रयास किया था अब उसकी जाँच करवाने के लिए कानूनी धारा ३ के अनुसार जांच आयोग नियुक्त किया जायेगा ओये अब देखते हैं कैसे ये महाशय जी हसाडे सोणे मन मोहने से पी एम् की कुर्सी छीनते हैंओये हसाडे राजा जी दिग्विजय सिंह जी ने भीकेबिनेट के इस फैसले के लिए मीडिया में बधाई उछाल दी हैं |अब अरुण जैटली जैसे काटते रहे अदालतों के चक्कर पे चक्कर

झल्ला

अरे मेरे चतुर सुजाण जी बात मेरी सुणो खोल के दोनों कान जी गुजरात के दंगों के आरोपों से अमित शाह और नरेंदर मोदी बाहर होते दिखाई दे रहे हैं शायद २०१४ तक के चुनावों तक यह मुद्दा आप जी के हाथों से फिसल सकता हैं और चूंकी आप जी की नैय्या गोते खाने लग गई हैं ऐसे में तो डूबते को तिनके का सहारा ही काफी होता हैं और ये तरुण तेजपाल के चेले कोबरा पोस्ट+गुलेल डाट कॉम वालों ने जो ये महिला जासूसी की नई भसूड़ी डाली हैं वोह तो मोदी के साथ साथ येदियुरप्पा रूपी तिनकों ,माफ़ करना, लट्ठों का सहारा साबित हो सकता हैं

“ना गिण ते न घाटा पा”कहावत का पालन करते हुए ही कांग्रेसी अपनी करनी का हिसाब नहीं दे रहे होंगे

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

देहलियाईट भाजपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया ये कांग्रेसियों ने क्या गंद घोला हुआ है? ओये जनता पिछले साढ़े चार साल का हिसाब मांग रही है और इसके ‘घमंडी नेता जनता को अपने कुशासन का हिसाब नहीं दे रहे हैं उलटे हसाडे करिश्माई नरेंदर भाई मोदी की टांग खींचने में लगे हुए हैं महंगाई + विकास+भ्रष्टाचार+बेरोजगारी+अपराध+सीमा की समस्यायों पर सवाल करने पर गुजरात को लेकर मोदी जी को बदनाम करने की सारी तिकड़में लगाने में लगे हुए हैं |और तो और दिल्ली में मोदी जी की रैली को बदनाम करने के लिए इन्होने बेनामी पर्चे बंटवा दिए

झल्ला

भापा जी पुराणी कहावत है “ना गिण ते न घाटा पा” व्यापारी अगर जाम पूंजी गिनने लगता है तो व्यापार में घाटा होने लगता है इसीलिए कांग्रेसी बंधू अपने कर्मों का हिसाब देने से बच रहे होंगे|

उमर अब्दुल्लाह के लिए पाकिस्तान से वार्ता को समर्थन करने के अलावा दूसरा”विकल्प” क्या है ?

झल्लेदीझल्लियांगल्लां

नेशनलकान्फ्रेन्सचीयरलीडर

ओये झल्लेया मानता है न कि हसाडे मुख्य मंत्री जनाब उमर अब्दुल्ला असली भारतीय हैं ओये उन्होंने फरमा दिया है कि भारत और पाकिस्तान के बीच प्रमुख मुद्दों के समाधान के लिए दोनों देशों की वार्ता को समर्थन जारी रखा जाएगा ।हमने हमेशा से वार्ता का समर्थन किया है और हमेशा इसका समर्थन करेंगे। इसके अलावा उन्होंने कह दिया है कि प्रधानमंत्री पद के लिए भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी अगर श्रीनगर में रैली करना चाहेंगे तो उन्हें कतई रोका भी नहीं जायेगा

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण जी जम्मू कश्मीर में अपनी कुर्सी बचाने के लिए आप जी के उमर अब्दुल्लाह के पास ,पाकिस्तान से बातचीत करने के अलावा ,कोई दूसरा विकल्प है क्या?और जनाबे ख़ास आपको मालूम होना चाहिए कि टपके का डर तो विश्व प्रसिद्द है इसीलिए अगर नरेंदर मोदी पी एम् बन कर टपक पड़े तो ?? हो जायेगी ना तो तो तो

कोंग्रेस ने मोदी पर लड़की की जासूसी का चार्ज लगाया भाजपा ने रिचार्ज होकर कांग्रेस को घेरा मगर मुद्दे डिस्चार्ज हो कर रह गए

