Ad

Tag: AAP Arvind kejriwal

अमेरिका में दस हज़ार लोडेड बन्दूक धारी महात्मा गांधी के सविनय अवज्ञा आन्दोलन का अनुसरण करेंगे

अहिंसा वादी मोहन दास कर्म चंद गांधी की आत्मा दिल्ली के राज घाट शान्ति स्थल स्थित अपनी समाधि में आज कल बेचैनी से करवटें ले रही होगी यह सोशल साईट फेस बुक पर छपी एक पोस्ट को लेकर हो सकता है| अडम कोकेश [ADAMKOKESH ] ने अपने पेज पर बताया है के वर्जिनिया से वाशिंगटन के लिए ४ जुलाई को एक शांति मार्च निकाला जाएगा| जिसमे लगभग दस हज़ार भाग लेने वाले कानूनी और गैरकानूनी आग्नेय अस्त्रों[ GUNS ] से लैस होंगें| इनका कहना है घुटनों के बल जीने से अपने पैरों पर खड़े रह कर मरना अच्छा होगा| अमेरिका में बंदूकों को धारण करने की हिमायत में महात्मा गांधी के नाम का सहारा लेकर बंदूकों के सम्बन्धी कानून को तोड़ने के लिए सविनय अवज्ञा आन्दोलन छेड़ा जा रहा है|इसके लिए एक शान्ति मार्च निकाला जाएगा| यदि मार्ग में इन्हें रोका गया तो महात्मा गांधी के उपदेशों का पालन किया जाएगा और सत्याग्रह किया जा सकता है| यदि बल पूर्वक इन्हें मार्ग से वापिस लौटाया जाएगा तो यह साबित हो जाएगा कि स्वतंत्र लोगों को वाशिंगटन में प्रवेश की आज्ञा नही है|
मोहन दास कर्म चंद गांधी ने हथियारों के उपयोग का विरोध करके देश को आज़ाद कराया और अहिंसावाद का पर्याय बन गए| बेशक उनके अपने भारत में आज उनके आदर्शों को राजनीतिक लाभ के लिए भुनाया जाता है और राष्ट्र पिता का मज़ाक उड़ाया जाता है चूंकि गाँधी की छवि अन्तराष्ट्रीय स्तर पर हैं |इसीलिए अमेरिका में भी अब महात्मा के सत्याग्रह और सविनय अवज्ञा आन्दॉलन को पुनः चित्रित किया जाने वाला है |अब इनसे कोई ये पूछे कि १०००० लोडेड बन्दूक धारियों को मार्ग में रोकने की हिमाकत कौन सी सरकार करेगी खैर कुछ भी हो आज कल अन्ना बाबू राव हजारे और अरविन्द केजरीवाल भारत में महात्मा गाँधी के मार्ग का अनुसरण करके चर्चा में हैं ऐसे में इन बन्दूक धारियों को भी महात्मा गांधी के आशीर्वाद से वंचित नहीं होना पड़ेगा|

आम आदमी पार्टी का दिल्ली उद्योग व्यापार मंडल का गठन:ब्रजेश गोयल को समन्वयक और महेंद्र गोयल को अध्यक्ष बनाया

