Ad

Tag: AshokKhemka

खट्टर साहिब! स्पोर्ट्स टैक्स नियमों का पालन नहीं करवा सकते तो उन्हें हटवा ही दो

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

हरयाणवी भाजपाई

औए झल्लेया ! म्हारे खट्टर साहब ने मनोहारी सोच दिखाते हुए खिलाड़ियों पर लगाया जा रहा १/३ प्राश्रमिक टैक्स को रोक दिया है प्रदेश के सैंकड़ों खिलाड़ियों की बांछे खिल उठी हैं

झल्ला

जिन नियमों का आपलोग पालन न करा सको उन्हें हटवा ही दो |सरकारी नियमों के अनुसार एक कर्मचारी दो तनख्वाह नहीं ले सकता |यदि तनख्वाह के साथ ही वह कोई अन्य स्रोत से प्राश्रमिक भी लेता है या कमाई करता है तो उसका एक तिहाई अपने एम्प्लायर को देना होता है | इसी नियम के तहत अशोक खेमका ने सरकारी सेवा में खिलाड़ियों पर टैक्स लगाया जिसे पलटने पर अब खट्टर साहिब को यह नियम बदलवा ही देना चाहिए और खिलाडियों को राजनीती करने देना चाहिए

विज को खेमका की आई फिर याद ,प्रमोशन के लिए खट्टर से करेंगे बात

[अंबाला,हरियाणा]विज को खेमका की आई फिर याद प्रमोशन के लिए ,खट्टर से करेंगे बात |खेमका पिछले तीन महीनों से पदोन्नति की प्रतीक्षा में हैं |
हरियाणा के धाकड़ स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अशोक खेमका के समर्थन में आगे आए और कहा कि वह उनके मामले में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से बात करेंगे।
वरिष्ठ आईएएस अधिकारी अशोक खेमका ने ट्वीट कर कहा था कि यह उनके लिए ‘अपमानजनक’ है कि वह पिछले तीन माह से ‘निचली रैंक’ पर हैं और पदोन्नति का इंतजार कर रहे हैं।
खेमका का समर्थन करते हुए विज ने कहा कि वह एक ‘स्पष्टवादी’ अधिकारी हैं और उन्हें उनका ‘हक’ मिलेगा।
विज ने पत्रकारों से कहा, ‘‘ मैं इस संबंध में मुख्यमंत्री से मुलाकात करूंगा”
विज अम्बाला से पांचवी बार विधायक बने हैं |

अशोक खेमका को हरियाणा में व्हिसल ब्लोअर का तमगा नहीं बल्कि अब तो”गांडीव”चाहिए

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

भाजपाई हरियाणवी चेयर लीडर

ओये झल्लेया ये अशोक खेमका को कौन सी कीड़ी ने फिर से काट लिया आये दिन हसाड़ी सोणी नई नवेली सरकार के भी पीछे पढ़ गए ओये कभी गवर्नर से शिकायत रहे हैं तो कभी सीएम को उलाहना दे रहे हैं जब कोई नहीं मिलता तो ट्वीट करके अपनी भड़ास निकालने में लगे हुए हैं अब हमें ही गीता का पाठ पढ़ाने में जुटे हुए हैं अरे भाई इनका ट्रांसफर ही तो किया है कोई जेल थोड़े ही भेज दिया

झल्ला

ओ मेरे चतुर हो चुके सेठ जी अशोक खेमका ने अपने ट्वीट में बता दिया है कि भाजपाई सरकार महाभारतकालीन भीष्मपितामह की असहाय भूमिका का निर्वाह कर रही है और अपराधी कौरव दुर्योधन जैसे कुचक्र रचने में व्यस्त हैं ऐसे में अशोक ने चेतावनी दी है कि अब उनके लिए केवल व्हिसल ब्लोअर का तमगा पर्याप्त नहीं हैं |अब तो पांडव पुत्र अर्जुन की तरह कौरवों के समूल नाश के लिए गाण्डीव उठाना जरूरी हो गया है

सीएम खट्टर ,कहीं, हरियाणवी अशोक खेमका के केस चक्रव्यूह में अभिमन्यु बनने तो नहीं जा रहे