कोंग्रेस ने नरेंद्र मोदी पर लड़की की जासूसी का चार्ज लगाया भाजपा ने इससे रिचार्ज होकर कांग्रेस को घेरा मगर राष्ट्रीय मुद्दे डिस्चार्ज हो कर रह गए |
कांग्रेस की महिला नेत्रियों ने आज भारतीय जनता पार्टी के पी एम् के उम्मीदवार नरेंदर मोदी को घेरते हुए गुजरात में एक महिला की जासूसी कराने का चार्ज लगाया जिससे भाजपा रिचार्ज हो गई और जासूसी के बजाय उसे पीड़िता को सुरक्षा प्रदान कराने की बात कह कर चुनावी मुद्दा बनाने का प्रयास किया लेकिन इस सबके बीच महंगाई+भ्रष्टाचार+रुपये के अवमूल्यन+सीमा पर अशांति जैसे ज्वलंत मुद्दे डिस्चार्ज हो कर गए |
गुजरात सरकार द्वारा एक महिला की कथित जासूसी कराए जाने के मामले की जांच की मांग कर रही कांग्रेस पर भाजपा ने आज यह कहकर पलटवार किया कि कांग्रेस और उससे जुड़े लोगों ने मामले को अनावश्यक रूप से सार्वजनिक कर एक गम्भीर अपराध किया है ।
भाजपा प्रवक्ता मीनाक्षी लेखी ने कहा कि मामले से जुड़ी महिला और न ही उसके परिवार के सदस्यों ने इस बारे में कुछ कहा है तो फिर कांग्रेस को जांच की मांग करने का कोई अधिकार ही नहीं है ।उन्होंने कोंग्रेस को ख्वाहमखःकांग्रेस बताया | उन्होंने इसे गुलेल + कोबरा+तहलका+आदि न्यूज़ पोर्टल्स के सहयोग से कांग्रेस की साजिश बताया |उन्होंने कहा कि लड़की के पिता ने मुख्य मंत्री से अपनी बेटी की सुरक्षा की मांग की थी जिसके जवाब में यह सुरक्षा प्रोवाइड कराई गई|उन्होंने टेलेग्राफ एक्ट+प्राइवेसी एक्ट के उलंघन का आरोप कांग्रेस पर लगाया |इसके साथ ही सी बी आई के कब्जे वाली सी डी का प्रयोग गुलेल द्वारा किये जाने की जांच की मांग भी उठा दी| इसके साथ ही मीडिया की तरफ ऊँगली उठाते हुए कहा कि पोर्टल की वेबसाइट पर बचाव के लिए लिखा गया है कि यह सी डी प्रमाणित नहीं है इसके बावजूद इसे चैनलों पर दिखाया जा रहा है|
नरेंदर मोदी जब बेंगलुरु रैली में भाषण देने के लिए मंच पर तैयार बैठे थे, तब दिल्ली में उन पर कांग्रेस की महिला नेताओं द्वारा हमला बोला गया । कांग्रेस की शीर्ष चार महिला नेता कथित तौर पर एक युवती का पीछा [जासूसी]करवाने के लिए मोदी द्वारा सरकारी मशीनरी के दुरुपयोगों को लेकर सवाल दाग रही थीं।
कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित इस प्रेस कांफ्रेंस में केंद्रीय मंत्री गिरिजा व्यास+ जयंती नटराजन+ महिला कांग्रेस प्रमुख शोभा ओझा+ उत्तर प्रदेश कांग्रेस की पूर्व प्रमुख रीता बहुगुणा जोशी ने चार्ज लगाया कि गुजरात पुलिस के समूचे आतंकवाद निरोधक दस्ते द्वारा युवा महिला का पीछा करने और जासूसी करने से हर महिला का सम्मान और मर्यादा दांव पर है।नेत्रियों ने कहा कि यदि सरकारी तंत्र का दुरूपयोग किया गया है, तो निश्चित तौर पर मोदी के पास गुजरात में शासन करने का कोई नैतिक और राजनैतिक अधिकार नहीं है।
कांग्रेस की इस प्रेस कांफ्रेंस के बाद मीनाक्षी लेखी ने भाजपा का रुख स्प्ष्ट किया
गौरतलब है कि खोजी वेबसाइट कोबरापोस्ट + गुलैल ने 15 नवंबर को दावा किया था कि गुजरात के पूर्व गृह मंत्री और मोदी के करीबी सहायक अमित शाह ने ‘साहब’ के इशारे पर एक महिला की निगरानी[जासूसी] का आदेश दिया था।इस पर भाजपा राष्ट्रिय अध्यक्ष राज नाथ सिंह ने कहा था कि लड़की के पिता के आग्रह पर यह सुरक्षा मुहैय्या करवाई गई थी
इस दावे की पुष्टि के लिए शाह और एक आईपीएस अधिकारी के बीच बातचीत का टेप [सी डी]जारी किया था। लेकिन इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि इसकी प्रामाणिकता की पुष्टि नहीं की जा सकती।
वर्त्तमान में अमेरिकी $ के मुकाबिले भारतीय रुपया लुढ़क रहा है,। एक्सपोर्ट नहीं हो पा रहा है। सरकारी नीतियों के चलते देश का पशुधन खतरे में है। इन सभी मुद्दो पर चर्चा कराने के बजाय देश कि दोनों बड़ी पार्टियां केवल एक दुसरे पर आरोप प्रत्यारोपों के बल पर ही चुनावी वैतरणी पर करने के लिए प्रयास रत दिख रही हैं

