Ad

Tag: aam aadmi paarty

Congress And”AAP”Joined Hands And Demanded President Rule In Punjab

[Chandigarh,Punjab]Congress And”AAP”Joined Hands And Demanded President Rule In Punjab
Congress and AAP delegations met Governor Katpan Singh Solanki separately urging him to immediately impose the President’s rule in the state.
Congress and Aam Aadmi Party (AAP) today demanded imposition of President’s rule in Punjab contending that the state government has failed to tackle the law and order situation, which was deteriorating fast and spiralling out of control, in the wake of recent incident of desecration of the holy book of the Sikhs.
.Congress Legislature Party leader Sunil Jakhar, who led a delegation of party MLAs met the Governor and said “as the fast deteriorating conditions were spiralling out of control, any delay (in imposition of President’s rule) could have grave consequences.”
Jakhar said if the government had taken timely action in apprehending the culprits responsible for desecrating the holy book in village Bagrari, such an unrest that Punjab was facing today would not had taken place.
The conditions are getting from bad to worse with each passing day. Punjab Government seems to have been paralysed and is incapable to bring the situation under control. With the kind of volatile situation prevailing in Punjab, any small incident could snowball into a major catastrophe,
Now, the onus is on the central government to take timely action,
Later, an AAP delegation, led by its state convener Sucha Singh Chhotepur, Sangrur MP Bhagwant Mann and others, also met Solanki and submitted a memorandum demanding imposition of President’s rule in the state.
Chhotepur said the situation in Punjab was out of control of Chief Minister Parkash Singh Badal and the only way left was to impose President’s rule in the state.
Punjab is under turmoil after series of incidents of sacrilege of ‘birs’ (scriptures) of Guru Granth Sahib at different gurudwaras in villages and protests by sikh activists, including hardliners.

माओ वादियों के एटैक के जवाब में सुरक्षा फोर्सेस की प्रति हिंसा के बजाय राजनीतिक संवाद स्थापित किया जाना चाहिए

छत्तीस गढ़ में माओ वादियों के खुनी लाल सलाम की आम आदमी पार्टी[आप] ने निंदा की और इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना को राष्ट्र के लिए वेक अप काल[wake up call to the nation ] बताया और नक्सल समस्या को हल करने के लिए सुरक्षा फोर्सेस द्वारा प्रतिहिंसा के बजाय संवाद स्थापित किये जाने का सुझाव दिया है|आप पार्टी ने कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा के कारवां पर एटैक को दुर्भाग्य पूर्ण और निंदनीय बताया है|और एटैक में मारे गएऔर घायल हुए लोगों के परिवारजनों के प्रति शोक संवेदनाएं प्रकटकी हैं|
पार्टी का कहना है कि इससे पूर्व भी माओ वादियों के एटैक छत्तीस गढ़ को दहला चुके हैं और राज्य तथा केंद्र सरकारेंइसे रोक पाने में असफल साबित हुई है
अब समय आ गया ही जब इस ज्वलंत +आत्मघाती समस्या को सुलझाने के लिए एक अलग मार्ग का अनुसरण करना होगा| केवल कुछ सुरक्षा फोर्सेस भेज कर कुछ माओ वादियों या आदिवासियों को क़त्ल करवा देने के बजाये उनसे संवाद स्थापित किये जाने चाहिए इसके लिए राजनितिक इच्छा शक्ति का सर्वथा अभाव दिख रहा है|

शीला दीक्षित ने बिजली पानी के बिलों में धांधली के आरोपों की बौछार से बचने के लिए स्वयम नए विवाद के रूप में एक ढाल ईजाद की