देश के व्यापारी को सत्ता का ऐसा माडल चाहिए जो व्यापारी को चोर न माने बल्कि उसे सम्मान दे.
आम आदमी पार्टी[आप] ने आज दिल्ली उद्योग व्यापार मंडल का गठन किया। जनलोकपाल आन्दोलन के समय से ही आन्दोलन से जुड़े हुए युवा व्यापारी ब्रजेश गोयल इसके समन्वयक बनाए गए हैं| और अन्ना आन्दोलन के समय से ही अन्ना की रसोई / आम आदमी रसोई चलाते आ रहे श्री महेंद्र गोयल इसके अध्यक्ष होंगे। चावड़ी बाज़ार में आयोजित एक व्यापारी सभा में टीम का गठन हुआ।
अरविन्द केजरीवाल ने स्वयम को व्यापारियों से जोड़ते हुए अपने परिवार के व्यापारिक रिश्तों का हवाला देते हुए कहा कि उनका परिवार भी व्यापारी जगत से जुडा है इसीलिए व्यापारियों कि समस्यायों के साथ उनके उत्पीडन को समझना और उनसे जुड़ना उनके लिए स्वाभाविक है| अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि आज 99% लोग ईमानदारी से काम करना और जीना चाहते हैं, लेकिन आज की राजनीति उन्हें भ्रष्टाचार करने पर मजबूर करती है। उन्होंने कहा कि हम सरकार का वो मॉडल लाना चाहते हैं, जिसमे आम व्यापारी सम्मान के साथ अपना काम कर सके और इज्ज़त के साथ जी सके। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर व्यवस्था ऐसी बनाई जाएगी जो आम व्यापारी को चोर न मानती हो, बल्कि ईमानदार मानकर चलती हो।
आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता मनीष सिसोदिया ने कहा कि बीजेपी और कांग्रेस की नीतियों ने दिल्ली के व्यापारियों की कमर तोड दी है. डब्ल्यू.टी.ओ. के समझौते तहत इन्होंने चीन के लिए बाजार खोल दिए हैं . इसका नुकसान यह हुआ है कि देश के आम आदमी को चीन का दोयम दर्जे का घटिया माल मिल रहा है. वहीं छोटे व्यापारी या कुटीर उद्योग बर्बाद कर दिए गए हैं|
उद्योग व्यापार मंडल के महासचिव बने अश्विनी जैन ने बताया कि “छोटे व्यापारियों की इस दुर्दशा को लेकर जब वे वित्त मंत्री पी. चिदंबरम से मिलने गए तो उन्होंने समस्या सुनने की बजाय मजाक उडाया और कहा कि छोटे व्यापार को भूल जाओ बडी इंडस्ट्री की बात करो.”
अरविन्द केजरीवाल के मार्गदर्शन में उद्योग व्यापार मंडल के दिल्ली प्रदेश का गठन हुआ और सभी ने संकल्प लिया कि आम आदमी पार्टी का सन्देश दिल्ली के हर दुकानदार तक पहुँचाया जाएगा। इस मौके पर अरविन्द केजरीवाल ने व्यापारियों के नाम एक खुली चिट्ठी भी जारी की इस चिट्ठी में उन्होंने दिल्ली के व्यापारियों की समस्या को आम आदमी पार्टी के नज़र में उसका समाधान प्रस्तुत किया है। ये चिट्ठी दिल्ली के हर दुकानदार और व्यापारी तक पहुंचाई जाएगी।

अरविन्द केजरीवाल द्वारा बिजली पानी के बिलों को लेकर लिखे पत्र पर दिल्ली सरकार का मौन जारी

आम आदमी पार्टी [आप]के, बिजली पानी के बिलों में भ्रष्टाचार को लेकर, 23 अप्रैल को लिखे पत्र पर अभी तक दिल्ली सरकार की तरफ से कोई उत्तर नहीं दिया गया है |अरविन्द केजरीवाल द्वारा बिजली पानी के बिलों को लेकर लिखे पत्र पर दिल्ली सरकार का मौन जारी है जबकि आप ने २८ अप्रैल तक का नोटिस दिया हुआ है| आप पार्टी के नेता मनीष शिशोदिया ने फोन पर बताया है कि श्री मति शीला दीक्षित कि तरफ से कोई कार्यवाही की सूचना नहीं आई है | पूछे जाने पर श्री शिशोदिया ने बताया कि दिल्ली सरकार से जवाब पाने की उनकी उम्मीद टूटी नही है|उन्हें अभी भी जवाब पाने की आशा है|
गौरतलब है कि दिल्ली में बिजली पानी के बिलों में भ्रष्टाचार को लेकर आप पार्टी ने असहयोग आन्दोलन छेड़ा हुआ है|जिसके फलस्वरूप साडे दस लाख दिल्ली वासियों ने आप पार्टी के माध्यम से पत्र लिखे हैं|इन्हें डिलीवर करने के लिए पहले दिल्ली की मुख्य मंत्री श्रीमती शीला दीक्षित के निवास की तरफ मार्च किया गया था|जिसे दिल्ली पोलिस की सहायता से असफल कर दिया गया था|उस समय कहा गया था कि आप पार्टी ने पूर्व सूचना नहीं दी थी संभवत अब २३ अप्रैल को पूर्व सूचना के तौर पर आप पार्टी के नेता अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली की मुख्य मंत्री श्रीमती दीक्षित को पत्र लिख कर यह ओपचारिकता पूरी कर दी है|लेकिन अभी तक असहयोगी बने साडे दस लाख दिल्ली वासियों के पत्रों को रिसीव करने के लिए दिल्ली की सरकार द्वारा कोई व्यवस्था नहीं की गई है|
गौरतलब है कि दिल्ली में बिजली पानी के बिलों में भ्रष्टाचार को लेकर पार्टी ने घोषणा की है कि २८ अप्रैल को दिल्ली के जंतर मंतर पर साडे दस लाख पत्रों के साथ इकट्ठा होंगे जहां से साडे दस लाख पत्रों को रिसीव कराने के लिए मुख्य मंत्री के निवास की तरफ मार्च किया जाएगा| अब सी एम् निवास की तरफ मार्च से पूर्व पत्राचार की ओपचारिकता निभाई गई है|यह एक सकारात्मक कदम है इससे टकराव टाला जा जा सकता है लेकिन अब गेंद दिल्ली सरकार के पाले आ गई है|

