Ad

Tag: राहुल गाँधी

राहुल अपनी कांग्रेस को मेरठ में जीवित कर गए:टिकेट के दावेदारों ने किया शक्ति प्रदर्शन

rahulgandhi-in-meerut[मेरठ,यूपी]राहुल गाँधी अपनी कांग्रेस को मेरठ में जीवित कर गए,टिकेट के दावेदारों ने किया शक्ति प्रदर्शन
भाजपा के वर्तमान गढ़ मेरठ में आयोजित रोड शो कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी का हुआ भव्य स्वागत
राहुल का भव्य रथ सर्किट हाउस से करीब एक घंटे विलंब से चल कर आंबेडकर चौक+ईव्ज चौराहे से छतरी वाला पीर होते हुए घण्टाघर पहुंचा|
राहुल के साथ उनके रथ पर दिल्ली की पूर्व मुख्य मंत्री और यूपी में सी एम् प्रत्याशी श्रीमती मुख्यमंत्री शीला दीक्षित+राज बब्बर+नगमा भी थी |
राहुल के काफिले का मार्ग में अनेकों स्थलों पर स्वागत हुआ |

Rahul Gandhi's Road Show

Rahul Gandhi’s Road Show


हाथ में कांग्रेस और स्थानीय नेताओं के झंडे थामे कार्यकर्ता नारे लगाते चल रहे थे। कई स्थलों पर राहुल पर पुष्प वर्षा भी की गई|
उपाध्यक्ष भवनों की छतों पर खड़े लोगों का अभिवादन का भी उत्तर देते रहे|इस दौरान जहां प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर रथ पर अपने उपाध्यक्ष की ढाल बने हुए थे ,वहीं
Rahul Gandhi'Road Show

Rahul Gandhi’Road Show

कैंटोनमेंट के रमेश ढींगरा और शहर से युसूफ कुरैशी ने अपने समर्थकों के साथ अपना शक्ति प्रदर्शन भी किया |ये दोनों कांग्रेस से क्रमश कैंटोनमेंट और शहर से दावेदार है |
रोडशो के दौरान कुछ पत्रकारों के साथ हल्की धक्का मुक्की भी हुई |इस रोडशो को सफल बनाने के लिए फिल्म अभिनेत्री नगमा पिछले कई दिनों से मेरठ में डेरा डाले हुए थी

राहुल गाँधी की आईएसआई वाली कहानी को मोदी ने एनकैश करना शुरू किया तो अखिलेश यादव ने खजाने के मुंह खोल दिए

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

सपाई चीयर लीडर

ओये अब तो मानता है न कि मुसलमानों की सच्ची हमदर्द हसाडी समाज वादी पार्टी ही है इसीलिए अब मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने मुज्जफर नगर के दंगों में विस्थापित हुए १८०० मुस्लिम परिवारों को पुनर्वास के लिए ९० करोड़ रुपये देने की घोषणा कर दी है|ओये राहत शिविरों में रहने वाले प्रत्येक मुस्लिम परिवार को ५-५ लाख रुपये मिल जायेंगे

झल्ला

पहलवान जी अभी तक तो आप लोग इन्हें जाति/बिरादरी संघर्ष ही बता रहे थे | अब अचानक आप लोग सम्प्रदाइक दंगों के पीड़ित बता कर इन्हें कहीं और बसने के लिए सरकारी खजाने का मुह खोल रहे हैं |कहीं ऐसा तो नहीं कि कांग्रेसी राहुल गाँधी की आई एस आई वाली कहानी और उसे एनकैश करने की भाजपाई नरेंदर मोदी की कुश्ती से घबरा कर ये सरकारी खजाने का मुंह तो नहीं खोला जा रहा |

राहुल गाँधी ने दोषी सांसदों को बचाने वाले आर्डिनेंस के खिलाफ “राइट टू रिजेक्ट” का इस्तेमाल किया तो आप सभी लोग क्यूं भड़के हुए हो