दिल्ली की मुख्य मंत्री शीला दीक्षित ने बिजली पानी के बिलों में धांधली के आरोपों की बौछार से बचने के लिए स्वयम नए विवाद के रूप में एक ढाल ईजाद की है| इसके लिए उन्होंने एक ऐसे राजनीतिक साए को मीडिया के समक्ष पेश किया है जिसका वजूद या नाम तक बताने से उन्हें परहेज हैं| मुख्यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित आज कल दिल्ली में बिजली और पानी के बिलों में धांधली के आरोपों से गले तक घिरी हैं|आये दिन आम आदमी पार्टी[आप] और भाजपा नए खुलास एकाराने में लगे हुए हैं|ऐसे में उन्होंने एक नए विवाद को स्वयम ही हवा दे दी है| उन्होंने कहा है कि हाल में एक शख्स ने मुझे [शीला]दिल्ली विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस का टिकट पाने के लिए घूस की पेशकश की। शीला ने कहा कि घूस की पेशकश करने वालों को कुछ नहीं होता, जबकि भ्रष्ट तो वे भी होते हैं।
दिल्ली की मुख्यमंत्री के रूप में शीला दीक्षित का यह तीसरा कार्यकाल है। चौथी बार उनके नेतृत्व में चुनाव लड़ने की तैयारी की जा रही है।
सी एम् ने यह खुलासा करके मीडिया और विपक्ष को एक नया मुद्दा जरूर दे दिया है इस खुलासे पर दिल्ली की सियासत एक बार फिर गरम हो गई है। बीजेपी और आम आदमी पार्टी ने कार्रवाई करने के बजाय मीडिया में बयान देने को लेकर शीला की नीयत पर सवाल उठाने शुरू कर दिए हैं|

आप के वरिष्ठ नेता मनीष सिसोदिया

ने सवाल किया है कि शीला किस कारण घूस देने वाले का नाम नहीं बता रही हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे करप्ट लोगों को कड़ी सजा मिले, इसके लिए जरूरी है कि उसका नाम बताया जाए।

दिल्ली विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष प्रो. विजय कुमार मलहोत्रा

ने कहा है कि श्रीमती शीला दीक्षित का यह बयान कांग्रेस संस्कृति को बेनकाब करता है। पहली बार एक मुख्यमंत्री ने इसे स्वीकार किया है। रिश्वत लेना अपराध है तो रिश्वत देना भी अपराध है और उस अपराध को छिपाना भी अपराध है। किसी अपराधी को बचाने का काम मुख्यमंत्री करे तो निन्दनीय होने के साथ-साथ अनैतिक व कानून विरोधी भी है। आखिर रिश्वत की पेशकश करने वाला व्यक्ति अभी कांग्रेस में किस पद पर है यह खुलासा होना चाहिए।।एक दैनिक अखबार में दिए इंटरव्यू में शीला ने बताया कि एक शख्स उसने मिलने उनके दफ्तर में आया और उन्हें पैसों के एवज में विधानसभा चुनाव में टिकट देने की पेशकश की।
गौरतलब है कि श्रीमती शीला दीक्षित का यह बयान उस समय आया है जब उनकी सरकार बिजली पानी के बिलों में धांधली के आरोपों से गले तक घिरी हैं आये दिन नए खुलासे किये जा रहे हैं| ऐसे में अपनी पार्टी से सम्बंधित एक और नए विवाद को स्वयम जन्म देना बेवजह नहीं हो सकता जबकि सी एम् ने कहा है कि घूस की पेशकश करने वाले अपराधी का कुछ नहीं बिगड़ता इसके बावजूद उन्होंने घूस देने वाले का नाम नहीं बताया। दबाब बढने पर अब इस मुद्दे को तत्कालीन पी एम् राजीव गांधी [अब स्वर्गीय]के कार्यकाल से जुडा बताया जा रहा है|

कोयला घोटाले में दायर सी बी आई के हलफनामे पर सुप्रीम कोर्ट की टिपण्णी को ‘आप’ ने अपनी सबसे बड़ी जीत बताया