खजाने की खोदाई में अध्यात्म शास्त्र को पीछे छोड़ कर विज्ञानशास्त्र के नाम पर राजनीती शास्त्र का पाठ शुरू हुआ

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

हैरान परेशान इंडियन

ओये झल्लेया ये हसाडे सोणे मुल्क में क्या भसूड़ी पे गई है|ओये भाजपाई नरेंदर मोदी कांग्रेस की ऐसी तैसी करने के लिए आये दिन खजाने तलाशने का तंज दे रहे हैं तो दूसरी तरफ ऐ एस आई वगैरह वगैरह
अब तक की खोदाई में एक दमड़ी भी नहीं निकाल पाये हैं और अब वहाँ से सही सलामत निकलने की जुगत लड़ा रहेहैं |सरकारी अमले को भाभड़ भूसे में डाले रखने के लिए संत शोभन सरकार ने निशुल्क + बिना मांगे सरकार के हट जाने के ४८ घंटों में ही खजाना निकाल कर दे देने का आशीर्वाद उछाल दिया है|यार संतों के इस आशीर्वाद और सियासी अकर्मण्यता के अभिशाप के चक्कर में उन्नाव के डोंड़िआ खेड़ा में खोदाई के नाम पर हमारे टैक्स के लाखों रुपये गर्क हो चुके हैं पता नहीं कहाँ जा कर रुकेगा यह सिलसिला ?

झल्ला

अरे आदरणीय +माननीय+श्रीमान जीआपके संत शोभन सरकार यह भूल गए कि राजा राव रामबख्श सिंह के किले में खजाने को खोजने के लिए सरकार को आदेश उन्होंने ही दिया था अब जब सरकारें आ जाती हैं तो उन्हें लौटाने के लिए “सरकार” बेचारी साबित हो जाते हैं| अच्छे से अच्छी सरकारें भी अध्यात्म शास्त्र को पीछे छोड़ कर विज्ञानशास्त्र के नाम पर राजनीती शास्त्र का पाठ शुरू कर देती हैं इसीलिए कम से कम हिंदी भाषी चार राज्यों में चुनावों तक तो राजनीती शास्त्र ही चलेगा |जिसके अनुसार चुनावों तक खजाने के लिए खोदाई बंद करके विपक्ष को सत्ता की खोदाई का अवसर प्रदान नहीं किया जा सकता |

लता ने पुरुस्कारों के लिए मांगे जाने पर हर साल की तरह सर्व गुण संपन्न कलाकारों के नाम भेजे :अब कोई सुझाव नहीं देंगी