अरविन्द केजरीवाल के उपवास के छठे दिन स्वास्थ्य गिरा : पल्स रेट में गिरावट HEALTH OF ARVIND KEJRIWAL DETERIORATED

आम आदमी पार्टी[आप ] के सर्वोच्च नेता के उपवास का छठा दिन है आज सुबह के हेल्थ बुलेटिन में डाक्टरों की टीम ने उपवास पर बैठे नेता के हेल्थ की जांच की | आप के नेता के स्वास्थ्य में गिरावट नोट की| शुगर+किटों और पल्स में बीते दिन के मुकाबिले आज सुबह गिरावट दर्ज़ की गई है| पार्टी का दावा है के बेशक अरविन्द केजरीवाल का स्वास्थ्य गिर रहा है मगर भ्रस्टाचार के विरुद्ध लड़ाई के लिए उनका हौंसला बुलंद है और उनके असहयोग आन्दोलन के साथ जुड़ने वालों की संख्या में लगातार बढोत्तरी हो रही है| बीते दिन का रिकार्ड २.६९ ४२३ है|पार्टी के दावे के अनुसार दिल्ली के निवासियों का सरकार के विरुद्ध अब जुड़ना शुरू हो गया है और यही इस उपवास का उद्देश्य भी है|

अरविन्द केजरीवाल के उपवास के छठे दिन स्वास्थ्य गिरा : पल्स रेट में गिरावट

अरविन्द केजरीवाल के उपवास के छठे दिन स्वास्थ्य गिरा : पल्स रेट में गिरावट

28 march 2013 27march २०१३
[१] ब्लड प्रेशर ========१२० /७४ ======== ११४ /७०
[२]पल्स==============६६ ७४
[३]शुगर==============१०६ =१०८
[४] यूरिन में कीटोंKetone==3+ ==============4+
[५]वजन ============================५९.५ के जी

पांच दिन के उपवास में अरविन्द केजरीवाल के शरीर का वजन साड़े पांच किलो घटा :असहयोगियों की संख्या २६९४२३ हुई

उपवास में अरविन्द केजरीवाल के शरीर का वजन साड़े पांच किलो घटा :असहयोगियों की संख्या २६९४२३ हुई

उपवास में अरविन्द केजरीवाल के शरीर का वजन साड़े पांच किलो घटा :असहयोगियों की संख्या २६९४२३ हुई

आम आदमी पार्टी के उपवास के पांचवे दिन आज असहयोगियों की संख्या २ .६९ लाख तक पहुंची|उपवास पर बैठे अरविन्द केजरीवाल के स्वास्थय में गिरावट जारी है|मेडिकल बुलेटिन में बताया गया है कि [
[१] यूरिन केटों Ketone ]का स्तर =4+
[२]ब्लड प्रेशर =114/७०
[३]पल्स = ७४
[४] शुगर =१०८
[५] वजन =[६५-५९.५]=५.५ के जी

आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता के अनुसार बेशक अरविन्द केजरीवाल का स्वास्थ्य गिर रहा है मगर उनका हौंसला बुलंद हैऔर उनके असहयोग आन्दोलन के साथ जुड़ने वालों की संख्या २.६९ ४२३ पर जा पहुंची है|पार्टी के दावे के अनुसार दिल्ली के निवासियों का सरकार के प्रति डर अब कम हो रहा है और यही इस उपवास का उद्देश्य भी है|

उपवास के ३ सरे दिन “आप” ने बिजली उपभोक्ताओं की व्यथा को उजागर करने के लिए एक विडियो जारी किया

उपवास के ३ सरे दिन "आप" ने बिजली उपभोक्ताओं की व्यथा को उजागर करने के लिए एक विडियो जारी किया

उपवास के ३ सरे दिन “आप” ने बिजली उपभोक्ताओं की व्यथा को उजागर करने के लिए एक विडियो जारी किया

आम आदमी पार्टी ने आज उपवास स्थल से एक विडियो जारी की है इसमें दो बुजुर्ग महिलाओं ने बिजली के बिलों को लेकर मुख्य मंत्री शीला दीक्षित के विरुद्ध आक्रोश व्यक्त किया है|इस विडियो में आप के नेता मनीष शिशोदिया ने दो महिलाओं की व्यथा को कवर किया है |इन महिलाओं के अनुसार निर्धन परिवार में लगे बिजली के मीटर के लिए बेहिसाब बिल वसूले जा रहे हैं एक महिला के अनुसार ३१००० देने के बाद भी पुनः १३००० का बिल भरने के विवश किया गया |एक महिला ने बताया कि आचार के साथ रोटी खाकर बिल के लिए पैसे जुटाए तो दूसरी उपभोक्ता के अनुसार उन्होंने ब्याज पर पैसा लेकर बिल का भुगतान किया है|इन्होने मुख्य मंत्री पर गरीबों के खिलाफ कार्य करने का आरोप लगाते हुए सविनय अवज्ञा आन्दोलन में भाग लेने की घोषणा की|एक उपभोक्ता ने तो रोते रोते यहाँ तक कहा कि जब सरकार से कुछ नहीं हो रहा तो शीला दीक्षित क्यूं १५ साल से मुख्य मंत्री बनी हुई है|इनकी व्यथा सुन कर द्रवित हुए आप के नेता ने आम आदमी के हित में व्यवस्था परिवर्तन के लिए रिवोल्ट को जरुरी बताया |
उपवास के तीसरे दिन आज अरविन्द केजरीवाल की स्वास्थ्य बुलेटिन भी जारी की गई|इसके अनुसार उनका स्वास्थ्य स्थिर है|इसकी जानकारी स्वयम केजरीवाल ने देते हुए लम्बी लड़ाई लड़ने का एलान किया |
पत्रकारों द्वारा इस अनिश्चितकालीन उपवास स्थल पर लोगों की कमी पर प्रश्न किया गया तो उपवास पर बैठे नेताओं ने कहा कि यहाँ भीड़ कि जरुरत नहीं है कार्यकर्ता घरों में जाकर लोगों को जागरूक कर रहे हैं|
इस अवसर पर अरविन्द केजरीवाल और मनीष शिशोदिया ने प्रदेश सरकार की खामियों पर जम कर प्रहार किये|उन्होंने शीला दीक्षित को एक बार फिर बिजली कंपनियों का दलाल बताते हुए कहा कि इस सम्बन्ध में उनके पास पर्याप्त सबूत हैं और कोई भी मान हानि के मुकद्दमे का सामना करने को तैयार हैं |उन्होंने कहा कि दिल्ली के लेफ्टिनेंट गवर्नर तेजिंदर खन्ना के अनुसार बिजली कंपनियों को ३०००० करोड़ रुपयों का प्रॉफिट हुआ जबकि मुख्य मंत्री श्रीमती शीला दीक्षित के अनुसार कंपनियों को २०००० करोड़ का घाटा हुआ है|
अपने ऊपर अराजकता [एनार्की] फैलाने के आरोपों के जवाब में उपवास के प्रमुख ने कहा कि यह सच्चाई और झूट की लड़ाई है|सच्चाई की जीत के लिए अगर अराजकता होती है तो यही सही|काउंसिलर विनोद कुमार बिन्नी+एक्टिविस्ट किरण+संजय सिंह+ एडवोकेट प्रशांत भूषण +आदि के योगदान का भी उल्लेख किया गया कार्यक्रम में रोचकता बनाये रखने के लिए एक ग्रुप यह पैरोडी गीत गा रहा था