सुप्रीम कोर्ट द्वारा सी बी आई की कोयला घोटाले की रिपोर्ट पर की गई टिपण्णी को आम आदमी पार्टी[आप]ने बीते वर्ष की जुलाई के पश्चात अपनी बड़ी जीत क्लेम किया है| आप ने सी बी आई की रिपोर्ट में छेड़ छाड़ करने के दोषी केंद्रीय कानून मंत्री अश्विनी कुमार और एटोर्नी जनरल को तत्काल बर्खास्त किये जाने की मांग की है| पार्टी ने पी एम् की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठाये हैं| कोयला घोटाले पर सीबीआइ द्वारा दाखिल हलफनामे पर बुधवार को सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआइ पर भी टिप्पणी करते हुए कहा कि वह पिंजरे में बंद तोते की तरह है और वह केवल ‘मालिक’ की भाषा बोलती है। उसके कई मालिक हैं। उस पर केंद्र सरकार का पूर्ण नियंत्रण है। कोर्ट ने कहा कि सीबीआइ स्वतंत्र हो एवं उसकी जांच में कोई हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए। लेकिन परेशानी की बात यह है कि उसे बेमिसाल अधिकार देना मुमकिन नहीं है।
सुप्रीम कोर्ट को पेश किये गए हलफनामे में सी बी आई ने यह स्वीकार कर लिया है कि कानून मंत्री अश्रि्वनी कुमार, अटॉर्नी जनरल जीई वाहनवती, पीएमओ और कोयला मंत्रालय के अधिकारियों के सुझावों पर रिपोर्ट में बदलाव किए गए।
सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के दुरुपयोग के लेकर गंभीर सवाल उठाते हुए सरकार से पूछा कि वह जांच एजेंसी को कब स्वतंत्र करेगी? जस्टिस आरएम लोढ़ा की अगुआई वाली बेंच ने कहा कि सीबीआई डायरेक्टर के हलफनामे से साबित होता है कि उसके कई मालिक हैं और वह सबसे आदेश लेती है।
स्टेटस रिपोर्ट में बदलाव को लेकर आलोचना झेल रहे अटर्नी जनरल ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि उन्होंने न तो रिपोर्ट देखी और न ही मांगी। उन्होंने कहा कि कानून मंत्री अश्विनी कुमार के कहने पर स्टेटस रिपोर्ट तैयार कर रहे सीबीआई अधिकारियों से मुलाकात की थी। इस तरह अटर्नी जनरल ने पूरी जिम्मेदारी कानून मंत्री पर डालते हुए सरकार की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। ऐ एस जी हरेन रावल भी इस मामले में खुद को बलि का बकरा बनाए जाने का आरोप लगाते हुए इस्तीफा दे चुके हैं।

रेलवे बजट पास करा कर हवा बाँधने वाले मंत्री के भांजे को गिरफ्तार करके सी बी आई ने उनकी पवन खराब कर दी

बेशक केंद्रीय रेल मंत्री पवन बंसल संसद में अपना रेल बजट पास करा कर अपनी हवा बांधने में कामयाब होगये मगर सी बी आई ने उनके भांजे वी सिंगला
को भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार करके उनकी पवन खराब कर दी है| ९० लाख रुपयों की रिश्वत लेने के आरोप में भांजे की गिरफ्तारी पर आम आदमी पार्टी[आप]ने मामा मंत्री पवन बंसल से रेलवे मंत्रालय छीन लिए जाने की मांग की है| आप की प्रवक्ता मुरलीधरन ने बताया के रेलवे बोर्ड के एक सदस्य से ९० लाख रुपयों की रिश्वत लिए जाने का यह नवीनतम मामला यह दर्शाता है के मंत्रालय में कितनी गहरी सडान व्याप्त है|
यदपि पवन बंसल ने भांजे की करतूत से अपना पल्ला झाड़ते हुए स्वयम को आरोपी से अलग किया है लेकिन आप पार्टी ने इस सफाई को अस्वीकार्य और अविश्वनीय बताने में देर नही लगाई है| पार्टी ने सरकार के कपाट से बार बार उछल रहे घोटालों के अस्थिपंजरों के प्रति पी एम् के मौन को लेकर केंद्र सरकार को अलीबाबा और चालीस चोर की संज्ञा दी है| पार्टी के अनुसार रेलवे बोर्ड का सदय बनाए जाने पर महेश कुमार से ९० लाख रुपयों की रिश्वत लिए जाने के मामले से यह साफ़ झलकता है के रेलवे में गहरी सडान व्याप्त है चूंकि पवन बंसल द्वारा हाल ही में अनेकों कांट्रेक्ट दिए गए हैं इसीलिए उन सब की गहन जांच की जानी चाहिए|

शीला दीक्षित अपने घर में सोती रह गई और आप के पांच ने साडे दस लाख पत्र डिलीवर भी कर दिए

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

आम आदमी पार्टी का एक चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हसाडी टोपी और लाठी का कमाल \ओये दिल्ली की मुख्य मंत्री श्रीमती शीला दीक्षित अपने घर में सोती रह गई और हसाड़े पञ्च बड़ों ने असहयोगियों के साडे दस लाख पत्र डिलीवर भी कर दिए ओये अब तो हसाडी राजनीति को मानता है की नही?