पद्म पुरुस्कारों के लिए सिफारिश करने वालों में स्वर कोकिला लता मंगेशकर के नाम को घसीटे जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए लता ने रोमन इंग्लिश में ट्वीट किया है कि हर साल पुरुस्कारों के लिए गठित समिति के पत्र आते रहते हैं और मुझसे पुरुस्कारों के लिए सुपात्रों के नाम पूछे जाते हैं[ ye puraskaar ki jo samitee hai unka letter aata hai aur usme likha hota hai ki aap jo naam uchit samajhti hai’n unke naam aur bio data wo mujhse mangwaate ] उन्होंने स्वीकार किया कि उन्होंने पद्म पुरुस्कार के लिए अपनी बहन उषा मंगेशकर और सुरेश वाडेकर के नाम सुझाये थे उषा पिछले ५० सालों से पार्श्व गायन में हैंउषा ने असम +गुजराती+हिंदी+मराठी+राजस्थानी भाषाओं में लोक प्रिय गाने गाए हैं|इसी प्रकार सुरेश भी पिछले ४० सालों से अनेक भाषाओं में गा रहे हैं| इसके अलावा आज तक मैंने हर साल कई लोगों के नाम भेजे हैंइनके संगीत विद्यालय हैं और शिष्य विश्व भर में हैं अब ऐसे सर्व गुण संपन्न प्रतिभाओं के नाम नहीं देती तो किनके नाम देती |लेकिन आगे से में ऐसे कोई सुझाव नहीं दूंगी .[ Par aainda se main unhe koi sujhao nahi dungi ] पिछले बीते दिन लता मंगेशकर को बदनाम करने की नियत से यह खबर लीक की गई कि उन्होंने पद्म पुरस्कारों के लिए अपनी छोटी बहन उषा मंगेशकर और गायक सुरेश वाडेकर के नाम की सिफ़ारिश की थी इसे कही न कहीं लता के नरेंद्र मोदी को समर्थन से भी जोड़ कर देखा जा रहा है .| इस बात का मीडिया में जिस तरह से प्रसारण हुआ उससे वो नाराज़ हैं और इसीलिए उन्होंने ट्विटर पर अपनी भावनाएं व्यक्त कीं.
इस महीने के पहले शुक्रवार को नरेंद्र मोदी लता मंगेशकर की ओर से बनाए गए अस्पताल का उद्घाटन करने पुणे में थे।यह अस्पताल लता मंगेशकर के पिता स्वर्गीय दीनानाथ मंगेशकर के नाम पर है।इस मौके पर लता ने कहा, ‘नरेंद्रभाई मेरे भाई की तरह हैं। हम सभी उन्हें प्रधानमंत्री बनते देखना चाहते हैं। इस दीपावली के मौके पर मैं उम्मीद करती हूं कि हमारी इच्छा पूरी होगी।यदपि मोदी को उद्घाटन के लिए उस वक्त निमंत्रण दिया गया था, जब वह प्रधानमंत्री उम्मीदवार घोषित नहीं हुए थे लेकिन उसके बाद से ही कांग्रेस और उसके समर्थक दलों द्वारा लता की आलोचना की जाने लगी |पद्म पुरुस्कारों के लिए आर टी आई के माध्यम से लता की सिफारिशी चिट्ठी को लीक किया जाने लगा|इसी कारण लता मंगेशकर को यह स्प्ष्टीकरण देना पड़ा

कांग्रेसी और भाजपाईयो ये इतिहास और भूगोल में ही उलझे रहोगे या आम जनता की रोजी रोटी की भी सोचोगे

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

प्रफुल्लित भाजपाई

ओये झल्लेया दिल बाग़ बाग़ हो गया ओये हसाडे पी एम् के उम्मीदवार नरेंदर भाई दामोदर मोदी ने इस कांग्रेसी सरकार की उतार कर रख दी|बड़े आये थे नरेंदर भाई मोदी को इतिहास और भूगोल का पाठ पढ़ाने |खुद तो बोल ही रहे थे साथ ही अपने पेट्रोनाईज्ड पत्रकारों को भी पीछे लगाकर इतिहास के सवालात पूछने शुरू कर दिए |अब मोदी ने पीएम और कांग्रेस के कई नेताओं को आड़े हाथों लेते हुए देश के इतिहास-भूगोल के साथ खिलवाड़ करने के ढेरों आरोप इन्ही पर लौटा दिए हैं| मोदी ने तो यहाँ तक कह दिया कि कांग्रेस और उसके नेताओं ने एक परिवार की इज्जत बढ़ाने के लिए आजादी की लड़ाई लड़ने वाले दूसरे नेताओं को नजरअंदाज कर दिया।
हसाडे नेता ने देश के बंटवारे और देश की सीमाओं में बदलाव के लिए कांग्रेस और उसके नेताओं को जिम्मेदार ठहरा कर पाने पारम्परिक वोट बैंक को भी सहला दिया । उन्होंने मनमोहन को इतिहास याद कराया कि कांग्रेस नेताओं की नीतियों के चलते ही जिस देश में खुद उनका जन्म हुआ, वो अब पाकिस्तान में है।ये जूता के लिए मखमल के रूप में मोदी ने कहा कि सरकार की नीतियों और काम की वजह से उन पर निशाना साधना जरूरी है और अगर मनमोहन सिंह को ये खराब लगता है तो वो उनसे माफी मांगते हुए भी अपनी बात कहते रहेंगे।