झल्ले दी झल्लियाँ गल्ला

एक भाजपाई

ओये झल्लेया हमारी जंग आखिर कर रंग ले ही आई देखा मुख्य न्यायाधीश पी. सतशिवम की अध्यक्षता वाली पीठ ने नौ सालों से लंबित पी आई एल का निस्तारण करते हुए देश के मतदाता को राइट टू रिजेक्ट का अधिकार देने पर अपनी मुहर लगा दी है अब तो वोटिंग मशीन [ EVM ]में नन ऑफ द एबव का बटन दबा कर आम वोटर भी खुद को सुप्रीम समझेगा |

झल्ला

अरे सेठ जी एक बात धर्म से बताओ आप राईट तो रिजेक्ट की तारीफ़ के इतने पुल बांध रहे हो लेकिन राहुल गाँधी ने दोषी सांसदों को बचाने वाले आर्डिनेंस के खिलाफ इस अधिकार RightToRejectका इस्तेमाल किया तो आप सभी लोग भड़के हुए हो ऐसा डबल स्टेंडर्ड कैसे चलेगा???

गरीबों के लिए हवाई जहाज की बात करना मात्र हवा हवाई ही साबित होंगी

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक चीयर लीडर आफ कांग्रेस

ओये झल्लेया देखा हसाड़े सोणे उपाध्यक्ष राहुल गाँधी का कमाल
|जयपुर में राहुल जी ने भाजपाई नरेन्द्र मोदी के खिलाफ युद्ध का शंख फूंक दिया है| ओये अब हसाड़ी कांग्रेस ही बनाएगी सभी गरीबों को कानूनी तौर पर २१ वी सदी में सम्पन्न इससे भाजपा हो जायेगी बेहाल कांग्रेस हो जायेगी निहाल|
ओये हम लोग हवाई विपक्ष की तरह हवा में बातें नहीं करते | भारत युवाओं का देश है और यहां के अधिकांश युवा गरीब हैं। उनके भी सपने हैं कि वे पायलट, इंजीनियर डॉक्टर और शिक्षक बनें उनके इसी सपने को साकार करने की तमन्ना अब हमारे दिल में हैं|

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण जी आप जी के युवा चेहरे की जुबान से निकला है कि वोह गरीबों को हवाई जहाजों में घुमाने की तमन्ना रखते हैं अब आप जी ही बताओ कि प्याज की कीमत से लेकर हवाई जहाज के किराये तक में बेतहाशा बढोत्तरी के लिए तो अपने सहयोगी घटकों को खुली छूट दे रखी है और तो और देश में गरीबों की संख्या तक का पता नहीं लगाया जा सका है | ऐसे में गरीबों के लिए हवाई जहाज की बात करना मात्र हवा हवाई ही साबित हो रही हैं|

दिग्विजय सिंह सत्ता के दूसरे वैकल्पिक केंद्र के साथ भाग्य आजमा रहे हैं तो इसमें एतराज क्या है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक दुखी कांग्रेसी

ओये झल्लेया ये हसाड़े राजा दिग्विजय सिंह को कौन सा कीड़ा काट गया ?ओये अच्छे खासे भाजपाइयों को निशाना बनाते बनाते अब अपनी कांग्रेस को ही ले बैठे |राजा जी कह रहे हैं कि सरकार में एक नहीं सत्ता के दो केन्द्र हैं |[१] यूं पी ऐ अध्यक्षा[२]पी एम्
और यहीं नही रुक रहे |कह रहे हैं कि यह व्यवस्था ठीक नहीं है सत्ता का एक मात्र केंद्र प्रधान मंत्री ही होना चाहिए|अब राजा जी के इस फरमान को भाजपाई चुनावी मुद्दा बनाने के धमकी देने लगे हैं| भई एक बात बताओ हसाडी अध्यक्षा श्रीमती सोनिया जी ने ही तो डाक्टर मन मोहन सिंह को पी एम् बनाया है ऐसे में कैसे पी एम् से कम रह सकती हैं|पी एम् से ऊपर नहीं तो बराबर रहना तो बनता ही है|