झल्ला

हाँ चतुर सुजान जी बेशक आप साडे दस लाख पत्रों की डिलीवरी पर जश्न मना सकते हो लेकिन अब एक तो मुद्दा आपके हाथ से निकल गया |बाल दिल्ली की सरकार के पाले में आ गई है| कोई शक नहीं अब वहां इन पत्रों का पोस्ट मार्टम शुरू कर दिया जाए|

अरविन्द केजरीवाल द्वारा बिजली पानी के बिलों को लेकर लिखे पत्र पर दिल्ली सरकार का मौन जारी

आम आदमी पार्टी [आप]के, बिजली पानी के बिलों में भ्रष्टाचार को लेकर, 23 अप्रैल को लिखे पत्र पर अभी तक दिल्ली सरकार की तरफ से कोई उत्तर नहीं दिया गया है |अरविन्द केजरीवाल द्वारा बिजली पानी के बिलों को लेकर लिखे पत्र पर दिल्ली सरकार का मौन जारी है जबकि आप ने २८ अप्रैल तक का नोटिस दिया हुआ है| आप पार्टी के नेता मनीष शिशोदिया ने फोन पर बताया है कि श्री मति शीला दीक्षित कि तरफ से कोई कार्यवाही की सूचना नहीं आई है | पूछे जाने पर श्री शिशोदिया ने बताया कि दिल्ली सरकार से जवाब पाने की उनकी उम्मीद टूटी नही है|उन्हें अभी भी जवाब पाने की आशा है|
गौरतलब है कि दिल्ली में बिजली पानी के बिलों में भ्रष्टाचार को लेकर आप पार्टी ने असहयोग आन्दोलन छेड़ा हुआ है|जिसके फलस्वरूप साडे दस लाख दिल्ली वासियों ने आप पार्टी के माध्यम से पत्र लिखे हैं|इन्हें डिलीवर करने के लिए पहले दिल्ली की मुख्य मंत्री श्रीमती शीला दीक्षित के निवास की तरफ मार्च किया गया था|जिसे दिल्ली पोलिस की सहायता से असफल कर दिया गया था|उस समय कहा गया था कि आप पार्टी ने पूर्व सूचना नहीं दी थी संभवत अब २३ अप्रैल को पूर्व सूचना के तौर पर आप पार्टी के नेता अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली की मुख्य मंत्री श्रीमती दीक्षित को पत्र लिख कर यह ओपचारिकता पूरी कर दी है|लेकिन अभी तक असहयोगी बने साडे दस लाख दिल्ली वासियों के पत्रों को रिसीव करने के लिए दिल्ली की सरकार द्वारा कोई व्यवस्था नहीं की गई है|
गौरतलब है कि दिल्ली में बिजली पानी के बिलों में भ्रष्टाचार को लेकर पार्टी ने घोषणा की है कि २८ अप्रैल को दिल्ली के जंतर मंतर पर साडे दस लाख पत्रों के साथ इकट्ठा होंगे जहां से साडे दस लाख पत्रों को रिसीव कराने के लिए मुख्य मंत्री के निवास की तरफ मार्च किया जाएगा| अब सी एम् निवास की तरफ मार्च से पूर्व पत्राचार की ओपचारिकता निभाई गई है|यह एक सकारात्मक कदम है इससे टकराव टाला जा जा सकता है लेकिन अब गेंद दिल्ली सरकार के पाले आ गई है|