[चंडीगढ़]सीएम खट्टर ,कहीं, हरियाणवी अशोक खेमका के केस चक्रव्यूह में अभिमन्यु बनने तो नहीं जा रहे|
हरियाणा के १० वें सीएम को भी भ्र्ष्टाचार के चक्रव्यूह का सामना करना पड़ रहा है |जीरो टॉलरेन्स का नारा देने वाले श्री खट्टर अशोक खेमका के केस में अर्जुन के बजाय अभिमन्यु सरीखे मजबूर दिखाई दे रहे हैं |
हरियाणा को भगवान का निवास” कहा गया है लेकिन नाम के विपरीत यहाँ आये दिन अराजकता मुह फैलाये खड़ी दिखाई दे रही हैं |प्रदेश के इस डीएनऐ को बदलने का संकल्प लेकर सत्ता में आये भाजपा के पहले मुख्य मंत्री मनोहर लाल खट्टर संकटों में घिरते जा रहे हैं |शिक्षक+किसान+ट्रांसपोर्टर+के आलावा आये दिन एक्सीडेंट+लूट की समस्यायों से जूझते हुए चौथे लाल श्री खट्टर भी प्रदेश के पूर्व तीन “लाल” की भांति असहाय दिखने लग गए हैं |
यह शायदप्रदेश के डीएनऐ में ही हैं|
हरियाणा राज्य वैदिक +सिंधु घाटी सभ्यता का मुख्य निवास स्थान है। यूं तो इस क्षेत्र में लड़ी गई विभिन्न लड़ाइयाँ भी इतिहास में दर्ज हैं |इसमें महाभारत के महा युद्ध के अलावा तीन पानीपत की लड़ाइयाँ भी शामिल हैं मगर “गीता” के ज्ञान से यह प्रदेश हरि का निवास कहा गया है|
राजनीतिक इतिहास देखा जाये तो यहां बुराइयों के चक्रव्यूह को भेदने के लिए ९ धाकड़ मुख्य मंत्री आये+बंसी लाल तीन बार तो चौधरी देवी लाल के परिवार को ६ बार सत्ता सुख प्राप्त हुआ भजन लाल ने भी अपने तेवर दिखाए +यहां के पहले सीएम तो राष्ट्रपति भी बने मगर प्रदेश का डी एन ऐ नहीं बदल पाये जिसके फलस्वरूप तीन बार [ नवंबर १९६७+ जून १९७७+ जुलाई १९९१ ]राष्ट्रपति शासन लगाया गया |
हरियाणा, भारत के अमीर राज्यों में से एक है और प्रति व्यक्ति आय के आधार पर यह देश का दूसरा सबसे धनी राज्य है यह आर्थिक रूप से दक्षिण एशिया का सबसे विकसित क्षेत्र है शायद इसीलिए ९ वें मुख्य मंत्री ने राबर्ट वढेरा और डी एल ऍफ़ की लैंड डील से आँखें मूंदे रखीजिन्हें खोलने के लिए व्हिसल ब्लोअर अशोक खेमका चर्चा में आये और उत्पीड़न का शिकार बने |
प्रदेश के दसवें मुख्यमंत्री श्री खट्टर से जनता को अपेक्षाएं हैं लेकिन मात्र चार महीने में ही अशोक खेमका जैसे व्हिसल ब्लोअर को ४६ वें ट्रांसफर का दंश दे दिया|बेशक सरकारी डिक्शनरी में ट्रांसफर को दंड नहीं कहा गया लेकिन ट्रांसपोर्ट विभाग जैसे मलाई दार महकमे से पुरातत्व जैसे काम महत्वपूर्ण विभाग में ट्रांसफर अपने आप में अभूत कुछ कह जाता है| स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने अपनी सरकार की छवि सुधारने के लिए अशोक खेमका का साथ देने की घोषणा कर दी है इसके बावजूद श्री खट्टर पुराने सियासी ब्यान को ही दोहराने में लगे हैं”यह तो रूटीन ट्रांसफर था” प्रदेश सरकार का यह कदम इसलिए भी चौंकाने वाला है क्योंकि स्वयं खट्टर ने २९ मार्च को शासन +प्रशासन में फैले रिश्वत के बाजार को समाप्त करने का बीड़ा उठाया था २९ मार्च के एक ट्वीट में कहा गया है”राजनीती शक्ति अर्जन के लिए नही वरन जनता की सेवा के लिए है
हो सकता है कुछ छेत्रों में शासन के विरोधों की दिशा बदलने के लिए ऐसे जुगाड़ जरूरी समझे गए हों लेकिन क्षति तो हर हाल में क्षति ही है