बिजली पानी के बिल बहुत दिए बधाई रे ,जनता की दुश्मन बन गई शीला ताई रे

अरविन्द केजरीवाल का असहयोग और उपवास २सरे दिन भी जारी:पहले दिन ३६७४३ समर्थक आये

अरविन्द केजरीवाल का असहयोग और उपवास २सरे दिन भी जारी:पहले दिन ३६७४३ समर्थक आये

अरविन्द केजरीवाल का असहयोग और उपवास २सरे दिन भी जारी:पहले दिन ३६७४३ समर्थक आये

आम आदमी पार्टी (आप) के सर्वोच्च नेता अरविंद केजरीवाल आज रविवार को दूसरे दिन भी लगातार उपवास पर रहे|
रामलीला मैदान व जंतर-मंतर की खुली जगह के स्थान पर उन्होंने इस आंदोलन के लिए यमुनापार की सुंदर नगरी की तंग गली को चुना है| आप की वेबसाइट पर पहले दिन के समर्थकों का आंकडा ३६७४३ दिखाया गया है|अरविंदकेजरीवाल के अनुसार उपवास तभी टूटेगा, जब दिल्ली वासियों के मन में बैठा सत्ता का डर निकल जाएगा।दिल्ली वासी भ्रष्टाचार के विरुद्ध एक जुट हो जायेंगे| उन्होंने दिल्‍लीवासियों से अपील की है कि वे बिजली-पानी का बिल न भरें। दिल्ली में बिजली-पानी के नाजायज़ रूप से बढ़े बिलों के खिलाफ, जनता को एकजुट करने के लिए यह असहयोग आन्दोलन और उपवास का कार्यक्रम चलाया गया है|
आप के नेताओं का कहना है कि बिजली और पानी के नाजायज़ बिलों से दिल्ली के आम आदमी की ज़िन्दगी हलकान है. यह बिल बढ़ने का एक ही कारण है – भ्रष्टाचार. दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित जी बिजली-पानी कंपनियों से मिली हुई हैं. वे जनता के हितों को बेचकर, बार बार बिजली पानी के दाम बढ़ा रही हैं. दूसरी तरफ प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा चुप है या फिर विरोध का नाटक करती है.
सर्व विदित है कि २०१० में डीईआरसी के तत्कालीन चेयरमैन बरजिंदर सिंह ने बिजली के दाम कम करने का आदेश तैयार किया था, लेकिन दिल्ली कि मुख्य मंत्री शीला दीक्षित ने इसे रुकवा दिया | उस आदेश की प्रति दो साल से दिल्ली के बीजेपी नेताओं के पास थी लेकिन उनके विधायकों ने दो साल में एक बार भी इसे विधानसभा में नहीं उठाया. आज वो चुनाव के पहले विरोध का नाटक कर रहे हैं
ये . दोनों बड़ी पार्टियां बिजली-पानी की बड़ी बड़ी कंपनियों से मिली हुई हैं.श्री मति शीला ने दिल्ली में बिजली के दाम और बढ़ाने का निर्णय कर लिया है. उनका कहना है कि बिजली कंपनियों को २० हज़ार करोड़ का घाटा हुआ है. दिल्ली में ३५ लाख बिजली कनेक्शन हैं, अगर यह २० हज़ार करोड़ रुपया लोगों से वसूला गया तो औसतन हर परिवार को ५०००/- रूपए महीना अतरिक्त देने पड़ेंगे| आने वाले कुछ महीनों में दिल्ली में नाटक खेला जाएगा कि डीईआरसी बिजली के दाम बढ़ाएगा, शीला दीक्षित चुनाव के पहले सब्सिडी देकर बिल कम करने का नाटक करेंगी, और भाजपा विरोध का नाटक करेगी. जनता पिसती रहेगी.इस अन्याय से लड़ने के लिए हमें महात्मा गांधी का बताया रास्ता नज़र आता है. वे कहते थे कि – “जो अन्यायपूर्ण कानून हो, उसका पालन मत करो. उसके बदले में सरकार जो सज़ा दे तो वह भी भुगतने को तैयार रहो.”
इस आन्दोलन में कुछ नया पन भी दिख रहा है|जनता से सीधे जुड़े बिजली पानी के मुद्दे को लेकर अबकी बार जंतर मंतर या राम लीला मैदान जैसे खुले स्थान को नहीं चुना गया [१] वरन यमुनापार की सुंदर नगरी की तंग गली को चुना गया है|शायद अरविन्द को एहसास हो गया है कि दिल्ली के तख्त तक पहुंचाने के लिए वोटों की सीडियां इन्ही गली मोहल्लों से होकर निकलती हैं|[२] अरविन्द केजरीवाल ने उपवास पर बैठने से पहले माथे पर बहुत बड़ा लाल टीका लगाया हुआ है शायद यह भाजपा के वोट बैंक के लिए चुम्बक का काम कर सकेगा|[३]पहले दिन ३६७४३ समर्थकों के जुटाने का दावा अपने आप में “आप” के उत्साह को बढाने के लिए पर्याप्त है |