आम आदमी पार्टी ने एन एच आर सी की न्युक्ति में मिली भगत के आरोप लगाये

आम आदमी पार्टी [आप] ने एन एच आर सी में जस्टिस सी जोसेफ और एन आई ऐ के पूर्व निदेशक एस सी सिन्हा की न्युक्तियों पर आज कडा ऐतराज किया है|और इन अधिकारियों को दागी बताते हुए व्यवस्था में सांठ गाँठ के आरोप लगाये गए हैं|पार्टी ने आरोप लगाया है कि इन न्युक्तियों से जुडीशियरी और इन्वेस्टिगेटिव एजेंसियों के साथ कहीं न कहीं सांठ गाँठ है जिससे इनकी निष्पक्षता पर प्रश्न चिन्ह लगता है| जस्टिस जोसेफ के विरुद्ध कभी न्याय नहीं करने का शर्मिंदा करने वाला अपकीर्तिकर रिकार्ड है| जस्टिस जोसेफ ने मुलायम सिंह यादव के खिलाफ आय से अधिक संम्पति के मामले को केंद्र सरकार के हित में लटकाए रखा|इसी प्रकार एस सी सिन्हा कि न्युक्ति भी संदेह के घेरे में हैं|इन न्युक्तियों से एन एच आर सी की निष्पक्षता पर सवाल उठाये गए हैं|
आप ने आरोप लगाया है कि इस प्रकार की न्युक्तियों से सरकार के लोक पाल की उपयोगिता भी नहीं होगी|

दिल कहता है कि देश जरुर बदलेगा और यह आवाज दिलों तक पहुंचेगी :अरविन्द केजरीवाल

उपवास के छठे दिन आज आप पार्टी के सर्वोच्च नेता अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि सरकार के भय को दिल्ली वालों के दिल से समाप्त किये बगैर वोह चैन से नहीं बैठेंगे|उन्होंने समर्थकों को एड्रेस करते हुए कहा कि जब सच्चे दिल से आवाज निकलती है तो अपने आप घर घर हर दिल तक पहुँच जाती है| मेरा दिल कहता है देश जरुर बदलेगा |
सुन्दर नगरी में उपवास पर बैठे आप के नेता अरविन्द केजरीवाल ने आज भाजपा और कांग्रेस पर भी निशाना साधा उन्होंने कहा कि ये दोनों पार्टियां बदलाव की बयार से परेशान हैं|अभी तक ये दल बाहु बल और मनी के बल पर चुनाव जीत कर आते रहे हैं लेकिन अब एक तरह का चुनाव होगा|और यह चुनाव महज चुनाव नहीं बल्कि क्रांति होगी|

दिल कहता है कि देश जरुर बदलेगा और यह आवाज दिलों तक पहुंचेगी :अरविन्द केजरीवाल

दिल कहता है कि देश जरुर बदलेगा और यह आवाज दिलों तक पहुंचेगी :अरविन्द केजरीवाल

इस अवसर पर किसान नेता गुरनाम सिंह ने बताया कि हरियाणा में किसानो ने बिजली १४ साल से बिजली के बिल देने बंद कर रखे हैं|मनीष शिशोदिया ने कहा कि मध्य प्रदेश में ८०० गावों ने बिजली के बिलों को देना बंद किया हुआ है| इन नेताओं ने दिल्ली के नागरिकों को भी एक जुट होकर बिजली पानी के अनाप शनाप बिलों को नहीं देने को प्रेरित किया |
आप के प्रवक्ता के अनुसार होली के बाद कार्यकर्ताओं ने और जोशो खरोश से जन संपर्क अभियान तेज कर दिया है| नार्थ वेस्ट के मुन्द्का में ट्रेक्टर पर ओसतन २५० समर्थक प्रति दिनके हिसाब से जुटाए जा रहे हैं| करावल में एक पोलिस कांस्टेबिल ने आन्दोलन के लिए लगातार दो दिन कार्य करने का ऐलान किया | बताया गया है कि ७००० कार्यकर्ताओं द्वारा पूरी दिल्ली में जन संपर्क में जुटे हैं इनके अलावा पड़ोसी राज्यों से भी स्वयम सेवक आने लग गए हैं|अभी तक इनकी संख्या ५०० बताई गई है|