व्हिसल ब्लोअर अशोक खेमका के ४६ वें ट्रांसफर के खिलाफ,अनिल विज,खड़े हुए

[चंडीगढ़]व्हिसल ब्लोअर अशोक खेमका के ४६ वें ट्रांसफर के खिलाफ स्वास्थ्य मंत्री खड़े हुए| अनिल विज ने मीडिया के समक्ष कहा कि अशोक खेमका ईमानदार अधिकारी हैं उन्होंने तत्कालीन शक्तिशाली राबर्ट वढेरा के जमीन घोटालों को उजागर किया था उस समय भी मै [विज] अशोक खेमका के समर्थन में धरने पर बैठा था और आज भी अशोक खेमका ईमानदार हैं इसीलिए मै उनके साथ खड़ा हूँ |स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि “मैं आज भी अशोक खेमका के साथ हूँ | मैं मुख्यमंत्री जी से मिल कर अशोक खेमका के तबादले बारे में बात करूंगा ।गौरतलब है कि अशोक खेमका को ट्रांसपोर्ट विभाग से हटा दिया गया है अब उन्हें महा निदेशक बना कर काम महत्व के पुरातत्व विभाग में भेजा गया है

व्हिसल ब्लोअर आईऐएस अशोक खेमका ने हरियाणा में व्यवस्था पर फिर टिपण्णी की

[चंडीगढ़]व्हिसल ब्लोअर आईऐएस अशोक खेमका ने हरियाणा में व्यवस्था पर फिर टिपण्णी की
व्हिसल ब्लोअर आईऐएस अशोक खेमका ने व्यवस्था पर आज सोशल साइट पर फिर चिंता व्यक्त की |मार्च के महीने में जिस तरह एकाउंट्स क्लोज किये जाते हैं लगभग उसी प्रकार श्री खेमका ने भी अपने साथ हुए अन्याय के प्रति अपना दर्द महीने के अंतिम दिनों में उढ़ेला है |
ट्विटर पर श्री खेमका ने लिखा है कि सीमाओां में बंधे रह कर अनेकों लांछनों को झेलते हुए भी हरियाणा के भ्र्ष्टाचार में लिप्त ट्रांसपोर्ट विभाग में सुधार के लिए अनथक प्रयास किये “Tried hard to address corruption and bring reforms in Transport despite severe limitations and entrenched interests. Moment is truly painful” वर्तमान में श्री खेमका हरियाणा में ट्रांसपोर्ट कमिश्नर + सेक्रेटरी हैं ,|गौरतलब है कि प्रद्देश में सिटी बसों के संचालन को हरी झंडी दिखाने के लिए सरकारी बसों के चालकों द्वारा विरोध किया जा रहा हैं |
तमाम लांछनों के बावजूद सुधारों के मार्ग पर अकेले ही चलने का संकल्प दोहराते हुए एक २६ मार्च के अन्य ट्वीट में गुरु देव रबिन्द्र नाथ टैगोर को उद्धत करते हैं यह बंगला भाषा में भी है
.যদি তোর ডাক শুনে কেউ না আসে তবে একলা চলো রে (If no one responds to your call, then go your own way alone) – Gurudev Tagore
इससे पूर्व भी अपने ट्वीट्स में अशोक खेमका अपने प्रति हो रहे अन्याय को उजागर करते आ रहे हैं

जैसे नौ मन तेल के बिना राधा ना नाचे वैसे ही फ़ाइल के पन्नों के बगैर वढेरा जी थानों में ना नाचें

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया ये भाजपाईयों ने क्या पाखंड मचाया हुआ है पहले चिल्लाते फिरते थे कि हसाडे सोणे जवाई राजा रोबर्ट वढेरा जी ने हरियाणा की जमीनों में धांधली करके करोड़ों रुपये अंदर कर लिए अब जब इनकी सरकार बन गई तो घिघिया रहे हैं कि डीएलऍफ़ के साथ हुई वढेरा जी की डील की फ़ाइल के अहम पन्ने ही नहीं मिल रहे|जिस ढीले ढाले अशोक खेमका को हमने तड़ी पार लगाया था वोह अब इस सरकार के खिलाफ ऍफ़आईआर दर्ज करने की बात करने लग गया है |ओये इन्होने झूठ का बोलबाला करके सत्ता तो कब्ज़ा ली अब देखते हैं ये खट्टर की मनोहर सरकार न्याय कैसे करती हैंऔर ये आप पार्टी वालों को तो सांप ही सूंघा हुआ है

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण जैसे नौ मन तेल के बिना राधा ना नाचे वैसे ही फ़ाइल के पन्नों के बगैर वढेरा जी थानों में ना नाचें
ठीक ही है न “नौ मन तेल होगा ना राधा नाचेगी” हाँ हाँ ना पन्ने होंगे ना वढेरा जी थानों में नाचेंगे