समाज में सरकार के डर को दूर करने के लिए२३ मार्च से होगा अरविन्द केजरीवाल का उपवास और अवज्ञा आन्दोलन

समाज में सरकार के डर को दूर करने के लिए२३ मार्च से होगा अरविन्द केजरीवाल का उपवास और अवज्ञा आन्दोलन

समाज में सरकार के डर को दूर करने के लिए२३ मार्च से होगा अरविन्द केजरीवाल का उपवास और अवज्ञा आन्दोलन

विसंगतियों के विरुद्ध अवज्ञा आन्दोलन के लिए समाज को जागरूक किया जाना जरुरी है|लेकिन समाज में सरकार का प्रति अनावश्यक डर बैठा हुआ है |लोगों के दिलों में बैठे इसी अनावश्यक डर को दूर करने लिए “आप” के सर्वोच्च नेता अरविन्द अरविन्द केजरीवाल 23 मार्च से दिल्ली में अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठेंगे। यह उपवास बिजली के बढ़े हुए बिलों के लिए होगा|यद्यपि यह एलान बीते दिन कर दिया गया था मगर सत्ता पर बैठे नेताओं की तरफ से इस घोषणा का मजाक उड़ाते हुए कहा गया कि अरविन्द केजरीवाल का ग्रुप पहले भी कई बार आमरण अनशन कर चुके हैं मगर उसका कोई इफेक्ट नहीं हुआ|इस पर प्रतिक्रया जानने के लिए जब आप के कार्यालय फोन किया गया तो मीडिया को देख रहीं अस्वती मुरलीधरन ने बताया कि पहले अन्ना हजारे के साथ भी अनशन किया जा चुका है मगर सरकार ने हमेशा धोखा दिया है|आश्वासन के बावजूद भी जन लोकपाल नहीं लाया गया |अब संसद में जो लोक पाल लाया जा रहा है वह जनता की उम्मीदों पर खरा नहीं उतरता|इसी परिपेक्ष्य में अब हमें इस सरकार से कोई उम्मीद नहीं रह गई है| उन्होंने कहा कि वर्तमान में जनता सरकार की दमन कारी नीतियों से बेहद डरी हुई है उस डर को दूर करने के लिए ही यह उपवास किया जाएगा|
इससे पुर्व बीते दिन सामाजिक कार्यकर्ता से नेता बने आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि वह बिजली और पानी की बढ़ती कीमतों के खिलाफ आंदोलन करेंगे। उन्होंने कहा कि दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित बिजली कंपनियों के साथ मिली हुई हैं। उसी का परिणाम है कि बिजली कंपनियां मनमाना ढंग से बिल बढ़ा रही हैं। उन्होंने लोगों से इसके खिलाफ सविनय अवज्ञा आंदोलन की अपील की है। उन्होंने कहा कि लोग बिजली बिल देना बंद करें।
अरविंद ने कहा है कि दिल्ली में पानी और बिजली के बिल बढ़ने का सिर्फ एक कारण है करप्शन। उन्होंने कहा कि दिल्ली की जनता डरी हुई है और एकजुट नहीं है। इसी का फायदा सरकार उठा रही है।उन्होंने कहा कि दिल्ली में पानी और बिजली के बिल नाजायज तरीके से आ रहे हैं। जनता महंगाई की वजह से कराह उठी है।
अरविन्द केजरीवाल का कहना है कि मजदूर की बिजली ४६००/= का भुगतान नहीं होने पर काट दी जाती है। मंत्रियों और सांसदों के ऊपर लाखों का बकाया है फिर भी उनसे कोई बकाया की रकम मांगता नहीं।