दिग्विजय सिंह सत्ता के दूसरे वैकल्पिक केंद्र के साथ भाग्य आजमा रहे हैं तो इसमें एतराज क्या है

दिग्विजय सिंह सत्ता के दूसरे वैकल्पिक केंद्र के साथ भाग्य आजमा रहे हैं तो इसमें एतराज क्या है


झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण जी ये तो आप भी मानोगे कि आपके राजा जी ने अपने बयानों से आपकी सत्ता के कन्द्रों को संभाले रखा है |लेकिन दुर्भाग्य से इन्हें संभालने के लिए कोई आगे नहीं आया|वैसे तो इतिहास गवाह है जब किसी को भी बेरोकटोक काटने की आदत पड़ जाती हैऔर काटने के लिए उसे कोई नहीं मिलता तब वोह अपने को ही काटने लगता है|
इन्होने एक केंद्र को संभालने के लिए उस केंद्र के महत्वपूर्ण केंद्र राहुल गाँधी को पी एम् बनाने के लिए पार्टी में बज रहे बैंड में अपने ट्रम्पेट को शामिल किया तो आपलोग भड़क गए|ऐसे में झल्लेविचरानुसार सत्ता के दूसरे वैकल्पिक केंद्र के साथ भाग्य आजमाने में क्या हर्ज़ है?

कांग्रेस के चिंतन शिविर में से निकले वैमनस्य के गरल से कांग्रेस और भाजपा ने होली खेली