झल्ला

अरे कांग्रेसी और भाजपाईयो ये इतिहास और भूगोल में ही उलझे रहोगे आम जनता की रोजी रोटी की कब सोचोगे +इनकम टैक्स कम करने की कब सोचोगे +भ्रष्टाचार कम करने की कब सोचोगे +सीमाओं को सुरक्षित करने की कब सोचोगे+इकॉनमी अर्थार्त अर्थ शास्त्र की कब सोचोगे ? अब तो अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा भी अपने अमेरिकन्स को गणित और अर्थ शास्त्र पढ़ने के सलाह देने लगे हैं|

पहले खबरें हर टाइप की मिलती थी दिन रात अब तो केवल मोदी मोदी और मोदी की हुंकार

सोमवार के दिन भी मुझको काम नहीं है कोई
ना जाने क्यूँ मेरी ही किस्मत मुझसे ही खोई
पहले खबरें हर टाइप की मिलती थी दिन रात
अब तो केवल मोदी मोदी और मोदी की हुंकार
मोदी की इस हुंकार से हुकुमरान भी है परेशान
इसीलिए इशू कर रहे आये दिन ये नए फरमान
समस्या इनकी है और मांग रहे हमसे निदान
झल्ली निशुल्क सलाह है सुन लो हुकुमरान
झांकोअपने गिरेबान मत बनो यूं नादान,अनजान

सपा,बसपा खुद को सी बी आई से बचाने के लिए केंद्र सरकार को बचा रहे हैं,प्रदेश की इन्हे कोई फिक्र नहीं है :मोदी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने यूं पी के बहराइच रैली के दौरान सपा और बसपा पर जम कर बरसे |उन्होंने कहा कि 60 सालों में उत्तर प्रदेश ने कई प्रधानमंत्री दिए, लेकिन राज्य का विकास नहीं हुआ। अकेला यूपी का ही विकास किया होता, तो देश अपने आप आगे बढ़ चुका है। इन्हें सिर्फ वोट बैंक की राजनीति में रुचि है। उन्हें और किसी काम में रुचि नहीं है।
उन्होंने कहा कि गुजरात के गांवों में भी 24 घंटे बिजली आती है, लेकिन यूपी में बिजली का आना एक खबर है। यहां इंसान इंतजार कर रहा है कि बिजली कब आएगी। अखिलेश और आजम खान के क्षेत्रों में बिजली आती है, शेष यूपी में नहीं। शासक वह होता है, जो पहले जनता को देता है, फिर बचे तो खुद के लिए इस्तेमाल करता है।
यूपी ने हमसे लॉयन मांगे, काश वे हमसे बिजली मांगते+ गिर की गाय मांगते+ वे हमसे अमूल जैसे डेयरी नेटवर्क की समझ मांगते+ लेकिन नहीं मांगा। इसके लिए जनता के कल्याण के कार्य करने की समझ होनी चाहिए |यूपी में प्रतिस्पर्धा क्रिमिनल स्कोरिंग की है , करप्शन का कम्पीटिशन चल रहा है जनता की समस्याओं के समाधान में इनकी रुचि नहीं है।
नरेंदर मोदी ने कहा, सपा+बसपा दोनों दिल्ली की सरकार को बचा रहे हैं। उनको पता है कि उनके समर्थन के बिना दिल्ली की सरकार नहीं चल सकती। इनके पास इतनी ताकत है कि दिल्ली की सरकार को झुका सकते हैं। वे बहराइच के लिए रेल मांगें+ एयरपोर्ट मांगें+ रोजगार मांगें तो मिल सकते हैं, लेकिन इन्होंने नहीं मांगा। सपा और बसपा इतना समर्थन के बावजूद भी कुछ नहीं मांग रहे हैं| ये सीबीआई से छुटकारा मांगते हैं। प्रदेश की भलाई के लिए नहीं मांग रहेजबकि बंगाल के लिए ममता दीदी दिल्ली सरकार से लड़ती हैं,
समाजवादी पार्टी पर अपना हमला जारी रखते हुए मोदी ने कहा कि हिन्दुस्तान के महान कलाकार (उनका इशारा अमिताभ बच्चन की ओर था) का प्रयोग उन्होंने ‘यूपी में है दम.[.क्योंकि यहाँ जुर्म है कम ].. ‘ के विज्ञापन के लिए किया और उसी महान कलाकार का प्रयोग हमने गुजरात पर्यटन के लिए किया। हमें व्यक्ति का सही उपयोग मालूम है।