अरविंद केजरीवाल 23 मार्च से अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठेंगे:Disobedience Movement against Sheila Dikshit

अरविंद केजरीवाल 23 मार्च से अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठेंगे:Disobedience Movement against Sheila Dikshit

अरविंद केजरीवाल 23 मार्च से अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठेंगे:Disobedience Movement against Sheila Dikshit

सामाजिक कार्यकर्ता से राजनीति के मैदान में कूदने वाले अरविंद केजरीवाल 23 मार्च से दिल्ली में अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठेंगे। यह उपवास बिजली के बढ़े हुए बिलों के लिए होगा|
आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि वह बिजली और पानी की बढ़ती कीमतों के खिलाफ आंदोलन करेंगे। उन्होंने कहा कि दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित बिजली कंपनियों के साथ मिली हुई हैं। उसी का परिणाम है कि बिजली कंपनियां मनमाना ढंग से बिल बढ़ा रही हैं। उन्होंने लोगों से इसके खिलाफ सविनय अवज्ञा आंदोलन की अपील की है। उन्होंने कहा कि लोग बिजली बिल देना बंद करें।
अरविंद ने कहा है कि दिल्ली में पानी और बिजली के बिल बढ़ने का सिर्फ एक कारण है करप्शन। उन्होंने कहा कि दिल्ली की जनता डरी हुई है और एकजुट नहीं है। इसी का फायदा सरकार उठा रही है।उन्होंने कहा कि दिल्ली में पानी और बिजली के बिल नाजायज तरीके से आ रहे हैं। जनता महंगाई की वजह से कराह उठी है।
अरविन्द केजरीवाल का कहना है कि मजदूर की बिजली ४६००/= का भुगतान नहीं होने पर काट दी जाती है। मंत्रियों और सांसदों के ऊपर लाखों का बकाया है फिर भी उनसे कोई बकाया की रकम मांगता नहीं।

“आप” ने आज बिजली के दामों में फ्राड का आरोप लगा कर मुख्य मंत्री,विद्युत् उत्पादक और रेग्युलेटरी कॉर्पोरेशन को घेरा