कांग्रेस के चिंतन शिविर में हुए मंथन में अमृत के साथ कई प्रकार का जहर भी निकला हैं| पावर या सत्ता का गरल तो राहुल गाँधी ने सहर्ष स्वीकार किया और बेहद भावुक होकर सबको साथ लेकर चलने का आश्वासन दिया |वैमनस्य के जहर को सुशील कुमार शिंदे ,दिग्विजय सिंह और मणि शंकर अय्यर सरीखे नेताओं ने ग्रहण करके तत्काल अपने विरोधी बीजेपी और आर एस एस पर उडेल दिया | प्रधान मंत्री डाक्टर मन मोहन सिंह और यूं पी ऐ अध्यक्ष श्रीमति सोनिया गाँधी ने बड़े नपे सभ्य तुले शब्दों में विपक्ष की आलोचना की | बेशक वह विपक्ष द्वारा शासित राज्यों में केंद्र सरकार की यौजनाओं को अपने नाम देने सम्बन्धी हीक्यों न हो|वरिष्ठ नेताओं के बाद राहुल गाँधी ने भी सुलझे नेता की भांति न केवल अपनी सरकार की आलोचना की वरन अपने पिता स्वर्गीय राजीव गांधी के शब्दों में १०० पैसे में ९९ पैसे जनता तक पहुँचाने का वायदा भी दोहराया |उन्होंने कहा कि उन्होंने अपनी दादी श्री मति इंदिरा गाँधी और पिता राजीव गांधीकी शहादत को देखा है उनके परिवार ने इस दुःख को सहा है \ अपनी माता श्री मति सोनिया गांधी को उद्दत करते हुए कहा कि सत्ता जहर के समान है क्योंकि कांग्रेस उनका परिवार है इसीलिए जहर को देश की सेवा के लिए ग्रहण किया है अब पैसा और सत्ता जनता तक पहुँचाना उनका उद्देश्य रहेगा|
केन्द्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ [आर एस एस]और प्रमुख विपक्षी दल भाजपा पर अपने शिविरों में आतंकवादी प्रशिक्षण देने के आरोप लगाने में कोई देर नहीं लगाई दिग्विजय सिंह ने भी तत्काल शिंदे के आरोप का समर्थन कर दिया |
उधर बीजेपी प्रवक्ता मुख्तार अब्बास नकवी ने इस जहर का जवाब जहर से देते हुए संवाददाताओं से कहा, ‘गृहमंत्री के बयान में उनकी (कांग्रेस) विध्वंसकारी मानसिकता झलकती है. चिंतन शिविर में उन्होंने जो बयान दिया है वह बेहद आपत्तिजनक है. यह न केवल अस्वीकार्य है, बल्कि खतरनाक भी.’ उन्होंने कहा कि शिंदे के बयान का मकसद देश में शांति और समरसता को बाधित करना है.
संघ को एक ‘राष्ट्रवादी संगठन’ बताते हुए बीजेपी नेता ने कहा, ‘सोनिया गांधी को माफी मांगनी चाहिए. राहुल गांधी और गृहमंत्री को भी माफी मांगनी चाहिए, अन्यथा इसके गंभीर परिणाम होंगे. यह स्वीकार्य नहीं है. गृहमंत्री द्वारा इस प्रकार की बेबुनियादी बातें करना असली आतंकवादियों को क्लीन चिट देने जैसा है.’
बीजेपी प्रवक्ता ने यह भी कहा कि शिंदे के बयान से पाकिस्तान समर्थित आतंकवाद को ‘आक्सीजन’ मिल गयी है. उन्होंने कहा, ‘आपने भारत विरोधी आतंकवादी समूहों को भी मजबूती प्रदान की है.’
नकवी ने कहा, ‘कई बार मैं महसूस करता हूं कि कांग्रेस कायरों की जमात बन गयी है. मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूं क्योंकि देश में बार-बार आतंकवादी हमले हो रहे हैं, आतंकवादी यहां पनप रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तानी सैनिक हमारे जवानों के सर काट देते हैं और हमारे प्रधानमंत्री इस पर प्रतिक्रिया जाहिर करने में इतना लंबा समय लेते हैं. हमारी सरकार इस प्रकार की घटनाओं पर कोई प्रतिक्रिया देने से पहले बार-बार सोचती है.
भाजपा के राज्यसभा में वरिष्ठ नेता अरुण जेटली ने राहुल गांधी की पदोन्नति को विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्रको वंशवाद में बदलने का आरोप लगाया
अरुण जेटली ने यह भी कहा कि उनकी अपनी पार्टी के नेता का फैसला ‘जांचे-परखे’ आधार पर होगा. राहुल का नाम लिए बगैर राज्यसभा में विपक्ष के नेता ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने अपनी जयपुर चिंतन बैठक में महंगाई, कुशासन, भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों का जवाब नहीं दिया जबकि इन समस्याओं को लेकर लोगों में गहरा असंतोष है.
शिंदे ने कहा था, ‘जांच के दौरान यह रिपोर्ट आई है कि बीजेपी और संघ आतंकवाद फैलाने के लिए आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर चला रहे हैं. समझौता एक्सप्रेस, मक्का मस्जिद में बम लगाए जाते हैं और मालेगांव में भी बम विस्फोट होता है.’ बाद में संवादाताओं द्वारा घेरे जाने पर श्री शिंदे ने कहा, ‘यह भगवा आतंकवाद है जिसकी मैं बात करता हूं. यह वही चीज है और कुछ नया नहीं है. यह कई बार मीडिया में आ चुका है.’

राहुल गांधी को उपाध्यक्ष के पद पर दूसरा प्रोमोशन मिला: भविष्य वाणी : ३रा प्रोमोशन २०१४ में सरकार में पहला पद

राहुल गांधी को उपाध्यक्ष के पद पर दूसरा प्रोमोशन मिला:

कांग्रेस अध्यक्षा श्री मति सोनिया गांधी की ओर से उठाए गए मुद्दों पर जयपुर की चिंतन शिविर में हुई चिंतन मनन की कोई खबर बेशक अभी तक लीक नहीं की गई लेकिन ४३ वर्षीय राहुल गांधी को लोक सभा के चुनावों से मात्र १६ महीने पहले आधिकारिक रूप से पार्टी में पञ्च साल बाद दूसरा प्रोमोशन नंबर-2 की पोजीशन के रूप में मिल गया है|तीसरा प्रोमोशन सरकार में पहले पद के रूप में दिए जाने की भविष्य वाणी की जाने लगी है|
कांग्रेस अध्यक्षा श्री मति सोनिया गाँधी ने कांग्रेस चिंतन शिविर के उद्घाटन भाषण में अनेको ज्वलंत मुद्दों पर चिंता जता कर उनपर चिंतन का आह्वाहन किया था |शिविर के दूसरे दिन १९ जनवरी शनिवार को राहुल को उपाध्यक्ष बनाने का ऐलान कर दिया गया।छोटे बड़े सभी नेता इस उपलब्धि को मीडिया के समक्ष उजागर करने में लगे रहे |शिविर के बाहर समर्थकों ने हमेशा की तरह आतिश बाजी से इस का स्वागत किया राहुल गांधी ने इस जिम्मेदारी को स्वीकार करते हुए पार्टी कार्यसमिति की बैठक में पार्टी का आभार जताया और कहा कि वह कांग्रेस को मजबूत करने के लिए काम करेंगे।
गौरतलब है कि २००४ में सक्रीय राजनीती में आये राहुल को २००७ में पार्टी का महासचिव बनाया गया था और अब पञ्च साल उन्हें यह दूसरा आउट आफ टर्न [ओ वाई टी] प्रोमोशन मिला है|
नंबर दो की हैसियत में आने पर भी सरकार में और 2014 के आम चुनाव में उनकी भूमिका क्या होगी, इस पर कुछ नहीं कहा गया। लेकिन कांग्रेस नेताओं ने स्पष्ट किया कि अगला चुनाव राहुल के नेतृत्व में लड़ा जाएगा। कांग्रेस में 1986 के बाद से उपाध्यक्ष का पद नहीं था। राहुल के लिए यह पद बनाया गया है।
127 साल पुरानी कांग्रेस पार्टी में इससे पहले कुछ समय के लिए अर्जुन सिंह और जितेंद्रप्रसाद उपाध्यक्ष रहे हैं। नई जिम्मेदारी मिलने के बाद राहुल ने कहा कि वरिष्ठ नेताओं से बहुत कुछ सीखा है। ऐसे ही साथ मिलता रहा तो देश बदल देंगे।

गुजरात में किंकर्तव्य विमूड हुई कांग्रेस हिमाचल में एब्सोल्यूट मेजोरिटी को सेलेब्रेट नहीं कर पा रही है:Himachal Changeover

Himachal Pradesh Election

गुजरात में नरेन्द्र मोदी के जीत से किंकर्तव्य विमूड की स्थिति से जूझ रही कांग्रेस हिमाचल प्रदेश में प्राप्त पार्टी की एब्सोल्यूट मेजोरिटी को भी उत्साह पूर्वक सेलेब्रेट नहीं कर पा रही है| बेशक हिमाचल की जनता ने पिछली हर बार की तरह सत्ता परिवर्तन करते हुए कांग्रेस को राज्य की बागडोर थमा दी है। कांग्रेस को कुल 68 सीटों में से 13 सीटों के फायदे के साथ 36 सीटें मिली हैं, जबकि बीजेपी 15 सीटों के नुकसान के बाद 26 सीटों पर सिमट गई है। छह सीटों पर अन्य उम्मीदवारों को जीत मिली है।यह अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है|भाजपा के भ्रष्टाचारों के आरोपों का सामना कर रहे ७८ वर्षीय वीर भद्र सिंह ने राहुल गांधी की पांच चुनावी सभाओं में कांग्रेस को जितवाकर राहुल गांधी का कद बढाया हैऔर पूर्ण सत्ता की डोर अपनी पार्टी की आलाकमान श्रीमति सोनिया गाँधी के हाथों में थमाई है उसे देखते हुए इसे कांग्रेस के बजाये वीर भद्र सिंह की जीत कहा जा सकता है|
प्रेम प्रकाश धूमल की अगुवाई वाली बीजेपी सरकार में आए भ्रष्टाचार के मामले उसी पर भारी पड़े और जनता ने धूमल की राजनीतिक छवी को धूमिल करके कांग्रेस के हाथ का साथ दिया।
प्रदेश में इस बार एक ही चरण में मतदान 4 नवंबर को कराया गया था जिसमे रिकॉर्ड वोटिंग हुई थी। एक्जिट पोलों के मुताबिक हिमाचल में कांग्रेस को बढ़त की संभावना पहले ही जताई जा रही थी।, ।गुजरात में बीजेपी के कुछ उम्मीदवार अपनी जीत को लेकर इतने आश्वस्त थे कि उन्होंने रात में ही अपनी जीत के पोस्टर लगा दिए थे जगह जश्न का महौल बनाया जा रहा है मगर कांग्रेस पर भ्रष्टाचार के आरोपों को बी जे पी की तरफ मौड़ कर विजयश्री चूमने वाले वीर भद्र सिंह को क्रेडिट दिया जाना जायज़ ही कहा जाना चाहिए

