Ad

Tag: Ayodhya

शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे ने राम मंदिर निर्माण को लेकर केंद्र पर दबाब बनाया

[अयोध्या,यूपी] शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे ने राम मंदिर निर्माण को लेकर केंद्र पर दबाब बनाया
उद्धव ठाकरे ने मोदी सरकार से अयोध्या में राम मंदिर बनाने की तारीख पूछी
ठाकरे ने यहां एकत्र शिवसेना समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा, ‘मैं यहां राजनीति करने नहीं आया हूं । मैं सोये हुए कुंभकर्ण को जगाने आया हूं ।’ उन्होंने कहा कि दिन, महीने, साल और पीढियां निकल गयीं । साथ ही कटाक्ष किया, ‘मंदिर वहीं बनाएंगे लेकिन तारीख नहीं बताएंगे । पहले बताओ कि मंदिर कब बनाओगे । मुझे मंदिर निर्माण की तारीख चाहिए । बाकी बातें बाद में होती रहेंगी ।’ ठाकरे ने कहा कि वह श्री राम चंद्र का दर्शन करने आये हैं । राम लला और हिन्दुत्व को वे कभी नहीं भूल सकते।
शिवसेना प्रमुख पत्नी रश्मि एवं पुत्र आदित्य के साथ शाम को सरयू तट पर आरती में शामिल हुए

Gujarat Returned “Yogi” to Announce Ram Statue in Ayodhya

[Lucknow,UP] Gujrat Returned “Yogi” to Announce Ram Statue in Ayodhya .Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath has just visited Sardar Patel’s 182 mtr high statue in Gujarat ,may make an announcement on this on the occasion of Dev Deepawali.”
As per sources the place will be finalised after the soil is tested. The statue is likely to come up in the vicinity of Sant Tulsidas Ghat.

सपा अब साइकिल के बजाय भगवान विष्णु के गरुड़ सवारी करेगी

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

सपाई चीयर लीडर

औए झल्लेया! ये भाजपाई तो ओनली षड्यंत्र रचने में ही माहिर हैं असली विकास तो हम कर रहे हैं|ध्यान से सुनो ,हसाड़े अखिलेश यादव जी ने फर्मा दिया है के उत्तर प्रदेश में भगवान विष्णु के नाम पर एक विशाल नगर विकसित किया जाएगा और अपने २००० एकड़ के बीहड़ में कम्बोडिया की तर्ज पर भव्य मंदिर बनाया जाएगा
Jamos cartoons

झल्ला

ो मेरे चतुर पहलवान जी ! आ गए ना मंदिर की शरण में |
दावा कर रहे हो विकास का लेकिन साइकिल छोड़ कर गरुड़ पर सवार होने के लिए बनवाओगे एक और मंदिर
अरे बाबा भगवान विष्णु भी तो अयोध्या वाले भगवान राम के ही अवतार हैं

Babri Case ,Oldest Litigant Mohd Hashim Ansari Dies At 95

[Ayodhya,UP]Babri Case Oldest Litigant Mohd Hashim Ansari Dies at 95.He Took His Last Breath At His Residence
Ansari had been associated with the Babri mosque dispute case since December 1949.
The oldest litigant in the Ram Janmabhoomi-Babri mosque dispute, Mohammad Hashim Ansari died here today due to heart-related ailments.
Ansari, 95, took his last breath at his residence in the wee hours, according to his son Iqbal.
In 1961, he along with six others became main plaintiff in the ‘Ayodhya title suit’ filed by the Sunni Central Waqf Board in the court of Faizabad civil judge.
Five other plaintiffs were
Mohammad Farooq,
Shahabuddin,
Maulana Nisaar,
Mahmood Sahab and
Hashim Ansari.
He was first to file the suit in the court of civil judge of Faizabad on the matter.
Allahabad High Court in 2010 in its majority verdict allotted one-third of the disputed site in Ayodhya to
Nirmohi Akahara.
The other two-thirds portion has been given equally to be shared by the Waqf Board and the side representing Ram Lalla.
Soon after the verdict, Ansari had called for burying the dispute and making “a fresh start

अयोध्या में रामजन्म बाबरी मस्जिद को सुरक्षा प्रदान करने का दायित्व उत्तर प्रदेश सरकार का है:केंद्र

