Ad

Tag: पोलिटिकल जोक्स

हसाडा सोणा ते मन मोहणा प्रधान मंत्री, पाकिस्तान दे खिलाफ, अमेरिका दे सामणे क्या वाकई रंडी रौणा ले के बैठ जाता है?

हसाडा सोणा ते मन मोहणा प्रधान मंत्री, पाकिस्तान दे खिलाफ, अमेरिका दे सामणे क्या वाकई रंडी रौणा ले के बैठ जाता है? भाजपाई नरेंदर मोदी कहंदा है कि हसाडा सोणा ते मन मोहणा प्रधान मंत्री, पाकिस्तान दे खिलाफ, अमेरिका दे सामणे रंडी रौणा ले के बैठ जांदा है|इस एक जुमले को लेकर लाखों की भीड़ के सामने मोदी ने पी एम् की पगड़ी उछाली+मीडिया को आईना दिखाने का प्रयास किया |
मालूम हो कि फर्स्ट पोस्ट ने जिओ टी वी के हामिद मीर के हवाले से यह खबर लीक की जिसे लेकर[बिना नाम लिए] एन डी टी वी की बरखा दत्त की बर्फी में भी मोदी ने नमक डालते हुए उलाहना दे डाला कि ऐसे भारतीय टी वी के रिपोर्टर को बर्फी वही फैंक कर लौटा आना चाहिए था| ।दिल्ली में अपनी एतिहासिक चुनावी सभा में उठाये गए इस रंडी रौणे से मीर और बरखा दोनों ने अपना पिंड छुडाते हुए रंडी रौणा होने से ही इनकार कर दिया है |मीर के अनुसार ऐसा कुछ कहा ही नहीं गया और बरखा का कहना है कि इस तरह से नहीं कहा गया |इसके अलावा यह भी मालूम हुआ है कि सोणे मन मोहणे ने अपने समकक्ष नवाज के साथ अपनी मुलाक़ात में कोई शराफत नहीं दिखाई और ना ही रंडी रौणा ही रोया |सरदारों की भाषा में कह दिया कि सीमा पर शांति बहाली के बगैर बात चीत की गाडी आगे नहीं बढेगी| अब आप ही बताओ कि इनमे से किसका रौना सही है?
[१] भाजपा के नरेंदर मोदी
[२ ]एन डी टी वी के बरखा दत्त या फिर
[३ ]पाकिस्तानी जिओ टी वी के हामिद मीर

आजादी के ६५ साल बाद ही सही सरकारेआली ने माना कि २०० जिलों में ही सही मातृत्‍व+बाल कुपोषण की समस्या बेहद गंभीर हो चुकी है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हसाडी सोणी सरकार ने मातृत्‍व और बाल कुपोषण से निपटने के लिए 12वीं पंचवर्षीय योजना (2012-17) में 1,213.19 करोड़ रुपये खर्च करने की घोषणा कर दी है| केंद्र 944.39 करोड़ रुपये देगा जबकि राज्‍यों को केवल 268.80 करोड़ रुपये ही देने होंगे |केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल ने राज्‍य+ जिला+ ब्‍लॉक और ग्रामीण स्‍तर के इस कार्यक्रम के कार्यान्‍वयन के प्रस्‍ताव को स्‍वीकृति दे दी है ओये अब तो (1). बाल कुपोषण में कमी लाने के साथ इसकी रोकथाम की जा सकेगी और (2). बच्‍चों+ किशोरियों +महिलाओं की रक्‍ताल्‍पता के स्‍तर को कम किया जा सकेगा

झल्ला

मेरे चतुर सुजाण जी सुनने में तो आप जी की गल बहुत चंगी लग रही है मगर मेरी झल्लयत शायद आप जी को सूट नहीं करेगी|आपने यह कार्यक्रम गंभीर समस्या वाले २०० जिलों में चलाने का फैसला किया है झल्ले की झल्लयत के अनुसार आजादी के ६५ साल बाद ही सही आप ने यह तो मान ही लिया कि कम से कम २०० जिलों में ही सही मातृत्‍व और बाल कुपोषण की समस्या बेहद गंभीर हो चुकी है|

एक्टिविस्ट लोकायुक्त की लटकती तलवार से बचाव के लिए गुजरात में ढाल के रूप में बिल पास कराया तो सबको गुस्सा आया

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक बेचारा दुखी भाजपाई

ओये झल्लेया हसाड़े सोणे नरेन्द्र मोदी के खिलाफ ये क्या षड्यंत्र रचा जा रहा है?जो कुछ भी करने लगते हैं कांग्रेस और मीडिया वाले अपना खाना पीना सब छोड़ छाड़ कर बेचारे मोदी के पीछे ही पड जाते हैं| मोदी को हमने अपनी पार्टी के केंद्र में लिया तो इनके पेट में मरोड़ उठने लगे |अब देखो सुप्रीम कोर्ट और गवर्नर के आदेशों का पालन करते हुए गुजरात में लोकायुक्त को शक्तिशाली और प्रभावी बनाने के लिए लोकायुक्त बिल पास कराया तो इसे लोक तंत्र पर ही खतरा बता दिया गया|ओये छान तो बोले सो बोले लेकिन छन्नी भी बोली जिसमे सैंकड़ो छेद |इस कांग्रेस ने केंद्र में जन लोकपाल बिल का जिस तरह मजाक बनाया उसे देश अभी तक भूला नहीं है |अब ये लोग हमें ही निशाना बना रहे हैं|कहा जा रहा है कि गुजरात में लोकायुक्त की नियुक्ति में अब राज्यपाल की कोई भूमिका नहीं रह गई है।
भाई हमने गुजरात में अब लोकायुक्त के अलावा चार उप−लोकायुक्त भी बना दिए हैं|इनका अनुमोदन सुप्रीम कोर्ट द्वारा किया जाएगा|
जो प्रक्रिया केन्द्र सरकार लोकपाल की नियुक्ति के लिए अपना रही है वही प्रक्रिया गुजरात सरकार लोकायुक्त की नियुक्ति के लिए अपना रही है इस पर भी इन्हें ऐतराज है| ओये पहले कहा जाता था कि समरथ को नहीं दोष गुसाईं लेकिन अब तो समरथ राजनीतिक मोदी में ही सारे अवगुण तलाशे जा रहे हैं |ओये ये लोग गोस्वामी तुलसी दास जी से भी बड़े हो गए

एक्टिविस्ट लोकायुक्त की लटकती तलवार से बचाव के लिए गुजरात में ढाल के रूप में बिल पास कराया तो सबको गुस्सा आया

एक्टिविस्ट लोकायुक्त की लटकती तलवार से बचाव के लिए गुजरात में ढाल के रूप में बिल पास कराया तो सबको गुस्सा आया


झल्ला

ओ मेरे सेठ जी जो आप दिखाना चाह रहे हो वैसा सब कुछ नहीं है| दरअसल राज्यपाल कमला बेनीवाल ने न्यायाधीश आर ऐ मेहता को लोकायुक्त बना कर मुख्य मंत्री को चुनौती दी है|ये न्यायाधीश महोदय गुजरात में मोदी के खिलाफ काम कर रहे एक्टिविस्ट के सहयोगी रहे हैं|इसीलिए अपने ऊपर लटक रहे इस एक पक्षीय तलवार से बचने के लिए मोदी ने ढाल के रूप में लोकायुक्त बिल पास करा लिया है| अब तलवार और ढाल का तो पुराना रिश्ता रहा है|जहां तलवार होगे वहां ढाल भी जरुरी है|