राहुल गांधी को ज्यादा सीटों पर बुलाया जाता तो स्थिति कुछ और ही होती Rahul Restricted Modi Before 2/3rd Majority

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक भाजपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया मुबारकां ओय देखा दिल्ली के युवराज राहुल गांधी का फेक्टर बिहार,यूं पी के बाद अब गुजरात में भी फेल हो गया| राहुल गांधी के दौरे के बावजूद हसाड़े नरेन्द्र मोदी ने ११५ सीटें ले कर जीत जी हैट्रिक बना ली |मोदी की धन्यवाद रैली में पी एम् पी एम् और दिल्ली दिल्ली के नारे भी लग गए|ओये कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मोड्वादिया भी १७००० से ज्यादा वोटों से हार गए मतलब राहुल गांधी यहाँ भी नहीं चले|

राहुल गांधी को ज्यादा सीटों पर बुलाया जाता तो स्थिति कुछ और ही होती

झल्ला

ओ भोले सेठ जी मुझे पता था कि चुनावों के बाद राहुल को निशाना जरूर बनाया जाएगा इसीलिए मेने पहले भी कहा था और अब फिर से कांग्रेसियों के दिल की बात कहता हूँ कि राहुल गांधी ने गुजरात में ८ रैलियों को संबोधित किया और वोह आठों सीट कांग्रेस जीत गई है और भाजपा २/३ मेजोरिटी लेने से रोक दी गई है|अगर राहुल को ज्यादा सीटों पर बुलाया जाता तो स्थिति कुछ और ही होती|क्यों ठीक है न ठीक ???

राहुल गांधी के हलफनामे की सत्यता की जांच के लिए चुनाव आयोग ने निर्वाचन अधिकारी को जांच के लिए लिखा

झल्ले दी झल्लियाँ गलां

एक कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हासाडी कांग्रेस पार्टी का कमाल | राहुल गांधी के हलफनामे की सत्यता की जांच के लिए चुनाव आयोग ने निर्वाचन अधिकारी को जांच करने के लिए लिख दिया है|अब पंगेबाज सुब्रमनियम स्वामी भी हो जायेंगे हलकान| डॉ. स्वामी ने खवाह्मखाह आरोप लगाया है कि पिछले लोकसभा चुनावों से पहले हसाड़े नेता राहुल गांधी के पास एसोसिएटेड जर्नल्स के तीन लाख से ज्यादा शेयर थे। जिसकी जानकारी हलफनामे में नहीं दी गई। ये सब बेकार में बदनाम करने के लिए धोखाधड़ी है पंगेबाज की इस अनैतिकता के लिए उस पर आपराधिक कार्रवाई की जानी चाहिए |

राहुल गांधी के हलफनामे की सत्यता की जांच के लिए चुनाव आयोग ने निर्वाचन अधिकारी को जांच के लिए लिखा

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान जी दरअसल अभी तक जितनी भी जाँच हुई है सभी में आप लोग निष्कलंक +निष्पाप+निर्दोष ही साबित हुए हो अब चूंकी आप जी के राहुल गांधी प्राईम मिनिस्ट्रियल केंदिदेत प्रोजेक्ट किये जा रहे है ऐसे में उनके खिलाफ सारे आरोप समय से पहले खारिज किये जाने जरूरी है |ये सारी कवायद उसी के लिए लगती है