[नई दिल्ली]अयोध्या में राम जन्म, बाबरी मस्जिद को सुरक्षा प्रदान करने का दायित्व उत्तर प्रदेश सरकार का है:इसके लिए अभी तक १२ करोड़ रुपयों की राशि खर्च की जा चुकी है केंद्र
पोलिस और लोक व्यवस्था राज्य का विषय है इसीलिए बाबरी मस्जिद को सुरक्षा प्रदान करने का दायित्व भी उत्तर प्रदेश सरकार का है|
केन्‍द्रीय गृह राज्‍यमंत्री किरेन रिजिजू ने लोकसभा में बताया कि भारत के संविधान की सातवीं अनुसूची के अनुसार ‘पुलिस’ और ‘लोक व्‍यवस्‍था’ राज्‍य के विषय हैं। इसलिए, कानून और व्‍यवस्‍था को बनाए रखने और अधिग्रहीत क्षेत्र पर सुरक्षा व्‍यवस्‍था करना उत्‍तर प्रदेश राज्‍य सरकार की जिम्‍मेदारी है।
स्‍थल की सुरक्षा के लिए केन्द्र और राज्‍य सरकारों के पर्याप्‍त सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया गया है।पर्याप्‍त संख्‍या में सीसीटीवी भी लगाए गए हैं।
केंद्रीय मंत्री ने बताया कि उत्‍तर प्रदेश सरकार द्वारा गठित अयोध्‍या में रामजन्‍म भूमि-बाबरी मस्जिद परिसर की सुरक्षा संबंधी स्‍थायी समिति उचित सुरक्षा व्‍यवस्‍थाओं की समीक्षा करने के लिए समय-समय पर बैठकें आयोजित करती है और इस संबंध में अंतिम बैठक दिनांक 11.03.2015 को आयोजित की गई थी। केन्‍द्र सरकार ने भी सुरक्षा व्‍यवस्‍थाओं की समीक्षा करने के लिए जून, 2014 में उत्‍तर प्रदेश सरकार के प्रतिनिधियों के साथ बैठक आयोजित की।
अयोध्‍या में अधिग्रहीत सम्‍पत्तियों के संरक्षण और रख-रखाव के लिए वर्ष 1994-95 से 2014-15 की अवधि के दौरान कुल 12 करोड़ रुपये की राशि खर्च की गई है।

नरेंदर मोदी के शौचालय में जय राम रमेश सरीखे कांग्रेसी फंस ही गए

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक कुपित भाजपाई

ओये झल्लेया ये केन्द्रीय मंत्री जय राम रमेश के सर पर लगता है कि सत्ता का नशा कुछ ज्यादा ही चड गया है तभी उन्होंने हिन्दुओ कि भावनाओं पर एक बार फिर से कुठाराघात कर दिया ओये इसकी हिम्मत तो देखो कहता है कि श्री राम कि जन्म स्थली अयोध्या में महा-शौचालय बना दिया जाना चाहिए ओयेलगता है कि तुष्टिकरण की निति का पालन करते करते ये लोग सारी मर्यादा भी भूल गए हैं |

झल्ला

अरे सेठ जी आप को तो खुश होना चाहिए आपके नरेंदर मोदी के शौचालय में कांग्रेसी फंसने शुरू हो गए हैं |अब देखो बेशक मोदी ने महात्मा गाँधी को श्रधांजलि देने के लिए शौचालयों का महत्त्व स्वीकार करके गुजरात में विकास की बात कही थी लेकिन पत्रकार नेता और मनरेगा जैसी महत्त्व कांक्षी यौजना के प्रभारी
जय राम रमेश सरीखे कांग्रेसी फंस गए हैं |ठीक है में समझाता हूँ सबसे पहले तो
[१] जय राम रमेश ने यह मान लिया है कि अयोध्या में राम मंदिर ही था क्योंकि अगर किसी दूसरे धर्म के विषय में कम से कम चुनावों के समय ऐसी बात कहने से पहले इनके मंत्री पद का राम राम कर दिया जाता |
[२] अयोध्या से करोड़ों लोगों कि भावनाएं जुडी हैं ऐसे में वहां शौचालय बनाने की वकालत करने वाला या तो स्वयम पीड़ित है या फिर मानसिक रूप से बीमार झल्लेविचरनुसार जय राम रमेश इनमे से किसी भी केटेगरी में नहीं आते हैं| जाहिर है ऐसे में उन्होंने महज सुर्खियाँ बटोरने के लिए अयोध्या में महा-शौचालय बनाने की वकालत की है और अगर ये सच है तो सेठ जी इस शौचालय से हिन्दुओ के विरुद्ध तुष्टिकरण की बू आती है क्यों ठीक है ना ठीक ?