जनांदोलन में गुरु रहे अन्ना हजारे ने जन लोक पाल पर केंद्र सरकार तो चेले रहे अरविन्द केजरीवाल ने बिजली के मुद्दे पर दिल्ली सरकार के विरुद्ध बिगुल फूँका आप के नेता अरविन्द केजरीवाल ने आज फिर दिल्ली में शीला दीक्षित सरकार को बिजली के झटके दिए | हमेशा की तरह एक प्रेस कांफ्रेंस में दिल्ली सरकार ,विद्युत् विभाग दिल्ली इलेक्ट्रीसिटी रेग्युलेटरी कॉर्पोरेशन [डी ई आर सी]और विद्युत् उत्पादक अनिल अम्बानी और टाटा पर मिली भगत का आरोप लगाया और बिजली के दामो में कमी करने के बजाय दोगुनी बढोत्तरी का आरोप मड़ा| गौर तलब है कि अभी हाल ही में दिल्ली सरकार ने ३% की और बढोत्तरी की घोषणा को समर्थन दे दिया है|ऐसे में इस मुद्दे को उठा कर आप ने ना केवल सरकार को कटघरे में खड़ा करने का प्रयास किया वरन दिल्ली की गद्दी की तरफ एक कदम और आगे बड़ा दिया |
अरविन्द ने घोषणा की है कि दिल्ली की ६१ विधान सभा छेत्रों में प्रति माह एक आम बैठक करके बिजली के लिए मची लूट को उजागर किया जाएगा|
आम आदमी पार्टी की टोपी पहने अरविन्द ने आरोप लगाया कि निजीकरण के जरिए बिजली कंपनियों को फायदा पहुंचाया गया है| निजीकरण से जनता को कोई फायदा नहीं हुआ.उलटे जनता धोखा धडी का शिकार हुई है| उपलब्ध आंकड़ों के हावाले से बताया गया कि दिल्ली में वर्ष २०१० में बिजली के दामो में २३% की कमी की जानी चाहिए थी मगर खर्चे बड़ा कर +नुक्सान दिखा कर बिना आडिट कराये ही बिजली के दामो में दोगुनी व्रद्धी कर दी गई है| बिजली कंपनियां फ्रॉड कर रही हैं और अपने खर्चे बढ़ाकर दिखा रही हैं, जबकि तथ्य यह है कि कंपनियों को नुकसान नहीं फायदा हो रहा है।
आप पार्टी के नेता केजरीवाल ने आरोप लगाया कि दिल्ली में बिजली कंपनियों को फायदा पहुंचाया गया। केजरीवाल ने ये भी कहा कि बिजली के दाम घटाने की सिफारिश शीला सरकार ने नहीं मानी। 4 मई 2010 को शीला सरकार ने बिजली के दाम घटाने के आदेश को रोका। केजरीवाल ने दावा किया कि दिल्ली में बिजली कंपनियों को 3577 करोड़ का मुनाफा हुआ है।और इन कंपनियों का आडिट कराने की मांग को सिरे से नकार कर दिल्ली की सरकार ने जनता के साथ भी धोखा किया है| केजरीवाल ने बताया के 1 % कनेक्शन की जांच करवाई गई। उसमें यह बात सामने आई कि 10 % उपभोक्ताओं के बिल जीरो दिखाए जा रहे हैं। यह भी पता चला कि उपभोक्ता पैसा तो दे रहे हैं लेकिन उस रिकवरी को कंपनियां बही-खातों में दिखा नहीं रही हैं ताकि रेवेन्यू कम दिख सके और लोगों को लगे कि कंपनियों को लगातार घाटा हो रहा है। इसके आधार पर शेष कनेक्शनों की भी जांच की जानी चाहिए थी लेकिन ऐसा नहीं किया गया
केजरीवाल के मुताबिक डी ई आर सी के पूर्व डायरेक्टर बिजेंद्र सिंह ने बिजली के दाम घटाने की सिफारिश की थी। उन्होंने 23 % दाम घटाने की सिफारिश की थी, लेकिन शीला दीक्षित ने दाम घटवाने का आदेश रुकवा दिया। केजरीवाल ने रेगुलेटरी कमीशन के चेयरमैन को बिजली कंपनियों का एजेंट बताया और उन्होंने कहा कि टाटा-अनिल अंबानी की कंपनियां घपला कर रही हैं। जबकि दिल्ली में आधी कीमत पर बिजली दी जा सकती है। उन्होंने बिजली कंपनियों पर मुनाफा और राजस्व छिपाने का भी आरोप लगाया।उन्होंने जनता के हित के बजाय जनता के खिलाफ विद्युत् उत्पादकों के हित में काम करने का आरोप दिल्ली सरकार पर लगाया| अरविन्द केजरीवाल ने २०१० की रिपोर्ट के आधार पर बिजली के दरें लागू करने,अनिल अम्बानी और टाटा की कंपनियों पर धारा ४२० के अंतर्गत मुकद्दमा दर्ज़ करवाने और वर्तमान डी ई आर सी श्री सुधाकर को तत्काल हटाये जाने के मांग की है|यहाँ यह भी बतातें चलें की अरविन्द केजरीवाल के वरिष्ठ रहे अन्ना बाबु राव हजारे ने केंद्र सरकार के विरुद्ध जन लोक पल के लिए बिगुल फूंकने की घोषणा की है तो अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली प्रदेश का तख्ता पलटने के लिए बिजली का सहारा लिया है| अरविन्द के साथ मनीष शिशोदिया और प्रशन भूषण आदि भी उपस्थित थे